#जीवन शैली

bolkar speaker

हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?

Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:17
हेलो जी आज आपका सवाल है कि हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं अगर आप पहले सोचना पड़ता ग्राफिक सोचते हैं उतना ही ज्यादा पॉलिटिक्स चीजों को रख पाते हैं बहुत सारे लोगों पर विश्वास नहीं रखते हैं आप किसी काम पर विश्वास नहीं रखते आप बहुत ज्यादा डर जाते हैं आपको अपने आप पर ही डाउट है कि आप यह काम करेंगे अच्छे से या नहीं आते हो पाएगा नहीं ऐसे ही नेगेटिव सोचने लगते हैं तो आप कभी भी खुद को पॉजिटिव नहीं रख पाएंगे तो आप हमेशा यह सोचिए कि हां जो भी चीज में कर रहा हूं उसका रिजल्ट अच्छा आएगा घर में अच्छे से मन लगाकर करो मैं जो भी चीज का सेटअप कर रहा हूं उसको मैं बहुत ही सुंदर मन लगाकर जी जान लगाकर अच्छे से करूंगा तो अच्छा ही होगा जो आप अपने मन में इस तरह की सोच विचार लाते अच्छाई और हमें अपनी सोच पर कंट्रोल कीजिए अपनी सोच को हमेशा पॉजिटिव मिल जाए ताकि आपको आपके हर एक चीज आपके सर आपको दे रहा हूं उधर से रहना अच्छे से कर सकता हूं

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
sargam shukla Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sargam जी का जवाब
I am only student👩‍🎓
1:26
गुड मॉर्निंग जो आज का सवाल है कि हम अपने मन को हमेशा सकारात्मक कैसे रख सकते हैं तो देखिए मैं इसका जवाब स्पेशली वैष्णवी पांडे जी के लिए दे रही हूं क्योंकि उन्होंने मुझसे रिप्लाई में यह क्वेश्चन पूछा था तो देखिए जो हमारा मन है उसे हवा की गति से भी तेज नहीं है तो हम सभी जानते हैं वह हमेशा किसी ना किसी विषय पर सूट होता ही रहता है कभी वह सकारात्मक सोच का है कभी वह नेगेटिव सोचता है कभी और पॉजिटिव होता है हमारे ऊपर निर्भर करता है कि हमारा मन क्या सोचे अथवा क्या ना होती तो देखिए अगर आप चाहते हैं कि आपके मन में कभी न गीत MP4 ना आए नकारात्मक तू अपने आपको हमेशा व्यस्त रखें हमेशा किसी ना किसी काम में लगा के रखी है और आप अकेले मत रखिए रही है कभी हां कभी ना कभी तो रहना पड़ता है लेकिन जब आप उदास हो तो आप अकेले मत रहिए और अगर आपके पास कोई काम भी नहीं है आप किसी के साथ भी रहना नहीं चाहते तो आप बता सकते हैं कि किताबें ही है जो एक व्यक्ति की सबसे अच्छी मित्र होते हैं आप अपने आप को किताबें पढ़ने में लगा दीजिए तो पक्का आपके मन में नकारात्मक विचार नहीं आएंगे राधे राधे

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Gajanand Genan  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Gajanand जी का जवाब
Unknown
1:08
किशन पुत्र गया है कि हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं तो इसका आंसर है हम अपने मन को सकारात्मक रखने के लिए हमें कुछ कार्य करने की आवश्यकता है जिससे कि शरीर में सकारात्मक सोच हो तो नियमित व्यायाम करें और अच्छे लोगों के साथ बैठे और अच्छी शिक्षा ही ग्रहण करें कुछ लोग गलत गलत बातें करते हैं गलत बातों पर ज्यादा सोना नहीं चाहिए वैसे लोगों की प्रवृत्ति के साथ अपने को बैठना नहीं चाहिए और अच्छे विचार समाज में अच्छे हो बड़े बूढ़े हो शिक्षा की अच्छी होनी चाहिए और अपने मन को सकारात्मक रखने के लिए नियमित व्यायाम की आवश्यकता होती है

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
neelam mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए neelam जी का जवाब
I am nurse
2:33
हेलो नमस्कार दोस्तों गुड मॉर्निंग मैं नीलम मिश्रा आप सभी का स्वागत करती हूं भारत के नंबर वन सवाल जवाब एक और गरीब दोस्तों एक सवाल है कि हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रखें तो दोस्तों अपने मन को सकारात्मक अपने मन को पॉजिटिव रखने के लिए हमें बहुत सारी चीजों का ध्यान देना पड़ेगा क्योंकि सुबह अगर ब्रह्म मुहूर्त में उठकर योग और ध्यान का सहारा लेते हैं अपने मन को शांत करने के लिए तो यह बहुत ही बेहतर तरीका है अपने मन को शांत करने के लिए योग से हमारा मन और धन से हमारा जो ब्रेन है दिमाग शांत होता है और उसको अच्छी चीजें सोचने की शक्ति ऊर्जा मिलती है जिससे हम पानी की किन-किन अपने मन में रखते हैं वाली बुक्स पड़े या फिर अपने मन को हमेशा मतलब आज टिफिन ले जाए हमेशा गलत चीजें जब भी दिमाग में आए तो उसे आप अपने दिमाग में अपने दिल में जगह ना दें और दोस्तों हमारे जीवन में फालतू का बहुत ही ज्यादा महत्व होता है वह तो जब हम सकारात्मक होते हैं जब अच्छी सोच के साथ कोई कार्य को शुरू करते हैं तो उसके लिए हर पॉजिटिव शक्तियां जो होती है सकारात्मक शक्तियां होती हैं जो हमारे उस कार्य को पूर्ण करने में हमारी मदद करती है प्रकृति और भी जो अच्छी चीजें होती हैं हमारी हेल्प करती है और जहां पर नेगेटिव सोच के साथ कोई कार्य शुरू करते हैं तो वह कार्य में बाधाएं उत्पन्न होती हैं वह कार्य पूर्ण नहीं होता है और तमाम तक ना नकारात्मक शक्तियां भी उसमें काम में बाधा डालने लगती है तो हमारे मन को सकारात्मक रखना बहुत जरूरी है इसके लिए दोस्तों हमें अपने लक्ष्य पर खुश रहना होगा हमें कोई भी ऐसी कोई भी कार्य करते समय किसी ऐसे नहीं सोचना है जो नकारात्मक सोच वाले प्राणी हमेशा एक ऐसे समूह में रहे व्यक्तियों के समूह में रहे जो सकारात्मक ऊर्जा से भरे होते हैं जो शर्तें और सबसे बेहतरीन अपने आप को ध्यान रखना मेडिटेशन करना मेडिटेशन से हमारे मन को बहुत शांति मिलती है और पाजी की ऊर्जा हमारे शरीर के अंदर आती है और उससे हम कोई भी पालीटीयू वार करते हैं काम करते हैं तो उसमें हमें सफलता मिलती है तो जानकारी कैसी लगी लाइक और कमेंट करके जरूर बताइए धन्यवाद

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
0:39
कोई नहीं मैं कुछ नहीं कह सकते सबसे महंगी नहीं जरूरी है एक्सरसाइज और मेडिटेशन की चीज आप किस को सोचने समझने की शक्ति है एकदम पॉजिटिव में चली जाएगी और अच्छी-अच्छी चीजें बनाना अच्छे-अच्छे क्वेश्चन क्या बोलते हैं पॉजिटिव जो बुक सूची उनको पढ़ना किसी लेखक के बारे में पढ़ना है जिसे पढ़कर आप का मन ही मन प्रसन्न हो जाता हूं ऐसी चीजें करें मोबाइल में भी अपलोड देखकर तो पॉजिटिव उसमें चले कुछ आगे बढ़ने की सूचना इन सब चीजों को आप मुझसे नफरत करती है

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
9:21
सट्टा कैसे रख सकते हैं लेकिन आपने किया है तो नहीं समझे इस प्रश्न के पीछे आपके साथ कुछ घटित घटनाएं आप कुछ प्रश्न करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं जब इंसान नखरा तक विचारधारा में खोया होता है तो फिर वह ऐसी चलाता है जिससे उसे बाहर निकल सके जिससे आप जानते हैं कि जीवन में दिन और रात होते हैं ना तो 24 घंटे का दिन होगा और ना ही 24 घंटे की प्राप्त होगी दोनों का तालमेल होना जो है प्रकृति का नियम है इसी तरह सुख और दुख भी इंसान के जीवन का नियम है जो केवल सुख की अनुभूति करना चाहता है वह दुख का अर्थ ही नहीं बन पाएगा और वह निरंकुश हो जाएगा वह तानाशाह हो जाएगा वह अत्याचारी हो जाएगा वह अन्याय हो जाए इसी प्रकार से नकारात्मकता सकारात्मकता को जन्म देती है हमेशा अपने मन को आप चकराता में बनाए रखें यह मेरा मानना है कि न्याय उचित नहीं है खुद को हमेशा ही एक टकरा इंसान के रूप में कभी केंद्रित ना कहीं आपके अंदर भी कुछ नकारात्मकता हो सकती है और उसके बाद भी आप अपनी कहानी और अपनी जिंदगी के हीरो बन सकते हैं अपनी गलतियों के साथ-साथ अपनी असफलताओं को भी अपने जीवन का हिस्सा बनाएं और उन असफल से सीखे कि आपकी किस नकारात्मकता सोच या किस पॉजिटिव सोचने जो आप जिद पर अड़े थे कि मैं जो कुछ कर रहा हूं सही कर रहा हूं मैं जो कुछ सुन रहा हूं सही सुनना हूं या मैं जो कुछ भी मान लूंगा सही मान लूंगा वहां आप असफल हो गए क्योंकि आपकी सोच सकारात्मक थे और वहां आप असफल हो गए अर्थात यह सफलता आपके चक्र आत्मकथा का परिणाम है तो यहां तक कि पीछे अध्ययन कीजिए मनन कीजिए कारणों को जानिए क्या करूं उस समय आप इस बात को नकार देते तो शायद आज आपका जीवन यह विस्फोट रोड़ा और आप आगे बढ़ रहे हो क्योंकि यह कभी नहीं सोचना चाहिए मैं हमेशा साथ रहूंगा मैं कभी असफल हो ही नहीं सकता गीत हम ना इंसान की उसको जिद्दी बना देती है उसको प्रवीण बना देती है क्योंकि जब तक जीवन में सफलता नहीं होती सफलता का स्वाद नहीं मिलता कोई इंसान पूरे जीवन मीठा खाकर जिंदा नहीं रह सकता तो कोई इंसान पूरे जीवन या पूरे दिन क्यों मक्खन नमकीन खाकर जीवित नहीं रह सकता खट्टा मीठा यही जीवन में और खट्टी मीठी नकारात्मक और चक्रांता का दुशमन में है यही हमारे जीवन को सफल बनाता है याद रखिए हर नखरा यानी असफलता हमें सफलता की ओर ले जाती है और चक्कर नाटक रात मुक्ता यानी हमारी पॉजिटिव सोच कदाचित हमें नकारात्मकता की तरफ ले जाती और हमको समाज के अंदर अपने अंदर अपनी कमियों का असफलताओं का जो है वह तो दो फटाफट आ इन दोनों में से पेट नहीं अंतर है कि सही समय पर सही निर्णय लेना और उसमें अपने बुद्धिजीवी लोगों का अपने पेरेंट्स का अपने गुरु का पिता जी आपको जो है वह उनका सहयोग लेना चाहिए मेरा मानना है कि जीवन में इंसान खुद का भी गुरु हो सकता है क्योंकि उसका सही निर्णय उसको गोरखपुर देता है मैं किस एग्जांपल के द्वारा सुनना चाहूंगा कि एक व्यक्ति अगर उसके माता-पिता यह कहते हैं कि तेरे बस की नहीं है पढ़ाई छोड़ दे तो काम धंधे में लग जा और वह बच्चा जिसका पढ़ाई कर ट्रैक रिकार्ड अच्छा रहा लेकिन उसकी कुछ आदित्य उसका कुछ स्वभाव और उसके अंदर भरी हुई नकारात्मकता ने की स्थिति पैदा कर दी थी तो हमेशा सफल होता था वह अब विमान बैठा कि मैं कभी असफल ही नहीं हूंगा और भाई को ध्यान से ना करना समय की बर्बादी की करना बड़ों की बातों को अनसुनी करना अनदेखा करना राह दिखाने वाले को नकारना और मैं यह नहीं कहूंगा कि जिद तो डरना ना समझता पर चैटिंग होने की बर्बादी को जोड़ी खेती कर रहा है उसको पीछे छोड़ रहा है वह कितना ही बुद्धिमान धनवान और कितना ही गुणवान हो अगर समय उसको पीछे छोड़ रहा है तो उसे उस व्यक्ति की मूर्खता का परिचय है क्योंकि फिर वह लाख कोशिश करें वह किसी के बराबर आ ही नहीं सकता जबकि यह चीजें संभव नहीं है लेकिन वह बराबर हाय फिर उससे आगे निकले उसके लिए उसको क्या करना होगा उसको 3 गुना चने लगाना होगा लेकिन 24 घंटे का होता है इस दिन को 72 घंटे का कैसे बनाएगा ताकि उसके उससे आगे निकल जाती नथनी में कोई बदलाव नहीं सकता बदलाव हमें अपने आपने करना है और अपनी हर गलतियों से हम सकारात्मक सोच ना सके जो व्यक्ति अस्सी परसेंट ब्लाकड्राप आ सकता है वह अपनी लापरवाही अपनी छुट्टी भी हो सकता कि मुझे सब कुछ आता है और इस सोच में उचित योगी परीक्षाओं में सफलता नहीं मिल रही हो फिर से क्या निष्कर्ष निकलता है कि वह प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में जो है अपने आप को नहीं लगा रहा प्रतीत हो रहा है कि मैं सब कुछ कर सकता हूं और तिल सकरात मुक्ता तो उसको असफलता की तरफ बढ़ा रही है उसको यह फोटो टेंडर पैदा करनी चाहिए मैंने गलतियां की मैंने समय बर्बाद किया अब मैं इस कगार पर खड़ा हो गया हूं जीवन की पढ़ाओ पर अगर अभी मैंने लापरवाही की तो जीवन जो है भाव सुनने के लिए यह लीजिए लक्ष्य से भटक जाएगा और एक चीज में आपको और भी बताओ इस पर तय कमाते सभी है लेकिन पैसा कमाने के लिए जिंदगी नहीं है जिंदगी कमाने के लिए जिंदगी है पैसा तो एक सब्जी बेचने वाला भी काम आता है बहुत अच्छा काम आता है ऑटो चलाने चलाने वाला भी कम आता है बहुत कम आता है और एक शिक्षक भी कमाता है एक उद्योगपति भी कम आता है लेकिन पढ़ा लिखा व्यक्ति अगर हजारों लोगों को सैकड़ों लोगों को अपनी शिक्षा का फायदा नहीं पड़ता सकता और पढ़ कर सबको शिक्षा प्राप्त करके आप उस काम को करने की सोचें जो एक अनपढ़ व्यक्ति कर रहा है या कम पढ़ा लिखा व्यक्ति कर रहा है सिर्फ पैसा कमाना अगर जीवन का लक्ष्य है तो पढ़ाई का महत्व कुछ नहीं है

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
9:21
सट्टा कैसे रख सकते हैं लेकिन आपने किया है तो नहीं समझे इस प्रश्न के पीछे आपके साथ कुछ घटित घटनाएं आप कुछ प्रश्न करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं जब इंसान नखरा तक विचारधारा में खोया होता है तो फिर वह ऐसी चलाता है जिससे उसे बाहर निकल सके जिससे आप जानते हैं कि जीवन में दिन और रात होते हैं ना तो 24 घंटे का दिन होगा और ना ही 24 घंटे की प्राप्त होगी दोनों का तालमेल होना जो है प्रकृति का नियम है इसी तरह सुख और दुख भी इंसान के जीवन का नियम है जो केवल सुख की अनुभूति करना चाहता है वह दुख का अर्थ ही नहीं बन पाएगा और वह निरंकुश हो जाएगा वह तानाशाह हो जाएगा वह अत्याचारी हो जाएगा वह अन्याय हो जाए इसी प्रकार से नकारात्मकता सकारात्मकता को जन्म देती है हमेशा अपने मन को आप चकराता में बनाए रखें यह मेरा मानना है कि न्याय उचित नहीं है खुद को हमेशा ही एक टकरा इंसान के रूप में कभी केंद्रित ना कहीं आपके अंदर भी कुछ नकारात्मकता हो सकती है और उसके बाद भी आप अपनी कहानी और अपनी जिंदगी के हीरो बन सकते हैं अपनी गलतियों के साथ-साथ अपनी असफलताओं को भी अपने जीवन का हिस्सा बनाएं और उन असफल से सीखे कि आपकी किस नकारात्मकता सोच या किस पॉजिटिव सोचने जो आप जिद पर अड़े थे कि मैं जो कुछ कर रहा हूं सही कर रहा हूं मैं जो कुछ सुन रहा हूं सही सुनना हूं या मैं जो कुछ भी मान लूंगा सही मान लूंगा वहां आप असफल हो गए क्योंकि आपकी सोच सकारात्मक थे और वहां आप असफल हो गए अर्थात यह सफलता आपके चक्र आत्मकथा का परिणाम है तो यहां तक कि पीछे अध्ययन कीजिए मनन कीजिए कारणों को जानिए क्या करूं उस समय आप इस बात को नकार देते तो शायद आज आपका जीवन यह विस्फोट रोड़ा और आप आगे बढ़ रहे हो क्योंकि यह कभी नहीं सोचना चाहिए मैं हमेशा साथ रहूंगा मैं कभी असफल हो ही नहीं सकता गीत हम ना इंसान की उसको जिद्दी बना देती है उसको प्रवीण बना देती है क्योंकि जब तक जीवन में सफलता नहीं होती सफलता का स्वाद नहीं मिलता कोई इंसान पूरे जीवन मीठा खाकर जिंदा नहीं रह सकता तो कोई इंसान पूरे जीवन या पूरे दिन क्यों मक्खन नमकीन खाकर जीवित नहीं रह सकता खट्टा मीठा यही जीवन में और खट्टी मीठी नकारात्मक और चक्रांता का दुशमन में है यही हमारे जीवन को सफल बनाता है याद रखिए हर नखरा यानी असफलता हमें सफलता की ओर ले जाती है और चक्कर नाटक रात मुक्ता यानी हमारी पॉजिटिव सोच कदाचित हमें नकारात्मकता की तरफ ले जाती और हमको समाज के अंदर अपने अंदर अपनी कमियों का असफलताओं का जो है वह तो दो फटाफट आ इन दोनों में से पेट नहीं अंतर है कि सही समय पर सही निर्णय लेना और उसमें अपने बुद्धिजीवी लोगों का अपने पेरेंट्स का अपने गुरु का पिता जी आपको जो है वह उनका सहयोग लेना चाहिए मेरा मानना है कि जीवन में इंसान खुद का भी गुरु हो सकता है क्योंकि उसका सही निर्णय उसको गोरखपुर देता है मैं किस एग्जांपल के द्वारा सुनना चाहूंगा कि एक व्यक्ति अगर उसके माता-पिता यह कहते हैं कि तेरे बस की नहीं है पढ़ाई छोड़ दे तो काम धंधे में लग जा और वह बच्चा जिसका पढ़ाई कर ट्रैक रिकार्ड अच्छा रहा लेकिन उसकी कुछ आदित्य उसका कुछ स्वभाव और उसके अंदर भरी हुई नकारात्मकता ने की स्थिति पैदा कर दी थी तो हमेशा सफल होता था वह अब विमान बैठा कि मैं कभी असफल ही नहीं हूंगा और भाई को ध्यान से ना करना समय की बर्बादी की करना बड़ों की बातों को अनसुनी करना अनदेखा करना राह दिखाने वाले को नकारना और मैं यह नहीं कहूंगा कि जिद तो डरना ना समझता पर चैटिंग होने की बर्बादी को जोड़ी खेती कर रहा है उसको पीछे छोड़ रहा है वह कितना ही बुद्धिमान धनवान और कितना ही गुणवान हो अगर समय उसको पीछे छोड़ रहा है तो उसे उस व्यक्ति की मूर्खता का परिचय है क्योंकि फिर वह लाख कोशिश करें वह किसी के बराबर आ ही नहीं सकता जबकि यह चीजें संभव नहीं है लेकिन वह बराबर हाय फिर उससे आगे निकले उसके लिए उसको क्या करना होगा उसको 3 गुना चने लगाना होगा लेकिन 24 घंटे का होता है इस दिन को 72 घंटे का कैसे बनाएगा ताकि उसके उससे आगे निकल जाती नथनी में कोई बदलाव नहीं सकता बदलाव हमें अपने आपने करना है और अपनी हर गलतियों से हम सकारात्मक सोच ना सके जो व्यक्ति अस्सी परसेंट ब्लाकड्राप आ सकता है वह अपनी लापरवाही अपनी छुट्टी भी हो सकता कि मुझे सब कुछ आता है और इस सोच में उचित योगी परीक्षाओं में सफलता नहीं मिल रही हो फिर से क्या निष्कर्ष निकलता है कि वह प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी करने में जो है अपने आप को नहीं लगा रहा प्रतीत हो रहा है कि मैं सब कुछ कर सकता हूं और तिल सकरात मुक्ता तो उसको असफलता की तरफ बढ़ा रही है उसको यह फोटो टेंडर पैदा करनी चाहिए मैंने गलतियां की मैंने समय बर्बाद किया अब मैं इस कगार पर खड़ा हो गया हूं जीवन की पढ़ाओ पर अगर अभी मैंने लापरवाही की तो जीवन जो है भाव सुनने के लिए यह लीजिए लक्ष्य से भटक जाएगा और एक चीज में आपको और भी बताओ इस पर तय कमाते सभी है लेकिन पैसा कमाने के लिए जिंदगी नहीं है जिंदगी कमाने के लिए जिंदगी है पैसा तो एक सब्जी बेचने वाला भी काम आता है बहुत अच्छा काम आता है ऑटो चलाने चलाने वाला भी कम आता है बहुत कम आता है और एक शिक्षक भी कमाता है एक उद्योगपति भी कम आता है लेकिन पढ़ा लिखा व्यक्ति अगर हजारों लोगों को सैकड़ों लोगों को अपनी शिक्षा का फायदा नहीं पड़ता सकता और पढ़ कर सबको शिक्षा प्राप्त करके आप उस काम को करने की सोचें जो एक अनपढ़ व्यक्ति कर रहा है या कम पढ़ा लिखा व्यक्ति कर रहा है सिर्फ पैसा कमाना अगर जीवन का लक्ष्य है तो पढ़ाई का महत्व कुछ नहीं है

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Manish Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Defence
2:58
कार में हूं मनीष कुमार और आप मुझे सुन रहे हैं बोलकर एप्लीकेशन पर देखिए हम सभी जानते हैं कि कोई भी इंसान इस दुनिया में हर एक इंसान के पास कोई न कोई समस्या है कोई न कोई परेशानी हम अपने से नीचे वाले व्यक्ति को देखते हैं हम अपने से कमजोर व्यक्ति को देखते हैं जब हम अपने से गरीब व्यक्ति को देखते हैं तो हम जो हैं उसकी तुलना में अच्छे स्थान पर डालते हैं परंतु जब हम अपनी तुलना अपने से समृद्ध व्यक्ति से करते हैं तो फिर जो है हमें ग्लानि होती है करने का इसलिए कोशिश करे कि जिंदगी में कभी किसी से तुलना न करें जब भी आप अपने कमजोर आपके पास भगवान ने हाथ और पैर सही सलामत है परंतु जिनके एक हम हैं जो विकलांग हैं वह तो आप से ज्यादा जो है परेशान है तो इस प्रकार से जो है आपके मन में जो है सकारात्मक पैदा उत्पन्न हो जाता है उसका जीवन मूल्य जाता है उसके आगे सारे सितारे झुक जाए ना बनाओ अपने सफ़र को किसी कश्ती का मोहताज स्थान से कि तूफ़ान भी झुक जाए जो है हमें किसी भी कार्य को करने के लिए एक आंतरिक रूप से प्रेरणा मिलती है और हम जब बुलाते हैं तो हम विभिन्न प्रकार के परेशानियों का स्टोर अस्वस्थता से जो है घर जाते हैं तो हमेशा जो है सकारात्मक असर सकारात्मक सोच से जो है आपके अचेतन मन की शक्ति जागृत होगी और आप जो सोचेंगे वैसा ही होगा किताब है जो आप पढ़ेंगे तो आपको जो है यह पता लगेगा कि मनोज से एक अपने शोध के अपने सकारात्मक सोच के कारण इस ब्रह्मांड के अलौकिक शक्तियों को प्राप्त कर लेता है और फिर जो है वह जो सोचता है वैसा ही होगा धन्यवाद आशा करता हूं कि आप मेरे जवाब से संतुष्ट होंगे

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:22
दोस्तों स्वागत है आपका आपका प्रश्न है हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं तो फ्रेंड से हमें अच्छी किताबें पढ़ने चाहिए अच्छे-अच्छे सत्संग करना चाहिए मंदिर में जाना चाहिए और टीवी पर या मोबाइल पर अच्छी अच्छी अच्छी बातें देखनी चाहिए अच्छी सीरियल देखनी चाहिए अच्छी फिल्में देखना चाहिए जिससे हमारा मन सकारात्मकता की हो चाहे धन्यवाद

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
6:57
मन या माइंड आपका सवाल है कि हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं तो पहले यह समझते हैं कि यह मन होता क्या है मन में होते क्या रहते हैं ध्यान से देखेंगे आप तो कोई ऐसे भी बोलता है सम्मानीय माइंड मतलब कॉन्शियस माइंड तक पहुंच जाएं यह वह वगैरा-वगैरा सिंपल तरीके से समझते हैं वह जगह है जहां पर आपके अंदर विचार आते हैं और यह विचार जागृत अवस्था में भी आते हैं और जवाब निंद्रा में होते हैं तभी भी आते हैं लेकिन निद्रा वाली कहानियां लगे पहले हम उस अवस्था को देखते हैं कि जब हम लोग एक फूल ने यहां जागृत अवस्था में होते हैं जब हम तो करके उठते हैं सुबह तो सर से हमारे अंदर क्या आने लगता है ख्याल आने लगता है हम किसी चीज को देखते हैं तो ख्याल आता है बैठते हैं तो आप या कोई ना कोई ख्याल आता है कोई बड़ी सिंपल सी बात है जब मन है तो जगत है और जब मन नहीं है तो जगत भी नहीं है सोच कर देखिए बहुत गंभीर है लेकिन इसको सिंपल तरीके से प्रस्तुत करता हूं जब आप सो कर उठते हैं तो आपके अंदर विचार आते हैं ख्याल आते हैं आप किसी ख्याल को पकड़ते हैं और आगे बढ़ते चले जाते हैं तभी वह ख्याल टूट जाता है तो दूसरा ख्याल आ जाता है उसको पकड़ते हैं कुछ ख्यालों को आप जानबूझकर लाते हैं ढूंढते हैं फसल के बारे में सोचना प्रारंभ करते हैं और जिस तरीके से आप सोचते हैं उस तरीके कि आपके अंदर भावनाएं आती इमोशंस होती हैं आप ऐसा महसूस करते हैं आप अगर वह महसूस करने वाले और उच्च विचार पर चिंतन करना काफी देर तक चलता रहता है तो उस समय तक उस अवधि तक आते ही तरीके के विचारधारा में रहते हैं उससे जुड़ी एक तरीके की भावनाएं आपके अंदर होती है हो सकता है खुशी क्यों हो सकता है हर दुख होने की हो तो कोई व्यवस्था हो सकती है अब इस पैटर्न को आप खुद ही चेंज कर सकते हैं आप ब्रेक कर सकते हैं किसी और विचार को लाकर या फिर नाचुली कुछ और होता है और आप दूसरे ख्यालों में चले जाते हैं दूसरा काम करते हैं जब आपके अंदर कोई ख्याल आता है तो उसके साथ जुड़ी होती है भावनाएं और आप उस तरीके का या उस लिरिक्स में कर्म करते हैं यही होता है खास हो गया इमोशंस हो गया और आपका एक्शन हो गया आप यह काम करते हैं आप इस तरीके से आगे बढ़ते हैं अब आते हैं इस भूमिका के बाद आपके सवाल पर आप का सवाल है हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं जैसे मैं बता रहा था कि हमारे अंदर ख्याल आते रहते हैं अब सारे ख्याल तो अच्छे वाले नहीं होते कुछ बुरे भी हो देखो चांडाल वाले होते हैं कुछ वह होते हैं आज से आपको फायदा होता है लेकिन दूसरों को बहुत नुकसान होता है कुछ पैसे वाले होते हैं जो आप जान बूझकर करते हैं कि वह किसी को नुकसान पहुंचा दें वगैरा-वगैरा कुछ ऐसे होते हैं कि आप अपने फायदे के बारे में सोचते हैं और किसी को नुकसान हो जाता है कुछ ऐसे होते हैं जो आपको हमने खींचे विचारधारा की तरफ और नेगेटिव कर्म और कौन सीक्वेंस की तरफ ले जाते हैं कुछ ऐसे होते हैं जिसमें आप अच्छा सोचते हैं अच्छा कर्म करते हैं यह सुविचार है यह बदलते हैं हमारे माहौल के कारण यह बदलते हैं हमारी इस संकट के कारण यह चेंज होते हैं सारे इनपुट के कारण जो हमारे अंदर आते हैं दिमाग का के रास्ते से कैसे होता है हम कुछ देखते हैं सुनते हैं महसूस करते हैं चर्चा करते हैं पढ़ते हैं वीडियो देखते हैं समाचार देखते हैं लोगों की संगत में रहते हैं यह सारे चैनल पर जहां से हमारे अंदर इनपुट हमेशा जाते जा रहा है यह होता है कि हम चाहते हैं कि हमारे हमारा मन था कर आत्मा कर रहे तो भैया आपको यह फिल्टर आउट करना पड़ेगा कि आप कौन से माहौल में अक्सर रहते हैं किन के साथ रहते हैं किस तरीके का इनपुट आपके अंदर जा रहा है तो पहले तो उसको फिल्टर आउट करके हटाना होगा कि भाई अगर मैं इनके साथ रहता हूं अगर मैं यह चीजें देखता हूं अगर मैं यहां चाहता हूं अगर मैं यह पढ़ता हूं इनकी संगत में रहता हूं तो मुझे यह सारी इनफार्मेशन आ रही है यह सारी बातें घटित होती है माहौल ऐसा हो जाता है तो वह अच्छा नहीं है वह मेरे को सकारात्मक सोच नहीं सोच में रहेगा आ जाओ मैं नेगेटिव सोचता हूं ना तो मैं किस अधिवेशन में जाऊंगा मैं उसी डायरेक्शन में जाऊंगा तो हमें क्या करना है बे सबसे पहले इस इनपुट तोड़ते हैं इनको बंद करना मैं आप को दूर करना है और का क्या करना है भाई आपके अंदर जो ख्याल आते हैं अच्छे वाले आते हैं उन को पकड़ना है उन पर काम करने और आगे बढ़ना है ऐसे ही तो होगा ना अदर वाइज कैसे होगा तो बड़ी सिंपल सी बात है आपको यह देखना है कि जो स्कूल स्टाफ इंफॉर्मेशन है वह क्या है वह जो इंफॉर्मेशन ए वह क्या है मैं किस बारे में या किस चीज को लेकर बैठा रहता हूं किस-किस के साथ आगे बढ़ता हूं और मैं कैसे कर्म करता हूं अगर ही अच्छे वाले हैं तो उनको पकड़ लो इनको जीवन में आप लालू अगर यह अच्छे वाले नहीं है तो इनको डिस्कार्ड कर दो इनको लेने की जरूरत नहीं है जब आप ऐसा कंटिन्यूटी करते रहेंगे अवेयरनेस के साथ करते रहेंगे तो जैसे नहीं थी आप सही दिशा में जाएंगे और जवाब सही दिशा में जाएंगे तो जैसे नहीं थी दशा आपकी तो धरती चली जाएगी तो इसीलिए यह बहुत इंपॉर्टेंट है कि आप किस माहौल में अपने आप को रखते हैं क्या चीज आपके अंदर जा रहे हैं और आप के आप अपने आप से क्या बातें करते रहते हैं दिनभर वह बड़ा जरूरी होता है उसी हिसाब से आपको ही कर्म करेंगे पूछेंगे और जीवन में आगे बढ़ेंगे तो इस पर ध्यान देना बहुत जरूरी है कि मैं पूरे दिन क्या करता हूं मेरे अंदर क्या चाहता है किस दोस्त से ज्यादा है जब वह सब सही नहीं है तो उसे आप लोग भी से अपने कर्मों को कंट्रोल में रखें कि भाई क्या सही है क्या नहीं उस को कंट्रोल में करिए और फिर आप आगे चलते चली जाइए सबको पता होता है सही क्या है गलत क्या है बस उस विल पावर की जरूरत होती है जो हमें और रोकता है भाई यह मत करो और यह करो यह सही है हम सबको बताओ तो सही क्या होता है गलत क्या होता है बस हमें कॉन्शियसली ट्राई करना होता है कि हम सही करें सही करना आसान नहीं होता है सत्कर्म करना आसान नहीं होता है लेकिन सुकून वही देख तो देता है और अच्छा वही लगता है और उसका कॉन्फिडेंस बोल देते भी होता है

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Manju Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Manju जी का जवाब
Unknown
3:03
कार आपने पूछा है कि हम अपनी मां को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं थोड़ी सी समझ कर भी नहीं है और तू पूरी तरह आपके ऊपर है जो है वो हजारा चेंज होता है जो भी देखता है उसको अपने दिमाग में क्या करता है तू जितना हो सके आप सकारात्मक लोगों के साथ कीजिए और जो भी चीजें आप देखते हैं जो भी बातें आप सुनते हैं जितना हो सके सकारात्मक चीजों के साथ आप अपना लगा बिल्कुल आपके मन भी सकारात्मक सोचने लगे एक पल के लिए हम कह सकते हैं कि कभी हर एक एक इंसान हमेशा सकारात्मक नहीं हो सकता है मन की मन में नकारात्मक सोच आता है लेकिन सकारात्मक इंसान जो है अपनी नकारात्मक सोच को दबा देता है तो यही ऐसा है ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं है जिनके मन में नकारा नकारा सोचना आया हूं लेकिन आप अपने विचारों को दबाने की और सकारात्मक विचारों को सामने लाने की कृषि से आप अपने नकारात्मक विचारों को काबू कर सकते हैं तो अभी देखिए मान लीजिए आपको किसी चीज का है घर बिल्कुल नकारात्मक विचार खाएंगे तो इसके लिए आपको वह डर किस चीज में हो रही है उस पर सोचना चाहिए और वह डर मन से निकालना चाहिए कि अभी भी हमारे मन में जब है आता है किसी भी चीज को लेकर कल क्या होगा यह जो मैंने किया है उसका परिणाम क्या होगा यह से इस तरह की जो चीजें घटनाएं जो घटी नहीं होती है उसके हम ज्यादा सोचते हैं और एक तरह का भय मन में आता है और उसके साथी जो नकारात्मक विचार भी साथ में घूमने लगते हैं और कभी-कभी ऐसा होता है कि हम ऐसे माहौल में चले जाते हैं जहां लोग जो है और ज्यादा नकारात्मक बातें करते हैं तो इससे भी हमारे जैसे सोच है वह बदल जाता है तो कोशिश यह कहे कि माहौल जो कि आप जहां भी रहते हैं उस माहौल में सकारात्मक लोगों के साथ रहने की कोशिश करें इससे बहुत फर्क पड़ता है और आप सकारात्मक सोच और विचार करने लगेंगे और अगर आप से नहीं हो रहा है तो आप मेरी ट्यूशन कीजिए एक कान मन में शांत होकर आप अजब विचार करेंगे तो बिल्कुल आपकी मन से जो टेंशन है जो स्ट्रेस है जो भी आपके जो भय है उसे निकाल दीजिए जो बातें घाटी में उसको व्यर्थ में सोच कर और एक नकारात्मक विचार लाने से बेहतर है कि हम हमेशा ही बातें सोचा सोचा कीजिए और अपने विचारों को इस दिशा में ले जाएगी जिससे आपको आपको भी अच्छा लगेगा तो यह सब काम

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
मोहित कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मोहित जी का जवाब
बिजनेस
0:30
दोस्तों यार भाई हम अपने मन को सकारात्मक पैसे रख सकते हैं तो हम अपने आप को सकारात्मक रखने के लिए हमारे दिमाग में नकारात्मक बातें नहीं और अच्छा सकारात्मक सोचें और लोगों की मदद करें और लोगों के प्रति अच्छे विचार होनी चाहिए कि हम सकारात्मक सोच सकते हैं

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:17
यह कि हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रखें यदि हम अपने मन को सकारात्मक रखना चाहती तो नेगेटिव पीपल से दूर रहें यह ताने मारते जो हमेशा बताते हैं कि आप कुछ कर सकते हैं हमें बताते हैं जो आपने लिखी है ऐसे लोगों से दूर है

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Shivani Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shivani जी का जवाब
Unknown
0:58
नमस्ते आप ने प्रश्न किया है हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रह सकते हैं हम अपने मन को सकारात्मक रखने के लिए हमें पॉजिटिव थिंकिंग लानी होगी यदि हम खुश रहेंगे और पॉजिटिव सोचेंगे तो हमारी जिंदगी में खुशियां ही खुशियां होंगी हमारे दिमाग में कोई ऐसी गलत काम नहीं ना आए जिससे हमारा मन दुखी रहे और हम नकारात्मक सोच ने फिर किसी से डर कर रहने रहने का में बह रहे हड़ताल हमेशा जी के साथ साथ मिलकर होना चाहिए तथा सामने वाले को भी ऐसा ऐसी बात करेगी उसके दिल को छुए और वह उनको उसको भी अच्छी लगे इसने हमें हंसमुख रहना चाहिए हमें पॉजिटिव थिंकिंग रखनी चाहिए धन्यवाद

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Dukh kaise mite Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dukh जी का जवाब
Unknown
2:54

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
4:54

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:12

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Rajmohan Modi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rajmohan जी का जवाब
व्यापार
0:36

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Bhanu Prakash jha  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Bhanu जी का जवाब
Students
1:08

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Yogi Prashant Nath Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Yogi जी का जवाब
Businessman
4:59

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
Neha student  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Neha जी का जवाब
Student
0:54

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
ashok pandit Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ashok जी का जवाब
Godly service
2:47

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
रमेश सिन्हा Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए रमेश जी का जवाब
Unknown
0:49

bolkar speaker
हम अपने मन को सकारात्मक कैसे रख सकते हैं?Hum Apne Man Ko Sakaratmak Kaise Rakh Sakte Hain
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:38

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हम कैसे सकारात्मक सोच बनाये रख सकते हैं, सकारात्मक सोच कैसे बनाये, सकारात्मक सोच कैसे विकसित करें
URL copied to clipboard