#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या इंसान का प्रसन्न होना उसके पैसों पर निर्भर करता है?

Kya Insan Ka Prasann Hona Uske Paiso Par Nirbhar Karta Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:58
क्या आज की जमाने में इंसान का प्रशिक्षण पर निर्भर करता है इसमें कोई दो राय नहीं है इंसान की प्रशंसा खुशी आनंद सुख यह सब चीजें लोगों के सामने रखकर महसूस करती हूं पहचान के पास है तो वह प्रश्न कैसे खरीदें कैची गोलगप्पे खरीदने खा रहे हो मैं थी उनके सामने हूं की जोड़ियां भरी हूं नोट की गड्डी या उनके चक्की के नीचे हूं तो ऐसे लगता है मानो जैसे वह मनपसंद जाट का आनंद लें किस तरह इंसान भोजन से चार्ट से प्रधान सचिव या ट्रक से औषधियां नहीं जितनी को मनोरंजन करने का वचन आनंद की प्राप्ति का सुख की प्राप्ति एवं पुत्री की प्राप्ति करते हैं इसी तरह फैसले को उस नजरिए से जब की बातों में पैसा हमारी जरूरत है लेकिन पैसा हमें सब खुशियां नहीं दे सकता सख्त चिंताएं नहीं दे सकता हां इतनी प्रसंता जरूर मिलती है कि पैसे से आप संसाधनों को खरीद सकते लेकिन अर्थशास्त्र का नियम कहते हैं कि संसाधन तभी करेंगे ना जब साधन होंगे जब हमारी जरूरत की चीज बाजार में कोई निर्माता से वाया वस्तु निर्माण करके देगा तभी तो हम खरीद पाएंगे अन्यथा को पैसा हमारे लिए जी का जंजाल बन जाएगा वह पैसा मुसीबत का कारण बन जाएगा लोग पैसों को ऐसे चमचे करते हैं जैसे दुनिया में इससे ज्यादा बहुमत कुछ नहीं है उस पैसे को वह दुनिया के लिए भलाई के लिए या अपने जीवन की चक्की आनंद के लिए खर्च नहीं करते हैं बल्कि वह उस अतृप्त आनंद पर चर्चा कीजिए पैसा खर्च करते हैं जो उन्हें कभी मिलती ही नहीं

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या इंसान का प्रसन्न होना उसके पैसों पर निर्भर करता है?Kya Insan Ka Prasann Hona Uske Paiso Par Nirbhar Karta Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:16
भैया आपका प्रश्न है क्या आज के जमाने में इंसान का प्रसन्नता है प्रश्न है इसलिए नहीं किया उसके पैसे पर निर्भर करता है तो हमारे ख्याल से प्रसन्नता सब्जी है जिसमे आप भूल गए हैं तो निश्चित रूप से आज का युग भोग विलास का युग है जिसके पास पैसा है वह जिंदगी भूमि के संसाधन जुटा सकता है जिसके पास पैसा नहीं हो कुछ भी नहीं कर सकता है इसलिए आज अगर आदमी को खुश रहना है अपनी बेटी के जिंदगी में सामाजिक जिंदगी में पारिवारिक जिंदगी में तो हर कोई है जो रिश्ता जोड़ था वह पैसे से जोड़ रहा है तो पैसे के माध्यम से ही अपनी प्रसन्नता को बरकरार रखा जाता है और जिसके हाथ लोई उसका सब कोई जिसके हाथ में चार पैसा नहीं है यह समाज परिवार इसकी कोई औकात नहीं है और निश्चित रूप से वह व्यक्ति के जिंदगी को भी बहुत खुशहाली के साथ नहीं जी सकता हां यह आवश्यक पैसा सब कुछ नहीं है इस समय के बाद पैसा भी सुख नहीं दे पाता है लेकिन पैसा बहुत कुछ है यह क्लियर थैंक यू

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • पैसो से क्या खुशी मिलती है, क्या पैसो से खुशिया मिलती है
URL copied to clipboard