#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

भाग्य और कर्म में से महान कोन है?

Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
2:55
प्रश्न भाग्य और कर्म से महान कौन है देखें दोस्तों भाग्य में जो लिखा है वह तो होगा ही होगा लेकिन उस भाग्य को आप बदल भी सकते हैं अपने कर्मों के अकॉर्डिंग जी हां हो सकता है कि आप कोई चीज पाना चाहते हैं ठीक है आप उस चीज को पाने के लिए बहुत मेहनत कर रहे हैं बहुत ही ज्यादा मेहनत कर रहे हैं लेकिन अगर आपने कर्म ऐसा किया कि उसके लिए आपने खुद के ऊपर भी काम किया आपने उस चीज के लिए बाहर भी काम किया मतलब आपने साइंस में के ऊपर भी काम किया उस फ्रिज वाले के ऊपर भी काम किया साइंस और स्पीच वाली थी दो एनर्जी होती हैं ठीक है आपने मूल लॉजिकल तरीके से भी किया और इस बीच वाली थी तरीके से भी किया आपने दोनों तरीके से किया तो क्या होता है भाग में आप उसी स्कूल लिख देते हो ठीक है इसलिए कहते हैं कि कर्म ऐसा करो कि आपके भाग्य में जो नहीं लिखा ना वह भी आपको मिले ठीक है उससे कहीं ज्यादा मिल जाएगा लेकिन आपको अपना कर्म अच्छा करना और कर्म सिर्फ यह नहीं होता कि पैसे ही कमाना कर्म होता है वैसे भी जरूरी है लेकिन कल हमारे दूर होते हैं हमें एक चिड़िया वैसे भी करना होता है और एक अपनी सो लेवल से भी करना होता है एनर्जी बहुत सारे लोग अनजान है लेकिन यह ट्रू है अगर कभी आपने क्या किया कि अपने दिमाग में किसी व्यक्ति का विचार भी हमने सोच लिया वह भी एक करूं बनता है जी हां बहुत सोचने वाली बात है लेकिन यह सही है यह भी एक कर्म ही बनता है कभी भी अगर आप सोच लेना उसके बारे में जो भी थॉट आपके बना लिया अपने विचार में चाहे अच्छी हो चाहे बुरे हो उसके बारे में जितना भी सोचती जा रहे हो वह कर्म ही बन रहा है आप भले ही बाहर से नहीं कर रहे हो लेकिन आप अपने 16 वर्ष से कर रहे हो ना उसे सोच रहे हो वो काम बन जाता है इससे को समझना होगा तो करना बहुत बड़ा होता है ठीक है वह महान ही होता है कि कि अपने कर्म से ही अपना युद्ध जीता जा सकता है भाग्य के भरोसे तो कुछ भी नहीं जीत सकते भाग्य में तो सिर्फ उतना ही मिलेगा जितना लिखा है लेकिन अगर आप कर्म करोगे तो उससे कई ज्यादा मिलेगा हो सकता है कि कुछ ज्यादा ही अच्छा आप अपने कर्म में लिखा है ना भाग्य में जो हाथ उठा आपकी कर्म ने उसे और ज्यादा बढ़ा कर दिया ठीक है तो कर्म हमेशा महान होता है याद रखिएगा कर्म बहुत सारे तरीके होते हैं जैसे कि मैंने बताया साइंस एंड पीस वाली थी आपके विचारों में भी वह कर्म क्रिएट होते हैं ना तो इसलिए कर्म को करो तो सोच समझ कर करो और अच्छे से करो ठीक है ताकि उसका परिणाम बुरा ना हो अच्छा ही हो तो भाग्य से ज्यादा बड़ा कर्म होता है धन्यवाद

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
NeelamAwasthi Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए NeelamAwasthi जी का जवाब
I am housewife
1:28
कवाले भाग्य और कर्म से महान कौन है एक उदाहरण से समझते हैं जब कोई ग्राहक दुकान से सामान खरीदना है तो वह सामान का भाव पूछता है न कि बेचने वाले का तथा वह ग्राहक सामान खरीदना है कि दुकानदार को खरीदना है किंतु फिर भी सामान दुकानदार को ही देना पड़ता और हम पैसा भी दुकानदार को ही देते हैं ना कि सामान को हम उन सामान का भाव भी उस दुकानदार से ही सोचते हैं ना कि उस सामान से हमारे पैसे के मुताबिक दुकानदार का मान का वजन निर्धारित करता है उसकी बर्बरता निर्धारित करता है फिर वह सामान देता है या हम सामान पसंद करते हैं फिर दुकानदार से उसकी कीमत पूछते हैं और फिर उसका मालिक के गुण एवं मात्रक के अनुसार कीमत अदा करके सामान घर ले आते हैं ठीक उसी प्रकार भगवान हमारे कर्मों की मात्रा एवं गुणवत्ता पर खाता है फिर उसके मुताबिक उसका फल देता है हम चाहे लाख कोशिश करें हम हमारे कर्मों का ही मिलेगा भाग्य कर्म का फल है जो प्राणी जैसा कर्म करता है उसे उसका फल मिलता है और अपने कर्मों से ही व्यक्ति महान बनता है इसलिए मैं कर्म को ही प्राथमिकता देती हूं धन्यवाद

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:19
उद्योगकर्मी में महान कौन है बाकी बलिष्ठ होता है कर्म क्रियाशील होता है अगर हम कर्म करते हैं तो भाग्य हमारा साथ देता है और जब भाग्य बलिष्ठ होता है तो इंसान कर्मशील हो जाता है कि दोनों का योगदान नहीं अकेले कर्म और नहीं अकेले भाग्य हाथ जोड़कर इन दोनों से मिलकर जीवन का संचालन होता है इसलिए यह कहना कि कर्म सर्वश्रेष्ठ है भाग्य कोई स्थान नहीं रखता तो इतने सारे बैठे रहना सर्वथा अनुचित करने वाले का भाग्य जरूर साथ देता है जिसका भाग्य प्रबल होता है इसमें कोई संदेह नहीं कि वह इंसान दुनिया में बहुत कर्मशील क्रियाशील व्यक्तित्व वाला होता है इसलिए प्रथम कर्म को द्वितीय भाग को प्रधानता दी जानी चाहिए

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:11
सवाल ये है कि भाग्य और कर्म में महान कौन है अनंत काल से विषय पर बहस चली आ रहे हैं कि कर्म महत्वपूर्ण हैं भाग्य जीवन में अगर आपको कुछ पाना है तो मेहनत तो करनी ही पड़ेगी कोई शॉर्टकट नहीं है मंजिले उन्ही को मिलती है जो उसकी ओर कदम बढ़ाते हैं महाभारत में जब अर्जुन ने कुरुक्षेत्र में युद्ध में अपने स्वजनों को अपने सामने खड़ा पाया तो उसका शरीर निस्तेज हो गया हाथों से धनुष टूट गया प्राण ही मनुष्य के समान व्यक्ति पर गिर पड़ा तब भगवान श्रीकृष्ण ने उसे गीता के कर्म ज्ञान का उपदेश दिया भगवान कृष्ण ने अर्जुन से कहा कि राज्य तुम्हारे भाग्य में है या नहीं यह बाद में पहले तुम्हें युद्ध तो लड़ना पड़ेगा तुम्हें अपना कर्म तो करना पड़ेगा अर्थात स्वजनों के खिलाफ युद्ध तो लड़ना ही पड़ेगा तुलसीदास जी ने भी श्री रामचरितमानस में लिखा है कर्म प्रधान विश्व करि राखा अर्थात युग तो कब का है इसका अर्थ यह हुआ कि हम अपना कार्य करें फल की चिंता बाद में करें किसान खेत में बीज बोता है तो उसे यह नहीं पता होता कि बारिश होगी या नहीं जमीन में से 20 सीटें अंकुर से छूटेगा या नहीं अगर पौधे आ भी गए तो उस पर पल आएंगे या नहीं लेकिन किसान बीजों को जमीन में होता है और फसल की चिंता ईश्वर पर छोड़ देता है भाग्य का समर्थन करने वाले लोग कहते हैं कि जो हमें सुख संपत्ति व संपत्ति वैभव प्राप्त होता है वह भाग्य से होता है जैसे लालू प्रसाद यादव की पत्नी राबड़ी देवी बिहार के मुख्यमंत्री बनी तो या उनकी किस्मत थी डॉ मनमोहन से भारत के प्रधानमंत्री बने तो उनकी कुंडली में राजयोग था किसी अभिनेता का बेटा भी नेता बता दो कि उसका भाग्य होता है कि मैं अभिनेता के यहां पैदा हुआ है लेकिन बेहतर भाग्य तक पहुंचे हैं तो उन्होंने कर्म किए होंगे अपनी मेहनत भी की होगी तभी वहां पहुंचे हैं आज 4 लोग एक समान बुद्धि और ज्ञान रखने वाले एक ही समान कार्य को करें तो उसमें से सिर्फ दो कि को ही सफलता मिली तो हम क्या कहेंगे दोनों के साथ भाग्य का साथ नहीं रहा है उदाहरण देकर यह दे सकते हैं कि दो व्यक्ति एक साथ लॉटरी का टिकट खरीदते हैं पर लगती है कि ही है जब दोनों ने लॉटरी खरीदने का कर्म एक साथ किया तो फल अलग-अलग क्यों नहीं कहा जा सकता है कि भाग्य भी उन लोगों का साथ देता है जो कर्म करते हैं कि खुर्द में पत्थर को चिकना बनाने के लिए हमसे रोज देखना पड़ता है ऐसे ही जिंदगी में समझे हम जिस भी क्षेत्र में हूं सर पर है अपना कर्म करते रहे बिना फल की चिंता की है जिसे परीक्षा देने वाले विद्यार्थी परीक्षा देने के बाद उसके परिणाम पर इंतजार करते हैं यह चाकी भाग्य बड़ा है या कर्म इसके बारे में सब के पास अपने-अपने तर्क हैं लेकिन हर हाल में सकारात्मक सोच के साथ जीवन में कुछ उल्लेखनीय करने के लिए प्रेरणा लेनी चाहिए मेरे अनुसार कर्म महान है भाग्य के जब हम कर्म करेंगे तभी तभी उसका कुछ परिणाम आएगा लेकिन अगर कर्म ही ना करें तो भाग्य भी अब कोई असर नहीं डाल पाता

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:23
भाग्य और कर्म से महान कौन है जो तुम महान तो करनी है कि यदि आप कर्म करोगे तभी आपका भाग्य चमकेगा इसलिए आप भाग्य का मैं तो हटा दीजिए जागे तो दोस्तों आप कर्म से बनाते हैं अपनी मेहनत से बनाते हैं तो सबसे महान जो होता है वह कर्म होता है और कर्म करो फल होता है दोस्तों वही भाग्य होता है तो पहले यह कर्म के बाद में भाग्य धन्यवाद

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:21
तुम भाग्य और कर्म मैसेज करना धमाल है क्योंकि आप जैसा कर्म करेंगे आपका भाग भी वैसा ही बदल जाएगा तो अच्छे कर्म कहिए तो आपका भाग भी अच्छा रहेगा जिससे कि आपको सफलता जरूर मिलेगी तो कर्म करते रहिए फल की चिंता मत करिए फल एक न एक दिन आपको जरूर मिल जाएगा धन्यवाद

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
0:28
क्वेश्चन किया गया है भाग्य और कर्म ऐसे महान कौन है तो देखी भाग्य और कर्म ऐसे महान जो है वह कर लीजिए क्योंकि जब तक आप एक कर्म अच्छे होंगे आपका उधर अच्छे तरीके से कर रहे होंगे सफलतापूर्वक कर रहे होंगे आपको करनी है जो कर्म आप अच्छे से कर रहे हैं उसे सबसे आपका भाग्य लिखा जाता है और कोई भाग आपका ऐसा नहीं है आप खुद अपना भी लिख सकते अपने कर्मों द्वारा अब बस अच्छे कर्म करते चले जाइएगा को खुद ब खुद अच्छा होता जाएगा जब आपस में चलाई सब्सक्राइब जरूर करें धन्यवाद

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:55
फ्रेंड देखे क्वेश्चन पूछा गया है कि भाग्य और कर्म में महान कौन है तुम मेरे अनुसार अगर देखा जाए तो भाग्य और कर्म में कर्म महान होता है लेकिन जितना कर्म का महत्व होता है उतना ही भाग्य का भी होता है क्योंकि बिना जो है भाग्य करें हम कितना भी कोई भी कार्य कर ले पछताए निरर्थक हो जाता है ऐसा देखा भी जाता है इस पर जहां पर हम कर्म करते हैं तो उसके साथ साथ जो हैं हमें लकी होना यानी कि भाग्य होना भी जरूरी होता है अगर हम दोनों की कमान अगर हम फैक्ट की बात करें तो भाग्य और कर्म होता है एक ही सिक्के के दो पहलू के बराबर होते हैं तो फाइनली अगर देखा जाए तो क्या होता है और भाग्य से ज्यादा जो होता है महत्व होता है

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:03
भाग्य और कर्म से महान काम कर महानगर कर्म प्रधान विश्व कर राखा यानी कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन करने का अधिकार के माध्यम से ही अपने स्तर पर आराम फरमा रही हैं और कर्तव्यों का सही निर्वहन करते हैं तो निश्चित तौर पर आपको बेहतर कर पाएंगे तो मैं हमेशा कहता हूं कि भाग के भरोसे बैठने से कुछ नहीं होने वाला कुंडलियों में देखो यह ग्रह है वह ग्रह है वह भाग प्रोग्राम तय करेगा अगर हम अपने घर तक फरार हैं अपने कार्यों का सही निर्वाह करते हैं पर कभी भी हिम्मत नहीं हारते हैं और अपने कर्तव्यों का पूरा करते हैं मैं सिद्धार्थ और कर्म ही प्रधान है और कर्म ही महान है

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Berojgar
0:56
भाग्य और कर्म में से महान कौन है कहा जाता है कि कर्म ही पूजा है और कर्म कर्म करना चाहिए फल की इच्छा नहीं करना चाहिए इसलिए कहा जाता है कि कर्म ही भाग्य और भाग्य ही आपका कारण है क्योंकि दोनों ही अपने स्थान पर महत्वपूर्ण है और वह उचित स्थान लेते हैं क्योंकि कर्म एक क्रिया है हमारी शुक्रिया है हमें करना चाहिए और वही उसका जो परिणाम होता है वह हमारा एक भाग्य है तो भाग्य से हमें पहले कुछ मिला नहीं है और कर्म से पहले हमको मिला नहीं क्योंकि इसलिए हम कहां जाता है एक कर्म करिए फल की इच्छा नहीं मत करिए अब दोनों में से महान कौन है कर्म है अगर आप कर्म नहीं करेंगे तब तक आपका भाग्य खुलेगा नहीं तो सबसे महान है वह घर में ही है कर्म की ही पूजा की जाती है

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:22
आप जमाने की भाग्य और कर्म में से महान कौन है मेरे विचार में हमेशा कर्म ही महान होता है भाग्य अपनी जगह होता है कर्म अपनी जगह होता है कर्म करने से कि आप अपने भाग्य को बना सकते हैं खा लिया भाग्य के भरोसे बैठे रहेंगे तो आप कभी भी भाग्य में लिखी हुई अच्छी चीजों को भी नहीं हासिल कर पाएंगे इसलिए कर्म करना बेहद जरूरी है आपका दिन शुभ रहे थे नेपाल

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Bhavesh Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Bhavesh जी का जवाब
West Bengal India is Great
0:51
भाग्य और कर्म से महान कौन है देखिए भाग जो है वह अपनी जगह है भाग पर जो भागेंगे वह जिंदगी भर भागते ही रह जाएंगे जब यह सोचा कि ना जाने कब मेरी लॉटरी लग जाएगी तब क्या हो जाएगी मेरी किस्मत है यह है वह है और कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो स्थितियां खराब होती है कुछ कर नहीं पाते तो किस्मत ही खराब है भाग्य में ही नहीं लिखा है मेरा तो भागते बिल्कुल मत जाइए जो आपकी करम है वही सही है अपने कर्म पर विश्वास रखिए मैं भाग्य भाग्य अपने लकी को बिल्कुल नहीं मानता हूं क्योंकि यह सौ परसेंट में से 10 परसेंट भी आप भाग का नाम दे सकते हैं तो मैं देता हूं बाल बच्चे नब्बे परसेंट सब कुछ आपके कर्मों में है

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Md Mahmud Alam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Md जी का जवाब
स्टूडेंट विद्यार्थी
0:40
आज का सवाल है भाग्य और कर्म में से महान कौन है मेरे हिसाब से अगर कहा जाए तो कर्म ही सबसे बड़ा महान होता है क्योंकि इंसान खुद बदल सकता खुद लिख सकता है कुछ ऐसे होते हैं जो प्रकृति द्वारा होती है जैसे मरना जीना यह सब प्रकृति की देन है लेकिन सफलता अगर कोई भाग बोले तो इंसान खुद होता है इसलिए कहा जाता कर्म ही सबसे बड़ी पूजा है कर्म करो फल मिलेगा आज नहीं तो कल मिलेगा जितना गहरा कुआं होगा उतना मीठा जल मिलेगा धन्यवाद

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
3:34
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है भाग्य और कर्म से महान कौन है दिखी फ्रेंड भाग्य और कर्म जो है उनको एक दूसरे के क्रिया प्रक्रिया के अनुरूप होता है कर्म क्रिया है और भाग्य उसकी प्रतिक्रिया है जैसे कि आपने कुछ लोगों को देखा होगा कि आजीवन लोग अच्छे कार्य करते हैं और उसके उपरांत मुंह दुख भोंकते हैं जबकि कुछ लोग बुरे कर्म करने के उपरांत भी सुखी जीवन व्यतीत करते हैं तो कर्म फल भोगने का निर्धारण जो होता है फ्रेंड हम अपनी सुविधानुसार नहीं कर सकते जैसे कि कुछ कर्म संचित होते हैं उनके अनुसार हमें सुख और दुख की प्राप्ति होती है कुछ कर्म प्रारंभ होते हैं जिनके घर में सुख दुख की प्राप्ति होती है उसे और इसमें कहा भी गया है आपको भगवत गीता में निज कृत कर में जनता फल पाया अब प्रभु भाई सरन तकि आयशा सर्वार्थ महत्वपूर्ण प्रिया मालिक कर्म ही है फ्रेंड्स जिसके द्वारा हम अपनी प्रारंभ में कुछ हद तक परिवर्तन कर सकते हैं अतः यह जो है भाग्य में बदला जा सकता है फ्रेंड इसमें कहा गया है भगवत गीता में फ्रेंड ना में पार्थ आरती कर्तव्यम 30 लोगों के शौकीन चन 9 वाक्य वक्तव्य वक्तिचा करमाड इसमें कहा गया है फ्रेंड भगवत गीता में किसी पार्थ तीनों लोगों में मेरे द्वारा करने लायक कुछ भी नहीं है फिर भी गर्मी में विस्तृत होता है अतः उचित में कोई भी कर्म बंधन से परे नहीं है बिना कर्म किए कोई एक क्षण भी नहीं रह सकता गीता में फ्रेंड या भी कहा गया है नहीं कश्चित् हम मर जाते इस चक्कर में किस कार्य 30 आवश्यक अरे सर वह प्रकृति जयपुर आज बिना कर्म की कोई एक क्षण भी नहीं रह सकता पेंट सभी प्रकृति से पैदा हुए गुरु से विवश होकर कर्म करते हैं अतः कर्म रथ रहिए सहज कर्म सदोष भी हो सकता है परंतु उसका उद्देश्य निर्मल भी होना चाहिए फ्रेंड इसके पीछे साथ ही भगवान यह भी कहते हैं कि शायद हम कर्म में कौन थे सर्वसम्मति नाचीते सर्वे रंभा हेतु शिव धूनी कितनी रेत विदा इसमें अर्जुन को कहते हैं श्री कृष्ण जी फ्रेंड दोष युक्त होने पर भी सहज कर्म का त्याग नहीं करना चाहिए क्योंकि जैसे अग्नि धुए से आवृत्ति होती है वैसे ही हर कर्म किसी ने किसी दोस्त से युक्त होता है कर्म की मात्रा का प्रमाण इससे अधिक और क्या हो सकता है फ्रेंड्स इसमें कहा गया फ्रेंड भगवत गीता में ना कहो ना को सुख दुख कर दाता निज कृत कर्म भोग सबका था अतः वर्तमान की कर्म ही हमारे भाग्य का निर्माण करते हैं जो सत्कर्म में रह रही है और अपना भाग बदलिए आशा है फ्रेंड की भाग्य और कर्म नामक इस लेख से जो है आप सभी को जो है बहुत ही जो है आनंद आया होगा और यह आशा है कि आपको यह जो जवाब है वह महत्वपूर्ण लगा होगा सुनने में मजा आया होगा के जवाब से संतुष्ट होंगे और अगर ऐसा कुछ है फ्रेंड तो जवाब में जरूर बताइएगा कि आपको जवाब कैसा लगा धन्यवाद

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Manish Kumar  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Manish जी का जवाब
Defence
4:24
नमस्कार मेरा नाम है मनीष कुमार और आप मुझे सुन रहे हैं भारत के नंबर वन सवाल और जवाब करने वाले एक कॉल करें कि प्रश्न है भाग्य और कर्म से महान कौन है तो इस संदर्भ में जो है हमें इस श्लोक याद आता है और श्लोक है कर्म प्रधान विश्व रचि राखा जो जस करहिं सो तस फल जाकर 7:00 बजे हमारा देश है भारत देश या करो प्रधान देश है यहां पर जो है कर्म की प्रधानता ज्यादा है और जो जैसा करेगा उसे वैसा ही जो है फल मिले बिना जो है भाग गया अधूरा है और भाग्य के बिना जो है कर मत हो रहा है दोनों एक दूसरे के हम आपको एक उदाहरण देकर समझाते हैं एक नदी में सोने की उनकी फेंक दिया जाए और दो नदी में तैरने वाले व्यक्ति को उस स्वर्ण हम ठीक है खोज कर लाने के लिए कहा जाए तो दोनों नदी में छलांग लगाएंगे दोनों चलेंगे दोनों खो जाएंगे परंतु जाहिर सी बात है कि वह उनकी किसी एक को ही मिलेगा तो रियाद से दोनों ने की दुआ मुखी मिला किसी एक को तो यहां पर जो है हम यह सोचेंगे कि का भाग्य में था अंकिता मिलना इसलिए जो है झूठी मिला बहुत सारे अलौकिक घटनाएं देखने को मिलती है आप खुद दे यह आप जब क्लास में जब पढ़ रहे होंगे तो बहुत सारे स्टूडेंट होंगे उसमें बहुत सारे तेज स्टूडेंट अभी भी जो है बेरोजगार घूम रहे हैं और बहुत सारे मंदबुद्धि के लड़के जो है पढ़ाई में कमजोर लड़के भेजो है आज कॉमेंट सर्विस में लग चुके हैं मैं खुद अपना ही हूं उदाहरण देता हूं कि मेरे साथ कक्षा में करीब 80 विद्यार्थी पढ़ते थे जिसमें से मैं मीडियम पढ़ाई लिखाई में तो सामान्य था और जो हमारी क्लास में सबसे टॉप 10 में कोई बिजनेस कर रहा है तो कोई अभी पढ़ ही रहा है और मैं सामान्य हो कर भी जो है आज कॉमेंट यूपी में हूं तो कहीं ना कहीं तो है कुछ ना कुछ भागने का भी साथ होता है आखिर वह सभी लड़के मेरे साथ पढ़ाई की है और आज कहीं और है और हम कहीं और हैं आपके भरोसे नहीं रहना है हमें अपने कर्म पर भरोसा रखना मैं अपना काम करना है कल की चिंता भगवान पर छोड़ते नहीं हम जैसा कर्म करेंगे वैसा ही हमें फल मिलेगा महाभारत में एक श्लोक वीडियो भेजा नियति सरस्वती नदीचा अर्थात हजारों में कोई एक ही होगा जो कदम को अच्छी प्रकार करना चाहता और मैं भी एक श्लोक है हीरो बानो बड़ी अकड़ मंगा दाल सफेद पानी और मन से किया गया कि नहीं करूंगा हम जो भी काम करें नींद भी किया है समाधि विक्रिया चिंतन विक्रमण और सभी निर्वाचन संबंधी विवरण अभी बोल रहे हैं हम सुन रहे हैं या व्यक्ति रहे हैं किस प्रकार हमें अपने कर्मों को जो है अच्छी तरह से करना है फल की चिंता नहीं करना है अच्छे कर्म से भाग्य बनते हैं तो इस प्रकार से आप अच्छे कर्म कीजिए जाहिर सी बात है आपका भाग्य विश नाम देव धणी

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Akash verma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akash जी का जवाब
Gov Job in Kanpur
1:20
बहुत ही अच्छा क्वेश्चन है भाग्य और कर्म से महान कौन है यह यहां पर डिबेट मतलब कर सकते आप ठीक कर महान है भाग्य जो है सेकेंडरी चीज है जैसे आपको सपोर्ट पानी पीना है तो आप जब तक चल कर नहीं जाएंगे मैं ऐसा नहीं कि आप मान लीजिए घर पर हैं तो बहुत सारे लोग हैं तो कोई लाकर दे देगा मैं उस चीज की नहीं बात कर रहा हूं मतलब आप है उसके पास जब तक चल कि नहीं जाएंगे ना तब तक आप को पानी मिलने की संभावना नहीं है अब वहां पर भाग गई इस बात का है कि उस कुएं में पानी है या नहीं है साफ है या नहीं है इस चीज का लेकिन आप पहले कर्म पर विश्वास करिए कोई भी चीज हो तो आप कम करिए और अखंड परसेंटेज के साथ के लिए निश्चित सफलता मिलती है तो कर्म है भाग्य को मैंने यह कहा था कि भाग्य कैंडी ची गाणी आप पहले अपना कर्म करिए उस भाग गया तुम्हें ठीक सही हो जाएंगे

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:02
हेलो जनता जान का सवाल है कि भाग्य और करने में कौन है मैंने बहुत बार कहा है कि मैं भी एक इंसान हूं जैसा काम करता है जिस तरह से कर्म करता है उसी तरह से मिलता ग्राम किसी चीज के लिए बहुत मेहनत हमने उसी तरह से उसका फल भी मिलता आपके पास जैसा नॉलेज हो तो साफ-साफ करो जल्दी आओ अगर आप सोचेंगे कि नहीं है मेरे किस्मत में लिखा है कि मैं एक्जाम दो ही नहीं मेरे एग्जाम में अच्छा नहीं रहेगा शादी नौकरी मेरे लिए नहीं है मेरी किस्मत में लिखा हुआ है कि आप से मतलब प्लेट में खाना है जब तक आप हाथ डालकर अपने मुंह में नहीं खाएंगे निवाला नहीं लेंगे तब तक आपके मुंह में वह खाना नहीं जाएगा यह बात समझना बहुत जरूरी है कि जब तक है किस्मत में होगा खेसारी

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
मनोज कुमार यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए मनोज जी का जवाब
कृषक 🌾🌾🌾🌾
3:04
नमस्कार मित्रों जैसे प्रश्न भाग और कर्म से महान कौन है तो देखिए मित्रों नागौर कर्म में महान गर्मी होते कर्म से आप कुछ भी हासिल कर सकते हैं आज अपनी जगह पर है और कर्म अपनी जगह पर है इसलिए करके मानता की बात करें तो कल ही महान है अब इसका उदाहरण पर चलते हैं कि इस कैसे कर मान है आपको एक उदाहरण के तौर पर को समझाना चाहते हैं तो राजा थे और दोनों राजा कहिए कहीं गुरु थे और दोनों राजा मैं कभी वापस में प्रेमभाव नहीं रहते थे मिसाल दून दोनों में लड़ाई झगड़ा होते रहते थे एक दिन वह लोग गुरु के पास गया कि गुरुदेव हमें ऐसा आशीर्वाद दीजिए जो कि हम विजय जब पहला गया तो उसने पूछा कि युद्ध में जीत सकते तो गुरुदेव ने कहा देखिए आप युद्ध में जीत सकते हैं या नहीं यह आपके ऊपर निर्भर करता है लेकिन भाग आपके साथ हैं दूसरा जब गया तो दूसरे ने गुरु को प्रणाम किया और पूछा कि गुरुदेव हम यह युद्ध जीत सकते हैं या नहीं तब गुरुदेव ने उसे कहा कि देखिए तुम्हारे साथ भाग्य नहीं है बाकी तुम अपने कर्म से जो हासिल कर सकते हैं अब दोनों चला गया मटर और जिसके पास भाग था उन्हें तो घमंड हो गया कि हमारे साथ भाग गए हम तो जीतेंगे और दूसरा राजा ना जी जान लगा दिया कि वैसे हमें हरनाही है अगर हारेंगे अभी तो हम भी रो की तरह उन दोनों में घनघोर युद्ध हुआ है और अंत में कर्म जो किया उन्हीं का विजय हुआ है और भाग्य जिसके साथ था वह हार गए अब हमने का यह मातम हो गया कि वह लोग हार कर के दोनों गुरु के पास गया तो ग्रुप से पूछा पहले वाला राजा ने किस गुरुदेव हम कैसे के हमारे साथ जब दाग रहते हुए तो गुरुदेव ने कहा कि तुम्हें तो आकार हो गया कि तुम्हारे साथ भाग्य तुम तो प्राची मुझे नहीं सकता और दूसरे ने जब गुरुदेव से पूछा कि बोला देखिए तुम्हारे साथ भागना होते हुए तुम कर्म का सहारा लिया और इस लेकर के विजय प्राप्त की तो देखिए दोस्त यही दो अल्लाह होते हैं कर्म और भाग्य हमारे साथ दोनों की आवश्यकता होते हैं यह नहीं कि मैं भाग हमारे साथ है हमें घमंड हो जाएगा अगर हो जाए तो हम भक्तों को जीत नहीं सकते इसलिए करके कर्म करते रहो और भाग को दोषी भी ना दो क्योंकि भाग वर्कर में महान कर्मी हमेशा होते हैं धन्यवाद
Namaskaar mitron jaise prashn bhaag aur karm se mahaan kaun hai to dekhie mitron naagaur karm mein mahaan garmee hote karm se aap kuchh bhee haasil kar sakate hain aaj apanee jagah par hai aur karm apanee jagah par hai isalie karake maanata kee baat karen to kal hee mahaan hai ab isaka udaaharan par chalate hain ki is kaise kar maan hai aapako ek udaaharan ke taur par ko samajhaana chaahate hain to raaja the aur donon raaja kahie kaheen guru the aur donon raaja main kabhee vaapas mein premabhaav nahin rahate the misaal doon donon mein ladaee jhagada hote rahate the ek din vah log guru ke paas gaya ki gurudev hamen aisa aasheervaad deejie jo ki ham vijay jab pahala gaya to usane poochha ki yuddh mein jeet sakate to gurudev ne kaha dekhie aap yuddh mein jeet sakate hain ya nahin yah aapake oopar nirbhar karata hai lekin bhaag aapake saath hain doosara jab gaya to doosare ne guru ko pranaam kiya aur poochha ki gurudev ham yah yuddh jeet sakate hain ya nahin tab gurudev ne use kaha ki dekhie tumhaare saath bhaagy nahin hai baakee tum apane karm se jo haasil kar sakate hain ab donon chala gaya matar aur jisake paas bhaag tha unhen to ghamand ho gaya ki hamaare saath bhaag gae ham to jeetenge aur doosara raaja na jee jaan laga diya ki vaise hamen haranaahee hai agar haarenge abhee to ham bhee ro kee tarah un donon mein ghanaghor yuddh hua hai aur ant mein karm jo kiya unheen ka vijay hua hai aur bhaagy jisake saath tha vah haar gae ab hamane ka yah maatam ho gaya ki vah log haar kar ke donon guru ke paas gaya to grup se poochha pahale vaala raaja ne kis gurudev ham kaise ke hamaare saath jab daag rahate hue to gurudev ne kaha ki tumhen to aakaar ho gaya ki tumhaare saath bhaagy tum to praachee mujhe nahin sakata aur doosare ne jab gurudev se poochha ki bola dekhie tumhaare saath bhaagana hote hue tum karm ka sahaara liya aur is lekar ke vijay praapt kee to dekhie dost yahee do allaah hote hain karm aur bhaagy hamaare saath donon kee aavashyakata hote hain yah nahin ki main bhaag hamaare saath hai hamen ghamand ho jaega agar ho jae to ham bhakton ko jeet nahin sakate isalie karake karm karate raho aur bhaag ko doshee bhee na do kyonki bhaag varkar mein mahaan karmee hamesha hote hain dhanyavaad

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
ekta Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए ekta जी का जवाब
Unknown
0:37
पूछा गया है भाग्य और कर्म से महान कौन है तो देखे भाग्य और कर्म क्या कर्म बात करें तो दोनों अपने अपने तरीके से काम करते हैं पर अगर दोनों कम कम प्यार करते हैं तो करवाने क्योंकि यदि आप अपने कर्मों में परिवर्तन करेंगे तो आपका भाग्य उसके अनुसार परिवर्तित होता जाएगा तो जो कर्म है जो पुरुषार्थ है तो उधर में वह आपके भाग्य को बदल सकता है बस इसके लिए जरूरी है कि आप में इतनी कड़ी मेहनत करने की हिम्मत होनी चाहिए दृढ़ संकल्प होना चाहिए उम्मीद करती हूं आपको मेरा जवाब पता होगा धन्यवाद
Poochha gaya hai bhaagy aur karm se mahaan kaun hai to dekhe bhaagy aur karm kya karm baat karen to donon apane apane tareeke se kaam karate hain par agar donon kam kam pyaar karate hain to karavaane kyonki yadi aap apane karmon mein parivartan karenge to aapaka bhaagy usake anusaar parivartit hota jaega to jo karm hai jo purushaarth hai to udhar mein vah aapake bhaagy ko badal sakata hai bas isake lie jarooree hai ki aap mein itanee kadee mehanat karane kee himmat honee chaahie drdh sankalp hona chaahie ummeed karatee hoon aapako mera javaab pata hoga dhanyavaad

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
0:42
कर्म हमेशा उससे महान था उसने बनाया जाए कब से आपका भाग्य बदल सकते हैं भाग्य में जो लिखा है वह बदल सकते हैं बहुत सारे कार्य करनी है जिन्होंने अपने कर्म से आपको लगता है कि मैंने बचपन में काफी सारी कठिनाइयों का सामना किया लेकिन कर्म योग करते थे जो कर्म करता है उसका पूरी मजबूत रहता है सोनिया ने कि वह परमात्मा जो पूरी दुनिया को जला चुकी सोनी एक्शन के लिए अपनी गला भी एक्टिवेट करें अपने कर्म से और बाकी तो है
Karm hamesha usase mahaan tha usane banaaya jae kab se aapaka bhaagy badal sakate hain bhaagy mein jo likha hai vah badal sakate hain bahut saare kaary karanee hai jinhonne apane karm se aapako lagata hai ki mainne bachapan mein kaaphee saaree kathinaiyon ka saamana kiya lekin karm yog karate the jo karm karata hai usaka pooree majaboot rahata hai soniya ne ki vah paramaatma jo pooree duniya ko jala chukee sonee ekshan ke lie apanee gala bhee ektivet karen apane karm se aur baakee to hai

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:34
प्रश्न यह है कि भाग्य और कर्म निश्चित महान समय है तो आपको मैं पहले यह बता दूं कि भाग्य आपको कभी कभी मिलता है और घर में आप लोग चलेंगे उसके अनुसार आपको सफलता हमेशा मिलती रहेगी तो मेरी सबसे भारी औरत का नाम इस चित्र में महान है भारत में महान है प्रधान जी आपको बाई चांस मिलता है लेकिन सर मैं आपको रोज में सफेदी डोजाख मेहनत करेंगे तो सबका उद्धार करेंगे तो भी आपको मेरा उत्तर समझ में आया हो तो प्लीज लाइक करें
Prashn yah hai ki bhaagy aur karm nishchit mahaan samay hai to aapako main pahale yah bata doon ki bhaagy aapako kabhee kabhee milata hai aur ghar mein aap log chalenge usake anusaar aapako saphalata hamesha milatee rahegee to meree sabase bhaaree aurat ka naam is chitr mein mahaan hai bhaarat mein mahaan hai pradhaan jee aapako baee chaans milata hai lekin sar main aapako roj mein saphedee dojaakh mehanat karenge to sabaka uddhaar karenge to bhee aapako mera uttar samajh mein aaya ho to pleej laik karen

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
3:47
आपका सवाल है भाग्य और कर्म में महान कौन है तू सबसे पहले हम जान जाते भाग्य और कर्म होता क्या है भाग्य और कर्म क्या-क्या होता है क्यों होता है इसके बारे में जानते पहले हम जानते हैं भाग्य के बारे में भाग्य क्या है भाग्य वह है जो आप जो भी कर्म कर रहे हो अभी जो उस एजुकेशन में आप जो भी कर्म कर रहे हो उसका एक परिणाम है समूह है जो भी आप करना है उन कर्मों का समूह भाग्य कहलाते या उसमें जो भी आप कर्म करो का एक समूह भागे कहलाते जैसे आप अगर आप पढ़ाई करते हो दसवीं क्लास में हूं अगर आप एक बात बताओ अगर आप पढ़ाई नहीं करोगे तो सी क्लास में आप पढ़ोगे नहीं तो आप ऐसी बात कैसे होगी नहीं होगी ना तो बिना कर्म कि आप यह सोचो कि मैंने दसवीं पास हो गया तू नहीं हो सकती क्योंकि आपने वह घर में ही नहीं किया 10 या अपने दसवीं कक्षा में पढ़ाई नहीं किया और 10 या फिर से पास हो जाओगे अगर आप खुशी-खुशी कोई भी काम होगा तो काम स्टार्ट ही नहीं करोगे यार आप सोचो कि आप उस काम में आप सफल हो जाओगे तो नहीं हो जाएगी भाग्य क्या है जब आप कर्म करोगे तभी आप को रिजल्ट मिलेगा रिजल्ट मिलेगा या प्ले आप भाग्य बनेगा कसम खाकर आता है और घर में क्या है आप जो भी छोड़ कर दो को छोड़कर जो भी आप सोच रहे हो अपने बारे में सोच रहे हो दूसरे के बारे में सोचो कुछ भी सोच रहे हो वह घर में है पैर में थॉट्स थॉट्स थॉट्स करे वह भी एक कर्म है ठीक है अब यह नहीं कि आप दूसरों की मक्कारी वही कर में जो भी आप सोच रहे हो वह भी एक कर मैंने कि हरेक काम जो भी करते हो जो भी सोचते हो सब एक घर में रिकॉर्ड हो रहा है हम सभी कौन है आत्मा आत्मा में सफेद जो भी आप सोच रहे हो जो भी आप कर रहे हो हर चीज रिकॉर्ड हो रही है रिकॉर्ड हो रही है आप यह बात याद रख लीजिए अगर आप बुरा कर्म करो वह भी रिकॉर्ड हो रहा है उसका भी आपको फल मिलेगा क्योंकि आप अच्छे कर्म करे वह भी रिकॉर्ड तू कभी आपको फल मिलेगा रिकॉर्डिंग हो रही है सब चीज की रिकॉर्डिंग हो रही है जब व्यक्ति की मौत होती है तो वो रिकॉर्डिंग अंत में चलती है तो आपको अपने जीवन ऐसा बनाना है कि अगर आपको जिस दिन भी आप अगर आप की मृत्यु होती कि तू मेरे संसार का अटल सत्य है ठीक है जिस दिन अगर मिलती होती है तो उस दिन में चले कि आपने पूरी जिंदगी भर क्या किया फिल्म शानदार हूं आपको जिंदगी में बनाना है अच्छे कर्म करना है और कहा कि भाग्य में आपको इतना ना याद करोगे कि नहीं तुम्हारे पैसे मिलेगा बात को आप बदल सकते हो कर हमसे लेकिन भाग्य भाग्य महान नहीं कर्म महान भाग्य को बदल सकते और भाग्य को आगे कैसे बढ़ाए भाग्य महा नहीं होते यार भाग्य अगर आप बोलोगी भाग्य मेरे भाग्य में होगा तो मिलेगा ही नहीं करोगे तो आपको कैसे बनेगा कैसे मिलेगा आपको वह सारी चाहिए जब तक आप कहीं नहीं करोगे जैसा पुकार की एक और आप बोलोगे कि मेरे भाग्य में कार लिखा हुआ तो कार में लगातार कार्य के लिए आप मेहनत करोगे काम करोगे तभी तो आपका रुको आप आ सकते हो तो आप कार के लिए आप मेहनत नहीं करोगे कार आपको चाहिए जीवन में और काम नहीं करोगे पैसा नहीं कब आओगे तो आपके पास कॉल आएगा नहीं आएगा ना करना महान है भाग्य नहीं ठीक है भाग्य को आप बदल सकते हो अभी जो से संवाद निर्माण चल रहा है और अब भाग्य को बदल सकते हो यह तो बता दो कोई ऐश्वर्या बोलते हैं वह बताते हैं कि परीक्षण करते हैं कि ऐसा हो सकता आपके कर्मों कि साफ-साफ बता देते कि अब से जो आपने ऐसे ऐसे करोगे तो ऐसे ही सांस हो सकता है लेकिन आप उसे चेंज कर सकते हो उस भाग 1 भाग चेंज कर सकते हो अपने कर्म से अपने थॉट से जो भी आप तो डिलीट करें वह भी एक कर में बन रहा है तो सोचा ध्यान से सोचो ध्यान से करो को भी काम करते हो तो ठीक है कि हर एक चीज आपको भाग्य बना रही है
Aapaka savaal hai bhaagy aur karm mein mahaan kaun hai too sabase pahale ham jaan jaate bhaagy aur karm hota kya hai bhaagy aur karm kya-kya hota hai kyon hota hai isake baare mein jaanate pahale ham jaanate hain bhaagy ke baare mein bhaagy kya hai bhaagy vah hai jo aap jo bhee karm kar rahe ho abhee jo us ejukeshan mein aap jo bhee karm kar rahe ho usaka ek parinaam hai samooh hai jo bhee aap karana hai un karmon ka samooh bhaagy kahalaate ya usamen jo bhee aap karm karo ka ek samooh bhaage kahalaate jaise aap agar aap padhaee karate ho dasaveen klaas mein hoon agar aap ek baat batao agar aap padhaee nahin karoge to see klaas mein aap padhoge nahin to aap aisee baat kaise hogee nahin hogee na to bina karm ki aap yah socho ki mainne dasaveen paas ho gaya too nahin ho sakatee kyonki aapane vah ghar mein hee nahin kiya 10 ya apane dasaveen kaksha mein padhaee nahin kiya aur 10 ya phir se paas ho jaoge agar aap khushee-khushee koee bhee kaam hoga to kaam staart hee nahin karoge yaar aap socho ki aap us kaam mein aap saphal ho jaoge to nahin ho jaegee bhaagy kya hai jab aap karm karoge tabhee aap ko rijalt milega rijalt milega ya ple aap bhaagy banega kasam khaakar aata hai aur ghar mein kya hai aap jo bhee chhod kar do ko chhodakar jo bhee aap soch rahe ho apane baare mein soch rahe ho doosare ke baare mein socho kuchh bhee soch rahe ho vah ghar mein hai pair mein thots thots thots kare vah bhee ek karm hai theek hai ab yah nahin ki aap doosaron kee makkaaree vahee kar mein jo bhee aap soch rahe ho vah bhee ek kar mainne ki harek kaam jo bhee karate ho jo bhee sochate ho sab ek ghar mein rikord ho raha hai ham sabhee kaun hai aatma aatma mein saphed jo bhee aap soch rahe ho jo bhee aap kar rahe ho har cheej rikord ho rahee hai rikord ho rahee hai aap yah baat yaad rakh leejie agar aap bura karm karo vah bhee rikord ho raha hai usaka bhee aapako phal milega kyonki aap achchhe karm kare vah bhee rikord too kabhee aapako phal milega rikording ho rahee hai sab cheej kee rikording ho rahee hai jab vyakti kee maut hotee hai to vo rikording ant mein chalatee hai to aapako apane jeevan aisa banaana hai ki agar aapako jis din bhee aap agar aap kee mrtyu hotee ki too mere sansaar ka atal saty hai theek hai jis din agar milatee hotee hai to us din mein chale ki aapane pooree jindagee bhar kya kiya philm shaanadaar hoon aapako jindagee mein banaana hai achchhe karm karana hai aur kaha ki bhaagy mein aapako itana na yaad karoge ki nahin tumhaare paise milega baat ko aap badal sakate ho kar hamase lekin bhaagy bhaagy mahaan nahin karm mahaan bhaagy ko badal sakate aur bhaagy ko aage kaise badhae bhaagy maha nahin hote yaar bhaagy agar aap bologee bhaagy mere bhaagy mein hoga to milega hee nahin karoge to aapako kaise banega kaise milega aapako vah saaree chaahie jab tak aap kaheen nahin karoge jaisa pukaar kee ek aur aap bologe ki mere bhaagy mein kaar likha hua to kaar mein lagaataar kaary ke lie aap mehanat karoge kaam karoge tabhee to aapaka ruko aap aa sakate ho to aap kaar ke lie aap mehanat nahin karoge kaar aapako chaahie jeevan mein aur kaam nahin karoge paisa nahin kab aaoge to aapake paas kol aaega nahin aaega na karana mahaan hai bhaagy nahin theek hai bhaagy ko aap badal sakate ho abhee jo se sanvaad nirmaan chal raha hai aur ab bhaagy ko badal sakate ho yah to bata do koee aishvarya bolate hain vah bataate hain ki pareekshan karate hain ki aisa ho sakata aapake karmon ki saaph-saaph bata dete ki ab se jo aapane aise aise karoge to aise hee saans ho sakata hai lekin aap use chenj kar sakate ho us bhaag 1 bhaag chenj kar sakate ho apane karm se apane thot se jo bhee aap to dileet karen vah bhee ek kar mein ban raha hai to socha dhyaan se socho dhyaan se karo ko bhee kaam karate ho to theek hai ki har ek cheej aapako bhaagy bana rahee hai

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
Akansha kumari Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Akansha जी का जवाब
Unknown
0:42
सिंपल सी बात है भाग्य और कर्म में हमेशा स्वर में ही महान होगा क्योंकि भाग्य किसी ने नहीं देखा हमारे हाथ में होता है तो हमारे कर्म अच्छे कर्म करें बुरे कर्म करें यह हमारे हाथ में होता है भाग्य हमारे हाथ में नहीं होता है लोगों को बोलते सुना होगा कि भाग्य नहीं बदलता मेरा मानना है अगर आप कर्म अच्छे करो भाग में कुछ बुरी चीजें भी लिखी हुई है उसे भी बदल देते हैं इसीलिए हमेशा कर महान था पर महान है और कर्म ही महान रहेगा
Simpal see baat hai bhaagy aur karm mein hamesha svar mein hee mahaan hoga kyonki bhaagy kisee ne nahin dekha hamaare haath mein hota hai to hamaare karm achchhe karm karen bure karm karen yah hamaare haath mein hota hai bhaagy hamaare haath mein nahin hota hai logon ko bolate suna hoga ki bhaagy nahin badalata mera maanana hai agar aap karm achchhe karo bhaag mein kuchh buree cheejen bhee likhee huee hai use bhee badal dete hain iseelie hamesha kar mahaan tha par mahaan hai aur karm hee mahaan rahega

bolkar speaker
भाग्य और कर्म में से महान कोन है?Bhaagy Aur Karm Mein Se Mahaan Kon Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
3:00

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भाग्य और कर्म में अंतर, भाग्य का क्या अर्थ है, कर्म का क्या अर्थ
URL copied to clipboard