#भारत की राजनीति

bolkar speaker

राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?

Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
2:05
नमस्कार आज सभी बोलकर परिवार के सभी साथियों को आज 8 मार्च को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की शुभकामनाएं महिला दिवस का होती थी तब तक प्रमाणित नहीं होता जब तक कि सच्चे अर्थों में महिलाओं की दशा नहीं सुधरती जब तक उनके अधिकार प्राप्त हो रहे हैं वह पिक्चर तिगरण तो तभी होगा जब महिलाएं आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होगी और उनमें कुछ करने का आत्मविश्वास लगेगा और हमारे देश में महिला शोषण से निजात मिलेगी और हमारे मनुस्मृति में उल्लेख है जहां स्त्रियों का सम्मान होता है वहां देवता निवास करते हैं वैसे तो नारी को विश्व भर में सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है भारत में महिलाओं ने भारत का गौरव बढ़ाया है जो भारत की प्रथम महिला प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी और भारतीय प्रथम महिला राष्ट्रपति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल भारत की प्रथम महिला लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमारी भारत की प्रथम महिला राज्यपाल सरोजनी नायडू और भारतीय प्रथम महिला मुख्यमंत्री सुचेता कृपलानी अंतरिक्ष में जाने वाली प्रथम भारतीय महिला कल्पना चावला और कभी भूलकर परिवार के महिलाओं को हार्दिक शुभकामनाएं आया हमें उठो तुम नारी युग निर्माण तुम्हें करना है आजादी की खुद ही नियम में तुम्हें प्रगति पत्थर भरना है अपने को कमजोर न समझो धनी हो संपूर्ण जगत की गौरव हो अपनी संस्कृति की बात हो शरणागत कि तुम्हें नया इतिहास देश का अपने कर मुझसे रचना है धन्यवाद साथियों खुश रहो

और जवाब सुनें

bolkar speaker
राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
1:36
हैप्पी महिला दिवस पर अपने विचार बताइए आपके बारे में जितना कहा जाए जितना सुना जाए वह बहुत कम है उसकी महिला जो चीज होती है वह जो चीज होती आपको समझ सकते हैं मेला क्या होती है एक महिला शक्ति क्या होती है वह चाहे तो घर को स्वर्ग या नर्क बना सकती है वह चाहे तो वीराने में भी फूल खिला सकती है वह चाहे तो गगन आसमान को पृथ्वी से मिला सकती है महिला को चीज होती है जो शायद ही उसके बगैर एक इंसान का जीवन संभव हो पाए एक पुरुष का जीवन संभव उपाय जो किसी भी चीज के मोहताज नहीं होती है वह किसी भी चीज के लिए भी नहीं होती है वह अपने आप में ही कायनात उनको किसी गुलाब की जरूरत नहीं होती है क्योंकि वह खुद एक गुलाब उनको किसी भी चीज की जरूरत नहीं होती है यदि उनके पास हनी दो रोटी भी है तो वह सब मार्ट इन सब में अपना अपना बना लूंगी लेकिन वह किसी भी चीज की मोहताज नहीं होती है क्योंकि मैं जब भी उसे गुलाब चाहिए नहीं अब तो उसे फूल चाहिए वह अपने आप में फूल है अपने आप में कायनात है वक्त कैसा भी चल रहा है जिंदगी में ऐसा भी पड़ाव चल रहा हूं जिंदगी में हर चीज में ढल जाती सहज रूप से शरीर की बनाई गई प्यारी रचना ही हो सकती है

bolkar speaker
राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:57
मीन राशि महिला दिवस कितने विचार बताओ अगर राजनेताओं की चरण में विचार बताऊं तो बहुत है क्योंकि राजनेता हर दिवस पर अपने काल्पनिक कल्पनाएं और बड़ी-बड़ी संवाद बड़ी-बड़ी नारी और बड़ी-बड़ी चटनी और बड़ी-बड़ी बातें जो है लेकिन चटकाए उससे कोसों दूर है एक तरफ राष्ट्रीय दिवस मनाया जा रहा है महिला दिवस मनाया था और दूसरी तरफ महिलाओं का उत्पीड़न व उनके साथ बलात्कार हो रहे हैं उनकी चाहे जब छाए हुए हैं उनके साथ पारिवारिक रिश्ते टूट गए और उनकी हालात इतने बिगड़ गए हैं कि मैं ही नहीं आत्मनिर्भर तो छोड़िए अबला बन गई है बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ की नारा देने वाली सरकार ने महिलाओं को इतना कमजोर कर दिया इस टाइम पिछले 70 साल के इतिहास में महिलाओं को इतना हताश निराश और कितना मानसिक जवाब का शिकार राजीव दीक्षित मानेगा महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए बहुत से कानून बने और महिलाओं को सशक्तिकरण की तरफ ले जाने पर उन्होंने प्रयास महिला सशक्तिकरण महिला दिवस की बात करने वाली महिलाओं की सुरक्षा आत्म सम्मान स्वाभिमान नक्शा गन्ने में पुरुषों की

bolkar speaker
राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:31
प्रश्न है कि महिला राष्ट्रीय दिवस पर अपने विचार बताएं उनके फ्रेंड महिला राष्ट्रीय दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं और महिलाओं के विकास के लिए महिलाओं के उत्थान के लिए महिलाओं को हर जगह सम्मान मिलना चाहिए उसके लिए हम हमें तत्पर तैयार रहना चाहिए भारतीय संस्कृति की नारी के सम्मान को बहुत महत्व दिया गया है और आज महिलाओं का इतना अच्छा परफॉर्मेंस है ही इतना अच्छा उनकी पार्टी आंखें निकाल रही है यही वजह है कि इसी के उपलक्ष में महिला दिवस मनाया जाता है महिलाओं के विकास पर महिलाओं को जो हक मिलना चाहिए उस के उपलक्ष में जो मनाया जाता है महिला दिवस की ढेर सारी शुभकामनाएं मैं आपको कुछ शब्द बता कहना चाहूंगा कि मैं अंबर हूं मैं अंबर में सिखा रहा हूं मैं ही चांद और तारा हूं मैं धरती में नजारा हूं मैं ही जल की धारा हूं मैं हवा में फिजा मैं ही मौसम का इशारा हूं मैं फूल मैं ही खुशबू हूं मैं जन्नत का मैं जा रहा हूं मैं जन्नत का नजारा हूं

bolkar speaker
राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताएं तो फ्रेंड थी मेरी तरफ से पहले सबको हैप्पी वूमंस डे और राष्ट्रीय महिला दिवस पर मैं यही विचार रखना चाहती हूं कि महिलाओं को परिवार में समाज में हमेशा सम्मान मिलना चाहिए और 1 दिन ही नहीं महिला दिवस के दिन ही नहीं हर दिन उन्हें सम्मान जरूर मिलना चाहिए क्योंकि एक महिला ही घर को घर बनाती है और सारे सुख दुख जलते हुए अपना सारे जो भी जिम्मेदारियां हैं पूरी करती है धन्यवाद

bolkar speaker
राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
3:07
नमस्कार दोस्तों प्रश्न किया कि राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ तो दोस्तों यह राष्ट्रीय महिला दिवस महिलाओं के सम्मान में मनाया जाता है लेकिन हमारे भारत में इसका कोई खास महत्व नहीं है हो सकता है कुछ राजनीतिक गलियारे के लोग वोट बैंक के लिए सरकारी ऐड दे देते हैं या इसके बीच में कोई संगोष्ठी कर लेते हो या बहुत सारे लोग फेसबुक पर इंस्टाग्राम पर या अन्य सोशल साइटों पर महिलाओं के बारे में विचार लिखते हो लेकिन दोस्तों जब तक हमारी मानसिकता में बदलाव नहीं आएगा तब तक महिला दिवस किताबों में ही रह जाएगा चाय राजनीतिक क्षेत्र के लोगों चाय आम जनता हो हमारे सदन में इतने सालों से बहस चल रही है कि महिलाओं की भागीदारी 50% हो लेकिन वही पुरुष समाज है जो महिला दिवस पर संगोष्ठी करता है लेकिन पार्लियामेंट में महिलाओं को आगे बढ़ना नहीं देना चाहता क्योंकि उसकी महत्वाकांक्षा हैं सोचता महिलाएं कैसे आगे निकल जाएं तो जब तक दोस्तों राजनीति में भागीदारी नहीं होगी कानून बनाने में भागीदारी नहीं होगी मुख्य पदों पर महिलाएं आसींद नहीं होगी तब तक भारत में महिलाओं की स्थिति में कोई खास सुधार नहीं होगा क्योंकि जो कानून बनाते हैं महिलाओं के लिए वह भी पुरुष होते हैं पुरुष महिलाओं की समस्याएं पूर्ण रूप से नहीं समझ सकते हैं ना महिलाएं खुलकर बता सकती है और अगर कानून पुरुष बताएं जब बनाता भी है अगर वह एक तरफा कानून बाया स्तोत्र वह अपने बचाव के साधन ढूंढ लेता है तो दोस्तों सबसे अच्छा महिला दिवस मनाने का अगर है कोई औचित्य तो हमें महिलाओं का सम्मान करना चाहिए महिलाओं को वस्तु के रूप में चाहे मीडिया हो चाहे सीरियल शो चाहे मूवीस हूं उनको चित्रण नहीं करना चाहिए ऐसे वह भी एक कहीं ना कहीं गलत दिशा में महिलाओं को पेश करते हैं इस पर सरकार को अंकुश लगाना चाहिए डांस पार्टियां होती है मनोरंजन का साधन बनाया हुआ है महिलाओं को जब तक वह खत्म नहीं होगा तब तक मेरे हिसाब से केवल किताबों में अखबारों में मीडिया में सोशल मीडिया साइट पर महिला दिवस को बहुत अच्छे से मनाया जाएगा लेकिन मानसिक सोच में कोई बदलाव ज्यादा नहीं आएगा धन्यवाद

bolkar speaker
राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
राजेश कृष्ण पारीक Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए राजेश जी का जवाब
सभी को-जय सियाराम
4:19
आपका प्रश्न है कि राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने कुछ विचार तो देखिए कल 8 मार्च था 8 मार्च को राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया भारतीय संस्कृति में नारी के सम्मान को बहुत महत्व दिया गया है संस्कृत के अंदर एक श्लोक है यस्य पूज्यंते नार्यस्तु रमंते तत्र देवता अर्थात जहां नारी की पूजा होती है वहां देवता रमण देवता निवास करते हैं किंतु वर्तमान में जो हालात दिखाई देते हैं उसमें नारी का हर जगह हम देखे तो अपमान होता चला जा रहा है उसे भोग की वस्तु समझकर आदमी अपने तरीके से इस्तेमाल कर रहा है यह बेहद चिंताजनक बात है लेकिन हमारी संस्कृति को बनाए रखते हुए नारी का सम्मान कैसे किया जाए इस पर विचार करना आवश्यक है आज धरती पर सबसे अगर कोई पवित्र रिश्ता है तो वह है मां का माता यानी जननी जो हमें जन्म देती है इस संसार के अंदर लाती है मां को ईश्वर से भी बढ़कर माना गया है क्योंकि ईश्वर की जन्म रात्रि भी नारी ही है ईश्वर भी बिना नारी की अवतार ग्रहण नहीं कर सकता किंतु बदलते समय के हिसाब से अगर देखें तो संतानों ने अपनी मां को महत्व देना कम कर दिया है यह चिंताजनक पहलू है आज का समय देखिए सब धन लिप्सा वह अपने स्वार्थ में डूबते जा रहे हैं परंतु जन्म देने वाली माता के रूप में नारी का सम्मान अनिवार्य रूप से होना चाहिए जो व्रत मानवी कम हो गया है यह सवाल आजकल यक्ष प्रश्न की तरह हूं और पांव पसारता जा रहा है इस बारे में नई पीढ़ी को आत्मा अवलोकन करके सोचना चाहिए या आत्मा ब्रोकन करना चाहिए नारी का सारा जीवन पुरुष के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने में ही बीत जाता है जी के जन्म से लेकर पहले पिता की छत्रछाया में उसका जीवन भी पता है उस कार्यक्रम विवाह तक जारी रहता है वह घर के कामकाज में उस रात में पढ़ाई लिखाई के अंदर पिता के घर पर रहती है उसके बाद उसका विवाह कर दिया जाता है विवाह के बाद भी देखें पति के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलती है नया परिवार नए रिश्ते नई जगह सब कुछ एक तरीके से मानो तो उसका यह नया जन्म होता है पति के साथ कंधे कंधा मिलाकर चलती है उसके बाद संतान को जन्म देना और करना इस प्रकार वह अपने आप को बलिदान कर देती है दूसरों की सेवा में लगा देती है क्योंकि नारी तो ममता का साक्षात रुप है इसलिए उसको समझना चाहिए जहां पर नारी का अपमान होता है वह घर घर नहीं होता इसलिए सभी नारी का सम्मान करें यह तो राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च को मनाया गया राष्ट्रीय महिला दिवस तो रोज बनाया जाना चाहिए 365 दिन 1 वर्ष के अंदर होते हैं तो हम एक ही दिन नारी का क्यों सम्मान करें हम अपने माता है बहन है पत्नी है संकल्प ने हम इनका सम्मान करेंगे तो नारी हर अगर यह संकल्प लें तो पूरा संसार मिनट में सुधर सकता है

bolkar speaker
राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
SONU VERMA Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए SONU जी का जवाब
Student
0:56
जैसे कि आज अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर महिलाओं के विषय में चर्चा होते हैं उनके अधिकारों के बारे में बताया जाता है और उनको कैसे सुरक्षित रखा जाए जिसमें महिला दिवस पर 1 लोगों को सशक्तिकरण के माध्यम से उनके विचारों को व्यक्त किया जाता है राष्ट्रीय महिला दिवस एक महिला की बात नहीं पूरे राष्ट्र की महिला की बात होती है उनके रहन-सहन और उनके रखरखाव के बारे में बताया जाता है कि वह आपके जिंदगी में उनके विचारों को ध्यान में रखते हुए उनकी शिक्षा पर जोर दिया जाता है जिससे कि वे अपने हाथ निर्भय हो सके और वे अपने पैरों पर खड़ी हो सके थैंक यू

bolkar speaker
राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ?Raashtreey Mahila Diwas Par Apne Vichaar Batao
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
1:07
एक ही राष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने विचार बताओ सबसे पहले हैप्पी राष्ट्रीय महिला दिवस की बहुत अच्छा दिवस है सभी लोगों को शुभकामनाएं महिला दिवस की महिलाएं जीवन के बहुत इंपोर्टेंट है कि महिलाएं ना हो तो कोई भी बच्चा पैदा नहीं होगा तो फिर भी महिलाएं लिखने से कुछ नहीं करती महिलाएं एक ऐसी चीज होती है इनको कहते रहे कि ऑफिस वर्क वाली रविवार की छुट्टी पर फ्री में काम कर रही है महिलाएं कितनी सैलरी मिल सकती क्योंकि सामने बहुत सारा काम होता है आपने सुना होगा मैं खेलना है मुझे खेलने का आंसर आंसर सहित माही कैसी चीज है कुछ सैलरी नहीं मिल सकती मुझे बहुत अनमोल चीज है
Ek hee raashtreey mahila divas par apane vichaar batao sabase pahale haippee raashtreey mahila divas kee bahut achchha divas hai sabhee logon ko shubhakaamanaen mahila divas kee mahilaen jeevan ke bahut importent hai ki mahilaen na ho to koee bhee bachcha paida nahin hoga to phir bhee mahilaen likhane se kuchh nahin karatee mahilaen ek aisee cheej hotee hai inako kahate rahe ki ophis vark vaalee ravivaar kee chhuttee par phree mein kaam kar rahee hai mahilaen kitanee sailaree mil sakatee kyonki saamane bahut saara kaam hota hai aapane suna hoga main khelana hai mujhe khelane ka aansar aansar sahit maahee kaisee cheej hai kuchh sailaree nahin mil sakatee mujhe bahut anamol cheej hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • महिला दिवस पर निबंध, राष्ट्रीय महिला दिवस पर विचार व्यक्त करें,
URL copied to clipboard