#पढ़ाई लिखाई

मनोज कुमार यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए मनोज जी का जवाब
कृषक 🌾🌾🌾🌾
1:38
नमस्कार मित्रों कैसे आपका प्रश्न है क्या कोई बता सकते हैं क्यों आज भी हमारे देश में अंग्रेजी को एक भाषा के रूप में ना देकर स्टेट सिंबल के रूप में देखते दिखा जा रहे मित्रों अंग्रेजी भाषा हमारे देश के अंदर दूसरी बात रखी हमारी राष्ट्रभाषा हिंदी है और मुझे लगता है कि अगर अपने ही राष्ट्रभाषा छोड़कर के लोग विदेशी भाषा अपनाने लगे तब समझ लीजिए कि हमारे देश का एक अलग ही व्यवहार और विभाग की ओर जा रहे करके हमारी राष्ट्रीय भाषा को नहीं छोड़ना चाहिए ठीक है आज के डेट में मानते हैं कि बगैर अंग्रेजी का कोई इलाज जुलाई अंग्रेजी नहीं पड़ेगा उसको जीना दुश्वार है लेकिन हमें अपने राष्ट्रभाषा को भी नहीं बोलना चाहिए जिससे हमें जन्म से ही राष्ट्रभाषा का ज्ञात होते हैं हमें उस बात से मैं बहुत सारी ऐसी चीज छिपी है जिससे कि हमें आज भी ज्ञान सभी को नहीं होते और हमें राष्ट्रभाषा से बहुत कुछ सीखना सीखने को मिलता है और दूसरों को भी सिखाते हैं इसलिए करके राष्ट्रभाषा को भी अपने मन में लेना चाहिए अगर चाहे तो यह भी कोई बुरी चीज नहीं है इसे भी हमें दान करना चाहिए क्योंकि आज के डेट में सभी भाषा का थोड़ा-बहुत ज्ञान होना जरूरी होते हैं अन्यथा आप आगे कहीं जाएंगे तो फिर वहां पर आपको दिक्कत होगा धन्यवाद

और जवाब सुनें

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:36
क्या कोई बता सकता है कि आज भी माली देश में घिरी यूपी भाषा की उन्नति का स्टेटस सुंदर के रूप में देखा जाता है देखिए अंग्रेजों के जमाने में अंग्रेजी हमारी स्टेटस सिंबल नहीं होती थी उसमें अंग्रेजी भाषा होती थी और उस भाषा का ज्ञान देना मजे ले जरूरी था कि अंग्रेजों को उनकी भाषा के माध्यम से ही हम सबक सिखा सकें और अंग्रेजों की कमियों को जान सकें और अंग्रेजों को कैसे कंट्रोल किया जा सके यह भी समझ क्योंकि उनकी भाषा की ज्ञान के अभाव में हम उनकी नीतियां जान नहीं जान पाते थे लेकिन अंग्रेजी के ज्ञान से हमें बहुत कुछ उनकी गतिविधियों का आभास हुआ उनकी कमजोरियों से भाजपा यही कारण हमारी क्रांतिकारियों ने आदेश की वीडियो डाउन ने अंग्रेजों के दांत खट्टे कर और अंग्रेजों को जब महसूस हुआ कि उनकी भाषा फुल के लिए भारी पड़ गई है तो अंग्रेजों का अत्याचार पड़ता है और वह भारतीयों के दमन चक्र उन्होंने चुरू क्योंकि अंग्रेजी अंग्रेजों की देन आज 30,000 होने के बाद उचित दमन चक्र को कायम रखने के लिए लोग अंग्रेजी का प्रयोग करते हैं मानसिकता और विलासिता और इंसान की आध्यात्मिकता या इंसान की नैतिकता को भंग करने के लिए अंग्रेजी का ब्रह्मपुत्र छोड़ते हैं जो क्योंकि लोग अंग्रेजी को आज अपना हाई पावर हाई क्वालिटी हाई नॉलेज और स्टेटस सिंबल के रूप में उसको यूज कर उच्च ने आजादी के पहले इंग्लिश सीखना हाथ में थी मजबूरी थी लेकिन आज भारतीयों के लिए इंग्लिश बोलना इंग्लिश गाना इंग्लिश वीडियो अथवा दिखाना उनकी शान

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:23
ताकि क्यों आज भी हमारे देश में अंग्रेजी भाषा के रूप में ना देखा स्टेटस सिंबल के रूप में देखा जाता है इंग्लिश भी बोल दो उसको बहुत स्टैंडर्ड का पता दिया जाता है लोग यह समझती थी आप इंग्लिश बोल रहे थे बहुत बड़ी बात है यह भी कि सुबह आए थे इसलिए वह स्टेटस सिंबल के रूप में देखा जाता है

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत में अंग्रेजी भाषा का स्थान, भारत में अंग्रेजी भाषा का इतिहास, अंग्रेजी के विपक्ष में बहस
URL copied to clipboard