#भारत की राजनीति

Bhavesh Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Bhavesh जी का जवाब
West Bengal India is Great
1:21
हां वैसे किसी क्लियर कंडीशन है कोई भी व्यक्ति का अगर अपना नाम बनाना चाहता था नाम सुधारना चाहता है आदित्य सारे नाम हासिल किया मोदी जी सिर्फ भारत में नहीं क्योंकि भारत में नाम अगर हासिल की है तो वह क्या कर ली है जो भारत से बाहर जो हासिल करते हैं नाम वह ना मिली मान्यता वाला नाम होता है जो मोदी जी ने किया है और काफी पैसे खर्च एक ही बात सच है अब कांग्रेस की राहुल गांधी की मैं बता नहीं सकता हूं कि उसको नाम बिगाड़ने के लिए लोगों ने कितने खर्चे की और कैसे-कैसे किए सचमुच में काफी जगह खर्च किए हैं और नाम रोशन अपना पूरा भारत का हुआ है और हर एक व्यक्ति भारतवासी से मिलना चाहता है हरेक लोगों को ऐसा लगता है कि मुझे एक बार भारत जाना चाहता हूं चाहती हूं एक बार भारत में जा करके देखना चाहती हूं मैं कितना अच्छा भारत के लोग हैं आई लव यू किंग सभी कोई मतलब यह काफी सारे लोग ऐसे बोलते हैं बहुत सारे लोग हैं जो कि प्रॉपर तरीके साहब ऐसा नहीं कि मैं कोई बनावटी बात बोल रहा हूं कि मोदी जी ने जो खरीदने और वह बोल रही है बोल रहा है ऐसा नहीं है यह जर्मन है जो कि लोग वाकई में यह सोचता है और सचमुच में भारत का नाम रोशन मोदी जी ने हमारा किया है पैसे तो खर्च किए हैं यह बात भी हंड्रेड परसेंट शोर है

और जवाब सुनें

Satyam Srivastava Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Satyam जी का जवाब
Faculty for Civil Services Exams (UPSC PCS)
2:58
लिखी बात इसमें किसी व्यक्ति विशेष की नहीं है कि नरेंद्र मोदी जी हां राहुल गांधी जी से हटकर थोड़ा आगे जाकर सोचे कि ब्रांडिंग उसी की की जा सकती है और चॉकलेटी उसी की हो सकती है नियम और सेम उसी को मिल सकता है जिसके अंदर कुछ कुछ खास कुछ विशेष कुछ स्पेसिफिक स्पेशलिटी हो वह नेम फेम और पॉपुलर टीपू नहीं पा सकता जो जो वह जो है उसके अंदर वह सब्सटेंशियल चीज ना हो तो अगर मोदी जो है अगर वह उनका नाम हुआ है या वह फेमस हुए हैं पॉपुलर ट्री हुए हुए हैं कुछ कुछ सब टेंशन था उसमें तो आप ब्रांड कोई भी प्रोडक्ट ले रहे हैं आप खाना प्रोडक्ट से कंपेयर करें खुशी में प्रोडक्ट को ले लिया तो उसकी ब्रांडिंग तभी हो पाती है जब वह कुछ होता है है ना किसी भी कंपनी का प्रोडक्ट ले लीजिए अंबानी अंबानी ने जिओ ऑफर किया तो जिओ में कुछ ऐसी बात थी कुछ ऐसी दम थी जो कि वह आगे बढ़ पाया टाटा के प्रोडक्ट हो या किसी भी चीज का प्रोडक्ट हूं या एजुकेशन प्लेटफार्म पर लेने अनअकैडमी का कोई भी होगा ऐसा तो उसमें कुछ हो है ना अगर कुछ है तभी तो उसकी आप पैकिंग ब्रांडिंग और चमक-दमक उसमें ला सकते हैं अगर उसके अंदर कुछ नहीं है तो लोगों को निराशा होगी लेकिन किसी चीज की में कुछ काबिलियत है कुछ ऐसी हुनर है लीडरशिप स्किल है ऐसी चीजें है तो ऐसी चीजों की ही आप ब्रांडिंग नेम फेम कर सकते हैं तो बीजेपी के पास इस तरह का एक चेहरा था जो लीडरशिप में आगे रह सकता था जो मतलब लोगों तक अपनी बात पहुंचा सकता था जो बॉटम जो ग्रासरूट्स पर हैं जो जमीन पर रहने वाले लोग हैं जो जमीन से जुड़े हुए लोग हैं उन पर उनका को अपनी बात रखें पहुंचा सकता था इस तरह का व्यक्ति जिसको दसियों साल का एक्सपीरियंस रहा हूं करता था और जब कि अब यही कमी रही कांग्रेस पार्टी में उनके पास इस तरह का चेहरा तो तय है उसके पास लेकिन उन्होंने ऐसा कोई चेहरा नहीं सुना जिसकी ब्रांड इन की जा सके मोदी इस तरह के फेस थे जिसे पब्लिक प्लेस बनाया जा सकता था सारे पब्लिक फेस नहीं होते हैं लेकिन अगर कुछ उसने है डिजर्विंग कुछ अपीलिंग कुछ ऐसी खास बात तो तब उसे पब्लिक फेस पब्लिक फिगर बनाया जा सकता है मोदी जी बने पब्लिक फिगर बनाया जा सकता कांग्रेस के पास कई ऐसे चेहरे थे अगर वह उन्हें

lyadav Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lyadav जी का जवाब
Unknown
2:05
सवाल का जवाब देने से पहले मैं एक बात कहना चाहूंगा ना ही मैं किसी की आस्था को ठेस पहुंचाना चाहता हूं और ना ही मैं एक आम भारतीय की तरह गांधी परिवार में से किसी को प्रधानमंत्री बनते देखना चाहता हूं राजनीति का एक उसूल है अगर आप अपना नाम बनाना चाहते हैं तो किसी का नाम आपको बिगाड़ना भी पड़ेगा सबसे पहले हम बीजेपी की विचारधारा के बारे में बात करते हैं जिसके अनुसार सिर्फ एक व्यक्ति का ही नाम का प्रचार होगा और उसी के नाम से सब चुनाव लड़कर जीतेंगे दूसरा आपको प्रचार करने के लिए आपके आय के स्त्रोत क्या है जिसे पार्टी चंदे द्वारा लेती है यह अपने पार्टी के पदों को बेचने के लिए पैसा लेती है अब इन पैसों को किस तरह से खर्च किया जाता है उदाहरण के लिए इवेंट रैली सोशल मीडिया अदर कैंपेन्स स्टार प्रचारकों को पैसा देना उसके अलावा एडवर्टाइजमेंट में जैसे पेपर ऐड वीडियो अदर कंटेंट बनाना जैसे शामिल होते हैं उसके अलावा हम बात करें मुख्य मीडिया की तो वह मोदी जी द्वारा किए जाने वाले छोटे से उद्घाटन को भी अधिक समय और अधिक बाहर दिखाने का प्रयास करती है उसके विपरीत वह विपक्षी पार्टियों को कम कवरेज देती है के अलावा हम ऐसा भी कह सकते हैं सरकार के पास काम तो बहुत है करने के लिए पर वह उन्हीं कामों को करती है और उसी तरीके से करती है जो उनके प्रचारक को फायदा पहुंचा सके सही-सही खर्चा तो वैसे कोई बता नहीं सकता पर इस आधार पर हम कह सकते हैं किसी के नाम के लिए और किसी की बदनामी के लिए हजारों करोड़ों रुपया खर्च किया जा चुका है

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:29
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है क्या मोदी जी के नेता है जिसका नाम बनाने के लिए हजारों करोड़ों का किए गए हैं जबकि राहुल गांधी ऐसे ही रहता है जगह बनाने के लिए करुणा बर्बाद किए गए हैं तो फ्रेंड से ऐसी बात नहीं है किसी भी नेता की छवि उसके काम करने के तरीके से बनती है ना कि पैसे खर्च करने से मोदी जी ने ऐसे काम किए हैं उनकी छवि बनी है और राहुल गांधी जी ने ऐसा कोई काम नहीं किया जिनसे उनके अच्छी छवि बन पाए धन्यवाद

मनीष कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मनीष जी का जवाब
किसान
1:42
मनीष कुमार आपने कुछ है क्या मोदी जी वह नेता है किसका नाम बनाने के लिए हजारों करोड़ों खर्च आएगी जब भी राहुल गांधी के नाम को खराब करने के लिए हजारों करोड़ों खर्च किए गए मेरे को तो ऐसा नहीं लगता सर हजारों करोड़ों रुपए से सब कुछ नहीं होता इंसान की छवि एक ऐसी होती है जिससे वह पॉपुलेशन होती है मोदी जी का नाम है वह इस वजह से वह आज आपने जो बोलने का लिहाजा लोगों से मिलने का सबकुछ उनके हाव-भाव जो जैसा है उसके हिसाब से यह लग रहा है कि मोदी अच्छे नेता है जिसको नाम बनाने के लिए पैसों की जरूरत नहीं पड़ती में गरीब परिवार से थे उनको नाम बनाने में कोई पैसों की जरूरत पड़ी है नहीं थी वह गरीब परिवार से दही चाय बेचने वाले परिवार से थे और उन्होंने अच्छा काम किया और एक गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में उभर कर आए अच्छा काम क्या करूं ने देश की राजनीति के अंदर है देश में प्रधानमंत्री का दर्जा दिया गया उन्हें अच्छा लगा और राहुल गांधी राहुल गांधी जब बोलते हैं तो उनको बोलना उनके भाषण में ऐसे-ऐसे कठिनाई आती है बोलते कुछ है उनके जो राइटर हैं जो उनके भाषण राइट करता है राइटर है वह ऐसे ऐसे शब्द लिखें जिससे राहुल गांधी की खुद की इज्जत खराब होती है वह अपने नुकसान अपने आप खुद कर रहे पैसों से नहीं हुए राजनीतिक परिवार से थे उनके पास अच्छे पैसे थे ₹800000000 थी और वह अपने राजनीतिक परिवार एवं राजनीति के अंदर आए आदरणीय राहुल गांधी जी राजनीति केंद्र अच्छे पढ़े लिखे इंसान तो कोई बिजनेस करते अच्छा रहता हूं उनको लेकिन वह राजनीतिक गांधी परिवार से थे तो वह राजनीतिक परिवारिक कारण अपनी राजनीति के अंदर आए हैं और उनके भाषण जो खुद ही खराब करते हैं ना कि उनके पैसे लगाकर खराब करते हैं यह सब कहने की बातें हैं
Maneesh kumaar aapane kuchh hai kya modee jee vah neta hai kisaka naam banaane ke lie hajaaron karodon kharch aaegee jab bhee raahul gaandhee ke naam ko kharaab karane ke lie hajaaron karodon kharch kie gae mere ko to aisa nahin lagata sar hajaaron karodon rupe se sab kuchh nahin hota insaan kee chhavi ek aisee hotee hai jisase vah populeshan hotee hai modee jee ka naam hai vah is vajah se vah aaj aapane jo bolane ka lihaaja logon se milane ka sabakuchh unake haav-bhaav jo jaisa hai usake hisaab se yah lag raha hai ki modee achchhe neta hai jisako naam banaane ke lie paison kee jaroorat nahin padatee mein gareeb parivaar se the unako naam banaane mein koee paison kee jaroorat padee hai nahin thee vah gareeb parivaar se dahee chaay bechane vaale parivaar se the aur unhonne achchha kaam kiya aur ek gujaraat ke mukhyamantree ke roop mein ubhar kar aae achchha kaam kya karoon ne desh kee raajaneeti ke andar hai desh mein pradhaanamantree ka darja diya gaya unhen achchha laga aur raahul gaandhee raahul gaandhee jab bolate hain to unako bolana unake bhaashan mein aise-aise kathinaee aatee hai bolate kuchh hai unake jo raitar hain jo unake bhaashan rait karata hai raitar hai vah aise aise shabd likhen jisase raahul gaandhee kee khud kee ijjat kharaab hotee hai vah apane nukasaan apane aap khud kar rahe paison se nahin hue raajaneetik parivaar se the unake paas achchhe paise the ₹800000000 thee aur vah apane raajaneetik parivaar evan raajaneeti ke andar aae aadaraneey raahul gaandhee jee raajaneeti kendr achchhe padhe likhe insaan to koee bijanes karate achchha rahata hoon unako lekin vah raajaneetik gaandhee parivaar se the to vah raajaneetik parivaarik kaaran apanee raajaneeti ke andar aae hain aur unake bhaashan jo khud hee kharaab karate hain na ki unake paise lagaakar kharaab karate hain yah sab kahane kee baaten hain

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
5:47
जब मोदी वही नेता है जिनका नाम बनाने के लिए हजारों करोड़ों खर्च किए जबकि राहुल गांधी ही ऐसा नेता जिनका नाम खराब करने में हजारों के सवाल राजनीति प्रेरित दिखाएंगे आपको पता होगा कि 2000 से पहले से पहले जब तक के प्रधानमंत्री के रूप में उनका नाम नहीं मोदी का खिलाया था कोई जानता ही नहीं था हां 11:00 12 साल या 14 साल ही गुजरात के मुख्यमंत्री थे लेकिन उनको गुजरात के मंत्री के रूप में जाना जाता है बहुत सारे लोगों ने विरोध किया था कि भाई नहीं आना चाहिए प्रधानमंत्री मुझे लगता है कि आप लोग राजनीति से प्रेरित होते हैं मैं यह भी नहीं करता अभी बताओ इस समय नरेंद्र मोदी कौन सा गलत काम कर रहे हैं जो अंतरराष्ट्रीय पर भारत की छवि खराब हो रही हो और इनका नाम आगे बढ़ रहा है या कौन है सा है जो सारा पैसा लगा रहा है अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गया राष्ट्रीय स्तर पर मोदी की छवि क्या उसकी मृत्यु नहीं होती है जो उनकी छवि को बिगाड़ने आप सोचो कि पांडिचेरी में बंद आ जाता है यह कहता है कि भारत सरकार के पास तो मत सिखाओ विभाग की नियत मंत्रालय ही नहीं पता ही नहीं है कि मंत्रालय है कि नहीं तो अब उस तरह से वायनाड में जा करके रहता है कि उत्तर भारत के लोगों को राजनीति थी कि नहीं हम बता दीजिए दोस्त हैं कि राहुल गांधी की कॉपी को कौन कौन कर रहा है यार मोदी जी के बेटे को कौन पढ़ा रहा है तो आप लोग ही ऐसे क्वेश्चन ओं को उठाकर लोगों का प्रोग्राम चलाते हैं और मुझे लगता है कि राजनीति से प्रेरित को सुनना हो तो ज्यादा अच्छा नहीं जिसने देश के लिए समाज को हमें राहुल गांधी को बुरा नहीं कह रहा हूं राहुल गांधी को हम दोस्त भी राहुल गांधी जिस तरह का नेतृत्व कर रहे हैं काग्रेस पार्टी लो ठीक है अपनी जगह पर है पंडित नेहरू खानदान को आगे बढ़ा रहे थे लेकिन नरेंद्र मोदी तो एक आम इंसान से होता है जब आर एस एस के कार्यकर्ता के रूप में पाया जिससे उसकी पहचान ही नहीं थी और फिर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनता है फिर अगर के यहां अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत को क्या आपको लगता है कि 2014 से लेकर के 2000 तक भारत की जो इतनी सैलरी इतनी हसीन इतनी तेजी से चल रहा है आपने देखा होगा नॉर्थ फ्रंटियर करोड डोरा और साउथ के स्टार्स कब की प्रक्रिया लेकिन अब इन सरकारों ने शुरू की तो आपको नहीं लगता है जिन शहरों में विकास की कोई उस दिन यार इतनी तेजी से दीक्षित हो रहे हैं ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को पैसे आपको याद करो और 2014 से पहले ही करीबी घरों में गैस सिलेंडर पहुंचा था कहीं भी नहीं था लेकिन आ गया मैं हर घर में देखता हूं सिलेंडर रखते हैं लोग कुछ महिलाएं कर रहे लोगों की झोपड़ियों के बजे छोटे छोटे कमरे में हमने आपको कि इसमें कुछ भारत के लिए काम हो रहा है और हमारे राहुल बाबा जी ग्रेट पर्सनालिटी को आप कह रहे उनकी छवि खराब कर रहे हैं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जाकर के भारत के संविधान के बारे में गलत बयानबाजी करना क्या अच्छा लगता है तो जो अपनी सरकार को नहीं मैं यह नहीं कहता हूं कि बीजेपी की सरकार होती है 100 तक नहीं पहुंचा तुरंत आराम से अपना एक्साइज ड्यूटी खत्म करती तो मेरे भाई ऐसा नहीं है कोई भी किसी की इच्छा भी नहीं खराब था हर बार सोशल मीडिया के ऐसे कीड़े हो गए हैं ऐसे अनाप-शनाप कुछ भी आयोजित करके बैठ दिया जाता है आप लोग सच मान लेते हैं और कानून बन रहा है अगर तक चालू नहीं हुआ तो सोशल मीडिया भारत के हर जाति धर्म को व्यक्त करते हुए भारत के कण-कण में ऐसी विरोधाभास हो जाएगा तो शायद हो सकता है

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:11
हवा में गर्मियों में जल संरक्षण के लिए घरेलू तथा राठौर पाए जाए तो बहुत ज्यादा है घरेलू उपाय घर के अंदर जो प्रार्थना कर सकते हैं नॉर्मल का संरक्षण कर सकते हैं और अपने ही पर के कुछ ओल्ड नोट बनाने की घर के अंदर ही बना सकते हैं इनके द्वारा जल का संरक्षण किया जाता है और राष्ट्रीय सरकार हमारी हम लोग अपने अपने स्तर पर 10 लक्षण के बीच करते हैं हमारा राष्ट्रीय समाज में

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:28
योगेश ने किया है बहुत कारगर होती है और यह ऐसा प्रश्न है जिस वजह से भारतीय जनता पार्टी की असली खुल जाए भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की प्रधानमंत्री की और देश के अंध भक्तों की तकलीफ है इसमें कोई दो राय नहीं मोदी को प्रधानमंत्री ने मोदी को भारतीय जनता पार्टी का आंबेडकर घोषित करने के लिए अंतरराष्ट्रीय नेता घोषित करने के लिए खरबों रुपया खर्च किया गया देश की यात्राओं पर बिना बुलाए मेहमान की सेटिंग में जाकर तेजस्विता को डर लगानी है अनावश्यक रूप से गठन किया गया वहां जाकर अपने आप को बहुत बड़ा भारतीय जनता पार्टी को देश की बहुत बड़ी पार्टी साबित करने के लिए हाथ की मुद्रा को करोड़ों रुपए खर्च करके उनको मिटाने की कोशिश की गई है देश के नेता हैं मोदी नरेंद्र मोदी है तो कोई पार्टी है तो भारतीय जनता पार्टी दूसरा गांधी राहुल गांधी की छवि को सुधारने के लिए भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने डिस्ट्रिक्ट है लेकिन मत भूलिए कि सोना तो नहीं रहता है उस पर ना आप कार्बन कार्बन डाइऑक्साइड गैस कितनी सीट है कि जितना आप उसको उठा देंगे उतना वह उज्जवल होगा वह समय आने वाला है जब भारतीय जनता पार्टी और मोदी जी की आज की मिथुन राशि का लेखा-जोखा यह भारतीय जनता पार्टी में भारतीय जनता मांगे और उस पार्टी को जवाब देना होगा उस दिन का इंतजार किस आंदोलन ने यह साबित कर दिया कि यह सरकार जनता की नहीं है सरकार की ओर तुम लोग

अभिषेक शुक्ला  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए अभिषेक जी का जवाब
Motivational speaker
3:00
कह जाए तो मोदी जो है तो एक नेता है नहीं हमारे देश के प्रधान भी हैं तो उन्हें जो है तो यदि लोगों द्वारा पसंद नहीं किया जाता उनकी छवि अति अच्छी नहीं होती तो वह आज दूसरी बार हमारे देश के प्रधानमंत्री नहीं होते उनकी जगह कोई और होता तो देखिए लोगों की सोच जो है तो वहां तक जाकर क्यों ना रुके कि उनके नाम को बनाने के लिए कितने खर्च की गई इस बात पर निर्भर करें कि उनकी मेहनत कितनी हुए भी हो रही होगी उस समय से जिस तरह से युवा पीढ़ी में रह रहे होंगे समझ लीजिए कि वह अपने तन मन और धन से जो है तो अपने आप को जो है तू ए राजनीति के लिए सौंप चुके थे अपने उस जीवन पर जिस जीवन पर लोग जो है तू युवा पीढ़ी जो है सब अपने युवा वर्ग को जो है तो आनंद में बनाती है लिख उस समय से भेजो है तो भाजपा पार्टी के लिए अपना पूर्णता योगदान दिया उन्होंने जिस वजह से जो है तो आज इस मुकाम तक पहुंच पाए हैं लेकिन सफर किसी का भी आसानी हो तो कह देना बहुत आसान होता है कि उनकी राजनीति देखी आज किसी ने उच्च स्तर पर है और वह आज हमारे देश के प्रधान हैं उनके लिए कुछ मैं कभी गलत सुनता हूं तो थोड़ा सा तकलीफ होता है लेकिन यदि उनकी पिछली जीवन गाथा को यदि आप एक बार पढ़ कर देखेंगे तो आपको भी है वह जरूर प्रतीत होगा कि कोई कैसे अपने पूर्ण जीवन को जो है थे पार्टी को समर्पित कर सकता है तो देखिए आज उसी का फल उन्हें आज मिल रहा है यह कहना गलत बिल्कुल भी नहीं है कि वह देश के प्रधान है और हमें लाल सेवर गर्व है हम गर्व से कहते हैं कि हमें जो है तो ऐसा प्रधानमंत्री मिला जो अपने लिए ना सही अपने देश के लिए सोचता है पहले यदि वे देश के प्रधानमंत्री अच्छे नहीं होते तो आज देश जी जो है जिस गतिविधि पर आज लोग सवाल उठा रहे हैं कि आज महंगाई की दर बढ़ रही है दोस्त लोग दोनों के समय में क्यों ऐसा नहीं हुआ अगर ऐसा हो ना होता तो उस समय ही क्यों नहीं हुआ यह सभी चीजें जरूरी नहीं होती कि उनके हाथ में होती है कुछ चीजें जो है तो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी देखी जाती है और रही बात दूसरे नेता प्रतिपक्ष राहुल गांधी जी के तो देखें एक समय में देखेंगे तो आप यदि दोस्त दूसरों ले लीजिए एक जो है तू जो बंदा जो है या फिर इंसान जो है तो वह मेहनत करके जो है तू मुकाम को हासिल करना लेकिन किसी दूसरी और अगर देखेंगे आप दूसरे नेता प्रतिपक्ष यहां पर जो बात की गई है तो उसे सभी चीजें परोसी गई है पहले से मिल चुकी है कहने के लिए मतलब यह है कि जो परिवारवाद वाली राजनीति होती है जैसे कि दादा परदादा फिर मैं तो सिर्फ का देश की राजनीति जो चलती है दोस्तों को यह पर

Jeet Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Jeet जी का जवाब
Unknown
1:41
आज का सवाल है क्या मोदी की वह नेता है जिसके जिसका नाम बनाने के लिए हजारों करोड़ों खर्च किए गए जबकि राहुल गांधी ऐसे नेता तो इसका मतलब क्या हुआ राहुल गांधी ऐसे नेता डॉट डॉट करके छोड़ देने का क्या मतलब है सबसे बड़ी बात यह है कि इसका जवाब यह है कि सब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आपने लिखित किया है तो नरेंद्र मोदी ने अपने नाम को कमाने के लिए हजारों करोड़ों खर्च नहीं करवाएं या ना किए हैं भारत का नाम ऊंचा करने के लिए जहां भी गए देश की स्थिति को मजबूत बनाने के लिए गए और उस पर जो भी खर्च हुआ वह देश के हित के लिए हुआ इसलिए दोस्तों ऐसा सोचना भी नहीं चाहिए कि मोदी अपने ऊपर खर्च कि हमारे मोदी जी को तो जो भी मिला वह सब ऑप्शन में बेच करके उस देश के हित में लगाए हैं और देश के हित के लिए ही काम कर रहे हैं आज जो हम देख रहे हैं कि भारत से अपना जो रुतबा बनाया है भारत की जो स्थिति जिस अमेरिका जो अमेरिका एक ऐसा देश है जर्मनी एक ऐसा देश है जो भारत को पूछा कि नहीं था आज कंधे से कंधा मिलाकर या बिना भारत की सलाह लिए वह कुछ कर नहीं पा रहा है आज ना कर पाएगा इसलिए दोस्तों हमारे देश के प्रधानमंत्री के ऊपर गर्व है और हमें गर्व करना भी चाहिए धन्यवाद दोस्तों जवाब कैसा लगा लाइक करके बताइए बंद करके बताइए थैंक यू

Siya Ram Dubey Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Siya जी का जवाब
Youtuber, life coach, spiritual thinker, motivational speaker, social media influencer
0:59

Daulat Ram sharma Shastri Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Daulat जी का जवाब
Retrieved sr tea . social activist,
3:46

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard