#जीवन शैली

डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
0:52
एक कबीर का पद आपने पूछा है बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई परिवर्तन किया है आरती यही है विकी पालिका कि अगर मैं बुरा बोलने निकल आई है आज जब मैं बुरा खोजने निकला तो मुझे कोई बुरा भी नहीं मिला और जब मैंने अपने अंतर्मन में तलाश किया लगा आदमी मुझसे बुरा कोई नहीं यह है कि इंसान को दूसरों की बुराई खोजने के बजाय अपने में बुराई खोजने चाहिए सबसे पहले अपनी बुराइयों को दूर करने की कोशिश करना है
Ek kabeer ka pad aapane poochha hai bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo jag dil khoja aapana mujhase bura na koee parivartan kiya hai aaratee yahee hai vikee paalika ki agar main bura bolane nikal aaee hai aaj jab main bura khojane nikala to mujhe koee bura bhee nahin mila aur jab mainne apane antarman mein talaash kiya laga aadamee mujhase bura koee nahin yah hai ki insaan ko doosaron kee buraee khojane ke bajaay apane mein buraee khojane chaahie sabase pahale apanee buraiyon ko door karane kee koshish karana hai

और जवाब सुनें

Vaishnavi Pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Vaishnavi जी का जवाब
Student / Artist
0:43
नमस्कार मेरा नाम है वैष्णवी हर आप मुझे सुन रहे हैं भारत के नंबर एक सवाल जवाब करने वाले आप बोलकर पर सवाल किया है बुरा जो देखन में चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई तो यह कबीर दास जी का दोहा है उसका अर्थ है कि जब मैंने इस संसार में बुरे लोगों को खोजा तुमसे कोई भी बुरा आदमी नहीं मिला लेकिन मैंने अपने अंदर झांका अपनी अंतरात्मा से पूछा और अपनी अंतरात्मा में खोजा तो मुझसे बुरा नहीं कोई इस संसार में तुम मुझे खुद से ज्यादा बुरा इस संसार में कोई और नहीं मिला धन्यवाद
Namaskaar mera naam hai vaishnavee har aap mujhe sun rahe hain bhaarat ke nambar ek savaal javaab karane vaale aap bolakar par savaal kiya hai bura jo dekhan mein chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koee to yah kabeer daas jee ka doha hai usaka arth hai ki jab mainne is sansaar mein bure logon ko khoja tumase koee bhee bura aadamee nahin mila lekin mainne apane andar jhaanka apanee antaraatma se poochha aur apanee antaraatma mein khoja to mujhase bura nahin koee is sansaar mein tum mujhe khud se jyaada bura is sansaar mein koee aur nahin mila dhanyavaad

Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life problems & Solution And terot card Reading counseling DM kare👉 instagram me
1:13
आपका सवाल है बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलया कोई जो जब दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका क्या अर्थ है तो इनका जो आज है बहुत ही अच्छा है इसमें कहते हैं कबीर कि मैं बुरा देखने के लिए बाहर गया अर्थात संसार में में बुराई ढूंढने गए कि आखिर बुराई है कहां मुझे कहीं भी बुराई नजर नहीं आई जैसे ही मैंने अपने अंदर देखा तो सबसे ज्यादा बुरा नहीं था अर्थात मेरे अंदर ही बुराई थी तो हम ढूंढने अगर हम कहीं जा रहे हैं हम बुराई ढूंढने जा रहे हैं इसका मतलब क्या है हमारे अंदर ही वह बुराइयां हैं और इसलिए हम उस चीज को देखना चाहते किसी इंसान में अगर आपको बहुत ज्यादा कमी नजर आ रही है तू कभी उस इंसान में नहीं है कमी हमने है तो इसका अर्थ यही है कि मैं बुरा देखने के लिए चला था संसार में और जब मैंने जग में ढूंढा तो कोई भी बुरा नजर नहीं आया लेकिन जैसे ही मैंने अपने अंदर झांका तो मुझसे ज्यादा बुरा कोई नजर ही नहीं आया इसका अर्थ यह होता है दोस्तों
Aapaka savaal hai bura jo dekhan main chala bura na milaya koee jo jab dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka kya arth hai to inaka jo aaj hai bahut hee achchha hai isamen kahate hain kabeer ki main bura dekhane ke lie baahar gaya arthaat sansaar mein mein buraee dhoondhane gae ki aakhir buraee hai kahaan mujhe kaheen bhee buraee najar nahin aaee jaise hee mainne apane andar dekha to sabase jyaada bura nahin tha arthaat mere andar hee buraee thee to ham dhoondhane agar ham kaheen ja rahe hain ham buraee dhoondhane ja rahe hain isaka matalab kya hai hamaare andar hee vah buraiyaan hain aur isalie ham us cheej ko dekhana chaahate kisee insaan mein agar aapako bahut jyaada kamee najar aa rahee hai too kabhee us insaan mein nahin hai kamee hamane hai to isaka arth yahee hai ki main bura dekhane ke lie chala tha sansaar mein aur jab mainne jag mein dhoondha to koee bhee bura najar nahin aaya lekin jaise hee mainne apane andar jhaanka to mujhase jyaada bura koee najar hee nahin aaya isaka arth yah hota hai doston

NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
3:57
नमस्ते कबीर जी का दोहा है कबीर दास जी का दोहा है बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका मतलब यह है कि मैं दुनिया में बहुत बुरा देखने जाता हूं लेकिन मुझे बुरा कोई नहीं मिलता लेकिन जब मैं अपना दिल खो जाता हूं तो मुझे पता लगता है कि मुझसे ज्यादा बुरा कोई नहीं है यह तो उन्होंने समझाया अब इसका अर्थ यह है कि हम लोगों की बहुत बुराइयां ढूंढते हैं हम लोगों की बुराइयां खोजते हैं लेकिन अगर हम अपने अंदर झांक कर देखेंगे तो हमसे ज्यादा बुरा और कोई नहीं है क्योंकि कहा जाता है ना जिसकी नजरें अच्छी होती है उसे सब अच्छा दिखता है राजद का दिल अच्छा होता है उससे सब अच्छे दिखते हैं अच्छे लगते हैं वही चीज यहां पर ट्रेन की गई है कि जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई मतलब हम सब में तो बहुत बुराई ढूंढ लेते हैं लेकिन यह हमारी बुराई है लोगों में बुराई हो या ना हो लेकिन हमारे दिल में बुराई है तभी हमें लोगों में बुराई नजर आती है ठीक है तो यह इसका सीधा साधा अर्थ है कि आप जैसे रहोगे सब आपको वैसे ही दिखेंगे आप अच्छे रहोगे तो लोग आपको अच्छे दिखेंगे आप बुरे रहोगे तो लोग आपको बुरे देखेंगे तो लोगों की बुराइयां ढूंढने से बैटर होता है कि हम अपने अंदर की बुराई ढूंढने की कोशिश करें ठीक है हम अपने अंदर जो भी बुरा है उसे निकालने की कोशिश करें हम दूसरों को पॉइंट करते हैं उनकी कमियां बताते हैं उन्हें मिसअंडरस्टैंड करते हैं लेकिन हम यह भी तो देखेंगे हम कहां से हैं हमने हमने जो बोला क्या वह सही बोला या हम अपनी जगह पर कितने सटीक है या कितने परफेक्ट है तो बस यही कविता जी ने सेंड किया है कि लोगों की बुराइयां मत ढूंढो अपने अंदर की बुराई को ढूंढ के उसे खत्म करने की कोशिश करो ठीक है बहुत ही ज्ञानवर्धक बातें की है कबीर ने उनके दोनों को आप पढ़ेंगे तो से आपको बहुत सारा और ज्ञान प्राप्त होगा बहुत ही खूबसूरत आपका यह सवाल था कि बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलया कोई मैं बुरा देखने चला तो मुझे कोई बुरा नहीं मिला जब मैं नहीं सोचने की कोशिश की तो मुझे लोगों में बुराई नजर नहीं आई क्योंकि मुझे अगर लोगों की बुराई ढूंढना है तो मुझे बुरा होना पड़ेगा तो बुराई बुरा व्यक्ति ही ढूंढ सकता है अच्छा व्यक्तित्व बुराइयों में भी कोई एक अच्छा देखकर उसका प्रेषित कर सकता है ना गांधी की एक बात है जो मुझे काफी पायर करती है कि लोगों में दर्द बुराई हूं लेकिन अगर एक अच्छाई है तो वह अच्छा ही देखने की नजर आप में होना चाहिए या वह अच्छा ही ढूंढने का होना रात में होना चाहिए बुराई तो इसीलिए दिख जाती है सबको पर अच्छाई देखने की कोशिश कीजिए लोगों को अप्रिशिएट करना सीखे इससे आपके अंदर भी अच्छाई आएगी और यकीन मानिए अगर आप किसी की एक छोटी सी अच्छाई उसको बताएंगे तो वह बहुत खुश होकर आपको चार अच्छी बात बोलते आप भी बहुत अच्छे नहीं आप तो बहुत अच्छे आपने कितने अच्छे से बोला और देखते हैं इसीलिए अपने अंदर की बुराई को देख कर उसे खत्म करने की कोशिश करो ना कि दूसरों में बुराई ढूंढते रहो हो मैसेज टू यू टू यू ऑल द बेस्ट थैंक्यू
Namaste kabeer jee ka doha hai kabeer daas jee ka doha hai bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka matalab yah hai ki main duniya mein bahut bura dekhane jaata hoon lekin mujhe bura koee nahin milata lekin jab main apana dil kho jaata hoon to mujhe pata lagata hai ki mujhase jyaada bura koee nahin hai yah to unhonne samajhaaya ab isaka arth yah hai ki ham logon kee bahut buraiyaan dhoondhate hain ham logon kee buraiyaan khojate hain lekin agar ham apane andar jhaank kar dekhenge to hamase jyaada bura aur koee nahin hai kyonki kaha jaata hai na jisakee najaren achchhee hotee hai use sab achchha dikhata hai raajad ka dil achchha hota hai usase sab achchhe dikhate hain achchhe lagate hain vahee cheej yahaan par tren kee gaee hai ki jo dil khoja aapana mujhase bura na koee matalab ham sab mein to bahut buraee dhoondh lete hain lekin yah hamaaree buraee hai logon mein buraee ho ya na ho lekin hamaare dil mein buraee hai tabhee hamen logon mein buraee najar aatee hai theek hai to yah isaka seedha saadha arth hai ki aap jaise rahoge sab aapako vaise hee dikhenge aap achchhe rahoge to log aapako achchhe dikhenge aap bure rahoge to log aapako bure dekhenge to logon kee buraiyaan dhoondhane se baitar hota hai ki ham apane andar kee buraee dhoondhane kee koshish karen theek hai ham apane andar jo bhee bura hai use nikaalane kee koshish karen ham doosaron ko point karate hain unakee kamiyaan bataate hain unhen misandarastaind karate hain lekin ham yah bhee to dekhenge ham kahaan se hain hamane hamane jo bola kya vah sahee bola ya ham apanee jagah par kitane sateek hai ya kitane paraphekt hai to bas yahee kavita jee ne send kiya hai ki logon kee buraiyaan mat dhoondho apane andar kee buraee ko dhoondh ke use khatm karane kee koshish karo theek hai bahut hee gyaanavardhak baaten kee hai kabeer ne unake donon ko aap padhenge to se aapako bahut saara aur gyaan praapt hoga bahut hee khoobasoorat aapaka yah savaal tha ki bura jo dekhan main chala bura na milaya koee main bura dekhane chala to mujhe koee bura nahin mila jab main nahin sochane kee koshish kee to mujhe logon mein buraee najar nahin aaee kyonki mujhe agar logon kee buraee dhoondhana hai to mujhe bura hona padega to buraee bura vyakti hee dhoondh sakata hai achchha vyaktitv buraiyon mein bhee koee ek achchha dekhakar usaka preshit kar sakata hai na gaandhee kee ek baat hai jo mujhe kaaphee paayar karatee hai ki logon mein dard buraee hoon lekin agar ek achchhaee hai to vah achchha hee dekhane kee najar aap mein hona chaahie ya vah achchha hee dhoondhane ka hona raat mein hona chaahie buraee to iseelie dikh jaatee hai sabako par achchhaee dekhane kee koshish keejie logon ko aprishiet karana seekhe isase aapake andar bhee achchhaee aaegee aur yakeen maanie agar aap kisee kee ek chhotee see achchhaee usako bataenge to vah bahut khush hokar aapako chaar achchhee baat bolate aap bhee bahut achchhe nahin aap to bahut achchhe aapane kitane achchhe se bola aur dekhate hain iseelie apane andar kee buraee ko dekh kar use khatm karane kee koshish karo na ki doosaron mein buraee dhoondhate raho ho maisej too yoo too yoo ol da best thainkyoo

Bhavesh Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Bhavesh जी का जवाब
West Bengal India is Great
0:21
इसका अर्थ यह हुआ कि आप अच्छा काम करो आप किसी का बुरा मत करो अगर सामने वाला उसे बुरा करता था पर नहीं था परंतु अगर वह आपके साथ बुरा करता है तो उसके साथ खुद पर खुद से खुद बुरा होगा आप मत सोचो आप मत करो कि मुझे क्या करना उसके साथ उसके साथ जो करना वह ऊपर वाला देखेगा ऊपर वाला करेगा आप उसका फिक्र ही छोड़ दो
Isaka arth yah hua ki aap achchha kaam karo aap kisee ka bura mat karo agar saamane vaala use bura karata tha par nahin tha parantu agar vah aapake saath bura karata hai to usake saath khud par khud se khud bura hoga aap mat socho aap mat karo ki mujhe kya karana usake saath usake saath jo karana vah oopar vaala dekhega oopar vaala karega aap usaka phikr hee chhod do

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:15
वाले बुरा जो देखन में चला बुरा न मिलया कोई जो जब दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका क्या अर्थ है दोस्तों जैसा कि आपने बताई दिया इस चीज में बसा मित्र व्याख्या करनी होगी कितना सही हो सकता है कितना नहीं यह देखते हैं यदि चला जाता है तो उसे हर चीज बुरी ही दिखे ढूंढने निकल गया तो फिर से कोई बुरा नहीं मिलेगा तो उसे हर कोई अच्छा ही लगेगा क्योंकि वह शाम में अच्छा है आगे आपने लिखा है इसी टाइप में जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई भी आपने जो जग में ढूंढ लिया किसी व्यक्ति हूं पर आप जा रहे हैं किसी व्यक्ति विशेष मिल रहे हैं और बुरा आदमी और घूम रहे हो आप अच्छा तो आप देखेंगे और कहेंगे कि मुझे तो कोई मिला ही नहीं क्योंकि सभी मुझे तो अच्छी लगी और हर कोई अच्छा ही है तो बुरा तो सिर्फ मैं ही हो सकता धन्यवाद
Vaale bura jo dekhan mein chala bura na milaya koee jo jab dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka kya arth hai doston jaisa ki aapane bataee diya is cheej mein basa mitr vyaakhya karanee hogee kitana sahee ho sakata hai kitana nahin yah dekhate hain yadi chala jaata hai to use har cheej buree hee dikhe dhoondhane nikal gaya to phir se koee bura nahin milega to use har koee achchha hee lagega kyonki vah shaam mein achchha hai aage aapane likha hai isee taip mein jo jag dil khoja aapana mujhase bura na koee bhee aapane jo jag mein dhoondh liya kisee vyakti hoon par aap ja rahe hain kisee vyakti vishesh mil rahe hain aur bura aadamee aur ghoom rahe ho aap achchha to aap dekhenge aur kahenge ki mujhe to koee mila hee nahin kyonki sabhee mujhe to achchhee lagee aur har koee achchha hee hai to bura to sirph main hee ho sakata dhanyavaad

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:23
बुरा जो देखन में चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई इस कहावत को कविता जी ने लिखा है उसका मतलब यह होता है कि जो पुरुष न्यायाधीश ने चुना था तुम बुरा कोई नहीं दिख रहा था मुझे मैंने अपने दिल के अंदर जाकर देखा तो मुझे पता चला कि मुझसे बुरा कोई नहीं है
Bura jo dekhan mein chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koee is kahaavat ko kavita jee ne likha hai usaka matalab yah hota hai ki jo purush nyaayaadheesh ne chuna tha tum bura koee nahin dikh raha tha mujhe mainne apane dil ke andar jaakar dekha to mujhe pata chala ki mujhase bura koee nahin hai

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:31
बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना आपना मुझसे बुरा न कोई खट्टा नहीं हुई तो बहुत है लकी भाई जो कहते हैं कि बुरे आंखों के अंदर की बुराइयों को खोजने के लिए निकला और मैं चला सारा की बुराई क्या होती है बुरा बुखार क्या होता है और किस तरह से भी बुरा इंसान क्या होता है यानी कि जो समाज के लिए ऐसी चीजों की तलाशने के लिए मैं संसार में लिखता लेकिन मुझे कोई भी नजर नहीं आया और जब मैं स्थिर होकर बैठ का और सोचने लगा कि भाई कोई बुरा तो नहीं मिला तो मुझे अपने अंदर झांकने का मौका मिला तो मुझे ऐसा लगा कोई नहीं तो कहने का मतलब है कि जो अच्छे इंसान होते हैं उनको हमेशा सभी इच्छाओं लोगों में अच्छे ही दिखती है और जो बुरे होते हैं उनमें बुराई ही दिखती है तो यहां पर जो भी ट्रांसफर इनका रखा हुआ है तो मेरे अनुसार तो यही अर्थ
Bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana aapana mujhase bura na koee khatta nahin huee to bahut hai lakee bhaee jo kahate hain ki bure aankhon ke andar kee buraiyon ko khojane ke lie nikala aur main chala saara kee buraee kya hotee hai bura bukhaar kya hota hai aur kis tarah se bhee bura insaan kya hota hai yaanee ki jo samaaj ke lie aisee cheejon kee talaashane ke lie main sansaar mein likhata lekin mujhe koee bhee najar nahin aaya aur jab main sthir hokar baith ka aur sochane laga ki bhaee koee bura to nahin mila to mujhe apane andar jhaankane ka mauka mila to mujhe aisa laga koee nahin to kahane ka matalab hai ki jo achchhe insaan hote hain unako hamesha sabhee ichchhaon logon mein achchhe hee dikhatee hai aur jo bure hote hain unamen buraee hee dikhatee hai to yahaan par jo bhee traansaphar inaka rakha hua hai to mere anusaar to yahee arth

Nikhil kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Teaching
0:39
आपके का सबसे सटीक मीनिंग गया है जब हम बुराई को ढूंढने के लिए संसार में निकले तो हमें ऐसा लगा कि हम से बुरा इस संसार में कोई नहीं है डेट मींस क्या हो गया की बुराई हर किसी में होती है कोई भी व्यक्ति हाथ नहीं है यानी कि शुद्ध नहीं है हर किसी में किसी न किसी तरह से अब जरूर होता है यानी कि उसके अंदर बुराइयां होती है होती है जिससे वह बुराई किसी भी हद तक की हो मतलब किसी भी लेवल की हो तो उस बुराइयों को हमें जो है कि अपने अंदर की बुराइयों को सबसे पहले खत्म करनी चाहिए तत्पश्चात दूसरे की बुराइयों पर उंगली उठाने चाहिए इस सेंटेंस का सबसे सटीक मीनिंग यही होता है ठीक है
Aapake ka sabase sateek meening gaya hai jab ham buraee ko dhoondhane ke lie sansaar mein nikale to hamen aisa laga ki ham se bura is sansaar mein koee nahin hai det meens kya ho gaya kee buraee har kisee mein hotee hai koee bhee vyakti haath nahin hai yaanee ki shuddh nahin hai har kisee mein kisee na kisee tarah se ab jaroor hota hai yaanee ki usake andar buraiyaan hotee hai hotee hai jisase vah buraee kisee bhee had tak kee ho matalab kisee bhee leval kee ho to us buraiyon ko hamen jo hai ki apane andar kee buraiyon ko sabase pahale khatm karanee chaahie tatpashchaat doosare kee buraiyon par ungalee uthaane chaahie is sentens ka sabase sateek meening yahee hota hai theek hai

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:50
आपने कहा बुरा जो देखन में चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई इसका सीधा चाहते हैं हम संसार में हमेशा दूसरों की बुराइयां खुश हैं बात-बात में दूसरे में कमियां निकालते हैं दूसरे को ही समझते हैं और उसे हम लज्जित करने से भी नहीं चूकते लेकिन सच्चाई है कि हमें ऐसा कोई भी व्यक्ति इस संसार में जब बुरा प्रपोज नहीं निकले तो हमें कोई भी बुरा व्यक्ति इस संसार में नहीं मिला क्यों नहीं मिला क्योंकि जब हमने अपने दिल को खोजा अपने को तलाशा अपने अंदर झांक कर देता अपने आप की पहचान की चमक क्या देखा कि संसार में हमसे ज्यादा घड़ी हमसे ज्यादा बुरा जहां हमसे ज्यादा निम्न स्तरीय लिंग छोटा व्यक्ति कोई है ही नहीं जो भी उच्च का होता है अच्छे इस तरह का होता है उसको कभी भी निम्न स्तर का व्यक्ति नहीं मिलेगा क्योंकि अच्छे व्यक्ति को अच्छे ही व्यक्ति अगर दूसरे की कमी खोजते हैं फिर से पहले अपनी कमी को दिए ताकि आपको समाज में कोई बुरा व्यक्ति ऐसा ना देखे जैसे कि आप बुरा मान सके खुशी संसार में इंसान अपनी कमियों को त्याग देता है और दूसरों की कमियां ढूंढता है बस यही एक विपरीत परंपराएं अपनी कमी खोजने वाली बेटी को कभी भी उसी में प्रेग्नेंट होती है
Aapane kaha bura jo dekhan mein chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka seedha chaahate hain ham sansaar mein hamesha doosaron kee buraiyaan khush hain baat-baat mein doosare mein kamiyaan nikaalate hain doosare ko hee samajhate hain aur use ham lajjit karane se bhee nahin chookate lekin sachchaee hai ki hamen aisa koee bhee vyakti is sansaar mein jab bura prapoj nahin nikale to hamen koee bhee bura vyakti is sansaar mein nahin mila kyon nahin mila kyonki jab hamane apane dil ko khoja apane ko talaasha apane andar jhaank kar deta apane aap kee pahachaan kee chamak kya dekha ki sansaar mein hamase jyaada ghadee hamase jyaada bura jahaan hamase jyaada nimn stareey ling chhota vyakti koee hai hee nahin jo bhee uchch ka hota hai achchhe is tarah ka hota hai usako kabhee bhee nimn star ka vyakti nahin milega kyonki achchhe vyakti ko achchhe hee vyakti agar doosare kee kamee khojate hain phir se pahale apanee kamee ko die taaki aapako samaaj mein koee bura vyakti aisa na dekhe jaise ki aap bura maan sake khushee sansaar mein insaan apanee kamiyon ko tyaag deta hai aur doosaron kee kamiyaan dhoondhata hai bas yahee ek vipareet paramparaen apanee kamee khojane vaalee betee ko kabhee bhee usee mein pregnent hotee hai

Ankit Singh Kshatriya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Unknown
2:59
नमस्कार प्रश्न किया गया है बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलया कोई जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका अर्थ क्या है इसका अर्थ बहुत ही आसान है इंसान के अंदर एक प्रवृत्ति होती है कि लोग दूसरों में बुराई बड़ी जल्दी मिल लेते हैं या ढूंढने की कोशिश करते हैं जबकि अपने अंदर की बुराई को देखना नहीं चाहते हैं या अपने अंदर की बुराई पता होते हुए भी उसे या तो छुपाने की कोशिश करते हैं या उसे नजरअंदाज करते हैं इस दोहे में जो लिखी लिखी गई है बुरा जो देखन मैं चला मतलब जब मैं किसी के अंदर की बुराई को ढूंढने के लिए निकला जब किसी के अंदर छिपी हुई जो नेटिविटी उसको ढूंढने के निकला तो मुझे कोई बुरा नहीं मिला मुझे ऐसा कोई इंसान नहीं मिला जो बुरा क्यों क्योंकि जब मैंने अपने अंदर देखा जब मैंने अपने अंदर के विचारों को शो देखा अपने अंदर की अपने अंदर चल रही मेरे विचार थे उनको जो समझने का प्रयास किया जब अपने भीतर झांककर देखा बाकी सब से बुरा मैं क्यों क्योंकि मैं दूसरों की बुराई ढूंढने का प्रयास कर रहा हूं अपनी बुराई को छुपाने का प्रयास कर रहा हूं अपने बुराई को नजरअंदाज कर रहा हूं अपने बुराई पर पर्दा डाल रहा हूं और दूसरे की बुराई देखा जरूरत है हमें खुद की बुराई को दूर करें जरूरत है मैं खुद अच्छा सोचे खुद किसी का भलाई के बारे में सोचें अपने अंदर जब बात करेंगे तभी हम अपने समाज में अपने पड़ोस में अपने घर में बदलाव कर सकते हैं हमें किसी के अंदर की बुराई ढूंढने का अधिकार तब तक नहीं है जब तक हम खुद अपने अंदर की बुराई को दूर नहीं कर पाते हैं जब अपने अंदर बुराई को ठीक कर लेते हैं हम किसी को ताला ले सकते हैं किसी की बुराई को दूर करने की बात कह सकते हैं तो पहले अपने अंदर की बुराई को दूर करें फिर दूसरे दूसरे के अंदर बुराई ढूंढने का प्रयास ना करें पहले अपने अंदर की बुराई को देखकर उसे दूर करने का प्रयास करें क्योंकि जवाब दूसरे की बुराई देखने का प्रयास करते हैं तो आपको हर किसी में कोई मिल जाएगी लेकिन आप अपने
Namaskaar prashn kiya gaya hai bura jo dekhan main chala bura na milaya koee jo jag dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka arth kya hai isaka arth bahut hee aasaan hai insaan ke andar ek pravrtti hotee hai ki log doosaron mein buraee badee jaldee mil lete hain ya dhoondhane kee koshish karate hain jabaki apane andar kee buraee ko dekhana nahin chaahate hain ya apane andar kee buraee pata hote hue bhee use ya to chhupaane kee koshish karate hain ya use najarandaaj karate hain is dohe mein jo likhee likhee gaee hai bura jo dekhan main chala matalab jab main kisee ke andar kee buraee ko dhoondhane ke lie nikala jab kisee ke andar chhipee huee jo netivitee usako dhoondhane ke nikala to mujhe koee bura nahin mila mujhe aisa koee insaan nahin mila jo bura kyon kyonki jab mainne apane andar dekha jab mainne apane andar ke vichaaron ko sho dekha apane andar kee apane andar chal rahee mere vichaar the unako jo samajhane ka prayaas kiya jab apane bheetar jhaankakar dekha baakee sab se bura main kyon kyonki main doosaron kee buraee dhoondhane ka prayaas kar raha hoon apanee buraee ko chhupaane ka prayaas kar raha hoon apane buraee ko najarandaaj kar raha hoon apane buraee par parda daal raha hoon aur doosare kee buraee dekha jaroorat hai hamen khud kee buraee ko door karen jaroorat hai main khud achchha soche khud kisee ka bhalaee ke baare mein sochen apane andar jab baat karenge tabhee ham apane samaaj mein apane pados mein apane ghar mein badalaav kar sakate hain hamen kisee ke andar kee buraee dhoondhane ka adhikaar tab tak nahin hai jab tak ham khud apane andar kee buraee ko door nahin kar paate hain jab apane andar buraee ko theek kar lete hain ham kisee ko taala le sakate hain kisee kee buraee ko door karane kee baat kah sakate hain to pahale apane andar kee buraee ko door karen phir doosare doosare ke andar buraee dhoondhane ka prayaas na karen pahale apane andar kee buraee ko dekhakar use door karane ka prayaas karen kyonki javaab doosare kee buraee dekhane ka prayaas karate hain to aapako har kisee mein koee mil jaegee lekin aap apane

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:45
कबीर दास का बड़ा चर्च इन दोहा यह भी है कि बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका मतलब निकलता है और इसका अर्थ जो है कि हम क्या किए कि जब बुराइयां ढूंढने गए हम गलतियां ढूंढने गए हम दूसरे लोगों में ढूंढ गलतियों को ढूंढ रहे थे लेकिन गलतियां जो थी वह मिली नहीं वहां पर जाने के बाद मुझे कुछ अलग एहसास हुआ लेकिन जब ऐसा महसूस हुआ कि वह चीज अपने अंदर खो जाएगा कि मुझ में कितनी बुराइयां लोगों में तो मैंने देख लिया दिखा जा तो मैं कैसा हूं तुझे वह अपनी खुद अंदर की भावनाओं से जब खुद को देखा तो उसने कहा कि यार मैं तो उनसे भी बहुत ज्यादा बुरा हूं मतलब मेरा ही मतलब उनसे भी बहुत ज्यादा खराब स्थिति है मैं दूसरों में झूठी ढूंढने गया बताओ कहा जाता है कि हम अपनी बुराइयों को दूसरे में ढूंढने की कोशिश करते हैं हम उनकी बुराइयों को प्रत्यक्ष रूप से दिखाने की कोशिश करते हैं बताने की कोशिश करते हैं लेकिन मैं अपने बारे में खुद नहीं जानते हैं कि हां खुद कैसे हैं क्या आप की भावना है क्या आपके अंदर विचार है लोगों के प्रति खुद डिसाइड करें तो हमें लगता है कि हम से बुरा कोई नहीं है और चीज हर एक इंसान को समझना चाहिए इसी यही सीख मिलती है कि हमें खुद को अच्छा करना चाहिए दूसरे की अपेक्षा खुद को ऐसा निष्पक्ष बनाना चाहिए कि हम लोगों के जवान पिया लोगों की मोटिवेशन बन सके तभी हम एक दूसरे में बुराई को झांक सकती दूसरे की बुराई को खत्म कर सकते हैं
Kabeer daas ka bada charch in doha yah bhee hai ki bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka matalab nikalata hai aur isaka arth jo hai ki ham kya kie ki jab buraiyaan dhoondhane gae ham galatiyaan dhoondhane gae ham doosare logon mein dhoondh galatiyon ko dhoondh rahe the lekin galatiyaan jo thee vah milee nahin vahaan par jaane ke baad mujhe kuchh alag ehasaas hua lekin jab aisa mahasoos hua ki vah cheej apane andar kho jaega ki mujh mein kitanee buraiyaan logon mein to mainne dekh liya dikha ja to main kaisa hoon tujhe vah apanee khud andar kee bhaavanaon se jab khud ko dekha to usane kaha ki yaar main to unase bhee bahut jyaada bura hoon matalab mera hee matalab unase bhee bahut jyaada kharaab sthiti hai main doosaron mein jhoothee dhoondhane gaya batao kaha jaata hai ki ham apanee buraiyon ko doosare mein dhoondhane kee koshish karate hain ham unakee buraiyon ko pratyaksh roop se dikhaane kee koshish karate hain bataane kee koshish karate hain lekin main apane baare mein khud nahin jaanate hain ki haan khud kaise hain kya aap kee bhaavana hai kya aapake andar vichaar hai logon ke prati khud disaid karen to hamen lagata hai ki ham se bura koee nahin hai aur cheej har ek insaan ko samajhana chaahie isee yahee seekh milatee hai ki hamen khud ko achchha karana chaahie doosare kee apeksha khud ko aisa nishpaksh banaana chaahie ki ham logon ke javaan piya logon kee motiveshan ban sake tabhee ham ek doosare mein buraee ko jhaank sakatee doosare kee buraee ko khatm kar sakate hain

shekhar vishwakarma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shekhar जी का जवाब
Academic Content developer at ConnectEd
1:31
बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई यह दोहा मध्य काल से ही बहुत फेमस है बहुत प्रसिद्ध है बाकी काम में बहुत सारे राइडर्स हुए जिन्होंने दोहे लिखे कबीर दास जी यह तो होते हैं कबीर दास जी आप माहौल लोकन की बात करते हैं सेल्फ इवोल्यूशन के बाद करते हैं इवैल्यूएशन की बात करते हैं अभी दास जी कहते हैं कि बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोई मतलब जब मैं लोगों में बुराइयां ढूंढने के लिए बाहर चलता हूं जाता हूं तो मुझे कोई भी वक्त नहीं मिलता है मैं मैं सबसे अच्छे से बात करता हूं तो सारे लोग मुझसे अच्छे से बात करते हैं ठीक है लेकिन जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई तो जब कबीर दास जी खुद को खुद के अंदर देखते हैं झांके देखते हैं तो वह कहते हैं कि मैं ही बुरा हूं सबके लिए मेरा बिहेवियर सकते मांगी जब मैं किसी से अच्छा बर्ताव करूंगा तो वह भी मुझसे अच्छा बर्ताव करेगा अगर मैं किसी के साथ बुरा बर्ताव कर मत हो कि मुझसे बुरा बर्ताव पड़ेगा
Bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo jag dil khoja aapana mujhase bura na koee yah doha madhy kaal se hee bahut phemas hai bahut prasiddh hai baakee kaam mein bahut saare raidars hue jinhonne dohe likhe kabeer daas jee yah to hote hain kabeer daas jee aap maahaul lokan kee baat karate hain selph ivolyooshan ke baad karate hain ivailyooeshan kee baat karate hain abhee daas jee kahate hain ki bura jo dekhan main chala bura na miliya koee matalab jab main logon mein buraiyaan dhoondhane ke lie baahar chalata hoon jaata hoon to mujhe koee bhee vakt nahin milata hai main main sabase achchhe se baat karata hoon to saare log mujhase achchhe se baat karate hain theek hai lekin jo jag dil khoja aapana mujhase bura na koee to jab kabeer daas jee khud ko khud ke andar dekhate hain jhaanke dekhate hain to vah kahate hain ki main hee bura hoon sabake lie mera biheviyar sakate maangee jab main kisee se achchha bartaav karoonga to vah bhee mujhase achchha bartaav karega agar main kisee ke saath bura bartaav kar mat ho ki mujhase bura bartaav padega

Chandan Kumar bharati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chandan जी का जवाब
Teacher
1:02
बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलया कोई जो जब दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई हो इसका क्या अर्थ हुआ इसका वक्त होता है कि बुरा तो हमसे इतनी बुराई सब ने निकाले थे लेकिन अपने में कितना बुराई है हम देख नहीं पाते इस कविता से इस वजह से हमें यह शिक्षा मिलती है पहले अपने अंदर झांक कर देखना चाहिए कि मीनिंग कितनी जो इंसान अपने अंदर झांक कर देखें लगता है उसको कितना भी बुरा या वह आगे भविष्य में जाकर बहुत ही अच्छा जी और महान बनता इसलिए अपने अंदर की बुराइयों को पहले जगाना चाहिए और इसमें से देखना चाहिए कि मेरे अंदर की बुराइयों में कौन गलत है और कौन सही है इस कविता से इस कोई आपसे हमें यही मिलता
Bura jo dekhan main chala bura na milaya koee jo jab dil khoja aapana mujhase bura na koee ho isaka kya arth hua isaka vakt hota hai ki bura to hamase itanee buraee sab ne nikaale the lekin apane mein kitana buraee hai ham dekh nahin paate is kavita se is vajah se hamen yah shiksha milatee hai pahale apane andar jhaank kar dekhana chaahie ki meening kitanee jo insaan apane andar jhaank kar dekhen lagata hai usako kitana bhee bura ya vah aage bhavishy mein jaakar bahut hee achchha jee aur mahaan banata isalie apane andar kee buraiyon ko pahale jagaana chaahie aur isamen se dekhana chaahie ki mere andar kee buraiyon mein kaun galat hai aur kaun sahee hai is kavita se is koee aapase hamen yahee milata

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:19
नमस्कार दोस्तों प्रश्न किया गया एक दोहा है बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई तो दोस्तों इसका अर्थ इससे ही दोहे नहीं साफ-साफ छुपा हुआ है यानी कोई व्यक्ति बुरा ढूंढने को चला किसी को बुरा ही किसी में ढूंढने के लिए देखने के लिए निकला तो से कोई बुरा व्यक्ति नहीं मिला और जब उसने दिल से किसी बुरे रखती को या किसी की बुराई देखने को कहीं भ्रमण किया उसने देखने की कोशिश की तो उसे पता चला कि मुझसे बुरा तो कोई है ही नहीं जाने कि हमें दूसरों में दोष होने से ज्यादा अच्छा है कि स्वयं अपने में जो हमारे यहां खामियां हैं जो हमारे में गलत चीजें हैं उसको हम दूर करें खोज किस को समाप्त करें उसमें सुधार करें तो इसी तर्ज पर दोहा बना हुआ है कि हम लोग क्या करते हैं दूसरे में पूरा ही खोजते रहते हैं यह नहीं है वह नहीं है और अपने बारे में हम जानने की या सुनने की शक्ति नहीं रखते हैं तो उसको करना है इसके अंदर धन्यवाद
Namaskaar doston prashn kiya gaya ek doha hai bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo jag dil khoja aapana mujhase bura na koee to doston isaka arth isase hee dohe nahin saaph-saaph chhupa hua hai yaanee koee vyakti bura dhoondhane ko chala kisee ko bura hee kisee mein dhoondhane ke lie dekhane ke lie nikala to se koee bura vyakti nahin mila aur jab usane dil se kisee bure rakhatee ko ya kisee kee buraee dekhane ko kaheen bhraman kiya usane dekhane kee koshish kee to use pata chala ki mujhase bura to koee hai hee nahin jaane ki hamen doosaron mein dosh hone se jyaada achchha hai ki svayan apane mein jo hamaare yahaan khaamiyaan hain jo hamaare mein galat cheejen hain usako ham door karen khoj kis ko samaapt karen usamen sudhaar karen to isee tarj par doha bana hua hai ki ham log kya karate hain doosare mein poora hee khojate rahate hain yah nahin hai vah nahin hai aur apane baare mein ham jaanane kee ya sunane kee shakti nahin rakhate hain to usako karana hai isake andar dhanyavaad

Shivangi Dixit.  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Shivangi जी का जवाब
Unknown
0:18
महान कवि कबीर दास जी के दोहे का अर्थ यह काम है जो दुनिया में बुरे लोगों को खोजने के लिए निकला तो मुझे कोई बुरा मिला ही नहीं पर तूने मुझे खुद अपने अंदर झांक का तुम मुझे अपने से ज्यादा बुरा कोई दिखाइए उनका वापस चाहिए जब आप पसंद हो तो लाइक करें
Mahaan kavi kabeer daas jee ke dohe ka arth yah kaam hai jo duniya mein bure logon ko khojane ke lie nikala to mujhe koee bura mila hee nahin par toone mujhe khud apane andar jhaank ka tum mujhe apane se jyaada bura koee dikhaie unaka vaapas chaahie jab aap pasand ho to laik karen

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
4:53
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई इसका क्या अर्थ हुआ दिखे फ्रेंड कबीर दास जी के दोहे के रचयिता हैं और वह कबीरदास जी कहते हैं कि मैं सारा जीवन दूसरों की बुराइयां देखने में लगा रहा लेकिन जब मैंने खुद को अपने मन में झांक कर देखा तो पाया कि मुझसे बुरा कोई इंसान नहीं है यानी कि कबीर दास जी के कहने का तात्पर्य है फ्रेंड के असर सभी लोग देखते हैं कि लोगों की बुराइयां ही करते रहते हैं लोगों में कमियां ही निकालते रहते हैं कि वह लड़का ऐसा है वह लड़की ऐसा है वह इंसान बहुत ही निकलना है बहुत ही निखट्टू है बहुत ही यानी कि तमाम प्रकार के उसमें जो है दूसरों में लोग कमियां निकालते रहते हैं तो कबीर दास जी इस दोहे के माध्यम से हम सभी को यह बताना चाहते हैं कि जब भी हम किसी दूसरे की बुराइयां देखने का प्रयास करें इस सामने वाला बुरा आदमी है या सामने वाले में उस तरह की बुराइयां है तो उससे पहले अपने मन के अंदर देखना पड़ता है अपने अंदर देखिए कि हम उस कैटेगरी में है या फिर नहीं है कई बार क्या होता है फ्रेंड लोग बुरे होते हैं लेकिन सामने वाले को बुराई का उपदेश देते रहते हैं जो कि गलत बात है जैसे कि हम मान लीजिए बुरे हैं लेकिन हम किसी को बताए कि भैया बुराई करना जो है वह भरी बात है तो यह गलत बात हुआ है यही कहना चाहते हैं कबीर दास जी अगर किसी के प्रति हमारी बुराई देखनी है या फिर बुरा करनी है उसके पहले अपने आप को देखिए आप क्या है आप में वह बुराई है या फिर नहीं है और सबसे बड़ी बात है फ्रेंड किसी की बुराई करनी ही नहीं चाहिए उन्होंने यह बात जो है कही है किसी की बुराई करनी ही नहीं चाहिए और अगर कर रहे हैं भूले भटके यह देख लीजिए कि वह चीजें अपने अंदर है या फिर नहीं है दूसरों की बुराई करने से पहले अपने मन को अपनी अंतरात्मा को शुद्ध करने जांच लें कि क्या हम जो है दूसरे की बुराई करने लायक हैं क्या हम उस कैटेगरी में आते हैं फ्रेंड इससे और भी सरल भाषा में आपको यह जवाब दे दूं कबीरदास जी यही कहना चाहते हैं उसे इसका तात्पर्य ही है कि अगर हम किसी दूसरे की बुराई देखना चाहते हैं दूसरे में बताते हैं कि फला लड़का जो है बुरा है काला लड़का में जो है इस तरह की बुराइयां है वह सिगरेट पीता है तूफान करता है लड़की चलता है मारपीट करता है इससे कोई बात हो सकती है फिर और लड़की के ऊपर भी लोगों ने उंगली उठाते हैं कि पहले लड़की जो है उसका कैरेक्टर बहुत ही बेकार है ठीक है फिर यह बात दोनों मिलाकर होती है चाहे वह स्त्री हो या पुरुष कबीरदास जी कहते हैं अगर कोई लड़की के प्रति यह भावना रखता है कि उस लड़की की जो है कैरेक्टर बेकार है उस लड़की का करैक्टर खराब है तो कबीर दास जी का कहना बस यही है उस लड़की के कैरेक्टर पर उंगली उठाने से पहले पहले अपनी कैरेक्टर पर ध्यान दें आप कैसे सीधी सी भाषा में फ्रेंड छोटा सा भावार्थ है आपसे आशा है कि आप सब यह समझ गए होंगे कि कबीर दास जी आखिर कहना क्या चाहते हो तो यही चाहते हैं बस कि किसी दूसरे को बुरा कहने से पहले अपने आप को परख लीजिए क्या आप उस काबिल है अगर आप जो है अच्छा है वास्तव में अच्छा है क्या कि जीन मांगे फ्रेंड किसी को बुरा भला आप कहेंगी ही नहीं हालांकि आप अगर अच्छे हैं तो आप का फूल दायित्व बनता है यह आपका हक है कि आप दूसरों को बताएं कि आप गलत हो लेकिन आपने ऐसा देखा होगा कि जो एक्चुअल में फ्रेंड अच्छी हो इंसान होते हैं जो दूर दूर तक कहीं किसी बुराइयों से उनका नाता नहीं रहता वह जल्दी किसी से किसी भी बात की जो है इशारा नहीं करते कि आप गलत हैं या फिर क्या है तो यही कहना चाहते हैं कि अगर आप दूसरों में बुराइयां देखना चाहते हैं तो उसे पहले खुद को जाकर खुद में देखें तो आजा फ्रेंड की आप सभी को जवाब पसंद आया होगा नमस्कार
Helo phrend namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka kya arth hua dikhe phrend kabeer daas jee ke dohe ke rachayita hain aur vah kabeeradaas jee kahate hain ki main saara jeevan doosaron kee buraiyaan dekhane mein laga raha lekin jab mainne khud ko apane man mein jhaank kar dekha to paaya ki mujhase bura koee insaan nahin hai yaanee ki kabeer daas jee ke kahane ka taatpary hai phrend ke asar sabhee log dekhate hain ki logon kee buraiyaan hee karate rahate hain logon mein kamiyaan hee nikaalate rahate hain ki vah ladaka aisa hai vah ladakee aisa hai vah insaan bahut hee nikalana hai bahut hee nikhattoo hai bahut hee yaanee ki tamaam prakaar ke usamen jo hai doosaron mein log kamiyaan nikaalate rahate hain to kabeer daas jee is dohe ke maadhyam se ham sabhee ko yah bataana chaahate hain ki jab bhee ham kisee doosare kee buraiyaan dekhane ka prayaas karen is saamane vaala bura aadamee hai ya saamane vaale mein us tarah kee buraiyaan hai to usase pahale apane man ke andar dekhana padata hai apane andar dekhie ki ham us kaitegaree mein hai ya phir nahin hai kaee baar kya hota hai phrend log bure hote hain lekin saamane vaale ko buraee ka upadesh dete rahate hain jo ki galat baat hai jaise ki ham maan leejie bure hain lekin ham kisee ko batae ki bhaiya buraee karana jo hai vah bharee baat hai to yah galat baat hua hai yahee kahana chaahate hain kabeer daas jee agar kisee ke prati hamaaree buraee dekhanee hai ya phir bura karanee hai usake pahale apane aap ko dekhie aap kya hai aap mein vah buraee hai ya phir nahin hai aur sabase badee baat hai phrend kisee kee buraee karanee hee nahin chaahie unhonne yah baat jo hai kahee hai kisee kee buraee karanee hee nahin chaahie aur agar kar rahe hain bhoole bhatake yah dekh leejie ki vah cheejen apane andar hai ya phir nahin hai doosaron kee buraee karane se pahale apane man ko apanee antaraatma ko shuddh karane jaanch len ki kya ham jo hai doosare kee buraee karane laayak hain kya ham us kaitegaree mein aate hain phrend isase aur bhee saral bhaasha mein aapako yah javaab de doon kabeeradaas jee yahee kahana chaahate hain use isaka taatpary hee hai ki agar ham kisee doosare kee buraee dekhana chaahate hain doosare mein bataate hain ki phala ladaka jo hai bura hai kaala ladaka mein jo hai is tarah kee buraiyaan hai vah sigaret peeta hai toophaan karata hai ladakee chalata hai maarapeet karata hai isase koee baat ho sakatee hai phir aur ladakee ke oopar bhee logon ne ungalee uthaate hain ki pahale ladakee jo hai usaka kairektar bahut hee bekaar hai theek hai phir yah baat donon milaakar hotee hai chaahe vah stree ho ya purush kabeeradaas jee kahate hain agar koee ladakee ke prati yah bhaavana rakhata hai ki us ladakee kee jo hai kairektar bekaar hai us ladakee ka karaiktar kharaab hai to kabeer daas jee ka kahana bas yahee hai us ladakee ke kairektar par ungalee uthaane se pahale pahale apanee kairektar par dhyaan den aap kaise seedhee see bhaasha mein phrend chhota sa bhaavaarth hai aapase aasha hai ki aap sab yah samajh gae honge ki kabeer daas jee aakhir kahana kya chaahate ho to yahee chaahate hain bas ki kisee doosare ko bura kahane se pahale apane aap ko parakh leejie kya aap us kaabil hai agar aap jo hai achchha hai vaastav mein achchha hai kya ki jeen maange phrend kisee ko bura bhala aap kahengee hee nahin haalaanki aap agar achchhe hain to aap ka phool daayitv banata hai yah aapaka hak hai ki aap doosaron ko bataen ki aap galat ho lekin aapane aisa dekha hoga ki jo ekchual mein phrend achchhee ho insaan hote hain jo door door tak kaheen kisee buraiyon se unaka naata nahin rahata vah jaldee kisee se kisee bhee baat kee jo hai ishaara nahin karate ki aap galat hain ya phir kya hai to yahee kahana chaahate hain ki agar aap doosaron mein buraiyaan dekhana chaahate hain to use pahale khud ko jaakar khud mein dekhen to aaja phrend kee aap sabhee ko javaab pasand aaya hoga namaskaar

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:32
स्वागत है आपका कभी बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका क्या अर्थ हुआ क्या अर्थ होता है कि लोग दुनिया में बुरा को खोजते रहते हैं और अपने अंदर नहीं देखते कि हमारे अंदर क्या कमियां हैं तो सबसे पहले हमें अपने अंदर की कमियों को देखना चाहिए फिर बाद में दूसरों की कमियां देखना चाहिए लोग दोषी कमियां गिनाते रहते हैं पर अपने अंदर अपनी कमियों को नहीं देखते हैं यह इसका मतलब है धन्यवाद
Svaagat hai aapaka kabhee bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo jag dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka kya arth hua kya arth hota hai ki log duniya mein bura ko khojate rahate hain aur apane andar nahin dekhate ki hamaare andar kya kamiyaan hain to sabase pahale hamen apane andar kee kamiyon ko dekhana chaahie phir baad mein doosaron kee kamiyaan dekhana chaahie log doshee kamiyaan ginaate rahate hain par apane andar apanee kamiyon ko nahin dekhate hain yah isaka matalab hai dhanyavaad

Saloni vishwkarma   Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Saloni जी का जवाब
Unknown
0:49
बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका अर्थ है और आप जाना चाहते हैं तो इस अर्थ में यह पहली कविता जी कहां तू कविता है इसमें कहे कबीर दास जी की दुनिया में लोग दूसरों का मतलब बुराई देखने चला था उनकी बुराइयां खोजने निकला लेकिन मुझे कोई बुराई नहीं मिली लेकिन जब खुद की मन में जाकर देखा तो पता चला कि मुझसे कोई बुरा है हमें दूसरों की बुराइयां खोजने वाला सबसे गलत होता है कि हमें किसी में भी अच्छाइयां खुशी चाहिए तो उनकी अच्छाइयां लेनी चाहिए उसकी बुराइयां नहीं लेनी चाहिए तो उनकी बुराइयां लेना चाहता है फिर उसी से की बुराइयों को इतना ही बुरा वही होता है
Bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka arth hai aur aap jaana chaahate hain to is arth mein yah pahalee kavita jee kahaan too kavita hai isamen kahe kabeer daas jee kee duniya mein log doosaron ka matalab buraee dekhane chala tha unakee buraiyaan khojane nikala lekin mujhe koee buraee nahin milee lekin jab khud kee man mein jaakar dekha to pata chala ki mujhase koee bura hai hamen doosaron kee buraiyaan khojane vaala sabase galat hota hai ki hamen kisee mein bhee achchhaiyaan khushee chaahie to unakee achchhaiyaan lenee chaahie usakee buraiyaan nahin lenee chaahie to unakee buraiyaan lena chaahata hai phir usee se kee buraiyon ko itana hee bura vahee hota hai

Shyam sundar Nai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Shyam जी का जवाब
नोकरी
0:26
नमस्कार बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोय कबीर की वाणी कबीर के अनुसार जब जगत में बुरे व्यक्ति को खोजने के लिए तो उन्हें कुछ ज्यादा बुरा कोई नहीं मिला इसका मतलब यह है कि व्यक्ति जब खुद की बुराइयां देखते तो उसकी बहुत सारी बुराई होती है दूसरों की अपेक्षा खुद की बुराइयों को दूर करने की कोशिश करनी चाहिए धन्यवाद
Namaskaar bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na koy kabeer kee vaanee kabeer ke anusaar jab jagat mein bure vyakti ko khojane ke lie to unhen kuchh jyaada bura koee nahin mila isaka matalab yah hai ki vyakti jab khud kee buraiyaan dekhate to usakee bahut saaree buraee hotee hai doosaron kee apeksha khud kee buraiyon ko door karane kee koshish karanee chaahie dhanyavaad

सचिन पाठक Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए सचिन जी का जवाब
Unknown
0:59
नमस्कार मित्रों मैं सचिन पाठक फिर से उपस्थित हूं आपके समक्ष अपने प्रश्न के उत्तर के साथ जैसा कि आपका प्रश्न है कि बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपसे बुरा न कोई आपका दुआ है यह आपका हिंदी का एक दुआ है जिसे कबीरदास नहीं उसको रचित किया है तो एक दोहा में कबीर दास जी बोलते हैं कि जब वह पूरे संसार में जब कभी वन निकलते हैं वह बुराई ढूंढने के लिए निकल रहे होते हैं ठीक है लेकिन मुझे पूरा संसार देख लेते हैं तो उन्हें भी संसार में कोई भी बुरा व्यक्ति नहीं मिलता है वो बुराई करता हूं ठीक है लेकिन जब वह अपने मन के अंदर अपने दिल के अंदर झांक कर देखते हैं तो उन्हें यह पता लगता है कि जो इस संसार में सबसे ज्यादा बुरा ही आपकी खुद में है ठीक है यानी संसार में कोई सबसे बुरा व्यक्ति है तो वह आप स्वयं है तो इस दोहे का अर्थ यही है धन्यवाद
Namaskaar mitron main sachin paathak phir se upasthit hoon aapake samaksh apane prashn ke uttar ke saath jaisa ki aapaka prashn hai ki bura jo dekhan main chala bura na miliya koy jo jag dil khoja aapase bura na koee aapaka dua hai yah aapaka hindee ka ek dua hai jise kabeeradaas nahin usako rachit kiya hai to ek doha mein kabeer daas jee bolate hain ki jab vah poore sansaar mein jab kabhee van nikalate hain vah buraee dhoondhane ke lie nikal rahe hote hain theek hai lekin mujhe poora sansaar dekh lete hain to unhen bhee sansaar mein koee bhee bura vyakti nahin milata hai vo buraee karata hoon theek hai lekin jab vah apane man ke andar apane dil ke andar jhaank kar dekhate hain to unhen yah pata lagata hai ki jo is sansaar mein sabase jyaada bura hee aapakee khud mein hai theek hai yaanee sansaar mein koee sabase bura vyakti hai to vah aap svayan hai to is dohe ka arth yahee hai dhanyavaad

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:45
हेलो विपिन आई होप आप सब ठीक होंगे प्रश्न पूछा गया कि एक पहले से हमारे एक शायरी है यह मुहावरा यह किसी चीज को हम समझ सकते हैं कि बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलया कोई जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई हम हमेशा दूसरों में बुराइयां ढूंढते रहते हैं दूसरों में कमियां ढूंढते रहते हैं लेकिन जब हम इन चीजों को देखते तो के हम से भी ज्यादा जो है बुरा कौन हो सकता क्योंकि हम अपने अलावा किसी और के बारे में कितना सोचते हैं किसके लिए किसके लिए कितनी मदद करते हैं यह चीज विस्तृत डिपेंड करती है क्योंकि आजकल के समाज में हर कोई अपने आप को जो है ऊपर रखता है और दूसरों की में हमेशा बुराइयां देखता है कि वह बुरा है उसका काम बुरा है उसके बहुत बुरे यह है उसका यह है लेकिन असलियत यह है कि हम खुद के अंदर भी झांक के देख कर के हमें कितनी बुराइयां हम अपनी बुराइयों के जो हैं कितना जल्दी जो हैं उन पर ठीक कर सकते हैं या दूसरों में हम कितना संतो के काम आए हैं दूसरा यह कि हम अपने हालातों को भी देखते हैं कि देखो मेरे बहुत बुरी हालत है यह जो कुछ है जो कुछ है लेकिन जब हम दूसरों की जगह देखते हैं तो तब एहसास होता है कि उसकी हालत जो है हमसे भी बहुत बुरी है और हम सिर्फ एक जगह से ठीक हैं कहावत है और इस मुहावरे का जो है यह मतलब है कि दूसरों में बुराइयां जुनून आसान है लेकिन खुद के अंदर की बुराइयों को पहचान और आपके अवगुण जो हैं उनको सामने लाना वह बहुत बड़ा होगा क्योंकि हम दूसरों में तो बुरा ही ढूंढते लेकिन हम से हम कितनी बुराइयां करें हम दूसरों को कितना घाटा कर रहे हैं हम दूसरों को कितनी तकलीफ पहुंचा रहे हैं उस चीज को कोई नहीं समझता आशा करता हूं आपका आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo vipin aaee hop aap sab theek honge prashn poochha gaya ki ek pahale se hamaare ek shaayaree hai yah muhaavara yah kisee cheej ko ham samajh sakate hain ki bura jo dekhan main chala bura na milaya koee jag dil khoja aapana mujhase bura na koee ham hamesha doosaron mein buraiyaan dhoondhate rahate hain doosaron mein kamiyaan dhoondhate rahate hain lekin jab ham in cheejon ko dekhate to ke ham se bhee jyaada jo hai bura kaun ho sakata kyonki ham apane alaava kisee aur ke baare mein kitana sochate hain kisake lie kisake lie kitanee madad karate hain yah cheej vistrt dipend karatee hai kyonki aajakal ke samaaj mein har koee apane aap ko jo hai oopar rakhata hai aur doosaron kee mein hamesha buraiyaan dekhata hai ki vah bura hai usaka kaam bura hai usake bahut bure yah hai usaka yah hai lekin asaliyat yah hai ki ham khud ke andar bhee jhaank ke dekh kar ke hamen kitanee buraiyaan ham apanee buraiyon ke jo hain kitana jaldee jo hain un par theek kar sakate hain ya doosaron mein ham kitana santo ke kaam aae hain doosara yah ki ham apane haalaaton ko bhee dekhate hain ki dekho mere bahut buree haalat hai yah jo kuchh hai jo kuchh hai lekin jab ham doosaron kee jagah dekhate hain to tab ehasaas hota hai ki usakee haalat jo hai hamase bhee bahut buree hai aur ham sirph ek jagah se theek hain kahaavat hai aur is muhaavare ka jo hai yah matalab hai ki doosaron mein buraiyaan junoon aasaan hai lekin khud ke andar kee buraiyon ko pahachaan aur aapake avagun jo hain unako saamane laana vah bahut bada hoga kyonki ham doosaron mein to bura hee dhoondhate lekin ham se ham kitanee buraiyaan karen ham doosaron ko kitana ghaata kar rahe hain ham doosaron ko kitanee takaleeph pahuncha rahe hain us cheej ko koee nahin samajhata aasha karata hoon aapaka aapake savaal ka javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

मनीष कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मनीष जी का जवाब
किसान
0:54
अजीत कुमार बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलया कोई जो जब दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई इसका मतलब है कि मैं संसार के अंदर बुरे लोगों को देखने निकला था यानी में गोरा मैं सबको यह देख रहा था यह गलत इंसान है यह बुरा कर रहा है यह बोला है यह पूरा यह बुरा है यह गलत करता है यह है हमारी यह धारणा हो जाती है कि इंसान गलत लेकिन सत्य में अगर हम देखें और सोचे तो हम से बुरा कोई सही नहीं है इसका मतलब यह है कि खुद बुरे हैं हमारे में खुद में जो कमी है उसको देखने में बाहर निकले लेकिन वह तो कमिंग हमारे अंदर का मतलब है बुरा जो देखन में चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न का मतलब
Ajeet kumaar bura jo dekhan main chala bura na milaya koee jo jab dil khoja aapana mujhase bura na koee isaka matalab hai ki main sansaar ke andar bure logon ko dekhane nikala tha yaanee mein gora main sabako yah dekh raha tha yah galat insaan hai yah bura kar raha hai yah bola hai yah poora yah bura hai yah galat karata hai yah hai hamaaree yah dhaarana ho jaatee hai ki insaan galat lekin saty mein agar ham dekhen aur soche to ham se bura koee sahee nahin hai isaka matalab yah hai ki khud bure hain hamaare mein khud mein jo kamee hai usako dekhane mein baahar nikale lekin vah to kaming hamaare andar ka matalab hai bura jo dekhan mein chala bura na miliya koy jo dil khoja aapana mujhase bura na ka matalab

अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
0:38
नेकी बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई इसका क्या अर्थ हुआ देखिए कबीर दास की बहुत अच्छी है पंक्तियां इसमें देखिए कबीरदास जी कहते हैं कि जब मैंने संसार में बुराई को ढूंढा तब मुझे कोई बुरा नहीं मिला जब मैंने खुद का विचार किया तुम मुझसे बड़ी बुराई नहीं मिली दूसरों में अच्छा बुरा देखने वाला व्यक्ति हमेशा खुद को नहीं जानता जो दूसरों में बुराई बुराई ढूंढ देना वास्तव में वही सबसे बड़ी बुराई है जय हिंद जय भारत

Author Yogendra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Author जी का जवाब
लेखक
3:22
हेलो दोस्तों मेरा नाम है योगेंद्र सिंह मैथिली ठाकुर लाइव पूछूं एक दोहा है यहां पर जिसके बारे में बताने की बात कही जा रही है जिसका अर्थ क्या हुआ यह कबीर दास जी का दोहा है उन्होंने कहा है कि बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई यह वह तो है जो सही तरीके से कहा गया है और हर जगह इसी तरीके से ही लिखा भी गया है जहां पर सही तरीके से लिखना चाहिए बात करते हैं ऐसे दोहे कि इसमें जो कहना चाह रहे हैं कबीर दास जी वह यह कह रहे हैं कि मैं इस दुनिया में बुरा देखने चला तो मुझे पता चला कि कोई बुरा है ही नहीं लेकिन जब अपने अंदर आने अपने दिल में झांक करके देखा तब पता चला कि मैं ही हूं सबसे बुरा तो कहना चाहते कि सारे संसार को उन्होंने पोज मार लेकिन उन्हें कोई भी बुरा इंसान नहीं मिला जो भी बुराइयां उन्होंने देखने की कोशिश की वह खुद में ही देखने की कोशिश की और इसका जो सही रूप में मतलब है वह यह है कि इंसान को हमेशा खुद में सुधार करना चाहिए वरना अगर हम किसी से कहेंगे तो वह यही कहेगा कि महिला को निकलूंगा ढूंढने तो हजारों लोगों में बुराइयां निकाल दूंगा तो फिर जी को क्या सच में दूसरे लोगों ने बुराइयां नहीं मिली थी उनका कहने का मतलब यह नहीं था उनका कहने का मतलब यह था क्या मैं दूसरों की तरफ यानी कि दूसरों की बुराई निकालने नहीं चाहिए किसी में बुराई नहीं देखनी चाहिए और अपने भीतर जो बुराइयां है उनको खत्म करने की कोशिश करनी चाहिए क्योंकि अगर मेरे अंदर की दवाइयां खत्म होती है तो मैं बेहतर इंसान बन सकता हूं लेकिन अगर मैं दूसरों की बुराइयां ही देखता रहूंगा दूसरों में बुराइयां ढूंढते रहूंगा तो मैं खुद अच्छा इंसान नहीं बन सकता मैं खुद बुरा बनता चला जाऊंगा क्योंकि मेरा फोकस लोगों की बुराइयां देखने पर ही रह जाएगा इसलिए उन्होंने यह बात कही है तो इसका सही से 800 तो यही हुआ कि खुद में ही इंसान को बुराइयां ढूंढ ही चाहिए और उनका सुधार करना चाहिए और वह सुधार होने के बाद में बेहतर से बेहतर बनता चला जाता है दुनिया में हर किसी इंसान के पास जाओ की मजबूरियां देखे उसके हालात देखे उसकी इंटरव्यू से देखें तो कोई इंसान बुरा नहीं मिलेगा तो उनका कहने का यहां पर यह भी मतलब है तुम मुझे लगता है कि यही वह सही बात हो सकती है जो वह कहना चाह रहे होंगे लेकिन असल रूप में क्या कहना चाहते वह तो सिर्फ कबीर दास जी बता सकते हैं और उनके दोहे लिखे जा चुके हैं उनसे लोगों ने अपने-अपने अलग मतलब निकाले लेकिन जो मुझे समझ में आया मैं बड़ी बात बता रहा हूं कि हमेशा अपने अंदर ही बुराई देखनी चाहिए और उसका सुधार करना चाहिए और सभी लोग सहमत भी उनके खुद के अंदर की बुराई जब सुधर जाती है उनकी बुराई खत्म हो जाती तो उसका फायदा हमें मिलने वाला हम बेहतर इंसान बन सकते हैं लेकिन दूसरों में बुराई खोजने से हमारा कुछ फायदा नहीं होने वाला ऐसा काम ही क्यों किया जिसमें हमारा फायदा नहीं है बेहतर है कि हम खुद मेरी बुराइयां देखें खुद की कमी को दूर करें और एक बेहतर से बेहतर इंसान बनते चले जाएं धन्यवाद

Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:30
सवाल है बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका अर्थ क्या हुआ देखिए यह दोहा बहुत ही सुप्रसिद्ध दोहा है इसका अर्थ होता है कि अगर मैं दुनिया में बुराई देखता हूं तुम मुझे कोई बुराई नहीं दिखती है और जब मैं अपने ही अंदर अपने अंदर बुराई देखता हूं तो मुझे लगता है कि मुझसे बुरा भी कोई नहीं है इस दुनिया में तो इस प्रकार इस दोहे का अर्थ होता है

Rahul chaudhary Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:43
बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई इसका क्या किया फिर मैंने पाया इतना बुरा हूं मैं हूं कोई मतलब नहीं होता है हर जगह हर इंसान में फोटो पाया जाता है चाहिए अगर इंसान को अपने ऊपर

Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:04
बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा ना कोई अबीरा मुझसे बोला कबीर जी का दोहा है जिसका अर्थ है जब मैं दूसरों के अंदर कोई कमी ढूंढने चला किस के अंदर क्या कमी है तो मैंने क्या पाया कि पूरी दुनिया से ज्यादा तो मेरे अंदर ही कमी है हम जब किसी और की कमियां गिनाते हैं हमें इस बात पर ध्यान नहीं दे रही है उसके अंदर जो कमी है क्या उसी कमी का हमारे अंदर खासियत है हम पूरी तरह से जिस जिस चीज में उसकी कमियों से पूरी तरह से हम अपना अपना कर्तव्य सब कुछ हासिल कर चुके हैं जब हम दुनिया में किसी को ढूंढने चलते हैं कि वह इंसान सबसे बुरा है जो यह काम करता है वह इंसान सबसे बुरा है जो यह काम करता है यह गलत काम करता है तो हम खुद पाएंगे जी हां हम अपने आप में पाएंगे कि हमारे अंदर कितनी सारी कमियां हैं हम लोगों की तो कमी देख रहे हैं लोगों की कमी भी बता रहे कि तुम्हारे अंदर यह कमी है मैं बोलने का तरीका नहीं आता तुम्हें चलने का तरीका नहीं आता हम सब कुछ कमी के ना देते हैं पर जब हमारी अपनी बारी आती है हम यह पाएंगे सबसे ज्यादा कमी तो हमारे अंदर है किसी और को सीख देने से पहले हमें अपने अंदर की कमियों को सुधारना चाहिए अगर रोज हम अपने अंदर एक भी कमी को सुधार लेंगे तुम एक दिन परफेक्ट इंसान बन सकते हैं आप किसी और की कमी निकाल कर अपने अंदर की खासियत को नहीं बनवा सकते इससे आपके अंदर और कमी आ रही है कि आप दूसरों की कमी को देख रहे कबीर जी के दोहे का यही अर्थ था

राजेश कृष्ण पारीक Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए राजेश जी का जवाब
सभी को-जय सियाराम
2:16
आपका प्रश्न है कि बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो दिल खोजा आपना मुझसे बुरा न कोई यह कबीर दास जी के द्वारा रचित एक दोहा है इसका अर्थ यह हुआ कि कबीरदास जी कहते हैं इस संसार के अंदर मैं बुरा व्यक्ति देखने को चला शब्दों को खोजने के बाद मुझे कोई बुरा मिला ही नहीं मैंने जब आकर अपना दिल खोजा तो मुझे पता चला कि मुझसे बुरा इस संसार के अंदर कोई है ही नहीं शामिल करती इसका यह हुआ कि हम दूसरे व्यक्तियों को देखते हैं दूसरे मनुष्य को देखते हैं कोई भी प्रकार की उम्र में कमी दिखे तो कमी अपने आप में पहले खोजो यह कमी मुझ में तो नहीं है क्योंकि जो अवगुण हमारे अंदर है ना तुम दूसरों के अंदर अवगुण देख नहीं सकते पहले वह हमारा अवगुण है वह मिटाओ उसके बाद ही हम दूसरे को कह सकते हैं कि भाई यह तुम एक कमी है स्वामी विवेकानंद के पास एक महिला अपने बेटे को लेकर आई और कहा कि स्वामी जी यह मिठाई बहुत खाता है इसकी अलग छोड़ दो स्वामी जी ने कह दिया कि है मां आप है ना 7 दिन बाद इस लड़के को मेरे पास लाना मैं इसका मीठा खाने की जो आदत है वह छुड़ा दूंगा वह महिला पुणे 7 दिन बाद में आई स्वामी जी ने उस लड़के को पास में बिठाया और कहा बेटा मिठाई स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है इतना मीठा मत खाया कर वह लड़का समझ गया और काहे मां अब इस लड़के को ले जाओ वह महिला बोली की है स्वामी जी यह बात तो आप 7 दिन पहले भी कह सकते थे इसमें 7 दिन का और इतने दिन क्यों लगाया आपने यह क्यों रखा स्वामी जी ने सहज भाव से कहा कि यदि 7 दिन पहले मैं खुद मिठाई का आदी था मैं खुद मीठा खाता था और जो अवगुण मेरे अंदर है वह दूसरे को मैं कैसे समझा सकता हूं अब 7 दिन के अंदर मैंने भी मीठा खाना छोड़ दिया बोला तो मैंने छोड़ दी वह आदत छोड़ दी तो अब मैं इसको समझा रहा हूं तो यह जरूर समझेगा तो लड़का समझ गया तो दूसरे के अंदर अवगुण देखो उसके पहले अपने आप में वह अवगुण देखो कि मुझ में तो नहीं अगर हम चोर हैं तो दूसरे को चोर कैसे कह सकते हैं यही इस दोहे के माध्यम से संत श्री कबीर दास जी ने समझाया

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपने मुझसे बुरा ना कोई, बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपने मुझसे बुरा ना कोई अर्थ, बुरा जो देखन मैं चला बुरा न मिलिया कोय जो जग दिल खोजा आपने मुझसे बुरा ना कोई का अर्थ
URL copied to clipboard