#भारत की राजनीति

bolkar speaker

हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?

Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
0:58
ऐसा नहीं है कि भारत में ही हमेशा एंड डिस्क्रिमिनेशन होता है भारत में जाति को देखकर करते हैं एससी और ओबीसी और जनरल में यह सब गीला हो जाता है अमेरिका में रंगभेद होता है और बांग्लादेश में भी एक समय पर ऐसा डिस्क्रिमिनेशन हुआ था बांग्लादेश और पाकिस्तान जो आपको पता होगा लड़ाई हुई थी पाकिस्तान वस पाकिस्तान में कि हमारे धर्म के तो हैं मुस्लिम अलग टाइप के नुस्खे में ऐसा नहीं है कि भारत में यह सब अलग अलग अलग अलग डिस्कशन होता रहता है कुछ रंग पर करते-करते भी करते हैं कि यह लड़की है तो कमजोर जैसे हम अरब देशों में देखते हैं middle-east देशों में देखते हैं वहां पर लड़कियों को ज्यादा फ्रीडम ही जाती उन्हें नीचे समझा जाता है अलग-अलग देशों के अलग-अलग प्रॉब्लम से भारत की यह जातिवाद के
Aisa nahin hai ki bhaarat mein hee hamesha end diskrimineshan hota hai bhaarat mein jaati ko dekhakar karate hain esasee aur obeesee aur janaral mein yah sab geela ho jaata hai amerika mein rangabhed hota hai aur baanglaadesh mein bhee ek samay par aisa diskrimineshan hua tha baanglaadesh aur paakistaan jo aapako pata hoga ladaee huee thee paakistaan vas paakistaan mein ki hamaare dharm ke to hain muslim alag taip ke nuskhe mein aisa nahin hai ki bhaarat mein yah sab alag alag alag alag diskashan hota rahata hai kuchh rang par karate-karate bhee karate hain ki yah ladakee hai to kamajor jaise ham arab deshon mein dekhate hain middlai-aiast deshon mein dekhate hain vahaan par ladakiyon ko jyaada phreedam hee jaatee unhen neeche samajha jaata hai alag-alag deshon ke alag-alag problam se bhaarat kee yah jaativaad ke

और जवाब सुनें

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:32
गुड इवनिंग सवाल ये है कि हमारे भारत में जातिवाद क्यों होता है देखिए जातिवाद भारत में ही नहीं है हर जगह रेसियल डिस्क्रिमिनेशन है वह हर जगह है यह जाती है उसका हमारे यहां नाम जानते हैं उसे ज्यादा अलग-अलग को बांट दिया गया है नाम दे दिया गया है अन्यथा वह तो हर जगह है किसी न किसी रूप में जरूर है कहीं किसी रूप में कहीं किसी रूप में तो इसलिए यह नहीं कहा जा सकता है कि भारत में ही जातिवाद है भारत के विषय में जो कि हमें जानकारी ज्यादा है हम उसके शिकार होते हैं यह ज्यादा ज्यादा है कहा जा सकता है कि यहां चाचा और जगह कितना है और इसका अध्ययन करने पर ही पता चलेगा कि कितना है लेकिन और जगह भी है भारत में शुरू से ही क्योंकि यहां की संस्कृति बहुत पुरानी है तो इसमें कई ग्रंथ पाए जाते हैं जिसमें और जातियों को बांटा गया है अलग-अलग नाम देकर तो इसलिए यहां लगता है मरे हैं जातिवाद ज्यादा है लेकिन और जगह है किसी अन्य रूप में
Gud ivaning savaal ye hai ki hamaare bhaarat mein jaativaad kyon hota hai dekhie jaativaad bhaarat mein hee nahin hai har jagah resiyal diskrimineshan hai vah har jagah hai yah jaatee hai usaka hamaare yahaan naam jaanate hain use jyaada alag-alag ko baant diya gaya hai naam de diya gaya hai anyatha vah to har jagah hai kisee na kisee roop mein jaroor hai kaheen kisee roop mein kaheen kisee roop mein to isalie yah nahin kaha ja sakata hai ki bhaarat mein hee jaativaad hai bhaarat ke vishay mein jo ki hamen jaanakaaree jyaada hai ham usake shikaar hote hain yah jyaada jyaada hai kaha ja sakata hai ki yahaan chaacha aur jagah kitana hai aur isaka adhyayan karane par hee pata chalega ki kitana hai lekin aur jagah bhee hai bhaarat mein shuroo se hee kyonki yahaan kee sanskrti bahut puraanee hai to isamen kaee granth pae jaate hain jisamen aur jaatiyon ko baanta gaya hai alag-alag naam dekar to isalie yahaan lagata hai mare hain jaativaad jyaada hai lekin aur jagah hai kisee any roop mein

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Bhavesh Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Bhavesh जी का जवाब
West Bengal India is Great
0:50
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है ऐसा नहीं है कि सिर्फ और सिर्फ हमारी भारत में ही ऐसा होता है बल्कि विदेशों में भी होता है जो कि छोटी-छोटी चीजें हमें पता नहीं चल पाता है आप तो देख लीजिए थोड़ा नेपाल को यहां भी होता है थोड़ा बहुत पाकिस्तान में भी होता है कुछ चाइना में भी होता है तो आइए होता तो करीब-करीब शब्द गई लेकिन कुछ ज्यादा होता है कहीं और कहीं कम होता है उसमें से मुझे लगता है कि मेरे ख्याल से भारत जब उस साइड नंबर वन पर होगा मुझे पूरी अच्छी तरह जानकारी नहीं है बाहर के विषय में तो किसी अदर कंट्री का में बुराई जबरदस्ती नहीं कर सकता हूं लेकिन हां यह जरूर कहना चाहूंगा कि होता तो यह अरे कंट्री में थोड़ा बहुत अवश्य होता है
Hamaare bhaarat mein hee jaativaad kyon hota hai aisa nahin hai ki sirph aur sirph hamaaree bhaarat mein hee aisa hota hai balki videshon mein bhee hota hai jo ki chhotee-chhotee cheejen hamen pata nahin chal paata hai aap to dekh leejie thoda nepaal ko yahaan bhee hota hai thoda bahut paakistaan mein bhee hota hai kuchh chaina mein bhee hota hai to aaie hota to kareeb-kareeb shabd gaee lekin kuchh jyaada hota hai kaheen aur kaheen kam hota hai usamen se mujhe lagata hai ki mere khyaal se bhaarat jab us said nambar van par hoga mujhe pooree achchhee tarah jaanakaaree nahin hai baahar ke vishay mein to kisee adar kantree ka mein buraee jabaradastee nahin kar sakata hoon lekin haan yah jaroor kahana chaahoonga ki hota to yah are kantree mein thoda bahut avashy hota hai

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:37
आज आप का सवाल है कि हमारे भारत में जातिवाद क्यों होता है तो देखिए जब मैं अपने भारत के बात करते हैं तो पूरी तरह से सही बात है कि हमारे देश में सबसे ज्यादा लोग हैं उनको लेकर जातिवाद को लेकर अपने ही आपस में लड़ते हैं और एक दूसरे के दुश्मन बनते जा रहे हैं इंसानियत और कुछ बचा ही नहीं है कि हमारे देश में लोग अपने धर्म के लिए किसी को भी नुकसान पहुंचा या फिर मार दो जितना धार्मिक होने के बाद भी अपने धर्म के बारे में ही नहीं जानते अगर हर एक इंसान अपने आप को जब धार्मिक जाता है तो वह अपने लिए धार्मिक किताबों के बारे में ही जान जाएगा कि इंसानियत को कितना बड़ा महत्व दिया गया तो आपस में लड़ाई नहीं होगी हमारे देश में क्या है कि लोग बहुत ज्यादा दूसरों की बातों को सुनकर कन्वेंस हो जाते हैं वह इंसान लड़ रहे अपने धर्म को धर्म को लेकर शायद ऐसा कहा जाता है तीसरा भी लड़ता है 14 मिनट ऐसे करके हर एक इंसान लड़ते रहते कोई भी यह नहीं सोचता है कि हां अगर हमारी जगह कोई और इंसान होता है अगर हमारी जगह हमारी भगवान होते तो कैसा करते ऐसा कोई भी नहीं सोचा सिर्फ सब आपस में ही लड़ते हैं मैं आप को क्या समझते हैं सोचते हैं कि नहीं अगर हम किसी से हाथ मिला लेंगे किसी के साथ दोस्ती कर लेंगे तुम नीचे हो जाएंगे अभी नीचे गिर जाएंगे इस तरह के थॉट्स और इस तरह की सोच विचार और इस तरह के वजह से ही आज हमारे देश में आज आने वाले थे
Aaj aap ka savaal hai ki hamaare bhaarat mein jaativaad kyon hota hai to dekhie jab main apane bhaarat ke baat karate hain to pooree tarah se sahee baat hai ki hamaare desh mein sabase jyaada log hain unako lekar jaativaad ko lekar apane hee aapas mein ladate hain aur ek doosare ke dushman banate ja rahe hain insaaniyat aur kuchh bacha hee nahin hai ki hamaare desh mein log apane dharm ke lie kisee ko bhee nukasaan pahuncha ya phir maar do jitana dhaarmik hone ke baad bhee apane dharm ke baare mein hee nahin jaanate agar har ek insaan apane aap ko jab dhaarmik jaata hai to vah apane lie dhaarmik kitaabon ke baare mein hee jaan jaega ki insaaniyat ko kitana bada mahatv diya gaya to aapas mein ladaee nahin hogee hamaare desh mein kya hai ki log bahut jyaada doosaron kee baaton ko sunakar kanvens ho jaate hain vah insaan lad rahe apane dharm ko dharm ko lekar shaayad aisa kaha jaata hai teesara bhee ladata hai 14 minat aise karake har ek insaan ladate rahate koee bhee yah nahin sochata hai ki haan agar hamaaree jagah koee aur insaan hota hai agar hamaaree jagah hamaaree bhagavaan hote to kaisa karate aisa koee bhee nahin socha sirph sab aapas mein hee ladate hain main aap ko kya samajhate hain sochate hain ki nahin agar ham kisee se haath mila lenge kisee ke saath dostee kar lenge tum neeche ho jaenge abhee neeche gir jaenge is tarah ke thots aur is tarah kee soch vichaar aur is tarah ke vajah se hee aaj hamaare desh mein aaj aane vaale the

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:16
हमारे भारत में जातिवाद क्यों होता है भारत में ही नहीं जातिवाद धन्यवाद संप्रदायवाद यह विश्व में लेकिन हां हर देश में पोषक एक वादे और हमारे यहां अनेक वाले हमारे यहां एक धर्म में निर्धन में एक जाति में अनेक उपजाति हैं और उसका मूल कारण हमारे यहां जिनके पास आर्थिक संपन्नता है जिनके पास संपत्ति है जिनके पास संसाधन ए वैल्यू इन सब चीजों से अपनी जाति का गुणगान करते हैं और बाकी अन्य जाति या अन्य वर्गों के लोगों को निम्नतम समझते हैं और जहां उच्चतम न्यूनतम गरीबी और अमीरी शिक्षित और अशिक्षित अंतर सामने आता है तो निश्चित रूप से होना विभेद विभांतर अंतर तो हो गई यही कारण हमारे देश में जातिवाद ही देखने को बहुत अधिक मात्रा में
Hamaare bhaarat mein jaativaad kyon hota hai bhaarat mein hee nahin jaativaad dhanyavaad sampradaayavaad yah vishv mein lekin haan har desh mein poshak ek vaade aur hamaare yahaan anek vaale hamaare yahaan ek dharm mein nirdhan mein ek jaati mein anek upajaati hain aur usaka mool kaaran hamaare yahaan jinake paas aarthik sampannata hai jinake paas sampatti hai jinake paas sansaadhan e vailyoo in sab cheejon se apanee jaati ka gunagaan karate hain aur baakee any jaati ya any vargon ke logon ko nimnatam samajhate hain aur jahaan uchchatam nyoonatam gareebee aur ameeree shikshit aur ashikshit antar saamane aata hai to nishchit roop se hona vibhed vibhaantar antar to ho gaee yahee kaaran hamaare desh mein jaativaad hee dekhane ko bahut adhik maatra mein

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Chandan Kumar bharati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Chandan जी का जवाब
Teacher
1:07
हेलो नमस्कार आपका प्रश्न लिखे हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है कि यहां पर दो धर्म के लोग रहते या पक्षी यहां पर हर धर्म के लोग रहते हैं जैसे सीटें सीखो है हिंदू मुस्लिम सिख ईसाई यहां पर क्या होता है हिंदू और मुस्लिम को लेकर विवादित होते रहते और जातिवाद बढ़ता रहता है यह जातिवाद की मुख्य कारण है जो हिंदू और मुस्लिम जाति प्रथा है इस पर क्या होता है कि लोग अपने अपने ही कास्ट से विवादित हो जाते हैं और विवाद का रिलैक्स गलत एक करवाना है भारत में हीरा कर भारत का भारत हमारा देश है जिस देश में जातिवाद नहीं करना चाहिए हमारे देश का हमारे देश का ही विकास हो सकता है इसके बारे में
Helo namaskaar aapaka prashn likhe hamaare bhaarat mein hee jaativaad kyon hota hai ki yahaan par do dharm ke log rahate ya pakshee yahaan par har dharm ke log rahate hain jaise seeten seekho hai hindoo muslim sikh eesaee yahaan par kya hota hai hindoo aur muslim ko lekar vivaadit hote rahate aur jaativaad badhata rahata hai yah jaativaad kee mukhy kaaran hai jo hindoo aur muslim jaati pratha hai is par kya hota hai ki log apane apane hee kaast se vivaadit ho jaate hain aur vivaad ka rilaiks galat ek karavaana hai bhaarat mein heera kar bhaarat ka bhaarat hamaara desh hai jis desh mein jaativaad nahin karana chaahie hamaare desh ka hamaare desh ka hee vikaas ho sakata hai isake baare mein

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:30
जी आप का सवाल है कि हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों है तो मैं आपको बता देना चाहता हूं कि हमारे भारत में ही केवल आरक्षण क्यों हैं आप इसका जवाब दे सकते हैं रही जातिवाद की बात तो यह पुराने जमाने से चली आ रही परंपरा के हैं
Jee aap ka savaal hai ki hamaare bhaarat mein hee jaativaad kyon hai to main aapako bata dena chaahata hoon ki hamaare bhaarat mein hee keval aarakshan kyon hain aap isaka javaab de sakate hain rahee jaativaad kee baat to yah puraane jamaane se chalee aa rahee parampara ke hain

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:18
जातिवाद के नेता है क्योंकि हमारे घर घर दिया बरगे नहीं आता है क्योंकि आज भी समाज को देखा जाता है बाद में शाम को देखा है जैसी तेरी मर्जी जातिवाद अच्छा पिक्चर है ऐसा होना नहीं चाहिए पर ऐसा ही है और इस को बदलने में अभी काफी टाइम लगेगा
Jaativaad ke neta hai kyonki hamaare ghar ghar diya barage nahin aata hai kyonki aaj bhee samaaj ko dekha jaata hai baad mein shaam ko dekha hai jaisee teree marjee jaativaad achchha pikchar hai aisa hona nahin chaahie par aisa hee hai aur is ko badalane mein abhee kaaphee taim lagega

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
3:50
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है तो दिखी हमारा जो भारत है भारत में जातिवाद की समस्या आज से नहीं है कई वर्षों सालों से चली आ रही है और भारत की जातिवाद की समस्या और जांच की जकड़न जो है हमारे पूरे लोकतंत्र को प्रभावित करता है हमारे देश को आजाद हुए 7 दशक से भी ज्यादा समय बीत गए हैं लेकिन जो जातिगत प्रथा के चुंगल से हम मुक्त नहीं हो पाए हैं वही आपको बता दें कि इस भेदभाव है भेदभाव जाति समुदाय लिंग के आधार पर जो हम एक दूसरे से बर्ताव रखते हैं की बड़ी चिंता का कारण है देश में हमारे जातिगत व्यवस्था खत्म होनी चाहिए लेकिन ही खत्म होने का नाम नहीं देती है क्योंकि हम अपनी जो भी बचपन होता है तो किस करते हैं कि इस जातिगत मैटर में ही भर देते हमारे जो बड़े बुजुर्ग लोग होते हैं वह हमारे मन में मस्तिक में ही ऊंच-नीच की भावना भर देते हैं कि बढ़ते बढ़ते एक बहुत बड़ा विशाल रूप ले लेती है और देश में जातिगत व्यवस्था खत्म होनी चाहिए लेकिन कोई खत्म करने को राजी नहीं हुई थी गरबा देखा जाए तो भारत जाति विहीन और वर्ग विहीन होना चाहिए क्योंकि इसमें क्या है कि विविधताओं का देश है जिसमें बहुत सारे ऐसे समाज के लोग बहुत सी झांकी लोग हैं जो अपने जीवन यापन करने में बाहरी गर्व महसूस करते हैं लेकिन जातिगत मुक्ति की वजह से वो क्या करते हैं यह दो गिरजाघर मस्जिद मस्जिद तनी की तरह तरह के भेदभाव में और जातिगत मैटर में समाज में बैठकर वह क्या करते हैं अपने आपको जीवन बिता देते हैं सबके लिए इस समस्या बना हुआ है वहीं पर देखा जाए तो हमारे संविधान में क्योंकि हमारा संविधान एक लोकतांत्रिक देश बनाता है और वही संविधान में 15 मई लिखा गया कि साथ जी के द्वारा धर्म मूल वंश जाति लिंग जन्म स्थान के आधार पर अगर देखा जाए तो नागरिकों के प्रति जीवन में किसी प्रकार का या जीवन में किसी क्षेत्र में आपको भेदभाव नहीं करने की बात कही गई है लेकिन कौन मानता है लेकिन यह बुरी केवल विरोधाभास बन के रह जाता है क्योंकि हम सरकारी नौकरी में सरकारी ओहदे में सरकारी आवेदन में चयन प्रक्रिया में हम रिलेशन बाद लगा दी है जातिवाद लगा दिए हैं इसको हम प्रमुखता से मानते हैं कि हमारा कोई नई बात नहीं है जो जातिगत रखा है यह न केवल केवल हमारे से है कि हमारी जो व्यवस्था थी उस से चलती आ रही है उसको क्या कर रहे हैं सूखे वन हार के रूप में खेती आ रहा है कि भाई झांसी गढ़ मैटर रहा है इनसे हमें ऐसे रहना है इनके साथ ऐसा व्यवहार करना है उनकी मस्तिक में ही भर दिया जाता है बच्चों के मस्तिक में ही भर दिया जाता है कि बचपन से ही उस नीच की उत्कृष्टता की निष्क्रियता के बीज बो दी जाती है जिससे कि जाति को बहुत ज्यादा प्रभावित करें तो कहीं न कहीं इस जातिगत जो मैटर है वो हमारे देश के लोग ही बोलते हैं हमारे घर के लोग ही बोलते हैं और उसे हम एक्सेप्ट करके अपने इस अखंड भारत में प्रभुत्व भारत में भारत में जातिगत मैटर फैलाकर कहीं न कहीं एक गलत डायरेक्शन में भेजने का काम करते हैं खुद कलर डायरेक्शन में जाने का काम करते हैं और भेदभाव पूर्वजों से चली आ रही है हम इस प्रथा को चेंज नहीं करते हैं और यही कहा जाता है कि ऊपर ही लिखे लोग नहीं थे फिर भी हम पढ़ लिखकर गधे हो गए हैं हम ऐसी छोटी-छोटी भावनाओं में रहते हैं धन
Hamaare bhaarat mein hee jaativaad kyon hota hai to dikhee hamaara jo bhaarat hai bhaarat mein jaativaad kee samasya aaj se nahin hai kaee varshon saalon se chalee aa rahee hai aur bhaarat kee jaativaad kee samasya aur jaanch kee jakadan jo hai hamaare poore lokatantr ko prabhaavit karata hai hamaare desh ko aajaad hue 7 dashak se bhee jyaada samay beet gae hain lekin jo jaatigat pratha ke chungal se ham mukt nahin ho pae hain vahee aapako bata den ki is bhedabhaav hai bhedabhaav jaati samudaay ling ke aadhaar par jo ham ek doosare se bartaav rakhate hain kee badee chinta ka kaaran hai desh mein hamaare jaatigat vyavastha khatm honee chaahie lekin hee khatm hone ka naam nahin detee hai kyonki ham apanee jo bhee bachapan hota hai to kis karate hain ki is jaatigat maitar mein hee bhar dete hamaare jo bade bujurg log hote hain vah hamaare man mein mastik mein hee oonch-neech kee bhaavana bhar dete hain ki badhate badhate ek bahut bada vishaal roop le letee hai aur desh mein jaatigat vyavastha khatm honee chaahie lekin koee khatm karane ko raajee nahin huee thee garaba dekha jae to bhaarat jaati viheen aur varg viheen hona chaahie kyonki isamen kya hai ki vividhataon ka desh hai jisamen bahut saare aise samaaj ke log bahut see jhaankee log hain jo apane jeevan yaapan karane mein baaharee garv mahasoos karate hain lekin jaatigat mukti kee vajah se vo kya karate hain yah do girajaaghar masjid masjid tanee kee tarah tarah ke bhedabhaav mein aur jaatigat maitar mein samaaj mein baithakar vah kya karate hain apane aapako jeevan bita dete hain sabake lie is samasya bana hua hai vaheen par dekha jae to hamaare sanvidhaan mein kyonki hamaara sanvidhaan ek lokataantrik desh banaata hai aur vahee sanvidhaan mein 15 maee likha gaya ki saath jee ke dvaara dharm mool vansh jaati ling janm sthaan ke aadhaar par agar dekha jae to naagarikon ke prati jeevan mein kisee prakaar ka ya jeevan mein kisee kshetr mein aapako bhedabhaav nahin karane kee baat kahee gaee hai lekin kaun maanata hai lekin yah buree keval virodhaabhaas ban ke rah jaata hai kyonki ham sarakaaree naukaree mein sarakaaree ohade mein sarakaaree aavedan mein chayan prakriya mein ham rileshan baad laga dee hai jaativaad laga die hain isako ham pramukhata se maanate hain ki hamaara koee naee baat nahin hai jo jaatigat rakha hai yah na keval keval hamaare se hai ki hamaaree jo vyavastha thee us se chalatee aa rahee hai usako kya kar rahe hain sookhe van haar ke roop mein khetee aa raha hai ki bhaee jhaansee gadh maitar raha hai inase hamen aise rahana hai inake saath aisa vyavahaar karana hai unakee mastik mein hee bhar diya jaata hai bachchon ke mastik mein hee bhar diya jaata hai ki bachapan se hee us neech kee utkrshtata kee nishkriyata ke beej bo dee jaatee hai jisase ki jaati ko bahut jyaada prabhaavit karen to kaheen na kaheen is jaatigat jo maitar hai vo hamaare desh ke log hee bolate hain hamaare ghar ke log hee bolate hain aur use ham eksept karake apane is akhand bhaarat mein prabhutv bhaarat mein bhaarat mein jaatigat maitar phailaakar kaheen na kaheen ek galat daayarekshan mein bhejane ka kaam karate hain khud kalar daayarekshan mein jaane ka kaam karate hain aur bhedabhaav poorvajon se chalee aa rahee hai ham is pratha ko chenj nahin karate hain aur yahee kaha jaata hai ki oopar hee likhe log nahin the phir bhee ham padh likhakar gadhe ho gae hain ham aisee chhotee-chhotee bhaavanaon mein rahate hain dhan

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
4:26
हेलो एवरीवन आई होप आप सब ठीक होंगे प्रश्न पूछा गया हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है ठीक है बताना चाहूंगा जातिवाद एक ऐसी प्रणाली है जो प्राचीन काल में ही अपनी जड़े पाती है यह वर्षों से अंधाधुन चली आ रही है और कुछ जातियों के लोगों के हितों को आगे बढ़ा रहे हैं निम्न जाति के लोगों का शोषण किया जा रहा है और उनकी चिंताओं सुनने वाला कोई नहीं है लेकिन जो है दिल्ली जो है वह काफी हद तक सुलझा जीरी है लेकिन कुछ राजनीतिक पार्टियां इस चीज को काफी उछाल रही है और इस चीज का काफी फायदा उठा रही हैं लेकिन भारतीय समाज में मोटे तौर पर 4 जातियों को वर्गीकृत किया गया ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य और शूद्र ब्राह्मण उच्च वर्ग के प्राचीन काल में ही लोग पुरोहित गतिविधियों में शामिल थे जिन्हें बहुत लोग से सम्मान से रखते थे क्षत्रिय लोग शासक और युद्ध थे जिन्हें बहादुरों शक्तिशाली माना जाता था कि वह ब्राह्मणों के बगल में देखा जाता था फिर वैश्य वैश्य आ गए यह लोग खेती के पारो व्यवसाय से जुड़े थे शूद्र जो है सबसे नीची जाति के थे इस जाति से संबंधित लोग मजदूर थे जिन्हें अछूत माना जाता था इंसानों वाला व्यवहार के उनके साथ नहीं होता था उस समय में हल्की लोगों ने इन दिनों अलग-अलग देशों को संभाल ले लेकिन जाति व्यवस्था अभी भी मौजूद है यह जाति व्यवस्था और उनके पेशेवर लोगों ने उनकी जाति और उनके पेशे प्रचार उपलब्धियों के आधार पर आंका जाता है अन्य देशों में भी जातिवाद है जातिगत केवल भारत में नहीं कुछ अन्य देश जैसे जापान कोरिया श्रीलंका और नेपाल में भी प्रचलित है भारत की तरह इन देशों में भी इस व्यवस्था का प्रकोप सामना कर रहे हैं ऐसे जातिवाद के खिलाफ भारत में लोग एकजुट होने की जरूरत है भारतीय देखिए इस प्रकार भारत की स्वतंत्रता मिलने के बाद जातिवाद पर आधारित भेदभाव पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया भारत के संविधान में से अपने संविधान के प्रतिबंधित कर दिया गया और उन्हीं लोगों के लिए एक चोर एक स्पष्ट संदेश था कि जो निम्न वर्ग का बुरा व्यवहार करते थे आज खुल जा मैंने पहले बताया कि वोट बैंक का हथियार है सबसे बड़ा जातिवाद राजनीति चुनाव से पहले आम जनता से वोट मांगने के लिए विभिन्न स्थानों पर जाते उनके घरों में जाते हैं उनके घरों में खाना खाते हैं उनके साथ बैठे करते हैं और उनको अपनी तरफ से निभाने की जो है कोशिश करके अधिक से अधिक वोटों से मांगे कोशिश करते हैं तो यह चीजें आप खुद संभालने पड़ेगी बाकी देखिए उनके साथ जातिवाद के लिटिल है मान सकते हैं कि लोग उनके साथ लेकिन आजकल कुछ इनके खुद के नेता हैं जो कि दलित या इनमें से तो खुद के नहीं दी अपने फायदे के लिए उनके साथ जो है गलत व्यवहार करते हैं और उनको बढ़ जाते हैं दूसरा आरक्षण जातिवाद में आरक्षण एक ऐसा कीड़ा लगाया गया जिसमें कि जिस समय भीमराव अंबेडकर जी ने आरक्षण दिया था तो उन्होंने जो निचले स्तर पर दोनों उठने के लिए आरक्षण की जहां उन्होंने क्लास में रखा था लेकिन उसका इतना मिस यूज होने लगा कि अब जो है जो उठे हैं अमीर बहुत अमीर हो गया और गरीब जो जिनका असली में आरक्षण किस दिन को बिल्कुल भी मौका नहीं मिला यानी कि जो आरक्षण ले रहे हैं उनको जातिवाद के लिए तकलीफ होती है लेकिन आरक्षण लेकर कुछ सरकारी नौकरी ले रहे हैं दूसरों को अपने फैमिली में सरकार लेकिन वह आरक्षण छोड़ने के लिए तैयार नहीं है यही सबसे बड़ी समस्या है आरक्षण की आरक्षण एक ऐसा कीड़ा है आजकल के समाज में जिसकी वजह से कुछ मुख्य स्थानों पर एक जो है 95% लाने वाला विचार नाइट्स स्टूडेंट जो है उस चीज को अच्छी विजय स्थान को प्राप्त नहीं करता और वही नूर वही वहां पर 8:00 5% या 89% वाला जो है उस आरक्षण को लेकर बैठ गया उस सीट को संभालने के लिए तब खुद लगा सकते हैं उसके शैक्षणिक योग्यता और उस हिसाब से का टैलेंट है उसे साथ उसको वह चीज मिलनी चाहिए थी खैर यह तो बहुत लंबा है इस चीज पर अकरम बात करेंगे तो बहुत सारे सभी के अपने-अपने मत हैं लेकिन जातिवाद जो है काफी हद तक खत्म हुआ है और खत्म होना चाहिए और यह हम लोगों को देखना है इसका फैसला जो है ना तो कोई नेता करें और ना ही कोई पार्टी का जो है अब बंदा करें बस यही कुछ कहना चाहूंगा आशा करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया को लाइक को सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo evareevan aaee hop aap sab theek honge prashn poochha gaya hamaare bhaarat mein hee jaativaad kyon hota hai theek hai bataana chaahoonga jaativaad ek aisee pranaalee hai jo praacheen kaal mein hee apanee jade paatee hai yah varshon se andhaadhun chalee aa rahee hai aur kuchh jaatiyon ke logon ke hiton ko aage badha rahe hain nimn jaati ke logon ka shoshan kiya ja raha hai aur unakee chintaon sunane vaala koee nahin hai lekin jo hai dillee jo hai vah kaaphee had tak sulajha jeeree hai lekin kuchh raajaneetik paartiyaan is cheej ko kaaphee uchhaal rahee hai aur is cheej ka kaaphee phaayada utha rahee hain lekin bhaarateey samaaj mein mote taur par 4 jaatiyon ko vargeekrt kiya gaya braahman kshatriy vaishy aur shoodr braahman uchch varg ke praacheen kaal mein hee log purohit gatividhiyon mein shaamil the jinhen bahut log se sammaan se rakhate the kshatriy log shaasak aur yuddh the jinhen bahaaduron shaktishaalee maana jaata tha ki vah braahmanon ke bagal mein dekha jaata tha phir vaishy vaishy aa gae yah log khetee ke paaro vyavasaay se jude the shoodr jo hai sabase neechee jaati ke the is jaati se sambandhit log majadoor the jinhen achhoot maana jaata tha insaanon vaala vyavahaar ke unake saath nahin hota tha us samay mein halkee logon ne in dinon alag-alag deshon ko sambhaal le lekin jaati vyavastha abhee bhee maujood hai yah jaati vyavastha aur unake peshevar logon ne unakee jaati aur unake peshe prachaar upalabdhiyon ke aadhaar par aanka jaata hai any deshon mein bhee jaativaad hai jaatigat keval bhaarat mein nahin kuchh any desh jaise jaapaan koriya shreelanka aur nepaal mein bhee prachalit hai bhaarat kee tarah in deshon mein bhee is vyavastha ka prakop saamana kar rahe hain aise jaativaad ke khilaaph bhaarat mein log ekajut hone kee jaroorat hai bhaarateey dekhie is prakaar bhaarat kee svatantrata milane ke baad jaativaad par aadhaarit bhedabhaav par pratibandh lagaane ka nirnay liya gaya bhaarat ke sanvidhaan mein se apane sanvidhaan ke pratibandhit kar diya gaya aur unheen logon ke lie ek chor ek spasht sandesh tha ki jo nimn varg ka bura vyavahaar karate the aaj khul ja mainne pahale bataaya ki vot baink ka hathiyaar hai sabase bada jaativaad raajaneeti chunaav se pahale aam janata se vot maangane ke lie vibhinn sthaanon par jaate unake gharon mein jaate hain unake gharon mein khaana khaate hain unake saath baithe karate hain aur unako apanee taraph se nibhaane kee jo hai koshish karake adhik se adhik voton se maange koshish karate hain to yah cheejen aap khud sambhaalane padegee baakee dekhie unake saath jaativaad ke litil hai maan sakate hain ki log unake saath lekin aajakal kuchh inake khud ke neta hain jo ki dalit ya inamen se to khud ke nahin dee apane phaayade ke lie unake saath jo hai galat vyavahaar karate hain aur unako badh jaate hain doosara aarakshan jaativaad mein aarakshan ek aisa keeda lagaaya gaya jisamen ki jis samay bheemaraav ambedakar jee ne aarakshan diya tha to unhonne jo nichale star par donon uthane ke lie aarakshan kee jahaan unhonne klaas mein rakha tha lekin usaka itana mis yooj hone laga ki ab jo hai jo uthe hain ameer bahut ameer ho gaya aur gareeb jo jinaka asalee mein aarakshan kis din ko bilkul bhee mauka nahin mila yaanee ki jo aarakshan le rahe hain unako jaativaad ke lie takaleeph hotee hai lekin aarakshan lekar kuchh sarakaaree naukaree le rahe hain doosaron ko apane phaimilee mein sarakaar lekin vah aarakshan chhodane ke lie taiyaar nahin hai yahee sabase badee samasya hai aarakshan kee aarakshan ek aisa keeda hai aajakal ke samaaj mein jisakee vajah se kuchh mukhy sthaanon par ek jo hai 95% laane vaala vichaar naits stoodent jo hai us cheej ko achchhee vijay sthaan ko praapt nahin karata aur vahee noor vahee vahaan par 8:00 5% ya 89% vaala jo hai us aarakshan ko lekar baith gaya us seet ko sambhaalane ke lie tab khud laga sakate hain usake shaikshanik yogyata aur us hisaab se ka tailent hai use saath usako vah cheej milanee chaahie thee khair yah to bahut lamba hai is cheej par akaram baat karenge to bahut saare sabhee ke apane-apane mat hain lekin jaativaad jo hai kaaphee had tak khatm hua hai aur khatm hona chaahie aur yah ham logon ko dekhana hai isaka phaisala jo hai na to koee neta karen aur na hee koee paartee ka jo hai ab banda karen bas yahee kuchh kahana chaahoonga aasha karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil gaya ko laik ko sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:31
उसका दोस्तों प्रश्न है कि हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है तो दोस्तों हमारे भारत में क्योंकि पहले जाति प्रथा थी अंग्रेजों ने इसका बहुत ही फायदा लिया और अंग्रेजों के ही तर्ज पर हमारे राजनीतिकरण करने वाले जो व्यक्ति है राजनीति से संबंधित लोग हैं वह इसको जानते हैं किस का कैसे लाभ दिया जा सकता है तो वह जाति में भेदभाव में विश्वास रखते हैं कोई अपनी राजनीति चमकाने की कोशिश करता है तो किसी एक जात को पकड़ लेता है कोई दूसरा व्यक्ति आगे बढ़ना चाहता दूसरी जात को पकड़ लेता है तो राजनीति करना हमारे नेता करते हैं और जो मासूम जनता जो कि हमारे पढ़े लिखे हो की संख्या कम है उसी राह पर चल जाती है और इसीलिए उनका शोषण होने लग जाता है और निरंतर होता ही रहेगा लेकिन धीरे-धीरे शहरों में जहां पढ़े-लिखे लोग आ गए हैं वहां अब भावनाओं से काम नहीं किया जाता हम बात कर लेते हैं दिल्ली की दिल्ली में लाख कोशिश की लोगों ने ध्रुवीकरण करने की धार्मिक गतिविधियां से आकर्षित करने की लेकिन देखिए जो पार्टी काम कर रही है तो लोग जाकर उसको ही चुन के जो है सदन में भेज रहे हैं धीरे-धीरे ऐसे पूरे भारत में भी आने लगेगा लेकिन जब तक कि राजनीति वाले जाति से नहीं हटेंगे या जैसे की हमारे अक्षर नहीं हटे गा तब तक जातिवाद रहेगी और इसको अकेला भी जाएगा धन्यवाद
Usaka doston prashn hai ki hamaare bhaarat mein hee jaativaad kyon hota hai to doston hamaare bhaarat mein kyonki pahale jaati pratha thee angrejon ne isaka bahut hee phaayada liya aur angrejon ke hee tarj par hamaare raajaneetikaran karane vaale jo vyakti hai raajaneeti se sambandhit log hain vah isako jaanate hain kis ka kaise laabh diya ja sakata hai to vah jaati mein bhedabhaav mein vishvaas rakhate hain koee apanee raajaneeti chamakaane kee koshish karata hai to kisee ek jaat ko pakad leta hai koee doosara vyakti aage badhana chaahata doosaree jaat ko pakad leta hai to raajaneeti karana hamaare neta karate hain aur jo maasoom janata jo ki hamaare padhe likhe ho kee sankhya kam hai usee raah par chal jaatee hai aur iseelie unaka shoshan hone lag jaata hai aur nirantar hota hee rahega lekin dheere-dheere shaharon mein jahaan padhe-likhe log aa gae hain vahaan ab bhaavanaon se kaam nahin kiya jaata ham baat kar lete hain dillee kee dillee mein laakh koshish kee logon ne dhruveekaran karane kee dhaarmik gatividhiyaan se aakarshit karane kee lekin dekhie jo paartee kaam kar rahee hai to log jaakar usako hee chun ke jo hai sadan mein bhej rahe hain dheere-dheere aise poore bhaarat mein bhee aane lagega lekin jab tak ki raajaneeti vaale jaati se nahin hatenge ya jaise kee hamaare akshar nahin hate ga tab tak jaativaad rahegee aur isako akela bhee jaega dhanyavaad

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
3:21
कर दो तो काफी अच्छा सवाल है और मेरी फील्ड से जुड़ा हुआ है आपका सवाल हमारे भारत में जातिवाद की बात करें तो देखना पड़ेगा श्वेत अश्वेत रंगभेद की नीति वैदिक सभ्यता के साथ की जातियों का जो धीरे-धीरे जो अलग मन है वो स्टार्ट हो गया था और उसी के बाजू जाकर थी वह लोग बात करते हैं दोस्तों यह क्या बात हुई कब से किताबों ने भारत पर आक्रमण किया और इसी आक्रमण के दौरान को बनाया गया 200 जातियों का अलग से यदि आप स्टडी करना चाहते हैं तो आप बाबासाहेब आंबेडकर के बहुत ही शानदार बुक हु इज द शुद्र शुद्र कौन है अपनी ग्राम पंचायत बुक मिल जाएगी पूरी पढ़ी बहुत ही शानदार बुक है आपको हर एक चीज के बारे में अच्छे से सटीकता से आगे जवाब मिलेगा तो जातिवादी जो है शुरुआत और अंत कब से डॉक्टर अंबेडकर ने अपनी पुस्तक के अंदर भारत में देखा गया दोस्तों की जो सुंदर जो लोग बात करते थे सूत्र लोगों में दोस्तों कुछ लोग जो थे वह आर्यों की गाय चराने का काम करने लगे वह वाले बन गए कि किसी तेरी मैसेज किसी ने जो है ए आर यू की कपड़े होना स्टार्ट कर दे को धोबी बन गए किसी ने उनकी जूतियां बनाना शुरू कर दिया हमारी चाची बन गए दोस्तों को झाड़ू निकालने वाला क्षमा प्रार्थी हूं आप सभी के प्रमुख समझाने के लिए मात्र आपके माल कर रहा हूं दोस्ती करने के मालिनी स्टार्ट कर दिया कि मैं गंदा काम नहीं कर रहा काम करो यह लोग जो हमसे ज्यादा गंदा काम कर रहे हैं उन्होंने उसके साथ भेजो या की मूल निवासी थी उन्हें के अंदर जूते तकरार होना शुरू हो गया और उनके एक नहीं पता नहीं हजारों खाकर बन गई है दोस्तों आप देखेंगे इसके अंदर 60 लगभग मैंने अभी तक पटिया जो 67 कास्ट है वह देखिए इसी तरीके से आपको मिल जाएंगे तो आपको ट्राईबल्स के अंदर भी काफी ज्यादा आपको जो जाती है तो सारी देखने को मिल जाएगी तो इन लोगों ने आपस में ही बात करके दोस्तों एक वंश चला उसी से दूसरा वंश बन गया एक व्यक्ति से
Kar do to kaaphee achchha savaal hai aur meree pheeld se juda hua hai aapaka savaal hamaare bhaarat mein jaativaad kee baat karen to dekhana padega shvet ashvet rangabhed kee neeti vaidik sabhyata ke saath kee jaatiyon ka jo dheere-dheere jo alag man hai vo staart ho gaya tha aur usee ke baajoo jaakar thee vah log baat karate hain doston yah kya baat huee kab se kitaabon ne bhaarat par aakraman kiya aur isee aakraman ke dauraan ko banaaya gaya 200 jaatiyon ka alag se yadi aap stadee karana chaahate hain to aap baabaasaaheb aambedakar ke bahut hee shaanadaar buk hu ij da shudr shudr kaun hai apanee graam panchaayat buk mil jaegee pooree padhee bahut hee shaanadaar buk hai aapako har ek cheej ke baare mein achchhe se sateekata se aage javaab milega to jaativaadee jo hai shuruaat aur ant kab se doktar ambedakar ne apanee pustak ke andar bhaarat mein dekha gaya doston kee jo sundar jo log baat karate the sootr logon mein doston kuchh log jo the vah aaryon kee gaay charaane ka kaam karane lage vah vaale ban gae ki kisee teree maisej kisee ne jo hai e aar yoo kee kapade hona staart kar de ko dhobee ban gae kisee ne unakee jootiyaan banaana shuroo kar diya hamaaree chaachee ban gae doston ko jhaadoo nikaalane vaala kshama praarthee hoon aap sabhee ke pramukh samajhaane ke lie maatr aapake maal kar raha hoon dostee karane ke maalinee staart kar diya ki main ganda kaam nahin kar raha kaam karo yah log jo hamase jyaada ganda kaam kar rahe hain unhonne usake saath bhejo ya kee mool nivaasee thee unhen ke andar joote takaraar hona shuroo ho gaya aur unake ek nahin pata nahin hajaaron khaakar ban gaee hai doston aap dekhenge isake andar 60 lagabhag mainne abhee tak patiya jo 67 kaast hai vah dekhie isee tareeke se aapako mil jaenge to aapako traeebals ke andar bhee kaaphee jyaada aapako jo jaatee hai to saaree dekhane ko mil jaegee to in logon ne aapas mein hee baat karake doston ek vansh chala usee se doosara vansh ban gaya ek vyakti se

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:58
सवाल यह है कि हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है जातिवाद एक ऐसी प्रणाली है जो प्राचीन काल में अपनी जड़े पाती है कि वर्षों से अंधाधुन चली आ रही है और उच्च जातियों के लोगों के हितों को आगे बढ़ा रही है जाति के लोगों का शोषण किया जा रहा है उनकी चिंताओं को सुनने वाला कोई नहीं भारतीय समाज को मोटे तौर पर 4 जातियों में लोग जो वर्गीकृत करते हैं ब्राह्मण क्षत्रिय वैश्य और शूद्र ब्राह्मण उच्च वर्ग के होते हैं प्राचीन काल में यह लोग पुरोहित गतिविधियों में शामिल थे जिनके लिए बहुत कम आते थे और शुद्र सबसे नीची जाति मानी जाती थी इस जाति से संबंधित लोक मजदूर थे जिन्हें अछूत माना जाता था इंसान वाला व्यवहार तो उनके साथ नहीं होता था हालांकि लोगों ने इन दिनों अलग-अलग पैसों को संभाल लिया है लेकिन जाति व्यवस्था अभी भी मौजूद है लोगों को आप भी उनकी जाति और उनके पैसे प्रतिभा और उपलब्धियों आधार पर आंका जाता है जातिवाद केवल भारत में ही नहीं है बल्कि कुछ अन्य देशों जैसे जापान कोरिया श्रीलंका और नेपाल में भी प्रचलित है भारत की ही तरह इन देशों में भी लोग इस बुरी व्यवस्था का प्रकोप का सामना कर चुके हैं ऐसे देश में जातिवाद के खिलाफ भारत में लोगों को एकजुट होने की बहुत जरूरत है इस प्रकार भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद जातिवाद और आधारित भेदभाव पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया गया भारतीय जाति व्यवस्था की बहुत आलोचना की जाती है कई लोग इसके खिलाफ लड़ने के लिए आगे आते हैं लेकिन हिला नहीं सके इस जघन्य समाज कुरीति को दूर करने के लिए जातिगत भेदभाव के खिलाफ कानून कब से बनाना जरूरी है भारत के संविधान में से अपने संविधान में प्रतिबंधित कर दिया यह उन सभी लोगों के लिए सौरव स्पष्ट संदेश था जो निम्न वर्ग के लोगों के साथ बुरा व्यवहार करते थे राजनेता चुनाव से पहले आम जनता से वोट मांगने के लिए विभिन्न स्थानों पर जाते हैं या प्रचार चुनाव के महीनों से पहले शुरू हो जाता है जिसके दौरान राजनेता जनता को अपने पक्ष में मतदान करने के लिए राज्य प्रभावित करने के लिए अपने सभी प्रयास करते हैं हमारे राजनेता इस बात से भलीभांति परिचित है कि जब उनकी जाति और धर्म की बात आती है तो वह कितने संवेदनशील होते हैं इस प्रकार भी इसे अधिक से अधिक वोट प्राप्त करने के लिए एक माध्यम के रूप में उपयोग करते हैं कई लोग विशेष रूप से ग्रामीण क्षेत्रों में उम्मीदवार की योग्यता अनुभव या स्थिति को संभालने की क्षमता का आकलन नहीं करते हैं और ना ही उसे वोट देते हैं यदि वह उसी जाति से हैं क्योंकि उन्हें रिश्तेदारी की भावना देता है राजनेता से जानते हैं और अधिक से अधिक वोट पाने के लिए इस कारक पर जोर देने की कोशिश करते हैं इसीलिए जातिवाद बहुत बढ़ रहा है
Savaal yah hai ki hamaare bhaarat mein hee jaativaad kyon hota hai jaativaad ek aisee pranaalee hai jo praacheen kaal mein apanee jade paatee hai ki varshon se andhaadhun chalee aa rahee hai aur uchch jaatiyon ke logon ke hiton ko aage badha rahee hai jaati ke logon ka shoshan kiya ja raha hai unakee chintaon ko sunane vaala koee nahin bhaarateey samaaj ko mote taur par 4 jaatiyon mein log jo vargeekrt karate hain braahman kshatriy vaishy aur shoodr braahman uchch varg ke hote hain praacheen kaal mein yah log purohit gatividhiyon mein shaamil the jinake lie bahut kam aate the aur shudr sabase neechee jaati maanee jaatee thee is jaati se sambandhit lok majadoor the jinhen achhoot maana jaata tha insaan vaala vyavahaar to unake saath nahin hota tha haalaanki logon ne in dinon alag-alag paison ko sambhaal liya hai lekin jaati vyavastha abhee bhee maujood hai logon ko aap bhee unakee jaati aur unake paise pratibha aur upalabdhiyon aadhaar par aanka jaata hai jaativaad keval bhaarat mein hee nahin hai balki kuchh any deshon jaise jaapaan koriya shreelanka aur nepaal mein bhee prachalit hai bhaarat kee hee tarah in deshon mein bhee log is buree vyavastha ka prakop ka saamana kar chuke hain aise desh mein jaativaad ke khilaaph bhaarat mein logon ko ekajut hone kee bahut jaroorat hai is prakaar bhaarat ko svatantrata milane ke baad jaativaad aur aadhaarit bhedabhaav par pratibandh lagaane ka nirnay liya gaya bhaarateey jaati vyavastha kee bahut aalochana kee jaatee hai kaee log isake khilaaph ladane ke lie aage aate hain lekin hila nahin sake is jaghany samaaj kureeti ko door karane ke lie jaatigat bhedabhaav ke khilaaph kaanoon kab se banaana jarooree hai bhaarat ke sanvidhaan mein se apane sanvidhaan mein pratibandhit kar diya yah un sabhee logon ke lie saurav spasht sandesh tha jo nimn varg ke logon ke saath bura vyavahaar karate the raajaneta chunaav se pahale aam janata se vot maangane ke lie vibhinn sthaanon par jaate hain ya prachaar chunaav ke maheenon se pahale shuroo ho jaata hai jisake dauraan raajaneta janata ko apane paksh mein matadaan karane ke lie raajy prabhaavit karane ke lie apane sabhee prayaas karate hain hamaare raajaneta is baat se bhaleebhaanti parichit hai ki jab unakee jaati aur dharm kee baat aatee hai to vah kitane sanvedanasheel hote hain is prakaar bhee ise adhik se adhik vot praapt karane ke lie ek maadhyam ke roop mein upayog karate hain kaee log vishesh roop se graameen kshetron mein ummeedavaar kee yogyata anubhav ya sthiti ko sambhaalane kee kshamata ka aakalan nahin karate hain aur na hee use vot dete hain yadi vah usee jaati se hain kyonki unhen rishtedaaree kee bhaavana deta hai raajaneta se jaanate hain aur adhik se adhik vot paane ke lie is kaarak par jor dene kee koshish karate hain iseelie jaativaad bahut badh raha hai

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
सचिन पाठक Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए सचिन जी का जवाब
Unknown
2:50
नमस्कार मित्रों मैं सचिन पाठक फिर से उपस्थित हूं आपके समक्ष एक नए प्रश्न के उत्तर के साथ जैसा कि आपका प्रश्न है कि हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है तो देखिए जैसे आपके प्रश्न के उत्तर के लिए बता दूं कि जैसे जिस तरीके से भारत पर देश है जिस तरह के से यहां पर डाइवर्सिटी है ठीक है क्योंकि अगर आप भारत देखेंगे तो आपको भारत में हर एक तरीके के हर एक समुदाय के लोग मिल जाएंगे अगर आप देखेंगे हिंदू को आप देखेंगे मुस्लिम को सिख ईसाई पारसी जहान जितने भी धर्म है और भारत एक ऐसा देश है जहां पर किसी भी धर्म के लोगों पर कभी भी कोई दिक्कत नहीं हूं ठीक है वह हमेशा किसी एक धर्म के खिलाफ भारत में कभी लोगों को हमारा दे गया पीता नहीं गया इसमें क्या होता है कि जैसा कि देखिए बहुत लोग हैं देश में कई लोग हैं सबकी अपनी अलग-अलग विचारधारा होती है सबका अपना-अपना सोचने का तरीका होता है ठीक है अब तो उसी तरह भारत में कई भारत के गृह हिंदू धर्म ही देखेंगे या फिर आप मुस्लिम धर्म में देखेंगे उन चीजों में बदल दिया गया भारत में देखेंगे तो ब्राह्मण वैश्य शूद्र को इस कैटेगरी में चेंज कर दीजिए अगर आपकी बात करेंगे तो यह सारी चीजें आपके ऊपर आप कोई भी कर्म करते हैं अगर आप अगर आप एक क्षत्रिय ब्राह्मण में चेंज हो सकते थे लेकिन अभी क्या हो गया यह सारी चीजें आपकी जन्म से निर्धारित होने लगी है जो कि गलत है तो उसमें क्या होता है कि लोगों को जो इगो होती है वह बीच में आती है किसी को कुछ लगता है किसी को कुछ लगता है तो इसके कारण भारत में जातिवाद है लेकिन अगर आप देखेंगे ऐसा नहीं है कि भारत में ही जातिवाद है फिर धर्म कोई धर्म के आगे बोलता है कोई बोलता है अगर आप जैसे भी आएंगे वहां पर आप को देखेंगे आप हमेशा आप देखते होंगे वहां पर ब्लैक लाइफ मैटर की तरह के जिस तरह से मूवमेंट चल रहा था ठीक है वह आपके वहां पर काले गुरु में भेद करते हैं ठीक है अगर आपका फेस का कलर या फिर आपके स्किन का कलर ब्लैक से या फिर आप कल किसी भी सामने टाइप को तो भी वहां पर आपको उस रेशम का सामना करना पड़ता है ठीक है मिलेंगे देखेंगे आप मुस्लिम धर्म में देखेंगे तो फिर सिया सुन्नी जैसे लोग हो जाते हैं तो वह सारी चीजों को जाति में बदल दिया गया तो इसलिए हमारे जातिवाद होता है लेकिन वहां पर आप देखेंगे तो लाइफ नाटक आस्था मूवमेंट हुआ तो वहां पर गोरे गोरे काले और गोरे का भेद होता है
Namaskaar mitron main sachin paathak phir se upasthit hoon aapake samaksh ek nae prashn ke uttar ke saath jaisa ki aapaka prashn hai ki hamaare bhaarat mein hee jaativaad kyon hota hai to dekhie jaise aapake prashn ke uttar ke lie bata doon ki jaise jis tareeke se bhaarat par desh hai jis tarah ke se yahaan par daivarsitee hai theek hai kyonki agar aap bhaarat dekhenge to aapako bhaarat mein har ek tareeke ke har ek samudaay ke log mil jaenge agar aap dekhenge hindoo ko aap dekhenge muslim ko sikh eesaee paarasee jahaan jitane bhee dharm hai aur bhaarat ek aisa desh hai jahaan par kisee bhee dharm ke logon par kabhee bhee koee dikkat nahin hoon theek hai vah hamesha kisee ek dharm ke khilaaph bhaarat mein kabhee logon ko hamaara de gaya peeta nahin gaya isamen kya hota hai ki jaisa ki dekhie bahut log hain desh mein kaee log hain sabakee apanee alag-alag vichaaradhaara hotee hai sabaka apana-apana sochane ka tareeka hota hai theek hai ab to usee tarah bhaarat mein kaee bhaarat ke grh hindoo dharm hee dekhenge ya phir aap muslim dharm mein dekhenge un cheejon mein badal diya gaya bhaarat mein dekhenge to braahman vaishy shoodr ko is kaitegaree mein chenj kar deejie agar aapakee baat karenge to yah saaree cheejen aapake oopar aap koee bhee karm karate hain agar aap agar aap ek kshatriy braahman mein chenj ho sakate the lekin abhee kya ho gaya yah saaree cheejen aapakee janm se nirdhaarit hone lagee hai jo ki galat hai to usamen kya hota hai ki logon ko jo igo hotee hai vah beech mein aatee hai kisee ko kuchh lagata hai kisee ko kuchh lagata hai to isake kaaran bhaarat mein jaativaad hai lekin agar aap dekhenge aisa nahin hai ki bhaarat mein hee jaativaad hai phir dharm koee dharm ke aage bolata hai koee bolata hai agar aap jaise bhee aaenge vahaan par aap ko dekhenge aap hamesha aap dekhate honge vahaan par blaik laiph maitar kee tarah ke jis tarah se moovament chal raha tha theek hai vah aapake vahaan par kaale guru mein bhed karate hain theek hai agar aapaka phes ka kalar ya phir aapake skin ka kalar blaik se ya phir aap kal kisee bhee saamane taip ko to bhee vahaan par aapako us resham ka saamana karana padata hai theek hai milenge dekhenge aap muslim dharm mein dekhenge to phir siya sunnee jaise log ho jaate hain to vah saaree cheejon ko jaati mein badal diya gaya to isalie hamaare jaativaad hota hai lekin vahaan par aap dekhenge to laiph naatak aastha moovament hua to vahaan par gore gore kaale aur gore ka bhed hota hai

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
2:15
कि भारत में अलग-अलग जाति के लोग रहते हैं अलग-अलग धर्मों के लोग रहते हैं और सभी एक जैसे नहीं होते कि एक दूसरे को रिस्पेक्ट एआई या यूनिटी इन डायवर्सिटी को फॉलो करने की कोशिश करें उन लोगों का बसमत यही रहता है कि हमारा घर में हमारी जाति सर्वश्रेष्ठ है तो इसीलिए सर डिफरेंस जाते हैं यह कुछ नहीं है केवल अपने मन का खेल है कि हमेशा सोच लेते हैं इसलिए हमारी कास्ट आई है और यह दूसरा जो भी है तो उसके लिए यह जो जातिवाद है यह है और कुछ लोग बीच में मध्यस्थता दिखाकर इसमें और ज्यादा वोट डालने की कोशिश करते हैं लेकिन बाकी ऐसी कोई बात नहीं है आज के समय में थे वेल एजुकेटेड लोग हो चुके कि अंडरस्टैंडिंग सभी में है कि हम वह इंसान है जो सामने वाला है हमारे अंदर भी वही खून में जो सामने वाले का है और उस हमें भी उसी ईश्वर ने अल्लाह ने बनाया है जिसने उस से बनाया है ना तू यह चीज जानते हैं पर कुछ लोग मानना या समझना नहीं चाहते तो वह लोग डिफरेंस इस क्रिएट करते हैं नहीं तो ऐसा कुछ भी नहीं है जातिवाद तो है यह कूड़ा शब्द है इसकी कोई वैल्यू नहीं है क्योंकि हम सभी एक हैं हम सभी एक समान हैं और हम सभी के जो कर्म है वह भी एक ही होनी चाहिए मतलब मानवता के लिए जो कर्म होने चाहिए और अपने देश के प्रति जो प्रेम भावना होनी चाहिए वह सभी वही चीज है लेकिन कुछ लोग उसे मानते हैं और जो लोग नहीं मानते वही जातिवाद को बढ़ावा देते हैं वरना जातिवाद के जैसा या बाद किसी प्रकार का कोई शक नहीं क्योंकि हम सभी को एक साथ मिलकर चलना है आगे भी और यह चीज लोग जितनी जल्दी समझ जाएंगे उतने वह लाइफ में सक्सेसफुल होंगे मेंटली फिजिकली एंड पीसफुली आल्सो इन क्यू
Ki bhaarat mein alag-alag jaati ke log rahate hain alag-alag dharmon ke log rahate hain aur sabhee ek jaise nahin hote ki ek doosare ko rispekt eaee ya yoonitee in daayavarsitee ko pholo karane kee koshish karen un logon ka basamat yahee rahata hai ki hamaara ghar mein hamaaree jaati sarvashreshth hai to iseelie sar dipharens jaate hain yah kuchh nahin hai keval apane man ka khel hai ki hamesha soch lete hain isalie hamaaree kaast aaee hai aur yah doosara jo bhee hai to usake lie yah jo jaativaad hai yah hai aur kuchh log beech mein madhyasthata dikhaakar isamen aur jyaada vot daalane kee koshish karate hain lekin baakee aisee koee baat nahin hai aaj ke samay mein the vel ejuketed log ho chuke ki andarastainding sabhee mein hai ki ham vah insaan hai jo saamane vaala hai hamaare andar bhee vahee khoon mein jo saamane vaale ka hai aur us hamen bhee usee eeshvar ne allaah ne banaaya hai jisane us se banaaya hai na too yah cheej jaanate hain par kuchh log maanana ya samajhana nahin chaahate to vah log dipharens is kriet karate hain nahin to aisa kuchh bhee nahin hai jaativaad to hai yah kooda shabd hai isakee koee vailyoo nahin hai kyonki ham sabhee ek hain ham sabhee ek samaan hain aur ham sabhee ke jo karm hai vah bhee ek hee honee chaahie matalab maanavata ke lie jo karm hone chaahie aur apane desh ke prati jo prem bhaavana honee chaahie vah sabhee vahee cheej hai lekin kuchh log use maanate hain aur jo log nahin maanate vahee jaativaad ko badhaava dete hain varana jaativaad ke jaisa ya baad kisee prakaar ka koee shak nahin kyonki ham sabhee ko ek saath milakar chalana hai aage bhee aur yah cheej log jitanee jaldee samajh jaenge utane vah laiph mein saksesaphul honge mentalee phijikalee end peesaphulee aalso in kyoo

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:09
मेरा बात नहीं हमारा भारत हमारा भारत जहां पर हर जाति हर धर्म के लोग रहते हैं अलग-अलग भाषाएं बोलते हैं अलग-अलग तरह के पहनावे को अपनाते हैं अलग-अलग तरह के भोजन को खाते हैं तरह-तरह के त्यौहार मनाते हैं फिर भी सब एक मेरा भारत एक ऐसा अकेला देश है जहां पर इतनी ज्यादा धर्म के लोग इतने सारे जाति पात पाई जाती है हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों है इसका सबसे बड़ा कारण है कि यहां पर अलग-अलग जाति के लोग रहते हैं अलग-अलग धर्मों के लोग रहते हैं और जातिवाद में कहूं एक तरह से हमारे लिए बस आपका भी काम करते हैं रोजाना कहीं ना कहीं हम यह सुनते हैं कि जगह-जगह खबर किसी बात पर दो जाति के बीच में दंगा हो गया तू धर्मों के बीच में दंगा हो मेरे भारत देश की पहचान है या अलग अलग जाति के लोग रहते हैं अलग-अलग भाषाएं बोलते अलग-अलग धर्मों के लोग रहते हैं परंतु कुछ कुछ कारण ही जातिवाद को हमारे लिए भी शराब बनाते जा रहे हैं भारत में जातिवाद इसलिए है क्योंकि अलग-अलग तरह की जाती रहते हैं परंतु हमें जातिवाद को बढ़ावा देना चाहिए उस तरह से नहीं कि किसी आम किस जाति के हैं उसी काम तारीफ करें दूसरे साथी को नीचा दिखाए बढ़ावा देने का मतलब है सब एकजुट हो जाएं सभी जाति एकजुट होकर अपने अपने अपने अपने जाति का प्रचार करता साथ-साथ दूसरे भी जाति का सम्मान करें जब हम अपने जाति का तारीफ करते क्या मिस जाति से बिलॉन्ग करते हैं प्रशासक दूसरी शादी का भी सम्मान करते हैं तब लोगों में आपस में प्रेम की भावना उत्पन्न होती है जिससे कि हम जातिवाद को बढ़ाओ दे सकते हैं हम एकत्र होकर अपने भारत देश में अपने भारत देश का इसे ताकत बना सकते हैं

bolkar speaker
हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है?Humare Bharat Mein He Jaativaad Kyun Hota Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:35
हेलो अभी बंद स्वागत है आपका आपका प्रश्न है हमारे भारत में ही जातिवाद क्यों होता है तो फ्रेंड से हमारे भारत में ही नहीं है बहुत सारी जगह पर जातिवाद होता है और यह जातिवाद आरक्षण तय होता है कि बहुत भारत में बहुत लोगों को आरक्षण मिला हुआ है तो जिसमें बहुत सारी जातियां हैं उनको आरक्षण पहले से दिया गया हुआ है और यह पहले से ही पीढ़ियों से ऐसा चलता है तो अभी भी चलता जार चल रहा है ऐसे तो यह पीढ़ियों से ही चलता रहा है यह जातिवादी आरक्षण तो इसीलिए चलता है धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारत में कैसे फैल रहा है जातिवाद, भारत में जातिवाद ,भारत में जातिवाद की समस्या
URL copied to clipboard