#जीवन शैली

bolkar speaker

अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?

Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
4:59
आप सवाल अमीर और गरीब की आदतों में क्या अंतर होता है इसका जवाब है आज तो मैं अंतर तो बहुत होता है भाई और निरंतर सोचने होता है सोच में बहुत अंतर होता है अगर सोच बदल लिया ना अगर गरीब और अमीर की सोच दोनों की अलग-अलग होती है ठीक है मैं आपको बताता हूं कैसे हो गरीब लोगों को मानसिक भी अलग होता है अमीर लोग मार्केट व्हाट्सएप कुछ माइंडसेट कृपया कर आप देखोगे ना यार जितने लोग भी अमीर है ना वो उनके पास भी एक टाइम था जिनके उनके पास भी एक पैसा नहीं था ₹1 भी नहीं था ठीक है जीरो रुपए उन्होंने भी जीरो से स्टार्ट की है और वही एक गरीब को देखोगे उनके पास भी तो पैसा नहीं है लेकिन वह कभी अमीर बनने की सोचते नहीं यार गरीब लोग हमेशा यह सोचे कि मेरे पास यह नहीं है मेरे पास वही है मेरे पास पैसा नहीं है और अमीर बनने की वह लोग सोचते भी नहीं है बड़ा सोचते नहीं और एक गरीब एक अमीर अमीर को देखोगे नामों से स्टार्ट गेहूं के पास पहले पैसा नहीं था वह खुद खुद के दम पर खुद की मेहनत से उन्होंने वह उनका हासिल किया वह अमीर में ठीक है आप जाकर के उनके पिता है पढ़ सकते हो बहुत सारी किताबें आजकल तो आप की तारे पढ़ सकते जो लोग सफलता को प्राप्त की एकता मुंह के पास पैसा नहीं था बस माइंडसेट का फर्क है मानसिकता पर गरीब गरीब लोग छोटे-छोटे यार और अभी लोग बड़ा सोचते हैं ठीक है यानी करीब लोग सोचने की पढ़ाई करेंगे यह करेंगे जॉब करेंगे फिर 10 15 हजार के नौकरी करेंगे फिर शादी करेंगे बच्चे पैदा करेंगे फिर आराम से जिंदगी अमीर आदमी को तैयार ठीक है 10,000 करते ठीक है बड़ा सोचने के साथ बड़ा काम करते हैं बड़ा एक्शन लेते हैं और जूस कर लेते हैं रिश्ते गरीब आदमी रिस्क लेने से डरता है बड़ा नहीं सोच पाता आगे नहीं बढ़ पाता इसी कारण पीछे राजनीतिक और अब तो तुमको अपनी नॉलेज को इनक्रीस करते रहते डे बाय डे को अपनी नानी को बढ़ाते रहता है ठीक है अभी कॉलेज मैनेजमेंट करता है अपनी एजुकेशन में इन्वेस्टमेंट करता है वहां पर खाने से नॉलेज पैसा कैसे कमाते हैं पैसा कैसे काम कर रही है सर जी के बारे में नहीं बताया तो स्कूल कॉलेज में ठीक है अमीर आज मिलोगे लिपस्टिक सब चीज सीखते हैं कहां से हैं किताबें पढ़ते हैं किताब किताब पढ़ते हैं यह इनकी आदत है कभी लोगी और गरीब लोगों की आदत क्या होती है स्कूल से पढ़ाई कर लेते कैसे पढ़ना छोड़ देने की बोलो अपने अपने ऊपर इन्वेस्टमेंट नहीं करते और आप अमीर आदमी को देखो तो अगर कहीं वर्कशॉप भी होता है इवेंट होता है जहां पर बड़े-बड़े स्पीकर रानी कुछ नया सीखने को जहां पर मिले तो वह पैसा लगाने के लिए तैयार रहता अमीर आदमी की एक नई चीज़ सीखने के लिए भी वह हजार रुपे लाखों रुपए खर्च करने के लिए तैयार होता है अमीर आदमी लोग ठीक है और एक गरीब आदमी को देखोगे ना तो यार वह खुद के लिए इंग्लिश में नाली की सेल्फ एजुकेशन मैनेजमेंट करके करना चाहता हूं अभी नॉलेज को बढ़ाना नहीं चाहता इसीलिए वह लोग गरीब से गरीब हो जाते हैं ठीक है अगर आप अमीर बनना चाहते तो डे बाय डे हर दिन आप अपनी नॉलेज को बढ़ाओ किताबें पढ़ो बुक रीडिंग करो नई नई देसी को उन्हें नीचे पढ़ो ठीक है अच्छे दोस्त बनाओ पावर ऑफ नेटवर्किंग बड़े-बड़े लोगों से नेटवर्क में लगाने की अच्छे लोग अच्छे लोगों की दोस्ती करोगे जो लोग सक्सेसफुल है अपनी लाइफ में वैसे लोगों के साथ रहोगे तो आप एक दिन सक्सेसफुल बन जाओगे यह मेन आए अभी लोग बड़े लोग उस आतंकी नेटवर्क करते यार अच्छे लोगों के साथ जो लोग सक्सेसफुल है जिनकी सोच अलग है बड़ी सोच है उन लोग के साथ दोस्ती करते हैं कांटेक्ट में रहते हैं फिर मिल लो ठीक है और गरीब लोग के मैंने आपको बता दिया ठीक है मार्केट का फर्क होता है वह लोग सिर्फ यही सोच रहे आज एक मेरे पास यह कमी है यह है यह नहीं आई है और गरीब लोग क्या करते हैं फिर से नफरत करती यार पैसों से नफरत करते हैं जो लोग गरीब है ना वह लोग पैसों से नफरत करते हैं कई लोग होंगे जो लोग नहीं करते लेकिन जो लोग नफरत करते हैं तुम कैसे अगर आप यह बताओ आप आप अपने दोस्त को अपन नफरत करोगे तो कोई आपके साथ दोस्ती करें अगर आप किसी को नफरत करोगे तो कोई आपके साथ दोस्ती नहीं करना चाहेगा ठीक है मैं इसलिए अगर आप पैसे के साथ दो मनी करोगे नफरत करके पैसे को तो पैसा तुम्हारे पास क्यों आना चाहेगा भाई ठीक है अगर आप पैसों से दुश्मनी करोगे तो बस आपके साथ नहीं आना चाहेगा अगर आप पैसे को प्यार करोगे तो आपके पास पैसा भी आएगा पैसे से दोस्ती करोगे तो आपके पास पैसा आएगा तो मेरी जान यह भी होता है ठीक है कि अगर आप पैसों से प्यार करते हो तो आपके पास पैसा आएगा आप अमीर बन जाओगे फिर आप ऐसे क्यों नफरत करते हो अमीर लोगों से नफरत करते हो आप कभी भी अमीर अमीर बन पाओगे ठीक है तू हर दिन अपनी काले तो बड़ा यादव को बदलो और जितने लोग भी सक्सेसफुल है उनकी एक आदत है सुबह जल्दी उठते हैं और किताबें पढ़ते हैं अपनी अपनी स्किल्स बर्बरता और एक लक्ष्य बना तिहार के जीवन में लक्ष्य होता है अमीर लोगों के पास कि यह करना है यह कन्या 5 साल बाद एक नए 10 साल बाद एक आदमी ने जहां तक करना याद डिसप्लेमेट होता है अमीरों के पास गरीब लोग कुछ बोल नहीं होता कि मुझे पता ही नहीं था कि आगे क्या करना अपनी लाइफ में रुपए की पड़ेगी जॉब करेंगे शादी करेंगे बच्चे पैदा करेंगे इसके अलावा कुछ नहीं सोच पाते लेकिन
Aap savaal ameer aur gareeb kee aadaton mein kya antar hota hai isaka javaab hai aaj to main antar to bahut hota hai bhaee aur nirantar sochane hota hai soch mein bahut antar hota hai agar soch badal liya na agar gareeb aur ameer kee soch donon kee alag-alag hotee hai theek hai main aapako bataata hoon kaise ho gareeb logon ko maanasik bhee alag hota hai ameer log maarket vhaatsep kuchh maindaset krpaya kar aap dekhoge na yaar jitane log bhee ameer hai na vo unake paas bhee ek taim tha jinake unake paas bhee ek paisa nahin tha ₹1 bhee nahin tha theek hai jeero rupe unhonne bhee jeero se staart kee hai aur vahee ek gareeb ko dekhoge unake paas bhee to paisa nahin hai lekin vah kabhee ameer banane kee sochate nahin yaar gareeb log hamesha yah soche ki mere paas yah nahin hai mere paas vahee hai mere paas paisa nahin hai aur ameer banane kee vah log sochate bhee nahin hai bada sochate nahin aur ek gareeb ek ameer ameer ko dekhoge naamon se staart gehoon ke paas pahale paisa nahin tha vah khud khud ke dam par khud kee mehanat se unhonne vah unaka haasil kiya vah ameer mein theek hai aap jaakar ke unake pita hai padh sakate ho bahut saaree kitaaben aajakal to aap kee taare padh sakate jo log saphalata ko praapt kee ekata munh ke paas paisa nahin tha bas maindaset ka phark hai maanasikata par gareeb gareeb log chhote-chhote yaar aur abhee log bada sochate hain theek hai yaanee kareeb log sochane kee padhaee karenge yah karenge job karenge phir 10 15 hajaar ke naukaree karenge phir shaadee karenge bachche paida karenge phir aaraam se jindagee ameer aadamee ko taiyaar theek hai 10,000 karate theek hai bada sochane ke saath bada kaam karate hain bada ekshan lete hain aur joos kar lete hain rishte gareeb aadamee risk lene se darata hai bada nahin soch paata aage nahin badh paata isee kaaran peechhe raajaneetik aur ab to tumako apanee nolej ko inakrees karate rahate de baay de ko apanee naanee ko badhaate rahata hai theek hai abhee kolej mainejament karata hai apanee ejukeshan mein investament karata hai vahaan par khaane se nolej paisa kaise kamaate hain paisa kaise kaam kar rahee hai sar jee ke baare mein nahin bataaya to skool kolej mein theek hai ameer aaj miloge lipastik sab cheej seekhate hain kahaan se hain kitaaben padhate hain kitaab kitaab padhate hain yah inakee aadat hai kabhee logee aur gareeb logon kee aadat kya hotee hai skool se padhaee kar lete kaise padhana chhod dene kee bolo apane apane oopar investament nahin karate aur aap ameer aadamee ko dekho to agar kaheen varkashop bhee hota hai ivent hota hai jahaan par bade-bade speekar raanee kuchh naya seekhane ko jahaan par mile to vah paisa lagaane ke lie taiyaar rahata ameer aadamee kee ek naee cheez seekhane ke lie bhee vah hajaar rupe laakhon rupe kharch karane ke lie taiyaar hota hai ameer aadamee log theek hai aur ek gareeb aadamee ko dekhoge na to yaar vah khud ke lie inglish mein naalee kee selph ejukeshan mainejament karake karana chaahata hoon abhee nolej ko badhaana nahin chaahata iseelie vah log gareeb se gareeb ho jaate hain theek hai agar aap ameer banana chaahate to de baay de har din aap apanee nolej ko badhao kitaaben padho buk reeding karo naee naee desee ko unhen neeche padho theek hai achchhe dost banao paavar oph netavarking bade-bade logon se netavark mein lagaane kee achchhe log achchhe logon kee dostee karoge jo log saksesaphul hai apanee laiph mein vaise logon ke saath rahoge to aap ek din saksesaphul ban jaoge yah men aae abhee log bade log us aatankee netavark karate yaar achchhe logon ke saath jo log saksesaphul hai jinakee soch alag hai badee soch hai un log ke saath dostee karate hain kaantekt mein rahate hain phir mil lo theek hai aur gareeb log ke mainne aapako bata diya theek hai maarket ka phark hota hai vah log sirph yahee soch rahe aaj ek mere paas yah kamee hai yah hai yah nahin aaee hai aur gareeb log kya karate hain phir se napharat karatee yaar paison se napharat karate hain jo log gareeb hai na vah log paison se napharat karate hain kaee log honge jo log nahin karate lekin jo log napharat karate hain tum kaise agar aap yah batao aap aap apane dost ko apan napharat karoge to koee aapake saath dostee karen agar aap kisee ko napharat karoge to koee aapake saath dostee nahin karana chaahega theek hai main isalie agar aap paise ke saath do manee karoge napharat karake paise ko to paisa tumhaare paas kyon aana chaahega bhaee theek hai agar aap paison se dushmanee karoge to bas aapake saath nahin aana chaahega agar aap paise ko pyaar karoge to aapake paas paisa bhee aaega paise se dostee karoge to aapake paas paisa aaega to meree jaan yah bhee hota hai theek hai ki agar aap paison se pyaar karate ho to aapake paas paisa aaega aap ameer ban jaoge phir aap aise kyon napharat karate ho ameer logon se napharat karate ho aap kabhee bhee ameer ameer ban paoge theek hai too har din apanee kaale to bada yaadav ko badalo aur jitane log bhee saksesaphul hai unakee ek aadat hai subah jaldee uthate hain aur kitaaben padhate hain apanee apanee skils barbarata aur ek lakshy bana tihaar ke jeevan mein lakshy hota hai ameer logon ke paas ki yah karana hai yah kanya 5 saal baad ek nae 10 saal baad ek aadamee ne jahaan tak karana yaad disaplemet hota hai ameeron ke paas gareeb log kuchh bol nahin hota ki mujhe pata hee nahin tha ki aage kya karana apanee laiph mein rupe kee padegee job karenge shaadee karenge bachche paida karenge isake alaava kuchh nahin soch paate lekin

और जवाब सुनें

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
himanshu bansal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए himanshu जी का जवाब
Influencer, trainer,motivate speaker
2:28
नमस्कार सभी को यहां पर सवाल है कि अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है तो सबसे पहले तो मैं यहां पर यह मानता हूं कि ऐसी कोई फिक्स आदत नहीं है कि जो एक इंसान को अमीर या गरीब बताएं हम ऐसा नहीं कह सकते कि हम जी अगर यह ऐसी आदत है इसकी ठीक है तो अमीर बन जाए और वह अमीर है और अगर की ऐसी आदत है तो गरीब है तो ऐसी कोई आदत नहीं है कि यह आदत अभी करते हैं और करीबी करते आदत बहुत सारी है किसी को किसी चीज की आदत है किसी को पढ़ने की आदत है किसी की आदत है किसी को बाहर घूमने की आदत है किसी को देखने की आदत है इसको गाने सुनने की आदत है कुछ खाने पीने की आदत हो सकती है आज तो से कोई अमीर गरीब नहीं बनता हां जी अपने कर्मों से जरूर बनता अपने काम से अपनी स्ट्रेटजी से जरूर बनता है कि हां भाई उसका काम करने का तरीका क्या है तो हमको अमीर अमीर अमीर इंसान पैसे से पैसा बनाता है गरीब इंसान के पास के रोज कमाता है और रोज खाता काम करने के तरीके से तो बता सकते हैं कि कौन कौन गरीब है ठीक है लेकिन हम लोग ऐसे नहीं बता सकते कि अगर मान लीजिए उसमें पढ़ने की आदत है तो वह अमीर है अगर से खेलने की आदत है तो गरीब है ऐसा तो हम नहीं बता सकते हैं तो ऐसी कोई आदत नहीं होती इस आदत की वजह बता दे कि हां जी वो सामने वाला गरीब है या फिर अमीर है ऐसी कोई आदत नहीं है आदत इंसान इंसान के ऊपर वेरी करती है ना कि अमीरी और गरीबी के ऊपर यह तो सही है जितनी पूछा होगा उसके मन में सवाल उठा अपने मन का सवाल पूछना चाहिए उसी के लिए प्लेटफार्म दिया गया है लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि अमीर और गरीब में कोई आदत फर्स्ट लुक से बड़ी नहीं हुई है कि यह गलत है जो कि हम लोग फॉलो करें कि कॉल वफादारी ब्लू गाने सुने और अच्छा अच्छा अच्छा अच्छा अच्छा पहले ठीक है और वीडियोस बनाएं और बुक्स पढ़ने की मानता हूं सबसे ज्यादा अच्छी आदतें कोई जरूरी नहीं है कि आप अमीर है गरीब है तो ही आप पढ़े ऐसा कुछ नहीं है आप अमीर गरीब होकर भी अपनी आदतों में कैसी भी रख सकते हैं बहुत सारे ऐसे होते हैं जो गरीब होते हैं और अच्छी आदत लेकर वह अमीर बन जाते हैं बहुत ऐसे होते जो अमीर होते हैं बुरे हो गरीब बन जाते हैं ऐसा कुछ नहीं अमीर और गरीब में कोई डिप्रेशन है ऐसा कुछ नहीं कोई गलती हुई हो तो लाइक कीजिए और कमेंट बॉक्स में बताइए कैसा लगा आपको
Namaskaar sabhee ko yahaan par savaal hai ki ameer aur gareeb logon kee aadaton mein kya antar hota hai to sabase pahale to main yahaan par yah maanata hoon ki aisee koee phiks aadat nahin hai ki jo ek insaan ko ameer ya gareeb bataen ham aisa nahin kah sakate ki ham jee agar yah aisee aadat hai isakee theek hai to ameer ban jae aur vah ameer hai aur agar kee aisee aadat hai to gareeb hai to aisee koee aadat nahin hai ki yah aadat abhee karate hain aur kareebee karate aadat bahut saaree hai kisee ko kisee cheej kee aadat hai kisee ko padhane kee aadat hai kisee kee aadat hai kisee ko baahar ghoomane kee aadat hai kisee ko dekhane kee aadat hai isako gaane sunane kee aadat hai kuchh khaane peene kee aadat ho sakatee hai aaj to se koee ameer gareeb nahin banata haan jee apane karmon se jaroor banata apane kaam se apanee stretajee se jaroor banata hai ki haan bhaee usaka kaam karane ka tareeka kya hai to hamako ameer ameer ameer insaan paise se paisa banaata hai gareeb insaan ke paas ke roj kamaata hai aur roj khaata kaam karane ke tareeke se to bata sakate hain ki kaun kaun gareeb hai theek hai lekin ham log aise nahin bata sakate ki agar maan leejie usamen padhane kee aadat hai to vah ameer hai agar se khelane kee aadat hai to gareeb hai aisa to ham nahin bata sakate hain to aisee koee aadat nahin hotee is aadat kee vajah bata de ki haan jee vo saamane vaala gareeb hai ya phir ameer hai aisee koee aadat nahin hai aadat insaan insaan ke oopar veree karatee hai na ki ameeree aur gareebee ke oopar yah to sahee hai jitanee poochha hoga usake man mein savaal utha apane man ka savaal poochhana chaahie usee ke lie pletaphaarm diya gaya hai lekin mujhe aisa lagata hai ki ameer aur gareeb mein koee aadat pharst luk se badee nahin huee hai ki yah galat hai jo ki ham log pholo karen ki kol vaphaadaaree bloo gaane sune aur achchha achchha achchha achchha achchha pahale theek hai aur veediyos banaen aur buks padhane kee maanata hoon sabase jyaada achchhee aadaten koee jarooree nahin hai ki aap ameer hai gareeb hai to hee aap padhe aisa kuchh nahin hai aap ameer gareeb hokar bhee apanee aadaton mein kaisee bhee rakh sakate hain bahut saare aise hote hain jo gareeb hote hain aur achchhee aadat lekar vah ameer ban jaate hain bahut aise hote jo ameer hote hain bure ho gareeb ban jaate hain aisa kuchh nahin ameer aur gareeb mein koee dipreshan hai aisa kuchh nahin koee galatee huee ho to laik keejie aur kament boks mein bataie kaisa laga aapako

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:05
होली गाना 2017 की अमीर और गरीब की आदतों में क्या अंतर होता है तो दिन हुए देखे हुए यह है कि जो अमीर लोग होते हैं उनके अंदर मतलब एक्सपेक्टेशन बहुत ज्यादा हाई होता है जैसे कि अगर 10 साल से आए हैं तो और ज्यादा सोते रहते हो छोटी छोटी चीजों में कुछ नहीं बातें अपनी फैमिली के साथ टाइम स्पेंड इस वजह से नहीं कर पाते जितना भी पैसा आ रहा है और ज्यादा कैसे उसका डबल ट्रिपल हो हमेशा इसी बारे में सोचता हूं कि आदत ऐसी होती है लेकिन वो कि अगर आदमी तो गरीबों का मतलब जो गरीब लोग हैं जितने भी अपनी छोटी छोटी चीजों में खुश रहना सीखना और उन्हें उस चीज से भी खुशी मिलती है ना उनके पास जितना पैसा जाता हूं कि अगर पूरी हो जाती तो वहीं पर एक पाठ करना छोड़ दो इनविटेशन के चक्कर में वह छोटी-छोटी चीजों में खुश रहना नहीं भूल जाते नहीं छोड़ देते हैं
Holee gaana 2017 kee ameer aur gareeb kee aadaton mein kya antar hota hai to din hue dekhe hue yah hai ki jo ameer log hote hain unake andar matalab eksapekteshan bahut jyaada haee hota hai jaise ki agar 10 saal se aae hain to aur jyaada sote rahate ho chhotee chhotee cheejon mein kuchh nahin baaten apanee phaimilee ke saath taim spend is vajah se nahin kar paate jitana bhee paisa aa raha hai aur jyaada kaise usaka dabal tripal ho hamesha isee baare mein sochata hoon ki aadat aisee hotee hai lekin vo ki agar aadamee to gareebon ka matalab jo gareeb log hain jitane bhee apanee chhotee chhotee cheejon mein khush rahana seekhana aur unhen us cheej se bhee khushee milatee hai na unake paas jitana paisa jaata hoon ki agar pooree ho jaatee to vaheen par ek paath karana chhod do inaviteshan ke chakkar mein vah chhotee-chhotee cheejon mein khush rahana nahin bhool jaate nahin chhod dete hain

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
shekhar vishwakarma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shekhar जी का जवाब
Academic Content developer at ConnectEd
2:11
अमीर और गरीब लोगों में क्या अंतर होता है बहुत सारे अंतर होते हैं अगर घुमाने बैठा जाए तो सुबह से शाम हो जाए ठीक है फिर भी कुछ चीजें हैं जो मैं दिलवा सकता हूं जैसे कि सबसे बड़ा अंतर दो बेसिक है वह है पहनावे में अंतर टिकट भी कपड़े पहनता है और वह नॉर्मल कपड़े पहनता है जो 500 से लेकर 1000 ऊपर जो बीच में मिल जाएंगे सारे लेकिन वही अमीर आदमी 5000 से लेकर ₹10000 तक के कपड़े पहनता है एक तो हो गया ब्रांड का अंतर दूसरा अंतर होता है खाने का खाने का किस हिसाब से अंतर होता है जो गरीब आदमी होता है वह भी ₹25 की चाउमीन ले आता हूं बन जाता है वही अमीर आदमी और भी अच्छी चीजें खाते हैं ठीक है गरीब आदमी ढाबे पर खाना खाता है अमीर आदमी राष्ट्र बन जाते मोरबी चीजों की सेक्सी के स्तर पर जो होता है ठीक है गरीब लोग प्यार नहीं कर सकते अब्रॉड स्टडीज गरीब लोग फोन नहीं कर सकते यहां भी रहकर गरीब लोग बहुत सारे यूनिवर्सिटी से फोन नहीं कर सकती नहीं कर सकते तुम व्हाट्सएप नहीं करते और भी कई सारी यूनिवर्सिटी अर्थ है जो गरीब आदमी हूं फोन नहीं कर सकते हैं लेकिन अमीर आदमी चल सके आसानी से तो गरीब लोगों के बच्चे छोटी कंपनियां छोटे कोर्स कॉलेज से बीटेक करते हैं दिल करता है और भी चीजें गलत है जिससे कि उनको जॉब तो लग जाती लेकिन उतनी कुछ खास नहीं लग पाती केवल गरीबों में उन्हीं बच्चों के जॉब लगती है तो छोटी सी बात होती है रहन-सहन में रहन-सहन का यह है कि गरीब आदमी छोटे घर में भी वह भी सी चीज है और अमीर आदमी बड़े घर में रहेगा अच्छे दिन में रहे सुविधाएं भी पश्चिमी थे प्रिविलेज भी होती है मरोगी
Ameer aur gareeb logon mein kya antar hota hai bahut saare antar hote hain agar ghumaane baitha jae to subah se shaam ho jae theek hai phir bhee kuchh cheejen hain jo main dilava sakata hoon jaise ki sabase bada antar do besik hai vah hai pahanaave mein antar tikat bhee kapade pahanata hai aur vah normal kapade pahanata hai jo 500 se lekar 1000 oopar jo beech mein mil jaenge saare lekin vahee ameer aadamee 5000 se lekar ₹10000 tak ke kapade pahanata hai ek to ho gaya braand ka antar doosara antar hota hai khaane ka khaane ka kis hisaab se antar hota hai jo gareeb aadamee hota hai vah bhee ₹25 kee chaumeen le aata hoon ban jaata hai vahee ameer aadamee aur bhee achchhee cheejen khaate hain theek hai gareeb aadamee dhaabe par khaana khaata hai ameer aadamee raashtr ban jaate morabee cheejon kee seksee ke star par jo hota hai theek hai gareeb log pyaar nahin kar sakate abrod stadeej gareeb log phon nahin kar sakate yahaan bhee rahakar gareeb log bahut saare yoonivarsitee se phon nahin kar sakatee nahin kar sakate tum vhaatsep nahin karate aur bhee kaee saaree yoonivarsitee arth hai jo gareeb aadamee hoon phon nahin kar sakate hain lekin ameer aadamee chal sake aasaanee se to gareeb logon ke bachche chhotee kampaniyaan chhote kors kolej se beetek karate hain dil karata hai aur bhee cheejen galat hai jisase ki unako job to lag jaatee lekin utanee kuchh khaas nahin lag paatee keval gareebon mein unheen bachchon ke job lagatee hai to chhotee see baat hotee hai rahan-sahan mein rahan-sahan ka yah hai ki gareeb aadamee chhote ghar mein bhee vah bhee see cheej hai aur ameer aadamee bade ghar mein rahega achchhe din mein rahe suvidhaen bhee pashchimee the privilej bhee hotee hai marogee

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:41
अमीर गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है स्वामी जूतों में से ब्रांडेड या फिर एक लिमिट के अनुसार कपड़े पहन के जो करीब होते हुए बहुत ही लिमिटेड कपड़े पहनते बहुत कम रेंज की सबसे अच्छे कपड़े पहनते हुए पूरे साल भर में 2 साल तक चलाते हैं अंग्रेज वाली होटलों में जाते हैं अनिल जी वह फाइव स्टार चलने में जाते हैं जय हो तुम्हें रास्ते में जो करीब होते हैं वह बहुत ही कम स्टार वाली फोटो नहीं जाता है करीब करीब रहते हुए भी आई पी नहीं होते हम भी आए क्या
Ameer gareeb logon kee aadaton mein kya antar hota hai svaamee jooton mein se braanded ya phir ek limit ke anusaar kapade pahan ke jo kareeb hote hue bahut hee limited kapade pahanate bahut kam renj kee sabase achchhe kapade pahanate hue poore saal bhar mein 2 saal tak chalaate hain angrej vaalee hotalon mein jaate hain anil jee vah phaiv staar chalane mein jaate hain jay ho tumhen raaste mein jo kareeb hote hain vah bahut hee kam staar vaalee photo nahin jaata hai kareeb kareeb rahate hue bhee aaee pee nahin hote ham bhee aae kya

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:23
गरीब लोगों के अमृता में क्या अंतर होते हैं गरीब लोग हमेशा अमीर बनने के सपने देखते हैं और अपने आप को सीमित दायरे में आते हैं उनके पास सदैव धन की कमी रहती है उसने बोल धन की प्राप्ति को पाने का निरंतर प्रयास करते हैं और धन को खर्च करने के मामले में बहुत विचार करते हैं कहीं भी वह अनावश्यक रूप से धन खर्च करना नहीं चाहती है उनको कितने कष्ट उठाने पड़ जाए इनको का भी देना पड़े तो भूखा रहने में कम से कम को धारण करना पड़ेगा जो भी करने में लेकिन धन को बचाने का प्रयास करते हैं क्योंकि उनके उनके पास कंप्यूटर कोचिंग यही कमी उनकी मानसिक आदत बन जाती है इसके ठीक विपरीत अमीर व्यक्ति को फिजूलखर्ची में खर्च करता है तो किसके पास आए की शुरुआत प्रयाग तो उसे खर्च की चिंता नहीं है वह जुगनी जुगनी कीमत पर किसी चीज को खरीद के अपने संसाधनों का उपयोग करते हैं आनंद लेते हैं और संपन्न होने के साथ-साथ सुखों को भोगने के लिए और सजीव प्यार करने की आदत हो जाती है
Gareeb logon ke amrta mein kya antar hote hain gareeb log hamesha ameer banane ke sapane dekhate hain aur apane aap ko seemit daayare mein aate hain unake paas sadaiv dhan kee kamee rahatee hai usane bol dhan kee praapti ko paane ka nirantar prayaas karate hain aur dhan ko kharch karane ke maamale mein bahut vichaar karate hain kaheen bhee vah anaavashyak roop se dhan kharch karana nahin chaahatee hai unako kitane kasht uthaane pad jae inako ka bhee dena pade to bhookha rahane mein kam se kam ko dhaaran karana padega jo bhee karane mein lekin dhan ko bachaane ka prayaas karate hain kyonki unake unake paas kampyootar koching yahee kamee unakee maanasik aadat ban jaatee hai isake theek vipareet ameer vyakti ko phijoolakharchee mein kharch karata hai to kisake paas aae kee shuruaat prayaag to use kharch kee chinta nahin hai vah juganee juganee keemat par kisee cheej ko khareed ke apane sansaadhanon ka upayog karate hain aanand lete hain aur sampann hone ke saath-saath sukhon ko bhogane ke lie aur sajeev pyaar karane kee aadat ho jaatee hai

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
Prerna Rai Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Prerna जी का जवाब
Collage student in polytechnic collage
2:50
आदत आदत में अंतर इंसान के रहने के ढंग इंसान के ऊपर बीत रही समय जान का खराब अच्छा दोनों समय सब पर डिपेंड करता है हम इस तरह के माहौल में रह रहे होते हैं हमारी आदत है वैसे ही बन जाती है अगर मैं अमीर और गरीब लोगों की आदतों में अंतर स्पष्ट करो तो मैं बताऊंगा अमीर लोगों के आवेदन कैसे होती है कि हमेशा अपने आप को अपडेट रखना दूसरों के सामने अपने आपको हमेशा ऊंचा दिखाएं कोई बात कहने से पहले सूरत परंतु गरीब को कुछ सुनाने से पहले अमीर लोग नहीं सोचते गरीब पर कुछ और जाम लगाने से पहले मिल लो नहीं सोचते कि अगर हम गरीब लोगों की बात करें तो गरी लोगों को कुछ भी बोलने से पहले अमीर लोगों से भी ज्यादा सोचना पड़ता है क्योंकि उनकी बोली गई एक एक बार उनको उनको उसका फल मिलता है या यह कहा अगर उनके मुंह से कुछ गलत निकल जाए तुम उनको उसका बहुत बड़ा भुगतान भरना पड़ता है गरीब लोग जितनी सारी तकलीफ में रहते हैं उतना ज्यादा नहीं नहीं बातों को सीख पाते हैं नई नई चीजों को देखो आएंगे और वह यही चाहती हैं कि उनके जो बच्चे को किस करीबी में नाचे हमारे समाज में तीन तरह के लोग रहते हैं हम अमीर गरीब पर मेडल प्राप्त मिडिल क्लास के बाद अगर हटा दिए हैं गरीब लोगों का जीना बहुत ही ज्यादा मुश्किल होता है खुद दो वक्त की रोटी भी बहुत मुश्किल से जुटा पाते हैं और साथ-साथ यह भी बता दो गरीब लोग कभी भी जल्दी इंतजाम नहीं लगाते उनके बीच में आप से रिश्ते अच्छे होते हैं वह कुछ बोलने अपने रिश्तेदारों ने दो संबंधियों से हमेशा मेल मिलाव रखता है कि अगर अमीर की बात करी तूने सबकी नहीं कुछ की बात करने को समीर ऐसे होते हैं जो अमीरी के घमंड में मेरे साथ तारों से अपना रिश्ता तोड़ देते हैं दोस्त यारों पर इल्जाम लगाने लगे सबसे बड़ा अंतर है गरीब और मम्मी मैं अंत में सिर्फ यही कहूंगी अमीर हो या गरीब सबका सम्मान अमीर हो या गरीब सबका करो सम्मान जिंदगी है कि जिंदगी है कि जिस में सब को भी खेलना
Aadat aadat mein antar insaan ke rahane ke dhang insaan ke oopar beet rahee samay jaan ka kharaab achchha donon samay sab par dipend karata hai ham is tarah ke maahaul mein rah rahe hote hain hamaaree aadat hai vaise hee ban jaatee hai agar main ameer aur gareeb logon kee aadaton mein antar spasht karo to main bataoonga ameer logon ke aavedan kaise hotee hai ki hamesha apane aap ko apadet rakhana doosaron ke saamane apane aapako hamesha ooncha dikhaen koee baat kahane se pahale soorat parantu gareeb ko kuchh sunaane se pahale ameer log nahin sochate gareeb par kuchh aur jaam lagaane se pahale mil lo nahin sochate ki agar ham gareeb logon kee baat karen to garee logon ko kuchh bhee bolane se pahale ameer logon se bhee jyaada sochana padata hai kyonki unakee bolee gaee ek ek baar unako unako usaka phal milata hai ya yah kaha agar unake munh se kuchh galat nikal jae tum unako usaka bahut bada bhugataan bharana padata hai gareeb log jitanee saaree takaleeph mein rahate hain utana jyaada nahin nahin baaton ko seekh paate hain naee naee cheejon ko dekho aaenge aur vah yahee chaahatee hain ki unake jo bachche ko kis kareebee mein naache hamaare samaaj mein teen tarah ke log rahate hain ham ameer gareeb par medal praapt midil klaas ke baad agar hata die hain gareeb logon ka jeena bahut hee jyaada mushkil hota hai khud do vakt kee rotee bhee bahut mushkil se juta paate hain aur saath-saath yah bhee bata do gareeb log kabhee bhee jaldee intajaam nahin lagaate unake beech mein aap se rishte achchhe hote hain vah kuchh bolane apane rishtedaaron ne do sambandhiyon se hamesha mel milaav rakhata hai ki agar ameer kee baat karee toone sabakee nahin kuchh kee baat karane ko sameer aise hote hain jo ameeree ke ghamand mein mere saath taaron se apana rishta tod dete hain dost yaaron par iljaam lagaane lage sabase bada antar hai gareeb aur mammee main ant mein sirph yahee kahoongee ameer ho ya gareeb sabaka sammaan ameer ho ya gareeb sabaka karo sammaan jindagee hai ki jindagee hai ki jis mein sab ko bhee khelana

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
4:12
सवाल यह है कि अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है कोई भी इंसान अपनी किस्मत या भाग्य की वजह से गरीब ही गरीब या अमीर नहीं होता बल्कि अपनी सोच की वजह से होता है इसलिए गरीब सोच वाले हमेशा गरीब ही रह जाते हैं और अमीर सोच वाले लोग हमेशा में रह जाते हैं एक गरीब और अमीर इंसान के बीच में उस वक्त उनकी सोच का फर्क होता है अमीर गरीब मानसिकता वाले लोग अपनी गलतियों और असफलताओं के लिए हमेशा दूसरों को दोषी मानते हैं मेरी तो किस्मत ही खराब है भगवान हमेशा मेरे साथ ही बुरा करता है उसने मेरे साथ धोखा किया इसने मेरे साथ गलत किया इस तरह की बातचीत कर उनके मुंह से सुनी जा सकती है गरीब सोच वाले लोग अपनी समस्याओं को सामान ढूंढ़ समाधान ढूंढने के बजाय सरकार को ईश्वर को तो कभी किसी और को जनाधार ठहराते रहते हैं जबकि अमित सोच वाले लोग अपनी गलतियों की जिम्मेदारी खुद लेते हैं और उससे सीखते हैं ताकि भविष्य में फिर वही गलती दोबारा ना हो गया अपनी समस्याओं की शिकायत करने के बजाय ठंडे दिल से उनका समाधान निकालते हैं गरीब सोच वाले लोग हमेशा मेरी का दिखावा करते हैं और अपना स्टेटस हाय दिखाने के लिए अपना सारा पैसा गैर जरूरी चीजों पर खर्च कर देते हैं खुद को भी दिखाने के लिए मैं महंगे कपड़े महंगे मोबाइल महंगी कार बाइक टीवी एक्टर्स जैसी चीजें लोन पर ले रहे थे जिसके कारण उनकी फाइनेंसियल कंडीशन और भी खराब हो जाती है वही अमीर लोग अपने पैसों को गैर जरूरी चीजों पर खर्च करने के बजाय ऐसी जगह करें जहां से इनकम जनरेट हो सके वह कर्ज भी ले सकते हैं कोई ऐसे खरीदने के लिए ताकि अपने इनकम रिसोर्सेज को बढ़ाया जा सके करीब सोच वाले लोग खाओ कमाओ वाले वनडे में विश्वास रखते हैं इसलिए वे पैसा हाथ में आते ही अपने पूरे सभी कार्य पूरे कर लेते हैं इसलिए उनके हाथ में सेविंग के नाम पर कुछ नहीं बस बचता और जीवन भर आर्थिक तंगी में रहते हैं लेकिन अमीर सोच वाले सबसे पहले उन पैसों में से 20 परसेंट सेविंग के लिए निकाल देते हैं चाहे उनकी कितनी ही लगाते हैं गरीब पहुंच वाले अधिकांश लोग समय बेकार की बेकार के कामों में समय बर्बाद कर देते हैं टीवी के सामने घंटों तक बैठना बैठे रहना मोबाइल पर फनी वीडियोस देखना मींस लिखना दोस्तों के साथ बैठकर राजनीति और क्रिकेट के बारे में डिस्कस करना उनका डेली रूटीन हो जाता है लेकिन अमीर सोच वाले लोग अपने टाइम की वैल्यू जानते हैं इसलिए मैं अपने हर दिन को प्लान करते हैं अगर उनके पास खाली समय भी होता है तो अपने कार्य क्षेत्र से जुड़ी किताबें पढ़कर अपनी नॉलेज को इनक्रीस करते हैं गरीब सोच वाले लोग हमेशा यही सोचते हैं कि लोग क्या कहेंगे यह कोई भी काम करते समय इस बात का खास ध्यान रखते हैं कि लोगों के बीच उनके हिसाब भी बनी रहे लेकिन आमिर सोच वाले लोग इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग उनके बारे में क्या सोचते हैं अपने काम से काम रखते हैं उनकी नजर में कोई भी बकवा काम बढ़ाएं छोटा नहीं होता इसलिए बिहार अपॉर्चुनिटी का लाभ उठाते हैं गरीब सोच वाले लोग हर वक्त एक दूसरे की टांग खींचने में लगे रहते हैं आपने देखा होगा कि गरीब लोग छोटी-छोटी बातों पर आपस में लड़ते रहते हैं इस तरह अपना पैसा कम है और एनर्जी तीनों को बेच कर देते हैं जबकि अमीर सोच वाले लोग जानते हैं कि छोटी-छोटी बातों पर लड़ने से कोई लाभ नहीं मिलता बल्कि नुकसान ही होता है इसलिए छोटी-छोटी बातों पर किसी के साथ अपना व्यवहार खराब नहीं करते अपनी भावनाओं पर नियंत्रण रखते हैं इस प्रकार में अपने विरोधियों से भी अपना काम करा लेते हैं अमीर और गरीब लोगों की सोच में सबसे बड़ा डिफरेंस यह है कि गरीब लोग केवल पैसों के लिए काम करते हैं जबकि अमीर लोग पैसे की पैसे से अपना काम करवाते हैं अब हमेशा कुछ लिखते हैं सीखने ग्रो करने के लिए तैयार रहते हैं हमने हमेशा देखा है कि गरीब मानसिकता वाले लोग उतना उतना ही था उतना ही काम करना चाहते हैं जितना उन्हें पैसा दिया जाता है यही वजह है कि बॉस और एंप्लाइज की कभी नहीं बनती अमीर मानसिकता वाले लोग भी होते हैं काम नहीं करते बल्कि अपने काम के दौरान ही देखते रहते हैं ताकि भविष्य में अपने अनुभवों का लाभ उठा सकें
Savaal yah hai ki ameer aur gareeb logon kee aadaton mein kya antar hota hai koee bhee insaan apanee kismat ya bhaagy kee vajah se gareeb hee gareeb ya ameer nahin hota balki apanee soch kee vajah se hota hai isalie gareeb soch vaale hamesha gareeb hee rah jaate hain aur ameer soch vaale log hamesha mein rah jaate hain ek gareeb aur ameer insaan ke beech mein us vakt unakee soch ka phark hota hai ameer gareeb maanasikata vaale log apanee galatiyon aur asaphalataon ke lie hamesha doosaron ko doshee maanate hain meree to kismat hee kharaab hai bhagavaan hamesha mere saath hee bura karata hai usane mere saath dhokha kiya isane mere saath galat kiya is tarah kee baatacheet kar unake munh se sunee ja sakatee hai gareeb soch vaale log apanee samasyaon ko saamaan dhoondh samaadhaan dhoondhane ke bajaay sarakaar ko eeshvar ko to kabhee kisee aur ko janaadhaar thaharaate rahate hain jabaki amit soch vaale log apanee galatiyon kee jimmedaaree khud lete hain aur usase seekhate hain taaki bhavishy mein phir vahee galatee dobaara na ho gaya apanee samasyaon kee shikaayat karane ke bajaay thande dil se unaka samaadhaan nikaalate hain gareeb soch vaale log hamesha meree ka dikhaava karate hain aur apana stetas haay dikhaane ke lie apana saara paisa gair jarooree cheejon par kharch kar dete hain khud ko bhee dikhaane ke lie main mahange kapade mahange mobail mahangee kaar baik teevee ektars jaisee cheejen lon par le rahe the jisake kaaran unakee phainensiyal kandeeshan aur bhee kharaab ho jaatee hai vahee ameer log apane paison ko gair jarooree cheejon par kharch karane ke bajaay aisee jagah karen jahaan se inakam janaret ho sake vah karj bhee le sakate hain koee aise khareedane ke lie taaki apane inakam risorsej ko badhaaya ja sake kareeb soch vaale log khao kamao vaale vanade mein vishvaas rakhate hain isalie ve paisa haath mein aate hee apane poore sabhee kaary poore kar lete hain isalie unake haath mein seving ke naam par kuchh nahin bas bachata aur jeevan bhar aarthik tangee mein rahate hain lekin ameer soch vaale sabase pahale un paison mein se 20 parasent seving ke lie nikaal dete hain chaahe unakee kitanee hee lagaate hain gareeb pahunch vaale adhikaansh log samay bekaar kee bekaar ke kaamon mein samay barbaad kar dete hain teevee ke saamane ghanton tak baithana baithe rahana mobail par phanee veediyos dekhana meens likhana doston ke saath baithakar raajaneeti aur kriket ke baare mein diskas karana unaka delee rooteen ho jaata hai lekin ameer soch vaale log apane taim kee vailyoo jaanate hain isalie main apane har din ko plaan karate hain agar unake paas khaalee samay bhee hota hai to apane kaary kshetr se judee kitaaben padhakar apanee nolej ko inakrees karate hain gareeb soch vaale log hamesha yahee sochate hain ki log kya kahenge yah koee bhee kaam karate samay is baat ka khaas dhyaan rakhate hain ki logon ke beech unake hisaab bhee banee rahe lekin aamir soch vaale log isase koee phark nahin padata ki log unake baare mein kya sochate hain apane kaam se kaam rakhate hain unakee najar mein koee bhee bakava kaam badhaen chhota nahin hota isalie bihaar aporchunitee ka laabh uthaate hain gareeb soch vaale log har vakt ek doosare kee taang kheenchane mein lage rahate hain aapane dekha hoga ki gareeb log chhotee-chhotee baaton par aapas mein ladate rahate hain is tarah apana paisa kam hai aur enarjee teenon ko bech kar dete hain jabaki ameer soch vaale log jaanate hain ki chhotee-chhotee baaton par ladane se koee laabh nahin milata balki nukasaan hee hota hai isalie chhotee-chhotee baaton par kisee ke saath apana vyavahaar kharaab nahin karate apanee bhaavanaon par niyantran rakhate hain is prakaar mein apane virodhiyon se bhee apana kaam kara lete hain ameer aur gareeb logon kee soch mein sabase bada dipharens yah hai ki gareeb log keval paison ke lie kaam karate hain jabaki ameer log paise kee paise se apana kaam karavaate hain ab hamesha kuchh likhate hain seekhane gro karane ke lie taiyaar rahate hain hamane hamesha dekha hai ki gareeb maanasikata vaale log utana utana hee tha utana hee kaam karana chaahate hain jitana unhen paisa diya jaata hai yahee vajah hai ki bos aur emplaij kee kabhee nahin banatee ameer maanasikata vaale log bhee hote hain kaam nahin karate balki apane kaam ke dauraan hee dekhate rahate hain taaki bhavishy mein apane anubhavon ka laabh utha saken

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
3:15
बीपी सिक्स क्वेश्चन आपका की अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है गरीब लोगों को जो चीज मुश्किल से मिलती है उसे वह बहुत हिफाजत से यूज करते हो और अमीर लोगों को वह चीज में बहुत आसानी से मिल जाती है तो बहुत ज्यादा उसका मिस यूज करते हैं या यह कहिए कि फेकते हैं बेस्ट बहुत ज्यादा करते हैं सबसे बड़ा अंतर होता उनकी आदतों में फिर अमीर लोगों को जितना मिलता है वह उसे और ज्यादा चाहते हैं और गरीब लोगों को जितना मिलता है उसमें वह सेटिस्फाइड हो जाती है क्योंकि उन्हें पता है कि वो एकदम से ज्यादा तो नहीं कर सकते जितना हो सकता है उतना हार्ड वर्क करते हैं लेकिन अमीर लोगों का यह नीचे रहता है कि जितना मिलता है उसमें वह कभी फैक्टिफाइड नहीं होते जो गरीब लोग होते हैं वह सेटिस्फाइड होते सबसे बड़ा अंतर है अमीर और गरीब नहीं होते यह तो उनकी परिस्थिति होती है कोई पैसे वाले घर में जन्म हो गया और किस ऐसी फैमिली में हुआ जहां पर काफी सारे फाइनेंशली शूज है तो इसमें कोई अमीर गरीब नहीं हो जाता है नहीं यह तो हमारी फैमिली है जिसमें हम आए हैं जिसमें हम पैदा हुए इसे डिस्क्रिमिनेट नहीं किया जाना चाहिए अमीर और गरीब नहीं कहा जाना चाहिए तो उसे डिफरेंस होता हो जाते हैं लेकिन फाइनेंशली हम जानबूझकर तो कोई डिफरेंस नहीं करते ना किसी को मजा नहीं आता कि वह मुसीबत में रहे या जेल में रहे या छोटे-मोटे घर में रहे सभी अच्छा चाहते हैं लेकिन उसको और डिस्क्रिमिनेट करके अमीर और गरीब बोलके उसमें जो खाई है उसकी उसे और बढ़ा दिया जाता है तो टच नॉट गुड एंड आदित्य तो है बहुत सारी होती है मतलब जो चीज यूज़ लेस होती है अमीर लोग उससे भी कुछ ज्यादा ही तवज्जो देते हैं कई बार कि यह छोटा आदमी आदमी होना चाहिए बड़ा सबसे बड़ा मुझे लगता है अमीर लोग गरीबों की इंसल्ट करते हैं लेकिन गरीब लोग अमीरों की इंसल्ट नहीं करते हैं क्योंकि उन लोगों को इंसान की कीमत पता होती है एंड सेंटेंस ऐसा होता है कि कुछ गरीब लोग होते हैं ऐसे लेकिन वह तो लोगों की सोच की बात है जिसमें मेंटालिटी एंड डिफरेंट पीपल और बातों में जो अंतर होता है गरीबों और अमीरों की आदतों में जो अंतर होता है वह मैंने आपको स्पष्ट बता दिया है कि बहुत सी चीजों को बुला इटली लेते हैं अमीर लोग जो इंपॉर्टेंट होती है या उन्हें लगता है कि विश करने से हम बड़े शॉप कर पाएंगे अमीरों का और गरीब जो रहते हैं वह जो रहता है उसे सेटिंग से डरते हैं एंड ज्यादा और क्या कहा जा सकता है सबकी अपनी अपनी सोच होती है ऐसा नहीं क्या में जो है वह हर व्यक्ति की आदत में चेंज होगा और हर गरीब की आदत में बहुत सारे लोग अमीर और गरीब स्टेटस के होने के बाद भी एक जैसी आदतें होती है उनकी तो बस सभी अपने अपने हिसाब से अपनी अपनी जगह पर रहते हैं थैंक यू
Beepee siks kveshchan aapaka kee ameer aur gareeb logon kee aadaton mein kya antar hota hai gareeb logon ko jo cheej mushkil se milatee hai use vah bahut hiphaajat se yooj karate ho aur ameer logon ko vah cheej mein bahut aasaanee se mil jaatee hai to bahut jyaada usaka mis yooj karate hain ya yah kahie ki phekate hain best bahut jyaada karate hain sabase bada antar hota unakee aadaton mein phir ameer logon ko jitana milata hai vah use aur jyaada chaahate hain aur gareeb logon ko jitana milata hai usamen vah setisphaid ho jaatee hai kyonki unhen pata hai ki vo ekadam se jyaada to nahin kar sakate jitana ho sakata hai utana haard vark karate hain lekin ameer logon ka yah neeche rahata hai ki jitana milata hai usamen vah kabhee phaiktiphaid nahin hote jo gareeb log hote hain vah setisphaid hote sabase bada antar hai ameer aur gareeb nahin hote yah to unakee paristhiti hotee hai koee paise vaale ghar mein janm ho gaya aur kis aisee phaimilee mein hua jahaan par kaaphee saare phainenshalee shooj hai to isamen koee ameer gareeb nahin ho jaata hai nahin yah to hamaaree phaimilee hai jisamen ham aae hain jisamen ham paida hue ise diskriminet nahin kiya jaana chaahie ameer aur gareeb nahin kaha jaana chaahie to use dipharens hota ho jaate hain lekin phainenshalee ham jaanaboojhakar to koee dipharens nahin karate na kisee ko maja nahin aata ki vah museebat mein rahe ya jel mein rahe ya chhote-mote ghar mein rahe sabhee achchha chaahate hain lekin usako aur diskriminet karake ameer aur gareeb bolake usamen jo khaee hai usakee use aur badha diya jaata hai to tach not gud end aadity to hai bahut saaree hotee hai matalab jo cheej yooz les hotee hai ameer log usase bhee kuchh jyaada hee tavajjo dete hain kaee baar ki yah chhota aadamee aadamee hona chaahie bada sabase bada mujhe lagata hai ameer log gareebon kee insalt karate hain lekin gareeb log ameeron kee insalt nahin karate hain kyonki un logon ko insaan kee keemat pata hotee hai end sentens aisa hota hai ki kuchh gareeb log hote hain aise lekin vah to logon kee soch kee baat hai jisamen mentaalitee end dipharent peepal aur baaton mein jo antar hota hai gareebon aur ameeron kee aadaton mein jo antar hota hai vah mainne aapako spasht bata diya hai ki bahut see cheejon ko bula italee lete hain ameer log jo importent hotee hai ya unhen lagata hai ki vish karane se ham bade shop kar paenge ameeron ka aur gareeb jo rahate hain vah jo rahata hai use seting se darate hain end jyaada aur kya kaha ja sakata hai sabakee apanee apanee soch hotee hai aisa nahin kya mein jo hai vah har vyakti kee aadat mein chenj hoga aur har gareeb kee aadat mein bahut saare log ameer aur gareeb stetas ke hone ke baad bhee ek jaisee aadaten hotee hai unakee to bas sabhee apane apane hisaab se apanee apanee jagah par rahate hain thaink yoo

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
मनोज कुमार यादव Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए मनोज जी का जवाब
कृषक 🌾🌾🌾🌾
1:35
नमस्कार मित्रों जैसे आपका प्रश्न या अमीर और गरीब लोगों की आदतें में क्या अंतर होता है तो देखिए अमीर होता है सबसे बड़ा वह जिस का सबसे बड़ा दिन होता है और जिनके पास सबसे बड़ा दिल नहीं है वह अमृत नहीं दुनिया में आप धनवान हो जाइए गाड़ी बंद हो जाएगी पर सवार हो जाए दौलतमंद बजाइए लेकिन अगर आपके पास दिलवाने का नाम का कोई चीज नहीं है तो आप बड़ा नहीं है इसलिए करके कितना भी पैसा हो जाए घमंड नहीं करना चाहिए इंसान उसे अहंकार अपने मन में नहीं लानी चाहिए और रहा बता देते हैं कि जो जिसके पास पैसा होता है वह थोड़ा अपनापन बड़े महसूस करने लगते हैं कि हम पैसे वाले गरीब क्या है उसको जैसे बोलेंगे वह हमारी सारी पर नाचेंगे लेकिन यह दुनिया बदल चुका है आप कोई किसी से कम नहीं है जो लोग मेहनत मजदूरी करके भी खाते हैं उससे भी अपना जिंदगी जीने का सही तरीका मालूम हो गया है कि हमें कैसे जीना है हमें कैसे चलना है आज तक की बात करें तो गरीब इंसान में सबसे बड़ा आदत यह है कि वह कभी किसी का बुरा नहीं चाहते हैं कभी किसी को देख कर के जलते नहीं है चाहे कितने भी पहचान है लेकिन कभी देखकर तो जलते नहीं उसमें यही सुबह भी होता है धन्यवाद
Namaskaar mitron jaise aapaka prashn ya ameer aur gareeb logon kee aadaten mein kya antar hota hai to dekhie ameer hota hai sabase bada vah jis ka sabase bada din hota hai aur jinake paas sabase bada dil nahin hai vah amrt nahin duniya mein aap dhanavaan ho jaie gaadee band ho jaegee par savaar ho jae daulatamand bajaie lekin agar aapake paas dilavaane ka naam ka koee cheej nahin hai to aap bada nahin hai isalie karake kitana bhee paisa ho jae ghamand nahin karana chaahie insaan use ahankaar apane man mein nahin laanee chaahie aur raha bata dete hain ki jo jisake paas paisa hota hai vah thoda apanaapan bade mahasoos karane lagate hain ki ham paise vaale gareeb kya hai usako jaise bolenge vah hamaaree saaree par naachenge lekin yah duniya badal chuka hai aap koee kisee se kam nahin hai jo log mehanat majadooree karake bhee khaate hain usase bhee apana jindagee jeene ka sahee tareeka maaloom ho gaya hai ki hamen kaise jeena hai hamen kaise chalana hai aaj tak kee baat karen to gareeb insaan mein sabase bada aadat yah hai ki vah kabhee kisee ka bura nahin chaahate hain kabhee kisee ko dekh kar ke jalate nahin hai chaahe kitane bhee pahachaan hai lekin kabhee dekhakar to jalate nahin usamen yahee subah bhee hota hai dhanyavaad

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
4:14
हेलो ब्रदर आई होप आप सब ठीक होंगे प्रश्न पूछा गया है अमीर और गरीब लोगों के हाथों में क्या अंतर होता है लेकिन मैंने बहुत सारी बुक्स पढ़ी हैं इस टॉपिक पर और मैंने बहुत सारे इंटरव्यू भी सुने हैं आमिर और सक्सेसफुल लोगों के और मैंने पांच ही समझिए कि जो अमीर लोगों का गरीब लोगों से अलग बनाते हैं लेकिन हर किसी का अपना फोटो क्यों होता है और जो चीजें में डिस्कस करने जा रहा हूं उससे उसका पर अपनी लाइफ में भी अपना ऐड करें अमीर लोग जो होते हैं हमेशा टाइम को पैसे से ज्यादा वैल्यू करते हैं इसलिए इनको जिस जो एक आम मल्टीमिलेनियर सेल स्टेट एंड वेस्टर्न यूएस में है और एक बस चली और फिर भी है उन्होंने एक बार कहानी बताई थी कि उनको समझ में आया कि एंड डिफरेंस अमीर और गरीब की सूचना के तरीके में एक बार एक प्रॉपर्टी बेचने का रहे थे और उसको वह सही करना चाह रहे थे तो उसकी सफाई के लिए सफाई एक लड़की से करवा रहे थे अब वह लड़का जब आपने तो प्रॉक्टर साफ करा था तो कर रहा था तभी इनके पिता एकदम आयुर बेटे को देखने के लिए जैसे ही उन्होंने देखा कि एक अनजान लड़का उनका लोन साफ करा तो एकदम बहुत नाराज हो गई रिकॉर्डिंग के ऊपर चलाने लगे वह कहने लगे वहां बेटा तुम अपने अमीर बन गए और तुम अपना लोन पर खुद खुद ही खुद से ही साफ नहीं कर सकते उसी टाइम दिन को समझ में आया कि डिफरेंट उसमें और उसके पापा ने सोचने के तरीके में क्योंकि बात तो यह थी कि जिनके पापा तो एक बिजनेसमैन थे लेकिन वह इतने सालों से बिजनेस करते आ रहे थे तब भी वह अमीर नहीं बने दिन के सोचने के तरीके और उनके पापा के सोचने का तरीका में यह अंतर था कि दिन का टाइम वैल्यू पदाते उनको पता था कि $20 बचा कर अपना टाइम वेस्ट करने से अच्छा है एक घंटा अपना बचा ले और किसी और को काम देते तो $20 के बाद में ही उनको तो $20 के बाद में कमाए जा सकते लेकिन एक घंटा आपको कभी वापस नहीं मिलेगा तू मेरी प्राकृतिक आपके लिए है कि अपने लाइफ के लिए ऐसे एरिया ढूंढे जिनमें आप अपने टाइम को बेहतर ढंग से जो है यूज कर सकते हैं मैंने काफी लोगों को यह गलती करते हुए भी देखा कि वह एयरपोर्ट स्टेशन पर पहुंचेगी 30 मिनट बाहर घूमने गए 10 मिनट ऑटो वालों को बेस करेंगे सिर्फ इसलिए कि सवार थे बचा पाए जबकि वह बड़ी आसानी से ओला उबर करके घर जा सकते थे बस थोड़े और पैसे ज्यादा दिन होते हैं जब भी आपकी लाइफ में इस तरह के डिसीजन हो तो आपको अपने आप से पूछना चाहिए कि मैं अगर घर जल्दी पहुंच गए तो मैं क्या अपने बिजनेस का काम करना और जल्दी शुरू कर सकता हूं क्या मैं अच्छे रेस्ट करता हूं और अगले दिन में मेहनत कर सकता हूं पर अभी यह नहीं कह रहा हूं कि जब से अपना पैसा हर जगह खर्च करना चाहिए मैं बस यह कहना चाहता हूं कि आप कभी भी कभी-कभी समझना चाहिए कि आपका टाइम आपके लिए कितना ज्यादा गरीब है गरीब लोग बहाने ढूंढते हैं हारने के लिए जगह हारने के लिए जबकि अमीर लोग बहाने टूटते हैं जीतने के लिए इसमें बेकार थे कौन सी कहानी है हमें ओ साथी वह कोई ऐसी चीज कर देते हैं उसके बारे में हम सब ने सोचा होता है लेकिन किसी के अंदर हिम्मत नहीं थी कि वह काम करने के लिए इसलिए क्योंकि ज्यादा लोगों को लोगों को एक पूर्वांचल होता है जब किसी भी जब वह किसी आईडी के बारे में सोते तो फौरन सोचने लगते हैं कि यह क्यों नहीं सकसीड करेंगे और एग्जांपल ज्यादातर लोग वह जब वह यूट्यूब चैनल स्टार्ट करने बारे में तो सोचते हैं कि क्यों नहीं सकसीड करेंगे क्योंकि उनकी अच्छी आवाज नहीं उनकी अच्छी शक्ल नहीं होगा स्मार्ट नहीं है या वह फनी नहीं है ढूंढते हैं खेल करने के लिए लेकिन अमीर लोग हमेशा बहाने ढूंढते हैं जितने के लिए वह सोचते हैं कि हां मेरी आवाज हो सकता है ना अच्छी हो लेकिन मैं अपना कंटेंट अच्छा बना लूंगा हां मैं स्मार्ट नहीं हूं लेकिन लोगों की सीख कर ज्यादा स्मार्ट बन सकता यह चीज बिजनेस पर भी लागू होती है ज्यादातर लोग पास बिजनेस आइडिया तो होते हैं लेकिन अपने दिमाग में अपने आप को सील कर लेते हैं तो क्या अपने लिए बाहर निकलते हैं अब यह बात जरूर ध्यान रखेंगे आपको अंजलि स्थित होने के लिए नहीं बोल रहा हूं अपने प्रैक्टिकल भी हो ना हो लेकिन आपकी एनर्जी वही वही जाती है जहां पर सब कुछ होता है तो यही कुछ आज तो में अंतर है ज्यादा को पसंद आई लाइक और सब्सक्राइब करें
Helo bradar aaee hop aap sab theek honge prashn poochha gaya hai ameer aur gareeb logon ke haathon mein kya antar hota hai lekin mainne bahut saaree buks padhee hain is topik par aur mainne bahut saare intaravyoo bhee sune hain aamir aur saksesaphul logon ke aur mainne paanch hee samajhie ki jo ameer logon ka gareeb logon se alag banaate hain lekin har kisee ka apana photo kyon hota hai aur jo cheejen mein diskas karane ja raha hoon usase usaka par apanee laiph mein bhee apana aid karen ameer log jo hote hain hamesha taim ko paise se jyaada vailyoo karate hain isalie inako jis jo ek aam malteemileniyar sel stet end vestarn yooes mein hai aur ek bas chalee aur phir bhee hai unhonne ek baar kahaanee bataee thee ki unako samajh mein aaya ki end dipharens ameer aur gareeb kee soochana ke tareeke mein ek baar ek propartee bechane ka rahe the aur usako vah sahee karana chaah rahe the to usakee saphaee ke lie saphaee ek ladakee se karava rahe the ab vah ladaka jab aapane to proktar saaph kara tha to kar raha tha tabhee inake pita ekadam aayur bete ko dekhane ke lie jaise hee unhonne dekha ki ek anajaan ladaka unaka lon saaph kara to ekadam bahut naaraaj ho gaee rikording ke oopar chalaane lage vah kahane lage vahaan beta tum apane ameer ban gae aur tum apana lon par khud khud hee khud se hee saaph nahin kar sakate usee taim din ko samajh mein aaya ki dipharent usamen aur usake paapa ne sochane ke tareeke mein kyonki baat to yah thee ki jinake paapa to ek bijanesamain the lekin vah itane saalon se bijanes karate aa rahe the tab bhee vah ameer nahin bane din ke sochane ke tareeke aur unake paapa ke sochane ka tareeka mein yah antar tha ki din ka taim vailyoo padaate unako pata tha ki $20 bacha kar apana taim vest karane se achchha hai ek ghanta apana bacha le aur kisee aur ko kaam dete to $20 ke baad mein hee unako to $20 ke baad mein kamae ja sakate lekin ek ghanta aapako kabhee vaapas nahin milega too meree praakrtik aapake lie hai ki apane laiph ke lie aise eriya dhoondhe jinamen aap apane taim ko behatar dhang se jo hai yooj kar sakate hain mainne kaaphee logon ko yah galatee karate hue bhee dekha ki vah eyaraport steshan par pahunchegee 30 minat baahar ghoomane gae 10 minat oto vaalon ko bes karenge sirph isalie ki savaar the bacha pae jabaki vah badee aasaanee se ola ubar karake ghar ja sakate the bas thode aur paise jyaada din hote hain jab bhee aapakee laiph mein is tarah ke diseejan ho to aapako apane aap se poochhana chaahie ki main agar ghar jaldee pahunch gae to main kya apane bijanes ka kaam karana aur jaldee shuroo kar sakata hoon kya main achchhe rest karata hoon aur agale din mein mehanat kar sakata hoon par abhee yah nahin kah raha hoon ki jab se apana paisa har jagah kharch karana chaahie main bas yah kahana chaahata hoon ki aap kabhee bhee kabhee-kabhee samajhana chaahie ki aapaka taim aapake lie kitana jyaada gareeb hai gareeb log bahaane dhoondhate hain haarane ke lie jagah haarane ke lie jabaki ameer log bahaane tootate hain jeetane ke lie isamen bekaar the kaun see kahaanee hai hamen o saathee vah koee aisee cheej kar dete hain usake baare mein ham sab ne socha hota hai lekin kisee ke andar himmat nahin thee ki vah kaam karane ke lie isalie kyonki jyaada logon ko logon ko ek poorvaanchal hota hai jab kisee bhee jab vah kisee aaeedee ke baare mein sote to phauran sochane lagate hain ki yah kyon nahin sakaseed karenge aur egjaampal jyaadaatar log vah jab vah yootyoob chainal staart karane baare mein to sochate hain ki kyon nahin sakaseed karenge kyonki unakee achchhee aavaaj nahin unakee achchhee shakl nahin hoga smaart nahin hai ya vah phanee nahin hai dhoondhate hain khel karane ke lie lekin ameer log hamesha bahaane dhoondhate hain jitane ke lie vah sochate hain ki haan meree aavaaj ho sakata hai na achchhee ho lekin main apana kantent achchha bana loonga haan main smaart nahin hoon lekin logon kee seekh kar jyaada smaart ban sakata yah cheej bijanes par bhee laagoo hotee hai jyaadaatar log paas bijanes aaidiya to hote hain lekin apane dimaag mein apane aap ko seel kar lete hain to kya apane lie baahar nikalate hain ab yah baat jaroor dhyaan rakhenge aapako anjali sthit hone ke lie nahin bol raha hoon apane praiktikal bhee ho na ho lekin aapakee enarjee vahee vahee jaatee hai jahaan par sab kuchh hota hai to yahee kuchh aaj to mein antar hai jyaada ko pasand aaee laik aur sabsakraib karen

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
स्वागत है आपका आपका प्रश्न है अमीर और गरीब लोगों की आंखों में क्या अंतर होता है तो फ्रेंड सा अमीर और गरीब लोगों के हाथों में बहुत अंतर होता है जैसे कपड़ों का मिलो ब्रांडेड कपड़े पहनते हैं और गरीब लोग कोई भी कपड़े पहन लेते हैं जिससे उनका मन लग जाए बस और अमीर लोग अपने शो को शाम के लिए बहुत सारे पैसे बर्बाद करते हैं जो कि गरीब लोग ऐसा नहीं करते हैं और अमीर लोग अक्सर बाहर रेस्टोरेंट में खाना खाने जाते हैं तो बाहर खाना बर्बाद भी कर देते हैं लेकिन गरीब लोग कभी खाना बर्बाद नहीं करते हैं धन्यवाद

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
Bhavesh Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Bhavesh जी का जवाब
West Bengal India is Great
1:00
गरीब लोगों और अमीर लोगों में अंतर में इतना सब समझता हूं कि जो अपने आप से संतुष्ट है वही अमीर है लेकिन जो अपने आप से संतुष्ट ही नहीं है वह अमीर कभी नहीं हो सकता आज टाटा बिरला अंबानी मुकेश अंबानी को ही देख लीजिए अगर चाहे तो पूरे भारत को खरीद सकते मिनटों में कितने पैसे हैं उसके पास लेकिन कभी वह चाहेंगे कि अब बहुत हो गया यार छोड़ो हटाओ आराम से जियो अभी भी वह चाहते हैं कि ना मुझे तो और चाहिए क्या मैं ऐसा करूं जब मैं और गोश्त का समय बिजनेस और आगे बढ़ो और नाम पर कभी और और और और जिंदगी में खत्म नहीं होता तो आप अंदर आत्मा से संतुष्ट हैं तो आप एक आम इंसान हैं लेकिन बहुत पैसे कोड़ी होने के बाद सब कुछ करने के बाद लेकिन आप संतुष्ट नहीं हैं तो मैं आपको कभी अमीर नहीं मान सकता हूं आप एक नंबर का गरीब इंसान

bolkar speaker
अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है?Ameer Aur Gareeb Logon Ki Aadaton Mein Kya Antar Hota Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:23
आपके साले कमीनों गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है सबसे बड़ा अंतर जो अमीर और गरीब लोगों के अंदर होता है कि हमें हमेशा अपने स्टेटस को मेंटेन करने के लिए अपने फ्यूचर के बारे में सोच कर के चलता है जबकि करीब अपने आप को ही जीता है वह जो भी पैसे कमा कर लाता है वह अपने आज नहीं जीता है आज को ही खुश बनाने की कोशिश करता है आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अमीर और गरीब लोगों की आदतों में क्या अंतर होता है,garib aur amir mein kya farak hota hai, गरीब और अमीर में क्या अंतर है
URL copied to clipboard