#रिश्ते और संबंध

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:13
सवाल है कि भारतीय समाज को किसी बात से कोई मतलब नहीं है बस में किसी को अनिवार्य रूप से अधिक रिलेशन में दोस्तों वो कहता है कि दोस्तों के साथ रिलेशन के साथ नहीं परंतु उन से मतलब नहीं रखता है तो मतलब रखता है आपके मन से और दूसरे वाले की मर्जी प्यार होता है और इसमें आपकी मां की आरती मां पिताजी के साथ के साथ में तारों की बात करें तो जैसे बंधन बन जाता है बच्चों जाती है और उसके पास जाने के लिए तू इंसान बनाता है ना कि कोई जानवर के साथ जानवर होता है
Savaal hai ki bhaarateey samaaj ko kisee baat se koee matalab nahin hai bas mein kisee ko anivaary roop se adhik rileshan mein doston vo kahata hai ki doston ke saath rileshan ke saath nahin parantu un se matalab nahin rakhata hai to matalab rakhata hai aapake man se aur doosare vaale kee marjee pyaar hota hai aur isamen aapakee maan kee aaratee maan pitaajee ke saath ke saath mein taaron kee baat karen to jaise bandhan ban jaata hai bachchon jaatee hai aur usake paas jaane ke lie too insaan banaata hai na ki koee jaanavar ke saath jaanavar hota hai

और जवाब सुनें

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:34
भारतीय समाज को किसी बात से कोई मतलब नहीं है बस यारा किसी अविवाहित होली से अधिक रिलेशनशिप में नहीं भेज सकता देखे भाई भारतीय समाज की जटिलता और शायद समझ ही नहीं पा रहा इसमें इतनी जटिलताएं हैं निश्चित तौर पर यहां का समान इस तरह का है किस प्रकार की कोई भी घटना होती है उसको भी और बढ़ा चढ़ाकर बना दिया तो कहने का मतलब यह है जो रिलेशनशिप से संबंधित या विभाग से संबंधित और बहुत सारे बार सोच रहे हो कि सारी चीजें बहुत जल्दी से एक्सेप्टेबल होंगी तो बिल्कुल नहीं और निश्चित तौर पर इसमें काफी समय लग बीपी लेवल की है आप कहना चाहते हैं या जो भी है इतना आसान नहीं होगा कि किसी भी भारतीय समाज को क्योंकि यहां पर अनेकों प्रकार के धर्म संप्रदाय जाति प्रथा और अनेक प्रकार के बीच में उलझे हुए आपको भी नहीं करना होगा और निगम साथ रहना होगा
Bhaarateey samaaj ko kisee baat se koee matalab nahin hai bas yaara kisee avivaahit holee se adhik rileshanaship mein nahin bhej sakata dekhe bhaee bhaarateey samaaj kee jatilata aur shaayad samajh hee nahin pa raha isamen itanee jatilataen hain nishchit taur par yahaan ka samaan is tarah ka hai kis prakaar kee koee bhee ghatana hotee hai usako bhee aur badha chadhaakar bana diya to kahane ka matalab yah hai jo rileshanaship se sambandhit ya vibhaag se sambandhit aur bahut saare baar soch rahe ho ki saaree cheejen bahut jaldee se ekseptebal hongee to bilkul nahin aur nishchit taur par isamen kaaphee samay lag beepee leval kee hai aap kahana chaahate hain ya jo bhee hai itana aasaan nahin hoga ki kisee bhee bhaarateey samaaj ko kyonki yahaan par anekon prakaar ke dharm sampradaay jaati pratha aur anek prakaar ke beech mein ulajhe hue aapako bhee nahin karana hoga aur nigam saath rahana hoga

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:28
जय भारतीय समाज को किसी बात से कोई मतलब नहीं है दूसरा मतलब नहीं होना चाहिए तभी उनको देखकर खुशी होती इसलिए चाय पी क्या पता होगा ना रे या एक से अधिक रिलेशनशिप में ना रहे
Jay bhaarateey samaaj ko kisee baat se koee matalab nahin hai doosara matalab nahin hona chaahie tabhee unako dekhakar khushee hotee isalie chaay pee kya pata hoga na re ya ek se adhik rileshanaship mein na rahe

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
क्या भारतीय समाज को किसी बात से कोई मतलब नहीं है बस हुआ किसी को अविवाहित नहीं दे सकते देख सकता किसी को लिव इन रिलेशनशिप में नहीं देख सकता ऐसा क्यों होता है ऐसा सवाल पूछा है बहुत अच्छा सवाल पूछा है आचार्य ओशो रजनीश कहा करते थे कि भारतीय समाज जो है वह सुबह सुबह से रात सोने तक अध्यात्म की बातें करता है धर्म व तत्वद्न्यान चिंतन वैराग्य सन्यास की बातें करता है लेकिन यह दुनिया का सबसे बड़ा बहुत-बहुत इन चीजों की चीजों को जाने वाला करने वाला उसमें रस लेने वाला और उसके लिए व्याकुल ऐसा सामान जो सभी भौतिक सुख सुख चाहता है और बात करता है सन्यास के यहां पर मूल बाद मुझे तो ऐसी लगती है कि चीजों को प्रतिबंधित किया गया है संस्कृति के नाम के ऊपर और ज्यादा करके वह सब भारत के धार्मिक और जमींदार गिरोह जमींदार और और पुरोहित वर्ग इन के फायदे फायदा कर कर आने वाली सभी बातें बताई और कर्मकांड बनाए हुए अवसर के नियम बनाए हुए अभी शाश्वत है ऐसा बताया जाते हैं और परमात्मा की वाणी डायरा डायरेक्ट परमात्मा से निकली हुई इसको इस पर कोई नहीं है सभी लोगों को बताया बाद में कई पदों की सूची गुरु रचने वाली खुशियों के नाम भी उसमें वह भी सामने आए का लेखक का नाम भी सामने आया और कई रोका यह भ्रम दूर होगा कि किसी मानव ने यह लिखा है ऐसा तो नहीं लेकिन यह रुसी होने जा रही है और इसी परंपरा के चलते विवाह एक संस्कार माना गया है और किसी के साथ बुरा होता है वह विवाह आकस्मिक निश्चित होता है ऊपर नीचे ऊपर नीचे होती है और हमें सिर्फ निभाना होता है ऐसी सोच और इसी सोच के चलते समाज को यह बताना कठिन जाता है कि कोई अविवाहित रहता है ना कोई यू लिव इन रिलेशनशिप में स्त्री और पुरुष फूलों के लिए रहते हैं और ऐसा करने के लिए इन वर्गों को कोई प्रतिबंध नहीं था यह सब ऐसे और इससे भी और कई सारी जिसे लोग करती थी उनके ऊपर कोई बंधन नहीं था जैसे कोई राजा किसने की प्रतियां करता जनानखाना ही रखता जांच और अधिक युवा उत्कला जननी खाने में भर्ती करते थे और उनके परिवारों को कुछ धन देकर संस्कृति और जनानखाना हुआ करता था इस बात की ओर संकेत करता है यह तो पहले ही अविवाहित लेकिन उनको औरत यारियां जो है वह बड़े घराने के लोग अवेलेबल करके देते थे उनके आदेश पर घरों घरों की राजघरानों की चिड़िया भी खुशियों को उनकी सेवा करने के लिए आवाज आती थी अभियान नाम नहीं बताता हूं मैं लेकिन ऐसा था तो आप यह सारा कि गम मेडल क्लास और शुद्र शुद्र कहा गया है वैश्य कहा गया है यह लोग भी करने लगे हैं आधुनिक जीवन काल में तो बहुत कठिन लगता है लेकिन परिवर्तन ईश्वर करने में परिवर्तन के नियम के अनुसार यह परिवर्तन हो रहे हैं और आगे होते जाएंगे को कोई रोक नहीं सकता
Kya bhaarateey samaaj ko kisee baat se koee matalab nahin hai bas hua kisee ko avivaahit nahin de sakate dekh sakata kisee ko liv in rileshanaship mein nahin dekh sakata aisa kyon hota hai aisa savaal poochha hai bahut achchha savaal poochha hai aachaary osho rajaneesh kaha karate the ki bhaarateey samaaj jo hai vah subah subah se raat sone tak adhyaatm kee baaten karata hai dharm va tatvadnyaan chintan vairaagy sanyaas kee baaten karata hai lekin yah duniya ka sabase bada bahut-bahut in cheejon kee cheejon ko jaane vaala karane vaala usamen ras lene vaala aur usake lie vyaakul aisa saamaan jo sabhee bhautik sukh sukh chaahata hai aur baat karata hai sanyaas ke yahaan par mool baad mujhe to aisee lagatee hai ki cheejon ko pratibandhit kiya gaya hai sanskrti ke naam ke oopar aur jyaada karake vah sab bhaarat ke dhaarmik aur jameendaar giroh jameendaar aur aur purohit varg in ke phaayade phaayada kar kar aane vaalee sabhee baaten bataee aur karmakaand banae hue avasar ke niyam banae hue abhee shaashvat hai aisa bataaya jaate hain aur paramaatma kee vaanee daayara daayarekt paramaatma se nikalee huee isako is par koee nahin hai sabhee logon ko bataaya baad mein kaee padon kee soochee guru rachane vaalee khushiyon ke naam bhee usamen vah bhee saamane aae ka lekhak ka naam bhee saamane aaya aur kaee roka yah bhram door hoga ki kisee maanav ne yah likha hai aisa to nahin lekin yah rusee hone ja rahee hai aur isee parampara ke chalate vivaah ek sanskaar maana gaya hai aur kisee ke saath bura hota hai vah vivaah aakasmik nishchit hota hai oopar neeche oopar neeche hotee hai aur hamen sirph nibhaana hota hai aisee soch aur isee soch ke chalate samaaj ko yah bataana kathin jaata hai ki koee avivaahit rahata hai na koee yoo liv in rileshanaship mein stree aur purush phoolon ke lie rahate hain aur aisa karane ke lie in vargon ko koee pratibandh nahin tha yah sab aise aur isase bhee aur kaee saaree jise log karatee thee unake oopar koee bandhan nahin tha jaise koee raaja kisane kee pratiyaan karata janaanakhaana hee rakhata jaanch aur adhik yuva utkala jananee khaane mein bhartee karate the aur unake parivaaron ko kuchh dhan dekar sanskrti aur janaanakhaana hua karata tha is baat kee or sanket karata hai yah to pahale hee avivaahit lekin unako aurat yaariyaan jo hai vah bade gharaane ke log avelebal karake dete the unake aadesh par gharon gharon kee raajagharaanon kee chidiya bhee khushiyon ko unakee seva karane ke lie aavaaj aatee thee abhiyaan naam nahin bataata hoon main lekin aisa tha to aap yah saara ki gam medal klaas aur shudr shudr kaha gaya hai vaishy kaha gaya hai yah log bhee karane lage hain aadhunik jeevan kaal mein to bahut kathin lagata hai lekin parivartan eeshvar karane mein parivartan ke niyam ke anusaar yah parivartan ho rahe hain aur aage hote jaenge ko koee rok nahin sakata

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
2:04
इतना खुशी की बात की फिल्म फिल्म चूत किसी को आग लगी और एक से अधिक रिलेशनशिप में नहीं देखा हमारी समाज को है यह रूढ़िवादी हमारा समाज तो है यह ट्रेडिशनल है यह परंपराओं पर आधारित है मैं संस्कृति और सभ्यता को भूलने की बात नहीं कह रहा हूं लेकिन समीकरण को बदनाम क्यों आती है पहली भी लड़के लड़कियां आपस में मिलते थे कोई सीमा नहीं होता था कोई एहसान नहीं होता था कोई मन नहीं है नहीं चाहते लेकिन आज एक आदमी दिन में वैज्ञानिक चीनी और आज इतनी प्रखर जी ने अपनी मरे इंटरनेट की और आधुनिकता की जो है बौछार हो रही है तब भी हम इतने स्वार्थी हो रहे कि हम इतने अंधे हो गए हैं कि हम किसी को बातचीत करते हुए जीतकर गलत अर्थ लगा लेते हैं किसी के साथ रहना कोई मना नहीं है लेकिन हां परिवार को उनको समर्थन देना चाहिए उनको सहर्ष स्वीकार करना चाहिए और आपस में एक दूसरे को समझ कर उनके जीवन की दौड़ होनी चाहिए अगर उचित लगता है तो अपना ईगो अपना समाज अपनी इज्जत अपनी मर्यादा इन सब चीजों से हटकर एक दूसरे को समझ कर और परिवहन में से सहमति से सिस्टर को स्वीकार करना चाहिए जिससे कि रिलेशनशिप क्या चीज जो डिस्टिंग यह कलंकित होने से बचाएं और हर इंसान का व्यवहार जो है परिवार के साथ शुभ मजदूरी मूवी
Itana khushee kee baat kee philm philm choot kisee ko aag lagee aur ek se adhik rileshanaship mein nahin dekha hamaaree samaaj ko hai yah roodhivaadee hamaara samaaj to hai yah tredishanal hai yah paramparaon par aadhaarit hai main sanskrti aur sabhyata ko bhoolane kee baat nahin kah raha hoon lekin sameekaran ko badanaam kyon aatee hai pahalee bhee ladake ladakiyaan aapas mein milate the koee seema nahin hota tha koee ehasaan nahin hota tha koee man nahin hai nahin chaahate lekin aaj ek aadamee din mein vaigyaanik cheenee aur aaj itanee prakhar jee ne apanee mare intaranet kee aur aadhunikata kee jo hai bauchhaar ho rahee hai tab bhee ham itane svaarthee ho rahe ki ham itane andhe ho gae hain ki ham kisee ko baatacheet karate hue jeetakar galat arth laga lete hain kisee ke saath rahana koee mana nahin hai lekin haan parivaar ko unako samarthan dena chaahie unako saharsh sveekaar karana chaahie aur aapas mein ek doosare ko samajh kar unake jeevan kee daud honee chaahie agar uchit lagata hai to apana eego apana samaaj apanee ijjat apanee maryaada in sab cheejon se hatakar ek doosare ko samajh kar aur parivahan mein se sahamati se sistar ko sveekaar karana chaahie jisase ki rileshanaship kya cheej jo disting yah kalankit hone se bachaen aur har insaan ka vyavahaar jo hai parivaar ke saath shubh majadooree moovee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हमारा भारतीय समाज कैसा है, भारतीय समाज से जुड़ी महत्वपूर्ण तथ्य,
URL copied to clipboard