#टेक्नोलॉजी

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:16
आई लव यू आज आपका सवाल है कि ग्रामीण भारतीयों द्वारा कंप्यूटर का उपयोग करने में इन दिक्कतों का सामना करना पड़ता है कृषि एवं ग्रामीण हो या फिर घर में भी चुनाव लोग नहीं कर पाते कंप्यूटर लैपटॉप या फिर वह कुछ नहीं कर पाते या फिर एडमिन के आसपास में भी उनके पास भी नहीं होगा जिनकी वजह से उनकी आदत ही होती है उन्होंने कभी देखा है उसको इंग्लिश में कैसे हो ठीक नहीं होती है प्राइवेट स्कूल की बात करें तो कंप्यूटर क्लास उसको इतना मतलब तो नींद का टाइम है बहुत सारे प्रैक्टिकल क्लास में तो ऐसा होता है कि कोई और ठीक है ना साइंस के सब्जेक्ट के अत्याचार एक बच्चा मतलब फिल्म किया होगा एक्सपीरियंस ले आऊंगा तो ग्रामीण की बात करें तो इनका मतलब यह कि जिन को बिल्कुल भी मतलब प्रेशर है जिन को नहीं पता तुझे जवाब मुझे कुछ पता नहीं हो तो जब मैं भी अगर किसी चीज को ऑपरेट करने के लिए ऑफिस चलाने के लिए बैठा हूं कि तुम मुझे भी बता देना ग्रामीण में भी देखी गांव में भी क्या होता है कि यह फैसिलिटी नहीं होती है स्कूल कॉलेज में जरूरी नहीं होता है कि सारे कंप्यूटर की क्लासेस पूरा हो या फिर कंप्यूटर की उपलब्धियां हो यह भी जरूरी नहीं तूने कंप्यूटर के बारे में बिल्कुल भी नॉलेज नहीं होता सदन जब हायर स्टडीज के लिए जाते हैं अभी कहीं पर भी जाते जब उनको कोई भी प्रेजेंटेशन या फिर कोई भी ऐसे काम के लिए बोला जाता है करने के लिए फिर से कोई भी क्लास फ्रेंड से बोलता है कि थोड़े ही है मेरा काम कर देना तुमको मतलब कुछ भी समझ में आता और कैसे करना है कैसे करना कैसे माउस को पकड़ना है और कैसे कहां पर कर सर गया वह देखना है फिर कैसे चुने बेसिक चीज भी नहीं पता होता है जनरल तो देखे गांव में भी एक मैसेज दिखा तो दिया जाएगा लेकिन आप कितना समझे नहीं उसके लिए आपके घर पर भी लैपटॉप कंप्यूटर होना चाहिए तो इस वजह से बहुत सारे लोगों को आज भी देखे इतना नॉलेज नहीं है क्योंकि आप खरीदने के लिए भी जाएंगे तो मंदिर तो है नहीं कि बहुत ही अलग सस्ती प्राइस में आपको मिल जाता बहुत ही महंगा भी है आपका अच्छे से अच्छा जो लैपटॉप होता है वह 3035 40000 इतना का ही होता है तो हम लोग आपका फायदा जिनकी वजह से हम लोगों को होली नहीं मिल पाती

और जवाब सुनें

Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:32
सवाल है कि ग्रामीण भारतीयों द्वारा कंप्यूटर का उपयोग करने में किन दिक्कतों का सामना करना पड़ता है तो पहले तू कंप्यूटर की शिक्षा का अभाव है ग्रामीण में इंग्लिश सही समय पर उन्हें प्रशिक्षण नहीं मिल पाता है और उन्हें पूर्ण रूप से कंप्यूटर का ज्ञान नहीं इसके साथ-साथ उन्हें इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध नहीं है और उपलब्धि भी है तो बहुत महंगे इंटरनेट उपलब्ध हो सफिशिएंट नहीं है अभी भी ग्रामीण लोगों के जो बच्चे हैं वह अपने स्कूल या कॉलेज में कंप्यूटर का नॉलेज नहीं ले पाते अगर पढ़ना है तो अलग से कंप्यूटर इंस्टिट्यूट पर जाकर ज्यादा पैसे चूका कर उन्हें कंप्यूटर का ज्ञान सीखना पड़ता है जिससे कि जो भी ग्रामीण लोग हैं इतनी ज्यादा उनके पास पैसे नहीं होते क्योंकि ग्रामीण लोग सबसे ज्यादा जो भरो उनका व्यवसाय होता है या पैसे की आमदनी होती हो कृषि सेवक कि आप जानते हैं कि किसी एक की शान है वह कितना कमा कमा पाता है इतना ही कमा पाता है कि जो अपने परिवार का पालन पोषण कर सके लेकिन अभी भी देखा जाए तो गवर्नमेंट थोड़ा सा ध्यान दे रही है एक ग्रामीण को भी हम कंप्यूटर से अवगत कराएं और कंप्यूटर के बारे में उन्हें जानकारी दें कि आने वाले समय में वह भी बाहर निकलकर और उसके साथ-साथ अपनी फसल को अपने कंप्यूटर के साथ जुड़ सके और नेट के माध्यम से ही उसमें जो भी कमियां है उसे दूर कर सकें लेकिन फिर भी बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो इस से जुड़ नहीं पा रहे हैं उन्हें ऐसा लगता है कि इसे बहुत बड़ा नुकसान है हमें हमें क्या है कि इसके बारे में कुल मिलाकर से इसके बारे में उन्हें अच्छे नॉलेज नहीं है जब नॉलेज नहीं है तो इसीलिए दिक्कत होती है तो गवर्नमेंट कोई करना चाहिए कि ग्रामीण क्षेत्र में एक संस्था को नीचे कंप्यूटर संस्थान खोले चाहिए जिससे कि बहुत अच्छी तरीके से इन लोगों को लालच दिया जा सके और उनके बच्चों को भी पढ़ा जा सके कि आने वाली जो पी ली होगी वह बहुत अच्छी जानकार हो जाएगी अभी भी कुछ ऐसे संस्थान थे जो पढ़ाए जाते थे लेकिन वह अच्छे तरीके से नहीं पढ़ाएंगे बस केवल नाम के लिए ही किए क्योंकि गवर्नमेंट के द्वारा खोले गए थे लेकिन फिर भी वह बस एक नाम मात्र पर ही काम किए लेकिन गवर्नमेंट को बहुत अच्छा खासा ध्यान देना चाहिए ग्रामीण भारतीयों के ऊपर की कंप्यूटर का अच्छा लाली उन्हें भी मिल सके एक नई संस्था के द्वारा
Savaal hai ki graameen bhaarateeyon dvaara kampyootar ka upayog karane mein kin dikkaton ka saamana karana padata hai to pahale too kampyootar kee shiksha ka abhaav hai graameen mein inglish sahee samay par unhen prashikshan nahin mil paata hai aur unhen poorn roop se kampyootar ka gyaan nahin isake saath-saath unhen intaranet kee suvidha upalabdh nahin hai aur upalabdhi bhee hai to bahut mahange intaranet upalabdh ho saphishient nahin hai abhee bhee graameen logon ke jo bachche hain vah apane skool ya kolej mein kampyootar ka nolej nahin le paate agar padhana hai to alag se kampyootar instityoot par jaakar jyaada paise chooka kar unhen kampyootar ka gyaan seekhana padata hai jisase ki jo bhee graameen log hain itanee jyaada unake paas paise nahin hote kyonki graameen log sabase jyaada jo bharo unaka vyavasaay hota hai ya paise kee aamadanee hotee ho krshi sevak ki aap jaanate hain ki kisee ek kee shaan hai vah kitana kama kama paata hai itana hee kama paata hai ki jo apane parivaar ka paalan poshan kar sake lekin abhee bhee dekha jae to gavarnament thoda sa dhyaan de rahee hai ek graameen ko bhee ham kampyootar se avagat karaen aur kampyootar ke baare mein unhen jaanakaaree den ki aane vaale samay mein vah bhee baahar nikalakar aur usake saath-saath apanee phasal ko apane kampyootar ke saath jud sake aur net ke maadhyam se hee usamen jo bhee kamiyaan hai use door kar saken lekin phir bhee bahut saare aise log hain jo is se jud nahin pa rahe hain unhen aisa lagata hai ki ise bahut bada nukasaan hai hamen hamen kya hai ki isake baare mein kul milaakar se isake baare mein unhen achchhe nolej nahin hai jab nolej nahin hai to iseelie dikkat hotee hai to gavarnament koee karana chaahie ki graameen kshetr mein ek sanstha ko neeche kampyootar sansthaan khole chaahie jisase ki bahut achchhee tareeke se in logon ko laalach diya ja sake aur unake bachchon ko bhee padha ja sake ki aane vaalee jo pee lee hogee vah bahut achchhee jaanakaar ho jaegee abhee bhee kuchh aise sansthaan the jo padhae jaate the lekin vah achchhe tareeke se nahin padhaenge bas keval naam ke lie hee kie kyonki gavarnament ke dvaara khole gae the lekin phir bhee vah bas ek naam maatr par hee kaam kie lekin gavarnament ko bahut achchha khaasa dhyaan dena chaahie graameen bhaarateeyon ke oopar kee kampyootar ka achchha laalee unhen bhee mil sake ek naee sanstha ke dvaara

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:12
ग्रामीण भारत में कंप्यूटर का उपयोग करने में दिक्कतों का सामना करना पड़ता है सबसे पहले हर ग्रामीण क्षेत्र में बिजली नहीं है दूसरी बात निकली है तो इंटरनेट की कमी है तीसरी बार इंटरनेट किसी तरह पहुंचता है तो कंप्यूटर का पूर्ण ज्ञान नहीं है इसके अतिरिक्त कंप्यूटर ग्रामीण क्षेत्रों के लिए जो है वह बहुत महंगा है हर आदमी की समझ से बाहर है इसलिए कंप्यूटर का उपयोग ग्रामीण क्षेत्रों में इस तरह से देखा जाए बहुत ही जूतों का जो है कारण होता है आर्थिक रूप से सामाजिक रूप से व्यावहारिक रूप से हो कि इंटरनेट से ग्रामीण क्षेत्र के लोग हैं वह बच्चों को बचाते हैं खासकर के युवाओं को आज मोबाइल ने इस समस्या का समाधान कर दिया है लैपटॉप या कंप्यूटर की जगह मोबाइल ले ले लिए और वह ग्रामीण क्षेत्रों तक फैल चुका है
Graameen bhaarat mein kampyootar ka upayog karane mein dikkaton ka saamana karana padata hai sabase pahale har graameen kshetr mein bijalee nahin hai doosaree baat nikalee hai to intaranet kee kamee hai teesaree baar intaranet kisee tarah pahunchata hai to kampyootar ka poorn gyaan nahin hai isake atirikt kampyootar graameen kshetron ke lie jo hai vah bahut mahanga hai har aadamee kee samajh se baahar hai isalie kampyootar ka upayog graameen kshetron mein is tarah se dekha jae bahut hee jooton ka jo hai kaaran hota hai aarthik roop se saamaajik roop se vyaavahaarik roop se ho ki intaranet se graameen kshetr ke log hain vah bachchon ko bachaate hain khaasakar ke yuvaon ko aaj mobail ne is samasya ka samaadhaan kar diya hai laipatop ya kampyootar kee jagah mobail le le lie aur vah graameen kshetron tak phail chuka hai

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:18
हर चिंताहरण कंप्यूटर का उपयोग करने में क्या दिक्कत है तो सामना करना पड़ता है उसे चलाते नहीं बनता सत्संग कॉलेजेस इन को इंग्लिश नहीं आती है इंग्लिश नहीं आती तो है कंप्यूटर चलाने में दिक्कत आएगी गूगल इंग्लिश सीखना पड़ेगा तो कंप्यूटर चलाना शुरु करने पर दिक्कत ही दिक्कत

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ग्रामीण लोगो को कंप्यूटर चलाना कैसे सिखाए, ग्रमीण कंप्यूटर का उपयोग कैसे करता है, गांव के लोगो को कंप्यूटर चलाने में क्या दिक्क्त आती है
URL copied to clipboard