#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

कोई एक प्रेरणादायक कहानी सुनाइए?

Koi Ek Prernadayak Kahani Sunaiye
Deepak Perwani7017127373 Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
Job
4:48
कहानी है आपके गलत बिलीफ सिस्टम को जो है खत्म करेगी बहुत से लोगों की सोच होती है ना कि जो है इस लड़की का कैरेक्टर खराब है इसके घर में जाया करो पानी मत पिया करो यह लड़का गलत है यह गलत है लोग एक दूसरे के ऊपर गलत आरोप लगाते हैं उनके बारे एक बार गौतम बुध अपने बिच्छू कहीं जहां रहते तो वहां उन्होंने उन्हें एक मंत्री ने देखा तो उन्होंने कहा बुद्ध से तुम तो किसी राजकुमार की तरह लगते हो तुम यहां कैसे तू गौतम बुद्ध ने कहा मैंने अपनी जिंदगी में सन्यास लिया है तो फिर उस लड़की ने कहा क्यों तो बोला कि मैंने तीन प्रश्नों का उत्तर जानने के लिए उन्होंने बोला जीवन का सत्य जानने के लिए कि मृत्यु पर्यंत यानी कि हमारे शरीर वृद्ध होगा कि मृत्यु को प्राप्त होगा इन सब का सत्य जानने के लिए इन प्रश्नों का तो फिर लड़की ने कहा आपको आपके प्रश्नों का उत्तर मिल गए उन्होंने बोला मुझे मिल गए तो उस दिन से प्रभावित हुई और उन्होंने उन्होंने गौतम बुध को अपने घर में बजट के लिए बुलाया जैसे ही कहां वालों को ही पता चला कि गौतम बुध उस लड़की के घर में जाने वाले हैं तो गौतम बुध वालों का गांव वाले पहुंच गए कहां की भागवत गौतम बुद्ध क्या आप उनके घर में भोजन करने जाने वाले किसी स्त्री के गर्भ में बोला हां क्या कमी है क्या बात है बताओ तो गौतम बुद्ध से कहा उनका वालों ने आपको पता नहीं है लड़की चरित्रहीन है यह लड़की का कैरेक्टर खराब इसके घर का तो कोई पानी भी ना पिए तो गौतम बुद्ध ने कहा कि अगर तुमने साबित कर दिया कि एक ही लड़की है तो मैं उसके घर पर खाना खाने नहीं जाऊंगा अगर तुम साबित करके दिखाओ तो गौतम बुध ने कहा तुम गांव वालों में से सबसे ज्यादा ज्ञानी व्यक्ति जो हो उसे मेरे पास भेजो वह ज्ञानी व्यक्ति को अपने पास लाते हैं गौतम बुध उच्च ज्ञानी व्यक्ति इसे कहते हैं गौतम को तो स्थानीय व्यक्ति से कहते हैं क्या है गांव वाले जो बात कह रहे हैं सच है कि लड़की चरित्रहीन है गांव वाले हो ज्ञानी व्यक्ति कहता हां गौतम बुद्ध यह बात सही है तो कहो तुम बुध एग्जांपल उदाहरण के लिए उनसे आगे आने के लिए कहते हैं कि नहीं तुम्हारे पास कितने हाथ हैं बात है ठीक है तो गौतम बुद्ध ने कहा मान कर चलिए कि तुम्हारा सीधा हाथ गांव वाले हैं और उल्टा हाथ वह लड़की है जिसको तुमने चरित्रहीन मनासा गौतम बुद्ध ने कहा अब तुम अपने दोनों हाथ मिलाओ और जोर-जोर से ताली बजाओ वह ज्ञानी व्यक्ति ऐसा ही करता है फिर गौतम बुद्ध से वह व्यक्ति कहता है अब रूको कैरो गौतम बुध कहता है अब तुम बताओ जो जो तुमने ताली बजाई एक के साथ में कहा मैं ज्यादा तेज बजे राइट एंड लेफ्ट है तो ज्ञानी व्यक्ति कहता है कि यह क्या प्रश्न कर रहे हो भक्तों को यह तो ताली बजाने में तो दोनों हाथों का बराबर सहयोग चाहिए होता है गौतम को तो कहते हैं खैर अब एक हाथ तुम आगे लावा बना जिसे वह गांव वाले हैं वह चरित्रहीन स्त्री और कहां की एक हाथ से ताली बजा कर दिखाओ तो ज्ञानी व्यक्ति कहता ऐसे कैसे होगा वह तुमको देखी एक हाथ से ताली बस सकती है तो फिर गौतम बुद्ध कहते हैं जब ताली बजाने में दोनों हाथों का बराबर सहयोग चाहिए होता है तो चरित्रहीन स्त्री हो अकेले क्यों है पुरुष भी उतना ही चरित्रहीन है जितनी बड़ी चरित्रहीन है अगर स्त्री चरित्रं पुरुषस्य चरित्रहीन है जब तक कोई किसी के ऊपर दाग लगाने वाला नहीं होगा तो क्या उससे पहले कोई इंसान या पुरुष वचन फ्री वह चरित्रहीन हो सकता है लेकिन दुनिया के कहने का तरीका तो देखिए ढंग तो देखिए मिस्त्री को चरित्रहीन हो जाती है लेकिन उस पर उसका कोई कुछ नहीं कहता जिसके कारण वह स्त्री चरित्रहीन स्त्री चरित्र ही है तो पुरुष भी उतना ही चरित्रहीन है अगर वह स्त्री इतनी चरित्रहीन ना होती कि आप गांव वालों चरित्रहीन ना होते गांव वालों को गौतम बुद्ध की बात समझ में आ जाती है तो गौतम बुद्ध से क्षमा मांग लेते हैं कुल मिलाकर इस कहानी से भी यही प्रेरणा मिलती है कि इंसान अपनी नजरों में कैसा है इंसान को अपनी नजरों में कैसा है वह हमें देखना चाहिए दूसरा इंसान के ऊपर आरोप लगाने से पहले में देखना चाहिए कि वह अच्छी है या नहीं अगर आप अपनी नजरों में खुद की नजरों में आप सही है तो फिर दुनिया को सही लगेगी अगर आप दूसरों को गलत नजर से देखेंगे तो आपको अपने अंदर सब केंद्र सब गलत देखेंगे यह प्रकृति का नियम है जब तक कोई किसी के ऊपर चरित्र पर दाग नहीं लगाता है तब तक कोई इंसान कोई चरित्रहीन स्त्री वगैरह कोई कुछ नहीं होता है जय माता दी जय हिंदुस्तान यह है कहानी
Kahaanee hai aapake galat bileeph sistam ko jo hai khatm karegee bahut se logon kee soch hotee hai na ki jo hai is ladakee ka kairektar kharaab hai isake ghar mein jaaya karo paanee mat piya karo yah ladaka galat hai yah galat hai log ek doosare ke oopar galat aarop lagaate hain unake baare ek baar gautam budh apane bichchhoo kaheen jahaan rahate to vahaan unhonne unhen ek mantree ne dekha to unhonne kaha buddh se tum to kisee raajakumaar kee tarah lagate ho tum yahaan kaise too gautam buddh ne kaha mainne apanee jindagee mein sanyaas liya hai to phir us ladakee ne kaha kyon to bola ki mainne teen prashnon ka uttar jaanane ke lie unhonne bola jeevan ka saty jaanane ke lie ki mrtyu paryant yaanee ki hamaare shareer vrddh hoga ki mrtyu ko praapt hoga in sab ka saty jaanane ke lie in prashnon ka to phir ladakee ne kaha aapako aapake prashnon ka uttar mil gae unhonne bola mujhe mil gae to us din se prabhaavit huee aur unhonne unhonne gautam budh ko apane ghar mein bajat ke lie bulaaya jaise hee kahaan vaalon ko hee pata chala ki gautam budh us ladakee ke ghar mein jaane vaale hain to gautam budh vaalon ka gaanv vaale pahunch gae kahaan kee bhaagavat gautam buddh kya aap unake ghar mein bhojan karane jaane vaale kisee stree ke garbh mein bola haan kya kamee hai kya baat hai batao to gautam buddh se kaha unaka vaalon ne aapako pata nahin hai ladakee charitraheen hai yah ladakee ka kairektar kharaab isake ghar ka to koee paanee bhee na pie to gautam buddh ne kaha ki agar tumane saabit kar diya ki ek hee ladakee hai to main usake ghar par khaana khaane nahin jaoonga agar tum saabit karake dikhao to gautam budh ne kaha tum gaanv vaalon mein se sabase jyaada gyaanee vyakti jo ho use mere paas bhejo vah gyaanee vyakti ko apane paas laate hain gautam budh uchch gyaanee vyakti ise kahate hain gautam ko to sthaaneey vyakti se kahate hain kya hai gaanv vaale jo baat kah rahe hain sach hai ki ladakee charitraheen hai gaanv vaale ho gyaanee vyakti kahata haan gautam buddh yah baat sahee hai to kaho tum budh egjaampal udaaharan ke lie unase aage aane ke lie kahate hain ki nahin tumhaare paas kitane haath hain baat hai theek hai to gautam buddh ne kaha maan kar chalie ki tumhaara seedha haath gaanv vaale hain aur ulta haath vah ladakee hai jisako tumane charitraheen manaasa gautam buddh ne kaha ab tum apane donon haath milao aur jor-jor se taalee bajao vah gyaanee vyakti aisa hee karata hai phir gautam buddh se vah vyakti kahata hai ab rooko kairo gautam budh kahata hai ab tum batao jo jo tumane taalee bajaee ek ke saath mein kaha main jyaada tej baje rait end lepht hai to gyaanee vyakti kahata hai ki yah kya prashn kar rahe ho bhakton ko yah to taalee bajaane mein to donon haathon ka baraabar sahayog chaahie hota hai gautam ko to kahate hain khair ab ek haath tum aage laava bana jise vah gaanv vaale hain vah charitraheen stree aur kahaan kee ek haath se taalee baja kar dikhao to gyaanee vyakti kahata aise kaise hoga vah tumako dekhee ek haath se taalee bas sakatee hai to phir gautam buddh kahate hain jab taalee bajaane mein donon haathon ka baraabar sahayog chaahie hota hai to charitraheen stree ho akele kyon hai purush bhee utana hee charitraheen hai jitanee badee charitraheen hai agar stree charitran purushasy charitraheen hai jab tak koee kisee ke oopar daag lagaane vaala nahin hoga to kya usase pahale koee insaan ya purush vachan phree vah charitraheen ho sakata hai lekin duniya ke kahane ka tareeka to dekhie dhang to dekhie mistree ko charitraheen ho jaatee hai lekin us par usaka koee kuchh nahin kahata jisake kaaran vah stree charitraheen stree charitr hee hai to purush bhee utana hee charitraheen hai agar vah stree itanee charitraheen na hotee ki aap gaanv vaalon charitraheen na hote gaanv vaalon ko gautam buddh kee baat samajh mein aa jaatee hai to gautam buddh se kshama maang lete hain kul milaakar is kahaanee se bhee yahee prerana milatee hai ki insaan apanee najaron mein kaisa hai insaan ko apanee najaron mein kaisa hai vah hamen dekhana chaahie doosara insaan ke oopar aarop lagaane se pahale mein dekhana chaahie ki vah achchhee hai ya nahin agar aap apanee najaron mein khud kee najaron mein aap sahee hai to phir duniya ko sahee lagegee agar aap doosaron ko galat najar se dekhenge to aapako apane andar sab kendr sab galat dekhenge yah prakrti ka niyam hai jab tak koee kisee ke oopar charitr par daag nahin lagaata hai tab tak koee insaan koee charitraheen stree vagairah koee kuchh nahin hota hai jay maata dee jay hindustaan yah hai kahaanee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • प्रेरक और प्रेरणादायक लघु कथाएं,प्रेरणादायक हिंदी कहानी ,प्रेरणादायी कहानी
URL copied to clipboard