#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?

Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:23
किस देने और इज्जत करने में क्या अंतर है लिखिए जो देने का मतलब होता है जब आप खुद मन से किसी को रिस्पेक्ट करते हैं दिल से किसी को रिस्पेक्ट करते हैं आप के अंदर से फीलिंग आती है कि आप सामने वाले को रिस्पेक्ट करना चाहिए देना चाहिए जो की इज़्ज़त करवाना मतलब आप पोस्ट पूरी किसी से एक ऐसा काम करवा रहे हैं पोस्ट कर रहे हैं सामने वाले व्यक्ति को कि वह आपको रेस्पेक्ट दे आपका दिन शुभ रहे थे नेपाल
Kis dene aur ijjat karane mein kya antar hai likhie jo dene ka matalab hota hai jab aap khud man se kisee ko rispekt karate hain dil se kisee ko rispekt karate hain aap ke andar se pheeling aatee hai ki aap saamane vaale ko rispekt karana chaahie dena chaahie jo kee izzat karavaana matalab aap post pooree kisee se ek aisa kaam karava rahe hain post kar rahe hain saamane vaale vyakti ko ki vah aapako respekt de aapaka din shubh rahe the nepaal

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
1:18
कुछ पाने की इज्जत देने और जिद करने में क्या अंतर है तो सीधी सी बात है कि बेवजह पानी पीने में और जब प्यास लगी है तब पानी पीने में अंतर होता है ठीक उसी प्रकार आप ही जवाब देते हैं जब आपको कुछ औरत हो या फिर जबरदस्ती बीएफ चाहिए मन में कभी-कभी कुछ लोग इज्जत देनी पड़ती है वह यह होते हैं जो देना परंतु आपके जीवन में कुछ अच्छे लोग होते हैं जो चीन का चित्र देखें इसके लिए खुद ब खुद ही इज्जत करने का ख्याल रखते हैं खुद को खुद खुद उनके लिए इज्जत से आ जाती है होता है जिस करना वह लोग होते हैं जो आप की भी उसने भी बताते हैं कि हम हर किसी की इज्जत करनी है और वह बड़ा हो या छोटा हो या बड़ा हो या बच्चा और पृथ्वी के देने और इज्जत करने का यही अंतरिम की इज्जत जबरदस्ती भी दी जाती है और जबरदस्ती ली जाती है बट करना होता है आपके मन में आप फिल्में उसको जिद करते हैं या नहीं करते हैं
Kuchh paane kee ijjat dene aur jid karane mein kya antar hai to seedhee see baat hai ki bevajah paanee peene mein aur jab pyaas lagee hai tab paanee peene mein antar hota hai theek usee prakaar aap hee javaab dete hain jab aapako kuchh aurat ho ya phir jabaradastee beeeph chaahie man mein kabhee-kabhee kuchh log ijjat denee padatee hai vah yah hote hain jo dena parantu aapake jeevan mein kuchh achchhe log hote hain jo cheen ka chitr dekhen isake lie khud ba khud hee ijjat karane ka khyaal rakhate hain khud ko khud khud unake lie ijjat se aa jaatee hai hota hai jis karana vah log hote hain jo aap kee bhee usane bhee bataate hain ki ham har kisee kee ijjat karanee hai aur vah bada ho ya chhota ho ya bada ho ya bachcha aur prthvee ke dene aur ijjat karane ka yahee antarim kee ijjat jabaradastee bhee dee jaatee hai aur jabaradastee lee jaatee hai bat karana hota hai aapake man mein aap philmen usako jid karate hain ya nahin karate hain

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Rajesh Kumar Naveriya  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Rajesh जी का जवाब
Ast. Teacher
2:26
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है तो इज्जत हम नए लोगों को देते हैं जो हमारे यहां मेहमान बन के आते हैं अपने से बड़ों को अपन को इज्जत देना पड़ती है इज्जत देने से ही जीत हमें मिलती है और इज्जत करना जहां तक है अपने मां-बाप अपने से बड़ों की इज्जत की जाती है जो हमारे रिश्तेदार होते हैं या मनन होते हैं तो हम भी जरूर करना चाहिए तो अब इसमें अपना तो होता है यह पहले से अपने होते हैं उनको हम इज्जत देते हैं इज्जत इज्जत करते हैं और इज्जत है जो देना है तो अपन किसी को उधार देंगे दूसरी मांग भी सकते हैं तो इज्जत देना और लेना है तो हमें इज्जत मतलब सम्मान सम्मान तो सभी लोगों का आवश्यक है छोटे लोग हैं तो यदि हम उनकी भी इज्जत करते हैं तो वह हमको भी सम्मान देते हैं छोटों की भी अब इज्जत करते हैं ऐसा नहीं है की चोटों की जितनी की जाती है बड़ों की तो करना ही पड़ती है पर दूसरों को अनुभव के लिए उन से लगाव के लिए हमें जल देना पड़ती है यदि हमसे गलत तरीके से बात करेगी तो वह भी हमें गलत तरीके से ही उत्तर देंगे आपसे दूर भागेंगे तो छोटों को इज्जत देने से उन्हें यह पता चलता है कि फला व्यक्ति के स्वभाव का है निस का नेचर कैसा है अच्छा है बुरा है बाद में वह कहते हैं कि यह भाई अच्छा नहीं है कि दारू खराब है चाचा खराब है तो हमें दूसरों की इज्जत रिस्पेक्ट जरूरी है और रिस्पेक्ट मां-बाप बड़ों की करना अति आवश्यक है करना चाहिए थैंक यू धन्यवाद
Ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai to ijjat ham nae logon ko dete hain jo hamaare yahaan mehamaan ban ke aate hain apane se badon ko apan ko ijjat dena padatee hai ijjat dene se hee jeet hamen milatee hai aur ijjat karana jahaan tak hai apane maan-baap apane se badon kee ijjat kee jaatee hai jo hamaare rishtedaar hote hain ya manan hote hain to ham bhee jaroor karana chaahie to ab isamen apana to hota hai yah pahale se apane hote hain unako ham ijjat dete hain ijjat ijjat karate hain aur ijjat hai jo dena hai to apan kisee ko udhaar denge doosaree maang bhee sakate hain to ijjat dena aur lena hai to hamen ijjat matalab sammaan sammaan to sabhee logon ka aavashyak hai chhote log hain to yadi ham unakee bhee ijjat karate hain to vah hamako bhee sammaan dete hain chhoton kee bhee ab ijjat karate hain aisa nahin hai kee choton kee jitanee kee jaatee hai badon kee to karana hee padatee hai par doosaron ko anubhav ke lie un se lagaav ke lie hamen jal dena padatee hai yadi hamase galat tareeke se baat karegee to vah bhee hamen galat tareeke se hee uttar denge aapase door bhaagenge to chhoton ko ijjat dene se unhen yah pata chalata hai ki phala vyakti ke svabhaav ka hai nis ka nechar kaisa hai achchha hai bura hai baad mein vah kahate hain ki yah bhaee achchha nahin hai ki daaroo kharaab hai chaacha kharaab hai to hamen doosaron kee ijjat rispekt jarooree hai aur rispekt maan-baap badon kee karana ati aavashyak hai karana chaahie thaink yoo dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
Author
1:06
नमस्कार आपका सवाल है इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है कि हम इन सब को हिंदी के साहित्य के अनुसार देखे तो एक से ही दोनों आए हैं पर यदि आप डिटेल में एप्स लोड करेंगे या इन शब्दों पर जाएंगे फिर में बारीक अंतर है इज्जत करने का मतलब है आप उस व्यक्ति को मंच सम्मान करते हैं मन से उन दोनों का इतिहास को मानते हैं इज्जत देने का मतलब है कि आप हो सकता है उस व्यक्ति का सम्मान ना करते हो सकता है आपको इतना मानते हैं आपको उसमें भरोसा ना हो लेकिन फिर भी प्रोफेशनली सामने है तो आप उस को ड्रेस वितरित करते हैं आप सामने उसको वैसे ही ट्वीट करते हैं जैसे आप किसी सम्मानित व्यक्ति को करते हैं बात करने का हो तो आप उसको मन से सम्मान करते हैं ठीक है जिसमें सम्मान करते हैं और दिखाते भी हैं या ना भी दिखाए तो भी आप करते हैं और दूसरा ऐसा है जहां आप करते हो ना करते हो लेकिन दूसरे को सम्मान करता हुआ दिखाई देते हैं एक सिर्फ दिखाने का है और एक करने से है धन्यवाद
Namaskaar aapaka savaal hai ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai ki ham in sab ko hindee ke saahity ke anusaar dekhe to ek se hee donon aae hain par yadi aap ditel mein eps lod karenge ya in shabdon par jaenge phir mein baareek antar hai ijjat karane ka matalab hai aap us vyakti ko manch sammaan karate hain man se un donon ka itihaas ko maanate hain ijjat dene ka matalab hai ki aap ho sakata hai us vyakti ka sammaan na karate ho sakata hai aapako itana maanate hain aapako usamen bharosa na ho lekin phir bhee propheshanalee saamane hai to aap us ko dres vitarit karate hain aap saamane usako vaise hee tveet karate hain jaise aap kisee sammaanit vyakti ko karate hain baat karane ka ho to aap usako man se sammaan karate hain theek hai jisamen sammaan karate hain aur dikhaate bhee hain ya na bhee dikhae to bhee aap karate hain aur doosara aisa hai jahaan aap karate ho na karate ho lekin doosare ko sammaan karata hua dikhaee dete hain ek sirph dikhaane ka hai aur ek karane se hai dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:30
केरी की चटनी विचित्र में क्या अंतर होता है जो इज्जत देना एक प्रकार की फॉर्मेलिटी निभाना होता है जहां पर आप नहीं चाहते सामने वाले की इज्जत नहीं फिर किसी के पास 3 लोग खड़े हैं सोना पिक्चर देने लगते हैं इज्जत देना कहते हो रिचार्ज करने में था आइटम सामने वाले की इज्जत करते हैं कितने भी गुस्से में हमेशा बहुत प्रेम से बात करते हैं आपको कभी ऐसा नहीं होने देना चाहते हैं कि जैसे सामने वाले को बुरा लगे
Keree kee chatanee vichitr mein kya antar hota hai jo ijjat dena ek prakaar kee phormelitee nibhaana hota hai jahaan par aap nahin chaahate saamane vaale kee ijjat nahin phir kisee ke paas 3 log khade hain sona pikchar dene lagate hain ijjat dena kahate ho richaarj karane mein tha aaitam saamane vaale kee ijjat karate hain kitane bhee gusse mein hamesha bahut prem se baat karate hain aapako kabhee aisa nahin hone dena chaahate hain ki jaise saamane vaale ko bura lage

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:57
फोन कर दूंगा आपका सवाल बहुत ही अच्छा है इधर देने आपके अगर घर में कोई भी मेहमान आता है या रिश्तेदार आता है तो आप उनका सम्मान करना उनको घर में आराम से बैठा ना और उनसे वार्तालाप करना और सुख-दुख के बारे में पूछना और उनके समस्याओं को देखना और उनका सम्मान करना यह इज्जत देना होता है और इज्जत करना जो आप से बड़े हैं आपके माता-पिता या आपके गुरु जन या आपके बड़े भाई और आप उनका सम्मान करते हो यह इज्जत करना होता है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Phon kar doonga aapaka savaal bahut hee achchha hai idhar dene aapake agar ghar mein koee bhee mehamaan aata hai ya rishtedaar aata hai to aap unaka sammaan karana unako ghar mein aaraam se baitha na aur unase vaartaalaap karana aur sukh-dukh ke baare mein poochhana aur unake samasyaon ko dekhana aur unaka sammaan karana yah ijjat dena hota hai aur ijjat karana jo aap se bade hain aapake maata-pita ya aapake guru jan ya aapake bade bhaee aur aap unaka sammaan karate ho yah ijjat karana hota hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:08
सवाल इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है दोस्तों पर्यायवाची लगती आ रहा है अभी घर के ऊपर उसके आने पर आप जो खुशी व्यक्त करते हैं तो यह खुशी धारा के बारे में पानी के बारे में शिकायत करने का मतलब अंतरजातीय फॉर्म
Savaal ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai doston paryaayavaachee lagatee aa raha hai abhee ghar ke oopar usake aane par aap jo khushee vyakt karate hain to yah khushee dhaara ke baare mein paanee ke baare mein shikaayat karane ka matalab antarajaateey phorm

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
पन्ना लाल (कालिदास) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए पन्ना जी का जवाब
Study
0:39

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
2:28
इंटरेस्टिंग क्वेश्चन पूछा है अपने आपको क्वेश्चन आंसर देने वाली सब करने में क्या अंतर है तू मैं अपने पॉइंट ऑफ यू से बताऊंगी की इज्जत देना जो होता है वह भी टेंपरेरी हो सकता है कि कोई बहुत बड़ा व्यक्ति है कोई राजनैतिक व्यक्ति है या कोई हाई प्रॉस्परस व्यक्ति है जिससे हमें रिस्पेक्ट देना ही है इस द डे नहीं है उस वक्त उसके सामने शो करना कि हम आपकी कितनी रिस्पेक्ट करते हैं उसकी आओ भगत करना है चाहे आपके मन में उसके लिए रियल में रिस्पेक्ट अंदर से हो या नहीं हो लेकिन आपको उससे उस वक्त इज्जत देना है और बड़ों के लिए भी कहा जाता है कि भले ही बड़े बड़ों के लिए हमारे मन में रिस्पेक्ट ना हो अगर वह अच्छे नहीं है कुछ बुरे कर्म किए हुए हैं या कर रहे हैं लेकिन उन्हें रिस्पेक्ट सबके सामने देनी पड़ेगी अपने पेरेंट्स कहते हैं तो देनी पड़ेगी और इज्जत का मैं करना जो होता है वह प्रॉमिनेंट होता है कि किसी के लिए हमें मन में रिश्ता होती है तू चाहे हम अकेले में हो चाहे 4 लोगों के सामने हो हम उसे रिस्पेक्ट देते हैं इसलिए हम कहते हैं सब करना तो जो इज्जत देना है वह मैं भी दिखावा हो सकता है लेकिन इज्जत करना दिखावा नहीं होता वह जोर से निकल कर आता है वह रिस्पेक्ट किसी के लिए ह्रदय से निकल के आती है वह रिस्पेक्ट किसी के लिए तो मेरे हिसाब से इज्जत देना एक टेंपरेरी फॉर्म ऑफ़ रिस्पेक्ट है और इज्जत करना एक परमानेंट फॉर्म ऑफ रेस्पेक्ट मैं अपने पर इंटरव्यू में सही हूं क्योंकि मुझे तो यही लगता है अगर आपको उसके अलावा कुछ और लगता हो तो प्लीज शेयर विद मी एंड थैंक्स फॉर शेयरिंग सचिन इंपॉर्टेंट क्वेश्चन क्वेश्चन क्वेश्चन करने के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद काफी सारे ग्रेट पर्सनालिटी से बोलकर पर जो इतने अच्छे क्वेश्चन पूछते हैं कि एक का नहीं बहुत लोगों का फायदा हो सकता है उसको असल से तो मैं आपको हार्दिक बधाई दे क्योंकि आपने बहुत ही अच्छा सवाल चुना और वह किया इसका जवाब देने में मुझे बहुत ज्यादा खुशी हो रही है मदरसे आप को इज्जत देते हुए कह रही हूं कि यू है आस्था व्हाइट नाइट क्वेश्चन थैंक्स सो थैंक यू
Intaresting kveshchan poochha hai apane aapako kveshchan aansar dene vaalee sab karane mein kya antar hai too main apane point oph yoo se bataoongee kee ijjat dena jo hota hai vah bhee tempareree ho sakata hai ki koee bahut bada vyakti hai koee raajanaitik vyakti hai ya koee haee prosparas vyakti hai jisase hamen rispekt dena hee hai is da de nahin hai us vakt usake saamane sho karana ki ham aapakee kitanee rispekt karate hain usakee aao bhagat karana hai chaahe aapake man mein usake lie riyal mein rispekt andar se ho ya nahin ho lekin aapako usase us vakt ijjat dena hai aur badon ke lie bhee kaha jaata hai ki bhale hee bade badon ke lie hamaare man mein rispekt na ho agar vah achchhe nahin hai kuchh bure karm kie hue hain ya kar rahe hain lekin unhen rispekt sabake saamane denee padegee apane perents kahate hain to denee padegee aur ijjat ka main karana jo hota hai vah prominent hota hai ki kisee ke lie hamen man mein rishta hotee hai too chaahe ham akele mein ho chaahe 4 logon ke saamane ho ham use rispekt dete hain isalie ham kahate hain sab karana to jo ijjat dena hai vah main bhee dikhaava ho sakata hai lekin ijjat karana dikhaava nahin hota vah jor se nikal kar aata hai vah rispekt kisee ke lie hraday se nikal ke aatee hai vah rispekt kisee ke lie to mere hisaab se ijjat dena ek tempareree phorm of rispekt hai aur ijjat karana ek paramaanent phorm oph respekt main apane par intaravyoo mein sahee hoon kyonki mujhe to yahee lagata hai agar aapako usake alaava kuchh aur lagata ho to pleej sheyar vid mee end thainks phor sheyaring sachin importent kveshchan kveshchan kveshchan karane ke lie aapaka bahut-bahut dhanyavaad kaaphee saare gret parsanaalitee se bolakar par jo itane achchhe kveshchan poochhate hain ki ek ka nahin bahut logon ka phaayada ho sakata hai usako asal se to main aapako haardik badhaee de kyonki aapane bahut hee achchha savaal chuna aur vah kiya isaka javaab dene mein mujhe bahut jyaada khushee ho rahee hai madarase aap ko ijjat dete hue kah rahee hoon ki yoo hai aastha vhait nait kveshchan thainks so thaink yoo

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर बताएं एक बहुत ही अच्छा था सोने पर पूछा गया है इज्जत मान सम्मान अदर प्रशंसा रिश्ते के नीचे बैठे व्यक्ति के जीवन में एक महत्वपूर्ण इंसान की जब प्राथमिक आवश्यकताएं पूरी हो जाती है जैसे अन्न वस्त्र घर इटली तब उसके मन में कुछ और हैं क्योंकि चाहत होती है और ऐसे जो और चीज है गिफ्ट चलाएं और उसका अंतिम छोड़ो अभी तक निश्चित नहीं हुआ है या व्यक्ति सापेक्षता है यह जीवन का अंतिम लक्ष्य क्या है यह सवाल यह फिलॉसफी के अंदर बहुत महत्वपूर्ण सवार थे और अब सारे झूठ के सुंदर रुप है जब इंसान एक महत्वपूर्ण स्थान पर आया उसको यह सवाल बहुत महत्वपूर्ण मिथिला के अध्यापक धर्मा तत्वज्ञान की प्रक्रिया संग गुजरा उसके बाद विकेट की विज्ञान की प्रक्रिया से गुजर रहा है विज्ञान की प्रक्रिया से उसको और ज्यादा उसके जीवन के संदर्भ में उसके होने में जन्म और मृत्यु के संबंध में और जो उसका वह भाग रहे हो पूरा ब्रह्मांड का निर्माण होना इसके संबंध में बहुत सारी जानकारी उपलब्ध हो गई है इसमें एक विजय बीच का पड़ाव आता है उसमें एक महत्वपूर्ण पड़ाव है इज्जत इंसान को क्या कक्षा अध्यापक कल्चर डेवलप सोसाइटी के अंदर समाज के अंदर उसके हिसाब से यह जस्टिफाई कभी जल्दी आती है तो कभी नेट कर जाती है कश्मीर चीज की आवश्यकता आजकल - 61 दिन सारा वीडियो चाहता है उनकी पसंद नहीं करता है वह बेज्जती पसंद नहीं करता है उसको आप मुसलमान चाहिए उसको उसको एक स्वतंत्रता सेनानी और समाज में उसको अपना एक स्थानों की प्रतिष्ठा इज्जत से भरा हुआ स्थान से तो इसमें इज्जत देने और कनिका एक इसका पिक्चर आता है कुछ लोग इज्जत देते तो कुछ लोग गलत करते हैं देने और करने में कुछ अंतर है जो दिन में ऐसी भावना हो सकती है कि मैं उस व्यक्ति को इज्जत दे रहा है उसको और इज्जत करने में ऐसा हो जाता है कि अपने-अपने मां बन जाती है उस मिट्टी के प्रभाव के कारण विचार के कारण कई कारण हो सकते हैं और लोगों की इज्जत अपने आप में करने लगते हैं इसमें अगर किलोमीटर देने में रहने वाले के मन के हिसाब से अगर सभी नहीं हुआ तो उसी क्षण भी इज्जत करना देने देना छोड़ दे सकता है अभी जल्दी करने कनाडा करने की आवश्यकता होती है लेकिन कभी नहीं हो जाती है तो हिम्मत रख के दोनों में
Ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar bataen ek bahut hee achchha tha sone par poochha gaya hai ijjat maan sammaan adar prashansa rishte ke neeche baithe vyakti ke jeevan mein ek mahatvapoorn insaan kee jab praathamik aavashyakataen pooree ho jaatee hai jaise ann vastr ghar italee tab usake man mein kuchh aur hain kyonki chaahat hotee hai aur aise jo aur cheej hai gipht chalaen aur usaka antim chhodo abhee tak nishchit nahin hua hai ya vyakti saapekshata hai yah jeevan ka antim lakshy kya hai yah savaal yah philosaphee ke andar bahut mahatvapoorn savaar the aur ab saare jhooth ke sundar rup hai jab insaan ek mahatvapoorn sthaan par aaya usako yah savaal bahut mahatvapoorn mithila ke adhyaapak dharma tatvagyaan kee prakriya sang gujara usake baad viket kee vigyaan kee prakriya se gujar raha hai vigyaan kee prakriya se usako aur jyaada usake jeevan ke sandarbh mein usake hone mein janm aur mrtyu ke sambandh mein aur jo usaka vah bhaag rahe ho poora brahmaand ka nirmaan hona isake sambandh mein bahut saaree jaanakaaree upalabdh ho gaee hai isamen ek vijay beech ka padaav aata hai usamen ek mahatvapoorn padaav hai ijjat insaan ko kya kaksha adhyaapak kalchar devalap sosaitee ke andar samaaj ke andar usake hisaab se yah jastiphaee kabhee jaldee aatee hai to kabhee net kar jaatee hai kashmeer cheej kee aavashyakata aajakal - 61 din saara veediyo chaahata hai unakee pasand nahin karata hai vah bejjatee pasand nahin karata hai usako aap musalamaan chaahie usako usako ek svatantrata senaanee aur samaaj mein usako apana ek sthaanon kee pratishtha ijjat se bhara hua sthaan se to isamen ijjat dene aur kanika ek isaka pikchar aata hai kuchh log ijjat dete to kuchh log galat karate hain dene aur karane mein kuchh antar hai jo din mein aisee bhaavana ho sakatee hai ki main us vyakti ko ijjat de raha hai usako aur ijjat karane mein aisa ho jaata hai ki apane-apane maan ban jaatee hai us mittee ke prabhaav ke kaaran vichaar ke kaaran kaee kaaran ho sakate hain aur logon kee ijjat apane aap mein karane lagate hain isamen agar kilomeetar dene mein rahane vaale ke man ke hisaab se agar sabhee nahin hua to usee kshan bhee ijjat karana dene dena chhod de sakata hai abhee jaldee karane kanaada karane kee aavashyakata hotee hai lekin kabhee nahin ho jaatee hai to himmat rakh ke donon mein

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
1:47
नमस्कार साथियों सवाल है इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है तो साथियों प्यास बुझाने और पानी पीने में क्या अंतर होता है सीधी सी बात है कि बेवजह पानी पीने में और जब प्यास लगी हो तब पानी पीने में अंतर होता है ठीक उसी प्रकार आप इज्जत तब देते हैं जब आपका कोई स्वार्थ हो या फिर जबरदस्ती भी अनचाहे मन में कभी-कभी लोग इज्जत देनी पड़ती है तो यह होता है इज्जत देना साथियों परंतु आपके जीवन में कुछ लोग ऐसे होते हैं जिनका व्यक्तित्व देखकर उनके लिए खुद व खुद इज्जत करने का ख्याल होता है खुद को खुद ब खुद के लिए इज्जत जाग जाती है वह होता है इज्जत करना यह लोग होते हैं जो आपकी भी उन्हें यह पता होता है कि हमें हर किसी की इज्जत करनी है वह बड़ा हो या छोटा हो पूरा हो बच्चा हूं सबकी इज्जत देने और इज्जत करने का यही एक अंतर है इज्जत जबरदस्ती भी दी जाती है जबरदस्ती ली जाती है पट करना होता है आपके मन में आपके दिल से किसको इज्जत करते हैं यह निर्भर करता है समझ में आ गया होगा धन्यवाद
Namaskaar saathiyon savaal hai ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai to saathiyon pyaas bujhaane aur paanee peene mein kya antar hota hai seedhee see baat hai ki bevajah paanee peene mein aur jab pyaas lagee ho tab paanee peene mein antar hota hai theek usee prakaar aap ijjat tab dete hain jab aapaka koee svaarth ho ya phir jabaradastee bhee anachaahe man mein kabhee-kabhee log ijjat denee padatee hai to yah hota hai ijjat dena saathiyon parantu aapake jeevan mein kuchh log aise hote hain jinaka vyaktitv dekhakar unake lie khud va khud ijjat karane ka khyaal hota hai khud ko khud ba khud ke lie ijjat jaag jaatee hai vah hota hai ijjat karana yah log hote hain jo aapakee bhee unhen yah pata hota hai ki hamen har kisee kee ijjat karanee hai vah bada ho ya chhota ho poora ho bachcha hoon sabakee ijjat dene aur ijjat karane ka yahee ek antar hai ijjat jabaradastee bhee dee jaatee hai jabaradastee lee jaatee hai pat karana hota hai aapake man mein aapake dil se kisako ijjat karate hain yah nirbhar karata hai samajh mein aa gaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
0:40
वीडियो चैट करने में क्या अंतर होता है उनका नाम हमेशा सम्मान देते हैं चिपकाने के लिए हमारे मन में उत्तर सम्मान नहीं है फिर भी आपका मान सम्मान करने का दिखावा करते हैं सम्मान करते हैं तो मुझे देना हो गया तो मिलते हैं
Veediyo chait karane mein kya antar hota hai unaka naam hamesha sammaan dete hain chipakaane ke lie hamaare man mein uttar sammaan nahin hai phir bhee aapaka maan sammaan karane ka dikhaava karate hain sammaan karate hain to mujhe dena ho gaya to milate hain

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
1:58
प्रश्न आया चंदनवाड़ी चक्कर में क्या अंतर है शब्दों में संभावनाओं की पिक्चर निकली मां नर्मदा की कहानी चलती है कि जिस में उपस्थित सज्जन लिस्ट आएगी मेरे पास समान दिख रहा है कल नहीं का मतलब क्या हुआ बहुत कुछ प्रतिक्रिया होती है अर्थात उस को सम्मान पूर्वक अंजाम क्या चाहता है उसका मान क्या है उसके अनुसार उनका व्यवहार गणित करते हैं तो पसंद होता है शब्दों की जान लिया क्या करने और मेरी मेमोरी की मां की अगर किसान सम्मान की भावना है पगला गई है तो उसके प्रदर्शन पर होती है संगीत करते हैं कि यह व्यक्ति हमेशा लड़के की शादी होती है और संस्कार चारभुजा दर्शन करता है नंबर को पढ़ाता है धन्यवाद
Prashn aaya chandanavaadee chakkar mein kya antar hai shabdon mein sambhaavanaon kee pikchar nikalee maan narmada kee kahaanee chalatee hai ki jis mein upasthit sajjan list aaegee mere paas samaan dikh raha hai kal nahin ka matalab kya hua bahut kuchh pratikriya hotee hai arthaat us ko sammaan poorvak anjaam kya chaahata hai usaka maan kya hai usake anusaar unaka vyavahaar ganit karate hain to pasand hota hai shabdon kee jaan liya kya karane aur meree memoree kee maan kee agar kisaan sammaan kee bhaavana hai pagala gaee hai to usake pradarshan par hotee hai sangeet karate hain ki yah vyakti hamesha ladake kee shaadee hotee hai aur sanskaar chaarabhuja darshan karata hai nambar ko padhaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:42
आरा का प्रश्न इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है तो आपको बता दें देखिए वैसे तो नफरत दोनों एक समान ही है लेकिन इज्जत आप दूसरों को देते हैं और इज्जत अपने वस्तुओं की भी करते हैं यहां पर कुछ इस तरह समझने की मांगी जी आपका जो जीवन शैली है जो आपको लास्ट टाइम है और आपके पास कोई चीज है तो आप अपने समय की इज्जत कर रहे हैं अपने आप की जिद कर रहे हैं अपनी वस्तुओं की इज्जत कर रहे हैं तो सारी इज्जत करने में आ जाती है और इज्जत सामने वाले को जाने देने के बाद वह सामने वाले को दी जाती है जो कि आप के संस्कारों में है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka prashn ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai to aapako bata den dekhie vaise to napharat donon ek samaan hee hai lekin ijjat aap doosaron ko dete hain aur ijjat apane vastuon kee bhee karate hain yahaan par kuchh is tarah samajhane kee maangee jee aapaka jo jeevan shailee hai jo aapako laast taim hai aur aapake paas koee cheej hai to aap apane samay kee ijjat kar rahe hain apane aap kee jid kar rahe hain apanee vastuon kee ijjat kar rahe hain to saaree ijjat karane mein aa jaatee hai aur ijjat saamane vaale ko jaane dene ke baad vah saamane vaale ko dee jaatee hai jo ki aap ke sanskaaron mein hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
1:04
उसका दोस्त हूं आपका प्रश्न है इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है दोस्तों इज्जत देने और इज्जत करने में कोई अंतर नहीं है कि एक दूसरे के पर्याय सूचक शब्द है इज्जत देने का मतलब है हमने किसी का सम्मान किया किसी को इज्जत दी और इज्जत करने का भी मतलब है हमें किसी की इज्जत की हमें किसी को इज्जत दी इज्जत यानी कि उनका मान सम्मान किया और उनका आदर भाव किया किसी के साथ भी जब हम मिलते हैं तो उनके साथ अच्छे ढंग से पेश आते हैं उनका मान सम्मान करते हैं हालचाल पूछते हैं और उनकी बातों को सुनते हैं प्रत्युत्तर में अच्छा जवाब देते हैं तो दोस्तों इज्जत देना हो जाता है या फिर उनकी इज्जत करना हो सकता है तो यह माना जा सकता है कि दोनों एक-दूसरे के पर्याय हैं वह दोनों का ही अर्थ एक ही निकलता है सम्मान आदर भाव करना धन्यवाद
Usaka dost hoon aapaka prashn hai ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai doston ijjat dene aur ijjat karane mein koee antar nahin hai ki ek doosare ke paryaay soochak shabd hai ijjat dene ka matalab hai hamane kisee ka sammaan kiya kisee ko ijjat dee aur ijjat karane ka bhee matalab hai hamen kisee kee ijjat kee hamen kisee ko ijjat dee ijjat yaanee ki unaka maan sammaan kiya aur unaka aadar bhaav kiya kisee ke saath bhee jab ham milate hain to unake saath achchhe dhang se pesh aate hain unaka maan sammaan karate hain haalachaal poochhate hain aur unakee baaton ko sunate hain pratyuttar mein achchha javaab dete hain to doston ijjat dena ho jaata hai ya phir unakee ijjat karana ho sakata hai to yah maana ja sakata hai ki donon ek-doosare ke paryaay hain vah donon ka hee arth ek hee nikalata hai sammaan aadar bhaav karana dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Anand Patel Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Anand जी का जवाब
Mathematics Teacher
0:30
सवाला इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है तो देखिए जो हमारे यहां पर लिखे गए हैं इज्जत देना और इज्जत कारण तो यह व्यक्ति विशेष पर निर्भर करता है अगर आप किसी की रिश्ता क्या याद करते हैं तो उसके तरफ से देखा जाए तो वह कहेगा कि मुझे इज्जत दी गई और आप कहेंगे कि मैं चेक किया पिक्चर करना और इज्जत देना एक ही बात है
Savaala ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai to dekhie jo hamaare yahaan par likhe gae hain ijjat dena aur ijjat kaaran to yah vyakti vishesh par nirbhar karata hai agar aap kisee kee rishta kya yaad karate hain to usake taraph se dekha jae to vah kahega ki mujhe ijjat dee gaee aur aap kahenge ki main chek kiya pikchar karana aur ijjat dena ek hee baat hai

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:46
इज्जत देने इज़्ज़त करने में क्या अंतर होता है तो इज्जत देना मतलब क्या होता है कि किसी को रिस्पेक्ट करना यानी कि अगर किसी व्यक्ति के प्रति जो है हमारा स्वभाव अच्छा है तो तो हम जो हैं उसे एक रिस्पेक्टेड जो है पर्सन की तरह हम उसको देखते हैं और उससे मिल जाते हैं लेकिन इज्जत करने का मतलब है जो होता है वही होता है उस फर्क बस इतना होता है कि इज्जत करने का मतलब बताएं कि हम सिर्फ यानी कि हम खुद से उस व्यक्ति को रिस्पेक्ट देते हैं जब की इज्जत देना है यानी कि वह जो होता है उसमें सिर्फ नजर नहीं आता है यानी कि खुद से जो होता है उसमें ज्यादा जो होता है प्रभाव नहीं डालता है
Ijjat dene izzat karane mein kya antar hota hai to ijjat dena matalab kya hota hai ki kisee ko rispekt karana yaanee ki agar kisee vyakti ke prati jo hai hamaara svabhaav achchha hai to to ham jo hain use ek rispekted jo hai parsan kee tarah ham usako dekhate hain aur usase mil jaate hain lekin ijjat karane ka matalab hai jo hota hai vahee hota hai us phark bas itana hota hai ki ijjat karane ka matalab bataen ki ham sirph yaanee ki ham khud se us vyakti ko rispekt dete hain jab kee ijjat dena hai yaanee ki vah jo hota hai usamen sirph najar nahin aata hai yaanee ki khud se jo hota hai usamen jyaada jo hota hai prabhaav nahin daalata hai

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Udham Prasad Gautam Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Udham जी का जवाब
Unknown
1:03
हाय दोस्तों नमस्कार गुड इवनिंग पक्का प्रश्न की इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है बस उन दोनों ही लगभग से मिला रहे हर जगह इंसान इज्जत देना इज्जत करना दोनों को एक ही बात समझता है फिर भी अगर डिफरेंट देखा जाए तो थोड़ा सा डिफरेंट देखने को मिल जाता है लेकिन की इज्जत देने की बात करती जाए तो इंसान जो होता है वह उस वक्त मौजूद होने की ज्यादा संभावना होती है कि कोई इंसान अगर मौजूद है उसको इज्जत देते हैं ठीक हैं और अगर इंसान मौजूद नहीं है तो उनकी इज्जत करने की बात करते हैं ठीक है जब बात बाद में आती है तो वह इंसान जैसे माल जी मैं उनकी इज्जत करता हूं लेकिन यह फर्जी टाइम है यह नहीं बता रहे उपस्थित हैं लेकिन मैं उनको इज्जत दे रहा हूं इसका मतलब है कि वह प्रजेंट टाइम में उपस्थित हैं लेकिन विस्तार से इज्जत करना और इज्जत देने में थोड़ा सा डिफरेंस मिल जाता है लेकिन कभी-कभी यह भी सिमरन हो जाते हैं लोग ज्यादा कंफ्यूज हो जाते हैं क्या इज्जत करना है जब देने में क्या अंतर है ठीक है तो ऐसे सिविल मिल जाती है ठीक है धन्यवाद
Haay doston namaskaar gud ivaning pakka prashn kee ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai bas un donon hee lagabhag se mila rahe har jagah insaan ijjat dena ijjat karana donon ko ek hee baat samajhata hai phir bhee agar dipharent dekha jae to thoda sa dipharent dekhane ko mil jaata hai lekin kee ijjat dene kee baat karatee jae to insaan jo hota hai vah us vakt maujood hone kee jyaada sambhaavana hotee hai ki koee insaan agar maujood hai usako ijjat dete hain theek hain aur agar insaan maujood nahin hai to unakee ijjat karane kee baat karate hain theek hai jab baat baad mein aatee hai to vah insaan jaise maal jee main unakee ijjat karata hoon lekin yah pharjee taim hai yah nahin bata rahe upasthit hain lekin main unako ijjat de raha hoon isaka matalab hai ki vah prajent taim mein upasthit hain lekin vistaar se ijjat karana aur ijjat dene mein thoda sa dipharens mil jaata hai lekin kabhee-kabhee yah bhee simaran ho jaate hain log jyaada kamphyooj ho jaate hain kya ijjat karana hai jab dene mein kya antar hai theek hai to aise sivil mil jaatee hai theek hai dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Author Yogendra Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Author जी का जवाब
लेखक
1:50
हेलो मेरा नाम है योगेंद्र सिंह और सवाल है कि इज्जत देने में और इज्जत करने में क्या अंतर है हर चीज को हर इंसान अलग तरीके से देखता है और इस बात को अगर मैं देखूं तो वह यह है कि इज्जत देना इज्जत दी जाती है जो हम उम्मीद करते हैं कि हमें बदले में इज्जत मिलेगी लेकिन किसी की इज्जत करना यानी कि दिल से की जाती है तो उसमें मैं ऐसी उम्मीद नहीं रहती कि सामने वाले इंसान जी हमारी इज्जत करेगा किसी न किसी स्वार्थ से इंदौर संस्था है जब की इज्जत करना दिल से की जा सकती है और मुझे लगता है यह सही मतलब हो सकता है इस बात का वैसे तो रिस्पेक्ट की ही बात है चाहे वह दी जाए यकीन है लेकिन फिर भी जहां देना आता है वहां एक उम्मीद होती है कि वहां लेने की भी इंसान ख्वाहिश रखता है कि हमने दूसरे को जल्दी है तो सामने वाला भी हमें चर्चे रिस्पेक्ट थे लेकिन जहां इज्जत की जाती है वहां पर दिल से की जाती है और ऐसा शब्दों में भी सही बैठ रहा है कि दिल से इज्जत करना और किसी को इज्जत देना और उससे उम्मीद करना कि वह भी हमें हमारी रिस्पेक्ट करेगा मिल जाती तो इस तरीके से यह चीजें हो सकती हैं बाकी तो देखो जो है वह हर इंसान की अलग अलग समझ है अलग-अलग चीजें हैं लेकिन शाब्दिक रूप से और बातों में जिस तरीके से प्रयोग किया जाता है उस तरीके से यही इसका मतलब निकल सकता है बहुत-बहुत शुक्रिया
Helo mera naam hai yogendr sinh aur savaal hai ki ijjat dene mein aur ijjat karane mein kya antar hai har cheej ko har insaan alag tareeke se dekhata hai aur is baat ko agar main dekhoon to vah yah hai ki ijjat dena ijjat dee jaatee hai jo ham ummeed karate hain ki hamen badale mein ijjat milegee lekin kisee kee ijjat karana yaanee ki dil se kee jaatee hai to usamen main aisee ummeed nahin rahatee ki saamane vaale insaan jee hamaaree ijjat karega kisee na kisee svaarth se indaur sanstha hai jab kee ijjat karana dil se kee ja sakatee hai aur mujhe lagata hai yah sahee matalab ho sakata hai is baat ka vaise to rispekt kee hee baat hai chaahe vah dee jae yakeen hai lekin phir bhee jahaan dena aata hai vahaan ek ummeed hotee hai ki vahaan lene kee bhee insaan khvaahish rakhata hai ki hamane doosare ko jaldee hai to saamane vaala bhee hamen charche rispekt the lekin jahaan ijjat kee jaatee hai vahaan par dil se kee jaatee hai aur aisa shabdon mein bhee sahee baith raha hai ki dil se ijjat karana aur kisee ko ijjat dena aur usase ummeed karana ki vah bhee hamen hamaaree rispekt karega mil jaatee to is tareeke se yah cheejen ho sakatee hain baakee to dekho jo hai vah har insaan kee alag alag samajh hai alag-alag cheejen hain lekin shaabdik roop se aur baaton mein jis tareeke se prayog kiya jaata hai us tareeke se yahee isaka matalab nikal sakata hai bahut-bahut shukriya

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:20
इज्जत देने वाली पिक करने में क्या अंतर है दोनों चीजें जितने भी हैं उनको उनका सम्मान के अंतर्गत आपके अंडर में काम करने वाले के सहयोगी है कली है उनकी जल्दी उनका रिपीट करें तो उसे इस अभियान के कारण किसी संस्था के मुखिया है या किसी स्टेशन समझते हैं या कंपनी के हैं निश्चित तौर पर उनकी हल्का सा रिप्लाई इसका जल्दी तो शहर में बड़े हैं तो आपसे छोटे लड़के बच्चे हैं और रिश्तेदार 999 सम्मान करना देना एक ही होती है एनी रिस्पेक्ट खुली होती है
Ijjat dene vaalee pik karane mein kya antar hai donon cheejen jitane bhee hain unako unaka sammaan ke antargat aapake andar mein kaam karane vaale ke sahayogee hai kalee hai unakee jaldee unaka ripeet karen to use is abhiyaan ke kaaran kisee sanstha ke mukhiya hai ya kisee steshan samajhate hain ya kampanee ke hain nishchit taur par unakee halka sa riplaee isaka jaldee to shahar mein bade hain to aapase chhote ladake bachche hain aur rishtedaar 999 sammaan karana dena ek hee hotee hai enee rispekt khulee hotee hai

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:24
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है तो सेंड कर दो ना एक ही चीज होती है जब हम किसी की इज्जत करते हैं तो वही इज्जत देना याद करना होता है जब हम किसी के सम्मान से बात करते हैं उसकी भावनाओं का ध्यान रखते हैं तो उसी को हम इज्जत देना कहते हैं या इज्जत करना कहते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai to send kar do na ek hee cheej hotee hai jab ham kisee kee ijjat karate hain to vahee ijjat dena yaad karana hota hai jab ham kisee ke sammaan se baat karate hain usakee bhaavanaon ka dhyaan rakhate hain to usee ko ham ijjat dena kahate hain ya ijjat karana kahate hain dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
0:47
इज्जत देने और इस सब करने में क्या अंतर है अगर आप मिलते रहे हैं तो ऐसा हो सकता है कि आप उस व्यक्ति की इज्जत ना करते हो कुछ अपने फायदे के लिए अगर के लिए यादों के मौसम से गाना कुछ बड़ा नेता आया तो उसके लिए लगा दी वह हो रहा है कोई उसके लिए आगे पीछे घूम रहे हैं इज्जत तो दे रहे लेकिन जरूरी नहीं कि वह इज्जत करते भी इज्जत करने का मतलब होता है आप इमोशनल हीं मेंटली आप किसी की इज्जत करते हो फिजिकली नहीं मैं किसी व्यक्ति को भरोसा है कि जो आसपास में लोग हैं वह मेरी इज्जत करते हैं और वह मुझे धोखा नहीं देंगे जरूरत पड़े तो यह फर्क होता है सत्य है और इज्जत करें धन्यवाद
Ijjat dene aur is sab karane mein kya antar hai agar aap milate rahe hain to aisa ho sakata hai ki aap us vyakti kee ijjat na karate ho kuchh apane phaayade ke lie agar ke lie yaadon ke mausam se gaana kuchh bada neta aaya to usake lie laga dee vah ho raha hai koee usake lie aage peechhe ghoom rahe hain ijjat to de rahe lekin jarooree nahin ki vah ijjat karate bhee ijjat karane ka matalab hota hai aap imoshanal heen mentalee aap kisee kee ijjat karate ho phijikalee nahin main kisee vyakti ko bharosa hai ki jo aasapaas mein log hain vah meree ijjat karate hain aur vah mujhe dhokha nahin denge jaroorat pade to yah phark hota hai saty hai aur ijjat karen dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
2:37
जी देखें इज्जत देने और इज्जत करने में ज्यादा फर्क नहीं है सिर्फ लफ्जों का फर्क है और कुछ नहीं है बिजली हर एक इंसान चाहता है कि वह इस बार मिले हो जो हिसाब करता है चाहे छोटा बच्चा हूं चाहे वह बड़ा आदमी हो चाहे वह बुजुर्ग हो चाहे वह महिलाओं को पुरुषों ईश्वर का हो इस प्रदेश का हो इस देश का हो कोई फर्क नहीं पड़ता हर एक इंसान चाहता है कि उसको बहुत इज्जत मिलेंगे इसका मतलब वह सम्मान नहीं होता कि वह मेरे को अवार्ड मिल जाए मेरे को रिकॉग्निशन मिल रहा है वगैरा भेज देना तो सिंपल यह होता है कि भाई उस परिस्थिति में उस इंसान से उसको जो मिलना चाहिए क्या वह मिल रहा है या नहीं उस पेज पर पोस्ट या उन लोगों के बीच में उसको जो मिलना चाहिए क्या वह मिल जाए या नहीं इस दत्त मतलब क्या हुआ भाई वह छोटे जॉब करता है क्या डिजर्व करते हैं कोई इंसान वह आ जाए वह रे वह वह तरीके से बात करना एक तरीके से कम्युनिकेट करना उसका बर्ताव इस तरीके से होना अभी इस तारीख की से इंसान ही करता है ना भाई इज्जत देने की या लेने की जब बात होती है तो वह इंसान से इंसान के बीच में ही होती है ऐसा तो होता नहीं कि हम बात करें भाई वह पेड़ या वह पक्षी इज्जत नहीं दे रहा है जीना बाजे बेइज्जती करते हैं तो जैसे निकली वह मिलती कहां से हैं लोगों से मिलती है वह एक इंसान से मिल सकता है एक ग्रुप से मिल सकता है जहां पर एक नहीं अनेक लोगों वह आपको पर्सनल लेबल पर मिल सकता है अपने घर परिवार से रिश्तेदार से दोस्तों से या फिर आपको प्रोफेशनल एंड गवर्नमेंट में मिल सकता है जैसे आप के ऑफिस में स्कूल में कॉलेज में बिजनेस में किसी और सोशल गैदरिंग में वगैरा-वगैरा करने में कोई फर्क नहीं है बात सिर्फ इतनी है कि वह सामने वाले को जिस तरीके से ट्रीट करना है उसका जैसा बर्ताव करना चाहिए क्या वह प्रोक्रिएट है या नहीं बस इतना ख्याल रखना है और यही करना है हर इंसान डिस्टर्ब करता है आप भी चाहते हैं ना कि आपसे कोई शक तरीके बात करें तमीज से बात करें और कभी ही व्यर्थ बहुत सा प्रोक्रिएट हो सबसे सही है ना करी घाट करे आपको रेस्पेक्ट दे जिसे चाहते हैं ना तो इसी तरह सामने वाले भी चाहते हैं तो आपको इसको बनाए रखना चाहिए और तरीके से इंसान को डिलीट करना चाहिए
Jee dekhen ijjat dene aur ijjat karane mein jyaada phark nahin hai sirph laphjon ka phark hai aur kuchh nahin hai bijalee har ek insaan chaahata hai ki vah is baar mile ho jo hisaab karata hai chaahe chhota bachcha hoon chaahe vah bada aadamee ho chaahe vah bujurg ho chaahe vah mahilaon ko purushon eeshvar ka ho is pradesh ka ho is desh ka ho koee phark nahin padata har ek insaan chaahata hai ki usako bahut ijjat milenge isaka matalab vah sammaan nahin hota ki vah mere ko avaard mil jae mere ko rikognishan mil raha hai vagaira bhej dena to simpal yah hota hai ki bhaee us paristhiti mein us insaan se usako jo milana chaahie kya vah mil raha hai ya nahin us pej par post ya un logon ke beech mein usako jo milana chaahie kya vah mil jae ya nahin is datt matalab kya hua bhaee vah chhote job karata hai kya dijarv karate hain koee insaan vah aa jae vah re vah vah tareeke se baat karana ek tareeke se kamyuniket karana usaka bartaav is tareeke se hona abhee is taareekh kee se insaan hee karata hai na bhaee ijjat dene kee ya lene kee jab baat hotee hai to vah insaan se insaan ke beech mein hee hotee hai aisa to hota nahin ki ham baat karen bhaee vah ped ya vah pakshee ijjat nahin de raha hai jeena baaje beijjatee karate hain to jaise nikalee vah milatee kahaan se hain logon se milatee hai vah ek insaan se mil sakata hai ek grup se mil sakata hai jahaan par ek nahin anek logon vah aapako parsanal lebal par mil sakata hai apane ghar parivaar se rishtedaar se doston se ya phir aapako propheshanal end gavarnament mein mil sakata hai jaise aap ke ophis mein skool mein kolej mein bijanes mein kisee aur soshal gaidaring mein vagaira-vagaira karane mein koee phark nahin hai baat sirph itanee hai ki vah saamane vaale ko jis tareeke se treet karana hai usaka jaisa bartaav karana chaahie kya vah prokriet hai ya nahin bas itana khyaal rakhana hai aur yahee karana hai har insaan distarb karata hai aap bhee chaahate hain na ki aapase koee shak tareeke baat karen tameej se baat karen aur kabhee hee vyarth bahut sa prokriet ho sabase sahee hai na karee ghaat kare aapako respekt de jise chaahate hain na to isee tarah saamane vaale bhee chaahate hain to aapako isako banae rakhana chaahie aur tareeke se insaan ko dileet karana chaahie

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
अभिषेक शुक्ला  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए अभिषेक जी का जवाब
Motivational speaker
2:21
नमस्कार मित्रों आज किस से बहुत तुम्हें बाद में आप सभी के साथ जुड़ा हूं और बहुत ज्यादा खुशी हुई है कि इस गोल कर टीम को बहुत अच्छा हिसाब हुआ और आज आज ही मुझे ऑफिस पिक्चर का गीत सर्टिफिकेट मिला तो आप सभी का स्नेह और प्यार है तो उसको जो हमेशा बना रहे यही हमारी उम्मीद है और हम आपकी उम्मीदों पर खरे उतरे हमारी चाहत है दोस्तों तो चलिए आज आपके सवालों का सुझाव हम ज्यादा अच्छे तरीके से देते हैं और प्रयास करेंगे हमेशा कि हमेशा ही अच्छे अच्छे आपको सुझाव हम दे पाए तो चलिए शुरू करते हैं आपके सवाल है दोस्तों की इज्जत देने वाली जत करने में क्या अंतर है देखें इज्जत देना एक अलग चीज है और इज्जत करना एक अलग चीज है क्या होता है तो उसको देखें क्या है कि जब कभी भी जब हम किसी व्यक्ति को एक आदर्श रूप से मानते हैं फिर कह लीजिए कि कोई अभी हम उसे बड़ा होगा यदि हम से उम्र में बड़ा है तो हमें लाल रे क्योंकि वहां पर हम जो हैं 21 चीजों का ख्याल रखते हैं कि हमें उनको पिज्जा देनी है वहां पर और एक चीज होता है इज्जत करना यह होता है दोस्तों जब कभी हमारे गुरुजन या फिर हम इसी से प्रेरित होते हैं वहां पर और हमें लगता है कि इस व्यक्ति को हमें दिल से जल्द ही नहीं पड़ती चाहिए तो उस समय हमें दिल से इज्जत वहां पर निकलती उनके लिए यहां पर इज्जत करना यहां पर इसलिए कहा जाता है उसको जब कभी भी हम किसी से बहुत ज्यादा खुश होते हैं जो कि किसी चीजों से उनके प्रेरित होते हैं तो हमें खुद ब खुद उनकी इज्जत देने की भावना जाती जागृत होती है लेकिन इज्जत देना उस टाइम समय होता है उसको जब हमसे बड़े होते हैं और हमारा यह सोच होता है कि उन्हें उसकी इज्जत देने क्योंकि वह हमसे बड़े हैं के दोनों बहुत सारे दोस्तों उम्मीद करता हूं आपको यह प्रश्न का सुझाव मिल चुका होगा और खुशियां में कि आप हमसे जुड़ पाए और हम इन सवालों का जवाब आप तक पहुंचा रहे हैं और भी अच्छे-अच्छे जवाब जीने के लिए हमें आप सब टाइप कर सकते हैं दोस्तों और जो है तो कमेंट में भी बता सकते हैं कि आपको हमारा सुझाव कैसा लगा हमारे साथ जुड़ने के लिए आप हमें सब्सक्राइब करते रहे दोस्तों जिससे हमारे अच्छे से सुझाव बहुत जल्द पहुंच सके नोटिफिकेशन के माध्यम से आराम से ऐसे ही जुड़े रहे तो उसको ऐसे ही खुश रहे हमेशा जीवन में और आगे बढ़ते रहे दोस्तों धन्यवाद
Namaskaar mitron aaj kis se bahut tumhen baad mein aap sabhee ke saath juda hoon aur bahut jyaada khushee huee hai ki is gol kar teem ko bahut achchha hisaab hua aur aaj aaj hee mujhe ophis pikchar ka geet sartiphiket mila to aap sabhee ka sneh aur pyaar hai to usako jo hamesha bana rahe yahee hamaaree ummeed hai aur ham aapakee ummeedon par khare utare hamaaree chaahat hai doston to chalie aaj aapake savaalon ka sujhaav ham jyaada achchhe tareeke se dete hain aur prayaas karenge hamesha ki hamesha hee achchhe achchhe aapako sujhaav ham de pae to chalie shuroo karate hain aapake savaal hai doston kee ijjat dene vaalee jat karane mein kya antar hai dekhen ijjat dena ek alag cheej hai aur ijjat karana ek alag cheej hai kya hota hai to usako dekhen kya hai ki jab kabhee bhee jab ham kisee vyakti ko ek aadarsh roop se maanate hain phir kah leejie ki koee abhee ham use bada hoga yadi ham se umr mein bada hai to hamen laal re kyonki vahaan par ham jo hain 21 cheejon ka khyaal rakhate hain ki hamen unako pijja denee hai vahaan par aur ek cheej hota hai ijjat karana yah hota hai doston jab kabhee hamaare gurujan ya phir ham isee se prerit hote hain vahaan par aur hamen lagata hai ki is vyakti ko hamen dil se jald hee nahin padatee chaahie to us samay hamen dil se ijjat vahaan par nikalatee unake lie yahaan par ijjat karana yahaan par isalie kaha jaata hai usako jab kabhee bhee ham kisee se bahut jyaada khush hote hain jo ki kisee cheejon se unake prerit hote hain to hamen khud ba khud unakee ijjat dene kee bhaavana jaatee jaagrt hotee hai lekin ijjat dena us taim samay hota hai usako jab hamase bade hote hain aur hamaara yah soch hota hai ki unhen usakee ijjat dene kyonki vah hamase bade hain ke donon bahut saare doston ummeed karata hoon aapako yah prashn ka sujhaav mil chuka hoga aur khushiyaan mein ki aap hamase jud pae aur ham in savaalon ka javaab aap tak pahuncha rahe hain aur bhee achchhe-achchhe javaab jeene ke lie hamen aap sab taip kar sakate hain doston aur jo hai to kament mein bhee bata sakate hain ki aapako hamaara sujhaav kaisa laga hamaare saath judane ke lie aap hamen sabsakraib karate rahe doston jisase hamaare achchhe se sujhaav bahut jald pahunch sake notiphikeshan ke maadhyam se aaraam se aise hee jude rahe to usako aise hee khush rahe hamesha jeevan mein aur aage badhate rahe doston dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
anuj ji Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
Unknown
1:31
मजेदार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है सवाल है कि इज्जत देने और करने में क्या अंतर है तो इनमें निम्न अंतरा इज्जत है हम जैसे कि मतलब जाते हम किसी करेंगे जैसे कि किसी को कुछ नहीं बोलेंगे जो बड़ा तो उसका मान करेंगे कि मान सम्मान करेंगे छोटा तुझे लाड प्यार करेंगे और जो आपने लेवल का हाउस बनाए रखेंगे तब भी जब हम किसी की इज्जत रखेंगे तो वह भी हमारी इज्जत करेगा इसलिए कभी भी किसी के साथ नहीं करना चाहिए जहां तक संभव हो हमें इज्जत देने चाहिए इज्जत देने से इज्जत मिलती है ना की हिम्मत रखी किसी के सामने झुकना से हमारी इज्जत नहीं जाती लेकिन वह हमारे जो कोने पर भी इज्जत नहीं जाती इससे सम्मान बढ़ता मान सम्मान बढ़ता जैसे कि बड़े लोग हैं तो उनके पैर छूने पढ़ते हैं तुझे क्या है कि हम इज्जत मिलती है और हम इज्जत करने लग जाते हैं लेकिन कई लोगों के मन में अलंकार आते हैं कोई मैंने जीटी सो जाती है तो किसी में पॉजिटिव हो जाती है इसलिए हमें जहां तक हो सके हम से बड़े को इज्जत देनी चाहिए और चित्र करनी भी चाहिए और अगले वाला भी जब हम किसी की इज्जत करेंगे तो वह भी हमारी इज्जत करेगा
Majedaar doston bolakar aap mein svaagat hai savaal hai ki ijjat dene aur karane mein kya antar hai to inamen nimn antara ijjat hai ham jaise ki matalab jaate ham kisee karenge jaise ki kisee ko kuchh nahin bolenge jo bada to usaka maan karenge ki maan sammaan karenge chhota tujhe laad pyaar karenge aur jo aapane leval ka haus banae rakhenge tab bhee jab ham kisee kee ijjat rakhenge to vah bhee hamaaree ijjat karega isalie kabhee bhee kisee ke saath nahin karana chaahie jahaan tak sambhav ho hamen ijjat dene chaahie ijjat dene se ijjat milatee hai na kee himmat rakhee kisee ke saamane jhukana se hamaaree ijjat nahin jaatee lekin vah hamaare jo kone par bhee ijjat nahin jaatee isase sammaan badhata maan sammaan badhata jaise ki bade log hain to unake pair chhoone padhate hain tujhe kya hai ki ham ijjat milatee hai aur ham ijjat karane lag jaate hain lekin kaee logon ke man mein alankaar aate hain koee mainne jeetee so jaatee hai to kisee mein pojitiv ho jaatee hai isalie hamen jahaan tak ho sake ham se bade ko ijjat denee chaahie aur chitr karanee bhee chaahie aur agale vaala bhee jab ham kisee kee ijjat karenge to vah bhee hamaaree ijjat karega

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Sonu Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sonu जी का जवाब
Unknown
0:16
जल देने का अर्थ है कि व्यक्ति के लिए आप कितना मायने रखते हैं इज्जत करने का अर्थ है कि आपके लिए वह व्यक्ति कितना मायने रखता है

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
सचिन पाठक Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए सचिन जी का जवाब
Unknown
0:49
नमस्कार मित्रों मैं सचिन पाठक फिर से उपस्थित हूं आपके समक्ष एक नए प्रश्न के उत्तर के साथ जैसा कि प्रश्न की इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है जैसा कि मैं आपको बता दूं आमतौर पर बोलचाल की भाषा में अगर किसी की भी इज्जत करते हैं या फिर इज्जत देते हैं तो दोनों चीजें एकदम समान ही है यह जो आम बातचीत की भाषा होती है जो भी आप बोलचाल की भाषा होती है तो इसमें आप कई तरीकों का यूज कर सकते हैं जैसा आपका कोई भी कहते हैं हम उनको इज्जत देते हैं कोई कहता है हम उनकी इज्जत करते हैं तो देखी या अलग-अलग वाक्य अलग अलग तरीके से उपयोग में लाया जाए जाते हैं तो इज्जत देने और इज्जत करने में कोई भी ऐसा कोई अंतर नहीं है दोनों एकदम एक ही चीज है धन्यवाद
Namaskaar mitron main sachin paathak phir se upasthit hoon aapake samaksh ek nae prashn ke uttar ke saath jaisa ki prashn kee ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai jaisa ki main aapako bata doon aamataur par bolachaal kee bhaasha mein agar kisee kee bhee ijjat karate hain ya phir ijjat dete hain to donon cheejen ekadam samaan hee hai yah jo aam baatacheet kee bhaasha hotee hai jo bhee aap bolachaal kee bhaasha hotee hai to isamen aap kaee tareekon ka yooj kar sakate hain jaisa aapaka koee bhee kahate hain ham unako ijjat dete hain koee kahata hai ham unakee ijjat karate hain to dekhee ya alag-alag vaaky alag alag tareeke se upayog mein laaya jae jaate hain to ijjat dene aur ijjat karane mein koee bhee aisa koee antar nahin hai donon ekadam ek hee cheej hai dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
1:12
गुड इवनिंग सवाल यह है कि इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है लेकिन देना और करना दोनों में जो अंतर है वही है इज्जत देना मतलब किसी काम कदर कर रहे हैं किसी की इज्जत कर रहा है और यह इज्जत देना हो गया और इज्जत करना इज्जत करना भी वही चीज बाकी मतलब उस पर थोड़ा सा यह हो जाता की इज्जत करने का मतलब कि उस उस में लिहाज भी आ जाता है मैं किसी की इज्जत कर रहा हूं तो लिहाज बस भी कभी-कभी जब करना हो जाता है और इज्जत देना मतलब थोड़ा सा बहुत दिल से हो जाता है कि मतलब के अंदर से उसको इज्जत दे रहे हैं तो मुझे लगता है कि यही फर्क है ज्यादा नहीं है दोनों मतलब वही देने और करने में जो फर्क है वही है इज्जत देना और इज्जत करना मैं वही तो एक लिहाज का फर्क है मुझे लगता है थैंक यू
Gud ivaning savaal yah hai ki ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai lekin dena aur karana donon mein jo antar hai vahee hai ijjat dena matalab kisee kaam kadar kar rahe hain kisee kee ijjat kar raha hai aur yah ijjat dena ho gaya aur ijjat karana ijjat karana bhee vahee cheej baakee matalab us par thoda sa yah ho jaata kee ijjat karane ka matalab ki us us mein lihaaj bhee aa jaata hai main kisee kee ijjat kar raha hoon to lihaaj bas bhee kabhee-kabhee jab karana ho jaata hai aur ijjat dena matalab thoda sa bahut dil se ho jaata hai ki matalab ke andar se usako ijjat de rahe hain to mujhe lagata hai ki yahee phark hai jyaada nahin hai donon matalab vahee dene aur karane mein jo phark hai vahee hai ijjat dena aur ijjat karana main vahee to ek lihaaj ka phark hai mujhe lagata hai thaink yoo

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
1:30
एक की इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर होता है तू दिखे फ्रेंड इज्जत जो हम देते हैं तो इज्जत देने का मतलब होता है कि कोई स्वार्थ बस देता है कोई जबरदस्ती यह मन चाहे मन से हम ऐसा लगता है कि मन नहीं है फिर भी हम किसी के जोर जबरदस्ती की वजह से हमें किसी को इज्जत देते हैं अपने आप को प्रदर्शित करते हैं उनकी हर एक बाती को सुनते हैं बड़ा ही एक सहायता के साथ हम प्रस्तुत होते हैं इज्जत करने की बात आती है यह क्या होता है कि खुद ब खुद हमारे अंदर एक इज्जत जा हमारे पति एक सैनिक जाग जाती है कि हमें क्या होता है किसी की इज्जत करनी है कोई भी अगर हमारे घर पर आता है तो क्या होता है कि हम इज्जत क्या करते हैं खुद ब खुद हमारे अंदर उनके प्रति आस्था बन जाती है और उन्हें हम खुद फोन करके बुलाते हैं और उनको खुद ब खुद क्या होते हैं हमने क्या करते हैं की इज्जत देते हैं और ही होती है क्या करना है कि हम उनकी अच्छी तरीके से खातेदारी करती इज्जत करते हैं लेकिन जब कोई ऐसा कोई मेहमान होता है जिसे हम कुछ लोग जैसे अब आपस में आपको अपने घर में किसी से मतभेद हुआ वह उनकी कोई फ्रेंड आ गए आप दो भाई हैं दोनों भाई में से क्या हुआ किसी की फ्रेंड आ गए तो क्या होगा कि जबरदस्ती क्या होता है कि हम उनके फ्रेंड को इज्जत देते हैं जबरदस्ती उनकी बात सुनते हैं या मन नहीं है फिर भी हम अनचाहे मन से उन्हें सब कुछ इज्जत देने की कोशिश करते ही होता है अंतर दोनों में धन
Ek kee ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hota hai too dikhe phrend ijjat jo ham dete hain to ijjat dene ka matalab hota hai ki koee svaarth bas deta hai koee jabaradastee yah man chaahe man se ham aisa lagata hai ki man nahin hai phir bhee ham kisee ke jor jabaradastee kee vajah se hamen kisee ko ijjat dete hain apane aap ko pradarshit karate hain unakee har ek baatee ko sunate hain bada hee ek sahaayata ke saath ham prastut hote hain ijjat karane kee baat aatee hai yah kya hota hai ki khud ba khud hamaare andar ek ijjat ja hamaare pati ek sainik jaag jaatee hai ki hamen kya hota hai kisee kee ijjat karanee hai koee bhee agar hamaare ghar par aata hai to kya hota hai ki ham ijjat kya karate hain khud ba khud hamaare andar unake prati aastha ban jaatee hai aur unhen ham khud phon karake bulaate hain aur unako khud ba khud kya hote hain hamane kya karate hain kee ijjat dete hain aur hee hotee hai kya karana hai ki ham unakee achchhee tareeke se khaatedaaree karatee ijjat karate hain lekin jab koee aisa koee mehamaan hota hai jise ham kuchh log jaise ab aapas mein aapako apane ghar mein kisee se matabhed hua vah unakee koee phrend aa gae aap do bhaee hain donon bhaee mein se kya hua kisee kee phrend aa gae to kya hoga ki jabaradastee kya hota hai ki ham unake phrend ko ijjat dete hain jabaradastee unakee baat sunate hain ya man nahin hai phir bhee ham anachaahe man se unhen sab kuchh ijjat dene kee koshish karate hee hota hai antar donon mein dhan

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:35
सुनिश्चित करने में क्या अंतर है वास्तव में जो इंसान जून 15 अप्रैल आदरणीय सम्माननीय होता है तो उस इंसान को अपने आचरण से अपने व्यवहार से सम्मान देते हैं अपनी सिमरा मानते हैं उनकी आज्ञा का पालन करते हैं उनके दिए गए निर्देशों के चलते उनकी सेना को अपने जीवन का आधार मानते हैं इससे इज्जत देना कहते हैं और हां अगर आप उनकी बात सुनने और उनकी बात सुनने के बाद आप उन्हें स्वीकार करें या ना करें सिर्फ आपने उनकी बात सुनने और आपने सुनने के बाद जो कार्य किया निश्चित रूप से आपने उनकी छुट्टी अगर स्वीकार नहीं किया तो सिर्फ आपने उनके सामने ना बोल कर या उनके सामने ना ना करके आपने इज्जत करने का एक फॉर्मेलिटी की इज्जत करना एक बहुत ही बड़ा काम है क्योंकि समझदार बुद्धिजीवी और वही व्यक्ति की थी चट कर सकता है जैसे इज्जत के प्रति सम्मान होता है जिसके प्रति उसको कद्र होती है और उसे छत का भाव पता होता वह इंसान भी छोटी चैट करते हैं
Sunishchit karane mein kya antar hai vaastav mein jo insaan joon 15 aprail aadaraneey sammaananeey hota hai to us insaan ko apane aacharan se apane vyavahaar se sammaan dete hain apanee simara maanate hain unakee aagya ka paalan karate hain unake die gae nirdeshon ke chalate unakee sena ko apane jeevan ka aadhaar maanate hain isase ijjat dena kahate hain aur haan agar aap unakee baat sunane aur unakee baat sunane ke baad aap unhen sveekaar karen ya na karen sirph aapane unakee baat sunane aur aapane sunane ke baad jo kaary kiya nishchit roop se aapane unakee chhuttee agar sveekaar nahin kiya to sirph aapane unake saamane na bol kar ya unake saamane na na karake aapane ijjat karane ka ek phormelitee kee ijjat karana ek bahut hee bada kaam hai kyonki samajhadaar buddhijeevee aur vahee vyakti kee thee chat kar sakata hai jaise ijjat ke prati sammaan hota hai jisake prati usako kadr hotee hai aur use chhat ka bhaav pata hota vah insaan bhee chhotee chait karate hain

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
shekhar vishwakarma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shekhar जी का जवाब
Academic Content developer at ConnectEd
2:57
हवाओं में शब्दों का हेरफेर अर्थ का अनर्थ कर देता है तो यह शब्दों का हेरफेर बहुत ही खतरनाक हो जाता है कभी-कभी कई बार हम उससे प्यार करते हैं कई बार उससे प्यार हो जाता है ऐसा ही सवाल है किसी ने पूछा है कि जब देने और इज्जत करने में क्या अंतर है सवाल तो बढ़िया है तू जब सवाल बढ़िया है बेशक का जवाब भी बढ़िया होगा तो चलिए समझते हैं की इज्जत देने और इज्जत करने में फर्क क्या होता है जैसे कि कभी-कभी हम लोगों को घर वाले हमारे समझाते हैं कि जब भी तुम्हें कोई बड़ा देखे तो तुम्हें उसको इज्जत देनी चाहिए तभी टीचर घर आए तो उसको इज्जत दो कोई तो मैं खाना खिला दे तो उसको इज्जत दो इज्जत का जो अर्थ होता है वह होता है तुरंत वाले फोन में बंधी मीडियम में मतलब की कोई दिखा इज्जत दे दो मास्टर जी की इज्जत देना बहुत सारी चीजें होती किसी ऑफिस में कोई फंक्शन हो रहा है किसी स्कूल में कोई फंक्शन हो रहा है तो वह जो चीज के छाता उनको शॉल ओढ़ाकर या गुलदस्ता देकर उनको जल्दी जाती है तो मतलब कि जो सामने हमारे तुरंत पहचाना जाता है और हमें उसको इज्जत देनी पड़ती है लेकिन इज्जत करने में यह कौन से टाइम ही नहीं है इज्जत करने में लंबा प्रोसेस चलता है मान लीजिए बचपन से हम लोग अपने पापा को इज्जत देते नहीं हैं आप आप अकेले खेलते हैं क्योंकि वह हमें बचपन से जानता हूं हमको बहुत दिन से उनकी इज्जत करते चले आ रहे बचपन से हमें सिखाया गया था ऐसे ही हमेशा इज्जत करते हैं मम्मी जी जलते हैं हम बाबा इज्जत करते हैं एक लंबा प्रोसेस है इसमें हम लगाते रहते हमारे मन में कहीं न कहीं वह आग रहता है कि आज मम्मी है तो मम्मी का स्थान कहां पर है मम्मी का स्थान सबसे आंख और शहर उसको बोलते हैं
Havaon mein shabdon ka herapher arth ka anarth kar deta hai to yah shabdon ka herapher bahut hee khataranaak ho jaata hai kabhee-kabhee kaee baar ham usase pyaar karate hain kaee baar usase pyaar ho jaata hai aisa hee savaal hai kisee ne poochha hai ki jab dene aur ijjat karane mein kya antar hai savaal to badhiya hai too jab savaal badhiya hai beshak ka javaab bhee badhiya hoga to chalie samajhate hain kee ijjat dene aur ijjat karane mein phark kya hota hai jaise ki kabhee-kabhee ham logon ko ghar vaale hamaare samajhaate hain ki jab bhee tumhen koee bada dekhe to tumhen usako ijjat denee chaahie tabhee teechar ghar aae to usako ijjat do koee to main khaana khila de to usako ijjat do ijjat ka jo arth hota hai vah hota hai turant vaale phon mein bandhee meediyam mein matalab kee koee dikha ijjat de do maastar jee kee ijjat dena bahut saaree cheejen hotee kisee ophis mein koee phankshan ho raha hai kisee skool mein koee phankshan ho raha hai to vah jo cheej ke chhaata unako shol odhaakar ya guladasta dekar unako jaldee jaatee hai to matalab ki jo saamane hamaare turant pahachaana jaata hai aur hamen usako ijjat denee padatee hai lekin ijjat karane mein yah kaun se taim hee nahin hai ijjat karane mein lamba proses chalata hai maan leejie bachapan se ham log apane paapa ko ijjat dete nahin hain aap aap akele khelate hain kyonki vah hamen bachapan se jaanata hoon hamako bahut din se unakee ijjat karate chale aa rahe bachapan se hamen sikhaaya gaya tha aise hee hamesha ijjat karate hain mammee jee jalate hain ham baaba ijjat karate hain ek lamba proses hai isamen ham lagaate rahate hamaare man mein kaheen na kaheen vah aag rahata hai ki aaj mammee hai to mammee ka sthaan kahaan par hai mammee ka sthaan sabase aankh aur shahar usako bolate hain

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Rohit Soni Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Journalism
0:40
की बारिश को समझाऊं पिक्चर देना और इज्जत करने में एक बाल की बारी कितना फर्क होता है कि मैं उसको एग्जाम के गाने जमाना आया सामने उसको जल्दी से मिठाई खिला देता हूं बाद में आपसे बात कर रहे हैं आपसे प्यार करने का
Kee baarish ko samajhaoon pikchar dena aur ijjat karane mein ek baal kee baaree kitana phark hota hai ki main usako egjaam ke gaane jamaana aaya saamane usako jaldee se mithaee khila deta hoon baad mein aapase baat kar rahe hain aapase pyaar karane ka

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:27
हंसने की इज्जत देने और इज्जत करने में क्या मिलता है या नहीं मान सम्मान देना जिससे माता-पिता को इज्जत देते हैं यानी बड़ों की इज्जत करना या कभी-कभी क्या किस समान नंबर हम रोते हैं हम उनका भी इज्जत करती है
Hansane kee ijjat dene aur ijjat karane mein kya milata hai ya nahin maan sammaan dena jisase maata-pita ko ijjat dete hain yaanee badon kee ijjat karana ya kabhee-kabhee kya kis samaan nambar ham rote hain ham unaka bhee ijjat karatee hai

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Dr Shahin fidai Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr जी का जवाब
Educational Counseling & Psychotherapy
1:38
देने और इज्जत करने में क्या अंतर है और जब कोई व्यक्ति आपसे दूर होता है और फिर भी वह आपके बारे में अच्छी चीजें सोचता है और बल्ले के सामने ना आए लेकिन आपके लिए वह क्या सोचता है उसकी क्या फीलिंग है और किस तरह से वह आपको दिखता है अगर वह पॉजिटिविटी के साथ देखता है तो उसका मतलब कि आप को इज्जत देता है और मन ही मन अगर वह आपके बारे में सकारात्मक चीजें सोचता है तो मतलब कि वह आप को इज्जत देता है और इज्जत करना मतलब मान लीजिए कभी कोई व्यक्ति आपको रास्ते में मिल जाए आपके सामने आ जाए और उसी वक्त अगर वह आपकी प्रशंसा करें आपको खुश रखे आपके साथ अच्छी अच्छी बातें करें और आपके साथ वक्त बिताना उसे अच्छा लगता हूं और दूसरों के पास आज भी जब वो रहता हो तो वह आपके बारे में अच्छे विचार करता है तो उसका मतलब यह है कि वह इंसान आपकी भी करता है तो इज्जत देने में और इज्जत करनी में अंतर होता है कि आदमी जो है वह आपके सामने भी आपके लिए सकारात्मक सोच रखता है और आपकी नजर ना होने पर भी उसके विषय में जो है आपके लिए सकारात्मक चीजें हैं अच्छी बातें हैं अच्छी मेमोरी है और वह पॉजिटिव वाइब्रेशंस देता है जिससे कि वह आपकी इज्जत दी करता है आपका आदर भी करता है और मन ही मन हो वह आपको सर आंखों पर दिखाता है धन्यवाद प्रश्न पूछने के लिए आपका जीवन शुभ हो
Dene aur ijjat karane mein kya antar hai aur jab koee vyakti aapase door hota hai aur phir bhee vah aapake baare mein achchhee cheejen sochata hai aur balle ke saamane na aae lekin aapake lie vah kya sochata hai usakee kya pheeling hai aur kis tarah se vah aapako dikhata hai agar vah pojitivitee ke saath dekhata hai to usaka matalab ki aap ko ijjat deta hai aur man hee man agar vah aapake baare mein sakaaraatmak cheejen sochata hai to matalab ki vah aap ko ijjat deta hai aur ijjat karana matalab maan leejie kabhee koee vyakti aapako raaste mein mil jae aapake saamane aa jae aur usee vakt agar vah aapakee prashansa karen aapako khush rakhe aapake saath achchhee achchhee baaten karen aur aapake saath vakt bitaana use achchha lagata hoon aur doosaron ke paas aaj bhee jab vo rahata ho to vah aapake baare mein achchhe vichaar karata hai to usaka matalab yah hai ki vah insaan aapakee bhee karata hai to ijjat dene mein aur ijjat karanee mein antar hota hai ki aadamee jo hai vah aapake saamane bhee aapake lie sakaaraatmak soch rakhata hai aur aapakee najar na hone par bhee usake vishay mein jo hai aapake lie sakaaraatmak cheejen hain achchhee baaten hain achchhee memoree hai aur vah pojitiv vaibreshans deta hai jisase ki vah aapakee ijjat dee karata hai aapaka aadar bhee karata hai aur man hee man ho vah aapako sar aankhon par dikhaata hai dhanyavaad prashn poochhane ke lie aapaka jeevan shubh ho

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Ankit Singh Kshatriya Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ankit जी का जवाब
Unknown
2:57
किया गया है इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है दोनों बातें देखा जाए तो सेम ही हैं और देखा जाए तो दोनों में अंतर भी है अगर हम आमतौर पर बात करें तो हम किसी से बोल देते हैं कि हम उनकी बड़ी इज्जत करते हैं या हम उनको परिचय देते हैं तब हम उनको बहुत मानते हैं वह हमसे बड़े हैं उनकी समझदारी हमसे ज्यादा है उनका अनुभव हमसे ज्यादा है तो हम उनकी इज्जत करते हैं इज्जत करते हैं यह एक बात हो गई जहां पर यह साबित होता है कि दोनों चीजें हैं लेकिन इनमें अंतर भी आ जाता है अंतर कहां पर आ सकता है अगर हम को समझने का प्रयास करें तो उसको इस तरीके समझ सकते हैं कि मान लीजिए कि हम जिस समाज में रहते हैं उस समाज में एक ऐसा व्यक्ति हैं जिनको सब लोग बहुत मानते हैं वह भी अपने समाज में जिन लोगों से मिलते हैं उनसे बड़ी आदर सम्मान से मिलते हैं उनके प्रॉब्लम्स को सुनते हैं समझते हैं उनके सुख-दुख में उनका साथ देते हैं सबका ध्यान रखते हैं अपने तरफ से ऐसा कोई कार्य नहीं करते से किसी को दुख पहुंचा दो वैसे लोगों को हम इज्जत करते हैं वैसे लोगों के लिए हमारे मन में एक सम्मान होती है कि नहीं यह इंसान जो बहुत आदरणीय हैं बहुत अच्छे लोग हैं यह तो हम उनकी इज्जत करते हैं वहीं दूसरी बात करते हैं कि एक आदमी ऐसा है जो अपने प्रभाव से उस समाज में या उस इलाके में दबदबा रहता है जहां पर उससे जो छोटे लोग हैं या जो लोग उनसे बड़ा भी नहीं कर सकते वह उनसे डर के रहते हैं और ऐसी परिस्थिति में जब वह व्यक्ति उन लोगों के बीच जाता है तो वह लोग दिखावे के लिए उस व्यक्ति को इज्जत देते हैं ताकि उस व्यक्ति को ऐसा न लगे कि लोग उसकी इज्जत नहीं कर रहे हैं वह सिर्फ दिखाने के लिए उसको इज्जत देते हैं ताकि जो डेरिंग के मन में बैठा है वह डर कहीं उसके ऊपर ऐसा प्रतीत ना हो कि लोग उसे डर नहीं रहे या फिर उसको समझ नहीं रहे तो वहां प्रदर्शित करते हैं तू जहां पर इज्जत करना है वह अपने अंदर आवाज आती है अपने दुश्मन जाति किस व्यक्ति का इज्जत करना है और जहां भी जाते हैं वहां पर लोग ऐसे ही दे देते हैं दिखावे के लिए तो मेरे ख्याल से ज्ञान तक बुताके तोड़ो धन्यवाद
Kiya gaya hai ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai donon baaten dekha jae to sem hee hain aur dekha jae to donon mein antar bhee hai agar ham aamataur par baat karen to ham kisee se bol dete hain ki ham unakee badee ijjat karate hain ya ham unako parichay dete hain tab ham unako bahut maanate hain vah hamase bade hain unakee samajhadaaree hamase jyaada hai unaka anubhav hamase jyaada hai to ham unakee ijjat karate hain ijjat karate hain yah ek baat ho gaee jahaan par yah saabit hota hai ki donon cheejen hain lekin inamen antar bhee aa jaata hai antar kahaan par aa sakata hai agar ham ko samajhane ka prayaas karen to usako is tareeke samajh sakate hain ki maan leejie ki ham jis samaaj mein rahate hain us samaaj mein ek aisa vyakti hain jinako sab log bahut maanate hain vah bhee apane samaaj mein jin logon se milate hain unase badee aadar sammaan se milate hain unake problams ko sunate hain samajhate hain unake sukh-dukh mein unaka saath dete hain sabaka dhyaan rakhate hain apane taraph se aisa koee kaary nahin karate se kisee ko dukh pahuncha do vaise logon ko ham ijjat karate hain vaise logon ke lie hamaare man mein ek sammaan hotee hai ki nahin yah insaan jo bahut aadaraneey hain bahut achchhe log hain yah to ham unakee ijjat karate hain vaheen doosaree baat karate hain ki ek aadamee aisa hai jo apane prabhaav se us samaaj mein ya us ilaake mein dabadaba rahata hai jahaan par usase jo chhote log hain ya jo log unase bada bhee nahin kar sakate vah unase dar ke rahate hain aur aisee paristhiti mein jab vah vyakti un logon ke beech jaata hai to vah log dikhaave ke lie us vyakti ko ijjat dete hain taaki us vyakti ko aisa na lage ki log usakee ijjat nahin kar rahe hain vah sirph dikhaane ke lie usako ijjat dete hain taaki jo dering ke man mein baitha hai vah dar kaheen usake oopar aisa prateet na ho ki log use dar nahin rahe ya phir usako samajh nahin rahe to vahaan pradarshit karate hain too jahaan par ijjat karana hai vah apane andar aavaaj aatee hai apane dushman jaati kis vyakti ka ijjat karana hai aur jahaan bhee jaate hain vahaan par log aise hee de dete hain dikhaave ke lie to mere khyaal se gyaan tak butaake todo dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
रंगन Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए रंगन जी का जवाब
Business,Student🤓
0:47
इज्जत देना और इज्जत करने में क्या अंतर है देखिए बहुत ही अंतर है इज्जत देना मतलब मान लीजिए किसी इंसान को आप को इज्जत देना पड़ता है जिससे कि वह आपसे बुरा ना माने आपसे बुरा ना माने और मतलब आप उससे कुछ मदद लेते हो या फिर कुछ नहीं फिर लेते हो तो वह फेवर आपको कर दीजिए देते हैं इज्जत करना मतलब सचमुच का इज्जत है किसी को मतलबी चेक करना मतलब किसी को देखकर आप बहुत प्राउड फील होता है इसलिए कभी चेक करते हो या नहीं वह अच्छा काम करता है या फिर कोई ऐसा डिटेल लिखकर भेजो आप बहुत अच्छा फील करते हो ऑटोमेटिक चेंज करते हो कुत्ते देना नहीं पड़ता मतलब इज्जत देना चाहता हूं इसलिए देर और ऐसा कोई बात नहीं है ऑटोमेटिक आपसे इज्जत को मिलता रहता है इसे कहते इज्जत करना
Ijjat dena aur ijjat karane mein kya antar hai dekhie bahut hee antar hai ijjat dena matalab maan leejie kisee insaan ko aap ko ijjat dena padata hai jisase ki vah aapase bura na maane aapase bura na maane aur matalab aap usase kuchh madad lete ho ya phir kuchh nahin phir lete ho to vah phevar aapako kar deejie dete hain ijjat karana matalab sachamuch ka ijjat hai kisee ko matalabee chek karana matalab kisee ko dekhakar aap bahut praud pheel hota hai isalie kabhee chek karate ho ya nahin vah achchha kaam karata hai ya phir koee aisa ditel likhakar bhejo aap bahut achchha pheel karate ho otometik chenj karate ho kutte dena nahin padata matalab ijjat dena chaahata hoon isalie der aur aisa koee baat nahin hai otometik aapase ijjat ko milata rahata hai ise kahate ijjat karana

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:29
हेलो b1 आई होप आप सब ठीक होंगे प्रश्न पूछा गया है इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर होता है लेकिन जिस तरह प्यास बुझाने और पानी पीने में क्या अंतर होता है अगर हम उसकी बात पूरी करें तो सीधी सी बात है कि बेवजह पानी पीने में और अब प्यास लगी हो तब पानी पीने में अंतर होता है ठीक उसी तरह उसी प्रकार आप इज्जत तक देते हैं जब आपका कोई स्वार्थ हो या फिर भी जबरदस्ती भी अनचाहे मन से कभी-कभी कुछ लोग इज्जत देने पड़ते हैं तो यही होता है इज्जत देना परंतु आपके जीवन में कुछ लोग ऐसे भी होंगे जो जो इनका व्यक्तित्व देकर उनके लिए खुद ब खुद एडिट करने का ख्याल आता है खुद को खुद ब खुद के लिए उनके लिए जो जो है अपने आप के उनके लिए जग जाते हैं वह होता है इज्जत करना यह लोग वह होते हैं जो आपकी और उन्हें यह पता होता है कि हमें हर किसी की इज्जत करनी है वह बड़ा हो या छोटा हो बूढ़ा हो जा बच्चा हो सबकी इज्जत देने और इज्जत करने का यही एक अंतर है इज्जत जबस्ती भी दी जाती है और जबरदस्ती भी दी जाती है और आपके मन में किसके लिए कितनी इज्जत है वह आपको उसकी भी सोचना नहीं पड़ेगा और किसी को आप को जानबूझकर अपने किसी वजह से कारणवश आप उनके लिए इज्जत का होता है देखिए इसे सिंपल साइंस फर्स्ट हो जाती है कि कुछ लोग ऐसे होते हैं आपके जीवन में जिनके लिए आपको सोचना नहीं पड़ता है जिनके इज्जत के लिए आपको सोचना नहीं पड़ता और तो मैं अपने आप को अच्छा मानते हैं उनके विचारों को विचारों को अच्छा समझते हैं और उनके साथ को अच्छा समझते हैं जो आप को अच्छी शिक्षा देते हैं अच्छा जो है आपके लिए सोचते हैं तो निकली आपकी इज्जत जो है बड़ी अपने आप बढ़ जाती है उसी तरह बच्चे भी इसमें शामिल हैं इसमें बड़े बूढ़े सब शांत है और जब आप इज्जत करने की बात कर रहे हैं तो देखिए यह डिपेंड नहीं करता है कि वह आप से छोटा है या बड़ा है तो आपको उसी ऐसे कई बार क्या था पूरा के साथ ऑफिस में कुछ ऐसे लोग भी होते हैं जिनको आ पसंद नहीं करता लेकिन उनके डेजिग्नेशन कि जो इस वक्त मूल्य है उसी हिसाब से आप को जबरदस्ती उनके आगे लिखा इज्जत करनी पड़ती है क्योंकि वह आपके काम का एक हिस्सा है तो आप मन से नहीं करते हैं लेकिन आपको अपने काम के लिए अपने स्वास्थ्य के लिए उनको इज्जत देनी पड़ रही है तो यही फर्क है दोनों में इज्जत देने और इज्जत करना आशा करता हूं आपका आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo b1 aaee hop aap sab theek honge prashn poochha gaya hai ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hota hai lekin jis tarah pyaas bujhaane aur paanee peene mein kya antar hota hai agar ham usakee baat pooree karen to seedhee see baat hai ki bevajah paanee peene mein aur ab pyaas lagee ho tab paanee peene mein antar hota hai theek usee tarah usee prakaar aap ijjat tak dete hain jab aapaka koee svaarth ho ya phir bhee jabaradastee bhee anachaahe man se kabhee-kabhee kuchh log ijjat dene padate hain to yahee hota hai ijjat dena parantu aapake jeevan mein kuchh log aise bhee honge jo jo inaka vyaktitv dekar unake lie khud ba khud edit karane ka khyaal aata hai khud ko khud ba khud ke lie unake lie jo jo hai apane aap ke unake lie jag jaate hain vah hota hai ijjat karana yah log vah hote hain jo aapakee aur unhen yah pata hota hai ki hamen har kisee kee ijjat karanee hai vah bada ho ya chhota ho boodha ho ja bachcha ho sabakee ijjat dene aur ijjat karane ka yahee ek antar hai ijjat jabastee bhee dee jaatee hai aur jabaradastee bhee dee jaatee hai aur aapake man mein kisake lie kitanee ijjat hai vah aapako usakee bhee sochana nahin padega aur kisee ko aap ko jaanaboojhakar apane kisee vajah se kaaranavash aap unake lie ijjat ka hota hai dekhie ise simpal sains pharst ho jaatee hai ki kuchh log aise hote hain aapake jeevan mein jinake lie aapako sochana nahin padata hai jinake ijjat ke lie aapako sochana nahin padata aur to main apane aap ko achchha maanate hain unake vichaaron ko vichaaron ko achchha samajhate hain aur unake saath ko achchha samajhate hain jo aap ko achchhee shiksha dete hain achchha jo hai aapake lie sochate hain to nikalee aapakee ijjat jo hai badee apane aap badh jaatee hai usee tarah bachche bhee isamen shaamil hain isamen bade boodhe sab shaant hai aur jab aap ijjat karane kee baat kar rahe hain to dekhie yah dipend nahin karata hai ki vah aap se chhota hai ya bada hai to aapako usee aise kaee baar kya tha poora ke saath ophis mein kuchh aise log bhee hote hain jinako aa pasand nahin karata lekin unake dejigneshan ki jo is vakt mooly hai usee hisaab se aap ko jabaradastee unake aage likha ijjat karanee padatee hai kyonki vah aapake kaam ka ek hissa hai to aap man se nahin karate hain lekin aapako apane kaam ke lie apane svaasthy ke lie unako ijjat denee pad rahee hai to yahee phark hai donon mein ijjat dene aur ijjat karana aasha karata hoon aapaka aapake savaal ka javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
मोहित कुमार Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए मोहित जी का जवाब
बिजनेस
0:47
दोस्तों सवाल है इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है तो दोस्तों हमारे प्रति अच्छे विचार और अच्छी सोच होनी चाहिए किसी के अंदर के भाव को पहचानना जरूरी होता है अगर हम किसी व्यक्ति को अंदर से इज्जत देते हैं जैसे उसके प्रति हमारे मन में अच्छे विचार हैं और अच्छी सोच हो और अच्छे कार्य भी हो तो उसके प्रति हमारे मन में अच्छी जागरूकता जाग जाएगी और और हम उसे इज्जत दे सकते हैं और हम किसी की इज्जत करते हैं तो अच्छा व्यवहार हो किसी के प्रति और अच्छे विचार और किसी व्यक्ति का अच्छा मन होना और अच्छे कार्य करना तो हम उसकी इज्जत कर सकते हैं धन्यवाद
Doston savaal hai ijjat dene aur ijjat karane mein kya antar hai to doston hamaare prati achchhe vichaar aur achchhee soch honee chaahie kisee ke andar ke bhaav ko pahachaanana jarooree hota hai agar ham kisee vyakti ko andar se ijjat dete hain jaise usake prati hamaare man mein achchhe vichaar hain aur achchhee soch ho aur achchhe kaary bhee ho to usake prati hamaare man mein achchhee jaagarookata jaag jaegee aur aur ham use ijjat de sakate hain aur ham kisee kee ijjat karate hain to achchha vyavahaar ho kisee ke prati aur achchhe vichaar aur kisee vyakti ka achchha man hona aur achchhe kaary karana to ham usakee ijjat kar sakate hain dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
vivekanand kashyap Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vivekanand जी का जवाब
Unknown
1:23
आपका सवाल है जिससे हम सबसे ज्यादा प्यार करते हैं वह हमारी कदर क्यों नहीं करते ऐसा ही होता है और आगे भी ऐसा ही होता आएगा क्योंकि यह जरूरी नहीं है कि आप जिसको प्यार करते हैं वह आपको भी प्यार करें कदर वही करेगा जो आपको प्यार करेगा और अगर प्यार नहीं करेगा तो कदर भी नहीं कर सकता और नॉर्मल होगा क्योंकि उसकी फीलिंग ही नहीं होगी और आपको लगेगा कि को आप की कदर नहीं कर रहा है इसलिए बराबर ही दोनों साइड से बराबर ही होनी चाहिए नहीं तो प्यार में दुख के सिवा कुछ नहीं मिलता अब की भावनाओं को वह समझेगा जो प्यार करता है इसलिए शादी उससे कभी मत करना जिसको आप प्यार करते हैं उससे करना जो आपको प्यार करता है वही सही रहेगा नहीं तो जिंदगी भर रोने के लिए तैयार होना पड़े एक बात और जिसे हम प्यार करते हैं उससे हमें बहुत आसान होती है और वह ठीक नहीं है रखना आप उसको कुछ पूछो पूछेंगे तो उसका जवाब में शाम को नहीं होगा जो आप उम्मीद कर रहे हैं और उम्मीद के साथ से जवाब नहीं मिलता तो दिल को लगता है यह जरूरी नहीं है कि प्यार लड़की से ही हो यह दोस्तों से परिवार से भी होता है जब आप पसंद आया हो तो फॉलो करें जिंदगी कि ऐसे बहुत सारे एक्सप्रेस आपको मुझसे कुछ हेल्प मिले धन्यवाद
Aapaka savaal hai jisase ham sabase jyaada pyaar karate hain vah hamaaree kadar kyon nahin karate aisa hee hota hai aur aage bhee aisa hee hota aaega kyonki yah jarooree nahin hai ki aap jisako pyaar karate hain vah aapako bhee pyaar karen kadar vahee karega jo aapako pyaar karega aur agar pyaar nahin karega to kadar bhee nahin kar sakata aur normal hoga kyonki usakee pheeling hee nahin hogee aur aapako lagega ki ko aap kee kadar nahin kar raha hai isalie baraabar hee donon said se baraabar hee honee chaahie nahin to pyaar mein dukh ke siva kuchh nahin milata ab kee bhaavanaon ko vah samajhega jo pyaar karata hai isalie shaadee usase kabhee mat karana jisako aap pyaar karate hain usase karana jo aapako pyaar karata hai vahee sahee rahega nahin to jindagee bhar rone ke lie taiyaar hona pade ek baat aur jise ham pyaar karate hain usase hamen bahut aasaan hotee hai aur vah theek nahin hai rakhana aap usako kuchh poochho poochhenge to usaka javaab mein shaam ko nahin hoga jo aap ummeed kar rahe hain aur ummeed ke saath se javaab nahin milata to dil ko lagata hai yah jarooree nahin hai ki pyaar ladakee se hee ho yah doston se parivaar se bhee hota hai jab aap pasand aaya ho to pholo karen jindagee ki aise bahut saare eksapres aapako mujhase kuchh help mile dhanyavaad

bolkar speaker
इज्जत देने और इज्जत करने में क्या अंतर है?Ijjat Dene Or Ijjat Karne Me Kya Antar Hai
Garvit Joshi Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Garvit जी का जवाब
Self employed
0:11
समूह के सामने दी जाती है पीठ पीछे नहीं और इज्जत करने में मुख्य सामने और पीछे दोनों जगह की जाती है
Samooh ke saamane dee jaatee hai peeth peechhe nahin aur ijjat karane mein mukhy saamane aur peechhe donon jagah kee jaatee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इज्जत देने का क्या अर्थ है, इज्जत करने का क्या अर्थ है, इज्जत देना और इज्जत करने में क्या समानता है
URL copied to clipboard