#undefined

अभिषेक शुक्ला  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए अभिषेक जी का जवाब
Motivational speaker
1:33
अच्छा प्रश्न है कि आज के समय में सभी लोगों को जो है तो दुख की समस्या कहीं ना कहीं बनी होती है लेकिन यदि हम अपने विचार को नियंत्रित कर ले यदि आम सूचना कम कर दो और अपने काम पर बहुत ज्यादा एकत्रित ध्यान लगा ले तो हो सकता है कि जो दुख हमें बार-बार महसूस करना चाहे किसी व्यक्ति विशेष के दार से कुछ घटनास्थल के द्वारा यह भी कुछ समय बीते समय के द्वारा यदि हम उन चीजों को बार-बार याद कर रहे होते तो हमें कहीं ना कहीं दुख होता है और यह जाहिर सी बात है लाजमी है कि होना चाहिए क्योंकि देखिए क्या है कि हमारी खुद की दिक्कतें होती है क्या है तू यदि आप बहुत सारी चीजें जो अपने निजी जीवन की घटनाएं होती है यदि हमने बार-बार याद करें और हो सकते हैं क्यों नहीं आ दो चीजों को याद करने से हमें बहुत ज्यादा दुख प्रकट होता होता यदि आप इन चीजों को सोचना ही बंद कर दें उस पर यदि नियंत्रण कर लेन सोचो को रोकने के लिए तो हो सकता है कि आने वाले समय में जो है तो हम अपने क्षेत्र में अच्छा कर सकते हो हमें जो है तो ऐसे विचार लगाए और हम जो हैं तो अपने जो व्यक्ति के जीवन में जो दुख पा रहे हैं आज के समय मोबाइल जो है तो दूर हो सकें इन्हीं सब यही है कि हम जो है तो आने वाले समय में इन चीजों से छुटकारा पाएं और यही सही रहेगा दोस्तों क्या अपने आप को नियंत्रित करें अपनी सोच को नियंत्रण में रखें और हमेशा अच्छा सोचे और हम सब कुछ जान आज तो कुछ अलग चीजें हमेशा अच्छी चीजों का ख्याल करें जिससे कि आपको खुशी मिले ना की दुखे दोस्तों धन्यवाद
Achchha prashn hai ki aaj ke samay mein sabhee logon ko jo hai to dukh kee samasya kaheen na kaheen banee hotee hai lekin yadi ham apane vichaar ko niyantrit kar le yadi aam soochana kam kar do aur apane kaam par bahut jyaada ekatrit dhyaan laga le to ho sakata hai ki jo dukh hamen baar-baar mahasoos karana chaahe kisee vyakti vishesh ke daar se kuchh ghatanaasthal ke dvaara yah bhee kuchh samay beete samay ke dvaara yadi ham un cheejon ko baar-baar yaad kar rahe hote to hamen kaheen na kaheen dukh hota hai aur yah jaahir see baat hai laajamee hai ki hona chaahie kyonki dekhie kya hai ki hamaaree khud kee dikkaten hotee hai kya hai too yadi aap bahut saaree cheejen jo apane nijee jeevan kee ghatanaen hotee hai yadi hamane baar-baar yaad karen aur ho sakate hain kyon nahin aa do cheejon ko yaad karane se hamen bahut jyaada dukh prakat hota hota yadi aap in cheejon ko sochana hee band kar den us par yadi niyantran kar len socho ko rokane ke lie to ho sakata hai ki aane vaale samay mein jo hai to ham apane kshetr mein achchha kar sakate ho hamen jo hai to aise vichaar lagae aur ham jo hain to apane jo vyakti ke jeevan mein jo dukh pa rahe hain aaj ke samay mobail jo hai to door ho saken inheen sab yahee hai ki ham jo hai to aane vaale samay mein in cheejon se chhutakaara paen aur yahee sahee rahega doston kya apane aap ko niyantrit karen apanee soch ko niyantran mein rakhen aur hamesha achchha soche aur ham sab kuchh jaan aaj to kuchh alag cheejen hamesha achchhee cheejon ka khyaal karen jisase ki aapako khushee mile na kee dukhe doston dhanyavaad

और जवाब सुनें

nav kishor aggarwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए nav जी का जवाब
Service
1:21
नमस्कार आप ने सवाल किया कि आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके तथा क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है जी हां काफी हद तक सही आप देखिए काफी सारी जरूरतें ऐसी हैं जो हमें परेशान करने वाली होती हमारी परेशानियों का कारण हमारी जरूरत होती है और हम अपनी परेशानियों का अपनी जरूरतों की वजह से खुद ही बनाते तो यदि हम अपने आप को नियंत्रण में रखेंगे अपनी जरूरतों को नियंत्रण में रखेंगे अपने मन को नियंत्रण में रखेंगे तो काफी दुखों का समाधान आसानी से हो जाता है अब आपने देखा होगा कि आदमी दो रोटी खा कर के भी जिंदा रह सकता है लेकिन उसकी आदत होती है या वह उसकी जो और लालसा होती है वह सोचता है कि मैं चार रोटी खाने से रोटी खाए द छोटी खाऊं या फिर कल के लिए भी स्टोर करके रख दूं तो वह उसको परेशान करती है उसके लिए परेशानी बढ़ा दी है तो इसलिए हमेशा आप पर बड़ी सुनी होगी कि जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिए सभी दुखों से आप अपने दूर ही रहिए तो इसीलिए कहा गया कि आप अपने आप को नियंत्रण में रखें अपनी जरूरतों को नियंत्रण में रखें आपके दुख समस्याएं काफी हद तक कम हो जाएंगे या खत्म हो जाएगी धन्यवाद
Namaskaar aap ne savaal kiya ki aapake vichaar se khud ko niyantrit karake tatha kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai jee haan kaaphee had tak sahee aap dekhie kaaphee saaree jarooraten aisee hain jo hamen pareshaan karane vaalee hotee hamaaree pareshaaniyon ka kaaran hamaaree jaroorat hotee hai aur ham apanee pareshaaniyon ka apanee jarooraton kee vajah se khud hee banaate to yadi ham apane aap ko niyantran mein rakhenge apanee jarooraton ko niyantran mein rakhenge apane man ko niyantran mein rakhenge to kaaphee dukhon ka samaadhaan aasaanee se ho jaata hai ab aapane dekha hoga ki aadamee do rotee kha kar ke bhee jinda rah sakata hai lekin usakee aadat hotee hai ya vah usakee jo aur laalasa hotee hai vah sochata hai ki main chaar rotee khaane se rotee khae da chhotee khaoon ya phir kal ke lie bhee stor karake rakh doon to vah usako pareshaan karatee hai usake lie pareshaanee badha dee hai to isalie hamesha aap par badee sunee hogee ki jaahi vidhi raakhe raam taahi vidhi rahie sabhee dukhon se aap apane door hee rahie to iseelie kaha gaya ki aap apane aap ko niyantran mein rakhen apanee jarooraton ko niyantran mein rakhen aapake dukh samasyaen kaaphee had tak kam ho jaenge ya khatm ho jaegee dhanyavaad

Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:32
अपने विचारों से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है दोस्त आपका कहना बिल्कुल सही कहते हैं कि अगर आपके विचार अच्छे हैं कार्यप्रणाली होती है और बहुत सारी चीजें और कहते हैं कि आप अपना नियंत्रण कर लेते हैं तो निश्चित तौर पर हम सारी चीजों को नियंत्रित कर सकते हैं आप जानते हैं कि खर्चे का बैलेंस बना के चले तो निश्चित तौर पर इन सब चीजों का है नहीं होगी और आप खुश रहे सबसे ज्यादा जरूरी है दुखों का कारण क्या है उसका निवारण होना बहुत जरूरी है तो निश्चित तौर पर इन कारणों को समझने की कोशिश करना होगा तभी होगा तो आपका जो प्रश्न है बिल्कुल सही है खुद को नियंत्रित कर लो और निश्चित तौर पर नियंत्रित कर लेते हैं तो आपको मिलेगा कि आप जो है खूबसूरत शायरी जो भी दुख है क्या जो भी कारण होता है वह पुलिस के द्वारा किया गया ही होता है तो निश्चित तौर पर हम कह सकते हैं कि हां उसको जीत कर लेते हैं तो से छुटकारा पाएं
Apane vichaaron se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai dost aapaka kahana bilkul sahee kahate hain ki agar aapake vichaar achchhe hain kaaryapranaalee hotee hai aur bahut saaree cheejen aur kahate hain ki aap apana niyantran kar lete hain to nishchit taur par ham saaree cheejon ko niyantrit kar sakate hain aap jaanate hain ki kharche ka bailens bana ke chale to nishchit taur par in sab cheejon ka hai nahin hogee aur aap khush rahe sabase jyaada jarooree hai dukhon ka kaaran kya hai usaka nivaaran hona bahut jarooree hai to nishchit taur par in kaaranon ko samajhane kee koshish karana hoga tabhee hoga to aapaka jo prashn hai bilkul sahee hai khud ko niyantrit kar lo aur nishchit taur par niyantrit kar lete hain to aapako milega ki aap jo hai khoobasoorat shaayaree jo bhee dukh hai kya jo bhee kaaran hota hai vah pulis ke dvaara kiya gaya hee hota hai to nishchit taur par ham kah sakate hain ki haan usako jeet kar lete hain to se chhutakaara paen

MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
Author
1:51
नमस्कार आपका प्रश्न है आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है यह जवाब का सवाल है यह अपने आप में बहुत गहनता लिए हुए हैं कि खुद को नियंत्रित करके कैसे हम अपने दुखों से छुटकारा पा सकते हैं सच है कि यदि आप अपनी परिस्थिति के साथ तालमेल बैठा लें और अपनी आवश्यकताओं को कम कर लें तो की आधी समस्या है वही खत्म हो जाती हैं अपनी परिस्थिति के साथ तालमेल बैठाना और अपनी आवश्यकता है कम कर लेना आपकी आधी समस्या खत्म कर देता है क्योंकि हमारी समस्याओं की वजह हमारी कहीं ना कहीं इच्छाएं होती है जिन्हें हम पूरा नहीं कर पाते दूसरी बात जो आप कह रहे हैं दूसरा जो एक आप कहना चाह रहा है कि खुद पर नियंत्रण इसका सीधा-सीधा कारण है वह यह है कि हम खुद अपने दम पर हमें भी समझ विकसित हो जाए जैसे मान लीजिए सामने वाले ने आपको आकर अचानक गाली दे दी और आप उसको गाली देने लगे छोटा बड़ा मामला पड़ेगा लड़ाई होगी 24:30 पर सोचेंगे तो आपके अपने आप समस्या खत्म हो जाएगी उसका गाली देना बुरा भी ना लगे और आप उसे कन्वेंस कर पाए तो बहुत नियंत्रण की परिभाषा है वह अपनी समाज को बनाने से लेकर है यदि आप अपनी समझ को बढ़ाते हैं निश्चित रूप से आप इन तरीकों से अपनी समस्त अपनी जो भी समस्या है दुकान से छुटकारा पा सकते हैं तो इसमें कोई शक नहीं है कि अपने विचारों से खुद को नियंत्रित करके आप अपने दुखों का शिकार आप आ सकते हैं कहीं ना कहीं आपको अपने विचारों को अपने समाज को अपने दायरे को बढ़ाना होगा आपको खुद की नॉलेज बढ़ानी होगी इस चीज के लिए धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai yah javaab ka savaal hai yah apane aap mein bahut gahanata lie hue hain ki khud ko niyantrit karake kaise ham apane dukhon se chhutakaara pa sakate hain sach hai ki yadi aap apanee paristhiti ke saath taalamel baitha len aur apanee aavashyakataon ko kam kar len to kee aadhee samasya hai vahee khatm ho jaatee hain apanee paristhiti ke saath taalamel baithaana aur apanee aavashyakata hai kam kar lena aapakee aadhee samasya khatm kar deta hai kyonki hamaaree samasyaon kee vajah hamaaree kaheen na kaheen ichchhaen hotee hai jinhen ham poora nahin kar paate doosaree baat jo aap kah rahe hain doosara jo ek aap kahana chaah raha hai ki khud par niyantran isaka seedha-seedha kaaran hai vah yah hai ki ham khud apane dam par hamen bhee samajh vikasit ho jae jaise maan leejie saamane vaale ne aapako aakar achaanak gaalee de dee aur aap usako gaalee dene lage chhota bada maamala padega ladaee hogee 24:30 par sochenge to aapake apane aap samasya khatm ho jaegee usaka gaalee dena bura bhee na lage aur aap use kanvens kar pae to bahut niyantran kee paribhaasha hai vah apanee samaaj ko banaane se lekar hai yadi aap apanee samajh ko badhaate hain nishchit roop se aap in tareekon se apanee samast apanee jo bhee samasya hai dukaan se chhutakaara pa sakate hain to isamen koee shak nahin hai ki apane vichaaron se khud ko niyantrit karake aap apane dukhon ka shikaar aap aa sakate hain kaheen na kaheen aapako apane vichaaron ko apane samaaj ko apane daayare ko badhaana hoga aapako khud kee nolej badhaanee hogee is cheej ke lie dhanyavaad

Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:28
एक ही आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके या पुराने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है तो पुराने दुखों से छुटकारा तो नहीं पाया जा सकता है उसको कुछ टाइम जरूर खिला दिया जाता है वीडियो पर नहीं आते रहेंगे अपने कामों में बिजी रहेंगे तो इसी बात का ऐसा करेंगे तो पुरानी बातें याद नहीं आएगी
Ek hee aapake vichaar se khud ko niyantrit karake ya puraane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai to puraane dukhon se chhutakaara to nahin paaya ja sakata hai usako kuchh taim jaroor khila diya jaata hai veediyo par nahin aate rahenge apane kaamon mein bijee rahenge to isee baat ka aisa karenge to puraanee baaten yaad nahin aaegee

vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:08
मंगलवार को दिया था आपके सवाल इस प्रकार से आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या बने दुखी से छुटकारा पाया जा सकता है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है अगर हमारे अंदर सकारात्मक सोच होगी वह हर हमेशा करते रहेंगे और अपने आप पर विश्वास होगा तो कैसे भी परेशानी हो ना जाए आप खुद को नियंत्रित कर सकते हो और आप लोगों से छुटकारा पा सकते हो क्योंकि हमारी जिंदगी में कभी सुख आता है कभी दुख आता है कभी रात होता है कभी होता नहीं इसलिए हमें हिंदू को से कभी घबराना नहीं चाहिए यह हर व्यक्ति की जिंदगी में तो और सोते रहते रहते हैं इसलिए हमें पता रतन बनाए रखना चाहिए और सकारात्मक सोच के साथ ही आगे होना चाहिए धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Mangalavaar ko diya tha aapake savaal is prakaar se aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya bane dukhee se chhutakaara paaya ja sakata hai to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai agar hamaare andar sakaaraatmak soch hogee vah har hamesha karate rahenge aur apane aap par vishvaas hoga to kaise bhee pareshaanee ho na jae aap khud ko niyantrit kar sakate ho aur aap logon se chhutakaara pa sakate ho kyonki hamaaree jindagee mein kabhee sukh aata hai kabhee dukh aata hai kabhee raat hota hai kabhee hota nahin isalie hamen hindoo ko se kabhee ghabaraana nahin chaahie yah har vyakti kee jindagee mein to aur sote rahate rahate hain isalie hamen pata ratan banae rakhana chaahie aur sakaaraatmak soch ke saath hee aage hona chaahie dhanyavaad doston khush raho

Navnit Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Navnit जी का जवाब
QUALITY ENGINEER
1:07
जी हां अगर आप खुद के विचारों को नियंत्रित कर सकते हैं तो दुख से छुटकारा काफी हद तक पाया जा सकता है नियंत्रण किसी भी चीज को आप कर लो फिर आप गलती कम करोगे गलती कम करोगे तो आपको सिर्फ एक गिफ्ट वाला जो फीलिंग होता है वह कमरों का जवाब सही से काम करने लगोगे तो आप में नागिन का सीलिंग आएगा ना आपका टाइम खराब होगा जब टाइम आपका खराब नहीं होगा तो आप बिल्कुल सही से लाइफ में आगे बढ़ो गे विचार को नियंत्रण कर के दुख से छुटकारा बिल्कुल कहा जा सकता है उसके लिए अपना सर्कल अच्छा रखी है अच्छे-अच्छे नए दोस्त बनाइए उनके पास नॉलेज है जो आपको गाइड कर सके जो आपको रास्ता दिखा सकते ऐसे आदमी के साथ रिश्ता बनाएंगे तो वह आप को नियंत्रित करना भी दिखाएंगे आपको गाइड भी करेंगे जब आप सही रास्ते पर चलोगे तो दुख से छुटकारा तुम मिल ही जाएगा आपको
Jee haan agar aap khud ke vichaaron ko niyantrit kar sakate hain to dukh se chhutakaara kaaphee had tak paaya ja sakata hai niyantran kisee bhee cheej ko aap kar lo phir aap galatee kam karoge galatee kam karoge to aapako sirph ek gipht vaala jo pheeling hota hai vah kamaron ka javaab sahee se kaam karane lagoge to aap mein naagin ka seeling aaega na aapaka taim kharaab hoga jab taim aapaka kharaab nahin hoga to aap bilkul sahee se laiph mein aage badho ge vichaar ko niyantran kar ke dukh se chhutakaara bilkul kaha ja sakata hai usake lie apana sarkal achchha rakhee hai achchhe-achchhe nae dost banaie unake paas nolej hai jo aapako gaid kar sake jo aapako raasta dikha sakate aise aadamee ke saath rishta banaenge to vah aap ko niyantrit karana bhee dikhaenge aapako gaid bhee karenge jab aap sahee raaste par chaloge to dukh se chhutakaara tum mil hee jaega aapako

J.P. Y👌g i Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए J.P. जी का जवाब
Unknown
5:00
कसाब के बयान से खुद को लेकर करके क्या मैं आपको तो खुशी के कारण भाई बिल्कुल अपने आप को नियंत्रण करके समझ जाओ उसे परिहार हो सकते हैं बशर्ते नियंत्रण करने की जरूरी होता है कि आप अपने आप नींदड़ के ज्ञान के ऊपर लाइक कर सही कराने पर भी आध्यात्मिकता की गहराई में बोलता है जो अपने संप्रदाय की शादी की उम्र रंगून बात करता है वह पेड़ में सूचित करना है निश्चित ही अपने आप को सेवर मोड पर करें मऊ में अनुशासन संकलन की पूरी जांच आवश्यकता होती है क्योंकि मन और अवचेतन मन से क्यों इतना ही आसान है पर हो गया उसे हम कैसे करते हैं और विवेक के बिना बताए सो जाते हैं जो पकने लोग ग्रुप के आचरण में या किसी भी शैली को संदेश ठाकुर का बना लिया है तो मिलने को दिल करता है मैं आपको नींद निकाल रही हो जाएगी तब तो ध्यान से अपने आप को सपोर्ट करता भरा में सबसे महत्वपूर्ण बांधने की निजी क्षेत्र को निर्धारित करके विश्वास सुधीर भैया टीम पर गर्व होना चाहिए कि अंदर करने का शहर मुंबई किस तरह विश्वास का अटूट संबंध बन जाना है और साक्षात्कार के दर्शन मियां अपने आप को दबा दिया संदेश करता है तो वहां आपने फिर कर लेना है और जो लाइक करता है वह मदनलाल के विश्लेषण प्राप्त हुआ है उसका दार्शनिक में सफलता निश्चित करता है तो उस शक्ति के सहारे में आपने जो सोचने का निर्भर होता है और ऐसा प्राकृत ज्ञान की उत्पत्ति हो जाती है कि वह मौका भंजन कर सकता है और ज्यादातर तो कुछ का कारण उसने हमारी निष्ठा कर्तव्यनिष्ठा गंभीरता से सोचने वालों पर जो अपने कर्मों के मुंह करता कांति बनवासा में पहुंचना है वह सारी सम्मेलन है उसको जो भी करती रहती है आस्था मेरी रानी बकरी के मामले पर काम कर रही है और दिलीप दशा में स्थित होता है तो जितने भी प्रकार की दिक्कत है सबसे रईसों के निर्णय पर निश्चित हो गया को चरण सीमा की चाहिए में स्थित हो जाता हो एक बार याद कर भावनाओं से प्रक्षेपण में घटित होता है उससे पूछो क्यों हो जाता है रात को ही व्यस्त रहें क्योंकि एक मंगाए खेल होता है जिसमें रखता है निरंजन का लेता है मैं उसे वैरागी शिक्षित से न कर पाने में सक्षम अहंकार की गतिविधियों से पर्यावरण को प्राप्त होता है जो कि एक भौतिक राशि के अंतर्गत आता है अपना दिल और अपना ध्यान से बंद करके अपनी मनमानी करते हुए निर्माण पर तिल होता है तो ऐसी स्थिति में वह अपने आप को दूसरी कक्षा में पाताल संसार की प्रशंसा नहीं तो
Kasaab ke bayaan se khud ko lekar karake kya main aapako to khushee ke kaaran bhaee bilkul apane aap ko niyantran karake samajh jao use parihaar ho sakate hain basharte niyantran karane kee jarooree hota hai ki aap apane aap neendad ke gyaan ke oopar laik kar sahee karaane par bhee aadhyaatmikata kee gaharaee mein bolata hai jo apane sampradaay kee shaadee kee umr rangoon baat karata hai vah ped mein soochit karana hai nishchit hee apane aap ko sevar mod par karen maoo mein anushaasan sankalan kee pooree jaanch aavashyakata hotee hai kyonki man aur avachetan man se kyon itana hee aasaan hai par ho gaya use ham kaise karate hain aur vivek ke bina batae so jaate hain jo pakane log grup ke aacharan mein ya kisee bhee shailee ko sandesh thaakur ka bana liya hai to milane ko dil karata hai main aapako neend nikaal rahee ho jaegee tab to dhyaan se apane aap ko saport karata bhara mein sabase mahatvapoorn baandhane kee nijee kshetr ko nirdhaarit karake vishvaas sudheer bhaiya teem par garv hona chaahie ki andar karane ka shahar mumbee kis tarah vishvaas ka atoot sambandh ban jaana hai aur saakshaatkaar ke darshan miyaan apane aap ko daba diya sandesh karata hai to vahaan aapane phir kar lena hai aur jo laik karata hai vah madanalaal ke vishleshan praapt hua hai usaka daarshanik mein saphalata nishchit karata hai to us shakti ke sahaare mein aapane jo sochane ka nirbhar hota hai aur aisa praakrt gyaan kee utpatti ho jaatee hai ki vah mauka bhanjan kar sakata hai aur jyaadaatar to kuchh ka kaaran usane hamaaree nishtha kartavyanishtha gambheerata se sochane vaalon par jo apane karmon ke munh karata kaanti banavaasa mein pahunchana hai vah saaree sammelan hai usako jo bhee karatee rahatee hai aastha meree raanee bakaree ke maamale par kaam kar rahee hai aur dileep dasha mein sthit hota hai to jitane bhee prakaar kee dikkat hai sabase raeeson ke nirnay par nishchit ho gaya ko charan seema kee chaahie mein sthit ho jaata ho ek baar yaad kar bhaavanaon se prakshepan mein ghatit hota hai usase poochho kyon ho jaata hai raat ko hee vyast rahen kyonki ek mangae khel hota hai jisamen rakhata hai niranjan ka leta hai main use vairaagee shikshit se na kar paane mein saksham ahankaar kee gatividhiyon se paryaavaran ko praapt hota hai jo ki ek bhautik raashi ke antargat aata hai apana dil aur apana dhyaan se band karake apanee manamaanee karate hue nirmaan par til hota hai to aisee sthiti mein vah apane aap ko doosaree kaksha mein paataal sansaar kee prashansa nahin to

Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:47
आरा का प्रश्न है आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या आप अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है तो आपको बताना चाहेंगे जी नहीं यह थोड़ा समय से मॉडिफिकेशन करना चाहूंगा कि दोस्तों जवाब अपने आप को नियंत्रित करते हैं तो आप यहां पर अपने क्रोध पर काबू पा सकते हैं लेकिन जो आप की स्थितियां चल रही है जो परिस्थिति में आप हैं उन सब से मिलने के लिए किस सोच में फर्क आपको लेकर आना होगा आपको अपनी सोच सकारात्मक रखनी होगी और साथ ही साथ पहुंचते में छठ के साथ ही आपको अपने जीवन में आगे बढ़ना होगा संतुष्टि का भाव जो आपके जीवन में आ जाएगा तब आप अपने आप को सुखी महसूस कर पाएंगे आपके घर आए इस बारे में कम सेक्शन में अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ है धन्यवाद
Aara ka prashn hai aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya aap apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai to aapako bataana chaahenge jee nahin yah thoda samay se modiphikeshan karana chaahoonga ki doston javaab apane aap ko niyantrit karate hain to aap yahaan par apane krodh par kaaboo pa sakate hain lekin jo aap kee sthitiyaan chal rahee hai jo paristhiti mein aap hain un sab se milane ke lie kis soch mein phark aapako lekar aana hoga aapako apanee soch sakaaraatmak rakhanee hogee aur saath hee saath pahunchate mein chhath ke saath hee aapako apane jeevan mein aage badhana hoga santushti ka bhaav jo aapake jeevan mein aa jaega tab aap apane aap ko sukhee mahasoos kar paenge aapake ghar aae is baare mein kam sekshan mein apanee raay jarur vyakt karen main shubhakaamanaen aapake saath hai dhanyavaad

Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:59
साले कि आपके विचार से खुद को नियंत्रण करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है नशा तौर पर अगर आप कुछ नहीं धड़कते हैं तो आप अपने दुखों से छुटकारा पा सकते हैं क्या है इंसान अपने जीवन में दुखी क्यों होता है मां से अपनी सोच अपने नजरिए की वजह से आप एक्सपेक्ट करते हैं अपने परिजनों से कि वह आपकी उम्मीदों पर खरा उतरे आपके हिसाब से काम करें और जब ऐसा नहीं होता है तो आप अपने रिश्तो में दुखी होते हैं तो मैं ले लिया तो जॉब प्रोफाइल की बात करें तो जॉब में आज इतना मेहनत कर रहे हैं अगर आपको उस हिसाब से आपकी एक प्रश्न के हिसाब से क्रेडिट नहीं मिलता है प्रमोशन नहीं मिलता है या फिर आपके सारे इंक्रीमेंट नहीं होता है तो आप दुखी होते हैं वैसे के लिए अगर आप अपने पोस्ट में और कंपनी और नजरिए को बदलने की कोशिश करेंगे सकारात्मक करेंगे फोन लगाओ तो मैं चेंज लाएंगे इतनी सोचने का महीने के तरीके में निश्चित तौर पर आप अपने आप पर नियंत्रण नहीं रख पाएंगे खुद को शांत रह पाएंगे और दुखों से खुद को दूर कर पाएंगे आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Saale ki aapake vichaar se khud ko niyantran karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai nasha taur par agar aap kuchh nahin dhadakate hain to aap apane dukhon se chhutakaara pa sakate hain kya hai insaan apane jeevan mein dukhee kyon hota hai maan se apanee soch apane najarie kee vajah se aap eksapekt karate hain apane parijanon se ki vah aapakee ummeedon par khara utare aapake hisaab se kaam karen aur jab aisa nahin hota hai to aap apane rishto mein dukhee hote hain to main le liya to job prophail kee baat karen to job mein aaj itana mehanat kar rahe hain agar aapako us hisaab se aapakee ek prashn ke hisaab se kredit nahin milata hai pramoshan nahin milata hai ya phir aapake saare inkreement nahin hota hai to aap dukhee hote hain vaise ke lie agar aap apane post mein aur kampanee aur najarie ko badalane kee koshish karenge sakaaraatmak karenge phon lagao to main chenj laenge itanee sochane ka maheene ke tareeke mein nishchit taur par aap apane aap par niyantran nahin rakh paenge khud ko shaant rah paenge aur dukhon se khud ko door kar paenge aapaka din shubh rahe dhanyavaad

shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
0:59
हम तो आज आप का सवाल है कि आपके विचार से मन को नियंत्रित करके क्या दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है तो देते हैं हम तो खुश होते हैं और हमारे विचार हमारे दिमाग में पूरी तरह निर्भर करता है तो कंट्रोल करेंगे ऐसा सोचने के लिए सबसे अच्छा होने वाला है तो खुद को पॉजिटिव रखे हैं तो मर मिटेंगे भी अपडेट करेंगे अभी हम अपने दिमाग में अपनी सोच में बहुत कुछ नहीं तो चिल्लाते कोई खुशी नहीं है आप कोई हैप्पीनेस में है कुछ अच्छा नहीं होगा तो दिमाग हमारा मुझे लग कर रोता वही है ऐसा लगता है हर एक अच्छे से नहीं लगता है कुछ खराबी होने वाला यह खराब हो रखेंगे रखेंगे कंट्रोल करके रखेंगे सब अच्छा बना कर भेजो होने वाला है तू हर एक चीज होगा
Ham to aaj aap ka savaal hai ki aapake vichaar se man ko niyantrit karake kya dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai to dete hain ham to khush hote hain aur hamaare vichaar hamaare dimaag mein pooree tarah nirbhar karata hai to kantrol karenge aisa sochane ke lie sabase achchha hone vaala hai to khud ko pojitiv rakhe hain to mar mitenge bhee apadet karenge abhee ham apane dimaag mein apanee soch mein bahut kuchh nahin to chillaate koee khushee nahin hai aap koee haippeenes mein hai kuchh achchha nahin hoga to dimaag hamaara mujhe lag kar rota vahee hai aisa lagata hai har ek achchhe se nahin lagata hai kuchh kharaabee hone vaala yah kharaab ho rakhenge rakhenge kantrol karake rakhenge sab achchha bana kar bhejo hone vaala hai too har ek cheej hoga

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:49
आपके विचार से खुद को नियंत्रित कर रहे क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है जी हां दोस्तों नियंत्रण पहले जब तक आप अपने ऊपर नियंत्रण नहीं करेंगे अपनी वासना को ने तनिक अपने लालच को नहीं तब तक आप जैसे व्यक्ति का विचार है जवानी स्टार्ट होते वह सोचता है कि इंडिया प्राइम मिनिस्टर होता तो वह ऐसे काम करता उसके भीतर अपनी मेहनत करता है वह सफल इंसान बनता है वह मेरे साथ सबसे ज्यादा दुखी हो जाता है और उनसे छुटकारा पा लीजिए
Aapake vichaar se khud ko niyantrit kar rahe kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai jee haan doston niyantran pahale jab tak aap apane oopar niyantran nahin karenge apanee vaasana ko ne tanik apane laalach ko nahin tab tak aap jaise vyakti ka vichaar hai javaanee staart hote vah sochata hai ki indiya praim ministar hota to vah aise kaam karata usake bheetar apanee mehanat karata hai vah saphal insaan banata hai vah mere saath sabase jyaada dukhee ho jaata hai aur unase chhutakaara pa leejie

Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न है आपके विचार भी खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है तो फ्रेंड से बहुत अच्छा सवाल है और बहुत ही बढ़िया सवाल है कि हां हम अपने मन को अपने विचारों को नियंत्रित कर लेंगे तो हम बिल्कुल भी दुखों से छुटकारा पा सकते हैं क्योंकि जब अपने आप पर अपने विचारों को सुधरेंगे तो हम अच्छे कर्म करेंगे तो हमें अच्छे कर्म करेंगे तो हमें कोई भी दुख नहीं होगा इसलिए यह बात सच है कि अपने विचारों को नियंत्रित कर लेंगे तो उन दुखों से छुटकारा पा सकते हैं धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka prashn hai aapake vichaar bhee khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai to phrend se bahut achchha savaal hai aur bahut hee badhiya savaal hai ki haan ham apane man ko apane vichaaron ko niyantrit kar lenge to ham bilkul bhee dukhon se chhutakaara pa sakate hain kyonki jab apane aap par apane vichaaron ko sudharenge to ham achchhe karm karenge to hamen achchhe karm karenge to hamen koee bhee dukh nahin hoga isalie yah baat sach hai ki apane vichaaron ko niyantrit kar lenge to un dukhon se chhutakaara pa sakate hain dhanyavaad

India is Great Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए India जी का जवाब
Master Chef in House
0:40
कोई सब कुछ ही आपके सोच के ऊपर डिपेंड करता है अगर आप किसी चीज से लेकर परेशान हैं और उसके साथ साथ कोई और भी चीजें परेशानी वाली आ जाती है तो फिर ऐसे में तो बहुत ज्यादा मुश्किल हमारे साथ भी होता हो मेरी तो जिंदगी खराब है मेरी तो लाइफ झंड हो गई यह है वह है कभी जिंदगी में नहीं आगे क्या होगा सामने शादी है मतलब कुछ भी चीजें जो होगा भला होगा
Koee sab kuchh hee aapake soch ke oopar dipend karata hai agar aap kisee cheej se lekar pareshaan hain aur usake saath saath koee aur bhee cheejen pareshaanee vaalee aa jaatee hai to phir aise mein to bahut jyaada mushkil hamaare saath bhee hota ho meree to jindagee kharaab hai meree to laiph jhand ho gaee yah hai vah hai kabhee jindagee mein nahin aage kya hoga saamane shaadee hai matalab kuchh bhee cheejen jo hoga bhala hoga

Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
6:22
देखें जब हम ना दुख की बात करते हैं तो सर मैं उसको वहां पर दुख मत लीजिए अभी कौन सा कहीं बाहर है चीज है यह होती है कि हम उन चीजों को किस तरीके से देखते हैं वह बड़ा इंपॉर्टेंट हो जाता है तो जीवन में जो भी कुछ घटित हो रहा है वह बेसिकली अगर देखा जाए तो क्या है हम एक परिस्थिति से दूसरी परिस्थिति में जाते रहते हैं अभी ऐसी भी परिस्थिति कल को ऐसी होगी आज की परिस्थिति में आपको खुशी मिली पुख्ता सब कुछ बढ़िया था कल एक ऐसी परिस्थिति आगे जो बहुत चुनौती दी थी आपको चीजें ठीक-ठाक नहीं लग रही हैं वगैरा वगैरा तो ऐसे करके होता है जब आप इसको दुख बोल देते हैं जब आप इसको समस्या बोल देते हैं तो वह एक अच्छा लगता है वहीं पर अगर आपने सिर्फ बोर्ड को चेंज किया तो आपको थोड़ा ही सुकून मिलता है थोड़ा काम पर टेबल महसूस करो कि चलो ठीक है यह सिचुएशन है अब इस सिचुएशन में क्या करना है आप सलूशन की तरफ देखते हो आपको क्या चाहिए होता है आपको सलूशन चाहिए होते आपको दुख थोड़ी ना चाहिए होता है आपको समस्या छोड़ना चाहिए थी लेकिन फोकस समस्या और दुख पर चला जाता है हमें तो चाहिए सलूशन क्या है रास्ता क्या है इस परिस्थिति से निकलने का तो सबसे पहली बात तो यह कि हमें अपने नजरिए पर थोड़ा काम करना चाहिए वह देखना चाहिए कि हम चीजों को किस तरीके से देखते हैं बाकी आप के सवाल पर आपने कहा आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है देखिए जब तक जीवन है ना तब तक जीवन में संघर्ष मतलब होता है शराब धूप छांव दुख परेशानी दिक्कत हर तरीके के चाहे वह शारीरिक हो चाहे वह मानसिक को देखा जाए तो भी दो ब्रॉडली दो तरीके की दिक्कत होती हमारे जीवन में या तो शरीर से संबंधित या फिर अनुमान से होता क्या है कि जीवन में आएंगे अब किसी के जीवन में अधिकतर समय खुशहाली रहती है किसी के जीवन में अधिकतर समय किन हो इतना बढ़िया नहीं रहता यह सारा चलता है बाकी सारा ऊपर नीचे सब कुछ होता रहता है जब आप बोलते हैं कि आपके विचार से खुद को नियंत्रित कर ले तो क्या हम दुखों से छुटकारा पा सकते हैं तो जी देखिए आप अपने विचारों को नियंत्रित करके छुटकारा नहीं पा सकते हैं आपके विचार डेफिनेटली आपको हेल्प करते हैं एक सही दिशा में जाने के लिए किसी सिचुएशन पर अप्लाई चुनाव करने के लिए कि भाई मेरा डिसिशन जो है वह सही हो सटीक हो आप किस तरीके से चीजों को देखते हैं किस नजरिए से देखते हैं यह पॉइंट होता है आप कितना उस में भागीदार होते हैं पार्टिसिपेट करते हैं राकेश ने उन परिस्थितियों को मैनेज करते हैं यह सारी चीजें डेफिनेटली आपके विचार से आती है सोचते आती है समझ जाती है बुद्धि से आती है एक पीरियड से आती है आपकी पढ़ाई लिखाई से आती है जीवन के तजुर्बे से आती है हर सारी चीजों से आपके विचार बनते हैं कंधे से माहौल से आपके विचार बनते हैं उत्पन्न होते वगैरह हो गया था जब आपके विचार एक तरह के होते हैं तो आप एक दिशा में जाते हैं आप आपका चरित्र आपका व्यक्तित्व एक तरीके का बनता है चला जाता है और आप एक तरीके के इंसान बन जाते हैं जब आप बोलते हैं कि हम अपने विचारों को ठीक कर ले नियंत्रित कर ले आओ तो दुखों से छुटकारा ही नहीं दुखों से छुटकारा नहीं मिलेगा वह कम हो सकता है क्यों क्योंकि एक इंसान ऐसे ही बढ़ते चले जा रहे हैं सोचता नहीं है ध्यान नहीं देता तो हो सकता है उसके लाइफ में एक्सीडेंट ज्यादा हूं परिस्थितियां अनुकूल ना मिले लेकिन वहीं पर एक इंसान सोच समझकर कदम बढ़ाता है सही दिशा में बढ़ाता है सही तरीके से बात करता है तो वह एक अलग दिशा में जाता है तो यह कहां से होता है विचार से कर्म से स्वभाव से इन सारी चीजों से होता है तो जैसे निकली छुटकारा नहीं देते लेकिन वह काफी हद तक आपको सही अधिवेशन में देते हैं अच्छा तो क्या यह गारंटी है कि मेरे को दुख नहीं मिलेगा जैसा आप सोच रहे हैं जिन्हें सब कुछ सही करने के बाद भी आप देखेंगे अधिकतर लोग तो प्रयास कर देना चीजें ठीक ठाक है लेकिन फिर भी दुख मिलता है तकलीफ मिलती है क्यों सही नहीं है सब कुछ हमारे हिसाब से हो जाए तो जब आप अपने आप को अपने विचारों को नियंत्रित करके आगे चलते हैं तो भी आपको दुख तकलीफ परेशानी परिस्थितियां मिलेंगे जो अनुकूल नहीं होंगे लेकिन ऐसा करने पर आप ज्यादा सक्षम हो जाते हैं उन परिस्थितियों को सही तरीके से मैनेज करने के लिए और यही करने की जरूरत होती है तो डेफिनेटली आपका आंसर अगर देना होगा एक मैं तो हां बिल्कुल यह विचारों को डेफिनेटली मतलब जो हम सोचते हैं जैसा चिंतन करते हैं उस पर डेफिनिटी ध्यान देने की जरूरत है हमारा नजरिया कैसे हैं आप रोज कहती है लाइव फिलॉसफी कैसी सारी चीजें बहुत इंपॉर्टेंट है हम अपने आप को कैसे रखते हैं हमारे अंदर क्या चलता है हम अपने आप से क्या बातें करते रहते हैं किसी परिस्थिति में हम अपने आप को कैसे देखते हैं परिस्थिति को और इंसान को कैसे देखते हैं कैसे मैनेज करते हैं यह सारी चीजें बांटने यह सारी चीजें आती हैं कि आप सोचते कहते आप की आंतरिक व्यवस्था कैसी है और वही फिर निर्धारित करती है कि आपका अगला कदम क्या होगा और किस दिशा में होगा और फिर उसका रिजल्ट या कौन सीक्वेंस कैसा होगा तो यह आपको दुख हो से दूर नहीं करती है लेकिन उसको कम करने में मदद करती है साथ ही साथ यह आपको ताकत देती है कि आप परिस्थितियों को सही तरीके से झूठ सके उससे उन उन चुनौतियों का सामना कर सके आप को मजबूत बनाती हैं और आप उन परिस्थितियों से कायदे से तरीके से सही समय पर निकल सकते हैं या को प्रेरणा भी देती है तो ऐसा जरूर करना चाहिए प्रयास जरूर होना चाहिए यह देखने के लिए कि हम जैसा सोचते हैं कि ऐसा कर्म करते हैं
Dekhen jab ham na dukh kee baat karate hain to sar main usako vahaan par dukh mat leejie abhee kaun sa kaheen baahar hai cheej hai yah hotee hai ki ham un cheejon ko kis tareeke se dekhate hain vah bada importent ho jaata hai to jeevan mein jo bhee kuchh ghatit ho raha hai vah besikalee agar dekha jae to kya hai ham ek paristhiti se doosaree paristhiti mein jaate rahate hain abhee aisee bhee paristhiti kal ko aisee hogee aaj kee paristhiti mein aapako khushee milee pukhta sab kuchh badhiya tha kal ek aisee paristhiti aage jo bahut chunautee dee thee aapako cheejen theek-thaak nahin lag rahee hain vagaira vagaira to aise karake hota hai jab aap isako dukh bol dete hain jab aap isako samasya bol dete hain to vah ek achchha lagata hai vaheen par agar aapane sirph bord ko chenj kiya to aapako thoda hee sukoon milata hai thoda kaam par tebal mahasoos karo ki chalo theek hai yah sichueshan hai ab is sichueshan mein kya karana hai aap salooshan kee taraph dekhate ho aapako kya chaahie hota hai aapako salooshan chaahie hote aapako dukh thodee na chaahie hota hai aapako samasya chhodana chaahie thee lekin phokas samasya aur dukh par chala jaata hai hamen to chaahie salooshan kya hai raasta kya hai is paristhiti se nikalane ka to sabase pahalee baat to yah ki hamen apane najarie par thoda kaam karana chaahie vah dekhana chaahie ki ham cheejon ko kis tareeke se dekhate hain baakee aap ke savaal par aapane kaha aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai dekhie jab tak jeevan hai na tab tak jeevan mein sangharsh matalab hota hai sharaab dhoop chhaanv dukh pareshaanee dikkat har tareeke ke chaahe vah shaareerik ho chaahe vah maanasik ko dekha jae to bhee do brodalee do tareeke kee dikkat hotee hamaare jeevan mein ya to shareer se sambandhit ya phir anumaan se hota kya hai ki jeevan mein aaenge ab kisee ke jeevan mein adhikatar samay khushahaalee rahatee hai kisee ke jeevan mein adhikatar samay kin ho itana badhiya nahin rahata yah saara chalata hai baakee saara oopar neeche sab kuchh hota rahata hai jab aap bolate hain ki aapake vichaar se khud ko niyantrit kar le to kya ham dukhon se chhutakaara pa sakate hain to jee dekhie aap apane vichaaron ko niyantrit karake chhutakaara nahin pa sakate hain aapake vichaar dephinetalee aapako help karate hain ek sahee disha mein jaane ke lie kisee sichueshan par aplaee chunaav karane ke lie ki bhaee mera disishan jo hai vah sahee ho sateek ho aap kis tareeke se cheejon ko dekhate hain kis najarie se dekhate hain yah point hota hai aap kitana us mein bhaageedaar hote hain paartisipet karate hain raakesh ne un paristhitiyon ko mainej karate hain yah saaree cheejen dephinetalee aapake vichaar se aatee hai sochate aatee hai samajh jaatee hai buddhi se aatee hai ek peeriyad se aatee hai aapakee padhaee likhaee se aatee hai jeevan ke tajurbe se aatee hai har saaree cheejon se aapake vichaar banate hain kandhe se maahaul se aapake vichaar banate hain utpann hote vagairah ho gaya tha jab aapake vichaar ek tarah ke hote hain to aap ek disha mein jaate hain aap aapaka charitr aapaka vyaktitv ek tareeke ka banata hai chala jaata hai aur aap ek tareeke ke insaan ban jaate hain jab aap bolate hain ki ham apane vichaaron ko theek kar le niyantrit kar le aao to dukhon se chhutakaara hee nahin dukhon se chhutakaara nahin milega vah kam ho sakata hai kyon kyonki ek insaan aise hee badhate chale ja rahe hain sochata nahin hai dhyaan nahin deta to ho sakata hai usake laiph mein ekseedent jyaada hoon paristhitiyaan anukool na mile lekin vaheen par ek insaan soch samajhakar kadam badhaata hai sahee disha mein badhaata hai sahee tareeke se baat karata hai to vah ek alag disha mein jaata hai to yah kahaan se hota hai vichaar se karm se svabhaav se in saaree cheejon se hota hai to jaise nikalee chhutakaara nahin dete lekin vah kaaphee had tak aapako sahee adhiveshan mein dete hain achchha to kya yah gaarantee hai ki mere ko dukh nahin milega jaisa aap soch rahe hain jinhen sab kuchh sahee karane ke baad bhee aap dekhenge adhikatar log to prayaas kar dena cheejen theek thaak hai lekin phir bhee dukh milata hai takaleeph milatee hai kyon sahee nahin hai sab kuchh hamaare hisaab se ho jae to jab aap apane aap ko apane vichaaron ko niyantrit karake aage chalate hain to bhee aapako dukh takaleeph pareshaanee paristhitiyaan milenge jo anukool nahin honge lekin aisa karane par aap jyaada saksham ho jaate hain un paristhitiyon ko sahee tareeke se mainej karane ke lie aur yahee karane kee jaroorat hotee hai to dephinetalee aapaka aansar agar dena hoga ek main to haan bilkul yah vichaaron ko dephinetalee matalab jo ham sochate hain jaisa chintan karate hain us par dephinitee dhyaan dene kee jaroorat hai hamaara najariya kaise hain aap roj kahatee hai laiv philosaphee kaisee saaree cheejen bahut importent hai ham apane aap ko kaise rakhate hain hamaare andar kya chalata hai ham apane aap se kya baaten karate rahate hain kisee paristhiti mein ham apane aap ko kaise dekhate hain paristhiti ko aur insaan ko kaise dekhate hain kaise mainej karate hain yah saaree cheejen baantane yah saaree cheejen aatee hain ki aap sochate kahate aap kee aantarik vyavastha kaisee hai aur vahee phir nirdhaarit karatee hai ki aapaka agala kadam kya hoga aur kis disha mein hoga aur phir usaka rijalt ya kaun seekvens kaisa hoga to yah aapako dukh ho se door nahin karatee hai lekin usako kam karane mein madad karatee hai saath hee saath yah aapako taakat detee hai ki aap paristhitiyon ko sahee tareeke se jhooth sake usase un un chunautiyon ka saamana kar sake aap ko majaboot banaatee hain aur aap un paristhitiyon se kaayade se tareeke se sahee samay par nikal sakate hain ya ko prerana bhee detee hai to aisa jaroor karana chaahie prayaas jaroor hona chaahie yah dekhane ke lie ki ham jaisa sochate hain ki aisa karm karate hain

DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
1:41
आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है यह बात संभव है लेकिन जब इंसान किसी से प्रेम करते हैं किसी को अपना समझते हैं किसी के प्रति लगाव होता है किसी भी रिश्ते के नाते जब उन्हें शंकर तेज कार कौन सा फल मिलता है उनकी बातों का उल्लंघन होता है आंखों का अपमान होता है तो निश्चित रूप से बहुत दुख होता है और इतना दुख होता है कि लगता है संसार का सभी कुछ दिया जबकि इसमें कोई संदेह नहीं है सारा संसार उनका जीवन केवल भावनाओं को डिस्टर्ब रानी कर्म तो सभी करते हैं लेकिन जहां भावना ने इस दिन उन कर्मों का कोई मोल नहीं स्पष्ट है कि हल चम्मच भावनाओं को मिटाते भी खुद पर अपने आप पर नियंत्रण कर सकते हैं जिससे दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है लेकिन यह संभव नहीं हो पाता क्योंकि इस तरह इंसान के साथ नहीं छोड़ती है जैसे इंसान की भावनाओं का दामन कभी नहीं टूटता है जब भावनाओं का दामन टूट जाता है हर इंसान का फैक्ट्री टो रेस्ट सिर्फ एक सूखा बंदर बन जाता है
Aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai yah baat sambhav hai lekin jab insaan kisee se prem karate hain kisee ko apana samajhate hain kisee ke prati lagaav hota hai kisee bhee rishte ke naate jab unhen shankar tej kaar kaun sa phal milata hai unakee baaton ka ullanghan hota hai aankhon ka apamaan hota hai to nishchit roop se bahut dukh hota hai aur itana dukh hota hai ki lagata hai sansaar ka sabhee kuchh diya jabaki isamen koee sandeh nahin hai saara sansaar unaka jeevan keval bhaavanaon ko distarb raanee karm to sabhee karate hain lekin jahaan bhaavana ne is din un karmon ka koee mol nahin spasht hai ki hal chammach bhaavanaon ko mitaate bhee khud par apane aap par niyantran kar sakate hain jisase dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai lekin yah sambhav nahin ho paata kyonki is tarah insaan ke saath nahin chhodatee hai jaise insaan kee bhaavanaon ka daaman kabhee nahin tootata hai jab bhaavanaon ka daaman toot jaata hai har insaan ka phaiktree to rest sirph ek sookha bandar ban jaata hai

shekhar vishwakarma Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shekhar जी का जवाब
Academic Content developer at ConnectEd
2:56
यह जितने भी सवाल पूछा है एक बेहतरीन सवाल है और एक दार्शनिक सवाल को बताने के लिए भी दार्शनिक दृष्टिकोण अपनाना होगा और इसमें इसको सुनने वालों को भेज दो कि उसकी कोई अपना ना हो आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सके सवाल है मेरे हिसाब से दूर और सुख केवल फीलिंग है एक एहसास मनजीत एग्जांपल के लिए हम बताते हैं अगर आप को एग्जाम देते हैं और जब आप एग्जाम देते हैं तो एग्जाम में आप पास होते हैं तो आपको आनंद लगता है कि नहीं पास हो गया बहुत अच्छा बहुत अच्छा ठीक है वहीं पर आपसे जो इच्छा रखता है तो वह आपको देखकर आपके पास होने को देखकर वह दुखी हो जाता है आपके साथ होता है जब आप किसी से ईर्ष्या रखते हैं और वह पास हो जाता है उसको तो भाई आनंद होता है उसको खुशी होती है आपको दुख हो जाता है तो यह होता क्यों है ऐसा की वजह से होते हैं और इससे को तुम कंट्रोल कर सकते हैं ना इसी तरीके से और विचार सारी चीजें होती है मालिक की वजह से होता है क्रोध की वजह से होता है कई बार अत्यंत प्रेम की वजह से होता है मान लीजिए हम किसी से प्रेम करते हैं और उसने हमें धोखा दे दिया मतलब नहीं है कि इसको कंट्रोल न किया जा सके सके जो हमें धोखा दे रहा होता है उसको ऐसा लगता ही नहीं है कि हमें धोखा दे रहा है कि कि उसकी नजर में तो वह सही है इसी तरीके से सुख दुख का कांसेप्ट भी ऐसा ही है कि उसमें भी हम अपने हिसाब से चीज है डिसाइड करते हैं समझ रहे हैं आप अगर आप पालते हैं तो आपको दुख होता अगर कोई जीता है तो उसे खुशी होती है अगर कोई दूसरा होता है तो उसको दुख होता यह चीज हम नियंत्रित कर सकते हैं मान लीजिए हाल हाल तो भाई एक सिंपल दे दो लोग खेल रहे हो गई होगी आप एग्जाम दे रहे हैं आप या तो क्वालिफाई होंगे या तो फेल होंगे जब यह चीज आपको पता है तो इतना उसमें ड्रामा क्यों करना है कि नहीं भाई दोस्तों कैसे हो सकती है कि वे कंट्रोल मेरे हिसाब से बाकी आप लोग भी अपना कमेंट में अपनी राय दें
Yah jitane bhee savaal poochha hai ek behatareen savaal hai aur ek daarshanik savaal ko bataane ke lie bhee daarshanik drshtikon apanaana hoga aur isamen isako sunane vaalon ko bhej do ki usakee koee apana na ho aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sake savaal hai mere hisaab se door aur sukh keval pheeling hai ek ehasaas manajeet egjaampal ke lie ham bataate hain agar aap ko egjaam dete hain aur jab aap egjaam dete hain to egjaam mein aap paas hote hain to aapako aanand lagata hai ki nahin paas ho gaya bahut achchha bahut achchha theek hai vaheen par aapase jo ichchha rakhata hai to vah aapako dekhakar aapake paas hone ko dekhakar vah dukhee ho jaata hai aapake saath hota hai jab aap kisee se eershya rakhate hain aur vah paas ho jaata hai usako to bhaee aanand hota hai usako khushee hotee hai aapako dukh ho jaata hai to yah hota kyon hai aisa kee vajah se hote hain aur isase ko tum kantrol kar sakate hain na isee tareeke se aur vichaar saaree cheejen hotee hai maalik kee vajah se hota hai krodh kee vajah se hota hai kaee baar atyant prem kee vajah se hota hai maan leejie ham kisee se prem karate hain aur usane hamen dhokha de diya matalab nahin hai ki isako kantrol na kiya ja sake sake jo hamen dhokha de raha hota hai usako aisa lagata hee nahin hai ki hamen dhokha de raha hai ki ki usakee najar mein to vah sahee hai isee tareeke se sukh dukh ka kaansept bhee aisa hee hai ki usamen bhee ham apane hisaab se cheej hai disaid karate hain samajh rahe hain aap agar aap paalate hain to aapako dukh hota agar koee jeeta hai to use khushee hotee hai agar koee doosara hota hai to usako dukh hota yah cheej ham niyantrit kar sakate hain maan leejie haal haal to bhaee ek simpal de do log khel rahe ho gaee hogee aap egjaam de rahe hain aap ya to kvaaliphaee honge ya to phel honge jab yah cheej aapako pata hai to itana usamen draama kyon karana hai ki nahin bhaee doston kaise ho sakatee hai ki ve kantrol mere hisaab se baakee aap log bhee apana kament mein apanee raay den

Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:39
कृष्ण है किक खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है बिल्कुल पाया जा सकता है दुख सिर्फ मन की स्थिति है और जब हमारा मन हमारा मस्तिष्क चेतन मस्तिष्क जब सोचता है वैसा ही घटित होता है इसलिए सबकॉन्शियस माइंड अवचेतन मस्तिष्क में सकारात्मकता भरी खुशियां भरी है तो दुख दूर हो जाएंगे खुद के शरीर का नियंत्रण हो जाएगा और दुख जो मानसिक अवस्था है वह सुख में तब्दील हो जाए तो बिल्कुल बिल्कुल बदला जा सकता है खुद को नियंत्रित दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है
Krshn hai kik khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai bilkul paaya ja sakata hai dukh sirph man kee sthiti hai aur jab hamaara man hamaara mastishk chetan mastishk jab sochata hai vaisa hee ghatit hota hai isalie sabakonshiyas maind avachetan mastishk mein sakaaraatmakata bharee khushiyaan bharee hai to dukh door ho jaenge khud ke shareer ka niyantran ho jaega aur dukh jo maanasik avastha hai vah sukh mein tabdeel ho jae to bilkul bilkul badala ja sakata hai khud ko niyantrit dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai

Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
4:47
सवाल है अपने विचार से खुद को नियंत्रित करके अपने दुख से छुटकारा पाया जा सकता है अपने विचारों को आप कंट्रोल नहीं कर सकते थे अगर कर सकते तो यूं ही आप परेशान होते हम अपने नेगेटिव विचारों को आप पॉजिटिव विचारों में चेंज जरूर कर सकते हैं ऑटोमेशन कि तुम अगर आप पॉजिटिव एफर्मेशंस मॉर्निंग में और सोते समय बोलेंगे तो इससे क्या होगा कि आपका जो सबकॉन्शियस माइंड बहुत सारी चारों दिशाओं की नीति चीजों को पकड़ कर रखा हुआ है क्योंकि वह तो रिकॉर्डिंग मोड में हमेशा रहता है और आप हमेशा कुछ ना कुछ गलत देखते हैं नहीं बोलती है पापा सबकॉन्शियस माइंड सिर्फ 90 चीजों को ही पकड़ता है अगर आप पॉजिटिव बोलेंगे देखेंगे सुनेंगे तो आप वैसा ही बनेंगे सभी विचारों को साझा करना चाहते हैं तो आप परमिशन बोलिए अपने ज्ञान इंद्रियों को कंट्रोल करें जी हां यह आपके हाथ में है कि आप अपने ज्ञान इंद्रियों को कंट्रोल कर सकते हैं ठीक है आप मतलब सुनना भूलना देखना इसे आप कंट्रोल कर सकते हैं तो अगर आप यह सारी चीजें कंट्रोल कर सकते हैं तो आप देखेंगे कि आप से पॉजिटिव भी देख रहे हैं अगर आपको न्यूज़ भी देखना है न्यूज़ में क्या जरूरी चीज है वह देखा उसके बाद आपने ने उसे बंद किया ठीक है अब आपसे पॉजिटिव चीजें सही दिख रहे हैं बोल रहे हैं अगर आप इसे 21 दिन करें तो आप कामयाब होंगे उनकी बात आप इसे हमेशा करते रहेंगे लेकिन आपकी अंदर जो भी दुख है वह सारा दुख खत्म होना आप सिर्फ पॉजिटिव हो रहा है अगर आप कुछ बोल रहे हैं जैसे कि मैं बातें कर रही हूं बुद्धिस्म वॉइस बजरी एक बार जाकर उसे मना करूंगी कि इतना ज्यादा आवाज ना करें इतना ज्यादा शेयर ना करें उसके बाद वह नहीं मुझे मर जाऊंगा उसे करुंगी थोड़ी देर के लिए बंद करें फिर भी वह नहीं माना तो मैं वहां अपनी एनर्जी बेचने करना वहां मैं अपनी पॉजिटिव थिंकिंग कैसे लाऊंगी आज का यह मेरा बैकग्राउंड म्यूजिक है ऐसे ना ठीक है इस तरीके से अपने विचारों को आप ही से पॉजिटिव तरीके से ले जा सकते हैं अपने आप को पॉजिटिव रख सकते हैं और अपने अंदर जो भी दुख अगर ऐसा होता तो मैं बहुत गुस्सा करती परेशान होती अपनी गति किसमें क्या होता हूं तो मेरा दुख होता है एक प्रकार से तो मैंने क्या किया यह आज मेरा बैकग्राउंड म्यूजिक है ऐसा कह दिया मैंने कोई दुख नहीं है मुझे उल्टा खुशी हो गई आपने ज्ञान इंद्रियों को कंट्रोल में करना सीखें उसके बाद अपने मिशन को आप मॉर्निंग में सोते समय बोलना सीखे पॉजिटिव एफर्मेशंस जो कि आपको यूट्यूब में मिल जाए उसके बाद धीरे-धीरे देखिएगा कि आपके अंदर जो भी परेशानी जीता है धीरे-धीरे शांत हो जाएगी उसके बाद आप हर चीज में पॉजिटिव सोचना शुरु करेंगे और कुछ काम भी करना है जैसे कि बोलना है हो सकता है डॉगी लो आपके आस पड़ोस में रहती हूं वह मुकरे हम वहां ज्यादा भोकने आपको तो यह समझ में आ गया है ना कि हम लोग एक एनर्जी है बॉडी हम लोग की अलग-अलग हैं आप अपनी सोल से जाकर उस टॉपिक से कनेक्ट हो जितना भूख रहे हैं आप प्यार से अपने अंदर कहेंगे किस्मत होगी सब ठीक है सब अच्छा है शांत हो जाइए प्लीज शांत हो जाइए और आप देखिएगा कि आपकी वाइब्रेशन का एक पगली पर पड़ा और वह कुछ ही सेकंड में वह शांत हो गया यह मेरा खुद का एग्जांपल है इसलिए मैं बता रही हूं ठीक है तो मैं जब भी कुछ भी रिकॉर्डिंग करती हूं अगर डॉगी लोग ऐसे ही आवाज करते हैं तो मैं कुछ ऐसा ही परमिशन ली दीदी फोन से कनेक्ट होती है और वह जो 3 सेकंड में शांत हो जाते हैं यह मेरा पर्सनल हमसे इतने अच्छे से बता रही हूं ठीक है यही सारी चीजें हैं जो आप करेंगे बस यह है कि आपको अपनी ज्ञान इंद्रियों को कंट्रोल में करना है जैसे ही ज्ञानेंद्रियां कंट्रोल में आएंगी वैसे आपकी विचार पॉजिटिव होते जाएंगे ठीक है धन्यवाद
Savaal hai apane vichaar se khud ko niyantrit karake apane dukh se chhutakaara paaya ja sakata hai apane vichaaron ko aap kantrol nahin kar sakate the agar kar sakate to yoon hee aap pareshaan hote ham apane negetiv vichaaron ko aap pojitiv vichaaron mein chenj jaroor kar sakate hain otomeshan ki tum agar aap pojitiv epharmeshans morning mein aur sote samay bolenge to isase kya hoga ki aapaka jo sabakonshiyas maind bahut saaree chaaron dishaon kee neeti cheejon ko pakad kar rakha hua hai kyonki vah to rikording mod mein hamesha rahata hai aur aap hamesha kuchh na kuchh galat dekhate hain nahin bolatee hai paapa sabakonshiyas maind sirph 90 cheejon ko hee pakadata hai agar aap pojitiv bolenge dekhenge sunenge to aap vaisa hee banenge sabhee vichaaron ko saajha karana chaahate hain to aap paramishan bolie apane gyaan indriyon ko kantrol karen jee haan yah aapake haath mein hai ki aap apane gyaan indriyon ko kantrol kar sakate hain theek hai aap matalab sunana bhoolana dekhana ise aap kantrol kar sakate hain to agar aap yah saaree cheejen kantrol kar sakate hain to aap dekhenge ki aap se pojitiv bhee dekh rahe hain agar aapako nyooz bhee dekhana hai nyooz mein kya jarooree cheej hai vah dekha usake baad aapane ne use band kiya theek hai ab aapase pojitiv cheejen sahee dikh rahe hain bol rahe hain agar aap ise 21 din karen to aap kaamayaab honge unakee baat aap ise hamesha karate rahenge lekin aapakee andar jo bhee dukh hai vah saara dukh khatm hona aap sirph pojitiv ho raha hai agar aap kuchh bol rahe hain jaise ki main baaten kar rahee hoon buddhism vois bajaree ek baar jaakar use mana karoongee ki itana jyaada aavaaj na karen itana jyaada sheyar na karen usake baad vah nahin mujhe mar jaoonga use karungee thodee der ke lie band karen phir bhee vah nahin maana to main vahaan apanee enarjee bechane karana vahaan main apanee pojitiv thinking kaise laoongee aaj ka yah mera baikagraund myoojik hai aise na theek hai is tareeke se apane vichaaron ko aap hee se pojitiv tareeke se le ja sakate hain apane aap ko pojitiv rakh sakate hain aur apane andar jo bhee dukh agar aisa hota to main bahut gussa karatee pareshaan hotee apanee gati kisamen kya hota hoon to mera dukh hota hai ek prakaar se to mainne kya kiya yah aaj mera baikagraund myoojik hai aisa kah diya mainne koee dukh nahin hai mujhe ulta khushee ho gaee aapane gyaan indriyon ko kantrol mein karana seekhen usake baad apane mishan ko aap morning mein sote samay bolana seekhe pojitiv epharmeshans jo ki aapako yootyoob mein mil jae usake baad dheere-dheere dekhiega ki aapake andar jo bhee pareshaanee jeeta hai dheere-dheere shaant ho jaegee usake baad aap har cheej mein pojitiv sochana shuru karenge aur kuchh kaam bhee karana hai jaise ki bolana hai ho sakata hai dogee lo aapake aas pados mein rahatee hoon vah mukare ham vahaan jyaada bhokane aapako to yah samajh mein aa gaya hai na ki ham log ek enarjee hai bodee ham log kee alag-alag hain aap apanee sol se jaakar us topik se kanekt ho jitana bhookh rahe hain aap pyaar se apane andar kahenge kismat hogee sab theek hai sab achchha hai shaant ho jaie pleej shaant ho jaie aur aap dekhiega ki aapakee vaibreshan ka ek pagalee par pada aur vah kuchh hee sekand mein vah shaant ho gaya yah mera khud ka egjaampal hai isalie main bata rahee hoon theek hai to main jab bhee kuchh bhee rikording karatee hoon agar dogee log aise hee aavaaj karate hain to main kuchh aisa hee paramishan lee deedee phon se kanekt hotee hai aur vah jo 3 sekand mein shaant ho jaate hain yah mera parsanal hamase itane achchhe se bata rahee hoon theek hai yahee saaree cheejen hain jo aap karenge bas yah hai ki aapako apanee gyaan indriyon ko kantrol mein karana hai jaise hee gyaanendriyaan kantrol mein aaengee vaise aapakee vichaar pojitiv hote jaenge theek hai dhanyavaad

Dr.Nitin Pawar, D.M S.(Management) Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Dr.Nitin जी का जवाब
Kisan,Journalist,Marathi Writer, Social Worker,Political Leader.
7:00
आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है जाया जा सकता है हमारा जो शरीर है जैसे कोई किसी कारखाने में एक प्रोडक्ट पूरा बनकर मशीन से बाहर निकलता है उसी तरह से माता के शरीर से हम इंसान एक पूरा एक प्रोडक्ट की तरह निकलते निकलता है उसमें सारे आवश्यक तत्व शामिल होते मतलब यह है कि ऐसा एक मेकैनिज्म हमारे मन का भी होता है उसे जी का होता है कि वह आने वाली प्रसिद्ध को फेस करने के लिए तैयार हो जाता है प्रयास करता है हर चीज में प्रयास करता है अपने आप में ही है उसको ने सभी ग्रुप से मिला मिला हुआ एक डिफेंस सिस्टम है तो वह काम करता है जब दुख आते हैं तब दुख आते हैं तब महासभा के मन में मन का इसके से छुटकारा पाने के लिए प्रयास खूब तेज गति से होता है मन होता है इसमें बहुत सारा एक्सट्रैवलमनी चलता है यह तर्क वितर्क मन में चलता है चर्चा मन में चलती है कि आया हुआ यह दुख तो संकट है जो पुरुष दिया है इसके संबंध में क्या किया जाए और हर व्यक्ति के मन में निश्चित रूप से और कुछ लोगों का ही है जो मैकेनिज्म है डूब जाता है तो वो सिहर जाता हो जाता है उसे महसूस करते हैं और मनोरोग जो होते हैं उसमें ढकेल दिया जाता है या से ग्रसित होता लेकिन उससे पहले वह सारा उसका शरीर और मन उसके प्रयास करता है कि अपने दुख आए हुए उसे उनके उसे कैसे मार के निकाल गरीबों की बस्तियों में नौकरियों में उत्सव मनाया दिखाई देते हैं उनके खेलते हैं अच्छा खाना भी दिखाते हैं कपड़े में पहले साल में एक बार हो या दो बार ऐसा भी दिखाई देता है ज्यादा गरीबों में है तुम की अपनी एक खुशी की दुनिया होती है उस उम्र में वह उसमें वह दुखी रहती है कुछ चीजों के अनुभव के बाद करने के बाद मिलने के बाद तो अपने मन के कारण क्षमता भी मिली है जिसकी महत्वपूर्ण चीज है हमें एक अलग चीज मिली है तो बुद्धिमत्ता से इंसान किसी भी चीज पर नियंत्रण कर सकता है उस पर विजय पा सकता है बुद्धिमत्ता है वही दुनिया पर राज करती है दुनिया को बदला है इस दुनिया को नया आयाम दिए हैं जिन्हें की दुनिया मीना की खोज की है दुनिया में इंसान के कई प्रश्नों को प्रश्नों के जवाब दिए हैं उनका तंत्र विकसित किया है विज्ञान विकसित किया है धर्म आध्यात्म सभी जुड़े इस बुद्धि माता ने विकसित की गई है और मनुष्य के लिए ज्यादा से ज्यादा जीवन लाने का प्रयास एचडी माता के द्वारा होता है तो मुझे बता भी काम करते हैं और उसके बाद अपना शरीर और मन प्रयास करता है दुखों से छुटकारा पाने के सारे प्रयास मनोज दिल करता है और इंस्पिरेशन एक चीज होती है कुछ लोगों में जल्दी मिल जाता है कुछ लोगों ने लेट हो जाता अगर कोई एक्सपायर हो गया किसी के विचारों से या किसी पुरुष जैसे दुखों से छुटकारा पाने में से शुरू हो जाता है धन्यवाद
Aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai jaaya ja sakata hai hamaara jo shareer hai jaise koee kisee kaarakhaane mein ek prodakt poora banakar masheen se baahar nikalata hai usee tarah se maata ke shareer se ham insaan ek poora ek prodakt kee tarah nikalate nikalata hai usamen saare aavashyak tatv shaamil hote matalab yah hai ki aisa ek mekainijm hamaare man ka bhee hota hai use jee ka hota hai ki vah aane vaalee prasiddh ko phes karane ke lie taiyaar ho jaata hai prayaas karata hai har cheej mein prayaas karata hai apane aap mein hee hai usako ne sabhee grup se mila mila hua ek diphens sistam hai to vah kaam karata hai jab dukh aate hain tab dukh aate hain tab mahaasabha ke man mein man ka isake se chhutakaara paane ke lie prayaas khoob tej gati se hota hai man hota hai isamen bahut saara eksatraivalamanee chalata hai yah tark vitark man mein chalata hai charcha man mein chalatee hai ki aaya hua yah dukh to sankat hai jo purush diya hai isake sambandh mein kya kiya jae aur har vyakti ke man mein nishchit roop se aur kuchh logon ka hee hai jo maikenijm hai doob jaata hai to vo sihar jaata ho jaata hai use mahasoos karate hain aur manorog jo hote hain usamen dhakel diya jaata hai ya se grasit hota lekin usase pahale vah saara usaka shareer aur man usake prayaas karata hai ki apane dukh aae hue use unake use kaise maar ke nikaal gareebon kee bastiyon mein naukariyon mein utsav manaaya dikhaee dete hain unake khelate hain achchha khaana bhee dikhaate hain kapade mein pahale saal mein ek baar ho ya do baar aisa bhee dikhaee deta hai jyaada gareebon mein hai tum kee apanee ek khushee kee duniya hotee hai us umr mein vah usamen vah dukhee rahatee hai kuchh cheejon ke anubhav ke baad karane ke baad milane ke baad to apane man ke kaaran kshamata bhee milee hai jisakee mahatvapoorn cheej hai hamen ek alag cheej milee hai to buddhimatta se insaan kisee bhee cheej par niyantran kar sakata hai us par vijay pa sakata hai buddhimatta hai vahee duniya par raaj karatee hai duniya ko badala hai is duniya ko naya aayaam die hain jinhen kee duniya meena kee khoj kee hai duniya mein insaan ke kaee prashnon ko prashnon ke javaab die hain unaka tantr vikasit kiya hai vigyaan vikasit kiya hai dharm aadhyaatm sabhee jude is buddhi maata ne vikasit kee gaee hai aur manushy ke lie jyaada se jyaada jeevan laane ka prayaas echadee maata ke dvaara hota hai to mujhe bata bhee kaam karate hain aur usake baad apana shareer aur man prayaas karata hai dukhon se chhutakaara paane ke saare prayaas manoj dil karata hai aur inspireshan ek cheej hotee hai kuchh logon mein jaldee mil jaata hai kuchh logon ne let ho jaata agar koee eksapaayar ho gaya kisee ke vichaaron se ya kisee purush jaise dukhon se chhutakaara paane mein se shuroo ho jaata hai dhanyavaad

NEHAA P MISHRA  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए NEHAA जी का जवाब
Teacher, Soul Healer
4:49
आपका क्वेश्चन बहुत ही ज्यादा इंप्रेसिव है इंपॉर्टेंट है कंपलसरी है आपने क्वेश्चन पूछा है आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है हंड्रेड परसेंट पाया जा सकता है जब अपने विचार जो दूसरे के प्रति अपने अपने विचार बताए हैं उनको आप अपने हिसाब से सब अच्छे लगोगे जैसे सब पोस्ट कोई इंसान को साथ लिए बार-बार है आपका बेबी हस्बैंड वाइफ है या कोई और है जिस से बहुत ज्यादा गुस्सा आता है वह हर बात में रिलेटिविटी डूबता है कभी याद करता है कि वह तो आपको दुख होगा हंड्रेड परसेंट आधा इंसान है हम किसी के लिए अच्छा करें और उसका को थोड़ा बहुत एप्लीकेशन पीते ही दे रहा है तो फिर दुख तो होगा ही लेकिन जब आप ही चीज समझ लेते हो अपने विचारों को कंट्रोल कर लेते हो कि यह चार्ट यह भी थी ऐसी है इसको तो ही आता है पर सेट कर दो ओके या इसकी तीखी ही ऐसी बनी हुई है कि यह है बे नेगेटिव एस्पेक्ट्स से ही देखेगा तू उससे बात कर लेना तो हंड्रेड परसेंट आप उस व्यक्ति के प्रति उदार हो जाओगे आपको उससे गुस्सा नहीं आएगा उसकी हरकतों पर आपको दया सकती है पर क्रोध जाएगा और जब शादी होगा तो आप अपने ऑटोमेटेकली आपको दुखी थी होगा ना आपको फर्क नहीं पड़ेगा आपको जब समझ में आ गया है कि इरशाद की यही है बट है तो आप फिर उससे फर्क नहीं होगी जब आप इफेक्ट नहीं होगे तो आप का तो दुख आपको पास में आएगा ही नहीं क्योंकि आप दुखी हो जाओगे क्योंकि आप लोगों को अंडरस्टैंड करना सीख लिया है बहुत ज्यादा सर्दी हो गई है तो मेरी वॉइस मिथुन आपको चेंज काफी ज्यादा चाहती है मुझे तू मैं बस आपको यही बता रही थी यह चीज में कोई भी सवाल का जवाब तभी देती हूं जब उसको मैंने समझा हो या उसको अपनी लाइफ में उतारा हो या यूज किया हो तो ऐसे बहुत सारे लोग होते हैं जिन्हें हम से बुरा बोलना रहता है उसे बहुत सारे लोग होते हैं तो हमें अपने विचारों पर देर तक जगता है फिर अब यह तो वह बात हो गई अब दूसरी बात आपकी आपकी कोई अच्छा है अपनी इच्छाओं को लिमिटेड कर लीजिए अपने विचारों को दूसरे के प्रति जो विचार बताए हैं उन्हें चेक कर लीजिए समझने की कोशिश कीजिए लोगों को भी और अपने आप को भी तो आपको दुख नहीं होगा यह चीज शायद अभी आपको समझ ना आए लेकिन धीरे-धीरे जवाब इसको अपनी लाइफ में यूज करना शुरू करेंगे तो आपको लगेगा कि आपने बहुत बड़ा मंत्र बता दिया हमें कि हम दुखों से छुटकारा कैसे पा सकते हैं फैक्ट है सो जाता है कि काफी प्रेक्टिस के बाद एक बार ऐसा होता है कि हम दुखी हो जाते हैं सो के हम इंसान ऐसा हो सकता है लेकिन हमेशा दुखी नहीं होना चाहिए की कोशिश करना चाहिए और एक चीज बता दो मेट्रोलॉजी सीख रही हूं तो उसमें मुझे भी पता लगा कि साथ जितना ज्यादा रोता है उतना वह अपने राहुल को शौक करता है राहुल सॉन्ग होगा तो नेगेटिव दिलाएगा कि आप जीवन में तू रोने की आदत को कम से कम कीजिए मत रोइए यह उन लोगों के लिए जो बात बात पर रो देते हैं उसी की खुशी के आंसू अलग बात होती है बहुत ज्यादा फ्रस्ट्रेटेड हो गए दुखी हो गए हो तो रोना अलग बात होती है लेकिन हमेशा रोते रहना अच्छी बात नहीं है तो अब यह जब आपने रोने को कंट्रोल किया कि आपने अपने विचार को कंट्रोल किया लेकिन इस चीज को भी आपने पॉजिटिव एस्पेक्ट्स से देखा तो आप यह चीज समझ पाए कि इससे हमें ज्यादा फर्क नहीं पड़ने वाला सबसे ज्यादा दुख में साथ में रहता है कि मैं बारे में क्या सोच रहा है अब से इस तरह बात क्यों करना तो जब आप उस इंसान को उसके हाल पर छोड़ दोगे अपने विचारों को उसके प्रति पॉजिटिव रखोगे कि ठीक है उसकी तो आदत है तो देखता आफ एक्सपीरियंस कीजिएगा मैं दावे से कहती हूं कि आपके सारे दुख खत्म हो जाएंगे और आप हर काम दिया तक एम ऑफिस में बैठा भी बना लेना कि कोई खडूस है तो भाई वह उसकी हैबिट तो आपको फिर उससे फर्क नहीं पड़ेगा ठीक है एंड और जो षड्यंत्र और बहुत सारी चीजें होती है तो वह आप अपने हिसाब से तब भी उसको लाइटली ले सकते हो मैसेज कर सकते हो क्या आप सच्चे हो तो ईश्वर आपके साथ है और वहां से इसके लिए थैंक यू
Aapaka kveshchan bahut hee jyaada impresiv hai importent hai kampalasaree hai aapane kveshchan poochha hai aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai handred parasent paaya ja sakata hai jab apane vichaar jo doosare ke prati apane apane vichaar batae hain unako aap apane hisaab se sab achchhe lagoge jaise sab post koee insaan ko saath lie baar-baar hai aapaka bebee hasbaind vaiph hai ya koee aur hai jis se bahut jyaada gussa aata hai vah har baat mein riletivitee doobata hai kabhee yaad karata hai ki vah to aapako dukh hoga handred parasent aadha insaan hai ham kisee ke lie achchha karen aur usaka ko thoda bahut epleekeshan peete hee de raha hai to phir dukh to hoga hee lekin jab aap hee cheej samajh lete ho apane vichaaron ko kantrol kar lete ho ki yah chaart yah bhee thee aisee hai isako to hee aata hai par set kar do oke ya isakee teekhee hee aisee banee huee hai ki yah hai be negetiv espekts se hee dekhega too usase baat kar lena to handred parasent aap us vyakti ke prati udaar ho jaoge aapako usase gussa nahin aaega usakee harakaton par aapako daya sakatee hai par krodh jaega aur jab shaadee hoga to aap apane otometekalee aapako dukhee thee hoga na aapako phark nahin padega aapako jab samajh mein aa gaya hai ki irashaad kee yahee hai bat hai to aap phir usase phark nahin hogee jab aap iphekt nahin hoge to aap ka to dukh aapako paas mein aaega hee nahin kyonki aap dukhee ho jaoge kyonki aap logon ko andarastaind karana seekh liya hai bahut jyaada sardee ho gaee hai to meree vois mithun aapako chenj kaaphee jyaada chaahatee hai mujhe too main bas aapako yahee bata rahee thee yah cheej mein koee bhee savaal ka javaab tabhee detee hoon jab usako mainne samajha ho ya usako apanee laiph mein utaara ho ya yooj kiya ho to aise bahut saare log hote hain jinhen ham se bura bolana rahata hai use bahut saare log hote hain to hamen apane vichaaron par der tak jagata hai phir ab yah to vah baat ho gaee ab doosaree baat aapakee aapakee koee achchha hai apanee ichchhaon ko limited kar leejie apane vichaaron ko doosare ke prati jo vichaar batae hain unhen chek kar leejie samajhane kee koshish keejie logon ko bhee aur apane aap ko bhee to aapako dukh nahin hoga yah cheej shaayad abhee aapako samajh na aae lekin dheere-dheere javaab isako apanee laiph mein yooj karana shuroo karenge to aapako lagega ki aapane bahut bada mantr bata diya hamen ki ham dukhon se chhutakaara kaise pa sakate hain phaikt hai so jaata hai ki kaaphee prektis ke baad ek baar aisa hota hai ki ham dukhee ho jaate hain so ke ham insaan aisa ho sakata hai lekin hamesha dukhee nahin hona chaahie kee koshish karana chaahie aur ek cheej bata do metrolojee seekh rahee hoon to usamen mujhe bhee pata laga ki saath jitana jyaada rota hai utana vah apane raahul ko shauk karata hai raahul song hoga to negetiv dilaega ki aap jeevan mein too rone kee aadat ko kam se kam keejie mat roie yah un logon ke lie jo baat baat par ro dete hain usee kee khushee ke aansoo alag baat hotee hai bahut jyaada phrastreted ho gae dukhee ho gae ho to rona alag baat hotee hai lekin hamesha rote rahana achchhee baat nahin hai to ab yah jab aapane rone ko kantrol kiya ki aapane apane vichaar ko kantrol kiya lekin is cheej ko bhee aapane pojitiv espekts se dekha to aap yah cheej samajh pae ki isase hamen jyaada phark nahin padane vaala sabase jyaada dukh mein saath mein rahata hai ki main baare mein kya soch raha hai ab se is tarah baat kyon karana to jab aap us insaan ko usake haal par chhod doge apane vichaaron ko usake prati pojitiv rakhoge ki theek hai usakee to aadat hai to dekhata aaph eksapeeriyans keejiega main daave se kahatee hoon ki aapake saare dukh khatm ho jaenge aur aap har kaam diya tak em ophis mein baitha bhee bana lena ki koee khadoos hai to bhaee vah usakee haibit to aapako phir usase phark nahin padega theek hai end aur jo shadyantr aur bahut saaree cheejen hotee hai to vah aap apane hisaab se tab bhee usako laitalee le sakate ho maisej kar sakate ho kya aap sachche ho to eeshvar aapake saath hai aur vahaan se isake lie thaink yoo

pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:11
मिलकर अपने कॉलेज के विचार से खुद को नियमित करके अपने दुख से छुटकारा पाया जा सकता है अगर हम भी जाते हैं और को कंट्रोल में रहते हैं तो बहुत सारे दुखों से हम लोग पागल होते हैं और कुछ नहीं लगता है कि हम तुझे नहीं हो पा रहा है या फिर नहीं कर पा रहे हैं कुछ ज्यादा सोचने लगते हैं इसलिए चालू करनी है और हमें कोई भी काम करना चाहिए और कोई विचार करते हैं और अपने विचारों पर और अपने भावों पर नियंत्रण रखते हैं पीसते हैं बांटते हैं पर टाइम से छुटकारा पाते तो ऐसा नहीं हो सकता कि मैं आपको अपने मन को छू सकता और किसी भी समस्या का हल ढूंढना पड़ेगा अपने जीवन में कब आएंगे
Milakar apane kolej ke vichaar se khud ko niyamit karake apane dukh se chhutakaara paaya ja sakata hai agar ham bhee jaate hain aur ko kantrol mein rahate hain to bahut saare dukhon se ham log paagal hote hain aur kuchh nahin lagata hai ki ham tujhe nahin ho pa raha hai ya phir nahin kar pa rahe hain kuchh jyaada sochane lagate hain isalie chaaloo karanee hai aur hamen koee bhee kaam karana chaahie aur koee vichaar karate hain aur apane vichaaron par aur apane bhaavon par niyantran rakhate hain peesate hain baantate hain par taim se chhutakaara paate to aisa nahin ho sakata ki main aapako apane man ko chhoo sakata aur kisee bhee samasya ka hal dhoondhana padega apane jeevan mein kab aaenge

Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College
0:57
मेरा मानना है कि हम अगर खुद को नियंत्रित कर सके अपने दुख से छुटकारा पाने की कोशिश करो कभी-कभी होता है लेकिन ज्यादातर ऐसा ही होता है की फिजिकल में आपको दिक्कत होती है कोई लॉस होता है कुछ आपका अपॉर्चुनिटी इसमें सोती है तो वह सारी दुख होते हैं लेकिन स्क्रिप्ट लेवल पर जाकर तो कभी कभी होते हैं तो अगर हम अपनी मौसी को पीछे छोड़ कर तुम्हारे ऑप्टिमिस्टिक अरे भाई कुछ गलत हुआ है तो उसमें कुछ अच्छा ही ढूंढ सके अब एक सके हमें ज्यादा दुख नहीं दूर तो नहीं कर सकते बिल्कुल कि हम तो फिर तो हम करते हैं लेकिन कंपनी करेंगे अगर आप ऑप्टिमिस्टिक रहेंगे और अपने आप को कंट्रोल कर पाएंगे
Mera maanana hai ki ham agar khud ko niyantrit kar sake apane dukh se chhutakaara paane kee koshish karo kabhee-kabhee hota hai lekin jyaadaatar aisa hee hota hai kee phijikal mein aapako dikkat hotee hai koee los hota hai kuchh aapaka aporchunitee isamen sotee hai to vah saaree dukh hote hain lekin skript leval par jaakar to kabhee kabhee hote hain to agar ham apanee mausee ko peechhe chhod kar tumhaare optimistik are bhaee kuchh galat hua hai to usamen kuchh achchha hee dhoondh sake ab ek sake hamen jyaada dukh nahin door to nahin kar sakate bilkul ki ham to phir to ham karate hain lekin kampanee karenge agar aap optimistik rahenge aur apane aap ko kantrol kar paenge

sanjay kumar pandey Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए sanjay जी का जवाब
Writer, Teacher, motivational youtuber
3:07
गुड इवनिंग सवाल है कि आपके विचार से खुद को रिपीट करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है निश्चित रूप से देखिए खुद को नियंत्रित करना है तो सबसे बड़ी बात खुद को हम भी अंतरिक्ष नहीं कर पाते हैं परिस्थितियों से हम टूट जाते हैं बिखर जाते हैं इधर-उधर देखने लगते हैं दूसरों में हम खोजने लगते दूसरा हमें हमें दुखों से छुटकारा पाया जाए दिलाएगा लेकिन ऐसा नहीं होता है हमें अपने दुखों से खुद ही छुटकारा पाना चाहिए और वह तो करना पड़ता है इसलिए उसके लिए हमें खुद को नियंत्रित करना पड़ता है खुद को नियंत्रित करने का मतलब कि अपनी सोच को नियंत्रित करना अपने दिमाग को नियंत्रित करना है यह सब कुछ हमें मैसेज करना पड़ता है तभी हम अपने दुखों से छुटकारा पाते हैं अन्यथा जब तक हम अपने दुखों के लिए दूसरों को दोषी मानते रहेंगे या दूसरों से उम्मीद करते रहेंगे तब तक हमें दुख होता रहे हैं उम्मीद ही मतलब एक्सपेक्टेशन जो है ना वही दुख का कारण होता है दूसरों से उम्मीद पाल लेते हैं एक्सपेक्टेशन इतना अधिक पाल लेते हैं तो वह वाला जो है वह वही हमें सुख दे सकता है क्या वही हमारे दुख का कारण है तो ऐसा नहीं होता है यह निश्चित रूप से दुख होता है बहुत बड़ा दुख है कि हम तो कहा जाता है कोई हमें हमारे साथ विश्वासघात करने का है तो हमें दुख होता है इस ग्रुप से होता है सबको मिलकर जाते लेकिन देखिए दुनिया में कुछ भी आस्था ही नहीं दुनिया में हर कुछ और है इस वजह से कुछ बनाया है ऐसा कि हम बड़ा से बड़ा दर्द भी वह सो जाते हैं और वक्त हमें सिखा देता है सब कुछ करना उसकी खाना इसीलिए अपने दुखों से हमें खुद ही लड़ना पड़ता है और खुद ही नियंत्रित करना पड़ता है कुछ पल के लिए होता है कोई हमें दिलासा देता है कोई हंसता है कोई हमारे साथ सिर्फ एक ही बताता है तो हमें थोड़ा सा सुकून मिलता है लेकिन ज्यादा लंबे समय तक कोई भी हमारा साथ नहीं दे सकता है इसलिए कोशिश यही करनी चाहिए कि हमें अपने दुखों से छुटकारा पाने के लिए अपने आप को नियंत्रित करना चाहिए तो पहले सोच पर अपने विचार पर अपने दिमाग पर नियंत्रण स्थापित करना पड़ता है तभी हम अपने दुख से छोटा
Gud ivaning savaal hai ki aapake vichaar se khud ko ripeet karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai nishchit roop se dekhie khud ko niyantrit karana hai to sabase badee baat khud ko ham bhee antariksh nahin kar paate hain paristhitiyon se ham toot jaate hain bikhar jaate hain idhar-udhar dekhane lagate hain doosaron mein ham khojane lagate doosara hamen hamen dukhon se chhutakaara paaya jae dilaega lekin aisa nahin hota hai hamen apane dukhon se khud hee chhutakaara paana chaahie aur vah to karana padata hai isalie usake lie hamen khud ko niyantrit karana padata hai khud ko niyantrit karane ka matalab ki apanee soch ko niyantrit karana apane dimaag ko niyantrit karana hai yah sab kuchh hamen maisej karana padata hai tabhee ham apane dukhon se chhutakaara paate hain anyatha jab tak ham apane dukhon ke lie doosaron ko doshee maanate rahenge ya doosaron se ummeed karate rahenge tab tak hamen dukh hota rahe hain ummeed hee matalab eksapekteshan jo hai na vahee dukh ka kaaran hota hai doosaron se ummeed paal lete hain eksapekteshan itana adhik paal lete hain to vah vaala jo hai vah vahee hamen sukh de sakata hai kya vahee hamaare dukh ka kaaran hai to aisa nahin hota hai yah nishchit roop se dukh hota hai bahut bada dukh hai ki ham to kaha jaata hai koee hamen hamaare saath vishvaasaghaat karane ka hai to hamen dukh hota hai is grup se hota hai sabako milakar jaate lekin dekhie duniya mein kuchh bhee aastha hee nahin duniya mein har kuchh aur hai is vajah se kuchh banaaya hai aisa ki ham bada se bada dard bhee vah so jaate hain aur vakt hamen sikha deta hai sab kuchh karana usakee khaana iseelie apane dukhon se hamen khud hee ladana padata hai aur khud hee niyantrit karana padata hai kuchh pal ke lie hota hai koee hamen dilaasa deta hai koee hansata hai koee hamaare saath sirph ek hee bataata hai to hamen thoda sa sukoon milata hai lekin jyaada lambe samay tak koee bhee hamaara saath nahin de sakata hai isalie koshish yahee karanee chaahie ki hamen apane dukhon se chhutakaara paane ke lie apane aap ko niyantrit karana chaahie to pahale soch par apane vichaar par apane dimaag par niyantran sthaapit karana padata hai tabhee ham apane dukh se chhota

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:39
आपके विचार से खुद को नियंत्रित करके क्या अपने दुखों से छुटकारा पाया जा सकता है देखे self-control अगर आ जाए इंसल्ट मास्टर जी अगर हो जाए तो दुख ही नहीं आने आप जो चाहे वह कर सकते हो क्योंकि सिर्फ मास्टर जी जब करते हो आप तो आप आपके विचार आपका माइंड इनको ऊपर शॉपिंग करने करना सीख जाते हो और इनको एक प्रॉपर ट्रेनिंग देना सीख जाते हो और कोई भी जो आपके लाइफ में कोई भी दुख जो पेन जो भी चीज है तो वो क्यू है उसके रूट कॉलेज में आप जाते हो जैसे कि अगर बाहर के एनवायरनमेंट में किसी इंसान की वजह से मुझे बुरा फील हो रहा है या कुछ पेनफुल हो रहा है तो उसमें आप एक फोन करना सीख जाते हो कि मैं ठीक तरीके से आप का ब्रेन ऋतिक ऑन करें और अगर मान लो कि आपको आपके खुद के ही कुछ कारणों की वजह से है या कुछ प्रॉब्लम है तो वह तो अपने आप लिख जाता है क्योंकि इसकी चौड़ी होती है किसी भी प्रॉब्लम की जोड़ी होती है कि हम लोग आने सोचते कुछ और हमारे हाथ से होता जवाब सिर्फ मात्र ही ले लोगे तो सिर्फ मास्टरी के बाद अपने आप ही आप डिसिप्लिन में ढल जाओगे डिसिप्लिन से अच्छे हैबिट्स में अच्छे थॉट्स में ढल जाओगे और अपने आप ही आपके पूरे दिन के ऊपर आपका कंट्रोल फ्लो होगा और वह भी करते समय आपको कुछ बहुत ज्यादा जोर नहीं लगाना पड़ेगा अपने आप होते जाएगा तो इसलिए खुद के ऊपर नियंत्रण करना एक सबसे बेहतरीन रास्ता है आपके सभी दुखों से या कभी प्रॉब्लम से छुटकारा पाना और लेकिन अब खुद के ऊपर नियंत्रण कैसे किया जाए तो खुद के ऊपर नियंत्रण अगर करना है तो सबसे पहले हमें यह देखना होगा कि हम लोगों का टाइम कहां व्यस्त हो जाए दिन बारे में और उसके अंदर हमारे थॉट की प्रोसेस कैसी है यह समझना पड़ेगा क्योंकि हमें जब नहीं होगा तब तक हम नहीं समझ पाएगा उस चीज को तो उसके लिए एक एक तो उसके गहराई में जाकर समझे या तो फिर सिंपल सी है अपना एक सबको समझ में आता है कि अपना एड्रेस लोग कैसे होना चाहिए कि सुबह कितने बजे उठना है दिन भर कैसे काम करना है कौन से काम प्रायोरिटी काम है कौन से काम जो है जो नॉन प्रायोरिटी काम है तो इस तरीके से हमें यह देखना है कि कैसे कौनसे-कौनसे ऐसे एरिया के लाइफ के अपने जिसको प्रायोरिटी चाहिए फेल हो गया पैसा हो गया है मिली हो गया तो यह चेक करना यह लाइन करने की क्या इनके रिलेटेड काम हमारे जीवन की प्रायोरिटी के लिस्ट में है क्या दिल्ली कितना काम हम उसके ऊपर कर रहे हैं और इसके अलावा जब टाइम बसता है आपके पास तो बाकी की जाती है अगर आपके प्राइवेट ही पता चल गई थी उसके बाद आप इसको किस फोन से कर अगर आप किसी भी चीज को करना चाहते हो जैसे खेलते बनाना चाहते हो तो नौकरी नहीं यार झीनी लगाइए हेल्थ बढ़ाना चाहते हो तो आपके पास बहुत सारे रास्ते तो सबसे बेहतरीन तरीका है सुबह 5:00 बजे उठी है पांच 5:30 बजे उठी है 120 से 25 मिनट का वॉक कीजिए या घर में एक्सरसाइज कीजिए सूर्य नमस्कार कीजिए मेडिटेशन कि वह होने के बाद में अगर आप चाहते हो कि कुछ अच्छे बुक्स पढ़नी है या फिर कोई अच्छा चीज अपने खुद के बारे में विचार करना है कुछ का कुछ लिखना है उसे बेहतरीन समय ही नहीं है सुबह 5:00 से 7:00 के बीच और उसके बाद में उसके बाद में आप चाहते हो अगर आप चाहते हो कि उसके बाद मैं प्रायोरिटी मेरे काम निपटा दो जो काम में बहुत समय लगता है जो आपको पसंद नहीं है लेकिन आप तो करना जरूरी है तो उसके लिए भी सबसे अच्छा समय शुभ होता तुझे फोन नहीं आता कॉल नहीं होते हैं और उस समय आप 10:00 से 11:00 तक आपकी मैक्सिमम काम निपट चु तो यह पार्टी काम कौन से है वह बराबर टाइट करके उसको करना फिर फैमिली के साथ टाइम देना फैमिली के साथ टाइम की अलग अलग तरीका क्या दे सकते हो इतना तो सोचना है फैमिली के साथ बच्चों के साथ जो कि बहुत अधिक है पता नहीं क्या जाकर बैठ गए यह सीखना पड़ेगा इसको प्रैक्टिस प्रैक्टिस प्रैक्टिस बाबा अपने आप ही काफी चीजों से छुटकारा पा लोगे
Aapake vichaar se khud ko niyantrit karake kya apane dukhon se chhutakaara paaya ja sakata hai dekhe sailf-chontrol agar aa jae insalt maastar jee agar ho jae to dukh hee nahin aane aap jo chaahe vah kar sakate ho kyonki sirph maastar jee jab karate ho aap to aap aapake vichaar aapaka maind inako oopar shoping karane karana seekh jaate ho aur inako ek propar trening dena seekh jaate ho aur koee bhee jo aapake laiph mein koee bhee dukh jo pen jo bhee cheej hai to vo kyoo hai usake root kolej mein aap jaate ho jaise ki agar baahar ke enavaayaranament mein kisee insaan kee vajah se mujhe bura pheel ho raha hai ya kuchh penaphul ho raha hai to usamen aap ek phon karana seekh jaate ho ki main theek tareeke se aap ka bren rtik on karen aur agar maan lo ki aapako aapake khud ke hee kuchh kaaranon kee vajah se hai ya kuchh problam hai to vah to apane aap likh jaata hai kyonki isakee chaudee hotee hai kisee bhee problam kee jodee hotee hai ki ham log aane sochate kuchh aur hamaare haath se hota javaab sirph maatr hee le loge to sirph maastaree ke baad apane aap hee aap disiplin mein dhal jaoge disiplin se achchhe haibits mein achchhe thots mein dhal jaoge aur apane aap hee aapake poore din ke oopar aapaka kantrol phlo hoga aur vah bhee karate samay aapako kuchh bahut jyaada jor nahin lagaana padega apane aap hote jaega to isalie khud ke oopar niyantran karana ek sabase behatareen raasta hai aapake sabhee dukhon se ya kabhee problam se chhutakaara paana aur lekin ab khud ke oopar niyantran kaise kiya jae to khud ke oopar niyantran agar karana hai to sabase pahale hamen yah dekhana hoga ki ham logon ka taim kahaan vyast ho jae din baare mein aur usake andar hamaare thot kee proses kaisee hai yah samajhana padega kyonki hamen jab nahin hoga tab tak ham nahin samajh paega us cheej ko to usake lie ek ek to usake gaharaee mein jaakar samajhe ya to phir simpal see hai apana ek sabako samajh mein aata hai ki apana edres log kaise hona chaahie ki subah kitane baje uthana hai din bhar kaise kaam karana hai kaun se kaam praayoritee kaam hai kaun se kaam jo hai jo non praayoritee kaam hai to is tareeke se hamen yah dekhana hai ki kaise kaunase-kaunase aise eriya ke laiph ke apane jisako praayoritee chaahie phel ho gaya paisa ho gaya hai milee ho gaya to yah chek karana yah lain karane kee kya inake rileted kaam hamaare jeevan kee praayoritee ke list mein hai kya dillee kitana kaam ham usake oopar kar rahe hain aur isake alaava jab taim basata hai aapake paas to baakee kee jaatee hai agar aapake praivet hee pata chal gaee thee usake baad aap isako kis phon se kar agar aap kisee bhee cheej ko karana chaahate ho jaise khelate banaana chaahate ho to naukaree nahin yaar jheenee lagaie helth badhaana chaahate ho to aapake paas bahut saare raaste to sabase behatareen tareeka hai subah 5:00 baje uthee hai paanch 5:30 baje uthee hai 120 se 25 minat ka vok keejie ya ghar mein eksarasaij keejie soory namaskaar keejie mediteshan ki vah hone ke baad mein agar aap chaahate ho ki kuchh achchhe buks padhanee hai ya phir koee achchha cheej apane khud ke baare mein vichaar karana hai kuchh ka kuchh likhana hai use behatareen samay hee nahin hai subah 5:00 se 7:00 ke beech aur usake baad mein usake baad mein aap chaahate ho agar aap chaahate ho ki usake baad main praayoritee mere kaam nipata do jo kaam mein bahut samay lagata hai jo aapako pasand nahin hai lekin aap to karana jarooree hai to usake lie bhee sabase achchha samay shubh hota tujhe phon nahin aata kol nahin hote hain aur us samay aap 10:00 se 11:00 tak aapakee maiksimam kaam nipat chu to yah paartee kaam kaun se hai vah baraabar tait karake usako karana phir phaimilee ke saath taim dena phaimilee ke saath taim kee alag alag tareeka kya de sakate ho itana to sochana hai phaimilee ke saath bachchon ke saath jo ki bahut adhik hai pata nahin kya jaakar baith gae yah seekhana padega isako praiktis praiktis praiktis baaba apane aap hee kaaphee cheejon se chhutakaara pa loge

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मन को नियंत्रित कैसे करे, मन को एकाग्र कैसे करे, अपने मन को एकाग्र कैसे करे
URL copied to clipboard