#जीवन शैली

bolkar speaker

क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?

Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:12
ख्वाजा सवाल लिखिए क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं एक चीज में उनको संतुष्टि भी रहता है और आगे और ज्यादा हो इंपैक्ट भी करते हैं और प्लान भी करते हो रही अच्छी बात भी है कुछ लोग होते हैं दूसरे वाले इनसे जितना उनके पास उनको चीज की कमी ही रहती है और उनका स्टेशन और ज्यादा हाई होता है वह जितना चीज नहीं पा सकते हैं उनको ना ही संतुष्ट होना ही खुशी मिलती है तो समझ सकते कि उनके पास जितना भी पैसा उनको कोई पैसा लगेगा और उनको हमेशा लगेगा कि नहीं उनके पास है नहीं वह खर्च नहीं करेंगे हर चीज में कंजूसी करेंगे क्योंकि उनको सिर्फ घर जाना है और इस पैसे को और दादा बचा बचा कर मतलब इतना बचाने की खुद के हेल्थकेयर घर परिवार को एक कोई भी जल्द फैसिलिटी है बेसिक चीज कुछ भी नहीं तो बात करना बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं बहुत सारे लोगों को देखा भी है कि अपने घर में शिफ्ट प्रोवाइड अच्छे से नहीं करते हैं इवन बहुत हर एक चीज नहीं चाहते हैं ना कि हम किसी और के लिए मत करो नहीं तो करो लेकिन सभी के लिए भी बहुत सारे लोग नहीं करते आप सोचते कि कैसे अभी और ज्यादा मतलब ऐसा आएगा तो नहीं हो गया फिर तो नहीं हो रहा है मैंने बहुत सारे लोगों को मेरे दूर-दूर के लेटेस्ट को भी मैंने देखा है तो जल्दी पैसे को बचाना जरूरी होता है और पैसे को और ज्यादा कैसे आगे बढ़ाए जरूरी होता है लेकिन उसमें जितना आपके पास आज के दिन अगर आप खुश भी नहीं रहेंगे तो आप कभी भी किसी भी चीज में खुशी नहीं मिलेगा आपको चाहे जितना भी पैसा क्यों नहीं भेजा कभी भी आपको कहीं नहीं मिलेगा और आप ऐसे ही आगे बढ़ रहा है आगे एक्सपेक्ट करते रहेंगे और जो छोटी-छोटी चीजें जो जिंदगी में इंसान को बहुत खुश कर दिया वह सब चीजों को मिस करते जाएंगे और करना चाहिए और कैसे कैसे बड़े हर एक इंसान सोचता है कितना ज्यादा अच्छा होगा लेकिन साथी साथियों में खुशी खुशी आती है उसको भी मतलब
Khvaaja savaal likhie kyon kuchh log jaroorat se adhik paisa hone par bhee haay paisa karate rahate hain ek cheej mein unako santushti bhee rahata hai aur aage aur jyaada ho impaikt bhee karate hain aur plaan bhee karate ho rahee achchhee baat bhee hai kuchh log hote hain doosare vaale inase jitana unake paas unako cheej kee kamee hee rahatee hai aur unaka steshan aur jyaada haee hota hai vah jitana cheej nahin pa sakate hain unako na hee santusht hona hee khushee milatee hai to samajh sakate ki unake paas jitana bhee paisa unako koee paisa lagega aur unako hamesha lagega ki nahin unake paas hai nahin vah kharch nahin karenge har cheej mein kanjoosee karenge kyonki unako sirph ghar jaana hai aur is paise ko aur daada bacha bacha kar matalab itana bachaane kee khud ke helthakeyar ghar parivaar ko ek koee bhee jald phaisilitee hai besik cheej kuchh bhee nahin to baat karana bahut saare log aise hote hain bahut saare logon ko dekha bhee hai ki apane ghar mein shipht provaid achchhe se nahin karate hain ivan bahut har ek cheej nahin chaahate hain na ki ham kisee aur ke lie mat karo nahin to karo lekin sabhee ke lie bhee bahut saare log nahin karate aap sochate ki kaise abhee aur jyaada matalab aisa aaega to nahin ho gaya phir to nahin ho raha hai mainne bahut saare logon ko mere door-door ke letest ko bhee mainne dekha hai to jaldee paise ko bachaana jarooree hota hai aur paise ko aur jyaada kaise aage badhae jarooree hota hai lekin usamen jitana aapake paas aaj ke din agar aap khush bhee nahin rahenge to aap kabhee bhee kisee bhee cheej mein khushee nahin milega aapako chaahe jitana bhee paisa kyon nahin bheja kabhee bhee aapako kaheen nahin milega aur aap aise hee aage badh raha hai aage eksapekt karate rahenge aur jo chhotee-chhotee cheejen jo jindagee mein insaan ko bahut khush kar diya vah sab cheejon ko mis karate jaenge aur karana chaahie aur kaise kaise bade har ek insaan sochata hai kitana jyaada achchha hoga lekin saathee saathiyon mein khushee khushee aatee hai usako bhee matalab

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:37
आरा का बस में क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं तो आपको बताने देखिए पैसे की भूख दे सकते होते हैं वह भूख कभी जिंदगी भर शांत नहीं हो सकती और ऐसा व्यक्ति कभी अपने जीवन में संतुष्ट नहीं हो सकता वह हमेशा पैसे के पीछे दौड़ता रहता है दौड़ता रहता है और जब वह अपने जीवन के अंतिम पड़ाव पर होता है तब उसको समझ में आता है कि दौड़ते दौड़ते हैं जिंदगी में इतनी आगे निकल गया अकेला रह गया है कि उसके साथ देने वाला कोई व्यक्ति नहीं है आपकी क्या राय है इस बारे में कमा सकते हैं अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka bas mein kyon kuchh log jaroorat se adhik paisa hone par bhee haay paisa karate rahate hain to aapako bataane dekhie paise kee bhookh de sakate hote hain vah bhookh kabhee jindagee bhar shaant nahin ho sakatee aur aisa vyakti kabhee apane jeevan mein santusht nahin ho sakata vah hamesha paise ke peechhe daudata rahata hai daudata rahata hai aur jab vah apane jeevan ke antim padaav par hota hai tab usako samajh mein aata hai ki daudate daudate hain jindagee mein itanee aage nikal gaya akela rah gaya hai ki usake saath dene vaala koee vyakti nahin hai aapakee kya raay hai is baare mein kama sakate hain apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:37
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका कुछ लोग जान से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं तो फ्रेंड से बहुत सारे लोगों कैसा स्वभाव होता है कि उनके पास जितना पैसा हो लेकिन वह हाय पैसा हाय पैसा करते रहते हैं क्योंकि ऐसे लोग पैसे के अत्यधिक लालू भी होते हैं जो पैसा का अति लोग व्यक्ति होता है वही हाय पैसा हाय पैसा करता रहता है एक संतुष्टि व्यक्ति जितना पैसा कमा रहा है जिसमें उसकी जरूरतें पूरी हो रही हैं तो वह अपने पैसे से संतुष्ट रहता है और जो मूर्ख लोग होते हैं भैया आए पैसे पैसे करते रहते हैं धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka kuchh log jaan se adhik paisa hone par bhee haay paisa karate rahate hain to phrend se bahut saare logon kaisa svabhaav hota hai ki unake paas jitana paisa ho lekin vah haay paisa haay paisa karate rahate hain kyonki aise log paise ke atyadhik laaloo bhee hote hain jo paisa ka ati log vyakti hota hai vahee haay paisa haay paisa karata rahata hai ek santushti vyakti jitana paisa kama raha hai jisamen usakee jarooraten pooree ho rahee hain to vah apane paise se santusht rahata hai aur jo moorkh log hote hain bhaiya aae paise paise karate rahate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:34
लोग जरूरत से ज्यादा पैसा होने पर भी हाई प्रेशर करते रहते हैं तो उनका रूटीन बन गया कि वह ज्यादा से ज्यादा है न करें यही सोचते हैं कि मैं खर्चा कर सकता हूं वह यह सोचते हैं कि अभी इतना हुए तब इतना होना चाहिए वह यही सोचता है कि मुझसे ज्यादा कमाते रहूंगा मेरे लिए उतना ही अच्छा भी है और एक कैसे खराब भी अच्छे इसलिए क्योंकि पीढ़ियों के लिए भी छोड़ रहे हैं इसलिए कि आप सिर्फ पैसे चुराए उसको कहीं इन्वेस्ट नहीं कर रहे हैं या फिर आप कहीं घूमने फिरने में भी यूज नहीं कर रहे हैं
Log jaroorat se jyaada paisa hone par bhee haee preshar karate rahate hain to unaka rooteen ban gaya ki vah jyaada se jyaada hai na karen yahee sochate hain ki main kharcha kar sakata hoon vah yah sochate hain ki abhee itana hue tab itana hona chaahie vah yahee sochata hai ki mujhase jyaada kamaate rahoonga mere lie utana hee achchha bhee hai aur ek kaise kharaab bhee achchhe isalie kyonki peedhiyon ke lie bhee chhod rahe hain isalie ki aap sirph paise churae usako kaheen invest nahin kar rahe hain ya phir aap kaheen ghoomane phirane mein bhee yooj nahin kar rahe hain

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
Sonu Kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Sonu जी का जवाब
Unknown
0:17

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:33
पता लेकिन कुछ लोग जरूरत कैसे पैदा होने के बाद भी आप ऐसा करते रहते हैं जी हम बिल्कुल यह बात सही है जिनके पास में अत्यधिक मात्रा में पैसा होता है वह औरों को देख कर के और ज्यादा अच्छी लगी भेज लाई भी ना चाहते हैं और ज्यादा अच्छे तरीके से पैसा कमाना चाहते हैं और ज्यादा उनको छोटा सपना बढ़ाना होता है दूसरों के सामने और ज्यादा पेशेंट करना होता है झूठा दिखावा करना होता है कि हम कितने दादा स्टेटस में रहते हैं कितने ज्यादा अमीर है कितना ज्यादा पैसा है हमारे पास ब्रांडेड चीज लेनी शुरू कर देते हैं और यही एक वेतन है कि जितना ज्यादा पैदा होता है जिसके पास में वह उतना ही ज्यादा पैसे के पीछे भागता है आपका दिन शुभ रहे थे नहीं पाता
Pata lekin kuchh log jaroorat kaise paida hone ke baad bhee aap aisa karate rahate hain jee ham bilkul yah baat sahee hai jinake paas mein atyadhik maatra mein paisa hota hai vah auron ko dekh kar ke aur jyaada achchhee lagee bhej laee bhee na chaahate hain aur jyaada achchhe tareeke se paisa kamaana chaahate hain aur jyaada unako chhota sapana badhaana hota hai doosaron ke saamane aur jyaada peshent karana hota hai jhootha dikhaava karana hota hai ki ham kitane daada stetas mein rahate hain kitane jyaada ameer hai kitana jyaada paisa hai hamaare paas braanded cheej lenee shuroo kar dete hain aur yahee ek vetan hai ki jitana jyaada paida hota hai jisake paas mein vah utana hee jyaada paise ke peechhe bhaagata hai aapaka din shubh rahe the nahin paata

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
अमित सिंह बघेल Bolkar App
Top Speaker,Level 55
सुनिए अमित जी का जवाब
सामाजिक कार्यकर्ता, मोटिवेशनल स्पीकर 
2:24
उसने पूछा कि तू कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते थे कि यह सोच का ही फर्क होता है कि जीवन में बहुत से ऐसे लोग मिल जाएंगे इतना पैसा इतना धन दौलत होने के बाद भी हाय पैसा हाय पैसा करना तो वह तो उनकी सोच पर ही निर्भर करता है वह क्या सोचते हैं क्या नहीं तो बहुत से ऐसे लोग हैं जो पैसे की वजह से दूसरे की जिंदगी खराब कर देते अपनी जिंदगी बनाने के चक्कर में पैसे कमाओ हर इंसान जीवन में देखे पैसे को मारा जाए हम हो जाए आप हर इंसान देख कर मेहनत करके पैसे कमा रहा कुछ लोग तो मेहनत करना ही नहीं चाहते बस वह सोचते हैं कि कहीं से पैसे आ जाए कहीं चोरी कर रहा है कोई कुछ कर रहा है तो ठीक है हाय पैसा हाय पैसा करना अच्छी चीज नहीं है आप देखिए अगर ज्यादा धन-दौलत कमाना चाहते हो बिजनेसमैन हो अच्छा कमाओ कमाओ लेकिन कभी भी देखिए किसी को गिराकर अपनी जेब करना अच्छी बात नहीं है तो देखिए इस सोच का ही फर्क है अच्छे लगे हाय पैसा हाय पैसा नहीं करते जिनकी सोच अच्छी होती है जोगीरा सोचते हैं ना कभी कभी कभी कभी जोगीरा सोचते हैं वही पैसे करो ना जाते अगर लगता है कि सामने वाला भूखा है अगर हम इतना पैसा कमाकर भी किसी भूखे का पेट ना भर पाए एक दिन तो काहे का पैसा कमाना मैं तो यही कहूंगा हम कम पैसा पाते हैं लेकिन हां कोशिश करते हैं अगर कोई तकलीफ है किसी को तो उसकी तकलीफ को दूर करने की कोशिश करते किसी की मदद करिए देखिए आपको कितना सुकून मिलेगा तो मैं हाय पैसा हाय पैसे से देखे जिंदगी नहीं चलती जीवन में कुछ अच्छा करना है तो सोच हमेशा अच्छी रखो बस मैं यही कहूंगा और आप ऐसे लोगों से दूरी बनाकर रखो जो हमेशा रोना जाते रहते हैं पैसे पैसे पैसे इतना पैसा होने के बाद भी देखो किसी को कोई पैसा ऊपर लेकर नहीं जाना यही रखना पैसे कमाओ हर इंसान का मारा लेकिन ईमानदारी से कम रोना नहीं गांव तू किधर के बहुत से ऐसे रिश्ते हैं जो हाय पैसे की वजह से ही रिश्ते टूट गए दरारे आ गए भाई भाई में थोड़ा सा जमीन का हिस्सा एक भाई ने ज्यादा ले लिया तो आपस में लड़ बैठे मारपीट कर लिए हत्या कर देते हैं तो यह आए पैसे हैं पैसे की जिंदगी हम और आप ना जी जो जी रहा है वह भुगत रहा है आप जान जाए बस जीवन में जीना है तो सामने वाले को खुश रखो खुद खुश रहो और देखें फिर क्या मजा आता जीवन जीने का जय हिंद जय भारत
Usane poochha ki too kuchh log jaroorat se adhik paisa hone par bhee haay paisa karate rahate the ki yah soch ka hee phark hota hai ki jeevan mein bahut se aise log mil jaenge itana paisa itana dhan daulat hone ke baad bhee haay paisa haay paisa karana to vah to unakee soch par hee nirbhar karata hai vah kya sochate hain kya nahin to bahut se aise log hain jo paise kee vajah se doosare kee jindagee kharaab kar dete apanee jindagee banaane ke chakkar mein paise kamao har insaan jeevan mein dekhe paise ko maara jae ham ho jae aap har insaan dekh kar mehanat karake paise kama raha kuchh log to mehanat karana hee nahin chaahate bas vah sochate hain ki kaheen se paise aa jae kaheen choree kar raha hai koee kuchh kar raha hai to theek hai haay paisa haay paisa karana achchhee cheej nahin hai aap dekhie agar jyaada dhan-daulat kamaana chaahate ho bijanesamain ho achchha kamao kamao lekin kabhee bhee dekhie kisee ko giraakar apanee jeb karana achchhee baat nahin hai to dekhie is soch ka hee phark hai achchhe lage haay paisa haay paisa nahin karate jinakee soch achchhee hotee hai jogeera sochate hain na kabhee kabhee kabhee kabhee jogeera sochate hain vahee paise karo na jaate agar lagata hai ki saamane vaala bhookha hai agar ham itana paisa kamaakar bhee kisee bhookhe ka pet na bhar pae ek din to kaahe ka paisa kamaana main to yahee kahoonga ham kam paisa paate hain lekin haan koshish karate hain agar koee takaleeph hai kisee ko to usakee takaleeph ko door karane kee koshish karate kisee kee madad karie dekhie aapako kitana sukoon milega to main haay paisa haay paise se dekhe jindagee nahin chalatee jeevan mein kuchh achchha karana hai to soch hamesha achchhee rakho bas main yahee kahoonga aur aap aise logon se dooree banaakar rakho jo hamesha rona jaate rahate hain paise paise paise itana paisa hone ke baad bhee dekho kisee ko koee paisa oopar lekar nahin jaana yahee rakhana paise kamao har insaan ka maara lekin eemaanadaaree se kam rona nahin gaanv too kidhar ke bahut se aise rishte hain jo haay paise kee vajah se hee rishte toot gae daraare aa gae bhaee bhaee mein thoda sa jameen ka hissa ek bhaee ne jyaada le liya to aapas mein lad baithe maarapeet kar lie hatya kar dete hain to yah aae paise hain paise kee jindagee ham aur aap na jee jo jee raha hai vah bhugat raha hai aap jaan jae bas jeevan mein jeena hai to saamane vaale ko khush rakho khud khush raho aur dekhen phir kya maja aata jeevan jeene ka jay hind jay bhaarat

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:33
ट्रस्ट है कि क्यों कुछ लोग जरूर से अधिक पैसा होने पर दिखाएं कैसा करते रहते हैं कि यह तो निर्भर करता है उन लोगों की मानसिकता करो वह लोग क्या सोचते हैं उनको ऐसा लगता है कि मेरे जीवन में पैसा कम पड़ जाएगा और मैं वो करूंगा इसलिए हो आई पैसा वैसा करते रहता हूं तो लगता कि जीवन बहुत बड़ा है लेकिन एक दिन ऐसा आता है कि उनका पैसा धरा का धरा रह जाता है और चले जाते हैं तो इसके पीछे क्या कहानी है उन लोगों को पता नहीं है जीवन जीने का तरीका पता नहीं आता है तो वह लोग ऐसा हाईवे सहायता करते रहते हैं धन्यवाद
Trast hai ki kyon kuchh log jaroor se adhik paisa hone par dikhaen kaisa karate rahate hain ki yah to nirbhar karata hai un logon kee maanasikata karo vah log kya sochate hain unako aisa lagata hai ki mere jeevan mein paisa kam pad jaega aur main vo karoonga isalie ho aaee paisa vaisa karate rahata hoon to lagata ki jeevan bahut bada hai lekin ek din aisa aata hai ki unaka paisa dhara ka dhara rah jaata hai aur chale jaate hain to isake peechhe kya kahaanee hai un logon ko pata nahin hai jeevan jeene ka tareeka pata nahin aata hai to vah log aisa haeeve sahaayata karate rahate hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:30
अमरकंटक यू आपका सवाल है क्यों कुछ लोग जरूर से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं तो दोस्तों वह ऐसे प्रवृत्ति के लोग होते हैं लालची होते हैं जिनको पैसे चाहिए ज्यादा मोहब्बत होती है ऐसे लोग ही ज्यादातर पैसे के लिए हाय तौबा करते रहते हैं धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Amarakantak yoo aapaka savaal hai kyon kuchh log jaroor se adhik paisa hone par bhee haay paisa karate rahate hain to doston vah aise pravrtti ke log hote hain laalachee hote hain jinako paise chaahie jyaada mohabbat hotee hai aise log hee jyaadaatar paise ke lie haay tauba karate rahate hain dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
Bhanu Prakash jha  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Bhanu जी का जवाब
Students
0:27

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं?Kyon Kuch Log Jarurat Se Adhik Paisa Hone Par Bhe Haay Paisa Karte Rehte Hain
ashok pandit Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए ashok जी का जवाब
Godly service
2:37

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्यों कुछ लोग जरूरत से अधिक पैसा होने पर भी हाय पैसा करते रहते हैं
URL copied to clipboard