#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?

Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:23
जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि क्यों कुछ लोग सर आपको दुख दुख का साथी कहते हैं देखिए कि क्या होता है कि जब इंसान जब कोई शराब पीता है तो क्या होता है कि आपने नोटिस क्यों हो क्यों बहुत ज्यादा बोलता है या उत्तम उसको बहुत खुश हो जाता है क्योंकि वह कुछ देर के लिए वह सारी बातें जो के दिमाग में चलती है वह भूल जाता है और उसके दिल की बातें थी वह सब निकाल लेता है बोल देना क्योंकि अक्सर जब आपने नोटिस किया होगा कि कोई शराब पीता है तो वह जो भी बातें बोलता है मतलब बहुत ज्यादा बोलता है या फिर नहीं बोलता तो जो ज्यादा बोलता है तो उसके दिल की बात होती है सब निकाल देता है और वह जो भी इंसान कोई भी काम करता है कोई इंसान उसका मुख्य कारण है या खुशी कोई भी इंसान कोई भी काम करता है उसका कारण है उसको उसमें एग्जाम मिल रहा है तो वह इंसान कैसे लगता है कि छोटी सी प्रॉब्लम होगा 2 लोग उसको क्या कहते हैं कि प्रॉब्लम को सॉल्व करने की कोशिश नहीं करते हैं उस प्रॉब्लम को जल्दी से बुलाना चाहते हैं तो उस प्रॉब्लम को भुलाने के लिए वह क्या करते हैं वह कि वह शराब का सहारा लेना शुरू कर देते जो शराब पीते हैं मैं भी आज तो क्या होता है कि उनको मतलब वह जो दुख होता है तकलीफ होता है वह कुछ देर के लिए वह भूल जाते हैं फिर यह आदत उनको धीरे-धीरे लग जाती है जैसे कि हम हम इंसान हैं वह अपने आदत खुद बनाते हैं और यह आदत हमारी धीरे-धीरे लाइफ में जगह बना लेती है तो क्या होता है कि जब इंसान को थोड़ा भी बहुत दुख होता है या दुख कोई भी बात हुई तो फिर क्या होता है कि वह शराब पी लेता है जिससे वह दुख को भूल सके और उसे कुछ मतलब कुछ टाइम के लिए उसको मतलब वो खुशी को पा सके मतलब उससे उसमें खुशी उसको मिल सके जो दुख है उसको बुलाने के लिए वह करता है तो यह सब कारण है कि जो इंसान दुख में होता है तो वह शराब को पीता है क्योंकि दुख को भुला नहीं सकता भुला सकता है लेकिन उसको बुलाने में उसको रिपीट डिफिकल्टीज होंगी या फिर एडजस्ट करना पड़ेगा लेकिन अगर वह शराब पीता है तो वह क्या होगा कि वह बातें जो है उसके दिमाग से तुरंत इरेज़ हो जाती हैं और खुद हो जाता है तो यही सारा का डर है कि जो इंसान है वह दुख में शराब का सहारा लेता है थैंक यू
Jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki kyon kuchh log sar aapako dukh dukh ka saathee kahate hain dekhie ki kya hota hai ki jab insaan jab koee sharaab peeta hai to kya hota hai ki aapane notis kyon ho kyon bahut jyaada bolata hai ya uttam usako bahut khush ho jaata hai kyonki vah kuchh der ke lie vah saaree baaten jo ke dimaag mein chalatee hai vah bhool jaata hai aur usake dil kee baaten thee vah sab nikaal leta hai bol dena kyonki aksar jab aapane notis kiya hoga ki koee sharaab peeta hai to vah jo bhee baaten bolata hai matalab bahut jyaada bolata hai ya phir nahin bolata to jo jyaada bolata hai to usake dil kee baat hotee hai sab nikaal deta hai aur vah jo bhee insaan koee bhee kaam karata hai koee insaan usaka mukhy kaaran hai ya khushee koee bhee insaan koee bhee kaam karata hai usaka kaaran hai usako usamen egjaam mil raha hai to vah insaan kaise lagata hai ki chhotee see problam hoga 2 log usako kya kahate hain ki problam ko solv karane kee koshish nahin karate hain us problam ko jaldee se bulaana chaahate hain to us problam ko bhulaane ke lie vah kya karate hain vah ki vah sharaab ka sahaara lena shuroo kar dete jo sharaab peete hain main bhee aaj to kya hota hai ki unako matalab vah jo dukh hota hai takaleeph hota hai vah kuchh der ke lie vah bhool jaate hain phir yah aadat unako dheere-dheere lag jaatee hai jaise ki ham ham insaan hain vah apane aadat khud banaate hain aur yah aadat hamaaree dheere-dheere laiph mein jagah bana letee hai to kya hota hai ki jab insaan ko thoda bhee bahut dukh hota hai ya dukh koee bhee baat huee to phir kya hota hai ki vah sharaab pee leta hai jisase vah dukh ko bhool sake aur use kuchh matalab kuchh taim ke lie usako matalab vo khushee ko pa sake matalab usase usamen khushee usako mil sake jo dukh hai usako bulaane ke lie vah karata hai to yah sab kaaran hai ki jo insaan dukh mein hota hai to vah sharaab ko peeta hai kyonki dukh ko bhula nahin sakata bhula sakata hai lekin usako bulaane mein usako ripeet diphikalteej hongee ya phir edajast karana padega lekin agar vah sharaab peeta hai to vah kya hoga ki vah baaten jo hai usake dimaag se turant irez ho jaatee hain aur khud ho jaata hai to yahee saara ka dar hai ki jo insaan hai vah dukh mein sharaab ka sahaara leta hai thaink yoo

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:38
हेलो अभी बंद स्वागत है आपका आपका प्रश्न क्यों कुछ लोग शराब में दुखों का साथी कहते हैं तो फ्रेंड शराब पीने से नशा आता है और जो भी मन में आपके टेंशन है पर थोड़ी देर के लिए आप भूल जाते हैं इसीलिए लोग कहते हैं कि शराब दुखों का साथी है बल्कि ऐसी बात नहीं है वह हर एक आपकी टेंशन तो मिटा देगा लेकिन धीरे-धीरे सर आपसे आपके शरीर में नाना प्रकार की बीमारियां हो जाएंगे इसीलिए शराब का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए शराब हमारे शरीर के लिए बिल्कुल अच्छी नहीं होती है सर आप बिल्कुल भी नहीं पीना चाहिए कोई भी दुख है तो उसका निभाना बैठकर ढूंढना चाहिए ना कि शराब पीना चाहिए धन्यवाद
Helo abhee band svaagat hai aapaka aapaka prashn kyon kuchh log sharaab mein dukhon ka saathee kahate hain to phrend sharaab peene se nasha aata hai aur jo bhee man mein aapake tenshan hai par thodee der ke lie aap bhool jaate hain iseelie log kahate hain ki sharaab dukhon ka saathee hai balki aisee baat nahin hai vah har ek aapakee tenshan to mita dega lekin dheere-dheere sar aapase aapake shareer mein naana prakaar kee beemaariyaan ho jaenge iseelie sharaab ka sevan bilkul nahin karana chaahie sharaab hamaare shareer ke lie bilkul achchhee nahin hotee hai sar aap bilkul bhee nahin peena chaahie koee bhee dukh hai to usaka nibhaana baithakar dhoondhana chaahie na ki sharaab peena chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:29
कष्ट है कि कुछ लोग शराब को दुख का साथी क्यों कहते हैं तो इसका कारण यह है कि खराब है वह मस्तिष्क को प्रभावित करती है और दुख हमेशा मस्तिष्क में ही अनुभव होते हैं जब शराब पीने दे तो मस्तिष्क का एक गुजारिश है जिसको जो करीब होते हैं उसको दुख भूल जाता है वही सा और उसको थोड़ा सा दिमाग को ऐसा महसूस होता है कि मैं ठीक हूं इसलिए लोग शराब
Kasht hai ki kuchh log sharaab ko dukh ka saathee kyon kahate hain to isaka kaaran yah hai ki kharaab hai vah mastishk ko prabhaavit karatee hai aur dukh hamesha mastishk mein hee anubhav hote hain jab sharaab peene de to mastishk ka ek gujaarish hai jisako jo kareeb hote hain usako dukh bhool jaata hai vahee sa aur usako thoda sa dimaag ko aisa mahasoos hota hai ki main theek hoon isalie log sharaab

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:50
नमस्कार आपका प्रश्न है क्यों कुछ लोग चुनाव को दुख होगा साथ ही कहते हैं तो आपको बताना चाहेंगे देखिए जो कुछ लोग हैं वह के बुरे वक्त में बुरे दौर में अपने आप को इतना कमजोर समझ लेते हैं कि वह उत्सव बढ़ने के बजाय उससे बचने के रास्ते खोजने लगते हैं और सबसे ज्यादा आसान रास्तों को मिलता है नशा करने का वह नशे के आदी बन जाते हैं नशे की लत में लग जाते हैं जिस कारण वो शराब सिगरेट यह सब की लत डाल देते हैं और फिर वह बल्कि उन दुखों से छुटकारा पाने के लिए उसका सेवन करते हैं और और ज्यादा दुखी होते रहते हैं और उस चक्कर में सेव ही दुखी नहीं बल्कि उनका पूरा परिवार सदा करता है आपकी क्या राय है इस बारे में कम से कम अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Namaskaar aapaka prashn hai kyon kuchh log chunaav ko dukh hoga saath hee kahate hain to aapako bataana chaahenge dekhie jo kuchh log hain vah ke bure vakt mein bure daur mein apane aap ko itana kamajor samajh lete hain ki vah utsav badhane ke bajaay usase bachane ke raaste khojane lagate hain aur sabase jyaada aasaan raaston ko milata hai nasha karane ka vah nashe ke aadee ban jaate hain nashe kee lat mein lag jaate hain jis kaaran vo sharaab sigaret yah sab kee lat daal dete hain aur phir vah balki un dukhon se chhutakaara paane ke lie usaka sevan karate hain aur aur jyaada dukhee hote rahate hain aur us chakkar mein sev hee dukhee nahin balki unaka poora parivaar sada karata hai aapakee kya raay hai is baare mein kam se kam apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:52
अमन जैसा भी हो आप का सवाल इस प्रकार से क्यों कुछ लोग शराब को दुख का साथी कहते हैं तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है कुछ लोग दारू चंद समय के लिए दुख भुला देती है अल्कोहल ही एक ऐसी चीज है जो आदमी पीता है और दुख भूल जाते हैं पर जब होश ठिकाने आता है तो आदमी फिर दुख याद आ जाता है और फिर से पीता है और यह सिलसिला आदमी का देवड़ा बहुत बेवड़ा बनाने के लिए खास होता है वह देवड़ा बन जाता है इतने शराब को दुखों का साथी बेवड़ो द्वारा कहा गया है चंद्र समय के आराम के लिए आदमी अपनी पूरी जिंदगी और पैसा शराब में बादल जानने वालों तो खुश रहो
Aman jaisa bhee ho aap ka savaal is prakaar se kyon kuchh log sharaab ko dukh ka saathee kahate hain to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai kuchh log daaroo chand samay ke lie dukh bhula detee hai alkohal hee ek aisee cheej hai jo aadamee peeta hai aur dukh bhool jaate hain par jab hosh thikaane aata hai to aadamee phir dukh yaad aa jaata hai aur phir se peeta hai aur yah silasila aadamee ka devada bahut bevada banaane ke lie khaas hota hai vah devada ban jaata hai itane sharaab ko dukhon ka saathee bevado dvaara kaha gaya hai chandr samay ke aaraam ke lie aadamee apanee pooree jindagee aur paisa sharaab mein baadal jaanane vaalon to khush raho

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:27
यह है कि क्यों कुछ लोग शराब को दुख होगा साथ ही बना देते हैं लोग सोचते हैं कि पीकर आपको कुछ पूछने गए यहां के रूप से चेक कराइए हसन रजा हो जाएंगे फटाफट एसी बसों के साथ मेरे प्रयोग पूजन में खेलो भयंकर कष्ट होता था इसके साथ ही धीरे-धीरे जवाब से लीवर खराब हो जाएंगे लीवर खराब हुआ था उसने आपको दर्द बहुत मिलेगा तो खत्म हो जाएंगे
Yah hai ki kyon kuchh log sharaab ko dukh hoga saath hee bana dete hain log sochate hain ki peekar aapako kuchh poochhane gae yahaan ke roop se chek karaie hasan raja ho jaenge phataaphat esee bason ke saath mere prayog poojan mein khelo bhayankar kasht hota tha isake saath hee dheere-dheere javaab se leevar kharaab ho jaenge leevar kharaab hua tha usane aapako dard bahut milega to khatm ho jaenge

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:19
आप कब तक नेट क्यों कुछ लोग शराब को दुख का साथी कहते हैं कि ऐसा होता है कि दुख जो है आदमी को मारता है मारता है परेशान करता है समझ लेना शराब पीने से क्या होता है तो आदमी को नींद आ जाती है वह थोड़ा चेतन दुनिया से मुक्त हो जाता है तो दुखों का जो तात्कालिक प्रभाव होता है वह शराब पीने से आदमी मदहोश हो जाता है बेहोश हो जाता है सो जाता है तो वह दुख का प्रभाव उस पर नहीं पड़ता है कुछ देर फिर से मुक्त रहता है इसीलिए कुछ लोग जो हैं सर आपको दुख का साथी कहते हैं और एक सीमा तक मैं मानता हूं यह सच भी है कि शराब दुखों से भी मुक्ति दिलाती है लेकिन इस नाम पर जो शराब पीने की प्रक्रिया है जो फैशन है प्रचलन है अलग-अलग स्तर बोध का भी पैमाना बन गया शराब पीना वह गलत है विषम परिस्थितियों में शराब शराब एक दवा दी है कि अगर ज्यादा आ रही हो तो शराब कब को ढीला करती है नींद ला देती क्योंकि आप हमें नींद नहीं आती थी ना शराब को की तलाशी के तौर पर फैशन के तौर पर यूज करना एक सीमा तक गलत है
Aap kab tak net kyon kuchh log sharaab ko dukh ka saathee kahate hain ki aisa hota hai ki dukh jo hai aadamee ko maarata hai maarata hai pareshaan karata hai samajh lena sharaab peene se kya hota hai to aadamee ko neend aa jaatee hai vah thoda chetan duniya se mukt ho jaata hai to dukhon ka jo taatkaalik prabhaav hota hai vah sharaab peene se aadamee madahosh ho jaata hai behosh ho jaata hai so jaata hai to vah dukh ka prabhaav us par nahin padata hai kuchh der phir se mukt rahata hai iseelie kuchh log jo hain sar aapako dukh ka saathee kahate hain aur ek seema tak main maanata hoon yah sach bhee hai ki sharaab dukhon se bhee mukti dilaatee hai lekin is naam par jo sharaab peene kee prakriya hai jo phaishan hai prachalan hai alag-alag star bodh ka bhee paimaana ban gaya sharaab peena vah galat hai visham paristhitiyon mein sharaab sharaab ek dava dee hai ki agar jyaada aa rahee ho to sharaab kab ko dheela karatee hai neend la detee kyonki aap hamen neend nahin aatee thee na sharaab ko kee talaashee ke taur par phaishan ke taur par yooj karana ek seema tak galat hai

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
MANISH BHARGAVA Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए MANISH जी का जवाब
Author
1:21
नमस्कार आपका स्वागत क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं ऐसा तो कोई नहीं है जो सर आपको दुख का साथ किया था पर हां यह जरूर है कि कई लोग जो अपने आप पर कंट्रोल नहीं रख पाते जो अपने आप में अपना सामना नहीं कर पाते वह इस प्रकार की चीजों का उपयोग करते हैं क्योंकि शराबी कहीं जिसको पीने के बाद होगा कि कुछ समय तक भाव शुरू हो जाता है उसे कोई होश नहीं रहता उसकी जो भी समस्या चल रही है तो उनको कुछ समय के लिए भूल जाता है कुछ नहीं कर रहे होते हैं इस प्रकार की चीजों का युद्ध करते हैं और वह उसको नाम दे देते हैं क्या दुखों का साथ किए जबकि ऐसा कुछ नहीं है वह सिर्फ और सिर्फ 1 साल से कहा जाए तो बेहोश करने वाली दवा जाती है तो कुछ समय के लिए उन्हें उस चीज के होश से हटा देती है ध्यान भुला देती है कि उनके साथ क्या हो रहा है क्या नहीं हो रहा 1 साल से कहा तो व्यक्ति एक ऐसी स्थिति में पहुंच जाता जैसे जानवर होता है बस उसे खाने और पीने से मौत लीची से कोई मतलब नहीं होता उसके साथ क्या इमोशन है क्या भाव है उन सब को भूल चुका होता है कुछ देर के लिए व्यक्ति निश्चित समस्याओं से घिरा हुआ कुछ समय के लिए उसे कोई समस्या नहीं याद आ रही तो मानता है कि अच्छी चीज है ऐसे कई लोग हैं जिन्हें अच्छी लग सकती है धन्यवाद
Namaskaar aapaka svaagat kyon kuchh log sharaab ko dukhon ka saathee kahate hain aisa to koee nahin hai jo sar aapako dukh ka saath kiya tha par haan yah jaroor hai ki kaee log jo apane aap par kantrol nahin rakh paate jo apane aap mein apana saamana nahin kar paate vah is prakaar kee cheejon ka upayog karate hain kyonki sharaabee kaheen jisako peene ke baad hoga ki kuchh samay tak bhaav shuroo ho jaata hai use koee hosh nahin rahata usakee jo bhee samasya chal rahee hai to unako kuchh samay ke lie bhool jaata hai kuchh nahin kar rahe hote hain is prakaar kee cheejon ka yuddh karate hain aur vah usako naam de dete hain kya dukhon ka saath kie jabaki aisa kuchh nahin hai vah sirph aur sirph 1 saal se kaha jae to behosh karane vaalee dava jaatee hai to kuchh samay ke lie unhen us cheej ke hosh se hata detee hai dhyaan bhula detee hai ki unake saath kya ho raha hai kya nahin ho raha 1 saal se kaha to vyakti ek aisee sthiti mein pahunch jaata jaise jaanavar hota hai bas use khaane aur peene se maut leechee se koee matalab nahin hota usake saath kya imoshan hai kya bhaav hai un sab ko bhool chuka hota hai kuchh der ke lie vyakti nishchit samasyaon se ghira hua kuchh samay ke lie use koee samasya nahin yaad aa rahee to maanata hai ki achchhee cheej hai aise kaee log hain jinhen achchhee lag sakatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
Laxmi devi sant Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Laxmi जी का जवाब
Life coach
3:05
प्रश्न क्यों कुछ लोग शराब को दुख होगा साथ ही कहते हैं कुछ लोग कहते हैं जो कि रियालिटी नहीं है ठीक है अगर सभी लोग मानते हैं तो हो सकता है वह रियालिटी पर कुछ लोग मानते हैं वह वाली थी नहीं है वह उनका भ्रम है कोई भी समस्याएं चाहे मनीष रिलेटेड रिलेशनशिप से रिलेटेड आई शामली में बहुत बड़ी प्रॉब्लम क्यों ना हो जाए कुछ ना कुछ लड़ाई झगड़ा कुछ भी हो हो सकते एक छोटी सी खांसी क्यों ना हो सब यह सच है कि शराब पी लेते हैं सब ठीक हो जाएगा नहीं भाई वह आपका भ्रम है कुछ टाइम के लिए भूल जाओगे उस टाइम के लिए आप नशे में रहोगे आपको लगेगा आपको खांसी नहीं आ रही है जबकि आपको हंसी आ रही है आपको कुछ याद तो रहेगा नहीं अपने दर्द को आप बुलाने के लिए कुछ टाइम के लिए वो शराब तो पी लेते हो लेकिन जब याद आता है तो फिर शराब पीते हो इससे क्या होता है आपने अपने लिए बीमारी खुद चुकी है आप लोगों को लगता है कि लाइफ में जो भी प्रॉब्लम आती है वह प्रॉब्लम है इसको अपनी प्रॉब्लम बना दिया है समस्या नहीं है लाइफ में कोई चीज होती है वह चैलेंज है इस चीज को आप कभी नहीं देखते अभी देखते हैं कभी यह सोचा कि आप धीरे धीरे धीरे करके ग्रोथ करते हो तो चैलेंज भी ऐसे ही होते हैं पहला चेन्नई दूसरा चले धीरे-धीरे हार्ड होते हैं आप की ग्रोथ के लिए होता है यह सारी चीजें लेकिन कभी आपने देखा ही नहीं इसमें जैसे आप देखी नहीं सकते हर चीज को अपनी समझ से बना दी है याद रखें कि अगर आप पीछे हैं तो इसका मतलब यह है कि अभी चैलेंज थोड़ी धीरे हैं ज्यादा बड़े-बड़े आएंगे तो आप कुछ सीखेंगे भी ना क्यों से समस्या बनाकर दारु पीने लगेंगे ठीक है तो सर आप किसी चीज का सलूशन नहीं है यह भ्रम है जो लोगों ने फैला के रखा है और बहुत सारे लोगों के दिमाग में इसे बिल्कुल रियालिटी है करके बना दिया है जबकि एरियल नहीं है यह लोगों के जिंदगी के साथ खिलवाड़ के खेला जा रहा है तो क्यों आप दूसरों की जिंदगी के साथ ऐसा खेलते हैं और ऐसा सोचते हैं इस चीज को आप लोगों को समझना होगा क्योंकि अगर आपने सोचा कि शराब दुख होगा साथ ही आपने पीना शुरु किया और दूसरों को भी बता दिया कि शराब दुखों का साथी है पिला दिया आपने वहां अपना बहुत ही बुरा करना क्रिएट कर लिया और उसे और भूख देंगे इस जन्म में ना सही किसी न किसी जन्म में भूख देंगे क्योंकि आपके एनर्जी हर एक बॉडी में आती है ठीक है बॉडी को तो कभी खत्म नहीं हो सकती हो ना ही उसके कभी जन्म हुआ है तो आप ही बताइए हर एक कर्मा को आप को ही भुगतना होगा ठीक है तो कभी भी यह मत सोचें कि सारा दुख होगा साथी है चैलेंज उसको एक्सेप्ट करना सीखें और चैलेंज जो चैलेंज ऐसा देना उसका सलूशन धुड़े ग्रो करेंगे देखेगा आपका माइंड आपकी सोच और जिस मैटेरियलिस्टिक लाइफ में आप रहते हैं वहां भी आप ग्रो करेंगे बहुत अच्छे से मैंने इसलिए क्लियर किया क्योंकि बहुत सारे लोगों के अंदर यह भ्रम है भ्रम को तोड़ना मेरा काम है थैंक यू सो मच

bolkar speaker
क्यों कुछ लोग शराब को दुखों का साथी कहते हैं?Kyun Kuch Log Sharab Ko Dukhon Ka Saathi Kehte Hain
Manju Bolkar App
Top Speaker,Level 88
सुनिए Manju जी का जवाब
Unknown
2:09
नमस्कार आप ने सवाल पूछा है कि क्यों कुछ लोग शराब को दुख होगा साथ ही कहते हैं ऐसा नहीं कि दुख का साथी है लोग बनाने के लिए शराब पीते हैं पार्टी में तो एक बोतल शराब की धोती है लेकिन ज्यादातर आपने देखा होगा कि जो दुखी हो जाता है अपनी जिंदगी से जिंदगी में सफलता महसूस होती है क्या प्यार जब तुम प्यार में धोखा मिल जाता है तो शराब का सहारा लेता है तू इस तरह से शराब विपरीत काम करता है लेकिन रोज शराब के नशे में अपने गम को भुलाने की कोशिश में लगे रहते हैं क्योंकि शराब पीने के बाद इंसान जो है अपने होशो हवास में नहीं रहता है वह अलग ही दुनिया में चले जाता है उसे अपने जीवन में जो भी चल रहा है जो भी तनाव से मुक्त हो जाता है क्योंकि वह अलग ही दुनिया में होता है अपने होशो हवास खो देता है तो ऐसे में जितना ज्यादा शराब आ जाएगा उतना ज्यादा शराब जो है इंसान की रगों में इस तरह फैल जाता है का नशा इतना बुरा होता है कि इंसान को एकदम लाचार और बेबस कर देता है कि वह इतना बेबस हो जाता है कि इसी कार्य करने का लायक ही नहीं होता है लेकिन इंसानियत भूल जाता है बस अपने दुखों को भुलाने के लिए उस पल को और जब वह शराब पीता है मशीन में अपने आप को दबाने के लिए शराब का सहारा लेता है लेकिन अक्सर शराब जो है इंसान को अपने अस्तित्व ही मिटाने पर तुली मतलब इतना विपरीत काम करता है कि फ्रांस के जो दिमाग जो है काम करना ही बंद करता है तो यह बिल्कुल गलत है शराब जो है इसे इस से जितना दूर रह सकते हैं उतना अच्छा होता है लेकिन दुखी इंसान जो है शराब के नशे में अपनी परिस्थिति को भुलाने की कोशिश करने के लिए नशा जो है इंसान को इंसान की सोचने की क्षमता जो एक कमजोर कर देती है धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • शराब का उपयोग क्यों करते हैं, शराब को दुखों का साथी कहते हैं
URL copied to clipboard