#भारत की राजनीति

bolkar speaker

किसान और उसके आलसी बेटे की कहानी बताओ ?

Kisan Aur Uske Alsi Bete Ki Kahani Batao
sumit kumar gupta Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए sumit जी का जवाब
Student
2:49
किसान था उसके चार बेटे थे और चारों बेटी बहुत ही आलसी थे वे कुछ भी कामकाज नहीं करते थे किसान दिन भर अपने खेत में काम करता था और कोई भी लड़का उसका हाथ बनाने नहीं आता था किरण बहुत चिंतित रहता था कि उसके मरने के बाद उसके चारों बेटों का क्या होगा यही बात उसे दिन-रात खाई जाती थी 1 दिन किसान बहुत बीमार हो गया था उसे पता चल गया था कि अब उसका अंतिम समय निकट है उसने अपने चारों बेटों को बुलाया और कहा कि मैं जानता हूं मेरे मरने के बाद तुम चारों कुछ नहीं करोगे तुम्हारी खाने पीने का कोई भी ठिकाना नहीं रहेगा इसलिए मैंने खेत में बहुत सारा धन छुपा कर रखा हुआ है तो मैं धन खोज कर निकाल लेना और अपनी जिंदगी को आराम से जीना इतना कहने के बाद किरण की मृत्यु हो गई और किसान के चारों बेटे बहुत दुखी हो गए परंतु अब क्या हो सकता था कुछ दिन तो वह घर में रखा हुआ नाच खाते रहे लेकिन आखरी में वह भी खत्म हो गया उन्हें सोचा अब जो हमें खेत को खोदकर निकालना ही पड़ेगा इसके अलावा आप कुछ कर नहीं सकते वह सब सुबह उठे और खेत को खोजने पहुंच गए खेत बहुत बड़ा था और उनमें से किसी को भी इस बात का पता नहीं था कि खजाना किस क्षेत्र में किस हिस्से में छुपा हुआ है खेत के जिस कारण उन्हें पूरा खेत खोलना पड़ा यह क्रम 545 दिन तक चलता रहा चालू बेटे सुबह उठते और खजाने के लालच में खेत को खोते रहते आखिर में उन्होंने सारा खेत अच्छे से खोद दिया लेकिन उन्हें खजाना कहीं भी नहीं मिला वह बहुत दुखी हुए फिर उन्होंने सोचा जब हमने इतनी सारी मेहनत कर ली है तो क्यों ना आप खेत में बीज डाल ही दिया जाए जिसके फसल अच्छी हो जाएगी और हम फसल बेचकर कुछ पैसा कमा लेंगे जिससे नहीं भोजन प्राप्त होगा आगे की फिर आगे देखेंगे ऐसा सोचकर चारों ने मिलकर बीज बोए खेत की बहुत ही अच्छे से देखभाल की भेज दे उनका हालत कम होने लगा जो जो फसल बढ़ने लगी उसे दे कचालू बेटे हल्का नहीं लगे उन्हें अच्छा लगने लगा और आखिर दिन उनकी फसल पक कर तैयार हो गई और वे चारों उस फसल को काटकर मंडी में ले गए जहां उन्हें फसल के बहुत अच्छे दाम मिले इन सब बातों के बाद जो मुख्य बात यह होती है कि खजाना खेत में छुपा ही नहीं था खजाना तो काम करने के परिश्रम पर ही था जब तक आप हाथ पैर नहीं चलाएंगे आपको कोई खजाना नहीं मिल सकता तो किसान के बच्चों को बाद में समझ में आया कि खेत में तो खजाना कहां है इस प्रकार कहानी का मौलिक रूप यही था कि परिश्रम करना जरूरी है हालत करने से या घर बैठे से कुछ नहीं होता
Kisaan tha usake chaar bete the aur chaaron betee bahut hee aalasee the ve kuchh bhee kaamakaaj nahin karate the kisaan din bhar apane khet mein kaam karata tha aur koee bhee ladaka usaka haath banaane nahin aata tha kiran bahut chintit rahata tha ki usake marane ke baad usake chaaron beton ka kya hoga yahee baat use din-raat khaee jaatee thee 1 din kisaan bahut beemaar ho gaya tha use pata chal gaya tha ki ab usaka antim samay nikat hai usane apane chaaron beton ko bulaaya aur kaha ki main jaanata hoon mere marane ke baad tum chaaron kuchh nahin karoge tumhaaree khaane peene ka koee bhee thikaana nahin rahega isalie mainne khet mein bahut saara dhan chhupa kar rakha hua hai to main dhan khoj kar nikaal lena aur apanee jindagee ko aaraam se jeena itana kahane ke baad kiran kee mrtyu ho gaee aur kisaan ke chaaron bete bahut dukhee ho gae parantu ab kya ho sakata tha kuchh din to vah ghar mein rakha hua naach khaate rahe lekin aakharee mein vah bhee khatm ho gaya unhen socha ab jo hamen khet ko khodakar nikaalana hee padega isake alaava aap kuchh kar nahin sakate vah sab subah uthe aur khet ko khojane pahunch gae khet bahut bada tha aur unamen se kisee ko bhee is baat ka pata nahin tha ki khajaana kis kshetr mein kis hisse mein chhupa hua hai khet ke jis kaaran unhen poora khet kholana pada yah kram 545 din tak chalata raha chaaloo bete subah uthate aur khajaane ke laalach mein khet ko khote rahate aakhir mein unhonne saara khet achchhe se khod diya lekin unhen khajaana kaheen bhee nahin mila vah bahut dukhee hue phir unhonne socha jab hamane itanee saaree mehanat kar lee hai to kyon na aap khet mein beej daal hee diya jae jisake phasal achchhee ho jaegee aur ham phasal bechakar kuchh paisa kama lenge jisase nahin bhojan praapt hoga aage kee phir aage dekhenge aisa sochakar chaaron ne milakar beej boe khet kee bahut hee achchhe se dekhabhaal kee bhej de unaka haalat kam hone laga jo jo phasal badhane lagee use de kachaaloo bete halka nahin lage unhen achchha lagane laga aur aakhir din unakee phasal pak kar taiyaar ho gaee aur ve chaaron us phasal ko kaatakar mandee mein le gae jahaan unhen phasal ke bahut achchhe daam mile in sab baaton ke baad jo mukhy baat yah hotee hai ki khajaana khet mein chhupa hee nahin tha khajaana to kaam karane ke parishram par hee tha jab tak aap haath pair nahin chalaenge aapako koee khajaana nahin mil sakata to kisaan ke bachchon ko baad mein samajh mein aaya ki khet mein to khajaana kahaan hai is prakaar kahaanee ka maulik roop yahee tha ki parishram karana jarooree hai haalat karane se ya ghar baithe se kuchh nahin hota

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • किसान और उसके चार बेटों की कहानी, एक बूढ़ा किसान तीन आलसी बेटे, किसान की कहानी और हिंदी में उसके चार बेटों
URL copied to clipboard