#undefined

bolkar speaker

बाटी चोखा मूल रूप से किस राज्य का भोजन है और यह कैसे अस्तित्व में आया?

Baati Chokha Mool Roop Se Kis Raajy Ka Bhojan Hai Aur Yah Kaise Astitv Mein Aaya
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:28
पशुपालन की बाटी चोखा मूल रूप से किस राज्य का भजन हो रही है उनका बायतु सिटी चोखा बाटी चोखा मूल उत्तर प्रदेश राज्य का विषय है और अगर बाटी चौकी की बात की जाए तो सबसे अच्छा बाटी चोखा शायद तक उत्तर प्रदेश के काशी में मिलता
Pashupaalan kee baatee chokha mool roop se kis raajy ka bhajan ho rahee hai unaka baayatu sitee chokha baatee chokha mool uttar pradesh raajy ka vishay hai aur agar baatee chaukee kee baat kee jae to sabase achchha baatee chokha shaayad tak uttar pradesh ke kaashee mein milata

और जवाब सुनें

bolkar speaker
बाटी चोखा मूल रूप से किस राज्य का भोजन है और यह कैसे अस्तित्व में आया?Baati Chokha Mool Roop Se Kis Raajy Ka Bhojan Hai Aur Yah Kaise Astitv Mein Aaya
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:34
हेलो रिबन स्वागत है आपका आपका दिल से बाटी चोखा मोड में किस राज्य का भोजन है और यह कैसे अस्तित्व में आया तो सेंड से बाटी चोखा बिहार का बिहार राज्य का भोजन है अरे भाई पर ज्यादा बनाया और खाया जाता है और यह बिहार झारखंड ऐसी जगह पर बाटी चोखा बहुत ही बनाया जाता है और बहुत ही चाव से खाया जाता है और जब यह सब लोगों ने चखा सब को अच्छा लगा तो यह सब जगह बहुत फेमस हो गया है तो सभी लोग दाल बाटी बाटी चोखा इसे टाइप से बनाकर सब खाते हैं धन्यवाद
Helo riban svaagat hai aapaka aapaka dil se baatee chokha mod mein kis raajy ka bhojan hai aur yah kaise astitv mein aaya to send se baatee chokha bihaar ka bihaar raajy ka bhojan hai are bhaee par jyaada banaaya aur khaaya jaata hai aur yah bihaar jhaarakhand aisee jagah par baatee chokha bahut hee banaaya jaata hai aur bahut hee chaav se khaaya jaata hai aur jab yah sab logon ne chakha sab ko achchha laga to yah sab jagah bahut phemas ho gaya hai to sabhee log daal baatee baatee chokha ise taip se banaakar sab khaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
बाटी चोखा मूल रूप से किस राज्य का भोजन है और यह कैसे अस्तित्व में आया?Baati Chokha Mool Roop Se Kis Raajy Ka Bhojan Hai Aur Yah Kaise Astitv Mein Aaya
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
3:58
कपास में बाटी चोखा मूल रूप से किस राज्य का भोजन है यह कैसे अस्तित्व में आया कि बाटी चोखा जो है यह मूल रूप से पूर्वांचल बलिया देवरिया गाजीपुर गोरखपुर कि थोड़ा सो रहा है तो लखनऊ से आगे तक का जो हिस्सा है उधर बिहार का थोड़ा सा हिस्सा यहां का मुख्य भोजन है पंजाब में अवस्थित में आने की बात की है कि पहले आदमी घर से बाहर निकलता था तो पोटलिया रेस्टोरेंट होते नहीं थे खानपान में भी लोग घर से खाना लेकर किस सत्तू है लाई है शमा है उस पका हुआ भोजन लेकर चलते थे जो जो 4 दिन तक चलता था इसी करके कहीं तीर्थ यात्रा पर जाते थे रिश्तेदारी आदमी भी जाते तो रिश्तो में भी कभी-कभी लोग दूसरों का खाना पसंद नहीं करते उसे बारात आ गई होती थी तो वह खुले में अपना भोजन बनाया करते थे अब लकड़ी के रूप में प्रयोग करने का उपयोग होता था तो संडे को पवित्र माना जाता था जलाकर के उसी में मिट्टी के बर्तन होते थे प्रायर मिट्टी के बर्तन में दाल पका ली जाती थी और इसके बाद फिर उसी रात में आते हो भूत करके बाटी पकाया जाता था और आलू तथा बैनर लगाया जाता था जिसे बाद में पक जाने पर नकल करके भुर्ता बना लिया जाता था जिसे चौका कहा जाता था कि सिर्फ यह है कि बिहार और पूर्वी उत्तर प्रदेश में ही बनता है जिसमें कच्चा तेल मसाला भी डाल दिया जाता है ठीक है तो एक तरह से धार्मिक अनुष्ठान के रूप में अपने आप को साथियों ग्रुप से भोजन करने के लिए इसका प्रयोग होता था साधु-संत आते थे तो गांव से बाहर लगाते थे या गांव के कुछ बच्चे भी कभी आनंद की स्थिति में होते थे तो घर से बाहर पकाया करते थे अभी आपने बिहार में तो सब तू आज डाल करके इसे और बढ़िया ढंग से बनाया जाता है समझे आपका और कभी अभी मैंने देखा है तो किला का मेरा वही है किधर की औरतें आदमी जब तक जाती है तो घर के लोग और पुरुष वर्ग के लोग होते हैं वह घर के बाहर है यह आयोजन करते हैं और आप कब खाती करके फिर घर की औरतों के लिए भेजा जाता 30 दिन ऐसा भी होता है कि जिस में बाटी दाल और गुर्दा ज्योति आलू और बैगन का मुद्दा होता है उसमें कच्चे सरसों के तेल को डाल कर के एक विशेष प्रकार की मृत्यु होती बनाया जाता है बॉडी को भी एक विशेष प्रकार के शब्द उसके द्वारा भरकर के पकाया जाता जो बड़ा स्वादिष्ट होता है और इसीलिए कुछ लोग मजाक करते हैं कि बिहार में तुरंत आ भोजनालय तो जो शब्द केवल भूल कर के रखा जाता है और पानी में घोलकर के या खुद करके खाया जाता है वही सब तू जो है वह कभी कोई बात नहीं भरा जाता तो बहुत ही स्वादिष्ट होता है और अब महानगरों में इलाहाबाद में खराब जाए बनारस में जाएं एक फैशन बन चुका है और लुटेरों पर से लेकर के और बड़े-बड़े होटलों में करते राजस्थान में भी इसका काफी प्रयोग मैंने देखा है लेकिन यहां दाल बाटी चूरमा चलता है वहां राहर की दाल ज्यादा चलती है उड़द मूंग की दाल और उसके साथ चूरमा जो कि आटे का जो मामा होता कौवे के साथ या बेसन का खोल के साथ मनाया गया एक मिष्ठान ना होता है इसमें गोभी और ड्राई फ्रूट्स का उपयोग किया जाता है तो यह पूरे देश में इस तरह से धीरे-धीरे कम से कम मध्य भाग में तो काफी का प्रचलन बढ़ रहा था
Kapaas mein baatee chokha mool roop se kis raajy ka bhojan hai yah kaise astitv mein aaya ki baatee chokha jo hai yah mool roop se poorvaanchal baliya devariya gaajeepur gorakhapur ki thoda so raha hai to lakhanoo se aage tak ka jo hissa hai udhar bihaar ka thoda sa hissa yahaan ka mukhy bhojan hai panjaab mein avasthit mein aane kee baat kee hai ki pahale aadamee ghar se baahar nikalata tha to potaliya restorent hote nahin the khaanapaan mein bhee log ghar se khaana lekar kis sattoo hai laee hai shama hai us paka hua bhojan lekar chalate the jo jo 4 din tak chalata tha isee karake kaheen teerth yaatra par jaate the rishtedaaree aadamee bhee jaate to rishto mein bhee kabhee-kabhee log doosaron ka khaana pasand nahin karate use baaraat aa gaee hotee thee to vah khule mein apana bhojan banaaya karate the ab lakadee ke roop mein prayog karane ka upayog hota tha to sande ko pavitr maana jaata tha jalaakar ke usee mein mittee ke bartan hote the praayar mittee ke bartan mein daal paka lee jaatee thee aur isake baad phir usee raat mein aate ho bhoot karake baatee pakaaya jaata tha aur aaloo tatha bainar lagaaya jaata tha jise baad mein pak jaane par nakal karake bhurta bana liya jaata tha jise chauka kaha jaata tha ki sirph yah hai ki bihaar aur poorvee uttar pradesh mein hee banata hai jisamen kachcha tel masaala bhee daal diya jaata hai theek hai to ek tarah se dhaarmik anushthaan ke roop mein apane aap ko saathiyon grup se bhojan karane ke lie isaka prayog hota tha saadhu-sant aate the to gaanv se baahar lagaate the ya gaanv ke kuchh bachche bhee kabhee aanand kee sthiti mein hote the to ghar se baahar pakaaya karate the abhee aapane bihaar mein to sab too aaj daal karake ise aur badhiya dhang se banaaya jaata hai samajhe aapaka aur kabhee abhee mainne dekha hai to kila ka mera vahee hai kidhar kee auraten aadamee jab tak jaatee hai to ghar ke log aur purush varg ke log hote hain vah ghar ke baahar hai yah aayojan karate hain aur aap kab khaatee karake phir ghar kee auraton ke lie bheja jaata 30 din aisa bhee hota hai ki jis mein baatee daal aur gurda jyoti aaloo aur baigan ka mudda hota hai usamen kachche sarason ke tel ko daal kar ke ek vishesh prakaar kee mrtyu hotee banaaya jaata hai bodee ko bhee ek vishesh prakaar ke shabd usake dvaara bharakar ke pakaaya jaata jo bada svaadisht hota hai aur iseelie kuchh log majaak karate hain ki bihaar mein turant aa bhojanaalay to jo shabd keval bhool kar ke rakha jaata hai aur paanee mein gholakar ke ya khud karake khaaya jaata hai vahee sab too jo hai vah kabhee koee baat nahin bhara jaata to bahut hee svaadisht hota hai aur ab mahaanagaron mein ilaahaabaad mein kharaab jae banaaras mein jaen ek phaishan ban chuka hai aur luteron par se lekar ke aur bade-bade hotalon mein karate raajasthaan mein bhee isaka kaaphee prayog mainne dekha hai lekin yahaan daal baatee choorama chalata hai vahaan raahar kee daal jyaada chalatee hai udad moong kee daal aur usake saath choorama jo ki aate ka jo maama hota kauve ke saath ya besan ka khol ke saath manaaya gaya ek mishthaan na hota hai isamen gobhee aur draee phroots ka upayog kiya jaata hai to yah poore desh mein is tarah se dheere-dheere kam se kam madhy bhaag mein to kaaphee ka prachalan badh raha tha

bolkar speaker
बाटी चोखा मूल रूप से किस राज्य का भोजन है और यह कैसे अस्तित्व में आया?Baati Chokha Mool Roop Se Kis Raajy Ka Bhojan Hai Aur Yah Kaise Astitv Mein Aaya
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:16
हंसने की भर्ती जो का मूल रूप से किस राज्य का भव्य तरीके से अस्तित्व में आया तक मेरी जानकारी है बिहार का भोजन है और अस्तित्व में कैसे आया उसका तो देखिए मुझे कोई जानकारी नहीं है
Hansane kee bhartee jo ka mool roop se kis raajy ka bhavy tareeke se astitv mein aaya tak meree jaanakaaree hai bihaar ka bhojan hai aur astitv mein kaise aaya usaka to dekhie mujhe koee jaanakaaree nahin hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बाटी-चोखा मूल रूप से किस राज्य का है,लिट्टी चोखा किस राज्य का प्रसिद्ध भोजन है,लिट्टी-चोखा के बारे में बातें
URL copied to clipboard