#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?

Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Divya Singh  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Divya जी का जवाब
Mentor teacher at DoE, Delhi
5:00
7 प्रश्न है क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था जी नहीं यह पूरी तरीके से गलत हुआ और हर भारतीय की भावना को ठेस पहुंचे यह कुछ छोटी सोच वाले किसी संगठन या किसी समूह के द्वारा या कुछ व्यक्तियों के द्वारा ऐसा किया गया अमित के पीछे तो यह जांच का विषय है कि इसके पीछे क्या कारण रहे क्यों ऐसा किया गया किंतु किसी देश के एक ऐसे भवन पर झंडा फहराना जहां पर प्रतीक रूप में आजादी का स्वरूप माना गया धनी देश के स्वतंत्र होने पर देश का ध्वज तिरंगा लाल किले से फहराया तो यह स्वतंत्रता का प्रतीक है एक स्वतंत्र देश का एक राष्ट्र का प्रतीक यहां पर झंडा फहराने का मतलब होता है ऐसा दिखाना चाहती जैसे मैंने रात को ही पता ही नहीं पड़ती है
7 prashn hai kya laal kile par dhaarmik jhanda phaharaana chaahie tha jee nahin yah pooree tareeke se galat hua aur har bhaarateey kee bhaavana ko thes pahunche yah kuchh chhotee soch vaale kisee sangathan ya kisee samooh ke dvaara ya kuchh vyaktiyon ke dvaara aisa kiya gaya amit ke peechhe to yah jaanch ka vishay hai ki isake peechhe kya kaaran rahe kyon aisa kiya gaya kintu kisee desh ke ek aise bhavan par jhanda phaharaana jahaan par prateek roop mein aajaadee ka svaroop maana gaya dhanee desh ke svatantr hone par desh ka dhvaj tiranga laal kile se phaharaaya to yah svatantrata ka prateek hai ek svatantr desh ka ek raashtr ka prateek yahaan par jhanda phaharaane ka matalab hota hai aisa dikhaana chaahatee jaise mainne raat ko hee pata hee nahin padatee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:34
आदर्श वाले के लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है लाल किले पर हमारे देश का तिरंगा झंडा फहराया जाता है ना कि दूसरे दिन में इसलिए लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना नरेंद्र मोदी भारत की आत्मा को बहुत बड़ी चोट लगी है धन्यवाद शादी में भी खुश रहो
Aadarsh vaale ke laal kile par dhaarmik jhanda phaharaana chaahie tha to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai laal kile par hamaare desh ka tiranga jhanda phaharaaya jaata hai na ki doosare din mein isalie laal kile par dhaarmik jhanda phaharaana narendr modee bhaarat kee aatma ko bahut badee chot lagee hai dhanyavaad shaadee mein bhee khush raho

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:56
आरा का प्रश्न के लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था तो आपको बताना चाहिए लेकिन यहां पर सबसे पहली चीज की जो प्रतीक है लाल किला जहां से भारत के जो आजादी का दिन होता है 15 अगस्त उस दिन वहां पर तिरंगा फहराया जाता है और जिस दिन में फहराया गया धार्मिक झंडा वजन 26 जनवरी गणतंत्र दिवस था और भारतीय झंडे को ना लगा कर के किसी धर्म या पंथ या किसी संप्रदाय का झंडा वहां लगा देना यह सरासर अपमान ही है भारत का और भारत के झंडे का भी अब जस्टिफाई करने को आप उसमें करते रहिए कि हमने ऐसा किया वैसा किया तो उसकी कोई वह नहीं है ओवरऑल अगर आप देखेंगे इन टोटलिटी देखेंगे तो आपको वहां पर गलत ही दिखाई देगा आपकी क्या राय इस बारे में कनेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka prashn ke laal kile par dhaarmik jhanda phaharaana chaahie tha to aapako bataana chaahie lekin yahaan par sabase pahalee cheej kee jo prateek hai laal kila jahaan se bhaarat ke jo aajaadee ka din hota hai 15 agast us din vahaan par tiranga phaharaaya jaata hai aur jis din mein phaharaaya gaya dhaarmik jhanda vajan 26 janavaree ganatantr divas tha aur bhaarateey jhande ko na laga kar ke kisee dharm ya panth ya kisee sampradaay ka jhanda vahaan laga dena yah saraasar apamaan hee hai bhaarat ka aur bhaarat ke jhande ka bhee ab jastiphaee karane ko aap usamen karate rahie ki hamane aisa kiya vaisa kiya to usakee koee vah nahin hai ovarol agar aap dekhenge in totalitee dekhenge to aapako vahaan par galat hee dikhaee dega aapakee kya raay is baare mein kanekshan apanee raay jarur vyakt karen meree shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Pt. जी का जवाब
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:08
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था तो दोस्तों लाल किला एक प्रकार से पूरे भारत को दर्शाता है भारत का प्रतिनिधित्व करता है क्योंकि यहां से ही 15 अगस्त को झंडा फहराया जाता है तो इसीलिए उपद्रवियों ने इस स्थान को चुना कि भारत की बेइज्जती हो सके भारत का नाम खराब हो सके और वहां पर धार्मिक झंडा फहराया जो कि बिल्कुल अनुचित है उस दिन सम्मान 26 जनवरी पर हम अपने सैनिकों का करते हैं जो शहीद हुए हैं देश की आजादी में उनका सम्मान करते हैं लेकिन जो भी हुआ गलत हुआ वह इतिहास में काले अक्षरों द्वारा छप चुका है और बहुत ही निंदनीय था यह धन्यवाद
Namaskaar doston prashn hai ki kya laal kile par dhaarmik jhanda phaharaana chaahie tha to doston laal kila ek prakaar se poore bhaarat ko darshaata hai bhaarat ka pratinidhitv karata hai kyonki yahaan se hee 15 agast ko jhanda phaharaaya jaata hai to iseelie upadraviyon ne is sthaan ko chuna ki bhaarat kee beijjatee ho sake bhaarat ka naam kharaab ho sake aur vahaan par dhaarmik jhanda phaharaaya jo ki bilkul anuchit hai us din sammaan 26 janavaree par ham apane sainikon ka karate hain jo shaheed hue hain desh kee aajaadee mein unaka sammaan karate hain lekin jo bhee hua galat hua vah itihaas mein kaale aksharon dvaara chhap chuka hai aur bahut hee nindaneey tha yah dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:33
राकेश वाल्मीकि क्या लाल किले पर झंडा फहराना चाहिए तो मेरे चाचू लाल किले पर धार्मिक केंद्र मंजूर नहीं किया जा सकता है क्योंकि अगर अभी कोई वर्तमान में एक जाति का कोई अंदर होता है तो वह जनता लेकर पहुंच जाएंगे लाल किले पर फहराना इसलिए ओशियन को ध्यान में रखते हुए मेरे पास से इस तरह की घिनौनी हरकत नहीं करनी चाहिए थी
Raakesh vaalmeeki kya laal kile par jhanda phaharaana chaahie to mere chaachoo laal kile par dhaarmik kendr manjoor nahin kiya ja sakata hai kyonki agar abhee koee vartamaan mein ek jaati ka koee andar hota hai to vah janata lekar pahunch jaenge laal kile par phaharaana isalie oshiyan ko dhyaan mein rakhate hue mere paas se is tarah kee ghinaunee harakat nahin karanee chaahie thee

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:29
नमस्कार दोस्तों इस जमाने क्या लाल किले पर झंडा फहराने से भी पूछेंगे वह मतलब यही कहेगा कि बिल्कुल नहीं खाना चाहिए था मेरी बात हुई क्या है कि एक देश की संपत्ति हो नहीं पाया जाता किसी भी धर्म का झंडा नहीं फहराया जाता है जैसा कि आप जानते हैं कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है यहां पर सभी धर्मों का सामान आदर किया जाता है तो मगर आप अपना धर्म झंडा फहरा रहे हैं दूसरे धर्म के लोगों को कैसे लिखेंगे क्या हुआ कि आप अपना दिल बेकरार है इस पर तो सिर्फ और सिर्फ तिरंगा फहराना चाहिए चाहिए था तो हमें गलत है इस तरीके से तो मतलब आप धरना प्रदर्शन करें थोड़ी ना कि आप इस देश की धरोहर है उस पर जाकर के कब्जा करके आप जबरदस्ती अपनी धर्म का झंडा बार आएंगे तो ऐसा करेंगे तो आप हमको मिले हो जो भी आप का समर्थन करते हैं वह भी समर्थन नहीं करेंगे परिणाम शुरुआत के जो अधिकारी को नहीं मिल पाएंगे क्योंकि अधिकार पाने के लिए आप के समर्थक उन्हें बहुत जरूरी है देखिए समर्थक कभी आपके बनेंगे जब कोई अच्छा काम करेंगे समाज के हित के लिए काम करेंगे ऐसा थोड़ी ना किस समाज से बैग लेकर गया दिखा दे सकते हैं तो आपको ऐसा बिल्कुल नहीं फेसबुक पर तो उम्मीद करता हूं उस सवाल का जवाब अच्छा लगा धन्यवाद
Namaskaar doston is jamaane kya laal kile par jhanda phaharaane se bhee poochhenge vah matalab yahee kahega ki bilkul nahin khaana chaahie tha meree baat huee kya hai ki ek desh kee sampatti ho nahin paaya jaata kisee bhee dharm ka jhanda nahin phaharaaya jaata hai jaisa ki aap jaanate hain ki bhaarat ek dharmanirapeksh desh hai yahaan par sabhee dharmon ka saamaan aadar kiya jaata hai to magar aap apana dharm jhanda phahara rahe hain doosare dharm ke logon ko kaise likhenge kya hua ki aap apana dil bekaraar hai is par to sirph aur sirph tiranga phaharaana chaahie chaahie tha to hamen galat hai is tareeke se to matalab aap dharana pradarshan karen thodee na ki aap is desh kee dharohar hai us par jaakar ke kabja karake aap jabaradastee apanee dharm ka jhanda baar aaenge to aisa karenge to aap hamako mile ho jo bhee aap ka samarthan karate hain vah bhee samarthan nahin karenge parinaam shuruaat ke jo adhikaaree ko nahin mil paenge kyonki adhikaar paane ke lie aap ke samarthak unhen bahut jarooree hai dekhie samarthak kabhee aapake banenge jab koee achchha kaam karenge samaaj ke hit ke lie kaam karenge aisa thodee na kis samaaj se baig lekar gaya dikha de sakate hain to aapako aisa bilkul nahin phesabuk par to ummeed karata hoon us savaal ka javaab achchha laga dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:23
हेलो शिवानी स्वागत है आपका आपका प्रश्न के लाल किले पर धार्मिक मेंढक बनाना चाहिए था जी नहीं फ्रेंड यह बिल्कुल गलत था लाल किले पर कोई भी धार्मिक झंडा नहीं चलाना चाहिए लाल किले पर हमारा राष्ट्रीय ध्वज फहराया जाता है हमारा तिरंगा झंडा ही लाल किले पर फहराया जाता है उसी को फैलाना चाहिए ना की किसी धार्मिक मंडे को यह बिल्कुल गलत किया गया था धन्यवाद
Helo shivaanee svaagat hai aapaka aapaka prashn ke laal kile par dhaarmik mendhak banaana chaahie tha jee nahin phrend yah bilkul galat tha laal kile par koee bhee dhaarmik jhanda nahin chalaana chaahie laal kile par hamaara raashtreey dhvaj phaharaaya jaata hai hamaara tiranga jhanda hee laal kile par phaharaaya jaata hai usee ko phailaana chaahie na kee kisee dhaarmik mande ko yah bilkul galat kiya gaya tha dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:31
मेरा मानना है कि लाल किले पर ध्यान में झंडा बिल्कुल नहीं पर आना चाहिए क्योंकि हमारे पहुंचने तक में लिखा है कि इंडिया की सेकुलर कंट्री है यहां पर कोई भी एक धर्म बढ़कर नहीं है किसी भी दे हमारे देश से ज्ञानी चाहे हिंदू जनसंख्या को ज्यादा हो मैं चैटिंग वाले कितना पिया मतलब उसे कल कहते हैं और सभी को समान दृष्टि से सभी को समान सर्विसेज सभी को समान अपॉर्चुनिटी प्रदान करते हैं तो कॉन्स्टिट्यूशन तक में लिखा हुआ है और धार्मिक झंडा फहराने से खासकर लाल किले पर लाल झंडा घर पर आ रहा है तो वह सीधा सीधा कहना चाह रहा है कि वह कौन स्टेशन को नहीं मानता वह नहीं मानता कि हमारा भारत अब तक व्हीलर कंट्रीज है क्योंकि हमारा भारत है वह ऐसा नहीं है कि हमने किधर आओगे की लैंग्वेज हो एक ही कई जरूरत नहीं थी तो भारत की 930 और चीज है और वेस्टइंडीज को अलग-अलग जगह लगाया है और अगर हमें कहने लगे कि सबको एक ही भाषा बोलने हिंदी बोलने सभी को एक ही धर्म है जो हमारी तो नींद है कि डाइवर्सिटी न्यू भर्ती कब है
Mera maanana hai ki laal kile par dhyaan mein jhanda bilkul nahin par aana chaahie kyonki hamaare pahunchane tak mein likha hai ki indiya kee sekular kantree hai yahaan par koee bhee ek dharm badhakar nahin hai kisee bhee de hamaare desh se gyaanee chaahe hindoo janasankhya ko jyaada ho main chaiting vaale kitana piya matalab use kal kahate hain aur sabhee ko samaan drshti se sabhee ko samaan sarvisej sabhee ko samaan aporchunitee pradaan karate hain to konstityooshan tak mein likha hua hai aur dhaarmik jhanda phaharaane se khaasakar laal kile par laal jhanda ghar par aa raha hai to vah seedha seedha kahana chaah raha hai ki vah kaun steshan ko nahin maanata vah nahin maanata ki hamaara bhaarat ab tak vheelar kantreej hai kyonki hamaara bhaarat hai vah aisa nahin hai ki hamane kidhar aaoge kee laingvej ho ek hee kaee jaroorat nahin thee to bhaarat kee 930 aur cheej hai aur vestindeej ko alag-alag jagah lagaaya hai aur agar hamen kahane lage ki sabako ek hee bhaasha bolane hindee bolane sabhee ko ek hee dharm hai jo hamaaree to neend hai ki daivarsitee nyoo bhartee kab hai

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Deepak Sharma Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Deepak जी का जवाब
संस्कृतप्रचारक, संस्कृतभारती जयपुरमहानगर प्रचारप्रमुख और सन्देशप्रमुख
2:06
नमस्कार मित्र आप ने प्रश्न किया है क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था मित्र लाल किला जो है यह एक राष्ट्रीय धरोहर है इसके ऊपर केवल एक देश का जो ध्वज है वही वहां पर लहरा सकता है यह कोई मंदिर मस्जिद गुरुद्वारा चर्च ऐसा कोई नहीं है मतलब की है कोई धार्मिक स्थल नहीं है इसके ऊपर धार्मिक ध्वज को लहराया गया था यह बिल्कुल ही देखिए सही नहीं है फिर उन्होंने किसानों ने किया क्या वह किसान जिसने फैलाया किसान है भी या नहीं यह किसको पता पर जब वहां पर तिरंगा लहरा रहा है भारत देश का राष्ट्रीय ध्वज वहां पर ले जा रहा है तो उसे उतारकर के धार्मिक झंडे को लगाना यह तो बिल्कुल ही गलत है यह कर्म जो उन्होंने किए थे यह काम जिसने किया उससे वैसे यह बिल्कुल भी नहीं करना था पर जब किया है तो उसकी सजा भी उसे मिलनी चाहिए क्योंकि हम जिस देश में रहते हैं उस देश के राष्ट्रीय ध्वज को तार करके और एक धर्म का धार्मिक झंडा जो है उसे वह लगा रहे थे यह 1 तरीके से देश विरोधी कार्य है इसमें देश का अपमान देश के राष्ट्रीय ध्वज का अपमान किया गया है यह बिल्कुल भी उन्हें वहां किसानों को महा पर फिर आना नहीं चाहिए था क्योंकि यह एक राष्ट्रीय धरोहर है ना कि कोई धार्मिक कल जहां पर किसी भी धर्म का झंडा दादा जय महाकाल लहराए जब राष्ट्रीय धरोहर है वहां पर राष्ट्रीय ध्वज जिले रहेगा धन्यवाद
Namaskaar mitr aap ne prashn kiya hai kya laal kile par dhaarmik jhanda phaharaana chaahie tha mitr laal kila jo hai yah ek raashtreey dharohar hai isake oopar keval ek desh ka jo dhvaj hai vahee vahaan par lahara sakata hai yah koee mandir masjid gurudvaara charch aisa koee nahin hai matalab kee hai koee dhaarmik sthal nahin hai isake oopar dhaarmik dhvaj ko laharaaya gaya tha yah bilkul hee dekhie sahee nahin hai phir unhonne kisaanon ne kiya kya vah kisaan jisane phailaaya kisaan hai bhee ya nahin yah kisako pata par jab vahaan par tiranga lahara raha hai bhaarat desh ka raashtreey dhvaj vahaan par le ja raha hai to use utaarakar ke dhaarmik jhande ko lagaana yah to bilkul hee galat hai yah karm jo unhonne kie the yah kaam jisane kiya usase vaise yah bilkul bhee nahin karana tha par jab kiya hai to usakee saja bhee use milanee chaahie kyonki ham jis desh mein rahate hain us desh ke raashtreey dhvaj ko taar karake aur ek dharm ka dhaarmik jhanda jo hai use vah laga rahe the yah 1 tareeke se desh virodhee kaary hai isamen desh ka apamaan desh ke raashtreey dhvaj ka apamaan kiya gaya hai yah bilkul bhee unhen vahaan kisaanon ko maha par phir aana nahin chaahie tha kyonki yah ek raashtreey dharohar hai na ki koee dhaarmik kal jahaan par kisee bhee dharm ka jhanda daada jay mahaakaal laharae jab raashtreey dharohar hai vahaan par raashtreey dhvaj jile rahega dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:58
आपका प्रश्न है कि क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था देखे बात ऐसी है हमको हमारे राष्ट्र की कुछ मूलभूत चीजों के बारे में जानना चाहिए इस प्रश्न का उत्तर देने से हमको यह समझ लेना चाहिए कि हमारा राष्ट्र अनेकता में एकता के सिद्धांत पर काम करता है अनेकता में एकता के सिद्धांत के साथ हमारा राष्ट्र पूरा बना हुआ है हमारे राष्ट्र में हम हर धर्म का सम्मान करते हैं हर संप्रदाय का सम्मान करते हर धर्म हर धर्म के रीति रिवाज हर धर्म के हर धर्म के कार्य और हर धर्म के मानने वालों की जो आस्था है हम उसके सम्मान करते हैं हम एक दूसरे की भाषा का सम्मान करने हैं हम एक दूसरे के पहनावे का सम्मान करते हैं हम एक दूसरे की विचारों का भी सम्मान था हम और सहमति के होते हुए भी एक दूसरे को आदर दे लेकिन यहां पर बात हमारे राष्ट्र के सम्मान की आप जानते हैं कि जब हम 26 जनवरी को मनाने की बात करते हैं जब हम हमारे गणतंत्र दिवस को मनाने की बात करते हैं तो हमें सबसे पहले यह याद रखना चाहिए कि राष्ट्र इतनी आसानी से आजाद नहीं हुआ हजारों लाखों इस देश के वीर सपूतों ने अपने जीवन का सर्वोच्च बलिदान दिया था इस राष्ट्र को आजाद कराने इस राष्ट्र को सुंदर स्वरुप में देखने के लिए वह तो नहीं रहे लेकिन वह हमारे हाथों में इस राष्ट्र की बागडोर संभाल के गणतंत्र दिवस हो या 15 अगस्त का दिन हो जो कि हमारा स्वाधीनता दिवस होता है ऐसे दिवस में जो कि राष्ट्रीय पर्व है यह ऐसे दिन हैं जो हमारे देश के सम्मान का गौरव का प्रतीक है यह ऐसे दिन हैं जहां पर हम अपने वीर शहीदों को याद करते हैं हम अपने महापुरुषों को याद करते हैं हमारा राष्ट्र इस ग्रुप में आया इसके लिए हम को उस दिन गौरव की अनुभूति और उस दिन गुंडों के रूप में जो कि नाम किसान आंदोलन का था और सैकड़ों गुंडे लोग अत्याचारी लोग अराजक लोग एक धर्म का झंडा लेकर के वहां पर लाल किले पर चढ़ाने जा पूरे संसार में हमारे देश की आकृति होती है पूरे संसार के अंदर हमारे देश का अपमान होता पूरे संसार के अंदर हमारी देश का स्वाभिमान है वह नीचे गिरता है देखिए इनका गणतंत्र दिवस था और किस तरह की वहां पर स्थिति कोई देश की सरकार नहीं चाहती और मैं प्रणाम करना चाहता हूं मोदी सरकार को इतनी बड़ी घटना होती बेबी सरकार ने गोली नहीं चलाई सरकार ने बहुत ज्यादा किसी तरह का दामन नहीं किया लेकिन क्योंकि उन्होंने गणतंत्र दिवस के दिन इसी तरह का खून खराबा हो हमारे देश का किसी नागरिक की जान जाए इसलिए सरकार ने अपने आप को सीमित कर दिया लेकिन क्या ऐसा करना जायज था तुम मेरे मेरे विचार में लाल किले पर किसी भी तरह का धार्मिक झंडा फहराना गलत है गलत था और भविष्य में भी अगर कोई स्तर की कोशिश करता है तो वह गलत ही माना जाएगा यह देश के स्वाभिमान की बात हमारा सर झुक गया पूरी दुनिया के सामने हम शर्मिंदा हूं हमारा राष्ट्रीय पर्व जलील हुआ बहुत बुरी घटना पर इसलिए धार्मिक झंडा नहीं फहराना चाहिए नई पर आना चाहिए था धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki kya laal kile par dhaarmik jhanda phaharaana chaahie tha dekhe baat aisee hai hamako hamaare raashtr kee kuchh moolabhoot cheejon ke baare mein jaanana chaahie is prashn ka uttar dene se hamako yah samajh lena chaahie ki hamaara raashtr anekata mein ekata ke siddhaant par kaam karata hai anekata mein ekata ke siddhaant ke saath hamaara raashtr poora bana hua hai hamaare raashtr mein ham har dharm ka sammaan karate hain har sampradaay ka sammaan karate har dharm har dharm ke reeti rivaaj har dharm ke har dharm ke kaary aur har dharm ke maanane vaalon kee jo aastha hai ham usake sammaan karate hain ham ek doosare kee bhaasha ka sammaan karane hain ham ek doosare ke pahanaave ka sammaan karate hain ham ek doosare kee vichaaron ka bhee sammaan tha ham aur sahamati ke hote hue bhee ek doosare ko aadar de lekin yahaan par baat hamaare raashtr ke sammaan kee aap jaanate hain ki jab ham 26 janavaree ko manaane kee baat karate hain jab ham hamaare ganatantr divas ko manaane kee baat karate hain to hamen sabase pahale yah yaad rakhana chaahie ki raashtr itanee aasaanee se aajaad nahin hua hajaaron laakhon is desh ke veer sapooton ne apane jeevan ka sarvochch balidaan diya tha is raashtr ko aajaad karaane is raashtr ko sundar svarup mein dekhane ke lie vah to nahin rahe lekin vah hamaare haathon mein is raashtr kee baagador sambhaal ke ganatantr divas ho ya 15 agast ka din ho jo ki hamaara svaadheenata divas hota hai aise divas mein jo ki raashtreey parv hai yah aise din hain jo hamaare desh ke sammaan ka gaurav ka prateek hai yah aise din hain jahaan par ham apane veer shaheedon ko yaad karate hain ham apane mahaapurushon ko yaad karate hain hamaara raashtr is grup mein aaya isake lie ham ko us din gaurav kee anubhooti aur us din gundon ke roop mein jo ki naam kisaan aandolan ka tha aur saikadon gunde log atyaachaaree log araajak log ek dharm ka jhanda lekar ke vahaan par laal kile par chadhaane ja poore sansaar mein hamaare desh kee aakrti hotee hai poore sansaar ke andar hamaare desh ka apamaan hota poore sansaar ke andar hamaaree desh ka svaabhimaan hai vah neeche girata hai dekhie inaka ganatantr divas tha aur kis tarah kee vahaan par sthiti koee desh kee sarakaar nahin chaahatee aur main pranaam karana chaahata hoon modee sarakaar ko itanee badee ghatana hotee bebee sarakaar ne golee nahin chalaee sarakaar ne bahut jyaada kisee tarah ka daaman nahin kiya lekin kyonki unhonne ganatantr divas ke din isee tarah ka khoon kharaaba ho hamaare desh ka kisee naagarik kee jaan jae isalie sarakaar ne apane aap ko seemit kar diya lekin kya aisa karana jaayaj tha tum mere mere vichaar mein laal kile par kisee bhee tarah ka dhaarmik jhanda phaharaana galat hai galat tha aur bhavishy mein bhee agar koee star kee koshish karata hai to vah galat hee maana jaega yah desh ke svaabhimaan kee baat hamaara sar jhuk gaya pooree duniya ke saamane ham sharminda hoon hamaara raashtreey parv jaleel hua bahut buree ghatana par isalie dhaarmik jhanda nahin phaharaana chaahie naee par aana chaahie tha dhanyavaad

bolkar speaker
क्या लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराना चाहिए था?Kya Laal Kile Par Dharmik Jhanda Fairana Chaiye Tha
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:21
क्लिप धार्मिक सूरत शहर आनी चाहिए था जो ठहरा सकते हैं इस पर कुछ हमसे तारीख के फिर किसी करें कि जातिवादी नहीं होना चाहिए क्योंकि देश स्वतंत्र तो सब कुछ होना चाहिए जो भेजा है उसे जल्दी से इसलिए मिले कि आप कहीं पर भी कुछ कर सकते थे यदि आपको खुशी मेरे से देश का इच्छा हो तो ऐसा होना चाहिए
Klip dhaarmik soorat shahar aanee chaahie tha jo thahara sakate hain is par kuchh hamase taareekh ke phir kisee karen ki jaativaadee nahin hona chaahie kyonki desh svatantr to sab kuchh hona chaahie jo bheja hai use jaldee se isalie mile ki aap kaheen par bhee kuchh kar sakate the yadi aapako khushee mere se desh ka ichchha ho to aisa hona chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • लाल किले पर धार्मिक झंडा, लाल किले पर निशान साहिब,दर्शनकारियों ने लाल किले की प्राचीर पर झंडे गाड़ दिए
  • क्या किसानों ने तिरंगा उतारकर लाल किले पर फहराया 'खालिस्तानी झंडा',लाल किले पर निशान साहिब , लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराने का मामला
  • लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराने का मामला, लाल क़िले पर सिखों का धार्मिक झंडा 'निशान साहेब' ,लाल किले पर तिरंगे के साथ लहराता धार्मिक झंडा
URL copied to clipboard