#जीवन शैली

bolkar speaker

डर लगने पर रोगंटे खड़े क्यों हो जाते हैं?

Dar Lagane Par Roye Khade Kyo Ho Jaate Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:17
अधीक्षक क्वेश्चन की दलवीर करो जाती है नॉर्मल सी बात है सबसे कमजोर पाठ से सबसे कमजोर चीज पहले डर के खड़ी हो जाती है इसे कहते हैं ना कि दूसरे चूहे पहले भागते हैं वही सबसे पहले में डर लगता है तो रोज ही खड़े होते हैं
Adheekshak kveshchan kee dalaveer karo jaatee hai normal see baat hai sabase kamajor paath se sabase kamajor cheej pahale dar ke khadee ho jaatee hai ise kahate hain na ki doosare choohe pahale bhaagate hain vahee sabase pahale mein dar lagata hai to roj hee khade hote hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
डर लगने पर रोगंटे खड़े क्यों हो जाते हैं?Dar Lagane Par Roye Khade Kyo Ho Jaate Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:21
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न है डर लगने पर खड़े क्यों हो जाते हैं तो फ्रेंड जब हम डरते हैं तो हमें अंदर से डर महसूस होता है और हमारा दिल भी डर जाता है तो इस वजह से हमारे रोए खड़े हो जाते हैं अंदर से हमें फीलिंग आती है डर की इस वजह से हमें हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka prashn hai dar lagane par khade kyon ho jaate hain to phrend jab ham darate hain to hamen andar se dar mahasoos hota hai aur hamaara dil bhee dar jaata hai to is vajah se hamaare roe khade ho jaate hain andar se hamen pheeling aatee hai dar kee is vajah se hamen hamaare rongate khade ho jaate hain dhanyavaad

bolkar speaker
डर लगने पर रोगंटे खड़े क्यों हो जाते हैं?Dar Lagane Par Roye Khade Kyo Ho Jaate Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:11
डर लगने पर रूम पर क्यों खड़े हो जाते हैं दोस्तों पहली बात तो यह कि है कोई बीमारी नहीं है बल्कि मनुष्य के साथ होने वाली नॉर्मल चीज है वैसे आपने देखा हुआ कि अधिक ठंड के समय यह डर की वजह से या कोई बहुत अच्छा म्यूजिक जब हमारे कानून पड़ता है या जब हम अधिक रोमांचित हो जाते हैं तो हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं लेकिन हजारों लाखों करोड़ों की कोशिकाएं होती है यानी प्रो एमआरपी से सॉरी रोशनी से होती है जो हमारे शरीर के नर्वस सिस्टम से जुड़ी होती हैं जिसका सीधा संबंध हमारे दिमाग चलता है जब आपको डरावनी चीज है कोई अच्छा संगीत सुनते हैं तो आपके दिल की धड़कन बढ़ जाती है और सभी अंगों तक ज्यादा रख पहुंचने लगता है जब ऐसा होता है तो एड्रेनल ग्लैंड जो है इससे एयरटेल ऑनलाइन हारमोंस निकल रहे हैं जिससे मांसपेशियों को अतिरिक्त शक्ति मिलती है याद शक्ति किसी भी परिस्थिति का सामना करने के लिए दिमाग पर द्वारा पैदा की जाती है शरीर के रोए को भी उत्तेजित करते हैं जिससे शरीर में गर्मी आती है जिससे हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं
Dar lagane par room par kyon khade ho jaate hain doston pahalee baat to yah ki hai koee beemaaree nahin hai balki manushy ke saath hone vaalee normal cheej hai vaise aapane dekha hua ki adhik thand ke samay yah dar kee vajah se ya koee bahut achchha myoojik jab hamaare kaanoon padata hai ya jab ham adhik romaanchit ho jaate hain to hamaare rongate khade ho jaate hain lekin hajaaron laakhon karodon kee koshikaen hotee hai yaanee pro emaarapee se soree roshanee se hotee hai jo hamaare shareer ke narvas sistam se judee hotee hain jisaka seedha sambandh hamaare dimaag chalata hai jab aapako daraavanee cheej hai koee achchha sangeet sunate hain to aapake dil kee dhadakan badh jaatee hai aur sabhee angon tak jyaada rakh pahunchane lagata hai jab aisa hota hai to edrenal glaind jo hai isase eyaratel onalain haaramons nikal rahe hain jisase maansapeshiyon ko atirikt shakti milatee hai yaad shakti kisee bhee paristhiti ka saamana karane ke lie dimaag par dvaara paida kee jaatee hai shareer ke roe ko bhee uttejit karate hain jisase shareer mein garmee aatee hai jisase hamaare rongate khade ho jaate hain

bolkar speaker
डर लगने पर रोगंटे खड़े क्यों हो जाते हैं?Dar Lagane Par Roye Khade Kyo Ho Jaate Hai
DR.OM PRAKASH SHARMA Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए DR.OM जी का जवाब
Principal, RSRD COLLEGE OF COMMERCE AND ARTS
0:56
फ्रेंड बनी पेट में खड़े क्यों हो जाते हैं जब इंसान के अंदर कब है उसके अंदर उसे कमजोर कर देता है तो शादी तापमान जो है वह एकदम से बहुत ज्यादा उसमें बदलाव आता है और वह इंसान को एक अनजानी संकट की तरफ संकेत करता है इंसान के शरीर के अंदर से चिल्लाती है और मानसिक व शारीरिक तापमान एकदम से गतिमान हो जाता है जिसके कारण इंसान के शरीर के जरूरी है वह एकदम से खड़े हो जाते हैं उस अंजानी है के कारण क्योंकि भेजो है इंसान को ना केवल कमजोर करता है बल्कि उसकी आत्मिक शक्ति उसकी नैतिक शक्ति और उसकी विवेक शिक्षकों को कमजोर कर देता है
Phrend banee pet mein khade kyon ho jaate hain jab insaan ke andar kab hai usake andar use kamajor kar deta hai to shaadee taapamaan jo hai vah ekadam se bahut jyaada usamen badalaav aata hai aur vah insaan ko ek anajaanee sankat kee taraph sanket karata hai insaan ke shareer ke andar se chillaatee hai aur maanasik va shaareerik taapamaan ekadam se gatimaan ho jaata hai jisake kaaran insaan ke shareer ke jarooree hai vah ekadam se khade ho jaate hain us anjaanee hai ke kaaran kyonki bhejo hai insaan ko na keval kamajor karata hai balki usakee aatmik shakti usakee naitik shakti aur usakee vivek shikshakon ko kamajor kar deta hai

bolkar speaker
डर लगने पर रोगंटे खड़े क्यों हो जाते हैं?Dar Lagane Par Roye Khade Kyo Ho Jaate Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:03
कानून भाग का सवाल है डर लगने पर रोएं खड़े क्यों हो जाते हैं तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार हैं अगर कोई व्यक्ति हॉरर फिल्म देखते हुए डर लगता है और आपके रोंगटे खड़े हो जाते हैं या फिर ठंड या शेरन महसूस होने पर रोंगटे खड़े हो जाते हैं और कभी आपने सोचा है आखिरी रोंगटे खड़े होते क्यों नहीं तो इनके पीछे कुछ वजह हो सकती है इनको अपने देखते हैं जो जैसे आपने बहना का वीडियो देखते हैं क्या वीडियो देखते हैं देखने के बाद आप का पहला रिएक्शन क्या होता है आपके रोंगटे रोंगटे खड़े हो जाएंगे या फिर तब आपसे में पुल से नहा कर बाहर निकले अचानक तेज हवा चलने लगे तो क्या होगा आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे इस तरह दो अलग-अलग घटनाओं में हमारा शरीर एक जैसा जैकसन कैसे देता है इसके पीछे मुख्य वजह शरीर विज्ञान से जुड़ी भावनाएं हो धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Kaanoon bhaag ka savaal hai dar lagane par roen khade kyon ho jaate hain to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hain agar koee vyakti horar philm dekhate hue dar lagata hai aur aapake rongate khade ho jaate hain ya phir thand ya sheran mahasoos hone par rongate khade ho jaate hain aur kabhee aapane socha hai aakhiree rongate khade hote kyon nahin to inake peechhe kuchh vajah ho sakatee hai inako apane dekhate hain jo jaise aapane bahana ka veediyo dekhate hain kya veediyo dekhate hain dekhane ke baad aap ka pahala riekshan kya hota hai aapake rongate rongate khade ho jaenge ya phir tab aapase mein pul se naha kar baahar nikale achaanak tej hava chalane lage to kya hoga aapake rongate khade ho jaenge is tarah do alag-alag ghatanaon mein hamaara shareer ek jaisa jaikasan kaise deta hai isake peechhe mukhy vajah shareer vigyaan se judee bhaavanaen ho dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
डर लगने पर रोगंटे खड़े क्यों हो जाते हैं?Dar Lagane Par Roye Khade Kyo Ho Jaate Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:44
सब आने के डर लगने पर रोए खड़े क्यों हो जाते तो रोए खड़े होना जिसे इंग्लिश में दुश्मन कहते हैं बेहद सामान्य शारीरिक घटना है जिसे हमने अपने पूर्वजों से विरासत में हासिल किया हालांकि अद्भुत शारीरिक घटना हम लोगों से ज्यादा हमारे पूर्वजों के लिए फायदेमंद थी दरअसल जब किसी वजह से हमारी स्किन में छोटे-छोटे उठान हो जाते हैं जिससे शरीर पर मौजूद बाल और बिल्कुल सीधे खड़े हो जाते हैं तो इस घटना को ही पूछता हूं कि आरोपी खड़े होना कहते हैं जानते हैं चलिए ठीक क्यों होती है यह घटना केंद्र पर मौजूद हर बाल से जुड़ी छोटी-छोटी मांसपेशियों की सिकुड़न और संकुचन की वजह से रोंगटे खड़े होते हैं सीखने वाली हरेक मसल स्किन की सतह पर एक तरह का चित्र गड्ढा बनाती है जिससे आसपास का हिस्सा भर जाता है जब इंसान को ठंड लगती है तभी ऐसा कुछ महसूस होता है या फिर जब डर लगता है तब ठीक है सही जानवरों में भी होता रोंगटे खड़े होने पर उनके मोटे मोटे और घने बाल फैल जाते हैं और हवा की थोड़ी सी मात्रा को छुपा कर रख लेते हैं जो इंसुलेशन लेयर का काम करता है बाल क्लियर जितना गाना होगा उतनी ज्यादा गर्माहट को रोक पाएगा तो चलिए जानते इसके पीछे का वैज्ञानिक कारण क्या है और हारमोंस इसे कहते हैं और चेतन अवस्था में रिलीज होने पर ही रोंगटे खड़े होते हैं इस हार्मोन की रिलीज होने पढ़ना से स्किन की मांसपेशियों में जकड़न और संकुचन होता है बल्कि शरीर के दूसरे फंक्शन पर भी इसका प्रभाव पड़ता है जानवरों में यह स्टार मत रिलीज होता है जब उन्हें ठंड लगती है या फिर जब वे किसी तरह के तनाव भरी परिस्थिति में होते हैं
Sab aane ke dar lagane par roe khade kyon ho jaate to roe khade hona jise inglish mein dushman kahate hain behad saamaany shaareerik ghatana hai jise hamane apane poorvajon se viraasat mein haasil kiya haalaanki adbhut shaareerik ghatana ham logon se jyaada hamaare poorvajon ke lie phaayademand thee darasal jab kisee vajah se hamaaree skin mein chhote-chhote uthaan ho jaate hain jisase shareer par maujood baal aur bilkul seedhe khade ho jaate hain to is ghatana ko hee poochhata hoon ki aaropee khade hona kahate hain jaanate hain chalie theek kyon hotee hai yah ghatana kendr par maujood har baal se judee chhotee-chhotee maansapeshiyon kee sikudan aur sankuchan kee vajah se rongate khade hote hain seekhane vaalee harek masal skin kee satah par ek tarah ka chitr gaddha banaatee hai jisase aasapaas ka hissa bhar jaata hai jab insaan ko thand lagatee hai tabhee aisa kuchh mahasoos hota hai ya phir jab dar lagata hai tab theek hai sahee jaanavaron mein bhee hota rongate khade hone par unake mote mote aur ghane baal phail jaate hain aur hava kee thodee see maatra ko chhupa kar rakh lete hain jo insuleshan leyar ka kaam karata hai baal kliyar jitana gaana hoga utanee jyaada garmaahat ko rok paega to chalie jaanate isake peechhe ka vaigyaanik kaaran kya hai aur haaramons ise kahate hain aur chetan avastha mein rileej hone par hee rongate khade hote hain is haarmon kee rileej hone padhana se skin kee maansapeshiyon mein jakadan aur sankuchan hota hai balki shareer ke doosare phankshan par bhee isaka prabhaav padata hai jaanavaron mein yah staar mat rileej hota hai jab unhen thand lagatee hai ya phir jab ve kisee tarah ke tanaav bharee paristhiti mein hote hain

bolkar speaker
डर लगने पर रोगंटे खड़े क्यों हो जाते हैं?Dar Lagane Par Roye Khade Kyo Ho Jaate Hai
Nidhi Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Nidhi जी का जवाब
Unknown
2:47
सर जैसे कि आपने क्वेश्चन किया है कि डर लगने पर रोमांटिक हरी क्यों हो जाते हैं तो देखिए जो हमारे पूर्वज थे वह उनके हाइट बहुत ज्यादा बड़ी थी और उनके शरीर पर बहुत सारे बाल थे तो क्या करते थे कि उन्हें वह नहीं पता था कि खाना कैसे बनाया जाता है तो वह शिकार पर ज्यादा मतलब शिकार करते थे वह पत्थरों से जानवरों को मार दे दी और उन्हें खाते थे और उनके शरीर पर बहुत सारा माल था तो क्या होता था कि जब जब भी वह शिकार करने जाते थे तो क्या होगा कि उनके शरीर पर बाल रहता था और जो कुछ टाइम के जानवर थी वह भी बहुत ज्यादा बड़े थे और इंसान में बहुत ज्यादा पढ़े थे तो क्या होता था कि जब भी उनको डर लगता था तो उनका जो मतलब शरीर का बाल है वह रोंगटे खड़े कर लेते थे जिसकी वजह से वह कुछ ज्यादा ही बड़े दिखाई दे तो क्या उनके शरीर पर बहुत सारा बाल था और वह खड़ा हो जाता था जब भी उन्हें डर लगता था तो खड़ा हो जाता था और जब बाल खड़ा हो जाता है तो वह बहुत ज्यादा मतलब बड़े दिखते थे विशाल दिखते थे तो क्या कि जैसे कि जो जानवर है उसे देख कर डर जाए तो फिर यह सारा जो चीज है वह धीरे धीरे धीरे धीरे जो इंसान है वह डिवेलप होने लगा है जो उसके शरीर के पास है वह भी कम होने लगी और क्या हुआ कि जब भी यह हमारे साथ एक्टिविटी होती है कि जब भी हम डरते हैं तो क्या होता अक्सर ऐसा होता है या फिर जब और ऐसा होता है कि जब हमें ठंडी लगती है तब हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं रूम थी इसलिए खड़े हो जाते हमारे शरीर के कि उस टाइम जो था जब वह आदिमानव रहते थे तो उस टाइम बहुत ज्यादा बढ़ पड़ता था तू जब इंसान को ठंडा लगता था तो जाऊंगा क्योंकि रोंगटे खड़े हो जाते थे रूम में इसलिए खड़े हो जाते थे क्यों नहीं ठंडी से प्रोटेक्ट कर सकते यह सारा का सारा जो प्रोसेस है हमारे अंदर चलता है वह जो हेयर से पहले के जमाने वाले अंशुमन दिल के बहुत ज्यादा बड़े थे वह इंसान में धीरे-धीरे कम होने लगे हैं मतलब बहुत कम है बाद में क्या होता है कि हमें डर लगता है या जब भी हमें ठंडा लगता है तो वह वाली एक्टिविटी हमारे साथ में लगती है और लगता है तो फिर हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं या फिर हमें जब ठंडी लगती है तब हमारे रोंगटे खड़े हो जाते हैं तो इसका रीजन यह है कि जब हमें जब हमें ठंडी लगती है तो हमारे रोंगटे खड़े होते हैं हमें प्रोटेक्ट करने के लिए खड़े होते हैं फिर वह डर डर वाली बात जो मैंने पहले बताइए वह वाला दीजिए ना तो मैं आशा करते हैं कि मैं आपका रिप्लाई दे पाई होंगी धन्यवाद
Sar jaise ki aapane kveshchan kiya hai ki dar lagane par romaantik haree kyon ho jaate hain to dekhie jo hamaare poorvaj the vah unake hait bahut jyaada badee thee aur unake shareer par bahut saare baal the to kya karate the ki unhen vah nahin pata tha ki khaana kaise banaaya jaata hai to vah shikaar par jyaada matalab shikaar karate the vah pattharon se jaanavaron ko maar de dee aur unhen khaate the aur unake shareer par bahut saara maal tha to kya hota tha ki jab jab bhee vah shikaar karane jaate the to kya hoga ki unake shareer par baal rahata tha aur jo kuchh taim ke jaanavar thee vah bhee bahut jyaada bade the aur insaan mein bahut jyaada padhe the to kya hota tha ki jab bhee unako dar lagata tha to unaka jo matalab shareer ka baal hai vah rongate khade kar lete the jisakee vajah se vah kuchh jyaada hee bade dikhaee de to kya unake shareer par bahut saara baal tha aur vah khada ho jaata tha jab bhee unhen dar lagata tha to khada ho jaata tha aur jab baal khada ho jaata hai to vah bahut jyaada matalab bade dikhate the vishaal dikhate the to kya ki jaise ki jo jaanavar hai use dekh kar dar jae to phir yah saara jo cheej hai vah dheere dheere dheere dheere jo insaan hai vah divelap hone laga hai jo usake shareer ke paas hai vah bhee kam hone lagee aur kya hua ki jab bhee yah hamaare saath ektivitee hotee hai ki jab bhee ham darate hain to kya hota aksar aisa hota hai ya phir jab aur aisa hota hai ki jab hamen thandee lagatee hai tab hamaare rongate khade ho jaate hain room thee isalie khade ho jaate hamaare shareer ke ki us taim jo tha jab vah aadimaanav rahate the to us taim bahut jyaada badh padata tha too jab insaan ko thanda lagata tha to jaoonga kyonki rongate khade ho jaate the room mein isalie khade ho jaate the kyon nahin thandee se protekt kar sakate yah saara ka saara jo proses hai hamaare andar chalata hai vah jo heyar se pahale ke jamaane vaale anshuman dil ke bahut jyaada bade the vah insaan mein dheere-dheere kam hone lage hain matalab bahut kam hai baad mein kya hota hai ki hamen dar lagata hai ya jab bhee hamen thanda lagata hai to vah vaalee ektivitee hamaare saath mein lagatee hai aur lagata hai to phir hamaare rongate khade ho jaate hain ya phir hamen jab thandee lagatee hai tab hamaare rongate khade ho jaate hain to isaka reejan yah hai ki jab hamen jab hamen thandee lagatee hai to hamaare rongate khade hote hain hamen protekt karane ke lie khade hote hain phir vah dar dar vaalee baat jo mainne pahale bataie vah vaala deejie na to main aasha karate hain ki main aapaka riplaee de paee hongee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • रोगंटे क्या होते है, रोंगटे खड़े होने का क्या कारण
URL copied to clipboard