#undefined

bolkar speaker

अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?

Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student
1:25
नमस्कार दोस्तों कैसे हैं वाले अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते थे कि सबसे पहले तो आपकी यह गलतफहमी है कि अमेरिका जैसे विकसित देश में अधिकारी नहीं होती है उसका चाहे जितना भी संपन्न देशों तुमने विकास जरूर दें क्योंकि ऐसे बहुत से लोग होते हैं जो मेरे काम करने के काबिल नहीं होते और वह बेचारे अनाथ होते तो मानता हूं कि वह अमेरिका इतना पैसा वाला लेकिन जो वक्त पर काम नहीं करेगा उसे ऐसी फालतू में थोड़ी ना पैसा मिल जाएगा वह भी अपनी जीविका चलाने के लिए कुछ ना कुछ करता होगा लेकिन क्या करें कि वह अपने सारे दिन काम करने के काबिल नहीं है तो इसलिए मुझे भीख मांग कर अपना जीवन यापन करता है लेकिन वहां पर भी जो भिखारी होते वह भी काफी संपन्न होते हैं आप पर मैं जब हमारे यहां जो मतलब थोड़ा संपन्न लोगों की श्रेणी में आते हैं तुम आकर दिखा देना हमारे यहां के संपन्न लोगों की सीडी के समान ही होते हैं उनका केवल नाम तो वहां की लेवल के हिसाब से वह भिखारी होते हैं लेकिन अगर वह हमारे इंडिया में आ जाए तो यहां तो काफी पैसा वाले माने जाएंगे ना उनके पास पैसा होता है उनके पास में जब चार पहिया गाड़ी होती है और हर एक चीज उपलब्ध होती है लेकिन वहां पर मुझे भिकारी माना जाता है क्योंकि उनसे भी बड़े बड़े लोग वहां पर रहते हैं जिनके पास काफी पैसा है काफी संपन्न ने उम्मीद करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar doston kaise hain vaale amerika jaise vikasit deshon mein bhikhaaree kyon nahin hote the ki sabase pahale to aapakee yah galataphahamee hai ki amerika jaise vikasit desh mein adhikaaree nahin hotee hai usaka chaahe jitana bhee sampann deshon tumane vikaas jaroor den kyonki aise bahut se log hote hain jo mere kaam karane ke kaabil nahin hote aur vah bechaare anaath hote to maanata hoon ki vah amerika itana paisa vaala lekin jo vakt par kaam nahin karega use aisee phaalatoo mein thodee na paisa mil jaega vah bhee apanee jeevika chalaane ke lie kuchh na kuchh karata hoga lekin kya karen ki vah apane saare din kaam karane ke kaabil nahin hai to isalie mujhe bheekh maang kar apana jeevan yaapan karata hai lekin vahaan par bhee jo bhikhaaree hote vah bhee kaaphee sampann hote hain aap par main jab hamaare yahaan jo matalab thoda sampann logon kee shrenee mein aate hain tum aakar dikha dena hamaare yahaan ke sampann logon kee seedee ke samaan hee hote hain unaka keval naam to vahaan kee leval ke hisaab se vah bhikhaaree hote hain lekin agar vah hamaare indiya mein aa jae to yahaan to kaaphee paisa vaale maane jaenge na unake paas paisa hota hai unake paas mein jab chaar pahiya gaadee hotee hai aur har ek cheej upalabdh hotee hai lekin vahaan par mujhe bhikaaree maana jaata hai kyonki unase bhee bade bade log vahaan par rahate hain jinake paas kaaphee paisa hai kaaphee sampann ne ummeed karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
3:19
हेलो जुबान तो आ जाता है कि अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं जितना ज्यादा जरूरी नहीं होता है कि हर इंसान सिर्फ वही उनके ही सब तरक्की होते हैं वही ड ब्लॉक करता है वही तरक्की कर रहा है वही प्रोग्रेस बर कर रहा है जितना फ्री कंट्री में जितने भी पापुलेशन जितने भी लोग हैं सब तरक्की कर रहे हो तब जाकर एक कंट्री तरक्की करता और डेवलपर विकसित कहलाता है की बात करें तो देखिए वहां पर ऐसा नहीं कि गरीब नहीं है गरीब लोग लेकिन हमारे कंपैरिजन सर हमारी तुलना करें तो वहां के लोगों की जो गरीब लोग हैं वह भी काफी तीनो का खाना नसीब होता है अगर गाड़ी नहीं हो पाता तो नहीं मतलब गरीब का जाता बहुत बड़ा बंगला नहीं है तूने गरीब कहा जाता है आप देखेंगे कि अर्जुन मतलब मांग रहे हैं वहां पर भीख भी नहीं मांगा जब हम प्रवीण कोई टैलेंट अगर आप दिखाते हैं वह गिटार बजाना हुआ या फिर कोई सर्कस टाइप का अगर आपके पास टैलेंट है तो भी आपको कुछ पैसे मिलता है आपने बहुत सारी मूवीस में भी देखा होगा जैसे हमारे इंडिया में कब मतलब हाथ फैलाने से मांगने से लोगों को कमेंट करने से ऐसे देते हैं वहां पर वैसे नहीं दिया जाता है तो हम भवन के गेट अप को देखते हुए इंसान की टैलेंट या फिर जो भी अमेरिका में धूनी चीज दिखाते हैं वह सर्कस तो वह लोग भी कितने मतलब अच्छे ड्रेस कोड में रहते हैं अच्छे से खान पीन अच्छी जगह से आते हैं तो उनके पास भी पैसा होता है लेकिन इतना नहीं होता है कि वह खुद को और ज्यादा मतलब होता सके वह मेहनत करने तो जब भी कोई कंट्री ड ब्लॉक होता है तो वह पूरी तरह से वहां के लोग भी नफरत करते हैं उनकी तरह की होती इतनी अमेरिका इतना डेवलप कंट्री है तो वहां पर हर एक लोगों के रहने सहने खान पीन का बेसिक चीज हर एक इंसान को प्रभावित होता है लेकिन वही बाकी और हमारी कंट्री की बात करें तो हर गरीब बोलने से ही की जो गरीब है मतलब ऐसा लगता है कि नहीं वह फटा छोटा कपड़ा पहना है उसके पास घर तो हम सोच ही नहीं सकते कि हैप्पी और गाड़ी मोदी दूर की बात है सड़क पर आ जाइए यहां रहना तो कल वहां स्टेशन में तू हमारे कंट्री के अखिलेश हालत ही ऐसी है करप्शन इतना ज्यादा भ्रष्टाचार इतना ज्यादा जिसके वजह से गरीब गरीब और अमीर और अमीर अमीर होता जा रहा है कंबाइन बात करें पूरे मतलब अगर कंट्री के हर एक जगह हर एक मुद्दे को उठाकर ठीक करने की कोशिश करें तो ज्यादा बेहतर होगा मैं सारी कंट्री के बात कर रही हूं जहां पर जो चीज गलत है जहां पर जो चीज गलत हो रहा है उस वह सब चीजों के बारे में ध्यान देना चाहिए ना की एक्स्ट्रा से रिलेटेड नहीं करता झूठ मुठ के यह वह मुद्दे को उठाकर से ध्यान भटका ना और असली असली मुद्दे पर भी ध्यान देना और ना ही उसमें कुछ काम करना अगर ऐसे चलेगा तो फिर जब से हमारी कंट्री में जैसे गरीबों की हालत और भी लोग गरीब और मतलब बेरोजगार होते रहेंगे तो मेरे अमेरिका जैसे बनना है तो सिर्फ सोचने से नहीं होगा से करने के लिए होगा जिस पर एक लोगों को कम्युनिटी ने निकाला था उन लोगों के साथ में कर चलना होगा और मतलब जैसे कि सोचते हैं ना कि हां गरीबों के लिए कुछ नहीं सिर्फ मतलब से जो भी चीज मंगाई है जो भी चीज बनाया जा रहा है सिर्फ और सिर्फ गरीबों की प्रॉब्लम है मैसेज करने को छोड़कर और कुछ अच्छा करने से हमारा देश अमेरिका के जैसे तरक्की कर पाएगा ड ब्लॉक हो जाए
Helo jubaan to aa jaata hai ki amerika jaise vikasit deshon mein bhikhaaree kyon nahin hote hain jitana jyaada jarooree nahin hota hai ki har insaan sirph vahee unake hee sab tarakkee hote hain vahee da blok karata hai vahee tarakkee kar raha hai vahee progres bar kar raha hai jitana phree kantree mein jitane bhee paapuleshan jitane bhee log hain sab tarakkee kar rahe ho tab jaakar ek kantree tarakkee karata aur devalapar vikasit kahalaata hai kee baat karen to dekhie vahaan par aisa nahin ki gareeb nahin hai gareeb log lekin hamaare kampairijan sar hamaaree tulana karen to vahaan ke logon kee jo gareeb log hain vah bhee kaaphee teeno ka khaana naseeb hota hai agar gaadee nahin ho paata to nahin matalab gareeb ka jaata bahut bada bangala nahin hai toone gareeb kaha jaata hai aap dekhenge ki arjun matalab maang rahe hain vahaan par bheekh bhee nahin maanga jab ham praveen koee tailent agar aap dikhaate hain vah gitaar bajaana hua ya phir koee sarkas taip ka agar aapake paas tailent hai to bhee aapako kuchh paise milata hai aapane bahut saaree moovees mein bhee dekha hoga jaise hamaare indiya mein kab matalab haath phailaane se maangane se logon ko kament karane se aise dete hain vahaan par vaise nahin diya jaata hai to ham bhavan ke get ap ko dekhate hue insaan kee tailent ya phir jo bhee amerika mein dhoonee cheej dikhaate hain vah sarkas to vah log bhee kitane matalab achchhe dres kod mein rahate hain achchhe se khaan peen achchhee jagah se aate hain to unake paas bhee paisa hota hai lekin itana nahin hota hai ki vah khud ko aur jyaada matalab hota sake vah mehanat karane to jab bhee koee kantree da blok hota hai to vah pooree tarah se vahaan ke log bhee napharat karate hain unakee tarah kee hotee itanee amerika itana devalap kantree hai to vahaan par har ek logon ke rahane sahane khaan peen ka besik cheej har ek insaan ko prabhaavit hota hai lekin vahee baakee aur hamaaree kantree kee baat karen to har gareeb bolane se hee kee jo gareeb hai matalab aisa lagata hai ki nahin vah phata chhota kapada pahana hai usake paas ghar to ham soch hee nahin sakate ki haippee aur gaadee modee door kee baat hai sadak par aa jaie yahaan rahana to kal vahaan steshan mein too hamaare kantree ke akhilesh haalat hee aisee hai karapshan itana jyaada bhrashtaachaar itana jyaada jisake vajah se gareeb gareeb aur ameer aur ameer ameer hota ja raha hai kambain baat karen poore matalab agar kantree ke har ek jagah har ek mudde ko uthaakar theek karane kee koshish karen to jyaada behatar hoga main saaree kantree ke baat kar rahee hoon jahaan par jo cheej galat hai jahaan par jo cheej galat ho raha hai us vah sab cheejon ke baare mein dhyaan dena chaahie na kee ekstra se rileted nahin karata jhooth muth ke yah vah mudde ko uthaakar se dhyaan bhataka na aur asalee asalee mudde par bhee dhyaan dena aur na hee usamen kuchh kaam karana agar aise chalega to phir jab se hamaaree kantree mein jaise gareebon kee haalat aur bhee log gareeb aur matalab berojagaar hote rahenge to mere amerika jaise banana hai to sirph sochane se nahin hoga se karane ke lie hoga jis par ek logon ko kamyunitee ne nikaala tha un logon ke saath mein kar chalana hoga aur matalab jaise ki sochate hain na ki haan gareebon ke lie kuchh nahin sirph matalab se jo bhee cheej mangaee hai jo bhee cheej banaaya ja raha hai sirph aur sirph gareebon kee problam hai maisej karane ko chhodakar aur kuchh achchha karane se hamaara desh amerika ke jaise tarakkee kar paega da blok ho jae

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:55
हेलो अभी बनाई हो पार्क सब ठीक हूं युद्ध ने पूछा अमेरिका जैसे विकसित देशों में विकारी क्यों नहीं होते हैं देखिए शायद आपको इस बात की जानकारी नहीं है लेकिन अमेरिका के अलावा बहुत से यूरोप इन कंट्री यहां पर भी भिखारी होते हैं जिन्हें होमलेस पीपल खा जाते हैं अक्सर जो है सड़क के किनारे दुकान के बाहर जगा बैठे रहते हैं फर्क सिर्फ इतना है कि वह जिस तरह से हमारे देश में दिखा रही है जिन्होंने अपने बिजनेस सुना दिया मांगने का और किसी एक के पीछे को बुरी तरह धोकर पड़ जाते हैं कोई भी चीज मांगने के लिए जस्टिस के लिए बाकी देखा जाए तो और वहां पर जो लोग होते हैं और यहां के बुखार में इतना फर्क इसलिए है क्योंकि वहां पर की इतनी ज्यादा संख्या में वहां के लोगों की बहुत याद करते हैं लेकिन यहां पर इसी तरह से बना रही हो गया जो कि काफी अच्छे से फल-फूल रहा है बाकी यहां पर है एक तो सबसे बड़ी दिक्कत है कि जब इंसान को भीख मांगने की आदत लग जाती है तो वह कोई भी काम नहीं करना चाहता क्योंकि बिना कमाए से तू घूमके मांगते अगर आप का गुजारा हो जाएगा जैसे कि आपने देखा होगा कि काफी कौशल दिखाने दिल के मरणोपरांत जो है बहुत सारा पैसा उनके पास निकला है तो एक तरफ से बिजनेस भी है लेकिन अगर लेकिन अगर देखा जाए बेकार है तो दिन को एक्सीडेंट जरूरत चाचा तो वह काम कर लेते हैं जो काम करने गया था जो समक्ष जो अपने काम करने का समर्थन नहीं है आपसे भीख मांग कर रहे दुल्हनों के ही गुजारा करते हैं तो फर्क सिर्फ इतना आबादी का भी है वहां पर है अब आधे घंटे बाद में बहुत फर्क है यहां पर जगह बहुत ज्यादा आबादी होने के कारण जहां एक परिवार में बहुत बच्चों की कहानी तेरी तरफ से जो जनसंख्या नियंत्रण नहीं है जिसकी वजह से यहां पर भिखारी जो हम ज्यादा होते हैं लेकिन अगर यह बात पूछी जाएगी भी खा रही है जानवर का जैसे देशों में नहीं होते तो यह गलत बात कहां पर बिजी होते हैं आशा करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo abhee banaee ho paark sab theek hoon yuddh ne poochha amerika jaise vikasit deshon mein vikaaree kyon nahin hote hain dekhie shaayad aapako is baat kee jaanakaaree nahin hai lekin amerika ke alaava bahut se yoorop in kantree yahaan par bhee bhikhaaree hote hain jinhen homales peepal kha jaate hain aksar jo hai sadak ke kinaare dukaan ke baahar jaga baithe rahate hain phark sirph itana hai ki vah jis tarah se hamaare desh mein dikha rahee hai jinhonne apane bijanes suna diya maangane ka aur kisee ek ke peechhe ko buree tarah dhokar pad jaate hain koee bhee cheej maangane ke lie jastis ke lie baakee dekha jae to aur vahaan par jo log hote hain aur yahaan ke bukhaar mein itana phark isalie hai kyonki vahaan par kee itanee jyaada sankhya mein vahaan ke logon kee bahut yaad karate hain lekin yahaan par isee tarah se bana rahee ho gaya jo ki kaaphee achchhe se phal-phool raha hai baakee yahaan par hai ek to sabase badee dikkat hai ki jab insaan ko bheekh maangane kee aadat lag jaatee hai to vah koee bhee kaam nahin karana chaahata kyonki bina kamae se too ghoomake maangate agar aap ka gujaara ho jaega jaise ki aapane dekha hoga ki kaaphee kaushal dikhaane dil ke maranoparaant jo hai bahut saara paisa unake paas nikala hai to ek taraph se bijanes bhee hai lekin agar lekin agar dekha jae bekaar hai to din ko ekseedent jaroorat chaacha to vah kaam kar lete hain jo kaam karane gaya tha jo samaksh jo apane kaam karane ka samarthan nahin hai aapase bheekh maang kar rahe dulhanon ke hee gujaara karate hain to phark sirph itana aabaadee ka bhee hai vahaan par hai ab aadhe ghante baad mein bahut phark hai yahaan par jagah bahut jyaada aabaadee hone ke kaaran jahaan ek parivaar mein bahut bachchon kee kahaanee teree taraph se jo janasankhya niyantran nahin hai jisakee vajah se yahaan par bhikhaaree jo ham jyaada hote hain lekin agar yah baat poochhee jaegee bhee kha rahee hai jaanavar ka jaise deshon mein nahin hote to yah galat baat kahaan par bijee hote hain aasha karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil gaya hoga laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:19
हेलो अभी बंद स्वागत है आपका आपका प्रश्न अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं तो फ्रेंड्स अमेरिका एक विकसित देश है वहां पर सब लोग अपने काम धंधे में लगे हुए हैं और सब के पास पैसे अपना रोजगार है खाने पीने का सामान है इसलिए वहां पर लो भिखारी नहीं है धन्यवाद
Helo abhee band svaagat hai aapaka aapaka prashn amerika jaise vikasit deshon mein bhikhaaree kyon nahin hote hain to phrends amerika ek vikasit desh hai vahaan par sab log apane kaam dhandhe mein lage hue hain aur sab ke paas paise apana rojagaar hai khaane peene ka saamaan hai isalie vahaan par lo bhikhaaree nahin hai dhanyavaad

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:20
हाय फ्रेंड क्वेश्चन पूछा गया कि अमेरिका जैसे विकसित देशों में अधिकारी क्यों नहीं होते तो अमेरिका जो है हम सभी जानते हैं कि विकसित देशों और यहां की अर्थव्यवस्था के अलावा काफी बेहतर है इसलिए जाओ यार ज्यादातर जो है गरीब व्यक्तियों को नहीं देखा देखा जाता है
Haay phrend kveshchan poochha gaya ki amerika jaise vikasit deshon mein adhikaaree kyon nahin hote to amerika jo hai ham sabhee jaanate hain ki vikasit deshon aur yahaan kee arthavyavastha ke alaava kaaphee behatar hai isalie jao yaar jyaadaatar jo hai gareeb vyaktiyon ko nahin dekha dekha jaata hai

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
3:16
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होती दिखाई भी नहीं मिलेंगे अमेरिका विकसित देश है निश्चित तौर पर उनकी कैपिटल जाता है लोगों की पर कैपिटा इनकम दादा जैसे लोग होंगे तो वहां पर भी पानी की जरूरत है अपने क्षेत्र में बहुत सारे लोग भिखारी के रूप में नहीं कह सकते हैं इनके प्रभावित हुए हैं नौकरी आ गई है लेकिन वहां सरकार की जिम्मेदारी होती है क्या ऐसे बेरोजगार लोगों को कुछ भी कुछ इंसेंटिव बता दिया जाता है जिसके कारण से लोगों को जरूरत नहीं पड़ती भी देखे चोरी चकारी गुंडागर्दी तो वहां भी है लेकिन ध्यान रहे हैं कि उनकी आबादी कितनी है भाई पूरी अमेरिका की आबादी 33 करोड़ हम भारत के दो ही स्टे्टों की मिला लीजिए आपको बिहार और यूपी की मिलाकर के हो जाएगी कोई 22 23 करोड़ दो मारे यहां की होगी 8 10 करोड़ तो बिहार की है तो कुल मिला के दो ही स्टेट में इतनी आबादी होगी उनका इंफ्रास्ट्रक्चर देखिए इस तरह का है जमीन कितनी है यानी कि अगर भौगोलिक दृष्टि से देखें तो कहीं नहीं है अब हमारे यहां जब इतनी ज्यादा लोग पैदा हो रहे हैं पर कोई नियंत्रण नहीं है तो रोजगार नहीं मिलेगा और बिहारी यहां के पैसा बना लिया है उसी से बाहर निकाला जाए तो बाहर भी निकाल सकते हो सील देश अपने नागरिकों की सुविधा का विषय था हमने वहां नागरिक सुविधाएं एक रेट कि भाड़ डिलीट कर सकते हैं कि सरकार जो है वहां के नागरिकों को कितनी सुविधाएं देती है बच्चों की एजुकेशन को एडमिशन करवाना होगा तो चक्कर लगाएंगे लेकिन वहां पर सरकार को दे देती और बच्चों को प्राइमरी स्तर सर के लिए कंपलसरी होता है मंडल अस्त्र से अलग-अलग दिशा बदल देती कौन सा बच्चा कंटेस्ट में जाना चाहता पर सरकार की पूरी जिम्मेदारी होती है और दूसरे मेडिकल की हो सुविधाएं हो और नागरिक सुविधाएं हो वह अपने नागरिकों को बेहतर जानती है और ना ही कोई रोजगार है तो वह लोग जो भी विकसित देश है ऐसे नहीं दीक्षित माना जाता है वह नागरिक सुविधाओं से लेकर के दूसरी प्रकार के हर सुविधाओं को बेहतर करते हैं और यही कारण है कि कांग्रेस से विषारी नहीं पाए जाते
Amerika jaise vikasit deshon mein bhikhaaree kyon nahin hotee dikhaee bhee nahin milenge amerika vikasit desh hai nishchit taur par unakee kaipital jaata hai logon kee par kaipita inakam daada jaise log honge to vahaan par bhee paanee kee jaroorat hai apane kshetr mein bahut saare log bhikhaaree ke roop mein nahin kah sakate hain inake prabhaavit hue hain naukaree aa gaee hai lekin vahaan sarakaar kee jimmedaaree hotee hai kya aise berojagaar logon ko kuchh bhee kuchh insentiv bata diya jaata hai jisake kaaran se logon ko jaroorat nahin padatee bhee dekhe choree chakaaree gundaagardee to vahaan bhee hai lekin dhyaan rahe hain ki unakee aabaadee kitanee hai bhaee pooree amerika kee aabaadee 33 karod ham bhaarat ke do hee steton kee mila leejie aapako bihaar aur yoopee kee milaakar ke ho jaegee koee 22 23 karod do maare yahaan kee hogee 8 10 karod to bihaar kee hai to kul mila ke do hee stet mein itanee aabaadee hogee unaka imphraastrakchar dekhie is tarah ka hai jameen kitanee hai yaanee ki agar bhaugolik drshti se dekhen to kaheen nahin hai ab hamaare yahaan jab itanee jyaada log paida ho rahe hain par koee niyantran nahin hai to rojagaar nahin milega aur bihaaree yahaan ke paisa bana liya hai usee se baahar nikaala jae to baahar bhee nikaal sakate ho seel desh apane naagarikon kee suvidha ka vishay tha hamane vahaan naagarik suvidhaen ek ret ki bhaad dileet kar sakate hain ki sarakaar jo hai vahaan ke naagarikon ko kitanee suvidhaen detee hai bachchon kee ejukeshan ko edamishan karavaana hoga to chakkar lagaenge lekin vahaan par sarakaar ko de detee aur bachchon ko praimaree star sar ke lie kampalasaree hota hai mandal astr se alag-alag disha badal detee kaun sa bachcha kantest mein jaana chaahata par sarakaar kee pooree jimmedaaree hotee hai aur doosare medikal kee ho suvidhaen ho aur naagarik suvidhaen ho vah apane naagarikon ko behatar jaanatee hai aur na hee koee rojagaar hai to vah log jo bhee vikasit desh hai aise nahin deekshit maana jaata hai vah naagarik suvidhaon se lekar ke doosaree prakaar ke har suvidhaon ko behatar karate hain aur yahee kaaran hai ki kaangres se vishaaree nahin pae jaate

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:54
कॉल अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं दोस्तों बात बता दे कि अमेरिका विकसित देश जरूर है परंतु ऐसा नहीं कि वहां पर भिखारी नहीं है वहां पर भी भिखारी है आप चले जाइए आपको लोकल एरिया के अंदर ऐसी डी जनेरियो के अंदर या बाजार में मार्केट वगैरह होते हैं वह अपने आप को जोर पर जो है भिखारी दिख जाएंगे परंतु आप जानते हैं कि हमें दिखाया जाता सिटी में दिखाइए चित्र में दिखाया जाता है परंतु रियल लव यू ट्यूब पर आप चले जाइए देख लीजिए कि विकसित देश अमेरिका के अंदर भिखारी और मांग की गरीबी के बारे में वहां पर फैली हुई गंदगी के बारे में आप देखिए स्टार्ट कीजिए आपको पता चलेगा कि अमेरिका जो है हमारे भारत के जैसा कहेंगे हमारा भारत है अमेरिका से धन्यवाद
Kol amerika jaise vikasit deshon mein bhikhaaree kyon nahin hote hain doston baat bata de ki amerika vikasit desh jaroor hai parantu aisa nahin ki vahaan par bhikhaaree nahin hai vahaan par bhee bhikhaaree hai aap chale jaie aapako lokal eriya ke andar aisee dee janeriyo ke andar ya baajaar mein maarket vagairah hote hain vah apane aap ko jor par jo hai bhikhaaree dikh jaenge parantu aap jaanate hain ki hamen dikhaaya jaata sitee mein dikhaie chitr mein dikhaaya jaata hai parantu riyal lav yoo tyoob par aap chale jaie dekh leejie ki vikasit desh amerika ke andar bhikhaaree aur maang kee gareebee ke baare mein vahaan par phailee huee gandagee ke baare mein aap dekhie staart keejie aapako pata chalega ki amerika jo hai hamaare bhaarat ke jaisa kahenge hamaara bhaarat hai amerika se dhanyavaad

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:44
यह हमारा भ्रम है कि अमेरिका जैसे विकसित देशों में भी कार्य नहीं होते बल्कि बिल्कुल वहां पर अधिकारी होते हैं जिनको रोडसाइड देकर कहा जाता है और मैं निरंजन सिंह नाम की घंटी का यूट्यूब वीडियो देखा था जो कि अमेरिका में रहते हैं उन्होंने वहां की जो रोडसाइड लोग हैं जो वहां पर भीख मांग कर गुजर-बसर करते हैं उनका वीडियो बनाया था तो वहां पर मतलब बड़ी तादाद में भिखारी रियाजुल बेघर लोग है जो घर बिना घर के बाहर सड़कों में सोते हैं या रेन बसेरा में सोते हैं फिर वह भीख मांगते हैं तो ऐसा ही हमें अमेरिका दिखाया जाता है वह सिर्फ चकाचौंध वाला है लेकिन अमेरिका बहुत बड़ा है
Yah hamaara bhram hai ki amerika jaise vikasit deshon mein bhee kaary nahin hote balki bilkul vahaan par adhikaaree hote hain jinako rodasaid dekar kaha jaata hai aur main niranjan sinh naam kee ghantee ka yootyoob veediyo dekha tha jo ki amerika mein rahate hain unhonne vahaan kee jo rodasaid log hain jo vahaan par bheekh maang kar gujar-basar karate hain unaka veediyo banaaya tha to vahaan par matalab badee taadaad mein bhikhaaree riyaajul beghar log hai jo ghar bina ghar ke baahar sadakon mein sote hain ya ren basera mein sote hain phir vah bheekh maangate hain to aisa hee hamen amerika dikhaaya jaata hai vah sirph chakaachaundh vaala hai lekin amerika bahut bada hai

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:45
नमक हलाल का सवाल है अमेरिका जैसे विकसित देशों में से है थारी चुनरी तो दोस्तों आपका स्वागत ही अच्छा है अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते इनका कारण कारण यह है कि अमेरिका कि देखते ही लोग वेलफेयर पर है यानी वह सरकार से पहचान लेते हैं वह भी ठीक ही है सरकार के रास्ते से किया गया है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namak halaal ka savaal hai amerika jaise vikasit deshon mein se hai thaaree chunaree to doston aapaka svaagat hee achchha hai amerika jaise vikasit deshon mein bhikhaaree kyon nahin hote inaka kaaran kaaran yah hai ki amerika ki dekhate hee log velapheyar par hai yaanee vah sarakaar se pahachaan lete hain vah bhee theek hee hai sarakaar ke raaste se kiya gaya hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं?Amerika Jaise Viksit Deshon Mein Bhikhari Kyun Nahin Hote Hain
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
1:04
यही कि अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं कहा कि आप मदद करेंगे मेरी तस्वीर देखने आता है जब देखूं तेरी गर्लफ्रेंड एकलव्य विकसित हो वहीं विकसित हो रहे दलों को काम भी करता हूं गाना सुना दो गिटार के लिए किसी के पास होते जाते हैं उस टाइप का होता है जहां पर भी रह सकते हैं रहने की तरह से अपने आप को विकसित कर सकते हैं और ऐसा भी हो सकता है जैसे कि श्रीनगर फैमिली कैसे हैं क्या मेरी तबीयत है इसलिए वहां से भिखारी लगे होते हैं
Yahee ki amerika jaise vikasit deshon mein bhikhaaree kyon nahin kaha ki aap madad karenge meree tasveer dekhane aata hai jab dekhoon teree garlaphrend ekalavy vikasit ho vaheen vikasit ho rahe dalon ko kaam bhee karata hoon gaana suna do gitaar ke lie kisee ke paas hote jaate hain us taip ka hota hai jahaan par bhee rah sakate hain rahane kee tarah se apane aap ko vikasit kar sakate hain aur aisa bhee ho sakata hai jaise ki shreenagar phaimilee kaise hain kya meree tabeeyat hai isalie vahaan se bhikhaaree lage hote hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अमेरिका जैसे विकसित देशों में भिखारी क्यों नहीं होते हैं,अमेरिका में भिक्षावृति
URL copied to clipboard