#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है?

Vastr Dharan Karne Ke Lie Kin Kin Baaton Ka Dhyaan Rakhna Aavashyak Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
1:41
धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना महिला हो या पुरुष या बच्चे सुंदर बनाता हूं और उनकी प्रसादी में निखार आती है निश्चित तौर पर वह इस ग्रुप के अनुसार अपने को धारण करना चाहिए ध्यान में रखना चाहिए और केशव सिंह गुर्जर और दूसरा है कि और भी बहुत सारी चीजें होती है इसके अनुसार आपको प्रणाम करें निश्चित राम कह सकते हैं कि जैसा जैसा का इच्छुक हूं महिला पुरुषों और आधुनिक फैशन की दौड़ में ओ सनम ओ सनम सनम रे प्लेलिस्ट नंबर वन वस्त्र धारण करने अपनी उम्र का निर्धारण करने उसके अनुसार दूसरा राम अपने प्रोफेशन को चुन लें तीसरा ग्राम घर में रहते हैं घरेलू में किस तरह का प्रयोग करना चाहिए जो था कि अगर आपको मौसम का ध्यान में रखें क्योंकि मौसम के अनुसार हमें बच्चों को धारण करना चाहिए जिसमें समाजिक लेवल पर हो तो ज्यादा अच्छा होता है इन सारी चीजों को ध्यान में रखकर करते हैं तो बेहतर होगा आपके लिए
Dhaaran karane ke lie kin kin baaton ka dhyaan rakhana mahila ho ya purush ya bachche sundar banaata hoon aur unakee prasaadee mein nikhaar aatee hai nishchit taur par vah is grup ke anusaar apane ko dhaaran karana chaahie dhyaan mein rakhana chaahie aur keshav sinh gurjar aur doosara hai ki aur bhee bahut saaree cheejen hotee hai isake anusaar aapako pranaam karen nishchit raam kah sakate hain ki jaisa jaisa ka ichchhuk hoon mahila purushon aur aadhunik phaishan kee daud mein o sanam o sanam sanam re plelist nambar van vastr dhaaran karane apanee umr ka nirdhaaran karane usake anusaar doosara raam apane propheshan ko chun len teesara graam ghar mein rahate hain ghareloo mein kis tarah ka prayog karana chaahie jo tha ki agar aapako mausam ka dhyaan mein rakhen kyonki mausam ke anusaar hamen bachchon ko dhaaran karana chaahie jisamen samaajik leval par ho to jyaada achchha hota hai in saaree cheejon ko dhyaan mein rakhakar karate hain to behatar hoga aapake lie

और जवाब सुनें

bolkar speaker
वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है?Vastr Dharan Karne Ke Lie Kin Kin Baaton Ka Dhyaan Rakhna Aavashyak Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:32
फ्रेंड स्वागत है आपका आपका फेस नहीं बस धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है तो फ्रेंड के मौसम के ऊपर भी निर्धारित करता है जैसे सर्दी है तो हमें गर्म वस्त्र धारण करने हैं और गर्मी है तो हमें कॉटन के सूती कपड़े और मुलायम हवादार कपड़े पहनना चाहिए ढीले और सर्दी में हम थोड़ा चित्र कपड़े पहन सकते हैं लेकिन गर्मियों में हमें हवादार कपड़े पहनना चाहिए और हमें अपने कपड़े पहनना चाहिए जो हमारी इज्जत मर्यादा का ध्यान रख सके हमें अंग प्रदर्शन वाले कपड़े नहीं पहनना चाहिए धन्यवाद
Phrend svaagat hai aapaka aapaka phes nahin bas dhaaran karane ke lie kin kin baaton ka dhyaan rakhana aavashyak hai to phrend ke mausam ke oopar bhee nirdhaarit karata hai jaise sardee hai to hamen garm vastr dhaaran karane hain aur garmee hai to hamen kotan ke sootee kapade aur mulaayam havaadaar kapade pahanana chaahie dheele aur sardee mein ham thoda chitr kapade pahan sakate hain lekin garmiyon mein hamen havaadaar kapade pahanana chaahie aur hamen apane kapade pahanana chaahie jo hamaaree ijjat maryaada ka dhyaan rakh sake hamen ang pradarshan vaale kapade nahin pahanana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है?Vastr Dharan Karne Ke Lie Kin Kin Baaton Ka Dhyaan Rakhna Aavashyak Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:43
नमस्कार आपका पसंद है वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है अगर हम वस्त्र धारण करते हैं तो वस्त्रों की साफ सफाई का पूरा ध्यान रखना चाहिए कपड़े हमारे प्रेस क्यों है होने चाहिए और वस्त्र को अपने पैसे के हिसाब से ही धारण करना चाहिए जिससे आपकी पर्सनैलिटी डिवेलप होती है धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Namaskaar aapaka pasand hai vastr dhaaran karane ke lie kin kin baaton ka dhyaan rakhana aavashyak hai to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai agar ham vastr dhaaran karate hain to vastron kee saaph saphaee ka poora dhyaan rakhana chaahie kapade hamaare pres kyon hai hone chaahie aur vastr ko apane paise ke hisaab se hee dhaaran karana chaahie jisase aapakee parsanailitee divelap hotee hai dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है?Vastr Dharan Karne Ke Lie Kin Kin Baaton Ka Dhyaan Rakhna Aavashyak Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:28
यह है की कश्ती धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना हो सके तो सबसे पहले उसे कपड़े पहने जो कंफर्टेबल हो मेरी कंफर्टेबल नहीं होंगे तो आप किसी के सामने खड़े हुए थे जिनमें से कंफर्टेबल वाले कपड़े पहनने चाहिए कल्चर देखकर बैलेंस चाहिए कि आप जिस जगह पर रह रहे उसके साथ के कपड़े पहने यदि आप उससे हटकर सभी लोग आपकी को करेंगे जो अच्छी बात नहीं होती है
Yah hai kee kashtee dhaaran karane ke lie kin kin baaton ka dhyaan rakhana ho sake to sabase pahale use kapade pahane jo kamphartebal ho meree kamphartebal nahin honge to aap kisee ke saamane khade hue the jinamen se kamphartebal vaale kapade pahanane chaahie kalchar dekhakar bailens chaahie ki aap jis jagah par rah rahe usake saath ke kapade pahane yadi aap usase hatakar sabhee log aapakee ko karenge jo achchhee baat nahin hotee hai

bolkar speaker
वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है?Vastr Dharan Karne Ke Lie Kin Kin Baaton Ka Dhyaan Rakhna Aavashyak Hai
Divya Singh  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Divya जी का जवाब
Mentor teacher at DoE, Delhi
4:59
नमस्कार प्रश्न है वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है सबसे पहले आवश्यकता है वस्त्रों का साफ होना उसके बाद हमें समय और स्थान के अनुसार भी वस्त्र धारण करने चाहिए यदि कोई व्यक्ति केवल एक ही प्रकार के वस्त्र सोना पहनता है फिर तो कोई खास आवश्यकता नहीं है समय स्थान के बारे में सोचने की क्योंकि वही उसका स्टाइल है वही उसका पहनावा है उदाहरण के लिए से कोई स्त्री सदा साड़ी ही पहनती है या सदा वह अपने लोकल अपने प्रदेश के हिसाब से अपने प्रांत के हिसाब से कपड़े पहनती हैं वह हमेशा वही पहनती हैं उसमें कोई ऐसी दिक्कत नहीं है किंतु ज्यादातर शहरों में देखा जाता है कि लोग वर्सेटाइल होते हैं यानी एक ही व्यक्ति मॉडर्न कपड़े भी पहनता है जो ट्रेंड में है या यदि हम कई बार कहते हैं कि हां बस स्टैंड लुक्स में हम कह देते हैं कपड़े पहनते हैं और हम अपने आदेश के अपने यहां के भी जो परिधान है वह पहनते हैं जैसे कि महिला के लिए भी कहे तो और साड़ी भी पहन लेती है कि महिला वहां जींस टॉप भी पहन लेती है वहीं महिला सूट सलवार भी पहनती महिला लहंगा चोली भी पहनती है वैसे ही पुरुष में भी कभी वो धोती कुर्ता भी पहनते हैं कभी वह जींस पैंट टी-शर्ट भी पहनते हैं तो वह भी पहनते हैं तो यह जहां पर अक्सर शहरों में देखा जाता है कि वर्सेटाइल जो है पहनावा होता है तो उन्हें खासतौर पर समय और स्थान का ध्यान रखकर वस्त्र धारण करने चाहिए यदि आप अपने कार्य क्षेत्र पर हैं तो वहां पर आप सभी को यूनिफॉर्म नहीं है वहां का तो आप जरूर हम उसके हिसाब से फॉर्मल कपड़े पहने यदि हम किसी धार्मिक स्थल पर होते हैं तो हम वहां पर कंफर्टेबल कपड़े जो थोड़ा लूज पैकेट होते हैं और क्योंकि ऐसे स्थान पर आपको बिल्कुल रिलैक्स शांत मन के साथ बैठना है तो लूज़ कपड़े और जिसमें कि हम कुछ ऐसी आपत्तिजनक स्थिति ना बन जाए तो हमारा शरीर हमारा धंधा का हुआ हो जबकि हम और दूसरी तरफ जब भी यदि हम घर में आराम से बैठे हैं वहां पर क्या सूट पहनते हैं वहां भी हम ढीले ढाले कपड़े आना लोअर टीशर्ट कुर्ता पजामा और जो फीमेल के लिए अभी हम देखें तो लॉन्ग स्कर्ट्स टी-शर्ट तरह से भी पहनते हैं और नववर्ष की पहनते हैं तो बिल्कुल करता है कि आप समय और स्थान का और मौके का यानी अवश्य ध्यान रखते हुए वस्त्र धारण करते हैं तो काफी अच्छी तरह से आप खुद को प्रस्तुत करते हैं यदि हम मोदी जी को ही देखें तो वह कितने अच्छे से ड्रेस पहनते हैं और वह मौके और स्थान के अनुसार ही ड्रेसेस पहनते हैं यदि वह विश्व विदेश यात्रा पर होते हैं तब भी वह कई बार सूट में होते हैं कोट पेंट में भी होते हैं पर अधिकतर हम उनको देखते हैं कि बॉस्केट जो जैकेट होती है कुर्ते पजामे में वह होते हैं क्योंकि एक देश का प्रतिनिधित्व वह करते हैं तो अपने देश को उन्हीं के परिचय मिलता है हमारे देश का कि वहां का नेता ऐसा है तो वह देश कैसा होगा तो इन बातों का वह ध्यान रखते हैं यह हम देख पाते हैं वहीं दूसरी और अगर वह किसी राजनीतिक प्रस्तुति में होते हैं अपनी पार्टी के प्रति तो वह वहां पर जिस प्रांत में जिस प्रदेश में हैं उसी रंग में रंगे हुए भी दिखते हैं तो यह जरूर दर्शाता है कि उस सोच समझ के वस्त्र धारण करते हैं वहां के लोगों से अपना कनेक्ट बनाने के लिए अपनापन दर्शाने के लिए भी वह ऐसा करते होंगे ऐसा लगता है तो बिल्कुल हम यदि इस तरह का हमारा प्रोफेशन है हम वहां पर यदि वहां तो कोई यूनिफार्म है तो उसे वियर करें और यदि हम किसी स्टेज पर मंच पर कहीं प्रस्तुत है या किसी हम अपने प्रोजेक्ट को प्रस्तुत कर रहे हैं किसी टीम के सामने तो वहां पर हमें प्रेजेंटेबल रहना है तो वह फॉर्मल्स में अच्छा लगता है और क्या जो उसमें हम कहीं घूमने फिरने गए होते हैं तो आप फॉर्मल जो है बड़े अनकंफरटेबल से लगते हैं क्योंकि वहां हम थोड़ा सा भाग दौड़ खेलकूद भी करते हैं या हम रिलैक्स हो कर बैठे होते हैं तो बिल्कुल यह जो वस्त्र धारण करना है समय स्थान अवश्य और हम वहां पर क्यों है हमारी उपस्थिति वहां पर क्या दर्शाती है उसके अनुसार भी हो तो यह कुछ बातें थी जो वस्त्र धारण करते समय ध्यान रखनी चाहिए और हां वस्तुओं का साफ सुथरा होना सबसे आवश्यक है धन्यवाद
Namaskaar prashn hai vastr dhaaran karane ke lie kin kin baaton ka dhyaan rakhana aavashyak hai sabase pahale aavashyakata hai vastron ka saaph hona usake baad hamen samay aur sthaan ke anusaar bhee vastr dhaaran karane chaahie yadi koee vyakti keval ek hee prakaar ke vastr sona pahanata hai phir to koee khaas aavashyakata nahin hai samay sthaan ke baare mein sochane kee kyonki vahee usaka stail hai vahee usaka pahanaava hai udaaharan ke lie se koee stree sada sari hee pahanatee hai ya sada vah apane lokal apane pradesh ke hisaab se apane praant ke hisaab se kapade pahanatee hain vah hamesha vahee pahanatee hain usamen koee aisee dikkat nahin hai kintu jyaadaatar shaharon mein dekha jaata hai ki log varsetail hote hain yaanee ek hee vyakti modarn kapade bhee pahanata hai jo trend mein hai ya yadi ham kaee baar kahate hain ki haan bas staind luks mein ham kah dete hain kapade pahanate hain aur ham apane aadesh ke apane yahaan ke bhee jo paridhaan hai vah pahanate hain jaise ki mahila ke lie bhee kahe to aur sari bhee pahan letee hai ki mahila vahaan jeens top bhee pahan letee hai vaheen mahila soot salavaar bhee pahanatee mahila lahanga cholee bhee pahanatee hai vaise hee purush mein bhee kabhee vo dhotee kurta bhee pahanate hain kabhee vah jeens paint tee-shart bhee pahanate hain to vah bhee pahanate hain to yah jahaan par aksar shaharon mein dekha jaata hai ki varsetail jo hai pahanaava hota hai to unhen khaasataur par samay aur sthaan ka dhyaan rakhakar vastr dhaaran karane chaahie yadi aap apane kaary kshetr par hain to vahaan par aap sabhee ko yooniphorm nahin hai vahaan ka to aap jaroor ham usake hisaab se phormal kapade pahane yadi ham kisee dhaarmik sthal par hote hain to ham vahaan par kamphartebal kapade jo thoda looj paiket hote hain aur kyonki aise sthaan par aapako bilkul rilaiks shaant man ke saath baithana hai to looz kapade aur jisamen ki ham kuchh aisee aapattijanak sthiti na ban jae to hamaara shareer hamaara dhandha ka hua ho jabaki ham aur doosaree taraph jab bhee yadi ham ghar mein aaraam se baithe hain vahaan par kya soot pahanate hain vahaan bhee ham dheele dhaale kapade aana loar teeshart kurta pajaama aur jo pheemel ke lie abhee ham dekhen to long skarts tee-shart tarah se bhee pahanate hain aur navavarsh kee pahanate hain to bilkul karata hai ki aap samay aur sthaan ka aur mauke ka yaanee avashy dhyaan rakhate hue vastr dhaaran karate hain to kaaphee achchhee tarah se aap khud ko prastut karate hain yadi ham modee jee ko hee dekhen to vah kitane achchhe se dres pahanate hain aur vah mauke aur sthaan ke anusaar hee dreses pahanate hain yadi vah vishv videsh yaatra par hote hain tab bhee vah kaee baar soot mein hote hain kot pent mein bhee hote hain par adhikatar ham unako dekhate hain ki bosket jo jaiket hotee hai kurte pajaame mein vah hote hain kyonki ek desh ka pratinidhitv vah karate hain to apane desh ko unheen ke parichay milata hai hamaare desh ka ki vahaan ka neta aisa hai to vah desh kaisa hoga to in baaton ka vah dhyaan rakhate hain yah ham dekh paate hain vaheen doosaree aur agar vah kisee raajaneetik prastuti mein hote hain apanee paartee ke prati to vah vahaan par jis praant mein jis pradesh mein hain usee rang mein range hue bhee dikhate hain to yah jaroor darshaata hai ki us soch samajh ke vastr dhaaran karate hain vahaan ke logon se apana kanekt banaane ke lie apanaapan darshaane ke lie bhee vah aisa karate honge aisa lagata hai to bilkul ham yadi is tarah ka hamaara propheshan hai ham vahaan par yadi vahaan to koee yooniphaarm hai to use viyar karen aur yadi ham kisee stej par manch par kaheen prastut hai ya kisee ham apane projekt ko prastut kar rahe hain kisee teem ke saamane to vahaan par hamen prejentebal rahana hai to vah phormals mein achchha lagata hai aur kya jo usamen ham kaheen ghoomane phirane gae hote hain to aap phormal jo hai bade anakampharatebal se lagate hain kyonki vahaan ham thoda sa bhaag daud khelakood bhee karate hain ya ham rilaiks ho kar baithe hote hain to bilkul yah jo vastr dhaaran karana hai samay sthaan avashy aur ham vahaan par kyon hai hamaaree upasthiti vahaan par kya darshaatee hai usake anusaar bhee ho to yah kuchh baaten thee jo vastr dhaaran karate samay dhyaan rakhanee chaahie aur haan vastuon ka saaph suthara hona sabase aavashyak hai dhanyavaad

bolkar speaker
वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है?Vastr Dharan Karne Ke Lie Kin Kin Baaton Ka Dhyaan Rakhna Aavashyak Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:34
समय की बचत धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है तो मेरे हिसाब से तो हमेशा आपको ऐसे कपड़े पहने चाहिए जिसमें आप कंफर्टेबल लग रहे हो जिसमें आप कर लो कौन है जो करके आ रहा हूं सिर्फ दूसरों की नकल करके कोई भी चीज पहन लेना सही नहीं होता है कोई भी ऐसा क्लोजिंग आइटम जो दूसरे पर अच्छा लग रहा है वह आप पर भी अच्छा लगे ऐसा जरूरी नहीं होता है हर एक कलर कॉमिनेशन जो आपकी स्किन टोन पर सूट कराओ या फिर जो भी आपने व्हाट्सएप पे ना उसमें जब तक आप कम फटी ब्लॉक कॉन्फिडेंट नहीं फील करेंगे तब तक वह अच्छा नहीं लगेगा आपका दिन शुभ रहे थे निकाल
Samay kee bachat dhaaran karane ke lie kin kin baaton ka dhyaan rakhana aavashyak hai to mere hisaab se to hamesha aapako aise kapade pahane chaahie jisamen aap kamphartebal lag rahe ho jisamen aap kar lo kaun hai jo karake aa raha hoon sirph doosaron kee nakal karake koee bhee cheej pahan lena sahee nahin hota hai koee bhee aisa klojing aaitam jo doosare par achchha lag raha hai vah aap par bhee achchha lage aisa jarooree nahin hota hai har ek kalar komineshan jo aapakee skin ton par soot karao ya phir jo bhee aapane vhaatsep pe na usamen jab tak aap kam phatee blok konphident nahin pheel karenge tab tak vah achchha nahin lagega aapaka din shubh rahe the nikaal

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • वस्त्र धारण करने के लिए किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है,वस्त्र धारण करने के लिए किन किन बातों का ध्यान रखना आवश्यक है,वस्त्रों का चयन
URL copied to clipboard