#जीवन शैली

bolkar speaker

यदि भविष्य बदला नहीं सकता तो हाथों की लकीरें अपने आप घटती बढ़ती क्यों रहती हैं?

Yadi Bhavishya Badla Nahin Sakta To Haathon Ki Lakire Apne Aap Ghatti Badhti Kyun Rehti Hain
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:27
आप दवाई लेकर जो भविष्य नहीं बदल सकता है तो हाथों की लकीर अपने आप भर्ती भर्ती क्यों रहती है तथा किसने कहा कि भविष्य नहीं बोल सकता है आपके कर्मों के द्वारा के प्रयासों के द्वारा निश्चित तौर पर अपने भविष्य को बदल सकते हैं आप में अच्छाई के चलते अपने भविष्य को सुंदर खूबसूरत बना सकते हैं पढ़ाई के चलते पर भविष्य को बिगाड़ सकते हैं और इसी वजह से है कि आपके कर्मों के चलते ही आपके हाथों की लकीरें भी घटती बढ़ती रहती हैं आपका नहीं छूटे ही धन्यवाद
Aap davaee lekar jo bhavishy nahin badal sakata hai to haathon kee lakeer apane aap bhartee bhartee kyon rahatee hai tatha kisane kaha ki bhavishy nahin bol sakata hai aapake karmon ke dvaara ke prayaason ke dvaara nishchit taur par apane bhavishy ko badal sakate hain aap mein achchhaee ke chalate apane bhavishy ko sundar khoobasoorat bana sakate hain padhaee ke chalate par bhavishy ko bigaad sakate hain aur isee vajah se hai ki aapake karmon ke chalate hee aapake haathon kee lakeeren bhee ghatatee badhatee rahatee hain aapaka nahin chhoote hee dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
यदि भविष्य बदला नहीं सकता तो हाथों की लकीरें अपने आप घटती बढ़ती क्यों रहती हैं?Yadi Bhavishya Badla Nahin Sakta To Haathon Ki Lakire Apne Aap Ghatti Badhti Kyun Rehti Hain
lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
3:27
कछवाला क्या यदि भविष्य बना नहीं सकता तो हाथों की लकीर अपने आप घटती बढ़ती क्यों इसका जवाब है देखिए भविष्य आपके हाथों में भविष्य पहले से निर्धारित नहीं है आप भविष्य को बदल सकती हूं जो आप हाथों की लकीर बोल रहे हो ना वह तो जो करना है वह आप दिखा रहे हैं कि जो अब तक आपने कर्म किए हो उसका परिणाम दिखा रहा है वह किसकी आप दुखी हो ठीक है तू कैसे पता चला है कि आप दुखी हो कैसे पता चलेगा आपके चेहरे से पता चलेगा आपका उदासी पन से पता चलेगा कि आप दुखी हो निराश हो मेरा सिर झुकाए बैठे हुए किसी से बात नहीं करूं तो आप दुखी हूं पता चल जाता खुशी खुशी खुशी कैसे पता चल जाता है कि उनके सामने किया है आपने कि कहां पर व्यक्तित्व कैसा है स्वभाव कैसा है वह सही किया हाथों की लकीरों से देख कर पता कर सकती लेकिन भविष्य भविष्य को नहीं मान सकती मैं आपको बता रहा हूं भविष्य को आप आपके हाथ तुम या भविष्य ठीक है इसे आप यानी कि बदल सकते हो इसे कुछ भी कर सकता भविष्य को पहले से निर्धारित नहीं रहता यह बात मैं आपको बताता हूं हाथों की लकीरों से कोई आपका भविष्य नहीं बता सकता हां वो अभी किस स्टेशन के लिए बता सकते तो क्लियर कर देता हूं कि हाथों की लकीरें नहीं करती जो भादू के लगे लेकिन देख कर कोई भाई सातारा मतलब यह समझ लो कि आपने अभी तक जो कर्म किया उस पर मैं हिसाब से वह बता रहा है कि ऐसा काम हो सकता है प्रिडिक्शन एक अनुमान लगा रहे कि जब तक कटिया भाई साहब अगर फिर से करोगे तो आपको वही मिलेगा अगर आपको अच्छा कर्म करना अच्छे कर्म करोगे तो अच्छा फल मिलेगा मतलब यह है कि आप हाथों की लकीरों को देखकर अपना भविष्य मत बताइए करो कि यह समीर भाई सब लिखा है तो ऐसे ही होगा ऐसा नहीं आप जैसा चाहोगे वैसा बना सकता अपने भाई को आप जो सोच रहे हो वह आपका भविष्य बना रहे जो आप शंकर वहां पर बना रहा तो मत देखो यार वह तो अच्छा लगेगा आपको जो कर्म है वह भविष्य निधि मतलब यह कि हाथों की लकीरें गया फिर मस्त अकेले करके देख कर कोई भाई से नहीं बता सकता स्वभाव बता सकती थी व्यक्तित्व कैसा इश्क है यह व्यक्ति कैसा है इसका स्वभाव कैसा है अब तक क्या-क्या किया है सब कुछ बता सकते हो कि पिछले टाइम अब तक जन्म से लेकर अब तक उन्होंने क्या-क्या किया कि उसका व्यक्तित्व कैसा है लेकिन भविष्य भविष्य आप नहीं बता सकती है हंड्रेड परसेंट कृष्ण भविष्य नहीं बता सकते हो प्रेरित किया जाता है कि आप कैसे हो सकता है लेकिन वैसा नहीं हो तो मैं आपको पहले बताओ आप ही कर्म के ऊपर आप जैसा कर्म करोगे तो आप भविष्य बदल सकती तो इसलिए मैं बोल रहा हूं इन सब चीजों के पीछे मत पड़ो ठीक है जोशी लोग बताते हैं वह तो साइंस लेकिन हां भाई साहब बदल सकते हो बदल सकते हो बदल सकते हो बदल सकते हो मैं बाहर बोल रहा हूं बदल सकते हो भाई भाई सब आपके हाथ में किसी और के हाथ में नहीं यहां तक कि भगवान भी नहीं लिखता आपको कोई ठीक है आपकी जो कर्म है वही कर मैं आपके भविष्य विधायक करते हैं अच्छा कर्म करो अच्छा फल मिलेगा ठीक है तो लाइफ में एक गोल बनाओ कि आपको करना क्या है जिंदगी में जिंदगी में बड़ा लक्ष्य निर्धारित करो उसे उस पर काम करो आप जरुर सफल होगी यह मत सोचो कि मेरे भाई से मे लिखा है अरे किस्मत और भविष्य आप खुद लिख रहे हो अपने ऊपर विश्वास रखो आप सब कुछ कर सकते हो ठीक है
Kachhavaala kya yadi bhavishy bana nahin sakata to haathon kee lakeer apane aap ghatatee badhatee kyon isaka javaab hai dekhie bhavishy aapake haathon mein bhavishy pahale se nirdhaarit nahin hai aap bhavishy ko badal sakatee hoon jo aap haathon kee lakeer bol rahe ho na vah to jo karana hai vah aap dikha rahe hain ki jo ab tak aapane karm kie ho usaka parinaam dikha raha hai vah kisakee aap dukhee ho theek hai too kaise pata chala hai ki aap dukhee ho kaise pata chalega aapake chehare se pata chalega aapaka udaasee pan se pata chalega ki aap dukhee ho niraash ho mera sir jhukae baithe hue kisee se baat nahin karoon to aap dukhee hoon pata chal jaata khushee khushee khushee kaise pata chal jaata hai ki unake saamane kiya hai aapane ki kahaan par vyaktitv kaisa hai svabhaav kaisa hai vah sahee kiya haathon kee lakeeron se dekh kar pata kar sakatee lekin bhavishy bhavishy ko nahin maan sakatee main aapako bata raha hoon bhavishy ko aap aapake haath tum ya bhavishy theek hai ise aap yaanee ki badal sakate ho ise kuchh bhee kar sakata bhavishy ko pahale se nirdhaarit nahin rahata yah baat main aapako bataata hoon haathon kee lakeeron se koee aapaka bhavishy nahin bata sakata haan vo abhee kis steshan ke lie bata sakate to kliyar kar deta hoon ki haathon kee lakeeren nahin karatee jo bhaadoo ke lage lekin dekh kar koee bhaee saataara matalab yah samajh lo ki aapane abhee tak jo karm kiya us par main hisaab se vah bata raha hai ki aisa kaam ho sakata hai pridikshan ek anumaan laga rahe ki jab tak katiya bhaee saahab agar phir se karoge to aapako vahee milega agar aapako achchha karm karana achchhe karm karoge to achchha phal milega matalab yah hai ki aap haathon kee lakeeron ko dekhakar apana bhavishy mat bataie karo ki yah sameer bhaee sab likha hai to aise hee hoga aisa nahin aap jaisa chaahoge vaisa bana sakata apane bhaee ko aap jo soch rahe ho vah aapaka bhavishy bana rahe jo aap shankar vahaan par bana raha to mat dekho yaar vah to achchha lagega aapako jo karm hai vah bhavishy nidhi matalab yah ki haathon kee lakeeren gaya phir mast akele karake dekh kar koee bhaee se nahin bata sakata svabhaav bata sakatee thee vyaktitv kaisa ishk hai yah vyakti kaisa hai isaka svabhaav kaisa hai ab tak kya-kya kiya hai sab kuchh bata sakate ho ki pichhale taim ab tak janm se lekar ab tak unhonne kya-kya kiya ki usaka vyaktitv kaisa hai lekin bhavishy bhavishy aap nahin bata sakatee hai handred parasent krshn bhavishy nahin bata sakate ho prerit kiya jaata hai ki aap kaise ho sakata hai lekin vaisa nahin ho to main aapako pahale batao aap hee karm ke oopar aap jaisa karm karoge to aap bhavishy badal sakatee to isalie main bol raha hoon in sab cheejon ke peechhe mat pado theek hai joshee log bataate hain vah to sains lekin haan bhaee saahab badal sakate ho badal sakate ho badal sakate ho badal sakate ho main baahar bol raha hoon badal sakate ho bhaee bhaee sab aapake haath mein kisee aur ke haath mein nahin yahaan tak ki bhagavaan bhee nahin likhata aapako koee theek hai aapakee jo karm hai vahee kar main aapake bhavishy vidhaayak karate hain achchha karm karo achchha phal milega theek hai to laiph mein ek gol banao ki aapako karana kya hai jindagee mein jindagee mein bada lakshy nirdhaarit karo use us par kaam karo aap jarur saphal hogee yah mat socho ki mere bhaee se me likha hai are kismat aur bhavishy aap khud likh rahe ho apane oopar vishvaas rakho aap sab kuchh kar sakate ho theek hai

bolkar speaker
यदि भविष्य बदला नहीं सकता तो हाथों की लकीरें अपने आप घटती बढ़ती क्यों रहती हैं?Yadi Bhavishya Badla Nahin Sakta To Haathon Ki Lakire Apne Aap Ghatti Badhti Kyun Rehti Hain
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:40
हेलो जीतू आज आपका सवाल है कि यदि भविष्य बदल नहीं हाथों हाथों की लकीरे अपने आप घटती बढ़ती क्यों रहती है सबसे पहले हाथों की लकीरों पर बिल्कुल भी विश्वास नहीं करती हाथों की लकीरे होता तो फिर हम जो भी काम करते हैं तेरा तेरा ही हमारी जिंदगी चलती है कहा जाता है कि हमारे बारे में हर एक चीज लिख दिए हैं पहले से हरिद्वार के माता-पिता के माता-पिता से बढ़कर कहा जाता है तो हमारे लिए बना देते नींद को कैसे कन्वर्ट करते दुनिया में थोड़ा और छोड़ देने के लिए बदलाव लाने के लिए हम ईश्वर से प्रार्थना करते हैं और मानते हैं हर एक इंसान के काम से जाना जाता है कैसे बदल सकते हैं कि हमारे घर आकर आपको कॉल करके तब जाकर विदेशों में कुछ भी बताया कि तुम हमारे साथ में जो नीचे सोता
Helo jeetoo aaj aapaka savaal hai ki yadi bhavishy badal nahin haathon haathon kee lakeere apane aap ghatatee badhatee kyon rahatee hai sabase pahale haathon kee lakeeron par bilkul bhee vishvaas nahin karatee haathon kee lakeere hota to phir ham jo bhee kaam karate hain tera tera hee hamaaree jindagee chalatee hai kaha jaata hai ki hamaare baare mein har ek cheej likh die hain pahale se haridvaar ke maata-pita ke maata-pita se badhakar kaha jaata hai to hamaare lie bana dete neend ko kaise kanvart karate duniya mein thoda aur chhod dene ke lie badalaav laane ke lie ham eeshvar se praarthana karate hain aur maanate hain har ek insaan ke kaam se jaana jaata hai kaise badal sakate hain ki hamaare ghar aakar aapako kol karake tab jaakar videshon mein kuchh bhee bataaya ki tum hamaare saath mein jo neeche sota

bolkar speaker
यदि भविष्य बदला नहीं सकता तो हाथों की लकीरें अपने आप घटती बढ़ती क्यों रहती हैं?Yadi Bhavishya Badla Nahin Sakta To Haathon Ki Lakire Apne Aap Ghatti Badhti Kyun Rehti Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:30
स्वागत आपका भविष्य बदल नहीं सकता तो हाथों की लकीरों का कोई संबंध नहीं होता है यह तो जो तुझे देख कर बता देते हैं कि नंगी करने से लोग अपनी भूल सकते हैं और हाथों की लकीरें घटती बढ़ती रहती है शरीर की मांसपेशियों ना उसका कोई लेना-देना नहीं होता है धन्यवाद
Svaagat aapaka bhavishy badal nahin sakata to haathon kee lakeeron ka koee sambandh nahin hota hai yah to jo tujhe dekh kar bata dete hain ki nangee karane se log apanee bhool sakate hain aur haathon kee lakeeren ghatatee badhatee rahatee hai shareer kee maansapeshiyon na usaka koee lena-dena nahin hota hai dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • हाथों की लकीरें अपने आप घटती बढ़ती क्यों रहती हैं, हाथों की लकीरें
URL copied to clipboard