#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

कभी-कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है?

Kabhi Kabhi Bevajah Bura Kyo Lagta Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:34
घर आकर उसने कभी कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है तो आपको पता नहीं दिखे डिपेंड करता है आपके ऊपर आपके मूड के ऊपर कई बार इस तरह की चीजें होती हैं जहां पर व्यक्ति को कोई बात किसी की बुरी लग जाती है तो उसको वह दिल पर नहीं रहता है तो और अधिक बुरा लगता है और कई बार उस बात को मजाक में डाल देता है तो चीज नॉर्मल लगने लगती है तो यह सोच के ऊपर डिपेंड करता है कि आपकी तरह से बातों को ले रहे हैं कितना सीरियस है उसके कोडिंग हासिल करते हैं मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Ghar aakar usane kabhee kabhee bevajah bura kyon lagata hai to aapako pata nahin dikhe dipend karata hai aapake oopar aapake mood ke oopar kaee baar is tarah kee cheejen hotee hain jahaan par vyakti ko koee baat kisee kee buree lag jaatee hai to usako vah dil par nahin rahata hai to aur adhik bura lagata hai aur kaee baar us baat ko majaak mein daal deta hai to cheej normal lagane lagatee hai to yah soch ke oopar dipend karata hai ki aapakee tarah se baaton ko le rahe hain kitana seeriyas hai usake koding haasil karate hain main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
कभी-कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है?Kabhi Kabhi Bevajah Bura Kyo Lagta Hai
Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
2:52
कभी-कभी बेबे जो बुरा क्यों लगता है हमारे मस्तिष्क के अंदर में जो भी हमारा मन है उसकी करैक्टेरिस्टिक चमन थी कि वह बार-बार चंचलता से यहां वहां घूमते रहता है ब्रेन के अंदर में कई सारे थोड़ा हमारे लाइफ टाइम है हम लोगों ने ऐप जोड़कर के अंदर रखे हुए ब्रेन के अंदर में हम लोग लेते हैं ब्रेन में सबकॉन्शियस में जाकर वापस छुप जाते हैं हमें पता नहीं रहता है कि वहां पर अब ऐसे ही जब हम लोग खाली बैठे होते हैं तो विचारों की पहल शुरू हो जाती है ट्रेन के अंदर में कितने अनगिनत दिनांक से सोते हैं 3 हफ्ते पहले कनेक्शन शब्द न्यूरॉन की अलग अलग टाइप के मेमोरी के लिए बने हुए तो यह आपका मन कहां से कौन सी चीज कहां पर क्यों कनेक्ट कर देगा उसका कोई रीज़न नहीं है अगर आप एक मालिका देख रहे हो या कोई सीरीज देख रहे हो उसके अंदर में कोई रिंकू इवेंट है आपका ब्रेन उसी गेट खुले हुए खुद की लाइफ जोड़ लेगा औरतों को बुरा लगना शुरू हो जाएगा अभी फ्रेश फील होगा इस तरीके से कई बार ऐसा होता है कि ऐसे पॉइंट को अपना मन में अब रेल कनेक्ट कर देता है जिसके अंदर हमें अच्छा नहीं लगता है तो जभी भी ऐसी फीलिंग है तो इतना समझ लेना कि टेंपरेरी हो रिमाइंडर सेट कर तो ऐसा फीलिंग आती है तो रोक देना खुद को और खुद को तुरंत एक इंफॉर्मेशन दे देंगे अपने ब्रेन को की टो ब्रेन के ऊपर हाथ लगती है उसको स्टॉक की ऐसी चीज है जब चल रही होती लॉजिक चल रहे होते तो आपका लेफ्ट ब्रेन एक्टिव होता है लेफ्ट ब्रेन के ऊपर हाथ रख कर बोलो टॉप एंड थिंकिंग गुड बहुत ही तो अपने आप क्या होता है कि यह एक ऐसा बोलने से हमने एक नया थॉट लेकर आए जितने पुराने छोड़ के ट्रेलर को रोका जाएगा तब तक आप मुझे समझ में आना चाहिए कि मुझे बुरा लगता है बिना कार बुरा लग रहा है बिना कारण से जस्ट नाउ जस्ट स्टॉप ब्रेन को स्टार्ट करो आप ऐसा बोलोगे ना तो एक नया छोड़कर ट्रेल आएगा और उस दिल को तोड़ देगा अपने आप ही क्योंकि वह भी तो के लिए एक बुरा लगने वाली ट्रेन उसको कैसे रोकना है उसको रोक देना है और हो सकता है कि कई बार अपने आपको आपको 2 दिन दिन दिन तक बेमतलब के फ्रस्ट्रेटेड और बुरा लगे लगने दो कोई दिक्कत नहीं है ऐसे समय पर वहां से अपने आप को कट करो उसमें बार-बार दिमाग जाएगा लेकिन वही प्रेक्टिस करो कि भाड़ प्यार से निकालना है फिर से अपने को अपनी दिनचर्या में लगाना है फिर से उसने जाएगा फिर से निकालने रखना आप दो-तीन दिन प्रैक्टिस करोगे अपने आप आप उस रेल के निकल जाओ तो यही चीज होती है जो आप को रोकती है डिप्रेशन में जाने से
Kabhee-kabhee bebe jo bura kyon lagata hai hamaare mastishk ke andar mein jo bhee hamaara man hai usakee karaikteristik chaman thee ki vah baar-baar chanchalata se yahaan vahaan ghoomate rahata hai bren ke andar mein kaee saare thoda hamaare laiph taim hai ham logon ne aip jodakar ke andar rakhe hue bren ke andar mein ham log lete hain bren mein sabakonshiyas mein jaakar vaapas chhup jaate hain hamen pata nahin rahata hai ki vahaan par ab aise hee jab ham log khaalee baithe hote hain to vichaaron kee pahal shuroo ho jaatee hai tren ke andar mein kitane anaginat dinaank se sote hain 3 haphte pahale kanekshan shabd nyooron kee alag alag taip ke memoree ke lie bane hue to yah aapaka man kahaan se kaun see cheej kahaan par kyon kanekt kar dega usaka koee reezan nahin hai agar aap ek maalika dekh rahe ho ya koee seereej dekh rahe ho usake andar mein koee rinkoo ivent hai aapaka bren usee get khule hue khud kee laiph jod lega auraton ko bura lagana shuroo ho jaega abhee phresh pheel hoga is tareeke se kaee baar aisa hota hai ki aise point ko apana man mein ab rel kanekt kar deta hai jisake andar hamen achchha nahin lagata hai to jabhee bhee aisee pheeling hai to itana samajh lena ki tempareree ho rimaindar set kar to aisa pheeling aatee hai to rok dena khud ko aur khud ko turant ek imphormeshan de denge apane bren ko kee to bren ke oopar haath lagatee hai usako stok kee aisee cheej hai jab chal rahee hotee lojik chal rahe hote to aapaka lepht bren ektiv hota hai lepht bren ke oopar haath rakh kar bolo top end thinking gud bahut hee to apane aap kya hota hai ki yah ek aisa bolane se hamane ek naya thot lekar aae jitane puraane chhod ke trelar ko roka jaega tab tak aap mujhe samajh mein aana chaahie ki mujhe bura lagata hai bina kaar bura lag raha hai bina kaaran se jast nau jast stop bren ko staart karo aap aisa bologe na to ek naya chhodakar trel aaega aur us dil ko tod dega apane aap hee kyonki vah bhee to ke lie ek bura lagane vaalee tren usako kaise rokana hai usako rok dena hai aur ho sakata hai ki kaee baar apane aapako aapako 2 din din din tak bematalab ke phrastreted aur bura lage lagane do koee dikkat nahin hai aise samay par vahaan se apane aap ko kat karo usamen baar-baar dimaag jaega lekin vahee prektis karo ki bhaad pyaar se nikaalana hai phir se apane ko apanee dinacharya mein lagaana hai phir se usane jaega phir se nikaalane rakhana aap do-teen din praiktis karoge apane aap aap us rel ke nikal jao to yahee cheej hotee hai jo aap ko rokatee hai dipreshan mein jaane se

bolkar speaker
कभी-कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है?Kabhi Kabhi Bevajah Bura Kyo Lagta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:24
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका अपना प्रश्न कभी-कभी बेवजह बुरा तो लगता है तो फ्रेंड्स कभी-कभी हमें दिमाग में कोई चीज की टेंशन होती है इसलिए हमें बुरा लगने लगता है और जब हमारे साथ कुछ बुरा होता है तो फिर हमें उस समय अच्छा नहीं लगता है हम बुरा ही सोचते हैं और अगर हमारे आसपास हम कुछ बुरा देख लेते हैं तो भी हमें बेवजह बुरा ही लगता है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka apana prashn kabhee-kabhee bevajah bura to lagata hai to phrends kabhee-kabhee hamen dimaag mein koee cheej kee tenshan hotee hai isalie hamen bura lagane lagata hai aur jab hamaare saath kuchh bura hota hai to phir hamen us samay achchha nahin lagata hai ham bura hee sochate hain aur agar hamaare aasapaas ham kuchh bura dekh lete hain to bhee hamen bevajah bura hee lagata hai dhanyavaad

bolkar speaker
कभी-कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है?Kabhi Kabhi Bevajah Bura Kyo Lagta Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:26
उसने कि कभी-कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है तो यह एक मानसिक अवस्था है मन में ऐसा महसूस होता है कि मेरे साथ कुछ गलत नहीं हो रहा है मैं खुश नहीं हूं मैं पसंद नहीं है और अब दूर चलते परेशान क्यों होता है मतलब हम लोग सोचते ज्यादा सोचते हैं तब यह सब होते हैं दूसरे काम में नहीं
Usane ki kabhee-kabhee bevajah bura kyon lagata hai to yah ek maanasik avastha hai man mein aisa mahasoos hota hai ki mere saath kuchh galat nahin ho raha hai main khush nahin hoon main pasand nahin hai aur ab door chalate pareshaan kyon hota hai matalab ham log sochate jyaada sochate hain tab yah sab hote hain doosare kaam mein nahin

bolkar speaker
कभी-कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है?Kabhi Kabhi Bevajah Bura Kyo Lagta Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:28
इसलिए यूट्यूब पर भी कभी बेवजह बुरा क्यों लगता है क्योंकि हम सामने वाले से या फिर किसी एक ऐसी चीज है एक्सपेक्टेशन इतनी ज्यादा कर लेते हैं कि वह उस बात पर खरा नहीं उतरता है 4:00 बजे से कुछ पेंच अपने बच्चों से करते हैं एक्सपेक्टेड कटऑफ करेगा मेरिट में आएगा फिर वह सेकंड डिवीजन में पास हो जाता है यह बात उनको इतनी ज्यादा बुरी लगती है कि वह एक्सप्लेन तो नहीं कर पाते पर मन ही मन बहुत बुरा लगता है

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मन क्यों उदास होता है, मन उदास क्यों रहता है, उदासी का कारण क्या है
URL copied to clipboard