#जीवन शैली

bolkar speaker

क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?

Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
2:14
हेलो शिवांशु आज आपका सवाल है कि क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है तो देखिए इंसान के इंसान बहुत कमजोर होते हैं और कुछ इंसान होते हैं जो थोड़ा मजबूत फ्रॉम होते हैं उनको पता है कि अभी क्या मुझे कैसे किस तरह से चलाओ खुद को मजबूत बनाते हैं जो कमजोर होते हैं वह भी बहुत ज्यादा डरते हैं कि पता नहीं यह प्रॉब्लम है ऐसी सिचुएशन में साधन डल नहीं कर पाऊंगा मैसेज सलूशन ही निकाल पाऊंगा और वह कर देते हैं मतलब पूरा तरह से मतलब हार जाते हैं ना ही उनको कैसे सलूशन मिल पाता क्योंकि से से पूछ पाते हैं वह डरते हैं ना ही पेरेंट्स को बता पाते अपने आसपास किसी को पूछ पाते हैं मतलब इतना ज्यादा खराब होता है कि वह समझ में नहीं आता क्या करना क्या इसकी वजह से वह पूरी तरह से हार जाते लेकिन कोई इंसान कमजोर होने वाला होता है सोचता है कि मेरे सब कुछ होगा लेकिन वह दिमाग को यह नहीं बताता है कि नहीं मेरे से कुछ नहीं होगा वहां पर हो कुछ करने से शायद हो सकता है तो वहां पर वह मजबूत बनता है स्ट्रांग बंदर सलूशन निकालने की कोशिश करता है यह प्रॉब्लम से दूर जाने की कोशिश करता लेकिन कुछ कुछ लोग देखिए बहुत ज्यादा डर जाते हैं कि सबके साथ ऐसा होता है वहां पर एक सहारा एक साथी और कोई समझाए आपको जगह से निकाले बहुत जरूरी होता है तब होता है जब हम किसी को बता दे या फिर कोई इंसान से बहुत क्लोज होता रमेश समझता है तो अपनी परेशानी हर एक इंसान से तो नहीं कहना चाहिए लेकिन कोई ऐसा हो जो संभाल दादा क्लोज हो तो कभी कदर जब लगे कि नहीं यह सलूशन और नहीं निकल रहा तो फिर से कमजोर होकर कोई भी टाइप नहीं लेना चाहिए क्योंकि लाइफ एक बार मिलती है जिंदगी एक बार मिलती है और खून देने से हम अलग पूरी जिंदगी सिर्फ बताएंगे यह और कोई भी गलत निर्णय लेने से के वर्क करने से पूर्व हम पाएंगे इसलिए डर कर ही कमजोर बनकर एक एक बार कोशिश करना चाहिए बताना चाहिए मम्मी पापा को किसी को भी बताना चाहिए और खुद को अगर किसी को भी बता पा रहे तो बहुत बार ऐसा होता है कि हमें खुद को स्ट्रांग बनाना पड़ता है तो खुद को इतना मेंटली स्ट्रांग बनाई है कि कोई भी सूचना तो आपका दिमाग शांत रहे और आप पूछ भी चाहे वह देर से निर्णय क्यों ना बट आप ले पाए
Helo shivaanshu aaj aapaka savaal hai ki kyon insaan paristhitiyon se haar jaata hai to dekhie insaan ke insaan bahut kamajor hote hain aur kuchh insaan hote hain jo thoda majaboot phrom hote hain unako pata hai ki abhee kya mujhe kaise kis tarah se chalao khud ko majaboot banaate hain jo kamajor hote hain vah bhee bahut jyaada darate hain ki pata nahin yah problam hai aisee sichueshan mein saadhan dal nahin kar paoonga maisej salooshan hee nikaal paoonga aur vah kar dete hain matalab poora tarah se matalab haar jaate hain na hee unako kaise salooshan mil paata kyonki se se poochh paate hain vah darate hain na hee perents ko bata paate apane aasapaas kisee ko poochh paate hain matalab itana jyaada kharaab hota hai ki vah samajh mein nahin aata kya karana kya isakee vajah se vah pooree tarah se haar jaate lekin koee insaan kamajor hone vaala hota hai sochata hai ki mere sab kuchh hoga lekin vah dimaag ko yah nahin bataata hai ki nahin mere se kuchh nahin hoga vahaan par ho kuchh karane se shaayad ho sakata hai to vahaan par vah majaboot banata hai straang bandar salooshan nikaalane kee koshish karata hai yah problam se door jaane kee koshish karata lekin kuchh kuchh log dekhie bahut jyaada dar jaate hain ki sabake saath aisa hota hai vahaan par ek sahaara ek saathee aur koee samajhae aapako jagah se nikaale bahut jarooree hota hai tab hota hai jab ham kisee ko bata de ya phir koee insaan se bahut kloj hota ramesh samajhata hai to apanee pareshaanee har ek insaan se to nahin kahana chaahie lekin koee aisa ho jo sambhaal daada kloj ho to kabhee kadar jab lage ki nahin yah salooshan aur nahin nikal raha to phir se kamajor hokar koee bhee taip nahin lena chaahie kyonki laiph ek baar milatee hai jindagee ek baar milatee hai aur khoon dene se ham alag pooree jindagee sirph bataenge yah aur koee bhee galat nirnay lene se ke vark karane se poorv ham paenge isalie dar kar hee kamajor banakar ek ek baar koshish karana chaahie bataana chaahie mammee paapa ko kisee ko bhee bataana chaahie aur khud ko agar kisee ko bhee bata pa rahe to bahut baar aisa hota hai ki hamen khud ko straang banaana padata hai to khud ko itana mentalee straang banaee hai ki koee bhee soochana to aapaka dimaag shaant rahe aur aap poochh bhee chaahe vah der se nirnay kyon na bat aap le pae

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
Amit Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Amit जी का जवाब
Student 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 mission Indian Army🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳
1:18
नमस्कार किसने कहा लेकिन सब परिस्थितियों से हारते तो देखिए मैंने जितने की बात अपने काम से होती सभी लोग नहीं परिस्थितियों के अनुसार लेकिन बहुत लोग थे जिनमें आत्मविश्वास की कमी होती है वही लोग पैसे कैसे हार जाते हैं लेकिन उन्हें इस बात पर जरूर ध्यान देना चाहिए कि सभी हमारे परिस्थितियां हमारे विपरीत है लेकिन जब हमें सफलता मिलेगी सभी परिस्थितियां हमारे अनुकूल हो जाएंगे सब चीजे हमारे अनुकूल हो जाएंगे क्योंकि जब भी आप कोई नया कार्य करते हैं या नहीं करते शुरुआत करते हैं तो बहुत से लोगों के खिलाफ खड़े हो जाते हैं उनके परिस्थितियां उस समय व्यतीत हो जाती तो जब लोग मतलब समझती कितने लोग हमारे खिलाफ हैं तो आखिर आखिरकार कब तक इनके खिलाफ काम करते रहेंगे तो वहीं पर लोग प्रस्तुतियों से हार जाते हैं लेकिन कहीं पर कुछ सफल लोग जो मिले सफलता को प्राप्त करते हैं जिनकी खान ने प्रथम प्रेरित होते हैं उन्हें हम लोग उन परिस्थितियों से टकरा करके सफलता प्राप्त करते तो सफलता प्राप्त करके जीवन में सफलता प्राप्त करने की प्रेरणा बनते हैं उन सभी लोगों के लिए उंगली की बातें हमें सोचकर यहां पर बैठे पैसे उधार कंधारकर नहीं टकराकर से लड़ना नहीं तो जीवन में सफलता हासिल करनी चाहिए तो उम्मीद करता हूं सवाल का जवाब अच्छा लगा होगा धन्यवाद
Namaskaar kisane kaha lekin sab paristhitiyon se haarate to dekhie mainne jitane kee baat apane kaam se hotee sabhee log nahin paristhitiyon ke anusaar lekin bahut log the jinamen aatmavishvaas kee kamee hotee hai vahee log paise kaise haar jaate hain lekin unhen is baat par jaroor dhyaan dena chaahie ki sabhee hamaare paristhitiyaan hamaare vipareet hai lekin jab hamen saphalata milegee sabhee paristhitiyaan hamaare anukool ho jaenge sab cheeje hamaare anukool ho jaenge kyonki jab bhee aap koee naya kaary karate hain ya nahin karate shuruaat karate hain to bahut se logon ke khilaaph khade ho jaate hain unake paristhitiyaan us samay vyateet ho jaatee to jab log matalab samajhatee kitane log hamaare khilaaph hain to aakhir aakhirakaar kab tak inake khilaaph kaam karate rahenge to vaheen par log prastutiyon se haar jaate hain lekin kaheen par kuchh saphal log jo mile saphalata ko praapt karate hain jinakee khaan ne pratham prerit hote hain unhen ham log un paristhitiyon se takara karake saphalata praapt karate to saphalata praapt karake jeevan mein saphalata praapt karane kee prerana banate hain un sabhee logon ke lie ungalee kee baaten hamen sochakar yahaan par baithe paise udhaar kandhaarakar nahin takaraakar se ladana nahin to jeevan mein saphalata haasil karanee chaahie to ummeed karata hoon savaal ka javaab achchha laga hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:02
स्वागत है आप सब कामिल बुल्के प्रोफाइल पर और आप सुनाइए रोहित राठौर को इंसान परिस्थितियों से नहीं आता वह खुद से हार जाता है क्योंकि से हारा हुआ इंसान वही होता है जो अपनी लाइफ से हार मान जाता जो खुद को बहुत नीचा समझ लेते हैं खुद पर जिसे विश्वास नहीं होता भाई परिस्थितियों से हारता है क्योंकि आजकल किसकी लाइफ में प्रॉब्लम नहीं है हर व्यक्ति प्रॉब्लम लाइफ में प्रॉब्लम है उसने यह देखने की हमशक्ल कैसे करें हम उसके साथ ऐसा क्या करें कि हमें लाइक इस प्रॉब्लम को हटा दें क्योंकि एवं परिस्थिति आज निकल चुकी होती तो हमें बैठ कर रोने से कोई मतलब नहीं होता क्योंकि नाम हमने चेंज कर सकते पर जो अभी है अगर हम उसे चेंज कर सकते हैं तो फिर हम उसे चेंज क्यों नहीं सकते तुम परिस्थितियां बदल सकते हैं आप देख रहे हैं वहीं पर तो हार नहीं मानना क्योंकि हार कभी मानी जाती है जब व्यक्ति खुद को कमजोर समझ लेता है तभी इंसान परिस्थितियों से हार मान जाता है तो कभी भी हमारे कुछ नया सीख रही थी इसलिए है आपको परेशानियों से कुछ नया सीखने को मिलेगा उससे ठीक तरीके से फ्लाइट है तो आप सक्सेस को जरूर निकालेंगे तो धन्यवाद मिलते हैं आपसे इंग्लिश निक्के निक्के
Svaagat hai aap sab kaamil bulke prophail par aur aap sunaie rohit raathaur ko insaan paristhitiyon se nahin aata vah khud se haar jaata hai kyonki se haara hua insaan vahee hota hai jo apanee laiph se haar maan jaata jo khud ko bahut neecha samajh lete hain khud par jise vishvaas nahin hota bhaee paristhitiyon se haarata hai kyonki aajakal kisakee laiph mein problam nahin hai har vyakti problam laiph mein problam hai usane yah dekhane kee hamashakl kaise karen ham usake saath aisa kya karen ki hamen laik is problam ko hata den kyonki evan paristhiti aaj nikal chukee hotee to hamen baith kar rone se koee matalab nahin hota kyonki naam hamane chenj kar sakate par jo abhee hai agar ham use chenj kar sakate hain to phir ham use chenj kyon nahin sakate tum paristhitiyaan badal sakate hain aap dekh rahe hain vaheen par to haar nahin maanana kyonki haar kabhee maanee jaatee hai jab vyakti khud ko kamajor samajh leta hai tabhee insaan paristhitiyon se haar maan jaata hai to kabhee bhee hamaare kuchh naya seekh rahee thee isalie hai aapako pareshaaniyon se kuchh naya seekhane ko milega usase theek tareeke se phlait hai to aap sakses ko jaroor nikaalenge to dhanyavaad milate hain aapase inglish nikke nikke

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:24
रेडिमेंट स्वागत है आपका आपका फेस नहीं चाहता है तो फ्रेंड्स कभी-कभी इतनी ज्यादा विपरीत परिस्थितियां आ जाती है कि इंसान हार जाता है कभी-कभी उसे पैसों की परेशानी बहुत ज्यादा आ जाती है कि वह परिस्थितियों में गिर जाता है और हार जाता है और कभी कभी किसी दिन में में भी उसको ऐसा धोखा मिल जाता है कि वह परिस्थितियों से आ जाता है धन्यवाद
Rediment svaagat hai aapaka aapaka phes nahin chaahata hai to phrends kabhee-kabhee itanee jyaada vipareet paristhitiyaan aa jaatee hai ki insaan haar jaata hai kabhee-kabhee use paison kee pareshaanee bahut jyaada aa jaatee hai ki vah paristhitiyon mein gir jaata hai aur haar jaata hai aur kabhee kabhee kisee din mein mein bhee usako aisa dhokha mil jaata hai ki vah paristhitiyon se aa jaata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
4:55
आपने प्रश्न किया है कि क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है देखिए मैं इस प्रश्न का उत्तर आपको बहुत अच्छे तरीके से देना चाहूंगा और उम्मीद करता हूं कि मेरे इस उत्तर से शायद बहुत सारे लोगों की आंखें खुल जाएगी इस प्रश्न का उत्तर देने से पहले मैं आपको एक कहानी सुनाना चाहूंगा अगर आपने सुकरात का नाम सुना है एक बार सुकरात से किसी आदमी ने पूछा कि सफलता का क्या राज है पिक कितनी भी अच्छी बुरी परिस्थितियां हो लेकिन उसमें जो व्यक्ति सफल होता है तो उस व्यक्ति ने पूछा सुकरात से की सफलता का क्या राज है तो सुकरात उस व्यक्ति को एक नदी के किनारे ले गए और बोले कि सफलता का राज सी नदी में है इसलिए इसके अंदर चलो तो तुम्हें खुद ही पता चल जाएगा वह आदमी सुकरात के साथ में नदी के अंदर चला गया और जब गर्दन तक पानी आ गया तो आदमी बोला अब तो बता दो सफलता कैसे मिल सकती है सुकरात ने उस आदमी की गर्दन पकड़ी और नदी में डूबा और खुद उसके कंधों पर बैठ गए उस आदमी ने सुकरात को हटाने की बहुत कोशिश की लेकिन वह शक्तिशाली सुकरात को अपने ऊपर से हटाने में नाकामयाब रहा जब वह आदमी बिल्कुल डूबने वाला था और उसे लगने लगा कि वह तो इस पागल सुकरात के हाथों मारा जाएगा तो उसने अपनी पूरी ताकत लगाकर सुकरात को गिरा दिया और चिल्लाने लगा यह क्या तरीका है अगर तुम्हें मेरे प्रश्न का उत्तर नहीं आता तो कह देते मेरी जान क्यों लेना चाहते हो सुकरात ने उसे कहा तुम्हारे प्रश्न का उत्तर किसी बात में है कि जब तुम डूब रहे थे तो तुम ने शुरू में कितनी ताकत लगाई तो उस आदमी ने कहा कि पहले तो मेरी कुछ समझ में ही नहीं आया कि क्या हुआ कि मुझे लगा कि तुम मजाक कर रहे हो इसलिए मैंने थोड़ी सी ताकत लगाई और सोचा तुम खुद ही हट जाओगे लेकिन जब मेरा दम घुटने लगा और तुम टस से मस नहीं हुए हुए तो मैंने सोचा यह पागल तो मुझे मार ही डालेगा इसलिए यदि मुझे जिंदा रहना है तो अपनी पूरी ताकत लगानी होगी और तब मैंने पूरी ताकत लगाकर अपनी जान बचा ली अब तक रात में उसे कहा बस यही परिस्थितियों और सफलता की कहानी है सफलता भी हमारे पूरे प्रयास चाहती है पर थोड़ी भी कमी रहने पर वह हमें बीच मझधार में ही छोड़कर किसी ऐसे इंसान का वर्णन कर लेती है जो सफलता पाने के लिए अपनी पूरी ताकत बना देता आपके प्रश्न का उत्तर देता हूं पर शायद आपको आपके प्रश्न का उत्तर मिल भी गया हूं व्यक्ति परिस्थितियों से इसलिए हार मान जाता है क्योंकि वह उससे आगे की सोचता नहीं है थोड़ी सी नकारात्मक परिस्थितियां व्यक्ति के सामने आती है तो व्यक्ति उससे बाहर निकलने बाहर निकलने की बजाय उस बाहर निकलने के लिए सोचने की बजाय धैर्य के साथ परिश्रम के साथ और पूर्ण ताकत के साथ बाहर निकलने की बजाय वह हार मान लेता है जैसे कि अगर वह व्यक्ति अपनी आखरी में पूरी ताकत नहीं लगाता तो वह व्यक्ति मरने वाला बात की समझ लीजिए अपने आप को कभी मायूस ना करें कामयाबी आपको मिलेगी आप आसमान छू सकते हैं संसार में ऐसा कोई महान व्यक्ति उठा कर के देख लीजिए जो नहीं है जिसने अपने जीवन में नकारात्मक परिस्थितियां नहीं देखी हर व्यक्ति के जीवन में नकारात्मक परिस्थितियां आती है लेकिन उसमें से कुछ लोग उन नकारात्मक परिस्थितियों के आगे हथियार डाल देते हैं झुक जाते हैं अपने जीवन को वहीं पर रोक लेते हैं कुछ लोग ऐसे होते हैं जो उन परिस्थितियों के सामने पूरे जज्बे के साथ लड़ाई लड़ते हैं और एक ताकत से लड़ाई लड़ते हैं अपना हर अंतिम बार पूरा करते हैं इसलिए हमको यह समझने की जरूरत है और अगर आप इसको समझ गए तो आपको उत्तर मिल गया होगा धन्यवाद
Aapane prashn kiya hai ki kyon insaan paristhitiyon se haar jaata hai dekhie main is prashn ka uttar aapako bahut achchhe tareeke se dena chaahoonga aur ummeed karata hoon ki mere is uttar se shaayad bahut saare logon kee aankhen khul jaegee is prashn ka uttar dene se pahale main aapako ek kahaanee sunaana chaahoonga agar aapane sukaraat ka naam suna hai ek baar sukaraat se kisee aadamee ne poochha ki saphalata ka kya raaj hai pik kitanee bhee achchhee buree paristhitiyaan ho lekin usamen jo vyakti saphal hota hai to us vyakti ne poochha sukaraat se kee saphalata ka kya raaj hai to sukaraat us vyakti ko ek nadee ke kinaare le gae aur bole ki saphalata ka raaj see nadee mein hai isalie isake andar chalo to tumhen khud hee pata chal jaega vah aadamee sukaraat ke saath mein nadee ke andar chala gaya aur jab gardan tak paanee aa gaya to aadamee bola ab to bata do saphalata kaise mil sakatee hai sukaraat ne us aadamee kee gardan pakadee aur nadee mein dooba aur khud usake kandhon par baith gae us aadamee ne sukaraat ko hataane kee bahut koshish kee lekin vah shaktishaalee sukaraat ko apane oopar se hataane mein naakaamayaab raha jab vah aadamee bilkul doobane vaala tha aur use lagane laga ki vah to is paagal sukaraat ke haathon maara jaega to usane apanee pooree taakat lagaakar sukaraat ko gira diya aur chillaane laga yah kya tareeka hai agar tumhen mere prashn ka uttar nahin aata to kah dete meree jaan kyon lena chaahate ho sukaraat ne use kaha tumhaare prashn ka uttar kisee baat mein hai ki jab tum doob rahe the to tum ne shuroo mein kitanee taakat lagaee to us aadamee ne kaha ki pahale to meree kuchh samajh mein hee nahin aaya ki kya hua ki mujhe laga ki tum majaak kar rahe ho isalie mainne thodee see taakat lagaee aur socha tum khud hee hat jaoge lekin jab mera dam ghutane laga aur tum tas se mas nahin hue hue to mainne socha yah paagal to mujhe maar hee daalega isalie yadi mujhe jinda rahana hai to apanee pooree taakat lagaanee hogee aur tab mainne pooree taakat lagaakar apanee jaan bacha lee ab tak raat mein use kaha bas yahee paristhitiyon aur saphalata kee kahaanee hai saphalata bhee hamaare poore prayaas chaahatee hai par thodee bhee kamee rahane par vah hamen beech majhadhaar mein hee chhodakar kisee aise insaan ka varnan kar letee hai jo saphalata paane ke lie apanee pooree taakat bana deta aapake prashn ka uttar deta hoon par shaayad aapako aapake prashn ka uttar mil bhee gaya hoon vyakti paristhitiyon se isalie haar maan jaata hai kyonki vah usase aage kee sochata nahin hai thodee see nakaaraatmak paristhitiyaan vyakti ke saamane aatee hai to vyakti usase baahar nikalane baahar nikalane kee bajaay us baahar nikalane ke lie sochane kee bajaay dhairy ke saath parishram ke saath aur poorn taakat ke saath baahar nikalane kee bajaay vah haar maan leta hai jaise ki agar vah vyakti apanee aakharee mein pooree taakat nahin lagaata to vah vyakti marane vaala baat kee samajh leejie apane aap ko kabhee maayoos na karen kaamayaabee aapako milegee aap aasamaan chhoo sakate hain sansaar mein aisa koee mahaan vyakti utha kar ke dekh leejie jo nahin hai jisane apane jeevan mein nakaaraatmak paristhitiyaan nahin dekhee har vyakti ke jeevan mein nakaaraatmak paristhitiyaan aatee hai lekin usamen se kuchh log un nakaaraatmak paristhitiyon ke aage hathiyaar daal dete hain jhuk jaate hain apane jeevan ko vaheen par rok lete hain kuchh log aise hote hain jo un paristhitiyon ke saamane poore jajbe ke saath ladaee ladate hain aur ek taakat se ladaee ladate hain apana har antim baar poora karate hain isalie hamako yah samajhane kee jaroorat hai aur agar aap isako samajh gae to aapako uttar mil gaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
5:34
देखिए जब तक जीवन है ना तब तक जीवन में संघर्ष यूं ही बनी रहे उतार-चढ़ाव ऊपर नीचे तक लगी रहेगी किसी के जीवन में अधिक समय तक हो सकता है इनोवा खुशी के कितना मिले किसी के जीवन में हमेशा खुशहाली रहे कभी कोई बहुत समय से बीमार है कभी कोई बीमारी ना पड़े हैं सभी उसे बहुत सारी बातें होती हैं इंसान हमेशा एक बड़े थे दूसरी परिस्थिति में मुंह करता हुआ चला जाता है ना अब इसी में वह इंसान जिनके अंदर बेल पावर नहीं है जिसकी सकारात्मक सोच नहीं है जो सही दिशा में सही कर्म नहीं कर पाता प्रयास नहीं करना चाहता तो उसका क्या होगा वह हार जाएगा ना भी चुनौतियां और परिस्थितियां तो हर इंसान के चोली में आती है लेकिन हम उनसे कैसे मुकाबला हर इंसान अपनी तरीके से कहते हैं अपनी सोच समझ के हिसाब से कहते हैं अपने नजरिए से करता है अपने अपनों से करता है अपने कर्म से कृपया अपने व्यवहार से करने आते अपने बातचीत से करता है तो वह इंसान जो सही समय पर सही काम करें उन परिस्थितियों में भूत डेफिनेटली या समझ लीजिए उसके जीतने के चांस है उस परिस्थिति से निकले के चांद निकलने की जान से बढ़ जाते हैं और जब तुझको निकलता नहीं है क्योंकि वह प्रयास कर रहा होता है उसको एक संतोष मिलता है खुशी नहीं लेकिन कम से कम संतोष तो मिलता है कि रिलीज मैंने प्रयास तो किया मैंने सोचा तो मैं यहां तो जाना चाहता था वह तो करना चाहता था और मैंने किया बाकी वक्त बताएगा कि मुझे सफलता मिलती है या नहीं मिलते तो जवाब बोलते हैं कि इंसान परिस्थितियों से आजा इसलिए हाथ है क्योंकि वह मन में भी माफ कर देता है जीवन क्यों करते हैं क्योंकि वह अपने बिलिंग के कारण अपनी सोच अपनी मानसिकता के कारण मेहनत ना करने के कारण नहीं सोचने के कारण की और किया किया जा सकता है तो नहीं पकड़ने के कारण बहुत सारे पैकेज होते हैं अपने माहौल के कारण बहुत सारे पात्र होते हैं जो उसको भूल जाते हैं खींचते हैं ताकि वह सकारात्मक ना सोच पाती मूवी परिस्थितियों से मुकाबला ना कर पाए और टूट जाए लेकिन हमें तो क्या करना है हमें यह देखना है कि परिस्थितियां कैसी भी हो हम से मुकाबला करना चाहिए आपके पास है क्या है क्या नहीं है भाई प्रयास तो करना पड़ेगा लगे तो रहना पड़ेगा ना यह ठीक उसी तरीके से है मान लीजिए आपको सुबह कहीं जाना है और अपनी गाड़ी निकाली आप चलते हुए जा रहे हैं परेशान ऐसे बहुत ढूंढा जाती है बहुत ढूंढ आती है तो आप क्या करेंगे क्या आप गाड़ी उसी स्पीड से चलाएंगे यहां थोड़ी शो कर लेंगे अगर ज्यादा है तो और क्यों कर लेंगे अगर फिर भी समझ नहीं आ रहा कि देखी नहीं रहा कुछ भाई पर चला रहे हैं करें वह करें कुछ भी नहीं समझ आ रहा तो आप क्या करेंगे हो सकता है आप किसी और गाड़ी के पीछे अपनी गाड़ी लगा दे अगर फिर भी समझ यार दोस्त है थोड़ी देर के लिए आप अपनी गाड़ी साइड में रख लें अगर और जेंट्स नहीं है जाना पहुंचना तो थोड़ी देर रुक जाओ थोड़ा झूठ कम हो तो फिर आपने निकले तुम ही परिस्थितियां सबके साथ होती है सबके लिए होते हैं उस परिस्थिति में क्या कहते हैं यह आप पर निर्भर करता है इंसान परिस्थिति से हार जाते हैं क्योंकि वह सूचना नहीं ज्यादा मेहनत नहीं करना चाहता प्रयास नहीं करना चाहता तो क्या होगा युवक कर देगा ना क्योंकि अब मेहनत लगेगी और दोबारा से कौन करेगा कि मेरे बस का नहीं है मैंने पहले भी किया था यह कैसे मिलती हुई चीज है यह मुझसे नहीं हुए थे क्योंकि उसने नहीं किया था इसलिए मैं भी नहीं कर सकता क्योंकि बाकी लोग नहीं कर सकते इसलिए मैं भी नहीं कर सकता अल्लाह ख्याल आते हैं लेकिन बात तो यह है कि बाकी ने नहीं किया है इसका मतलब यह नहीं है कि तुम नहीं कर सकते तुम करते हो बाकी नहीं क्यों नहीं किया यह उनकी परेशानी है यह उनके कारण है लेकिन तुम कर सकते हो यह तुम सोचो जान लो कि वह उनसे अलग हो तुम्हारे अंदर क्वालिटी हो सकती है तुम्हारे अंदर वह काम इतनी दूर सकता है वह मेहनत करने की क्षमता हो सकती है तो वह करो ना वह करना चाहिए ना तभी तो तुम उस परिस्थिति से निकलोगे करना परिस्थितियों से निकलने का गिफ्ट नहीं कर देना से आपको समझ आ गया ठोकर मिलेगी हां मैंने यही किया था और इससे रिजल्ट नहीं आएगा और यह करने के लिए सीएम ने जो मेरे पास नहीं है पहुंच जाएंगे मैं किसी भी तरीके से बोलना ही हरीश कर सकता यार ऑन कर सकता है वह खिला सकता तो ठीक है समझ आया इस बात को क्लोज कर दे आगे बढ़ते हैं ऐसा भी हां कर सकते हैं लेकिन करना पड़ेगा कुछ तो करना पड़ेगा ना सर आपके हाथ में है
Dekhie jab tak jeevan hai na tab tak jeevan mein sangharsh yoon hee banee rahe utaar-chadhaav oopar neeche tak lagee rahegee kisee ke jeevan mein adhik samay tak ho sakata hai inova khushee ke kitana mile kisee ke jeevan mein hamesha khushahaalee rahe kabhee koee bahut samay se beemaar hai kabhee koee beemaaree na pade hain sabhee use bahut saaree baaten hotee hain insaan hamesha ek bade the doosaree paristhiti mein munh karata hua chala jaata hai na ab isee mein vah insaan jinake andar bel paavar nahin hai jisakee sakaaraatmak soch nahin hai jo sahee disha mein sahee karm nahin kar paata prayaas nahin karana chaahata to usaka kya hoga vah haar jaega na bhee chunautiyaan aur paristhitiyaan to har insaan ke cholee mein aatee hai lekin ham unase kaise mukaabala har insaan apanee tareeke se kahate hain apanee soch samajh ke hisaab se kahate hain apane najarie se karata hai apane apanon se karata hai apane karm se krpaya apane vyavahaar se karane aate apane baatacheet se karata hai to vah insaan jo sahee samay par sahee kaam karen un paristhitiyon mein bhoot dephinetalee ya samajh leejie usake jeetane ke chaans hai us paristhiti se nikale ke chaand nikalane kee jaan se badh jaate hain aur jab tujhako nikalata nahin hai kyonki vah prayaas kar raha hota hai usako ek santosh milata hai khushee nahin lekin kam se kam santosh to milata hai ki rileej mainne prayaas to kiya mainne socha to main yahaan to jaana chaahata tha vah to karana chaahata tha aur mainne kiya baakee vakt bataega ki mujhe saphalata milatee hai ya nahin milate to javaab bolate hain ki insaan paristhitiyon se aaja isalie haath hai kyonki vah man mein bhee maaph kar deta hai jeevan kyon karate hain kyonki vah apane biling ke kaaran apanee soch apanee maanasikata ke kaaran mehanat na karane ke kaaran nahin sochane ke kaaran kee aur kiya kiya ja sakata hai to nahin pakadane ke kaaran bahut saare paikej hote hain apane maahaul ke kaaran bahut saare paatr hote hain jo usako bhool jaate hain kheenchate hain taaki vah sakaaraatmak na soch paatee moovee paristhitiyon se mukaabala na kar pae aur toot jae lekin hamen to kya karana hai hamen yah dekhana hai ki paristhitiyaan kaisee bhee ho ham se mukaabala karana chaahie aapake paas hai kya hai kya nahin hai bhaee prayaas to karana padega lage to rahana padega na yah theek usee tareeke se hai maan leejie aapako subah kaheen jaana hai aur apanee gaadee nikaalee aap chalate hue ja rahe hain pareshaan aise bahut dhoondha jaatee hai bahut dhoondh aatee hai to aap kya karenge kya aap gaadee usee speed se chalaenge yahaan thodee sho kar lenge agar jyaada hai to aur kyon kar lenge agar phir bhee samajh nahin aa raha ki dekhee nahin raha kuchh bhaee par chala rahe hain karen vah karen kuchh bhee nahin samajh aa raha to aap kya karenge ho sakata hai aap kisee aur gaadee ke peechhe apanee gaadee laga de agar phir bhee samajh yaar dost hai thodee der ke lie aap apanee gaadee said mein rakh len agar aur jents nahin hai jaana pahunchana to thodee der ruk jao thoda jhooth kam ho to phir aapane nikale tum hee paristhitiyaan sabake saath hotee hai sabake lie hote hain us paristhiti mein kya kahate hain yah aap par nirbhar karata hai insaan paristhiti se haar jaate hain kyonki vah soochana nahin jyaada mehanat nahin karana chaahata prayaas nahin karana chaahata to kya hoga yuvak kar dega na kyonki ab mehanat lagegee aur dobaara se kaun karega ki mere bas ka nahin hai mainne pahale bhee kiya tha yah kaise milatee huee cheej hai yah mujhase nahin hue the kyonki usane nahin kiya tha isalie main bhee nahin kar sakata kyonki baakee log nahin kar sakate isalie main bhee nahin kar sakata allaah khyaal aate hain lekin baat to yah hai ki baakee ne nahin kiya hai isaka matalab yah nahin hai ki tum nahin kar sakate tum karate ho baakee nahin kyon nahin kiya yah unakee pareshaanee hai yah unake kaaran hai lekin tum kar sakate ho yah tum socho jaan lo ki vah unase alag ho tumhaare andar kvaalitee ho sakatee hai tumhaare andar vah kaam itanee door sakata hai vah mehanat karane kee kshamata ho sakatee hai to vah karo na vah karana chaahie na tabhee to tum us paristhiti se nikaloge karana paristhitiyon se nikalane ka gipht nahin kar dena se aapako samajh aa gaya thokar milegee haan mainne yahee kiya tha aur isase rijalt nahin aaega aur yah karane ke lie seeem ne jo mere paas nahin hai pahunch jaenge main kisee bhee tareeke se bolana hee hareesh kar sakata yaar on kar sakata hai vah khila sakata to theek hai samajh aaya is baat ko kloj kar de aage badhate hain aisa bhee haan kar sakate hain lekin karana padega kuchh to karana padega na sar aapake haath mein hai

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:23
यह है कि पेंशन परिस्थितियों से हार जाता है तो इतिहास इन परिस्थितियों से हार जाता है उसको लगता है कि उसके हिसाब से काम नहीं हो रहा है कोई उसके साथ नहीं सुन रहे थे विशाल फार्मा इंडस्ट्री कोशिश करें कि कभी परिस्थितियों से हारे ना हम उसे डटकर सामना करें ताकि आप जो चाहते हैं वह बन सके आपसे कुछ कहना चाहती किसी से वह कह सकें
Yah hai ki penshan paristhitiyon se haar jaata hai to itihaas in paristhitiyon se haar jaata hai usako lagata hai ki usake hisaab se kaam nahin ho raha hai koee usake saath nahin sun rahe the vishaal phaarma indastree koshish karen ki kabhee paristhitiyon se haare na ham use datakar saamana karen taaki aap jo chaahate hain vah ban sake aapase kuchh kahana chaahatee kisee se vah kah saken

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:00
आपके प्रश्न क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है दिखता संघर्ष करता है कि जिंदगी में सब कुछ जो हे बिना संघर्ष के उपलब्ध नहीं होता है लेकिन क्या है कि कभी-कभी ऐसा समय आ जाता है कि अपने भी साथ छोड़ जाते हैं जहां जाए कि पर्याप्त संभावना होती वहां पर आ जा मिलने का बदला भी बुरा होता है कभी-कभी में बर्बादी को लेकर आता है माहौल लेकर जाता है और कभी कभी समय देखकर लोग भी बदल जाते हैं उन्हें अपना इसलिए इंसान जो है वही योजनाबद्ध तरीके से संघर्ष करने वाला होता है जब परिस्थितियां बिल्कुल भी दुश्मन हो जाती हैं तो वह है अच्छे से अच्छा खिलाड़ी होकर की भी मान लेता है थे
Aapake prashn kyon insaan paristhitiyon se haar jaata hai dikhata sangharsh karata hai ki jindagee mein sab kuchh jo he bina sangharsh ke upalabdh nahin hota hai lekin kya hai ki kabhee-kabhee aisa samay aa jaata hai ki apane bhee saath chhod jaate hain jahaan jae ki paryaapt sambhaavana hotee vahaan par aa ja milane ka badala bhee bura hota hai kabhee-kabhee mein barbaadee ko lekar aata hai maahaul lekar jaata hai aur kabhee kabhee samay dekhakar log bhee badal jaate hain unhen apana isalie insaan jo hai vahee yojanaabaddh tareeke se sangharsh karane vaala hota hai jab paristhitiyaan bilkul bhee dushman ho jaatee hain to vah hai achchhe se achchha khilaadee hokar kee bhee maan leta hai the

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:39
प्रश्न है कि क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है इंसान प्रस्तुतियों से इसलिए खा जाता है कि वह इंसान की जो सहनशक्ति है वह बहुत कमजोर सकती है दूसरी बात जो लोग दिल से टूट जाते हैं जिन लोगों को जीवन जीने की कला पता नहीं है जिन लोगों को पता नहीं है कि परिस्थितियों का सामना कैसे किया जाता है ऐसे लोग जल्दी खा जाती है लेकिन बहुत सारे लोग विकट परिस्थितियों में भी बाहर निकल जाते हैं और फिर जीवन का श्रेष्ठतम कैसे जीते हैं धन्यवाद
Prashn hai ki kyon insaan paristhitiyon se haar jaata hai insaan prastutiyon se isalie kha jaata hai ki vah insaan kee jo sahanashakti hai vah bahut kamajor sakatee hai doosaree baat jo log dil se toot jaate hain jin logon ko jeevan jeene kee kala pata nahin hai jin logon ko pata nahin hai ki paristhitiyon ka saamana kaise kiya jaata hai aise log jaldee kha jaatee hai lekin bahut saare log vikat paristhitiyon mein bhee baahar nikal jaate hain aur phir jeevan ka shreshthatam kaise jeete hain dhanyavaad

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
India is Great Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए India जी का जवाब
Master Chef in House
1:19
इंसान परिस्थितियों से हार जाता है देखे कभी कुछ ऐसा होता है और यह होती है लोगों के साथ में एग्जांपल के लिए आपने कोई फ्लैट खरीदने का सोचा है और खरीदने वाले होते हैं मान लीजिए 50,000 60,000 ₹100000 कम होता है तो क्यों सोचते हो कि 150000 किया लेकिन फिर आपको कुछ आता है जो कि आपकी 200000 - हो जाता है चाहे कोई गुड डॉक्टर का चक्कर हो तो फिर वह कुछ भी हो बहुत सारे मतलब प्रॉब्लम लोगों का हो सकता है लेकिन ज्यादातर डॉक्टर से रिलेटेड ही होता है आजकल के जमाने में तो फिर हम लोग क्या करते हैं कि उसे वहां पर हमें - करना पड़ता पैसे की जो सबसे पहले सोचते हैं कि नहीं भाई चलो हमें आदमी देखना भी बचाने तो वह चीज मजबूरी हो जाती है और फिर वापस से जब हम उतना पैसे इकट्ठा करते हैं फिर कुछ ना कुछ मान लीजिए किसी की मृत्यु हो जाए किसी की शादी करने लायक हो जाए किसी की मदद हमने किया तो ऐसे में क्या होता है कि मैं बार-बार कुछ ना कुछ अर्चना जाता है और उसे आरक्षण की वजह से हम अपना प्रस्थिति कुछ बिगड़ जाता है तो ऐसे में इंसान थोड़ा बहुत जरूर है कि हार मान लो तो हार जाती है ऐसे इंसानों के साथ में होता है
Insaan paristhitiyon se haar jaata hai dekhe kabhee kuchh aisa hota hai aur yah hotee hai logon ke saath mein egjaampal ke lie aapane koee phlait khareedane ka socha hai aur khareedane vaale hote hain maan leejie 50,000 60,000 ₹100000 kam hota hai to kyon sochate ho ki 150000 kiya lekin phir aapako kuchh aata hai jo ki aapakee 200000 - ho jaata hai chaahe koee gud doktar ka chakkar ho to phir vah kuchh bhee ho bahut saare matalab problam logon ka ho sakata hai lekin jyaadaatar doktar se rileted hee hota hai aajakal ke jamaane mein to phir ham log kya karate hain ki use vahaan par hamen - karana padata paise kee jo sabase pahale sochate hain ki nahin bhaee chalo hamen aadamee dekhana bhee bachaane to vah cheej majabooree ho jaatee hai aur phir vaapas se jab ham utana paise ikattha karate hain phir kuchh na kuchh maan leejie kisee kee mrtyu ho jae kisee kee shaadee karane laayak ho jae kisee kee madad hamane kiya to aise mein kya hota hai ki main baar-baar kuchh na kuchh archana jaata hai aur use aarakshan kee vajah se ham apana prasthiti kuchh bigad jaata hai to aise mein insaan thoda bahut jaroor hai ki haar maan lo to haar jaatee hai aise insaanon ke saath mein hota hai

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:46
आपका सवाल है इंसान परिस्थितियों से हार जाता है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है इंसान को परिस्थितियों से डटकर मुकाबला करना चाहिए और जो इंसान परिस्थितियों से हार जाता है वह अपने आप विश्वास को कमजोर कर लेता है दोस्तों का सामना नहीं कर पाता है लेकिन हमारा मेन उद्देश्य होना चाहिए हमारी जिंदगी में किसी भी परिस्थिति चुना जाए उनका डटकर मुकाबला करना चाहिए और एक मजबूत इंसान का वही इरादा होना चाहिए जो घर पर क्यों का सामना कर सके धन्यवाद दोस्तों खुश रहो
Aapaka savaal hai insaan paristhitiyon se haar jaata hai to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai insaan ko paristhitiyon se datakar mukaabala karana chaahie aur jo insaan paristhitiyon se haar jaata hai vah apane aap vishvaas ko kamajor kar leta hai doston ka saamana nahin kar paata hai lekin hamaara men uddeshy hona chaahie hamaaree jindagee mein kisee bhee paristhiti chuna jae unaka datakar mukaabala karana chaahie aur ek majaboot insaan ka vahee iraada hona chaahie jo ghar par kyon ka saamana kar sake dhanyavaad doston khush raho

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
lalit Netam Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए lalit जी का जवाब
Unknown
4:37
हाथ में सवाल है क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है इसका जवाब है पैसों से हारा था मतलब की प्रस्तुति को भी परिस्थितियां उसके सामने तुम उसका सामना नहीं कर पाता डटकर सामना नहीं कर पाता नहीं पाता और दुखी दुखी हो जाता है कि मेरे साथ ऐसा क्यों हो रहा है क्यों हो रहा है तू वही सोच के पूरा हालत है 50 और इसी कारण दुखी रहता हमेशा तो दुखी इंसान जो होते हैं आप जिन्हें भी आप दुखी दुखों तो आप समझ लो कि 1 सीटों से हार गया जिनकी जो हार गया वह दुखी रहेगा हमेशा दो कि रात को दुखी नहीं रहना खुश रहना हमेशा तो आपको पैसों से लड़ना होगा बैठकर सामना करना कार की तरह बैठने जाना हार नहीं मानना है तुम लोग दुखी क्यों हो जाते हैं क्योंकि वह पैसे तो 4 महीने से शुरू बीमारी हो गया अभी कोई आ जाना कुछ हो जाता है कुछ सूचना दी थी क्या करती है दुखी हो जाते कि मेरे साथ ऐसा क्यों होता है कि वह तब फिर से आमंत्रित कर रहे हैं कि मेरे साथ ऐसा ही होता करके अगर आप बार-बार यह बोलो कि मेरे साथ ऐसा ही होता है मेरे साथ हमेशा ऐसे ही मेरे साथ हमेशा मुस्कुराते पर छा जाता है बार-बार आप सोचोगे ना तो आपके साथ भी वैसा ही होगा वैसे ही मुश्किलें और बढ़ती जाएगी तो आप नेगेटिव मत सोचो सिचुएशन में आप यही सोचूंगा सकारात्मक है यह जो हो रहा है अच्छा हो रहा है कि जो भी होने वाले हैं वह भी बहुत बहुत अच्छा होने वाला यह आप को सोच रहे हैं और पैसे तो को आप बदलने की कोशिश मत करो जो भी पैसे की है उसे स्वीकार करो अपने मन की स्थिति को बदलो मन की सेटिंग बदल लिया ना तो आप हमेशा खुश रहो एंड कितना भी बीमार हूं सही आप कितना भी बीमार हो लेकिन मन बीमार नहीं मारोगे ना तो फिर आप जानते हो क्या होता है ठीक है फिर किसी को भी देखे हो मन भी मार नहीं करना चाहिए कि सभी कल कितने भी बीमार मरा हुआ ना तो सही भी ठीक हो जाए तो यह है यानि की पति बाहर की स्थिति क्या है बीमार है शरीर लेकिन अंदर की स्थिति क्या मन की थी क्या मन हमेशा खुश रहता है ठीक है मत मन का स्वास्थ्य अच्छा है तो शरीर भी ठीक हो जाएगा अपने आप ठीक हो जाएगा ठीक है तू वैसे ही बाहर में डूब डूब चुकी है तुम हम पैसे को चेंज नहीं कर सकती ना चेंज क्या कर सकती हम अपनी मन की खेती करने की मन में जो थॉट्स एंड रहे हैं हाईकोर्ट स्थिति आपके सामने कुछ घर में कुछ हो जाता तो सभी से आप पूछोगे तो एक छोटी सी बात है कौन सी बात है सभी के थॉट्स अलग-अलग होते हैं वह भी प्रत्याशी कोई भी सूचना आती है तो और कोई तो बहुत डर जाता है घर आ जाता है तू पैसे जो शिखर घबराना घबराना नहीं है डरना नहीं है फेसबुक वालों ने कोशिश नहीं करना है जो बता सकती है उसका डटकर सामना करना है मन की स्थिति को बदलो पद्धति को मत बदलो दी है इसीलिए इंसान दुखी हो जाता है दुखी क्यों होते कि वह अपनी को बदलने की कोशिश करता है पृथ्वी को बदलने की कोशिश मत हो जैसे कि मेरे साथ भी हुआ एक लड़का था और मैं आपको अपने ही बता देता हूं ठीक है मैं जब स्कूल में पढ़ाई करता चाहती है तो उस टाइम एग्जाम के टाइम में मेरी तबीयत खराब है पेट में वे मेरा एग्जाम खराब हो गया नहीं तबीयत खराब हुआ था मेरा ठीक है साजन की दसवीं क्लास में पढ़ता था उस टाइम मेरी तबीयत खराब हो गई थी इंसान के टाइम बोर्ड एग्जाम के हॉस्पिटल में गया था एडमिट हुआ था हॉस्पिटल से फिर उसके बाद हॉस्पिटल की झांकी में एग्जाम 10वीं का उसमें से ही तो एक मेरी जान दिला के लास्ट दिन में डॉक्टर की बात जान की अच्छाई पर पर उतरते छठ और जिस दिन था ठीक उसी दिन मैं हॉस्पिटल गया चेकअप करा तो फिर वह सारी प्रॉब्लम आए थे ना कि मैं डरा नहीं घबराएं नहीं तो इस परिस्थिति आई थिंक डटकर सामना किया कि गणपति कुछ बीमारी हो जाती है तो उसका डटकर सामना करना है यार कि जो हुआ अच्छा हुआ से मैं सोचता था और मन में अच्छे थॉट क्रिकेट करता था कि भगवान मेरे साथ तुम भी डरने की क्या बात है जब भगवान अपने साथ तो डरती क्यों यार डरना क्यों लोग प्यार को भी सूचना रीता जी यह मुझे कुछ सिखाना चाहती कुछ बताना चाहती है जहां पर मैं कुछ गलती कर रहा हूं तो मैंने गलती उसकी गाने बहुत सारे जैसा ना ही मेरे जीवन में मैंने सीखा और अभी भी मैं आगे लाइफ में आगे बढ़ रहा हूं रेडमी खिलाड़ी ने उसे कुछ सीखना है हर चीज हर पैसे दे हमें कुछ ना कुछ सिखाने आती है कुछ ना कुछ शिक्षा दी जाती है ठीक है लाइफ में वही होता है कि आपको कुछ परीक्षा पहले दिया तो उसके बाद फिर सीखने को मिलता है लेकिन असल जीवन ज्योति परीक्षा फल नहीं जाती तो बहुत कुछ सीखने को मिला स्कूल कार्ड में क्या होता है पहले आपको हर चीज सिखाया तो उसके बाद आपको परीक्षा दी जाती है कि होता है ठीक है से घबराना नहीं है डटकर लड़ना है डटकर सामना करना है भगवान अपने साथ है तो फिर डरने की क्या बात है मैं डरने की क्या बात है ठीक है तो हमेशा अच्छा सोचिए पॉजिटिव रही है अच्छा चीज देखकर अच्छे-अच्छे गुड्डे
Haath mein savaal hai kyon insaan paristhitiyon se haar jaata hai isaka javaab hai paison se haara tha matalab kee prastuti ko bhee paristhitiyaan usake saamane tum usaka saamana nahin kar paata datakar saamana nahin kar paata nahin paata aur dukhee dukhee ho jaata hai ki mere saath aisa kyon ho raha hai kyon ho raha hai too vahee soch ke poora haalat hai 50 aur isee kaaran dukhee rahata hamesha to dukhee insaan jo hote hain aap jinhen bhee aap dukhee dukhon to aap samajh lo ki 1 seeton se haar gaya jinakee jo haar gaya vah dukhee rahega hamesha do ki raat ko dukhee nahin rahana khush rahana hamesha to aapako paison se ladana hoga baithakar saamana karana kaar kee tarah baithane jaana haar nahin maanana hai tum log dukhee kyon ho jaate hain kyonki vah paise to 4 maheene se shuroo beemaaree ho gaya abhee koee aa jaana kuchh ho jaata hai kuchh soochana dee thee kya karatee hai dukhee ho jaate ki mere saath aisa kyon hota hai ki vah tab phir se aamantrit kar rahe hain ki mere saath aisa hee hota karake agar aap baar-baar yah bolo ki mere saath aisa hee hota hai mere saath hamesha aise hee mere saath hamesha muskuraate par chha jaata hai baar-baar aap sochoge na to aapake saath bhee vaisa hee hoga vaise hee mushkilen aur badhatee jaegee to aap negetiv mat socho sichueshan mein aap yahee sochoonga sakaaraatmak hai yah jo ho raha hai achchha ho raha hai ki jo bhee hone vaale hain vah bhee bahut bahut achchha hone vaala yah aap ko soch rahe hain aur paise to ko aap badalane kee koshish mat karo jo bhee paise kee hai use sveekaar karo apane man kee sthiti ko badalo man kee seting badal liya na to aap hamesha khush raho end kitana bhee beemaar hoon sahee aap kitana bhee beemaar ho lekin man beemaar nahin maaroge na to phir aap jaanate ho kya hota hai theek hai phir kisee ko bhee dekhe ho man bhee maar nahin karana chaahie ki sabhee kal kitane bhee beemaar mara hua na to sahee bhee theek ho jae to yah hai yaani kee pati baahar kee sthiti kya hai beemaar hai shareer lekin andar kee sthiti kya man kee thee kya man hamesha khush rahata hai theek hai mat man ka svaasthy achchha hai to shareer bhee theek ho jaega apane aap theek ho jaega theek hai too vaise hee baahar mein doob doob chukee hai tum ham paise ko chenj nahin kar sakatee na chenj kya kar sakatee ham apanee man kee khetee karane kee man mein jo thots end rahe hain haeekort sthiti aapake saamane kuchh ghar mein kuchh ho jaata to sabhee se aap poochhoge to ek chhotee see baat hai kaun see baat hai sabhee ke thots alag-alag hote hain vah bhee pratyaashee koee bhee soochana aatee hai to aur koee to bahut dar jaata hai ghar aa jaata hai too paise jo shikhar ghabaraana ghabaraana nahin hai darana nahin hai phesabuk vaalon ne koshish nahin karana hai jo bata sakatee hai usaka datakar saamana karana hai man kee sthiti ko badalo paddhati ko mat badalo dee hai iseelie insaan dukhee ho jaata hai dukhee kyon hote ki vah apanee ko badalane kee koshish karata hai prthvee ko badalane kee koshish mat ho jaise ki mere saath bhee hua ek ladaka tha aur main aapako apane hee bata deta hoon theek hai main jab skool mein padhaee karata chaahatee hai to us taim egjaam ke taim mein meree tabeeyat kharaab hai pet mein ve mera egjaam kharaab ho gaya nahin tabeeyat kharaab hua tha mera theek hai saajan kee dasaveen klaas mein padhata tha us taim meree tabeeyat kharaab ho gaee thee insaan ke taim bord egjaam ke hospital mein gaya tha edamit hua tha hospital se phir usake baad hospital kee jhaankee mein egjaam 10veen ka usamen se hee to ek meree jaan dila ke laast din mein doktar kee baat jaan kee achchhaee par par utarate chhath aur jis din tha theek usee din main hospital gaya chekap kara to phir vah saaree problam aae the na ki main dara nahin ghabaraen nahin to is paristhiti aaee think datakar saamana kiya ki ganapati kuchh beemaaree ho jaatee hai to usaka datakar saamana karana hai yaar ki jo hua achchha hua se main sochata tha aur man mein achchhe thot kriket karata tha ki bhagavaan mere saath tum bhee darane kee kya baat hai jab bhagavaan apane saath to daratee kyon yaar darana kyon log pyaar ko bhee soochana reeta jee yah mujhe kuchh sikhaana chaahatee kuchh bataana chaahatee hai jahaan par main kuchh galatee kar raha hoon to mainne galatee usakee gaane bahut saare jaisa na hee mere jeevan mein mainne seekha aur abhee bhee main aage laiph mein aage badh raha hoon redamee khilaadee ne use kuchh seekhana hai har cheej har paise de hamen kuchh na kuchh sikhaane aatee hai kuchh na kuchh shiksha dee jaatee hai theek hai laiph mein vahee hota hai ki aapako kuchh pareeksha pahale diya to usake baad phir seekhane ko milata hai lekin asal jeevan jyoti pareeksha phal nahin jaatee to bahut kuchh seekhane ko mila skool kaard mein kya hota hai pahale aapako har cheej sikhaaya to usake baad aapako pareeksha dee jaatee hai ki hota hai theek hai se ghabaraana nahin hai datakar ladana hai datakar saamana karana hai bhagavaan apane saath hai to phir darane kee kya baat hai main darane kee kya baat hai theek hai to hamesha achchha sochie pojitiv rahee hai achchha cheej dekhakar achchhe-achchhe gudde

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Non
2:09
ट्यूशन परिस्थितियों से हार जाता है तो परिस्थितियां ही ऐसी होती है कि कुछ सूझता नहीं है इसको समझ में नहीं आता है और इंसान हार जाता है लेकिन वह इंसान हार जाते हैं जो अपने को कमजोर समझते हैं जो आगे बढ़ने की चाह नहीं रखते हैं या फिर जो लोग कुछ करना ही नहीं चाहते जो थोड़ी सी छोटी सी चोट लगने से घबरा जाते हैं तो मैं ऐसे लोगों से यह प्रार्थना करता हूं कि प्लीज अपने आप को कम मजाक एक और सबसे बड़ी बात किसी के किसी को किसी से भी अपने आप को किसी से भी कम पर ना करें कोई बड़ा है कोई फोटो कोई फर्क नहीं पड़ता है इस दुनिया में आप जी रहे हैं मर रहे हैं किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता है आज पैसे ही आपके पास तो सब चैनल सब दौड़े चले आएंगे अगर नहीं है तो कोई नहीं पूछेगा तो बस यही समझ कर चली है कि मेरे पास पैसे बहुत सारे हैं और मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग क्या सोच रहे हो और अगर नहीं भी है तब भी यही सोचे कि मेरे पास बहुत पैसे हैं मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता अपने आप को पॉजिटिव एफर्मेशंस दीजिए और हार कभी मत मानिए नेवर एवर गिव अप प्लीज यार मत मानिए जिंदगी में हर एक इंसान इस दुनिया में हर एक इंसान उन परिस्थितियों से गुजर आए कुछ ना कुछ परिस्थितियां ऐसी है जो जिसके कारण उनके सपने टूटे हैं उनका परिवार टूटा है बहुत कुछ लोगों ने सेंड किया है वह कोरोना के दौरान में भी जवाब दे सके के मजदूरों के साथ इतना गलत हुआ था तो यह तो एक एग्जांपल था कि लेकिन उनकी परिस्थितियां क्या हमसे तो मतलब हमारी इतनी खराब तो नहीं थी उनसे परिस्थितियां जब जैसे कि उनकी थी विचारों को इतने इतने किलोमीटर चलना पड़ा था तो यह बात सच है कि इंसान परिस्थितियों से हार जाता है लेकिन वह परिस्थितियों से हारता है खुद से नहीं हारता है उसे एक बात यह ध्यान उनसे कि जब तक वह खुद हार नहीं माने तब तक दुनिया की कोई ताकत उसे हरा नहीं सकती ध्यान से सुनिए जब तक आप खुद हार नहीं माने तब तक दुनिया की कोई भी ताकत आपको हरा नहीं सकती है यह बात अपने दिल दिमाग में बिठा दीजिए और पॉजिटिव बोलिए क्या मैं आपके साथ पॉजिटिव रही है पॉजिटिव लोगों के साथ रहिए एक अच्छी बातें सुनी अच्छी बातें करिए और खुद को उम्मीद दीजिए खुद के साथ जब आप बार-बार अच्छी बातें करें

bolkar speaker
क्यों इंसान परिस्थितियों से हार जाता है?Kyo Insan Paristhitiyo Se Haar Jata Hai
Hitesh jain Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Hitesh जी का जवाब
Non
2:09
ट्यूशन परिस्थितियों से हार जाता है तो परिस्थितियां ही ऐसी होती है कि कुछ सूझता नहीं है इसको समझ में नहीं आता है और इंसान हार जाता है लेकिन वह इंसान हार जाते हैं जो अपने को कमजोर समझते हैं जो आगे बढ़ने की चाह नहीं रखते हैं या फिर जो लोग कुछ करना ही नहीं चाहते जो थोड़ी सी छोटी सी चोट लगने से घबरा जाते हैं तो मैं ऐसे लोगों से यह प्रार्थना करता हूं कि प्लीज अपने आप को कम मजाक एक और सबसे बड़ी बात किसी के किसी को किसी से भी अपने आप को किसी से भी कम पर ना करें कोई बड़ा है कोई फोटो कोई फर्क नहीं पड़ता है इस दुनिया में आप जी रहे हैं मर रहे हैं किसी को कोई फर्क नहीं पड़ता है आज पैसे ही आपके पास तो सब चैनल सब दौड़े चले आएंगे अगर नहीं है तो कोई नहीं पूछेगा तो बस यही समझ कर चली है कि मेरे पास पैसे बहुत सारे हैं और मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता कि लोग क्या सोच रहे हो और अगर नहीं भी है तब भी यही सोचे कि मेरे पास बहुत पैसे हैं मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता अपने आप को पॉजिटिव एफर्मेशंस दीजिए और हार कभी मत मानिए नेवर एवर गिव अप प्लीज यार मत मानिए जिंदगी में हर एक इंसान इस दुनिया में हर एक इंसान उन परिस्थितियों से गुजर आए कुछ ना कुछ परिस्थितियां ऐसी है जो जिसके कारण उनके सपने टूटे हैं उनका परिवार टूटा है बहुत कुछ लोगों ने सेंड किया है वह कोरोना के दौरान में भी जवाब दे सके के मजदूरों के साथ इतना गलत हुआ था तो यह तो एक एग्जांपल था कि लेकिन उनकी परिस्थितियां क्या हमसे तो मतलब हमारी इतनी खराब तो नहीं थी उनसे परिस्थितियां जब जैसे कि उनकी थी विचारों को इतने इतने किलोमीटर चलना पड़ा था तो यह बात सच है कि इंसान परिस्थितियों से हार जाता है लेकिन वह परिस्थितियों से हारता है खुद से नहीं हारता है उसे एक बात यह ध्यान उनसे कि जब तक वह खुद हार नहीं माने तब तक दुनिया की कोई ताकत उसे हरा नहीं सकती ध्यान से सुनिए जब तक आप खुद हार नहीं माने तब तक दुनिया की कोई भी ताकत आपको हरा नहीं सकती है यह बात अपने दिल दिमाग में बिठा दीजिए और पॉजिटिव बोलिए क्या मैं आपके साथ पॉजिटिव रही है पॉजिटिव लोगों के साथ रहिए एक अच्छी बातें सुनी अच्छी बातें करिए और खुद को उम्मीद दीजिए खुद के साथ जब आप बार-बार अच्छी बातें करें

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अगर समय खराब हो तो क्या करना चाहिए, मनुष्य परिस्थितियों का दास है, खराब समय
URL copied to clipboard