#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है?

Bachon Ko Kaale Rang Se Dar Kyun Lagta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:26
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है तो फ्रेंड से काला रंग अंधेरे का प्रतीक होता है और गांव का नाम होता है तो वहां अंधेरा महसूस होता है और तराना भी महसूस होता है इसलिए बच्चों को काले रंग से डर लगता है काला रंग में लोगों ने डराते हैं कि काला भूत आ जाएगा काला साया जाएगा इस तरह से बच्चों को डराते हैं लोग इसलिए काले रंग से डरते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn bachchon ko kaale rang se dar kyon lagata hai to phrend se kaala rang andhere ka prateek hota hai aur gaanv ka naam hota hai to vahaan andhera mahasoos hota hai aur taraana bhee mahasoos hota hai isalie bachchon ko kaale rang se dar lagata hai kaala rang mein logon ne daraate hain ki kaala bhoot aa jaega kaala saaya jaega is tarah se bachchon ko daraate hain log isalie kaale rang se darate hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है?Bachon Ko Kaale Rang Se Dar Kyun Lagta Hai
Dhiraj Gurjar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dhiraj जी का जवाब
Unknown
1:38

bolkar speaker
बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है?Bachon Ko Kaale Rang Se Dar Kyun Lagta Hai
T P Singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए T जी का जवाब
Business
2:28
आपका प्रश्न है कि बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है देखिए जहां तक मैं समझता हूं काले रंग का संबंध अज्ञान से होता है और जहां अज्ञान होता है वहां पर वह स्वयं जन्म लेता है अंधेरी रात में आपको चीजें दिखती नहीं अंधेरे में आपको चीजों का ज्ञान नहीं होता चीजें स्पष्ट दृष्टिगोचर नहीं होती पर क्योंकि वह दिखाई नहीं देती इसलिए वहां पर बनकता नजर आती है दिन की रोशनी में सभी चीजें स्पष्ट नजर आती है इसलिए बच्चों को दिन में डर नहीं लगता लेकिन यदि किसी अंधेरे कमरे में जाए और कुछ भी ठीक से दिखाई ना दे तो कहते हैं कि डर लगता है अर्थात अज्ञान और डर कार्टून आता है दूसरी बात क्यों को बचपन से देखिए कोई बच्चा जन्म लेने के बाद हम उसे कैसा सिखाते हैं हम उसे कैसे तैयार करते हम उसे किस तरह का ज्ञान देते हैं उसी से बच्चे के अंदर भय और निडरता उसी से उसके अंदर आती है जैसे माय बचपन में बच्चों को डराती है देखो अंधेरा दिखा करके कि वहां पर देखो अंधेरे के अंदर भूत है तुम सो जाओ नहीं तो भूत आ जाएगा इस तरह की चीजों से बच्चों के अंदर और भी काले रंग के प्रति डर का वास होता है अगर हम बच्चों को इस तरह की नकारात्मक चीजों से दूर रखें तो ना तो वह कभी अंधेरे से डरेगा न काले रंग से डरेगा लेकिन इसका बहुत बड़ा कारण है क्योंकि हम बच्चों के अंदर इस तरह का डर हम ही डालते हैं इस तरह की गलत भावनाएं भूत काला सफेद अंधेरा यह सब बच्चों के अंदर हम ही डालते हैं और यही कारण है कि बच्चों के अंदर काले रंग से बच्चों को डर लगता है मेरे को लगता है कि आपको उत्तर मिल गया होगा धन्यवाद कभी भी अपने बच्चों को इस तरह से ना डर आएं धन्यवाद
Aapaka prashn hai ki bachchon ko kaale rang se dar kyon lagata hai dekhie jahaan tak main samajhata hoon kaale rang ka sambandh agyaan se hota hai aur jahaan agyaan hota hai vahaan par vah svayan janm leta hai andheree raat mein aapako cheejen dikhatee nahin andhere mein aapako cheejon ka gyaan nahin hota cheejen spasht drshtigochar nahin hotee par kyonki vah dikhaee nahin detee isalie vahaan par banakata najar aatee hai din kee roshanee mein sabhee cheejen spasht najar aatee hai isalie bachchon ko din mein dar nahin lagata lekin yadi kisee andhere kamare mein jae aur kuchh bhee theek se dikhaee na de to kahate hain ki dar lagata hai arthaat agyaan aur dar kaartoon aata hai doosaree baat kyon ko bachapan se dekhie koee bachcha janm lene ke baad ham use kaisa sikhaate hain ham use kaise taiyaar karate ham use kis tarah ka gyaan dete hain usee se bachche ke andar bhay aur nidarata usee se usake andar aatee hai jaise maay bachapan mein bachchon ko daraatee hai dekho andhera dikha karake ki vahaan par dekho andhere ke andar bhoot hai tum so jao nahin to bhoot aa jaega is tarah kee cheejon se bachchon ke andar aur bhee kaale rang ke prati dar ka vaas hota hai agar ham bachchon ko is tarah kee nakaaraatmak cheejon se door rakhen to na to vah kabhee andhere se darega na kaale rang se darega lekin isaka bahut bada kaaran hai kyonki ham bachchon ke andar is tarah ka dar ham hee daalate hain is tarah kee galat bhaavanaen bhoot kaala saphed andhera yah sab bachchon ke andar ham hee daalate hain aur yahee kaaran hai ki bachchon ke andar kaale rang se bachchon ko dar lagata hai mere ko lagata hai ki aapako uttar mil gaya hoga dhanyavaad kabhee bhee apane bachchon ko is tarah se na dar aaen dhanyavaad

bolkar speaker
बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है?Bachon Ko Kaale Rang Se Dar Kyun Lagta Hai
shubham kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए shubham जी का जवाब
Study
0:39
नमस्कार दोस्तों हमारा प्रश्न है आज का बच्चों को खाते हुए 14 बच्चों को काटने की धरती पर आने के लिए कहानी शेर वाली कहानी सुनाते हैं जिससे बच्चों के मन में काल्पनिक तकदीर बन जाती है जिस वजह से जब काले रंग को देखते हैं तो अपने काल्पनिक तस्वीर काले रंग से डरते हैं अतः आप सभी से अनुरोध है कि ना तो आप बस मेरे
Namaskaar doston hamaara prashn hai aaj ka bachchon ko khaate hue 14 bachchon ko kaatane kee dharatee par aane ke lie kahaanee sher vaalee kahaanee sunaate hain jisase bachchon ke man mein kaalpanik takadeer ban jaatee hai jis vajah se jab kaale rang ko dekhate hain to apane kaalpanik tasveer kaale rang se darate hain atah aap sabhee se anurodh hai ki na to aap bas mere

bolkar speaker
बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है?Bachon Ko Kaale Rang Se Dar Kyun Lagta Hai
shabnam khatun Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए shabnam जी का जवाब
Student
1:25
हेलो एवरीवन तो आज आप का सवाल है कि बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है जब बच्चे मतलब सोते हैं तो उन्हें अगर वह बल बदमाशी भी करते हैं तो जनरल ही उन्हें ऐसी भूत प्रेत यह आजा है वो आ जाएगा मम्मी आशीष लोरी सुनाती है तो उसका क्या रात है रात तेरा काला ही होता है उस समय भी कोई मतलब ऐसे ही काले कपड़े में या फिर कोई मतलब ऐसा दोस्त आ रहा है वह भी मतलब बहुत ही अजीब सा दिख रहा है सब तरफ तो मतलबी है क्या मतलब काला काला दिख रहा तो हमेशा मुस्कान इस चीज को एक सबसे डरावनी चीज नहीं मतलब सोचने वाला स्टेशन का बच्चों की बात कर रहे डरावना चीज भी सोचते हो गया रेड्डी के बच्चों का जो टॉयज होता है जो खिलौना होता है वह कितना कलरफुल होता है उसकी झूले भी कितने बदलाव कलरफुल होते हैं यहां तो नहीं खाओगे नहीं पियोगे नहीं सोओगे तो भूत आ जाएगा रात को ही जनरल यह सब हमको दे दे तो उसको शराब में बचत खाते भी नहीं है और कल उसको तो पहले से जानते तो सिर्फ काला ही रंग ऐसा होता जिसके वजह से मतलब देखकर और काले रंग से डरते हैं
Helo evareevan to aaj aap ka savaal hai ki bachchon ko kaale rang se dar kyon lagata hai jab bachche matalab sote hain to unhen agar vah bal badamaashee bhee karate hain to janaral hee unhen aisee bhoot pret yah aaja hai vo aa jaega mammee aasheesh loree sunaatee hai to usaka kya raat hai raat tera kaala hee hota hai us samay bhee koee matalab aise hee kaale kapade mein ya phir koee matalab aisa dost aa raha hai vah bhee matalab bahut hee ajeeb sa dikh raha hai sab taraph to matalabee hai kya matalab kaala kaala dikh raha to hamesha muskaan is cheej ko ek sabase daraavanee cheej nahin matalab sochane vaala steshan ka bachchon kee baat kar rahe daraavana cheej bhee sochate ho gaya reddee ke bachchon ka jo toyaj hota hai jo khilauna hota hai vah kitana kalaraphul hota hai usakee jhoole bhee kitane badalaav kalaraphul hote hain yahaan to nahin khaoge nahin piyoge nahin sooge to bhoot aa jaega raat ko hee janaral yah sab hamako de de to usako sharaab mein bachat khaate bhee nahin hai aur kal usako to pahale se jaanate to sirph kaala hee rang aisa hota jisake vajah se matalab dekhakar aur kaale rang se darate hain

bolkar speaker
बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है?Bachon Ko Kaale Rang Se Dar Kyun Lagta Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
2:00
हेलो अभी खाना खाए हो आप सब ठीक होंगे जैसे कि हमें तो मित्र में किसी ने पूछा है बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है लेकिन मेरे विचार से बच्चों के अंदर डर होता ही नहीं जब तक बच्चे समझदार नहीं हो सकते तब तक उन्हें किसी भी चीजें वस्तु से तक याद रखें क्या के सामने जो शेर भी आजा तुमसे मेरे को डर नहीं लगता उनके अंदर डर हमारे द्वारा ही बिठाया जाता है बचपन में ही बच्चों बच्चों को डर बातें अब बच्चों को सही तरह बच्चों को डरा कर के बातें करते हैं ऐसा करो नहीं तो शेर आ जाएगा भूत आ जाएगा और अपने बच्चों के बाद मैं जो बात करा कर अपने बच्चों के बाद हम करेंगे लेकिन जब बच्चे छोटे से होती है तो उनकी मैडम में जो उनके जो टीचर्स हैं तो उनको डराते हैं उनको बोलते हैं कि चुप हो जाओ नहीं तो कमरे में चला जाएगा तू असली जाए उसको तुम ही बंद कर दे बंद कर देंगे या तुम्हें खा जाएगा तो अक्सर बहुत धर्म के अंदर बैठ जाता और उनके लिए वह चीज काफी खतरा शिक्षित हो जाती है उसके वजह से जाते कोरोनावायरस हैं जाओ चेकअप जाना है सिर्फ आपके लिए जगह पर जाना बंद कर देंगे तो उनको समझाना पड़ेगा कि डर के लिए क्या-क्या चीज है अगर गलत चीजों के बारे में जाए तो उसके बारे में आपको समझाना आपका दिमाग बहुत जरूरी है अगर बच्चे काले रंग भूतल से डरते हैं तो उनके मन में गलत भावना जो है पैदा करना हमारा काम नहीं है मैंने ऐसे ही डक जगह पर करना क्योंकि देखो हमेशा हम पर जो हम गलत भावनगर तो हमेशा तुमको विश्वास दिलाएं कि डर जो है जिस चीज से वो डरे जाने की भूत है तो भूत से भूत नहीं होता है अगर बच्चा अंधेरे में नहीं जाएगा तो काले रंग से ही डरे गाना की भूत वाली फिल्म या नाटक तो यही कुछ मेल मेरे तरफ से मेरे तर्क और मेरे विचार हैं आशा करता हूं कि यह आपको पसंद आए तो लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo abhee khaana khae ho aap sab theek honge jaise ki hamen to mitr mein kisee ne poochha hai bachchon ko kaale rang se dar kyon lagata hai lekin mere vichaar se bachchon ke andar dar hota hee nahin jab tak bachche samajhadaar nahin ho sakate tab tak unhen kisee bhee cheejen vastu se tak yaad rakhen kya ke saamane jo sher bhee aaja tumase mere ko dar nahin lagata unake andar dar hamaare dvaara hee bithaaya jaata hai bachapan mein hee bachchon bachchon ko dar baaten ab bachchon ko sahee tarah bachchon ko dara kar ke baaten karate hain aisa karo nahin to sher aa jaega bhoot aa jaega aur apane bachchon ke baad main jo baat kara kar apane bachchon ke baad ham karenge lekin jab bachche chhote se hotee hai to unakee maidam mein jo unake jo teechars hain to unako daraate hain unako bolate hain ki chup ho jao nahin to kamare mein chala jaega too asalee jae usako tum hee band kar de band kar denge ya tumhen kha jaega to aksar bahut dharm ke andar baith jaata aur unake lie vah cheej kaaphee khatara shikshit ho jaatee hai usake vajah se jaate koronaavaayaras hain jao chekap jaana hai sirph aapake lie jagah par jaana band kar denge to unako samajhaana padega ki dar ke lie kya-kya cheej hai agar galat cheejon ke baare mein jae to usake baare mein aapako samajhaana aapaka dimaag bahut jarooree hai agar bachche kaale rang bhootal se darate hain to unake man mein galat bhaavana jo hai paida karana hamaara kaam nahin hai mainne aise hee dak jagah par karana kyonki dekho hamesha ham par jo ham galat bhaavanagar to hamesha tumako vishvaas dilaen ki dar jo hai jis cheej se vo dare jaane kee bhoot hai to bhoot se bhoot nahin hota hai agar bachcha andhere mein nahin jaega to kaale rang se hee dare gaana kee bhoot vaalee philm ya naatak to yahee kuchh mel mere taraph se mere tark aur mere vichaar hain aasha karata hoon ki yah aapako pasand aae to laik aur sabsakraib karen dhanyavaad

bolkar speaker
बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है?Bachon Ko Kaale Rang Se Dar Kyun Lagta Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:28
हंसने की बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है दरअसल काला रंग किसका प्रतीक है अंधेरी का और हमें बचपन से यह सिखाया जाता है कि अंधेरे में डर होता है अंधेरे में तू ही दिखता नहीं है तो वहां पर भूत का या जो भी कुछ भी काल्पनिक दर्द जो पैदा किए जाते हैं तो उन्हें से जुड़े होते हैं इसीलिए बच्चों को काले रंग से डर लगता है
Hansane kee bachchon ko kaale rang se dar kyon lagata hai darasal kaala rang kisaka prateek hai andheree ka aur hamen bachapan se yah sikhaaya jaata hai ki andhere mein dar hota hai andhere mein too hee dikhata nahin hai to vahaan par bhoot ka ya jo bhee kuchh bhee kaalpanik dard jo paida kie jaate hain to unhen se jude hote hain iseelie bachchon ko kaale rang se dar lagata hai

bolkar speaker
बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है?Bachon Ko Kaale Rang Se Dar Kyun Lagta Hai
India is Great Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए India जी का जवाब
Master Chef in House
2:00
बच्चे को काले रंग से डर क्यों लगता है लेकिन बच्चे जो है स्टार्टिंग से सबको यही चाहता है कि अच्छा है और उसकी डरना वह डरना नहीं है बल्कि हम लोगों के मुंह से जो छीन सकते हैं बच्चे वही करने के उसके भी थॉट चलता रहता है और कुछ उसे से रिलेटेड है वो सोचता रहता है अगर किसका बच्चा बहुत क्यूट है तो आपके घर आए या फिर आप वहां पर गए तो क्या बोलते हो सोना कितना क्यूट है गाड़ी वगैरह एकदम गोरा चिट्टा है मस्त है सुपर है मतलब बहुत सारे कमेंट पास करने लग जाता तो ऐसे में क्या होता है कि वह बच्चा सोचता रहता है गोरा है अच्छा है यह है वह है फिर वह खुद को ऐसा महसूस करने लगे ताकि साइड में काला हूं इसलिए शायद मेरे लिए इस तरह से कोई कमेंट पास नहीं करता है या तो फिर यह हो सकता है कि मेरे घरवाले मुझे ऐसे नहीं बोलते हैं कभी भी गोरा चिट्टा यह सब चीजें हैं क्योंकि बच्चे ही होते हैं ना वह खास उनकी उस सीखने की उम्र वह 1 साल से लेकर के 5 से 6 साल के अंदर ही होता है ठीक है जो मेन फोकस होता उनका सबसे ज्यादा पकड़ने का मंत्र जाप एबीसीडी पढ़ा है कोका कोका पड़ा है तो यह आप जिंदगी में कभी नहीं बोलेंगे जो आपने कल आसमान में भी पड़ा है वह भी आप कभी नहीं बोलेंगे लेकिन जो पांचवी आठवीं दसवीं पड़ा है वह आप खुद बोल सकते हैं क्योंकि उस समय आप की कई ऐसी चिंता हो जाती कैसे टेंशन हो जाती है जो आपकी फिगर फिगर में पढ़ाई के साथ-साथ भी चलता रहता है तो ऐसे में हमें सोच नहीं मतलब बहुत सारी चीजें जो है नहीं हो पाता उसी तरीके से फोकस नहीं कर पाते लेकिन बच्चा होता है जो वह अच्छी तरह से समझ समझ पाता है कोई टेंशन ना हो तो कुछ करना होता है उस समय हर चीज को अच्छी तरह से समझ पाता तो यही होता है बच्चे में फर्क कि अपने आप को अकेला हो तो वह इस तरह से मत लीजिए खुद को समझ में आता है कि जिनकी दूसरे के साथ में इतना अच्छा चीज बोला जा रहा मेरे साथ नहीं बोला जा रहा है यही है इसके पीछे रीजन
Bachche ko kaale rang se dar kyon lagata hai lekin bachche jo hai staarting se sabako yahee chaahata hai ki achchha hai aur usakee darana vah darana nahin hai balki ham logon ke munh se jo chheen sakate hain bachche vahee karane ke usake bhee thot chalata rahata hai aur kuchh use se rileted hai vo sochata rahata hai agar kisaka bachcha bahut kyoot hai to aapake ghar aae ya phir aap vahaan par gae to kya bolate ho sona kitana kyoot hai gaadee vagairah ekadam gora chitta hai mast hai supar hai matalab bahut saare kament paas karane lag jaata to aise mein kya hota hai ki vah bachcha sochata rahata hai gora hai achchha hai yah hai vah hai phir vah khud ko aisa mahasoos karane lage taaki said mein kaala hoon isalie shaayad mere lie is tarah se koee kament paas nahin karata hai ya to phir yah ho sakata hai ki mere gharavaale mujhe aise nahin bolate hain kabhee bhee gora chitta yah sab cheejen hain kyonki bachche hee hote hain na vah khaas unakee us seekhane kee umr vah 1 saal se lekar ke 5 se 6 saal ke andar hee hota hai theek hai jo men phokas hota unaka sabase jyaada pakadane ka mantr jaap ebeeseedee padha hai koka koka pada hai to yah aap jindagee mein kabhee nahin bolenge jo aapane kal aasamaan mein bhee pada hai vah bhee aap kabhee nahin bolenge lekin jo paanchavee aathaveen dasaveen pada hai vah aap khud bol sakate hain kyonki us samay aap kee kaee aisee chinta ho jaatee kaise tenshan ho jaatee hai jo aapakee phigar phigar mein padhaee ke saath-saath bhee chalata rahata hai to aise mein hamen soch nahin matalab bahut saaree cheejen jo hai nahin ho paata usee tareeke se phokas nahin kar paate lekin bachcha hota hai jo vah achchhee tarah se samajh samajh paata hai koee tenshan na ho to kuchh karana hota hai us samay har cheej ko achchhee tarah se samajh paata to yahee hota hai bachche mein phark ki apane aap ko akela ho to vah is tarah se mat leejie khud ko samajh mein aata hai ki jinakee doosare ke saath mein itana achchha cheej bola ja raha mere saath nahin bola ja raha hai yahee hai isake peechhe reejan

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बच्चों को काले रंग से डर क्यों लगता है, बच्चों को काले रंग से डर लगता
URL copied to clipboard