#जीवन शैली

Deven  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Deven जी का जवाब
Valuepreneur Adventurer Life Explorer Dreamer
4:57
भारतीय संस्कृति की सबसे बड़ी विडंबना क्या है जिससे अधिक लोग नहीं जानते हैं यह मेरा पर्सनल ओपिनियन है मैं यहां रखना चाहूंगा देखिए भारतीय संस्कृति एक काफी विच संस्कृति मानी जाती है इसलिए रिच मानी जाती है क्योंकि हमारे पास हमारे पुरातन काल से लेकर अभी तक हमारे पास में बहुत रीच तरीके से नॉलेज है जिसमें अभी योगा हो गया आयुर्वेदा हो गया जो कि भारत भारत भारत में दिया है पूरे वर्ल्ड उसके अलावा हमारे पास कल्चर देखे कितने सारे हैं क्योंकि हमारे पास इतने सारे कल्चर से छोटे-छोटे इन सब कल चोरों के अंदर भी एक अपना अपना ज्ञान छुपा हुआ है तो वह भी एक ज्ञान तो है हमने वालों को दिया हुआ है या फिर लोग आकर कुछ हमारा ज्ञान लेने की कोशिश करते हमारे जीवन शैली को लेने की कोशिश कर भारतीय संस्कृति के अंदर में बहुत सारे त्यौहार हम लोग क्यों मनाते हैं आप देखना उसका डायरेक्ट कनेक्शन जो हमारे आजू-बाजू नेचुरल लाइफ एनिमल प्लांट्स इन के रिस्पेक्ट को लेकर चीन का एक इनके प्रत्येक ग्रिटीट्यूड दिखाने के हिसाब से हमारे जो त्यौहार है वह बनेंगे और संस्कृति बन रही थी तो आज अबे पढ़ रही थी तो शुरू में जो रविदास थे तो 4 वेदास ऋग्वेद सामवेद यजुर्वेद अथर्ववेद में यह बेकालताल पहला दूसरा तीसरा चौथा जत्था संस्कृति आप अगर पढ़ोगे तो बड़ी सरल थी मैंने वहां पर सभी टाइप की चीजें होती थी धन्य वो व्यापार भी होता था कि बीते लेबर अभी थे राजा लोग भी थे लेकिन अगर उनकी संस्कृति देखोगे तो बड़ी सरल थी उनके उठकर जो पूजा करने का तरीका काफी सरल था वह नेचर व्हाट्सएप करते थे वहां पर काफी चीजें ऐसी थी की वहां पर व्यापार भी होता था आप बहुत अच्छी चीजें भी हो लोग बनाते थे और वहां से जब आगे चलते गया तो धीरे-धीरे इसके अंदर में इंप्योरिटीज आते हैं हमें यह तक नहीं पता अभी के अभी पढ़ते भी है वह चीज है इसमें कितनी प्योरिटी है क्योंकि बहुत सारी चीजें अपन देखेंगे अभी तो जो भी हमारे त्यौहार है या उसका जो पैसे कैसे छोड़ कर हम लोग काफी शोभा जी और दिखावा पर इसमें अपन उलझ गए और अभी तो ऐसा हो गया है कि एक सिंपल सा एग्जांपल अगर मैं बताऊं तो अभी गणेश गणेश उत्सव जो होता है महाराष्ट्र के अंदर है पूरे देश में होता है यह श्री तिलक इन्होंने शुरू किया तिलक जी ने शुरू किया बाल गंगाधर तिलक और उन्हें जब शुरू किया था तो उनकी भावना इसके पीछे पड़ी सरल और बड़ी अच्छी भावना थे कि कम्युनिटी के अंदर के लोग इकट्ठा हो और साथ में मिलकर एक श्रद्धा भावना के उसे पूजा करें और एक साथ कल्चर का या फिर सबको यह बात सबको एक टाइम ऐसा मिलेगा जिसमें लोग कल सुरीली एक माइक से घुल मिल सके कंपटीशन में कन्वर्ट हो गया है कंपटीशन एरिया में बैठता भी है हर एरिया में इसमें बहुत सारा पैसा भी खर्च होता है और इसमें लोगों का जो सब आ गए कहीं जगह पर है बहुत अच्छा है कई जगह पर लोग आसपास नहीं है इसमें खाली पैसों से उलाढाल हो रही है और उसके पीछे में बहुत सारी ऐसी चीजें हो रही है कि जो चीज नहीं होनी चाहिए छोड़कर बहुत बहुत बार हम लोग अंदर श्रद्धा के अंदर डूब गए हमें उसका बेसिक सिंह नहीं पता कि हम क्यों कर रही है तो यह चीज है हम दुखते चाहे वह करते जा रहे हैं जिसके पीछे कोई लॉजिक नहीं बताई कोई साइंस नहीं होता है और वहां पर श्रद्धा होती जरूर हमारी लेकिन कई बार हम उसके शिकार भी हो जाते हैं उस अंदर श्रद्धा के और अनफॉर्चूनेटली कुछ ऐसे लोग हैं जो लोग सोसाइटी के अंदर में इसके ऊपर रोटी भी सीख लेते हैं वही करते हो तो यह भारतीय संस्कृति के अंदर में इससे बड़ी विडंबना लायक है और अभी आप देखो जो मेल फीमेल इक्वलिटी कि मैं बात करूंगा जो इक्वलिटी सूबेदार हुआ करती थी वह क्वालिटी हमने खुद ही थी अभी तो ठीक है अभी तो एक मॉडर्न जब सरकार आती है जब पिछले कुछ सालों से हम इक्वलिटी की बात कर रहे हैं तो फीमेल्स को विशेष दर्जा तेरे मेल्स के देते इसमें लेकिन दीपक माइंडसेट अभी भी है हमारे सोसायटी बहुत पहले नहीं था लेकिन बीच में हम लोग एक एमएनसी रिंपी और हो क्या और यह अभी भी चलता है और अभी भी परिवार लेंट है यह गांव कितने गांव के दूरदराज लेकिन धीरे-धीरे सभी युवा पीढ़ी आ जाएगी और चीजों को लॉजिकली समझेगी साइंस का ज्यादा संभाल लेगी और सीवर श्रद्धा करेगी यूनिवर्स नेचर के ऊपर तो मुझे लगता है यह मैडम बता भी निकल जाए एयरपोर्ट
Bhaarateey sanskrti kee sabase badee vidambana kya hai jisase adhik log nahin jaanate hain yah mera parsanal opiniyan hai main yahaan rakhana chaahoonga dekhie bhaarateey sanskrti ek kaaphee vich sanskrti maanee jaatee hai isalie rich maanee jaatee hai kyonki hamaare paas hamaare puraatan kaal se lekar abhee tak hamaare paas mein bahut reech tareeke se nolej hai jisamen abhee yoga ho gaya aayurveda ho gaya jo ki bhaarat bhaarat bhaarat mein diya hai poore varld usake alaava hamaare paas kalchar dekhe kitane saare hain kyonki hamaare paas itane saare kalchar se chhote-chhote in sab kal choron ke andar bhee ek apana apana gyaan chhupa hua hai to vah bhee ek gyaan to hai hamane vaalon ko diya hua hai ya phir log aakar kuchh hamaara gyaan lene kee koshish karate hamaare jeevan shailee ko lene kee koshish kar bhaarateey sanskrti ke andar mein bahut saare tyauhaar ham log kyon manaate hain aap dekhana usaka daayarekt kanekshan jo hamaare aajoo-baajoo nechural laiph enimal plaants in ke rispekt ko lekar cheen ka ek inake pratyek griteetyood dikhaane ke hisaab se hamaare jo tyauhaar hai vah banenge aur sanskrti ban rahee thee to aaj abe padh rahee thee to shuroo mein jo ravidaas the to 4 vedaas rgved saamaved yajurved atharvaved mein yah bekaalataal pahala doosara teesara chautha jattha sanskrti aap agar padhoge to badee saral thee mainne vahaan par sabhee taip kee cheejen hotee thee dhany vo vyaapaar bhee hota tha ki beete lebar abhee the raaja log bhee the lekin agar unakee sanskrti dekhoge to badee saral thee unake uthakar jo pooja karane ka tareeka kaaphee saral tha vah nechar vhaatsep karate the vahaan par kaaphee cheejen aisee thee kee vahaan par vyaapaar bhee hota tha aap bahut achchhee cheejen bhee ho log banaate the aur vahaan se jab aage chalate gaya to dheere-dheere isake andar mein impyoriteej aate hain hamen yah tak nahin pata abhee ke abhee padhate bhee hai vah cheej hai isamen kitanee pyoritee hai kyonki bahut saaree cheejen apan dekhenge abhee to jo bhee hamaare tyauhaar hai ya usaka jo paise kaise chhod kar ham log kaaphee shobha jee aur dikhaava par isamen apan ulajh gae aur abhee to aisa ho gaya hai ki ek simpal sa egjaampal agar main bataoon to abhee ganesh ganesh utsav jo hota hai mahaaraashtr ke andar hai poore desh mein hota hai yah shree tilak inhonne shuroo kiya tilak jee ne shuroo kiya baal gangaadhar tilak aur unhen jab shuroo kiya tha to unakee bhaavana isake peechhe padee saral aur badee achchhee bhaavana the ki kamyunitee ke andar ke log ikattha ho aur saath mein milakar ek shraddha bhaavana ke use pooja karen aur ek saath kalchar ka ya phir sabako yah baat sabako ek taim aisa milega jisamen log kal sureelee ek maik se ghul mil sake kampateeshan mein kanvart ho gaya hai kampateeshan eriya mein baithata bhee hai har eriya mein isamen bahut saara paisa bhee kharch hota hai aur isamen logon ka jo sab aa gae kaheen jagah par hai bahut achchha hai kaee jagah par log aasapaas nahin hai isamen khaalee paison se ulaadhaal ho rahee hai aur usake peechhe mein bahut saaree aisee cheejen ho rahee hai ki jo cheej nahin honee chaahie chhodakar bahut bahut baar ham log andar shraddha ke andar doob gae hamen usaka besik sinh nahin pata ki ham kyon kar rahee hai to yah cheej hai ham dukhate chaahe vah karate ja rahe hain jisake peechhe koee lojik nahin bataee koee sains nahin hota hai aur vahaan par shraddha hotee jaroor hamaaree lekin kaee baar ham usake shikaar bhee ho jaate hain us andar shraddha ke aur anaphorchoonetalee kuchh aise log hain jo log sosaitee ke andar mein isake oopar rotee bhee seekh lete hain vahee karate ho to yah bhaarateey sanskrti ke andar mein isase badee vidambana laayak hai aur abhee aap dekho jo mel pheemel ikvalitee ki main baat karoonga jo ikvalitee soobedaar hua karatee thee vah kvaalitee hamane khud hee thee abhee to theek hai abhee to ek modarn jab sarakaar aatee hai jab pichhale kuchh saalon se ham ikvalitee kee baat kar rahe hain to pheemels ko vishesh darja tere mels ke dete isamen lekin deepak maindaset abhee bhee hai hamaare sosaayatee bahut pahale nahin tha lekin beech mein ham log ek emenasee rimpee aur ho kya aur yah abhee bhee chalata hai aur abhee bhee parivaar lent hai yah gaanv kitane gaanv ke dooradaraaj lekin dheere-dheere sabhee yuva peedhee aa jaegee aur cheejon ko lojikalee samajhegee sains ka jyaada sambhaal legee aur seevar shraddha karegee yoonivars nechar ke oopar to mujhe lagata hai yah maidam bata bhee nikal jae eyaraport

और जवाब सुनें

Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:36
भारतीय संस्कृति की सबसे बड़ी बड़ी क्या है संस्कृति की जब हम बात करते हैं जो बात है यह इसकी खासियत है लेकिन यह ही इसके मैडम नमी बन जाती क्योंकि जो हमारी डायवर्सिटेक खासकर जो हमारी भाषा के लिए टाइप हो चुकी है उसके कारण हम जुड़ते भी हैं लेकिन कहीं ना कहीं 1 सालों से थोड़ी दूर हो जाते हैं जैसे हम मीडिया की बात करें तो आप खबरें सुनते हैं तो कौन जाता नॉर्थ इंडिया सिलेक्टेड होती है क्योंकि तीनों मीडिया ग्रुप होते हैं उनके पास इतना पैसा नहीं है कि वह अपना एक रिपोर्टर अलग-अलग स्टेट में भेजें और ट्रांसलेट भी करें जैसे कन्नड़ लैंग्वेज में मलयालम इन तमिल लैंग्वेज में उसमे तो जॉकेट करके हिंदी इंग्लिश या 9 दिन में डालो बरौनी नेशनल बोर्ड ऑफ इंडिया की भाषा का जो अंतर हो जाता है यहां पर अच्छी बात है लेकिन को दवाई तो बिल्कुल ही अलग अलग भाषा में अलग-अलग जानकारी होती उसके कल्चर के बारे में उत्पन्न होती है फागुन अच्छी बात है लेकिन यह भाषा कभी-कभी ज्यादा अलग हो जाती है जो हम समझ नहीं पाते उसकी वजह से जो कम्युनिकेशन है वह भी खराब हो जाए
Bhaarateey sanskrti kee sabase badee badee kya hai sanskrti kee jab ham baat karate hain jo baat hai yah isakee khaasiyat hai lekin yah hee isake maidam namee ban jaatee kyonki jo hamaaree daayavarsitek khaasakar jo hamaaree bhaasha ke lie taip ho chukee hai usake kaaran ham judate bhee hain lekin kaheen na kaheen 1 saalon se thodee door ho jaate hain jaise ham meediya kee baat karen to aap khabaren sunate hain to kaun jaata north indiya silekted hotee hai kyonki teenon meediya grup hote hain unake paas itana paisa nahin hai ki vah apana ek riportar alag-alag stet mein bhejen aur traansalet bhee karen jaise kannad laingvej mein malayaalam in tamil laingvej mein usame to joket karake hindee inglish ya 9 din mein daalo baraunee neshanal bord oph indiya kee bhaasha ka jo antar ho jaata hai yahaan par achchhee baat hai lekin ko davaee to bilkul hee alag alag bhaasha mein alag-alag jaanakaaree hotee usake kalchar ke baare mein utpann hotee hai phaagun achchhee baat hai lekin yah bhaasha kabhee-kabhee jyaada alag ho jaatee hai jo ham samajh nahin paate usakee vajah se jo kamyunikeshan hai vah bhee kharaab ho jae

TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
4:38
हेलो के सामने आई होप आप सब ठीक हूं बस सिर में बहुत ही अच्छा सवाल पूछा कि भारतीय संस्कृति की सबसे बड़ी विडंबना क्या है अधिकतर लोग उनकी जानकारी आप भारतीय संस्कृति से खत्म प्यार करते हैं तो आपको जवाब जो लोग रूढ़िवादी समझते हैं हम लोग एक सबसे बड़ी समस्या है यदि आप तो अपनी संस्कृति को बढ़ावा देते तो आपको आधुनिक जगह माना जाता है जाने क्या कर आप तुरंत उसके बाद करते हो ऐसे में जब हम उन लोगों को क्या मनाया जो पश्चिम के हैं और अपने आपस जातीय संस्कृति जाने की वेस्टर्न कल्चर को जो है प्यार करते हैं वैसे हर हिंदुस्तानी लोग जो है जो वेस्टर्न कल्चर है और आधुनिक पाश्चात्य और आधुनिक संस्कृत में फर्क करना ही चाहते भारतीय संस्कृति और सभ्यता के बाद करें तो उसमें बहुत कुछ है जिससे दुनिया को संभव बनाया समीक्षा सब कुछ लेकिन उनमें से कुछ बदलाव लाइव रखो सर्वोच्च शानदार के कुछ बातों को सुनने कि आपकी पहचान में चाचा और उसके दोस्त का दुष्परिणाम जो आपके आने वाली पीढ़ी में कितने करता हूं अब जब भी संस्कृति सभ्यता के बात करें तो आपको निश्चित रूप से ही रूढ़िवादी यह कट्टरवादी जो है माने जाने लगे ऐसी मानसिकता के आपके दिमाग में भरने वाले वही लोग होते तो अपनी संस्कृति संस्कृति और सभ्यता को आधुनिक किया बौद्धिकता के नाम पर समाप्त करना चाहते हैं अपने देश और संस्कृति से विद्रोह करना सिर्फ 1 दिन ही नहीं सिखाया जाता है क्या यह तो सैकड़ों हजारों सालों का और गुलामी का यह परिणाम है अगर हम उस समय की बात करें जब हम संसद को भारतीय संस्कृत की बात कर रहे हैं तो उसका हिस्सा सभी धर्म जाति प्रांत और समाज के लोग हैं अतः संस्कृति को बचाना उन सभी की जिम्मेदारी है जो खुद भारतीय मानते हैं तो उसके बारे में अगर हम बात करें तो और जो आधुनिकता के पूरे प्रश्नों के द्वारा हम जो अपनी संस्कृति को उनसे बचाना बहुत जरूरी है अकरम भाषा की बात करके भाषा संस्कृति और बहुत ही जरूरी है हमेशा भारत की सभी भाषाएं और बोलियां जो संस्कृति का जो संस्कृति का हिस्सा है हिंदू हो या मुसलमान हो सिख इसाई सभी को पूर्वजों की दर पीढ़ी अपने भाषाओं को बोलते हैं लेकिन वर्तमान पीढ़ी माध्यमिक व धार्मिक कट्टरता के चलते एक उड़ती उड़ती जा रहे हैं भारतीयों को उनकी बातों से दूर करने के लिए पहले मुगलों ने फिर अंग्रेजन और आप अपनी-अपनी भाषाओं को लादा जिससे चलते भारतीय बहुत सारी भाषा जो अपना अस्तित्व खो चुके हैं और कुछ होने के लिए भी तैयार कर सकते हैं अगर हम बात करें पंजाबी सिंधी पाकिस्तानी ब्लू जी बंगाली कश्मीरी डोगरी आदिवासी को तो अब उनमें अर्धवार्षिक ज्यादा शब्द जो है मिल चुके हैं इस तरह से हम भारत में हिंदी गुजराती मराठी को पढ़ने और हिंदी बोलने को भोजपुरी राजस्थानी मारवाड़ी बात करें तो उनमें अंग्रेजी फारसी के शब्दों का परीक्षण बहुत ज्यादा बढ़ गया हिंदी तो लगभग अंग्रेजी होती जा रही है यदि हिंदी मरी तो हिंदी की बोलियां भी सोता ही अपने आप ही मर जाएंगे ऐसे में मराठी और गुजराती को बताना और भी मुश्किल हो जाएगा भाषा के बारे में बहुत कुछ लिखा जा सकता है लेकिन लोग इस चीज की तरफ ध्यान नहीं देते वक्त सबसे बड़ी विडंबना है कि हम खुद इस चीज को इग्नोर करते जा रहे हैं शुल्क अपनी भाषा को बचाने के लिए आप खुद बोले अपने बच्चों को अपने दोस्तों को जहां वह भाषा सिखाए आप जिस भी क्षेत्र में रहते हैं वहां की भाषा से प्रेम करें वहां की भाषा के मुहावरे लोग का खेल ब्लॉक की जमकर एवं करें कोई भाषा खतरे से बाहर है यदि सारी गुड़िया का प्रयोग कर रहे हैं और किसी भाषा की तक हल नहीं है तो खतरा तो तब शुरू हो जाता है जब एक परिवार समाज से मुझे ज्यादा बच्चे व संगीत जहां मात्र भाषा बोलने में शर्म करते हैं जो नहीं बोलते हैं उन सभी की जिम्मेदारी सबसे बड़ी जिम्मेदार हैं अखबार टीवी रेडियो मोबाइल इंटरनेट सोशल मीडिया तमाम संचार माध्यम से यह जिम्मेदारी बनती अपनी भाषा को जमकर शुद्ध रूप में उपयोग करें और उनको करें बॉलीवुड के कारण भी भारतीय भाषाओं का बहुत ज्यादा प्रचार प्रसार हो लेकिन अब यही जो है उन को नष्ट करने में लगे हैं कॉलेज इसमें भी पैटर्न चेंज होते रहे शॉपिंग मॉल और होर्डिंग की वजह से ही बोलने को तो बहुत कुछ है बहुत बिजी हैं लेकिन लाल यहीं पर खत्म करता हूं तो यह हमारे विडंबना है आशा करता हूं आपको मेरी बात समझ में आएगा लाइट को सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Helo ke saamane aaee hop aap sab theek hoon bas sir mein bahut hee achchha savaal poochha ki bhaarateey sanskrti kee sabase badee vidambana kya hai adhikatar log unakee jaanakaaree aap bhaarateey sanskrti se khatm pyaar karate hain to aapako javaab jo log roodhivaadee samajhate hain ham log ek sabase badee samasya hai yadi aap to apanee sanskrti ko badhaava dete to aapako aadhunik jagah maana jaata hai jaane kya kar aap turant usake baad karate ho aise mein jab ham un logon ko kya manaaya jo pashchim ke hain aur apane aapas jaateey sanskrti jaane kee vestarn kalchar ko jo hai pyaar karate hain vaise har hindustaanee log jo hai jo vestarn kalchar hai aur aadhunik paashchaaty aur aadhunik sanskrt mein phark karana hee chaahate bhaarateey sanskrti aur sabhyata ke baad karen to usamen bahut kuchh hai jisase duniya ko sambhav banaaya sameeksha sab kuchh lekin unamen se kuchh badalaav laiv rakho sarvochch shaanadaar ke kuchh baaton ko sunane ki aapakee pahachaan mein chaacha aur usake dost ka dushparinaam jo aapake aane vaalee peedhee mein kitane karata hoon ab jab bhee sanskrti sabhyata ke baat karen to aapako nishchit roop se hee roodhivaadee yah kattaravaadee jo hai maane jaane lage aisee maanasikata ke aapake dimaag mein bharane vaale vahee log hote to apanee sanskrti sanskrti aur sabhyata ko aadhunik kiya bauddhikata ke naam par samaapt karana chaahate hain apane desh aur sanskrti se vidroh karana sirph 1 din hee nahin sikhaaya jaata hai kya yah to saikadon hajaaron saalon ka aur gulaamee ka yah parinaam hai agar ham us samay kee baat karen jab ham sansad ko bhaarateey sanskrt kee baat kar rahe hain to usaka hissa sabhee dharm jaati praant aur samaaj ke log hain atah sanskrti ko bachaana un sabhee kee jimmedaaree hai jo khud bhaarateey maanate hain to usake baare mein agar ham baat karen to aur jo aadhunikata ke poore prashnon ke dvaara ham jo apanee sanskrti ko unase bachaana bahut jarooree hai akaram bhaasha kee baat karake bhaasha sanskrti aur bahut hee jarooree hai hamesha bhaarat kee sabhee bhaashaen aur boliyaan jo sanskrti ka jo sanskrti ka hissa hai hindoo ho ya musalamaan ho sikh isaee sabhee ko poorvajon kee dar peedhee apane bhaashaon ko bolate hain lekin vartamaan peedhee maadhyamik va dhaarmik kattarata ke chalate ek udatee udatee ja rahe hain bhaarateeyon ko unakee baaton se door karane ke lie pahale mugalon ne phir angrejan aur aap apanee-apanee bhaashaon ko laada jisase chalate bhaarateey bahut saaree bhaasha jo apana astitv kho chuke hain aur kuchh hone ke lie bhee taiyaar kar sakate hain agar ham baat karen panjaabee sindhee paakistaanee bloo jee bangaalee kashmeeree dogaree aadivaasee ko to ab unamen ardhavaarshik jyaada shabd jo hai mil chuke hain is tarah se ham bhaarat mein hindee gujaraatee maraathee ko padhane aur hindee bolane ko bhojapuree raajasthaanee maaravaadee baat karen to unamen angrejee phaarasee ke shabdon ka pareekshan bahut jyaada badh gaya hindee to lagabhag angrejee hotee ja rahee hai yadi hindee maree to hindee kee boliyaan bhee sota hee apane aap hee mar jaenge aise mein maraathee aur gujaraatee ko bataana aur bhee mushkil ho jaega bhaasha ke baare mein bahut kuchh likha ja sakata hai lekin log is cheej kee taraph dhyaan nahin dete vakt sabase badee vidambana hai ki ham khud is cheej ko ignor karate ja rahe hain shulk apanee bhaasha ko bachaane ke lie aap khud bole apane bachchon ko apane doston ko jahaan vah bhaasha sikhae aap jis bhee kshetr mein rahate hain vahaan kee bhaasha se prem karen vahaan kee bhaasha ke muhaavare log ka khel blok kee jamakar evan karen koee bhaasha khatare se baahar hai yadi saaree gudiya ka prayog kar rahe hain aur kisee bhaasha kee tak hal nahin hai to khatara to tab shuroo ho jaata hai jab ek parivaar samaaj se mujhe jyaada bachche va sangeet jahaan maatr bhaasha bolane mein sharm karate hain jo nahin bolate hain un sabhee kee jimmedaaree sabase badee jimmedaar hain akhabaar teevee rediyo mobail intaranet soshal meediya tamaam sanchaar maadhyam se yah jimmedaaree banatee apanee bhaasha ko jamakar shuddh roop mein upayog karen aur unako karen boleevud ke kaaran bhee bhaarateey bhaashaon ka bahut jyaada prachaar prasaar ho lekin ab yahee jo hai un ko nasht karane mein lage hain kolej isamen bhee paitarn chenj hote rahe shoping mol aur hording kee vajah se hee bolane ko to bahut kuchh hai bahut bijee hain lekin laal yaheen par khatm karata hoon to yah hamaare vidambana hai aasha karata hoon aapako meree baat samajh mein aaega lait ko sabsakraib karen dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भारतीय संस्कृति की सबसे बड़ी विडंबना क्या है, भारतीय संस्कृति की सबसे बड़ी विडंबना, भारतीय संस्कृति की विडंबना क्या है
  • भारतीय संस्कृति में क्या खास है, भारतीय संस्कृति की क्या खास बात है
  • भारतीय संस्कृति की सबसे बड़ी विडंबना क्या है,भारतीय संस्कृति की बड़ी विडंबना
URL copied to clipboard