#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

क्या माता-पिता के बुरे कर्मों का फल संतान को भी चुकाना पड़ता है?

Kya Mata Pita Ke Bure Karmo Ka Fal Santan Ko Bhi Chukana Padta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
5:26
सवाल ये है कि क्या माता-पिता के बुरे कर्मों का फल संतान को भी चुकाना पड़ता है सुनीता मृत्यु देव यमराज की पुत्री थी माता-पिता के लाड प्यार में बहुत दिन हो गए थे यह देखती कि उसके पिता पापियों को दंड देते रहते थे वह पाप और पुण्य का अंतर नहीं समझती थी इसलिए खेल खेल में किसी के अच्छे कार्य में बाधा डालती और किसी को अकारण मारने लगे तो दंड का पूर्ण कार्य करके बहुत खुश होती है एक गंधर्व कुमार को अपनी आराधना में योग मुद्रा में बैठा था अकारण ही कोड़े मारने लगी गंधर्व कुमार पीड़ा से छटपटाते तुम्हें खुशी से उछल पड़ती है उसे खेल समझती इस प्रकार की अपनी करतूतें में अपने माता पिता को बताती पिता उसकी सुंदरता को बाल सुलभ खेल समझ कर चुप रह जाते ना तो सुनीता को ऐसा कर रहे तो रोकते नहीं समझा दे बहुत दिनों तक ऐसा चलता रहा 1 दिन फिर उस गंधर्व कुमार को वह जब मैं पूजा पाठ कर रहा था तो सुनीता ने मारना शुरू किया जब ऐसा हो गया तो उसने खुद उसे शाप दे दिया तो धर्मराज की बेटी है तेरा विवाह कृष्ण पुत्र से होगा तेरी एक योग्य संतान भी होगी पर तेरे दुष्ट कर्मों का अंश उस में व्याप्त रहेगा सुनीता ने यह बात भी अपने पिता को बताई अब धर्मराज को लगा कि उन्होंने बड़ी भूल कर भी संतान की आदत और स्वभाव पर ध्यान ना दे कर मुझे भले बुरे का ज्ञान नहीं दिया फलस्वरूप उसे शाप मिला पर अब तो समय हाथ से निकल चुका था बोले पेटी निर्दोष तपस्वी को पीटकर तुमने अच्छा काम नहीं किया बुरे कर्मों को पकड़ने के कारण तुम्हें यह साफ मिला है अभी समझ जाओ और अच्छे काम की और मन लगाओ समय बीतता गया कन्या बढ़ी हुई तो उसे विवाह की चिंता हुई उससे आपको जानकर कोई उससे विवाह करने को तैयार नहीं होता था कौन उससे पैदा होने वाले पापी पुत्र का पिता बनता जब कोई उपाय ना रहा तो रंभा अप्सरा ने उस मोहनी विद्या उसे मोहिनी विद्या सिखा दी सर आए तो उस कार्य में सिद्ध होती थी अब उसे किसी को भी मोहित करने की विद्या शुद्ध हो गई थी 1 दिन रंभा उसे अपने साथ लेकर भर की खोज में निकली एक नदी के तट पर उसने अत्री कुमार अंग को देखा सुनीता अंक को देखते ही उस पर मोहित हो गई रंभा की माया तथा अपनी मोहिनी विद्या के बल पर उसने अंग को मोहित भी कर लिया था दोनों को एक दूसरे पर आज तक को जानकर रंभा ने दोनों का गांधर्व विवाह कर दिया दोनों सुख पूर्वक रहने लगे कुछ दिनों बाद उसके पुत्र हुआ जिसका नाम दिन रखा गया अत्री वंश के रूप अनुरूप ही अपने पिता के समान धार्मिक सदाचारी और जो उचित गुणों से संपन्न न था आचार विचार और व्यवहार में तब उसकी बड़ी प्रशंसा करते अच्छे कुल में उत्पन्न होने के सभी लक्षण उसमें दिखते थे पर मां केक दुर्गुण के कारण आज के कारण विस्थापित हुई थी धीरे-धीरे व्हेन में भी यह दुर्गुण प्रकट होने लगे कुछ नाश्ते को तथा दोस्तों की संगति में वह भी नास्तिक हो गया ईश्वर वेद पुराण शास्त्र से झूठ लगने लगे यज्ञ संध्या संध्या आदि को का पाखंड समझने लगा व्यस्त हो चुका था अपने माता पिता पिता का कहना वह नहीं मानता था राजकाज में उसका हस्तक्षेप इतना बढ़ गया कि पिता और असहाय हो गए राजा तवांग थे पर आज्ञा वेंकी चलती थी सुनीता समझ रही थी कि उसके संस्कारों का परिणाम 4 अगस्त सूत्र में उतर आया है उसके हट तथा उद्दंडता पर किसी का वश नहीं था तब व्यवस्था उनके इन कर्मों से प्रजा दुखी रहने लगी महाराज अंग को अपयश मिलने लगा जब सब प्रकार 7 को समझा कर हार गए तो फिर से बचने के लिए एक दिन निराश होकर आंगणे चुपके से घर ही त्याग दिया राजा के बिना अराजकता और बड़ी और ऋषि यों ने अंग पुत्र विन को राजा बनाया और समझाया तुम्हारे दुश्मनों से दुखी होकर तुम्हारे पिता ने राज्य त्याग दिया अब तुम अपना राज्य के उत्तर उपरोक्त कार्य कर प्रजा को सुख दो परवीन राजा बनकर तो और प्रमोद तो और अहंकारी हो गया बोला आप लोग मुझे ज्ञान मत दीजिए मैं बड़ा मैं स्वयं बड़ा ज्ञानी हूं ईश्वर धर्म शास्त्र आदि का मेरे आदेश से स्थापित होंगे या धर्म होगा शास्त्र बच्चन होगा आप लोग जब मेरी आज्ञा के अनुसार चली और मुझ में ही ईश्वर धर्म तथा शास्त्र की छाया देखिए ऐसे विचारों वाले वेन के कार्यों से देश में अराजकता बड़की सारे धार्मिक तथा सत्कार्य बंद हो गए प्रजा की सुरक्षा नहीं रह गई दूसरे लोगों का बोलबाला हो गया धार्मिक कार्य बंद हो गए हर चीज का अंत होता है पाप का घड़ा जब भर गया तो ऋषि-मुनियों तथा प्रजा जनों ने विद्रोह कर दिया वेनकोपिन को पकड़ लिया और उसको उसे प्रताड़ित कर राजा के पद से हटा दिया तथा छिन जाने पर वह असहाय हो गया अब वह दूसरों की दया पर निर्भर रहने लगा ऋषि यों ने प्रजा के परम परामर्श कर उसके पुत्र पृथ्वीपुर राजा के पद पर प्रतिष्ठित किया परवीन जंगल में चला गया निश्चय ही अच्छे कुल परिवार का भी व्यक्ति भी कुसंगति के कारण अपनी मर्यादा भूल कर कुमार भी हो जाते हैं अपने कुल धर्म को भूलकर सब के दुख का कारण बनता है और अंत में अपने इसी आचरण के कारण ने स्वयं ही नष्ट हो जाता है इसलिए कुसंगति तथा को संस्कारों से बचना चाहिए हमें पता चलता है कि माता-पिता के बुरे कर्मों का फल संतान को भी चुकाना पड़ता है
Savaal ye hai ki kya maata-pita ke bure karmon ka phal santaan ko bhee chukaana padata hai suneeta mrtyu dev yamaraaj kee putree thee maata-pita ke laad pyaar mein bahut din ho gae the yah dekhatee ki usake pita paapiyon ko dand dete rahate the vah paap aur puny ka antar nahin samajhatee thee isalie khel khel mein kisee ke achchhe kaary mein baadha daalatee aur kisee ko akaaran maarane lage to dand ka poorn kaary karake bahut khush hotee hai ek gandharv kumaar ko apanee aaraadhana mein yog mudra mein baitha tha akaaran hee kode maarane lagee gandharv kumaar peeda se chhatapataate tumhen khushee se uchhal padatee hai use khel samajhatee is prakaar kee apanee karatooten mein apane maata pita ko bataatee pita usakee sundarata ko baal sulabh khel samajh kar chup rah jaate na to suneeta ko aisa kar rahe to rokate nahin samajha de bahut dinon tak aisa chalata raha 1 din phir us gandharv kumaar ko vah jab main pooja paath kar raha tha to suneeta ne maarana shuroo kiya jab aisa ho gaya to usane khud use shaap de diya to dharmaraaj kee betee hai tera vivaah krshn putr se hoga teree ek yogy santaan bhee hogee par tere dusht karmon ka ansh us mein vyaapt rahega suneeta ne yah baat bhee apane pita ko bataee ab dharmaraaj ko laga ki unhonne badee bhool kar bhee santaan kee aadat aur svabhaav par dhyaan na de kar mujhe bhale bure ka gyaan nahin diya phalasvaroop use shaap mila par ab to samay haath se nikal chuka tha bole petee nirdosh tapasvee ko peetakar tumane achchha kaam nahin kiya bure karmon ko pakadane ke kaaran tumhen yah saaph mila hai abhee samajh jao aur achchhe kaam kee aur man lagao samay beetata gaya kanya badhee huee to use vivaah kee chinta huee usase aapako jaanakar koee usase vivaah karane ko taiyaar nahin hota tha kaun usase paida hone vaale paapee putr ka pita banata jab koee upaay na raha to rambha apsara ne us mohanee vidya use mohinee vidya sikha dee sar aae to us kaary mein siddh hotee thee ab use kisee ko bhee mohit karane kee vidya shuddh ho gaee thee 1 din rambha use apane saath lekar bhar kee khoj mein nikalee ek nadee ke tat par usane atree kumaar ang ko dekha suneeta ank ko dekhate hee us par mohit ho gaee rambha kee maaya tatha apanee mohinee vidya ke bal par usane ang ko mohit bhee kar liya tha donon ko ek doosare par aaj tak ko jaanakar rambha ne donon ka gaandharv vivaah kar diya donon sukh poorvak rahane lage kuchh dinon baad usake putr hua jisaka naam din rakha gaya atree vansh ke roop anuroop hee apane pita ke samaan dhaarmik sadaachaaree aur jo uchit gunon se sampann na tha aachaar vichaar aur vyavahaar mein tab usakee badee prashansa karate achchhe kul mein utpann hone ke sabhee lakshan usamen dikhate the par maan kek durgun ke kaaran aaj ke kaaran visthaapit huee thee dheere-dheere vhen mein bhee yah durgun prakat hone lage kuchh naashte ko tatha doston kee sangati mein vah bhee naastik ho gaya eeshvar ved puraan shaastr se jhooth lagane lage yagy sandhya sandhya aadi ko ka paakhand samajhane laga vyast ho chuka tha apane maata pita pita ka kahana vah nahin maanata tha raajakaaj mein usaka hastakshep itana badh gaya ki pita aur asahaay ho gae raaja tavaang the par aagya venkee chalatee thee suneeta samajh rahee thee ki usake sanskaaron ka parinaam 4 agast sootr mein utar aaya hai usake hat tatha uddandata par kisee ka vash nahin tha tab vyavastha unake in karmon se praja dukhee rahane lagee mahaaraaj ang ko apayash milane laga jab sab prakaar 7 ko samajha kar haar gae to phir se bachane ke lie ek din niraash hokar aangane chupake se ghar hee tyaag diya raaja ke bina araajakata aur badee aur rshi yon ne ang putr vin ko raaja banaaya aur samajhaaya tumhaare dushmanon se dukhee hokar tumhaare pita ne raajy tyaag diya ab tum apana raajy ke uttar uparokt kaary kar praja ko sukh do paraveen raaja banakar to aur pramod to aur ahankaaree ho gaya bola aap log mujhe gyaan mat deejie main bada main svayan bada gyaanee hoon eeshvar dharm shaastr aadi ka mere aadesh se sthaapit honge ya dharm hoga shaastr bachchan hoga aap log jab meree aagya ke anusaar chalee aur mujh mein hee eeshvar dharm tatha shaastr kee chhaaya dekhie aise vichaaron vaale ven ke kaaryon se desh mein araajakata badakee saare dhaarmik tatha satkaary band ho gae praja kee suraksha nahin rah gaee doosare logon ka bolabaala ho gaya dhaarmik kaary band ho gae har cheej ka ant hota hai paap ka ghada jab bhar gaya to rshi-muniyon tatha praja janon ne vidroh kar diya venakopin ko pakad liya aur usako use prataadit kar raaja ke pad se hata diya tatha chhin jaane par vah asahaay ho gaya ab vah doosaron kee daya par nirbhar rahane laga rshi yon ne praja ke param paraamarsh kar usake putr prthveepur raaja ke pad par pratishthit kiya paraveen jangal mein chala gaya nishchay hee achchhe kul parivaar ka bhee vyakti bhee kusangati ke kaaran apanee maryaada bhool kar kumaar bhee ho jaate hain apane kul dharm ko bhoolakar sab ke dukh ka kaaran banata hai aur ant mein apane isee aacharan ke kaaran ne svayan hee nasht ho jaata hai isalie kusangati tatha ko sanskaaron se bachana chaahie hamen pata chalata hai ki maata-pita ke bure karmon ka phal santaan ko bhee chukaana padata hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या माता-पिता के बुरे कर्मों का फल संतान को भी चुकाना पड़ता है?Kya Mata Pita Ke Bure Karmo Ka Fal Santan Ko Bhi Chukana Padta Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
1:15
नमस्कार दोस्तों बोलकर आप में स्वागत है हवा लकी माता-पिता के बुरे कर्मों का फल संतान को भी चुकाना पड़ता है क्या जी हां चुकाना पड़ता है जैसा माता पिता जो कार्य करते हैं या कुछ कर्म करते हैं ठीक उसी प्रकार हम भी वही कार्य कर पाते हैं जैसे कि माता-पिता हमारी परवरिश अच्छी करेंगे तो हम अच्छे बनेंगे और यदि माता-पिता जैसे की काया काया काया को पीता था जो शराब पीता तो उससे जो होने वाली संतान और वह भी आगे चलकर शराब पीने लग जाता है इसलिए जहां तक होता तो सब माता-पिता के कर्मों पर आधारित है संतान जल्दी बता सुनता है तो वह अपने माता-पिता के कर्मों के आधार पर होता है जैसे माता-पिता करते हैं वैसे यह करते हैं इसीलिए कहा जाता है जैसी करनी वैसी भरनी
Namaskaar doston bolakar aap mein svaagat hai hava lakee maata-pita ke bure karmon ka phal santaan ko bhee chukaana padata hai kya jee haan chukaana padata hai jaisa maata pita jo kaary karate hain ya kuchh karm karate hain theek usee prakaar ham bhee vahee kaary kar paate hain jaise ki maata-pita hamaaree paravarish achchhee karenge to ham achchhe banenge aur yadi maata-pita jaise kee kaaya kaaya kaaya ko peeta tha jo sharaab peeta to usase jo hone vaalee santaan aur vah bhee aage chalakar sharaab peene lag jaata hai isalie jahaan tak hota to sab maata-pita ke karmon par aadhaarit hai santaan jaldee bata sunata hai to vah apane maata-pita ke karmon ke aadhaar par hota hai jaise maata-pita karate hain vaise yah karate hain iseelie kaha jaata hai jaisee karanee vaisee bharanee

bolkar speaker
क्या माता-पिता के बुरे कर्मों का फल संतान को भी चुकाना पड़ता है?Kya Mata Pita Ke Bure Karmo Ka Fal Santan Ko Bhi Chukana Padta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:26
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका प्रश्न के माता-पिता की फिल्म कर्मों का फल संतान को चुकाना पड़ता है या फ्रेंड से अगर किसी के माता-पिता पूरे होंगे तो उसकी संतान को भी उसका उसका चुकाना पड़ता है लोग संतान को भी भला बुरा कहते हैं और बोलते हैं कि देखो उनके माता-पिता ने ऐसा किया मैंने किया और उन्हें तमाम ताने सुनने पड़ते हैं और बहुत सारी परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है
Helo phrend svaagat hai aapaka prashn ke maata-pita kee philm karmon ka phal santaan ko chukaana padata hai ya phrend se agar kisee ke maata-pita poore honge to usakee santaan ko bhee usaka usaka chukaana padata hai log santaan ko bhee bhala bura kahate hain aur bolate hain ki dekho unake maata-pita ne aisa kiya mainne kiya aur unhen tamaam taane sunane padate hain aur bahut saaree pareshaaniyon ka saamana bhee karana padata hai

bolkar speaker
क्या माता-पिता के बुरे कर्मों का फल संतान को भी चुकाना पड़ता है?Kya Mata Pita Ke Bure Karmo Ka Fal Santan Ko Bhi Chukana Padta Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:57
प्रणाम भाइयों आपका सवाल है या माता-पिता की बुरे कर्मों का फल संतान को भी सुनाना पड़ता है दोनों को आपके सवाल का उत्तर काशी के माता-पिता के कर्म नाचे नहीं है तो इसका प्रभाव उनकी बच्चों पर भी पड़ता है बच्चों पर प्रभाव होने से बच्चे भी गलत रास्ते को चुनते हैं इसलिए माता-पिता के बुरे कर्मों का फल का असर के संतान पर भी कुछ करता है और कुछ बच्चे जो माता-पिता की बुरे कर्मों को नजरअंदाज करते हो जैसे कर्म करने लग जाते हैं वह अपनी लाइफ को सुधार कर सकता है धन्यवाद साथियों मित्रों
Pranaam bhaiyon aapaka savaal hai ya maata-pita kee bure karmon ka phal santaan ko bhee sunaana padata hai donon ko aapake savaal ka uttar kaashee ke maata-pita ke karm naache nahin hai to isaka prabhaav unakee bachchon par bhee padata hai bachchon par prabhaav hone se bachche bhee galat raaste ko chunate hain isalie maata-pita ke bure karmon ka phal ka asar ke santaan par bhee kuchh karata hai aur kuchh bachche jo maata-pita kee bure karmon ko najarandaaj karate ho jaise karm karane lag jaate hain vah apanee laiph ko sudhaar kar sakata hai dhanyavaad saathiyon mitron

bolkar speaker
क्या माता-पिता के बुरे कर्मों का फल संतान को भी चुकाना पड़ता है?Kya Mata Pita Ke Bure Karmo Ka Fal Santan Ko Bhi Chukana Padta Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:15
रिचा माता-पिता की बुरे कर्मों का फल हमको चुकाना पड़ता है नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं है माता पिता की एक बुरे कर्मों का फल माता-पिता को ही मिलता है
Richa maata-pita kee bure karmon ka phal hamako chukaana padata hai nahin aisa bilkul nahin hai maata pita kee ek bure karmon ka phal maata-pita ko hee milata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • बुरे कर्मों का फल कौन भुगता है, बुरे कर्म क्या होते है
URL copied to clipboard