#पढ़ाई लिखाई

bolkar speaker

इंसानों में एक दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है?

Insaanon Mein Ek Dusre Ki Nakal Karne Ka Chalan Kis Maansikta Ko Darshata Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
1:28
नमस्कार दोस्तों आपका सवाल है इंसानों में एक दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार है इंसान एक दूसरे की नकल करने का चलन एक डेढ़ साल की मानसिकता को दर्शाता है जिस प्रकार एक भेड़ चलती है उसके पीछे सारी भीड़ चलने लग जाती है जो इंसान की जो भी कमियां होती है उसी कमियों को बार-बार बनाया जाता है और उसी के अनुरूप ही वह भी चलने लग जाते हैं वह एक डेढ़ साल की हो जाती है और वह नकलची का कार्य करने लग जाते हैं इसलिए ऐसे इंसानों से हमें बचना चाहिए हमें शेर की तरह चलना चाहिए जो अपना मर्द फिल्म बनाना चाहिए ना कि हमें दूसरे के बनाए रास्ते पर चलना चाहिए शेर होता है वह अपना रास्ता स्वयं तय करता है इसलिए हमें नकलची कम ही बनना चाहिए हमें अपना मार्ग को खुद प्यार करना चाहिए और अपना गोल खुद बनाना चाहिए और उसी के अनुरूप ही चलना चाहिए धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka savaal hai insaanon mein ek doosare kee nakal karane ka chalan kis maanasikata ko darshaata hai to doston aapake savaal ka uttar is prakaar hai insaan ek doosare kee nakal karane ka chalan ek dedh saal kee maanasikata ko darshaata hai jis prakaar ek bhed chalatee hai usake peechhe saaree bheed chalane lag jaatee hai jo insaan kee jo bhee kamiyaan hotee hai usee kamiyon ko baar-baar banaaya jaata hai aur usee ke anuroop hee vah bhee chalane lag jaate hain vah ek dedh saal kee ho jaatee hai aur vah nakalachee ka kaary karane lag jaate hain isalie aise insaanon se hamen bachana chaahie hamen sher kee tarah chalana chaahie jo apana mard philm banaana chaahie na ki hamen doosare ke banae raaste par chalana chaahie sher hota hai vah apana raasta svayan tay karata hai isalie hamen nakalachee kam hee banana chaahie hamen apana maarg ko khud pyaar karana chaahie aur apana gol khud banaana chaahie aur usee ke anuroop hee chalana chaahie dhanyavaad saathiyon khush raho

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इंसानों में एक दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है?Insaanon Mein Ek Dusre Ki Nakal Karne Ka Chalan Kis Maansikta Ko Darshata Hai
Naayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Naayank जी का जवाब
College
1:34
इंसान एक दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है एक कारण हो सकता है कि हम एक जमाने में एक से एक बंदर की तरह से एक ऐसा भी हो सकता है समाज के देखते हैं कि 1 दर्जन नकल करते हैं क्या पता वह कारण दूसरे कि हम सोचते हैं कि अगर हम उसकी नकल करेंगे तो हम भी उसी की तरह से प्रसिद्ध जैसे अंग्रेज हमारे यहां पर शासन करते थे और अब भी तो हम लोगों को एक आईडिया है कि हमें वेस्टर्न लोगों की नकल कर नीचे क्योंकि जो वेस्टर्न लोग हैं वह ज्यादा सम्रत हैं ज्यादा डिवेलप है तो हमें लगता है कि अगर उनकी तरह करेंगे तो हम भी उनकी तरह पाएंगे और कुछ लोग इसलिए भी नकल करते हैं कि वह कुछ ज्यादा ही पहनने की चीज फेमस एक्टर क्या क्रिकेटर जैसे आप दिखते होंगे बॉलीवुड में किसी एक्सप्रेस में कोई कपड़े पहने तो वही कपड़े पहन किस हीरो ने कुछ चश्मा पहनता है ब्रेसलेट बनता है तो उसको भी व्यक्तियों को भी वही पहन है आम व्यक्तियों को यह क्रिकेटर में होली का ऋषभ पंत का कोई हेयर स्टाइल है तो उसको कॉपी करना तो जो लोग हैं जो ऐसा करते हैं वह अपने आप को भी उसी तरह कैसे खुश रखना चाहते हैं तो बाकी लोग हैं जो खुशी लोग हैं जो प्रसिद्ध लोगे जो सफल हो चुके हैं उनकी कॉपी करके वह ऐसा महसूस करते हैं कि हां थोड़े समय के लिए सही लेकिन महसूस करते हैं कि हम भी यहां सफल हो गए हम भी खुश
Insaan ek doosare kee nakal karane ka chalan kis maanasikata ko darshaata hai ek kaaran ho sakata hai ki ham ek jamaane mein ek se ek bandar kee tarah se ek aisa bhee ho sakata hai samaaj ke dekhate hain ki 1 darjan nakal karate hain kya pata vah kaaran doosare ki ham sochate hain ki agar ham usakee nakal karenge to ham bhee usee kee tarah se prasiddh jaise angrej hamaare yahaan par shaasan karate the aur ab bhee to ham logon ko ek aaeediya hai ki hamen vestarn logon kee nakal kar neeche kyonki jo vestarn log hain vah jyaada samrat hain jyaada divelap hai to hamen lagata hai ki agar unakee tarah karenge to ham bhee unakee tarah paenge aur kuchh log isalie bhee nakal karate hain ki vah kuchh jyaada hee pahanane kee cheej phemas ektar kya kriketar jaise aap dikhate honge boleevud mein kisee eksapres mein koee kapade pahane to vahee kapade pahan kis heero ne kuchh chashma pahanata hai bresalet banata hai to usako bhee vyaktiyon ko bhee vahee pahan hai aam vyaktiyon ko yah kriketar mein holee ka rshabh pant ka koee heyar stail hai to usako kopee karana to jo log hain jo aisa karate hain vah apane aap ko bhee usee tarah kaise khush rakhana chaahate hain to baakee log hain jo khushee log hain jo prasiddh loge jo saphal ho chuke hain unakee kopee karake vah aisa mahasoos karate hain ki haan thode samay ke lie sahee lekin mahasoos karate hain ki ham bhee yahaan saphal ho gae ham bhee khush

bolkar speaker
इंसानों में एक दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है?Insaanon Mein Ek Dusre Ki Nakal Karne Ka Chalan Kis Maansikta Ko Darshata Hai
Rohit Rathore Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Rohit जी का जवाब
Student
1:10
टैक्स वाले थे आप सबका मेरी बोल तेरे प्रोफाइल पर और आप सुंदर रोहित राठौर को अगर एक इंसान दूसरे इंसान को कॉपी कर रहा है उसकी फिर मैं तब ना कल ही कर रहा है तो इसका क्या मानसिकता हो सकती है क्या मानसिकता दर्शाती है तो भी यह वही व्यक्ति करते हैं अगर आप सक्सेस हो रहे हो अगर आप आप जवाब तो दे कॉपी करने लगे हैं ना आप यह समझ लीजिए क्या धीरे-धीरे ऊंचाइयों की ओर बढ़ रहे आप सकते इसके और बढ़ने की व्यक्तित्व भी अच्छी चीजें कह देना उसे ही एक चीज लाइफ यार मैं तो सोसाइटी अडॉप्ट करती है और आप कुछ अच्छा कर रहे जीवन में तो उसे दूसरे भी हट ऑफ करने का सोचते हैं उसी प्रकार जब आप देखते हो तो वह व्यक्ति आपको बता रहा है लगा आपने यह मैसेज कर सकते कि हमें कुछ अच्छा कर रहा हूं कुछ रिलीफ ऐड करूं आप कर रहा हूं दूसरों की लाइफ में जिससे मैं अपनी मानसिकता यह बनी होती कि नहीं वह नकल कर रहा है तो अच्छा नहीं नहीं जब आप देख रहे हो तो आसपास में जब अपने कल करे आप भी सिर्फ उन्हीं के जैसे बनना चाहते हैं उन्हीं की नकल करना चाहते जीना पसंद करते जो लाइफ में सक्सेस आपकी आईडी अम्स देख लीजिए चाहे वो एक्टर शुरू चाहे बिजनेस में अंतर कोई भी यही कल की मानसिकता होती है हमें सकते तो हमें मतलब अपने जींस की ओर ले जाने वाले मानसिकता होती धन्यवाद मिलते हैं अब से अगले सवाल में जब तक के लिए टेक केयर
Taiks vaale the aap sabaka meree bol tere prophail par aur aap sundar rohit raathaur ko agar ek insaan doosare insaan ko kopee kar raha hai usakee phir main tab na kal hee kar raha hai to isaka kya maanasikata ho sakatee hai kya maanasikata darshaatee hai to bhee yah vahee vyakti karate hain agar aap sakses ho rahe ho agar aap aap javaab to de kopee karane lage hain na aap yah samajh leejie kya dheere-dheere oonchaiyon kee or badh rahe aap sakate isake aur badhane kee vyaktitv bhee achchhee cheejen kah dena use hee ek cheej laiph yaar main to sosaitee adopt karatee hai aur aap kuchh achchha kar rahe jeevan mein to use doosare bhee hat oph karane ka sochate hain usee prakaar jab aap dekhate ho to vah vyakti aapako bata raha hai laga aapane yah maisej kar sakate ki hamen kuchh achchha kar raha hoon kuchh rileeph aid karoon aap kar raha hoon doosaron kee laiph mein jisase main apanee maanasikata yah banee hotee ki nahin vah nakal kar raha hai to achchha nahin nahin jab aap dekh rahe ho to aasapaas mein jab apane kal kare aap bhee sirph unheen ke jaise banana chaahate hain unheen kee nakal karana chaahate jeena pasand karate jo laiph mein sakses aapakee aaeedee ams dekh leejie chaahe vo ektar shuroo chaahe bijanes mein antar koee bhee yahee kal kee maanasikata hotee hai hamen sakate to hamen matalab apane jeens kee or le jaane vaale maanasikata hotee dhanyavaad milate hain ab se agale savaal mein jab tak ke lie tek keyar

bolkar speaker
इंसानों में एक दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है?Insaanon Mein Ek Dusre Ki Nakal Karne Ka Chalan Kis Maansikta Ko Darshata Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:28
इतिहास प्रश्न है इंसान में दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है एक तो है स्पर्धा दूसरा है स्तर बहुत अलग है सब एक दूसरे से जुड़े हुए आदमी आगे बढ़ना चाहता है यहां तो दूसरों की नकल करता है तो पहला तो यह होता है कि उसके समकक्ष होना चाहता हूं उसकी तरह सुनना चाहता जैसे गांव में कोई बहुत मशहूर व्यक्ति है कोई सम्मानित व्यक्ति है उसका मकान काम बहुत अच्छा है उसके बच्चे आगे निकल गए तो लोग उसकी नकल करते कुछ की तरह रहा जाए दूसरा है कि उस नकल के साथ-साथ एक भावे भी होता है कि जो उसके अपने गांव पाटीदार सुधा जाता है अरे कभी रिश्तेदार रहे लोग तो उन लोगों से उम्मीद ही की जाती है कि वह व्यक्ति जो है वह अगर आगे बढ़ेगा तो निश्चित रूप से उनके समकक्ष आ जाएगा और उसको भी बराबर का मान मिले ना तो दूसरा यह भी है और अगर केवल श्रद्धा है तो रचना धर्मी भी होता है लेकिन कभी-कभी यह क्या के रूप में नकल कर देती जो है वह अपने लिए ले घातक होती है दूसरों के लिए क्योंकि मन में दौड़ भावना पैदा हो रहे से नकलची लोग गलत कदम भी उठाने लगती है
Itihaas prashn hai insaan mein doosare kee nakal karane ka chalan kis maanasikata ko darshaata hai ek to hai spardha doosara hai star bahut alag hai sab ek doosare se jude hue aadamee aage badhana chaahata hai yahaan to doosaron kee nakal karata hai to pahala to yah hota hai ki usake samakaksh hona chaahata hoon usakee tarah sunana chaahata jaise gaanv mein koee bahut mashahoor vyakti hai koee sammaanit vyakti hai usaka makaan kaam bahut achchha hai usake bachche aage nikal gae to log usakee nakal karate kuchh kee tarah raha jae doosara hai ki us nakal ke saath-saath ek bhaave bhee hota hai ki jo usake apane gaanv paateedaar sudha jaata hai are kabhee rishtedaar rahe log to un logon se ummeed hee kee jaatee hai ki vah vyakti jo hai vah agar aage badhega to nishchit roop se unake samakaksh aa jaega aur usako bhee baraabar ka maan mile na to doosara yah bhee hai aur agar keval shraddha hai to rachana dharmee bhee hota hai lekin kabhee-kabhee yah kya ke roop mein nakal kar detee jo hai vah apane lie le ghaatak hotee hai doosaron ke lie kyonki man mein daud bhaavana paida ho rahe se nakalachee log galat kadam bhee uthaane lagatee hai

bolkar speaker
इंसानों में एक दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है?Insaanon Mein Ek Dusre Ki Nakal Karne Ka Chalan Kis Maansikta Ko Darshata Hai
डा. इन्दु प्रकाश सिंह  Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए डा. जी का जवाब
शिक्षण-कार्य, कालेज शिक्षा में प्राचार्य हूँ
1:28
इतिहास प्रश्न है इंसान में दूसरे की नकल करने का चलन किस मानसिकता को दर्शाता है एक तो है स्पर्धा दूसरा है स्तर बहुत अलग है सब एक दूसरे से जुड़े हुए आदमी आगे बढ़ना चाहता है यहां तो दूसरों की नकल करता है तो पहला तो यह होता है कि उसके समकक्ष होना चाहता हूं उसकी तरह सुनना चाहता जैसे गांव में कोई बहुत मशहूर व्यक्ति है कोई सम्मानित व्यक्ति है उसका मकान काम बहुत अच्छा है उसके बच्चे आगे निकल गए तो लोग उसकी नकल करते कुछ की तरह रहा जाए दूसरा है कि उस नकल के साथ-साथ एक भावे भी होता है कि जो उसके अपने गांव पाटीदार सुधा जाता है अरे कभी रिश्तेदार रहे लोग तो उन लोगों से उम्मीद ही की जाती है कि वह व्यक्ति जो है वह अगर आगे बढ़ेगा तो निश्चित रूप से उनके समकक्ष आ जाएगा और उसको भी बराबर का मान मिले ना तो दूसरा यह भी है और अगर केवल श्रद्धा है तो रचना धर्मी भी होता है लेकिन कभी-कभी यह क्या के रूप में नकल कर देती जो है वह अपने लिए ले घातक होती है दूसरों के लिए क्योंकि मन में दौड़ भावना पैदा हो रहे से नकलची लोग गलत कदम भी उठाने लगती है
Itihaas prashn hai insaan mein doosare kee nakal karane ka chalan kis maanasikata ko darshaata hai ek to hai spardha doosara hai star bahut alag hai sab ek doosare se jude hue aadamee aage badhana chaahata hai yahaan to doosaron kee nakal karata hai to pahala to yah hota hai ki usake samakaksh hona chaahata hoon usakee tarah sunana chaahata jaise gaanv mein koee bahut mashahoor vyakti hai koee sammaanit vyakti hai usaka makaan kaam bahut achchha hai usake bachche aage nikal gae to log usakee nakal karate kuchh kee tarah raha jae doosara hai ki us nakal ke saath-saath ek bhaave bhee hota hai ki jo usake apane gaanv paateedaar sudha jaata hai are kabhee rishtedaar rahe log to un logon se ummeed hee kee jaatee hai ki vah vyakti jo hai vah agar aage badhega to nishchit roop se unake samakaksh aa jaega aur usako bhee baraabar ka maan mile na to doosara yah bhee hai aur agar keval shraddha hai to rachana dharmee bhee hota hai lekin kabhee-kabhee yah kya ke roop mein nakal kar detee jo hai vah apane lie le ghaatak hotee hai doosaron ke lie kyonki man mein daud bhaavana paida ho rahe se nakalachee log galat kadam bhee uthaane lagatee hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • इंसानों में एक दूसरे की नकल करने का चलन , नकल करने का चलन
URL copied to clipboard