#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

क्या दिल और दिमाग के एक जैसा सोच सकते हैं?

Kya Dil Or Dimaag Ke Ek Jesa Soch Sakte Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
1:13
विज्ञान की माने तो दिल ना तो सोच सकता है ना समझ सकता है दिल का कार्य सिर्फ है वह रक्त को शरीर में पहुंचाने का काम होता है रक्त को शुद्ध करने का काम तो इसलिए दिमाग छोटा दिमाग के दो भाग होते जिस को एक को चेतन में स्थित गौरी को अवचेतन मस्तिष्क कहते हैं यह दोनों थोड़े अलग अलग सोच कुछ मिस्टेक हो जाता है और चेतन मस्ती हुआ होता है जिससे हम सामान्य निर्णय लेते हैं जैसे घूमने जैसे कोई भी डिसीजन लेना है जागृत अवस्था में अवचेतन मस्तिष्क नींद में भी काम करता है जिसे हम बाइक चलाते हैं तो कभी-कभी हम बाइक चलाते हैं तो हमें जरूरत नहीं पड़ती कि कहां ब्रेक लगाना है सोचने की जरूरत नहीं पड़ती तो वह सारा चेतन अवचेतन मस्तिष्क में फीड रहता है क्योंकि हमें पहले से ही पता है लेकिन जब हम रही जगह जाते हैं और हमें गलियों का पता नहीं है तब हमारा चेतन मस्तिष्क काम करता है क्या मैं किधर जाना किधर मुड़ना है तो इसलिए चेतन बस चेतन मस्ती बनो वह एक जैसा नहीं सोचते हैं अलग-अलग होते हैं क्योंकि उसमें पहले से फीड होती है और अवचेतन मस्तिष्क तुरंत डिसीजन लेता लेकिन दिल कुछ नहीं सोचना
Vigyaan kee maane to dil na to soch sakata hai na samajh sakata hai dil ka kaary sirph hai vah rakt ko shareer mein pahunchaane ka kaam hota hai rakt ko shuddh karane ka kaam to isalie dimaag chhota dimaag ke do bhaag hote jis ko ek ko chetan mein sthit gauree ko avachetan mastishk kahate hain yah donon thode alag alag soch kuchh mistek ho jaata hai aur chetan mastee hua hota hai jisase ham saamaany nirnay lete hain jaise ghoomane jaise koee bhee diseejan lena hai jaagrt avastha mein avachetan mastishk neend mein bhee kaam karata hai jise ham baik chalaate hain to kabhee-kabhee ham baik chalaate hain to hamen jaroorat nahin padatee ki kahaan brek lagaana hai sochane kee jaroorat nahin padatee to vah saara chetan avachetan mastishk mein pheed rahata hai kyonki hamen pahale se hee pata hai lekin jab ham rahee jagah jaate hain aur hamen galiyon ka pata nahin hai tab hamaara chetan mastishk kaam karata hai kya main kidhar jaana kidhar mudana hai to isalie chetan bas chetan mastee bano vah ek jaisa nahin sochate hain alag-alag hote hain kyonki usamen pahale se pheed hotee hai aur avachetan mastishk turant diseejan leta lekin dil kuchh nahin sochana

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या दिल और दिमाग के एक जैसा सोच सकते हैं?Kya Dil Or Dimaag Ke Ek Jesa Soch Sakte Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
0:48
उसका साथियों सवाल है कि क्या दिल और दिमाग के एक जैसा सोच सकते हैं तो साथियों दिल और दिमाग दो चीजें पहली बार जो दिल से बातें निकलती है वह सच होती हैं दिमाग में तो बहुत कुछ पूरा चलता रहता है लेकिन आप दिल से सोचो और दिमाग से करो साथियों दिमाग में चलता है कि मैं भी कर ले वह भी कर ले लेकिन दिल से आप पूछो कि क्या हमें करना चाहिए क्या हम जो कर रहे हैं सही कर रहे हैं हम क्या कर रहे हैं हमें क्या करना चाहिए हमारे लिए क्या उचित है तो आप सही रास्ते पर जाओगे साथियों आप सही चाहिए सोचो सत्य रास्ते पर चलो और तभी आप जब दिल की सुनने लोगों ने ना तो आपको सफलता अवश्य मिलेगी और आप हर एक ऊंचाई को पा सकते हैं
Usaka saathiyon savaal hai ki kya dil aur dimaag ke ek jaisa soch sakate hain to saathiyon dil aur dimaag do cheejen pahalee baar jo dil se baaten nikalatee hai vah sach hotee hain dimaag mein to bahut kuchh poora chalata rahata hai lekin aap dil se socho aur dimaag se karo saathiyon dimaag mein chalata hai ki main bhee kar le vah bhee kar le lekin dil se aap poochho ki kya hamen karana chaahie kya ham jo kar rahe hain sahee kar rahe hain ham kya kar rahe hain hamen kya karana chaahie hamaare lie kya uchit hai to aap sahee raaste par jaoge saathiyon aap sahee chaahie socho saty raaste par chalo aur tabhee aap jab dil kee sunane logon ne na to aapako saphalata avashy milegee aur aap har ek oonchaee ko pa sakate hain

bolkar speaker
क्या दिल और दिमाग के एक जैसा सोच सकते हैं?Kya Dil Or Dimaag Ke Ek Jesa Soch Sakte Hai
souramita Deb Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए souramita जी का जवाब
Unknown
0:39
जो दिल और दिमाग की एक जैसे सोच सकते हैं नहीं ऐसा बिल्कुल नहीं है क्योंकि दिल जो है वह हमेशा बाबू को इमोशनली रूप से सोचता है जो हमारे लिए कभी कभी लाइफ में खुश रखता है और कभी-कभी हानिकारक हो सकता है और दिमाग तो है हमेशा फायदेमंद के बारे में सोचता है कि यह काम जो हम करेंगे उसने में फायदा होगा या नुकसान होगा दिमाग हमेशा फायदे के बारे में सोचता है और दिल जो है हमेशा इमोशनल अटैचमेंट की स्थापित होता है बाबू को के सोचता है दोनों एक जैसा सोच नहीं रखते धन्यवाद
Jo dil aur dimaag kee ek jaise soch sakate hain nahin aisa bilkul nahin hai kyonki dil jo hai vah hamesha baaboo ko imoshanalee roop se sochata hai jo hamaare lie kabhee kabhee laiph mein khush rakhata hai aur kabhee-kabhee haanikaarak ho sakata hai aur dimaag to hai hamesha phaayademand ke baare mein sochata hai ki yah kaam jo ham karenge usane mein phaayada hoga ya nukasaan hoga dimaag hamesha phaayade ke baare mein sochata hai aur dil jo hai hamesha imoshanal ataichament kee sthaapit hota hai baaboo ko ke sochata hai donon ek jaisa soch nahin rakhate dhanyavaad

bolkar speaker
क्या दिल और दिमाग के एक जैसा सोच सकते हैं?Kya Dil Or Dimaag Ke Ek Jesa Soch Sakte Hai
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
3:40
नमस्कार दोस्तों बोलकर रात में स्वागत में हवा लगी क्या दिल और दिमाग एक जैसा सोचते हैं कि नहीं क्योंकि दिल है वह हमारे शरीर में कंपन का कार्य करता है और दिमाग में जो हमारे सोचने करने एवं विचार विमर्श करने और देखने में काम में लेते हैं तथा देना जो कि हमारे शरीर में कंपन करता किसी के माध्यम से व्यक्ति जीवित रहता है यह दिल नहीं तो व्यक्ति भी नहीं दिल है तो जीवन है तथा दिमाग भी है कैसा दिमाग नहीं यदि सिर में दिमाग नहीं होगा तो इंसान पागल रहेगा और यदि दिमाग है तो उसका प्रयोग करने वाला ही जाने वह कैसा प्रयोग हर व्यक्ति में दोहरा तेवतिया एक पॉजिटिव स्नान अजीत जो व्यक्ति अपनी सोच अपने विचार अपने विश्वास या अपने बेटा करता के माध्यम से जो कुछ जानता है वह उसे दिमाग के माध्यम से और नजरों के माध्यम से ही चुनता है या नहीं देखता कहां क्या हो रहा है जैसे कई लोग गलत संगत में पड़ जाते हैं जैसे होते हैं यार वह पीड़ा तो हम भी चलें पी कर देखें कि आप इसलिए हमें कभी भी जो कुछ भी करना है वह हमें सोच विचार करके या विचार विमर्श करके क्यों दिमाग का इस्तेमाल करके या बुद्धि का उपाय उपयोग करके हमें सोचना चाहिए कि क्या करना चाहिए क्या नहीं इसलिए सबसे ज्यादा इंपोर्टेंट है दिमाग दिमागी है जो एक जिससे हम सोच भी सकते हैं कुछ मन में जो बाद में सवाल जवाब कर सकते हैं उसका जवाब दे सकते हैं और मन में एकाग्रता होगी तो मनोहर बाधाओं से मुक्ति पा सकता है तथा हर बातों में वह सफल हो सकता है अगर वह सही तरीके से दिमाग का इस्तेमाल करें तब तथा कई लोग ऐसे थे जिनमें सोच के कारण ही दिमाग तो सब में लेकिन सोच के कारण किसी की सोच पॉजिटिव तो किसी के नजदीक जैसे कि कई लोग होते हैं जैसे कि उस थैंक्यू आज तक का स्कोर देखो कितनी अच्छी लड़की है तो यह सोच कर देखो जब कोई व्यक्ति या अपना भाई अपनी सिस्टर के बारे में कुछ कहें तो कैसे लगता है इसीलिए हम दिमाग को सही काम में लेना चाहिए ना की किसी के बारे में गलत सोचना चाहिए क्योंकि वह भी किसी की बहन है वह भी किसी का भाई है इसलिए हमें विशेषकर चौथ पर ध्यान देना चाहिए अर्थात दिमाग को सही काम में लेना चाहिए
Namaskaar doston bolakar raat mein svaagat mein hava lagee kya dil aur dimaag ek jaisa sochate hain ki nahin kyonki dil hai vah hamaare shareer mein kampan ka kaary karata hai aur dimaag mein jo hamaare sochane karane evan vichaar vimarsh karane aur dekhane mein kaam mein lete hain tatha dena jo ki hamaare shareer mein kampan karata kisee ke maadhyam se vyakti jeevit rahata hai yah dil nahin to vyakti bhee nahin dil hai to jeevan hai tatha dimaag bhee hai kaisa dimaag nahin yadi sir mein dimaag nahin hoga to insaan paagal rahega aur yadi dimaag hai to usaka prayog karane vaala hee jaane vah kaisa prayog har vyakti mein dohara tevatiya ek pojitiv snaan ajeet jo vyakti apanee soch apane vichaar apane vishvaas ya apane beta karata ke maadhyam se jo kuchh jaanata hai vah use dimaag ke maadhyam se aur najaron ke maadhyam se hee chunata hai ya nahin dekhata kahaan kya ho raha hai jaise kaee log galat sangat mein pad jaate hain jaise hote hain yaar vah peeda to ham bhee chalen pee kar dekhen ki aap isalie hamen kabhee bhee jo kuchh bhee karana hai vah hamen soch vichaar karake ya vichaar vimarsh karake kyon dimaag ka istemaal karake ya buddhi ka upaay upayog karake hamen sochana chaahie ki kya karana chaahie kya nahin isalie sabase jyaada importent hai dimaag dimaagee hai jo ek jisase ham soch bhee sakate hain kuchh man mein jo baad mein savaal javaab kar sakate hain usaka javaab de sakate hain aur man mein ekaagrata hogee to manohar baadhaon se mukti pa sakata hai tatha har baaton mein vah saphal ho sakata hai agar vah sahee tareeke se dimaag ka istemaal karen tab tatha kaee log aise the jinamen soch ke kaaran hee dimaag to sab mein lekin soch ke kaaran kisee kee soch pojitiv to kisee ke najadeek jaise ki kaee log hote hain jaise ki us thainkyoo aaj tak ka skor dekho kitanee achchhee ladakee hai to yah soch kar dekho jab koee vyakti ya apana bhaee apanee sistar ke baare mein kuchh kahen to kaise lagata hai iseelie ham dimaag ko sahee kaam mein lena chaahie na kee kisee ke baare mein galat sochana chaahie kyonki vah bhee kisee kee bahan hai vah bhee kisee ka bhaee hai isalie hamen visheshakar chauth par dhyaan dena chaahie arthaat dimaag ko sahee kaam mein lena chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • दिल और दिमाग में क्या समानता है, दिल और दिमाग में क्या भिन्नताएं है
URL copied to clipboard