#undefined

bolkar speaker

क्रोध मनुष्य के विवेक को किस प्रकार नष्ट करता है?

Krodh Manushya Ke Vivek Ko Kis Prakar Nasht Karta Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:47
सवाल ये है कि क्रोध मनुष्य के विवेक को किस प्रकार नष्ट करता है जब मनुष्य की कामना पूर्ण नहीं होती तब क्रोध उत्पन्न होता है और क्रोध बुद्धि को दिग्भ्रमित कर देता है बुद्धि के भ्रमित होने से विवेक नष्ट हो जाता है और अंत में इस प्रकार मनुष्य का पतन होकर वह विनाश को प्राप्त होता है जिस प्रकार डॉ लक्षणों से शारीरिक रोग के बारे में बता देते हैं उसी प्रकार भगवान कृष्ण ने गीता में वर्णन किया है कि क्रोध मनुष्य में रजोगुण की अधिकता का सूचक है इस प्रकार मनुष्य ना चाहते हुए भी पाप कर्म के लिए प्रेरित हो जाता है भगवान की व्याख्या करते हुए कहा है कि इसका कारण है रजोगुण के संपर्क में काम उत्पन्न होता है जिसका स्थाई रूप कामना है जब मनुष्य की कामना पूर्ण नहीं होती तो क्रोध उत्पन्न होता है और क्रोध बुद्धि को दिग्भ्रमित कर देता है बुद्धि के भ्रमित होते ही होने से विवेक नष्ट हो जाता है और अंत में इस प्रकार मनुष्य का पतन हो कर विनाश को प्राप्त होता है इस प्रकार से होता है कि मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु क्रोधी है जो काम से पैदा होता है काम की उत्पत्ति का स्रोत ज्ञानेंद्रिय जैसे आंख कान नाक और मन है क्योंकि उनके द्वारा ही मनुष्य संसार को अनुभव करता है जिसके कारण काम जागृत होता है इंद्रियों पर संयम मुक्त के लिए 2 उपाय दिए गए हैं पहला और दूसरा नियम दूसरा और दूसरा इन इंद्रियों को ईश्वर भक्ति में लगा देना जिस प्रकार जैन इंद्रियों में पहले काम का निवास था वही इंद्रियां उसके बाद ईश्वर को ही देखेंगे सुनेगी तथा अनुभव करेंगे इसके अलावा प्रकृति के गुणों तमो और रजोगुण से उन्नति करके तथा गुणों को धारण करना रजोगुण में मनुष्य का काम सरकार कर्म के करके कर्म फल की इच्छा करता है और उसे वांछित फल प्राप्त नहीं होता तब वह क्रोध करता है इसलिए सतोगुण को धारण करने के लिए मनुष्य को कर्म योगी बनना चाहिए दमोह और रजोगुण आयुक्त क्रोध विनाश का कारण बनता है वहीं पर सतोगुण में क्रिया का क्रोध मनुष्य को ईश्वर के नजदीक ले आता है लंका दहन और युद्ध के समय हनुमान जी ने भी किया था परंतु ईश्वर कार्य और परमार्थ के लिए किया था इसी प्रकार भगवान कृष्ण के मार्गदर्शन में क्रोध अर्जुन ने भी किया था परंतु वह क्रोध भी धर्म की स्थापना और उन पापियों के विनाश के लिए किया गया था जिन्होंने कि स्त्री को सरेआम निर्वस्त्र करके प्रिया करने का प्रयास किया था किया था तो आज के युग में जहां चारों तरफ स्त्रियों के अपहरण और उनके उत्पीड़न का प्रयास हो रहे हैं ऐसे में हनुमानजी और अर्जुन की तरह से पापों का के विरुद्ध क्रोध करके को समाप्त करने में समाज और कानून की मदद करनी है
Savaal ye hai ki krodh manushy ke vivek ko kis prakaar nasht karata hai jab manushy kee kaamana poorn nahin hotee tab krodh utpann hota hai aur krodh buddhi ko digbhramit kar deta hai buddhi ke bhramit hone se vivek nasht ho jaata hai aur ant mein is prakaar manushy ka patan hokar vah vinaash ko praapt hota hai jis prakaar do lakshanon se shaareerik rog ke baare mein bata dete hain usee prakaar bhagavaan krshn ne geeta mein varnan kiya hai ki krodh manushy mein rajogun kee adhikata ka soochak hai is prakaar manushy na chaahate hue bhee paap karm ke lie prerit ho jaata hai bhagavaan kee vyaakhya karate hue kaha hai ki isaka kaaran hai rajogun ke sampark mein kaam utpann hota hai jisaka sthaee roop kaamana hai jab manushy kee kaamana poorn nahin hotee to krodh utpann hota hai aur krodh buddhi ko digbhramit kar deta hai buddhi ke bhramit hote hee hone se vivek nasht ho jaata hai aur ant mein is prakaar manushy ka patan ho kar vinaash ko praapt hota hai is prakaar se hota hai ki manushy ka sabase bada shatru krodhee hai jo kaam se paida hota hai kaam kee utpatti ka srot gyaanendriy jaise aankh kaan naak aur man hai kyonki unake dvaara hee manushy sansaar ko anubhav karata hai jisake kaaran kaam jaagrt hota hai indriyon par sanyam mukt ke lie 2 upaay die gae hain pahala aur doosara niyam doosara aur doosara in indriyon ko eeshvar bhakti mein laga dena jis prakaar jain indriyon mein pahale kaam ka nivaas tha vahee indriyaan usake baad eeshvar ko hee dekhenge sunegee tatha anubhav karenge isake alaava prakrti ke gunon tamo aur rajogun se unnati karake tatha gunon ko dhaaran karana rajogun mein manushy ka kaam sarakaar karm ke karake karm phal kee ichchha karata hai aur use vaanchhit phal praapt nahin hota tab vah krodh karata hai isalie satogun ko dhaaran karane ke lie manushy ko karm yogee banana chaahie damoh aur rajogun aayukt krodh vinaash ka kaaran banata hai vaheen par satogun mein kriya ka krodh manushy ko eeshvar ke najadeek le aata hai lanka dahan aur yuddh ke samay hanumaan jee ne bhee kiya tha parantu eeshvar kaary aur paramaarth ke lie kiya tha isee prakaar bhagavaan krshn ke maargadarshan mein krodh arjun ne bhee kiya tha parantu vah krodh bhee dharm kee sthaapana aur un paapiyon ke vinaash ke lie kiya gaya tha jinhonne ki stree ko sareaam nirvastr karake priya karane ka prayaas kiya tha kiya tha to aaj ke yug mein jahaan chaaron taraph striyon ke apaharan aur unake utpeedan ka prayaas ho rahe hain aise mein hanumaanajee aur arjun kee tarah se paapon ka ke viruddh krodh karake ko samaapt karane mein samaaj aur kaanoon kee madad karanee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्रोध मनुष्य के विवेक को किस प्रकार नष्ट करता है?Krodh Manushya Ke Vivek Ko Kis Prakar Nasht Karta Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
0:41
नमस्कार साथियों क्रोध मनुष्य के विवेक को किस प्रकार नष्ट करता है तो साथियों जब मनुष्य की कामना पूर्ण नहीं होती है तब क्रोध उत्पन्न होता है और क्रोध बुद्धि और दिग्भ्रमित कर देता है बुद्धि के भ्रमित होने से विवेक नष्ट हो जाता है साथियों और अंत में इस प्रकार मनुष्य का पतन होकर वह विनाश की ओर प्राप्त होती होने लगता है इस प्रकार सिद्ध होता है कि मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु क्रोधी है जो काम से पैदा होता है साथियों आई हो कि जवाब आपको पसंद आया होगा धन्यवाद
Namaskaar saathiyon krodh manushy ke vivek ko kis prakaar nasht karata hai to saathiyon jab manushy kee kaamana poorn nahin hotee hai tab krodh utpann hota hai aur krodh buddhi aur digbhramit kar deta hai buddhi ke bhramit hone se vivek nasht ho jaata hai saathiyon aur ant mein is prakaar manushy ka patan hokar vah vinaash kee or praapt hotee hone lagata hai is prakaar siddh hota hai ki manushy ka sabase bada shatru krodhee hai jo kaam se paida hota hai saathiyon aaee ho ki javaab aapako pasand aaya hoga dhanyavaad

bolkar speaker
क्रोध मनुष्य के विवेक को किस प्रकार नष्ट करता है?Krodh Manushya Ke Vivek Ko Kis Prakar Nasht Karta Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:33
स्वागत है आपका अपना क्रोध मनुष्य के लिंग के प्रकार नष्ट करता है तो फ्रेंड से जब क्रोध आता है तो इंसान को यह समझ में नहीं आता कि से क्या करना चाहिए कि से नहीं क्या नहीं करना चाहिए उसके विवेक को क्लोज पूरी तरह नष्ट कर देता है और उसकी अच्छा बुरा समझने के लिए समाज है वह बिल्कुल नष्ट हो जाती है और खुद के वशीभूत होकर गए वह सारी जगह ने अपराधी कर देता है और बहुत सारी गलतियां भी खुद के चलते कर देते हैं इसीलिए वह मनुष्य मलिक नष्ट कर देता है धन्यवाद
Svaagat hai aapaka apana krodh manushy ke ling ke prakaar nasht karata hai to phrend se jab krodh aata hai to insaan ko yah samajh mein nahin aata ki se kya karana chaahie ki se nahin kya nahin karana chaahie usake vivek ko kloj pooree tarah nasht kar deta hai aur usakee achchha bura samajhane ke lie samaaj hai vah bilkul nasht ho jaatee hai aur khud ke vasheebhoot hokar gae vah saaree jagah ne aparaadhee kar deta hai aur bahut saaree galatiyaan bhee khud ke chalate kar dete hain iseelie vah manushy malik nasht kar deta hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्रोध मनुष्य के विवेक को किस प्रकार नष्ट करता है?Krodh Manushya Ke Vivek Ko Kis Prakar Nasht Karta Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:24
कृष्णा की क्रोध मनुष्य के विवेक कुछ इस प्रकार नष्ट करता है लेकिन क्रोध में व्यक्ति की सोचने समझने की शक्ति नष्ट हो जाती है विवेक नष्ट हो जाता है क्या सही है क्या गलत है यह नहीं सोच पाता है तो क्रोध के समय वह निर्णय लेते हैं वह बिल्कुल गलत ही लगता है तो विवेक जविरेक नहीं होगा तभी तो जनक तुझे ले लिया जाएगा इसलिए क्रोध मछली विवेक को नष्ट कर देता है
Krshna kee krodh manushy ke vivek kuchh is prakaar nasht karata hai lekin krodh mein vyakti kee sochane samajhane kee shakti nasht ho jaatee hai vivek nasht ho jaata hai kya sahee hai kya galat hai yah nahin soch paata hai to krodh ke samay vah nirnay lete hain vah bilkul galat hee lagata hai to vivek javirek nahin hoga tabhee to janak tujhe le liya jaega isalie krodh machhalee vivek ko nasht kar deta hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • क्रोध अंधा होता है, क्रोध से हानि, क्रोध के प्रभाव
URL copied to clipboard