#जीवन शैली

bolkar speaker

लोग अपने दुख से दुखी नहीं है बल्कि दूसरों के सुख से अधिक दुखी है इस पर आपकी क्या राय है?

Log Apne Dukh Se Dukhi Nahi Hai Balki Dusaro Ke Sukh Se Adhik Dukhee Hai Is Par Aapakee Kya Raay Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
1:15
आरा का प्रश्न है लोग अपने दुख से दुखी नहीं है बल्कि दूसरों के सुख से अधिक दुखी हैं इस पर आपकी क्या राय हैं तो आपको बता देंगे देखिए बहुत ही अच्छा प्रश्न या पर आपने पूछा है प्रश्न पूछने के लिए धन्यवाद और बिल्कुल सही बात है कि आज के समय में जो व्यक्ति है वह इतना ज्यादा दूसरों से ईशा करने लगा है कि उसको दूसरों के जो सुख है उससे उसको इतना दुख हो रहा है जितना अपने दुख से दुखी नहीं है और दूसरा क्या कर रहा है कितनी बड़ी गाड़ी में घूम रहा है कितने बड़े घर में रह रहा है उससे ही शेयर करें आ रहा है और अपने लिए भी हुई चीजें खट्टे करने में जुगत में लगा रहता है बजाय इसके कि उसके लिए क्या चीज सही है क्या उसको करना है इंस्पेक्टर को टाइट वह सिर्फ यही देखता रहता है कि दूसरा कैसे खुश है क्या कर रहा है और मुझे उस से किससे और ज्यादा बेहतर अपना मकान बनाना है अपनी गाड़ी लेनी है कि सब चीजों में हो लगा रहता है तो कोशिश करनी चाहिए कि वे देखो अपने जो जीवन है उसमें सुख तलाश करना चाहिए बजाय दूसरों के सुख को देख कर के दुखी होने के आपकी कह रहे इस बारे में कमेंट सेक्शन अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Aara ka prashn hai log apane dukh se dukhee nahin hai balki doosaron ke sukh se adhik dukhee hain is par aapakee kya raay hain to aapako bata denge dekhie bahut hee achchha prashn ya par aapane poochha hai prashn poochhane ke lie dhanyavaad aur bilkul sahee baat hai ki aaj ke samay mein jo vyakti hai vah itana jyaada doosaron se eesha karane laga hai ki usako doosaron ke jo sukh hai usase usako itana dukh ho raha hai jitana apane dukh se dukhee nahin hai aur doosara kya kar raha hai kitanee badee gaadee mein ghoom raha hai kitane bade ghar mein rah raha hai usase hee sheyar karen aa raha hai aur apane lie bhee huee cheejen khatte karane mein jugat mein laga rahata hai bajaay isake ki usake lie kya cheej sahee hai kya usako karana hai inspektar ko tait vah sirph yahee dekhata rahata hai ki doosara kaise khush hai kya kar raha hai aur mujhe us se kisase aur jyaada behatar apana makaan banaana hai apanee gaadee lenee hai ki sab cheejon mein ho laga rahata hai to koshish karanee chaahie ki ve dekho apane jo jeevan hai usamen sukh talaash karana chaahie bajaay doosaron ke sukh ko dekh kar ke dukhee hone ke aapakee kah rahe is baare mein kament sekshan apanee raay jarur vyakt karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
लोग अपने दुख से दुखी नहीं है बल्कि दूसरों के सुख से अधिक दुखी है इस पर आपकी क्या राय है?Log Apne Dukh Se Dukhi Nahi Hai Balki Dusaro Ke Sukh Se Adhik Dukhee Hai Is Par Aapakee Kya Raay Hai
Dhiraj Gurjar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dhiraj जी का जवाब
Unknown
2:08

bolkar speaker
लोग अपने दुख से दुखी नहीं है बल्कि दूसरों के सुख से अधिक दुखी है इस पर आपकी क्या राय है?Log Apne Dukh Se Dukhi Nahi Hai Balki Dusaro Ke Sukh Se Adhik Dukhee Hai Is Par Aapakee Kya Raay Hai
Dhiraj Gurjar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Dhiraj जी का जवाब
Unknown
2:08

bolkar speaker
लोग अपने दुख से दुखी नहीं है बल्कि दूसरों के सुख से अधिक दुखी है इस पर आपकी क्या राय है?Log Apne Dukh Se Dukhi Nahi Hai Balki Dusaro Ke Sukh Se Adhik Dukhee Hai Is Par Aapakee Kya Raay Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:31
लोग अपने दुख से दुखी नहीं बल्कि दूसरों के सुख से अधिक मुकेश पर आपकी क्या राय है मेरी राय यही है कि ऐसा बहुत जगह होता है लोग यह देखते हैं कि उसको सफल क्यों हो गया भला आदमी के पास पैसे कहां से आएंगे तो इतना खुश क्यों रहता है बल्कि अगर हम ऐसा सोचने लगी कि अरे वह खुश है तो चलो मेरे फायदा ही हैं उसके पास पैसे तो मेरा तो फायदा यह कम से कम हो मेरे घर मांग लेती गणित
Log apane dukh se dukhee nahin balki doosaron ke sukh se adhik mukesh par aapakee kya raay hai meree raay yahee hai ki aisa bahut jagah hota hai log yah dekhate hain ki usako saphal kyon ho gaya bhala aadamee ke paas paise kahaan se aaenge to itana khush kyon rahata hai balki agar ham aisa sochane lagee ki are vah khush hai to chalo mere phaayada hee hain usake paas paise to mera to phaayada yah kam se kam ho mere ghar maang letee ganit

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • जीवन में सुखी कैसे रहे, लोग दुसरो की खुशी से क्यों चिढ़ते है,
URL copied to clipboard