#रिश्ते और संबंध

bolkar speaker

भावनाओ को शब्द देना क्यों जरूरी है?

Bhavnao Ko Shabd Dena Kyo Jaruri Hai
 Nida Rajput       Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए जी का जवाब
Student Computer Science Education
0:57
देखी भावनाओं को शब्द देना इसलिए जरूरी है क्योंकि जो रियालिटी है रियालिटी तो यह है कि जो डिजिटल और ऑनलाइन e-ticket तो और भी तो रो रही हो जाते हैं क्योंकि जो एवीडेंट मतलब जो प्रत्येक तो किसी के साथ किसी का सामना ही नहीं कर रहा है हमारी भाभी कोई नहीं देख रहा है हमारी तो सीलिंग से कोई नहीं देख रहा है किसी वजह से रिटर्न ऑनलाइन प्रोसेस की बचाते कोई हमारी भावनाओं को देखता ही नहीं है हमारी भावना हम दूसरे के सामने तब लाते हैं अपने शब्दों के जरिए सिर्फ हमारे सभी हमारी भावनाओं को रिफ्लेक्ट करते हैं डर जाते हैं लेकिन एक बात का खास तौर से ख्याल रखें जिन शब्दों का चयन करते हैं वह शब्द ऐसे होने चाहिए जिससे किसी की भावनाओं को ठेस ना पहुंचे धन्यवाद
Dekhee bhaavanaon ko shabd dena isalie jarooree hai kyonki jo riyaalitee hai riyaalitee to yah hai ki jo dijital aur onalain ai-tichkait to aur bhee to ro rahee ho jaate hain kyonki jo eveedent matalab jo pratyek to kisee ke saath kisee ka saamana hee nahin kar raha hai hamaaree bhaabhee koee nahin dekh raha hai hamaaree to seeling se koee nahin dekh raha hai kisee vajah se ritarn onalain proses kee bachaate koee hamaaree bhaavanaon ko dekhata hee nahin hai hamaaree bhaavana ham doosare ke saamane tab laate hain apane shabdon ke jarie sirph hamaare sabhee hamaaree bhaavanaon ko riphlekt karate hain dar jaate hain lekin ek baat ka khaas taur se khyaal rakhen jin shabdon ka chayan karate hain vah shabd aise hone chaahie jisase kisee kee bhaavanaon ko thes na pahunche dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
भावनाओ को शब्द देना क्यों जरूरी है?Bhavnao Ko Shabd Dena Kyo Jaruri Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:25
कृष्ण की भावनाओं को शब्द देना क्यों जरूरी है दरअसल भावनाओं को शब्द देना इसलिए जरूरी है क्योंकि भावनाएं मन में मस्तिष्क में बनती है और मिट जाती है जब हम उन्हें शब्द देते हैं जब पेन से कलम से लिखते हैं तो वह काम आती आने वाली पीढ़ी अपने जख्म वीडियो के ऑडियो के माध्यम से 19 शब्द देते हैं तो वह काम आती है दुनिया के इसलिए भावनाओं को समझा देना बहुत जरूरी है खाने का
Krshn kee bhaavanaon ko shabd dena kyon jarooree hai darasal bhaavanaon ko shabd dena isalie jarooree hai kyonki bhaavanaen man mein mastishk mein banatee hai aur mit jaatee hai jab ham unhen shabd dete hain jab pen se kalam se likhate hain to vah kaam aatee aane vaalee peedhee apane jakhm veediyo ke odiyo ke maadhyam se 19 shabd dete hain to vah kaam aatee hai duniya ke isalie bhaavanaon ko samajha dena bahut jarooree hai khaane ka

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • भावनाए क्या होती है, शब्दो को भावनाए मे कैसे पिरोए
URL copied to clipboard