#जीवन शैली

bolkar speaker

इंसान का मन इतना अशांत क्यों रहता है?

Insan Ka Man Itna Ashant Kyo Rahta Hai
Rajendra Malkhat Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Rajendra जी का जवाब
Self student
3:00
नमस्कार दोस्तों आपका प्रश्न है कि इंसान का मन इतना शांत क्यों रहता है दोस्तों इंसान वास्तव में इंसान का मन अशांत रहता है इसके पीछे और शांत रहने का कारण है स्वार्थ व दोस्तों जब व्यक्ति अपने बारे में सोचता है अपने घर के बारे में केवल अपने परिवार के बारे में सोचता रहता है और उसे यह चिंता लगी रहती है कि सबसे ज्यादा कमाऊ सबसे ज्यादा इकट्ठा करूं और इतना करूं कि लोग देखते ही रह जाए यह तो मन की भावना है यह मन में अशांति पैदा करती है कुछ भी काम करते हैं तो संतोष नहीं मिलता है कुछ भी आप परिवारिक घर के प्रति अधिक कितना भी कुछ कर ले लेकिन फिर भी मन अशांत रहेगा क्योंकि हम चाहेंगे कि यदि ऐसा हो जाता तो कितना अच्छा हो जाता है और यह ऐसा हो जाता की भावना कभी हमारी पूरी नहीं होती है क्योंकि इतना हम कहां से लाए दोस्तों जैसा कि कहा जाता है कि संतोष ही परम सुख होता है संतोष रहकर आदमी को जीवन जीना चाहिए प्रिय संतोष धीरज यह तो रखते नहीं है और दिन-ब-दिन हम दिन दूनी और रात चौगुनी कमाई करने की उनके बारे में सोचना चाहते हैं और जब नहीं हो पाती है तो हम इतनी चिंता लगी रहती है इतना मन अशांत हो जाता है गेम्स बनी बारे में सोचते हैं लोग क्या कहेंगे यह तो कुछ नहीं करता और लोगों के बीच में जो कॉन्पिटिशन हो जाता है वह आगे बढ़ गया वह आगे बढ़ गए उन्होंने इतना बड़ा सुंदर मकान खड़ा कर दिया उन्होंने जमीन खरीद ली उन्होंने यह कर दिया वह कर दिया और अब से कुछ नहीं हो पा रहा है या हम खुद ही स्वता ही अपने आप को डांटते फिरते हैं कि तो कुछ नहीं कर सकता और तुझे बहुत कुछ करना है तो इतना सोच कर के वह अभी कर देता है कार्यों में और कई कई बार तो बुरे कार्य भी करना शुरू कर देता है मंकी अशांत मन में अशांति रहने का एक ही कारण है लालच लालच की वजह से मन में आदमी में आसानी रहती है और वह सोचता रहता है दिन भर और वह इस औषधि से परेशान भी रहते हैं तो दोस्तों हमें चाहिए कि जो जितना हमारे पास है उसको धीरे-धीरे आगे बढ़ाएं धीरे धीरे कर्म करते रहे कर्म करेंगे तो हमें जैसा हमसे हो पाएगा हम कुछ करेंगे तो हमारे मन में ऐसा थी भी नहीं रही थी दूसरों से कभी भी कंपेरिजन ना करें कभी भी कंपेयर कोई तुलना ना करें कि यह हम से आगे हैं वह हमसे बड़ा है दोस्तों सबसे ज्यादा जिंदगी का जो मजा आता है होता है खुश रहकर जिले में जो चित्र हमारे पास है उसमें खुश रहकर के जियो लेकिन सबसे ज्यादा अपने परिवार वालों के साथ अपने बच्चों के साथ अपने बूढ़े बुजुर्गों के साथ समय बिताएं ऐसा करने से आप आप सबसे दौलतमंद आदमियों में गिने जाते हैं क्योंकि दोस्तों आपके मन में जरा भी ऐसा ही नहीं होती है और जिसके मन में अशांति नहीं होती वह जीवन भर तक अच्छे से पढ़ो
Namaskaar doston aapaka prashn hai ki insaan ka man itana shaant kyon rahata hai doston insaan vaastav mein insaan ka man ashaant rahata hai isake peechhe aur shaant rahane ka kaaran hai svaarth va doston jab vyakti apane baare mein sochata hai apane ghar ke baare mein keval apane parivaar ke baare mein sochata rahata hai aur use yah chinta lagee rahatee hai ki sabase jyaada kamaoo sabase jyaada ikattha karoon aur itana karoon ki log dekhate hee rah jae yah to man kee bhaavana hai yah man mein ashaanti paida karatee hai kuchh bhee kaam karate hain to santosh nahin milata hai kuchh bhee aap parivaarik ghar ke prati adhik kitana bhee kuchh kar le lekin phir bhee man ashaant rahega kyonki ham chaahenge ki yadi aisa ho jaata to kitana achchha ho jaata hai aur yah aisa ho jaata kee bhaavana kabhee hamaaree pooree nahin hotee hai kyonki itana ham kahaan se lae doston jaisa ki kaha jaata hai ki santosh hee param sukh hota hai santosh rahakar aadamee ko jeevan jeena chaahie priy santosh dheeraj yah to rakhate nahin hai aur din-ba-din ham din doonee aur raat chaugunee kamaee karane kee unake baare mein sochana chaahate hain aur jab nahin ho paatee hai to ham itanee chinta lagee rahatee hai itana man ashaant ho jaata hai gems banee baare mein sochate hain log kya kahenge yah to kuchh nahin karata aur logon ke beech mein jo konpitishan ho jaata hai vah aage badh gaya vah aage badh gae unhonne itana bada sundar makaan khada kar diya unhonne jameen khareed lee unhonne yah kar diya vah kar diya aur ab se kuchh nahin ho pa raha hai ya ham khud hee svata hee apane aap ko daantate phirate hain ki to kuchh nahin kar sakata aur tujhe bahut kuchh karana hai to itana soch kar ke vah abhee kar deta hai kaaryon mein aur kaee kaee baar to bure kaary bhee karana shuroo kar deta hai mankee ashaant man mein ashaanti rahane ka ek hee kaaran hai laalach laalach kee vajah se man mein aadamee mein aasaanee rahatee hai aur vah sochata rahata hai din bhar aur vah is aushadhi se pareshaan bhee rahate hain to doston hamen chaahie ki jo jitana hamaare paas hai usako dheere-dheere aage badhaen dheere dheere karm karate rahe karm karenge to hamen jaisa hamase ho paega ham kuchh karenge to hamaare man mein aisa thee bhee nahin rahee thee doosaron se kabhee bhee kamperijan na karen kabhee bhee kampeyar koee tulana na karen ki yah ham se aage hain vah hamase bada hai doston sabase jyaada jindagee ka jo maja aata hai hota hai khush rahakar jile mein jo chitr hamaare paas hai usamen khush rahakar ke jiyo lekin sabase jyaada apane parivaar vaalon ke saath apane bachchon ke saath apane boodhe bujurgon ke saath samay bitaen aisa karane se aap aap sabase daulatamand aadamiyon mein gine jaate hain kyonki doston aapake man mein jara bhee aisa hee nahin hotee hai aur jisake man mein ashaanti nahin hotee vah jeevan bhar tak achchhe se padho

और जवाब सुनें

bolkar speaker
इंसान का मन इतना अशांत क्यों रहता है?Insan Ka Man Itna Ashant Kyo Rahta Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:46
सोने की इंसान का मन की जाए शांत क्यों रहता है तो इंसान का मन अशांत इसलिए रहता है क्योंकि वे इधर-उधर की बातों पर ज्यादा ध्यान देते हैं अपने घर आने वाली बाधाओं को किसी पैसे नहीं करते हैं इसलिए उनका मन है शांत रहते हैं अगर दिमाग में मन को शांत करने के लिए आप ज्यादा से ज्यादा पानी पिए पानी के शरीर को हाइड्रेट रखने में मदद जरूर देखें और साथ में फायदेमंद भी है क्योंकि आपके शरीर में विषाक्त पदार्थ वसुधा सब निकल जाती है अगर शरीर में ऐश्वर्या निकलेगी तो आप किसी भी कार्य पर ध्यान केंद्रित कर पाएंगे
Sone kee insaan ka man kee jae shaant kyon rahata hai to insaan ka man ashaant isalie rahata hai kyonki ve idhar-udhar kee baaton par jyaada dhyaan dete hain apane ghar aane vaalee baadhaon ko kisee paise nahin karate hain isalie unaka man hai shaant rahate hain agar dimaag mein man ko shaant karane ke lie aap jyaada se jyaada paanee pie paanee ke shareer ko haidret rakhane mein madad jaroor dekhen aur saath mein phaayademand bhee hai kyonki aapake shareer mein vishaakt padaarth vasudha sab nikal jaatee hai agar shareer mein aishvarya nikalegee to aap kisee bhee kaary par dhyaan kendrit kar paenge

bolkar speaker
इंसान का मन इतना अशांत क्यों रहता है?Insan Ka Man Itna Ashant Kyo Rahta Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:19
इंसान का मन इतना शांत क्यों रहता है इंसान का मन अशांत इसलिए रहता है क्योंकि उसकी जो अब आकांक्षा उसकी तमन्ना है उसकी आंखें बहुत ज्यादा होती है और वह जल्द से जल्द उनको पाना चाहता है और फिर वह उसके लिए काम नहीं करता फर्क नहीं लगाता तो होता मन 3 साल से 15 साल चलता है
Insaan ka man itana shaant kyon rahata hai insaan ka man ashaant isalie rahata hai kyonki usakee jo ab aakaanksha usakee tamanna hai usakee aankhen bahut jyaada hotee hai aur vah jald se jald unako paana chaahata hai aur phir vah usake lie kaam nahin karata phark nahin lagaata to hota man 3 saal se 15 saal chalata hai

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मन शांत क्यों नहीं रहता है, मन की शांति कैसे पाएं, मन को शांत रखने का मंत्र
URL copied to clipboard