#undefined

bolkar speaker

क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है?

Kya Yogasan Sirf Ek Sharirik Vyayam Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:17
नापित वाले गई क्या योगासन तो फिर शारीरिक व्यायाम है निश्चित तौर पर योगासन शारीरिक व्यायाम है लेकिन इसको करने से नियमित तौर पर दिया योगासन करेंगे तो निश्चित तौर पर यह भी तय है कि आपको दिमागी सुकून भी मिलेगा आपकी मेंटल हेल्थ भी अच्छी होगी आपका दिन शुभ रहे धन्यवाद
Naapit vaale gaee kya yogaasan to phir shaareerik vyaayaam hai nishchit taur par yogaasan shaareerik vyaayaam hai lekin isako karane se niyamit taur par diya yogaasan karenge to nishchit taur par yah bhee tay hai ki aapako dimaagee sukoon bhee milega aapakee mental helth bhee achchhee hogee aapaka din shubh rahe dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है?Kya Yogasan Sirf Ek Sharirik Vyayam Hai
satish kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए satish जी का जवाब
Student
0:53
हाय फ्रेंड्स क्वेश्चन पूछा गया कि क्या सही होगा संजय होता है और सिर्फ एक शारीरिक बयान होता है तो हमसे जो है शारीरिक ज्ञान वही जो है या सिर्फ एक कारण नहीं बना सकते हैं क्योंकि युवा संघ द्वारा जोड़ता है हमारा शारीरिक विकास के साथ-साथ की मानसिक विकास भी होता है अगर देखा जाए तो हम योगा करके जो होता है हम अपने शरीर को जितना स्वस्थ रखते हैं उतना ही अपने मन को भेजो आता है स्वस्थ रखते हैं कितने ऐसे ही होगा भी होते हैं जिसकी योगा करने से जोड़ता है हमारा मानसिक बल जो होता है प्राप्त होता है और मानसिक स्वस्थ होते हैं हम महसूस करते हैं ज्यादातर लोगों में देखा जाता है कि जिन लोगों में डिप्रेशन की समस्या सामने आती हैं वैसे लोग जो होते हैं योगासन करने की सलाह दिया जाता है क्योंकि वह कसम से जो होता है मनीष के जाता है और मन स्थिर होने के कारण ही जो होता है ना मन स्वस्थ होता है
Haay phrends kveshchan poochha gaya ki kya sahee hoga sanjay hota hai aur sirph ek shaareerik bayaan hota hai to hamase jo hai shaareerik gyaan vahee jo hai ya sirph ek kaaran nahin bana sakate hain kyonki yuva sangh dvaara jodata hai hamaara shaareerik vikaas ke saath-saath kee maanasik vikaas bhee hota hai agar dekha jae to ham yoga karake jo hota hai ham apane shareer ko jitana svasth rakhate hain utana hee apane man ko bhejo aata hai svasth rakhate hain kitane aise hee hoga bhee hote hain jisakee yoga karane se jodata hai hamaara maanasik bal jo hota hai praapt hota hai aur maanasik svasth hote hain ham mahasoos karate hain jyaadaatar logon mein dekha jaata hai ki jin logon mein dipreshan kee samasya saamane aatee hain vaise log jo hote hain yogaasan karane kee salaah diya jaata hai kyonki vah kasam se jo hota hai maneesh ke jaata hai aur man sthir hone ke kaaran hee jo hota hai na man svasth hota hai

bolkar speaker
क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है?Kya Yogasan Sirf Ek Sharirik Vyayam Hai
Er.Awadhesh kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 66
सुनिए Er.Awadhesh जी का जवाब
Unknown
2:50
नहीं क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है तो देखें योगासन को एक सारिक व्यायाम की श्रेणी में डाल सकते हैं लेकिन क्या होता है दोनों का अलग-अलग होता है जो हम व्यायाम करते हैं तो क्या करती हमारे शरीर को क्या करता है कि मांस पेशियां होती है तो होती है होती है हमारे बहुत सारे अंग है जो ध्यान लगाने से क्या होता है काफी तेज हो जाते हैं और उन्हें सांसो को संतुलित करना सिखाया जाता है इसमें हम अपनी सांसो को किस आधार पर लेनी है किस आधार पर छोड़नी है हमारे शरीर को मेडिटेशन मतलब ध्यान लगाने से क्या होगी कि हमारी जो आत्मा होती है हमारा मन घबराता है इससे क्या होता हमें निजात मिलती है लेकिन दोनों का अलग-अलग रूप है लेकिन अगर आप कह सकते हैं कि दोनों एक ही सिक्के के पहलू हैं दोनों की हमें जरूरत होती है बिना हम दोनों के अपने आप सभी को संतुष्ट नहीं कर पाएंगे तुम ही व्यायाम योग आसन होते हमारे शरीर को लचीला बनाता है वही व्यायाम है मांसपेशियों को सख्त बनाता है हमारा व्यायाम करने से मारी तीव्रता और प्रबलता पर जोर होती है जिसे क्यों थे मांस पेशियों को नुकसान भी कई जगह कुछ ऐसे व्यायाम है जो पहुंच जाता है लेकिन हमें योग जो होती है धीमी गति से स्टार्ट होती है लेकिन सहन शक्ति बढ़ाता है हमारी जो भी कमजोर परी के समय शरीर काम करते हो उसको क्या होता है सुचारु रुप से एक्टिव करता है उसे प्रेरित करता है कि आप भी अपनी उनके शरीर में जाओ और अपने अंकुश सही तरीके से काम कराओ जिससे कि उन्हें और एक्टिविटी या करने में आसान होगा क्योंकि जब आप व्यायाम करते हैं तो आपकी पाचन शक्ति तेज हो जाती आपको भूख लगती है आपकी धीरे-धीरे आपकी आपके शरीर में बहुत ज्यादा एनर्जी मिलते हैं तो बहुत सारे सी चीज है जो हमें बयां हमसे मिलते हैं और योग से भी मिलते हैं लेकिन अगर देखा जाए तो योग जो है एक अध्यात्मिक प्रक्रिया है जिसमें हम शरीर मन और आत्मा को एक साथ लाने का काम करते हैं जो हम अपनी योगा से नहीं कर पाएंगे लेकिन हां योगा में कुछ ऐसी चीज है जो हम अपने शरीर को एक जगह फिट करके हमें यूं कह सकते हैं जो कि हमारी शरीर मन आत्मा को एक जगह स्थिर कर सकते हैं और उसी साथ एक साथ काम करने के लिए हम प्रेरित कर सकते हैं इससे क्या होती हमारी प्रक्रिया और धारणा होती है हमारी एक्टिव होती है उसके साथ साथ हम कई जगह देखे हैं कि अपने हिंदू धर्म और जैन धर्म और बौद्ध धर्म हो इसमें ध्यान प्रक्रिया से संबंधित है और इसी को हम कुछ लोग बयान के रूप में इस्तेमाल करते हैं कुछ लोग योगासन के रूप में इस्तेमाल करते हैं जैसे जैसे जिनको अपना समझ होती है अपने हिसाब से वह कर लेते लेकिन देखा जाए तो दोनों एक ही सिक्के के पहलू है व्यायाम और योग योग दोनों भी हमारे शरीर को सुचारू रूप से काम कराने के लिए एक्टिव करते हैं आई जरूरी है
Nahin kya yogaasan sirph ek shaareerik vyaayaam hai to dekhen yogaasan ko ek saarik vyaayaam kee shrenee mein daal sakate hain lekin kya hota hai donon ka alag-alag hota hai jo ham vyaayaam karate hain to kya karatee hamaare shareer ko kya karata hai ki maans peshiyaan hotee hai to hotee hai hotee hai hamaare bahut saare ang hai jo dhyaan lagaane se kya hota hai kaaphee tej ho jaate hain aur unhen saanso ko santulit karana sikhaaya jaata hai isamen ham apanee saanso ko kis aadhaar par lenee hai kis aadhaar par chhodanee hai hamaare shareer ko mediteshan matalab dhyaan lagaane se kya hogee ki hamaaree jo aatma hotee hai hamaara man ghabaraata hai isase kya hota hamen nijaat milatee hai lekin donon ka alag-alag roop hai lekin agar aap kah sakate hain ki donon ek hee sikke ke pahaloo hain donon kee hamen jaroorat hotee hai bina ham donon ke apane aap sabhee ko santusht nahin kar paenge tum hee vyaayaam yog aasan hote hamaare shareer ko lacheela banaata hai vahee vyaayaam hai maansapeshiyon ko sakht banaata hai hamaara vyaayaam karane se maaree teevrata aur prabalata par jor hotee hai jise kyon the maans peshiyon ko nukasaan bhee kaee jagah kuchh aise vyaayaam hai jo pahunch jaata hai lekin hamen yog jo hotee hai dheemee gati se staart hotee hai lekin sahan shakti badhaata hai hamaaree jo bhee kamajor paree ke samay shareer kaam karate ho usako kya hota hai suchaaru rup se ektiv karata hai use prerit karata hai ki aap bhee apanee unake shareer mein jao aur apane ankush sahee tareeke se kaam karao jisase ki unhen aur ektivitee ya karane mein aasaan hoga kyonki jab aap vyaayaam karate hain to aapakee paachan shakti tej ho jaatee aapako bhookh lagatee hai aapakee dheere-dheere aapakee aapake shareer mein bahut jyaada enarjee milate hain to bahut saare see cheej hai jo hamen bayaan hamase milate hain aur yog se bhee milate hain lekin agar dekha jae to yog jo hai ek adhyaatmik prakriya hai jisamen ham shareer man aur aatma ko ek saath laane ka kaam karate hain jo ham apanee yoga se nahin kar paenge lekin haan yoga mein kuchh aisee cheej hai jo ham apane shareer ko ek jagah phit karake hamen yoon kah sakate hain jo ki hamaaree shareer man aatma ko ek jagah sthir kar sakate hain aur usee saath ek saath kaam karane ke lie ham prerit kar sakate hain isase kya hotee hamaaree prakriya aur dhaarana hotee hai hamaaree ektiv hotee hai usake saath saath ham kaee jagah dekhe hain ki apane hindoo dharm aur jain dharm aur bauddh dharm ho isamen dhyaan prakriya se sambandhit hai aur isee ko ham kuchh log bayaan ke roop mein istemaal karate hain kuchh log yogaasan ke roop mein istemaal karate hain jaise jaise jinako apana samajh hotee hai apane hisaab se vah kar lete lekin dekha jae to donon ek hee sikke ke pahaloo hai vyaayaam aur yog yog donon bhee hamaare shareer ko suchaaroo roop se kaam karaane ke lie ektiv karate hain aaee jarooree hai

bolkar speaker
क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है?Kya Yogasan Sirf Ek Sharirik Vyayam Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:30
स्वागत है आपका पत्र लिखकर योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है तो फ्रेंड से युवा योगासन शारीरिक एवं के साथ-साथ एक मानसिक व्यायाम भी है क्योंकि हम सभी कभी मैं हम होता ही होगा से और हमारे दिमाग का भी होता है मेरा मंदिर शांत होता है जैसे हम ब्राह्मण करते हैं ओम का जाप करते हैं मेडिटेशन करते हैं तो हमारा मन भी इसे शांत होता है तो शायरी कोयल के साथ-साथ यह हमारे मन को भी शांत करता है धन्यवाद
Svaagat hai aapaka patr likhakar yogaasan sirph ek shaareerik vyaayaam hai to phrend se yuva yogaasan shaareerik evan ke saath-saath ek maanasik vyaayaam bhee hai kyonki ham sabhee kabhee main ham hota hee hoga se aur hamaare dimaag ka bhee hota hai mera mandir shaant hota hai jaise ham braahman karate hain om ka jaap karate hain mediteshan karate hain to hamaara man bhee ise shaant hota hai to shaayaree koyal ke saath-saath yah hamaare man ko bhee shaant karata hai dhanyavaad

bolkar speaker
क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है?Kya Yogasan Sirf Ek Sharirik Vyayam Hai
Meghsinghchouhan Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Meghsinghchouhan जी का जवाब
student
0:48
सवाल है कि क्या योगासन की अपेक्षा लिरिक गया है तो क्या आप आसन चित्र को स्थित रखने वाले तथा सुख देने वाले बैठक के प्रकार को आसन कहते हैं तो आज तक का मुख्य उद्देश्य शरीर में माल का नाश करना आता है शरीर सेमलिया दूषित विकारों के नष्ट हो जाने से शरीर व मन की सत्ता का ख्वाब होते हैं शांति और स्वस्थ लाभ मिलता है इसलिए शरीर मन और बुद्धि की सहायता से आत्मा को संसार के बंधनों से योगा अभ्यास द्वारा मुक्ति मुक्त कर सकता है शरीर ब्रह्माचार्य ब्रह्मांड का सूक्ष्म रूप से आधे शरीर के स्वस्थ रहने पर मन और आत्मा उन्हें संतोष मिलते हैं
Savaal hai ki kya yogaasan kee apeksha lirik gaya hai to kya aap aasan chitr ko sthit rakhane vaale tatha sukh dene vaale baithak ke prakaar ko aasan kahate hain to aaj tak ka mukhy uddeshy shareer mein maal ka naash karana aata hai shareer semaliya dooshit vikaaron ke nasht ho jaane se shareer va man kee satta ka khvaab hote hain shaanti aur svasth laabh milata hai isalie shareer man aur buddhi kee sahaayata se aatma ko sansaar ke bandhanon se yoga abhyaas dvaara mukti mukt kar sakata hai shareer brahmaachaary brahmaand ka sookshm roop se aadhe shareer ke svasth rahane par man aur aatma unhen santosh milate hain

bolkar speaker
क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है?Kya Yogasan Sirf Ek Sharirik Vyayam Hai
Trilok Sain Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Trilok जी का जवाब
Motivational Speaker Public Speaker Life Coach Youtuber
0:22
कस्बे के योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है हां योगासन एग्जाम है लेकिन उस सरल तरीके से और तरीके से होते हैं जिससे शरीर के मतलब विशेष अंगों को फायदा पहुंचाया जाता है वह मानसिक आंतरिक व्यायाम है जो आंतरिक मजबूती देते हैं
Kasbe ke yogaasan sirph ek shaareerik vyaayaam hai haan yogaasan egjaam hai lekin us saral tareeke se aur tareeke se hote hain jisase shareer ke matalab vishesh angon ko phaayada pahunchaaya jaata hai vah maanasik aantarik vyaayaam hai jo aantarik majabootee dete hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • योग क्या है, आसन और व्यायाम, आसन और प्राणायाम
  • योग क्या है, आसन और व्यायाम, आसन और प्राणायाम
  • क्या योगासन सिर्फ एक शारीरिक व्यायाम है, योगासन क्या है
URL copied to clipboard