#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

संत के नाम पर बनाए गए पंथ अक्सर उस संत की सीख के विपरीत क्यों चलते हैं?

Sant Ke Naam Par Banae Gae Panth Aksar Us Sant Kee Seekh Ke Vipreet Kyon Chalate Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:34
नाम पर बनाई दीपक सर उस संत गिरी के विपरीत के चलते हैं हमारा सदस्य होता है जिसने हमारे जो भी वंश की उत्पत्ति हुई उस के माध्यम से रिचार्ज मारने वाले बहुत ज्यादा होते हैं इनके विचार में कोई सुधार करना चाहता है उस पंत के अंदर यह भी लागू हो जाते हैं गौतम बुद्ध ने मूर्ति पूजा और कई प्रकार की ज्योत बाद में बैठ गए अलग-अलग मंत्रों के अंदर जा कर दें उन्होंने क्या किया उन्होंने मूर्ति पूजा कर दिया और अब धीरे-धीरे यह भी बात करें संत समुदाय को लेकर के इसके अंदर सुधार करना चाहिए करो सुधार की वजह से उसकी खाक हो जाती है आपको पता है तो पहले ही शासन चलता था परंतु धीरे-धीरे उसके बाद देते हैं गुलामी का दौर चला दे जो आजादी है वह देशवासियों कृष्ण ने समाजवादी समाजवादी भी जोते अपनी बातों को संतुष्ट नहीं हुए तो उन्होंने भी साम्यवादी विचारधारा का एक और धमाका सुधार करना दोस्तों यही कारण है कि जोशी
Naam par banaee deepak sar us sant giree ke vipareet ke chalate hain hamaara sadasy hota hai jisane hamaare jo bhee vansh kee utpatti huee us ke maadhyam se richaarj maarane vaale bahut jyaada hote hain inake vichaar mein koee sudhaar karana chaahata hai us pant ke andar yah bhee laagoo ho jaate hain gautam buddh ne moorti pooja aur kaee prakaar kee jyot baad mein baith gae alag-alag mantron ke andar ja kar den unhonne kya kiya unhonne moorti pooja kar diya aur ab dheere-dheere yah bhee baat karen sant samudaay ko lekar ke isake andar sudhaar karana chaahie karo sudhaar kee vajah se usakee khaak ho jaatee hai aapako pata hai to pahale hee shaasan chalata tha parantu dheere-dheere usake baad dete hain gulaamee ka daur chala de jo aajaadee hai vah deshavaasiyon krshn ne samaajavaadee samaajavaadee bhee jote apanee baaton ko santusht nahin hue to unhonne bhee saamyavaadee vichaaradhaara ka ek aur dhamaaka sudhaar karana doston yahee kaaran hai ki joshee

और जवाब सुनें

bolkar speaker
संत के नाम पर बनाए गए पंथ अक्सर उस संत की सीख के विपरीत क्यों चलते हैं?Sant Ke Naam Par Banae Gae Panth Aksar Us Sant Kee Seekh Ke Vipreet Kyon Chalate Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:49
नमस्कार दोस्तों न्यूज़ ने पूछा संत के नाम पर बनाकर पंत अक्सर उस संस्कृति के विपरीत क्यों जलते हैं देखिए इस चीज के बारे में आपको बताना चाहूंगा जब कोई भी संत महात्मा किसी नेम और किसी की जो के बारे में लिखता है जो किस चीजों के बारे में कोई रूल सिंपलीमेंट करता है तो उस समय तक तो बहुत अच्छी तरह से काम कर रहे होते हैं लेकिन जब उनके बाद जब कोई चीज का दान करता तो होता क्या कि हर इंसान की सोच हर इंसान की इच्छा जो है अलग-अलग होती है उसी देश पर जब इंसान जो अपने मतलब के लिए उन चीजों को मॉडल स्टेशन करना शुरू कर देता है जाने की चीजों में चेंज करना शुरू करता क्योंकि उन चेंज ईश्वर से उनको फायदे हैं और अगर पहले के बनाने पंखों में जो है कुछ ऐसी रिसेट कंस्ट्रक्शन है जिससे उनको तकलीफ हो रही है तो उनको चेंज कर देते हैं ताकि उनको उस चीज का कोई भी सामना ना करना पड़े और उनके लिए हर चीज है आसान हो जाए तो उसकी वजह से जो है के विपरीत चलना शुरू हो जाता है जिसके बहुत ज्यादा उल्टे प्रभाव होना शुरू हो जाते हैं जो कि उन पर विश्वास रखने के प्रति भी जो है इससे पैदा करती है ज्योतिष उस रास्ते पर चल रहे हैं तो उनके लिए भी वह जो है प्रॉब्लम क्रिएट करेंगे और दोनों का आपस में जो हम टकराएंगे तब उस चीज का बहुत बुरा परिणाम है तो निकलता है और मौसी के चलते ही जो है आगे जाकर एक दूसरों में टकराव पैदा होते हैं तो दूसरी सोच होने की वजह से दूसरा नजरिया होने की वजह से दूसरी इच्छाएं होने की वजह से जो है उनके विपरीत दिशा में चलना शुरू हो जाते हैं क्योंकि हर इंसान की सोच एकदम एक जैसी नहीं होती है इसकी वजह से जो है विपरीत दिशा में चलना शुरू हो जाता है आशा करता हूं आपको के सवाल का जवाब मिल गया को लाइक और सब्सक्राइब करें
Namaskaar doston nyooz ne poochha sant ke naam par banaakar pant aksar us sanskrti ke vipareet kyon jalate hain dekhie is cheej ke baare mein aapako bataana chaahoonga jab koee bhee sant mahaatma kisee nem aur kisee kee jo ke baare mein likhata hai jo kis cheejon ke baare mein koee rool simpaleement karata hai to us samay tak to bahut achchhee tarah se kaam kar rahe hote hain lekin jab unake baad jab koee cheej ka daan karata to hota kya ki har insaan kee soch har insaan kee ichchha jo hai alag-alag hotee hai usee desh par jab insaan jo apane matalab ke lie un cheejon ko modal steshan karana shuroo kar deta hai jaane kee cheejon mein chenj karana shuroo karata kyonki un chenj eeshvar se unako phaayade hain aur agar pahale ke banaane pankhon mein jo hai kuchh aisee riset kanstrakshan hai jisase unako takaleeph ho rahee hai to unako chenj kar dete hain taaki unako us cheej ka koee bhee saamana na karana pade aur unake lie har cheej hai aasaan ho jae to usakee vajah se jo hai ke vipareet chalana shuroo ho jaata hai jisake bahut jyaada ulte prabhaav hona shuroo ho jaate hain jo ki un par vishvaas rakhane ke prati bhee jo hai isase paida karatee hai jyotish us raaste par chal rahe hain to unake lie bhee vah jo hai problam kriet karenge aur donon ka aapas mein jo ham takaraenge tab us cheej ka bahut bura parinaam hai to nikalata hai aur mausee ke chalate hee jo hai aage jaakar ek doosaron mein takaraav paida hote hain to doosaree soch hone kee vajah se doosara najariya hone kee vajah se doosaree ichchhaen hone kee vajah se jo hai unake vipareet disha mein chalana shuroo ho jaate hain kyonki har insaan kee soch ekadam ek jaisee nahin hotee hai isakee vajah se jo hai vipareet disha mein chalana shuroo ho jaata hai aasha karata hoon aapako ke savaal ka javaab mil gaya ko laik aur sabsakraib karen

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • संत कौन होते है, संतो की क्या उपाधि होती है, संतो सें क्या सिखने को मिलता है
URL copied to clipboard