#टेक्नोलॉजी

Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:28
किशोरिया हमेशा ही हो रही क्यों घूमती है इसके साथ कौन सा वैज्ञानिक तर्क जुड़ा हुआ है दोस्तों हमारे पूर्वजों के समय में एक ही गाड़ी थी और वो घड़ी थी सॉरी वैसे परछाई के सारे अंदाजा लगा मिस्र के लोगों ने प्रसाद के समय का पता लगाने का तरीका इजाद किया था लेकिन रोड छतरपुर उस मैटर को रास्ते और उसकी परछाई के सारे जगह का पता लगाते हैं प्राचीन समय में जो लोग उत्तरी गोलार्ध में रहते थे उन्होंने ही लॉक सिस्टम बनाया था लेकिन उन लोगों को अपने पंडाल में खड़े होने पर उत्तरी गोलार्ध से सूर्य पश्चिम से पूर्व की ओर जाता प्रतीत होता था परंतु ऐसा नहीं था उत्तरी गोलार्ध के लोगों ने प्रसाद के साथ समय देखने की शुरुआत कब से प्रोफाइल सिस्टम पश्चिम से पूर्व की ओर चल रहा है अगर दक्षिण पूर्व पश्चिम करने वाली क्लॉक कोई सिस्टम याद करते तो शायद आज हमारी गाड़ी अभी दूसरी दिशा की ओर दौड़ रही होती क्योंकि दक्षिणी गोलार्ध के आसमान का सूर्य पश्चिम से पूर्व की दिशा की ओर बढ़ता दिखाई देता है और उत्तरी गोलार्ध पश्चिम से पूर्व दिशा में तो यही कारण है कि हमारी जोगणिया है वह इस और जयंत झुकी हुई है यही इसका करके क्योंकि हमने अनुसरण किया है सूर्य का धन्यवाद
Kishoriya hamesha hee ho rahee kyon ghoomatee hai isake saath kaun sa vaigyaanik tark juda hua hai doston hamaare poorvajon ke samay mein ek hee gaadee thee aur vo ghadee thee soree vaise parachhaee ke saare andaaja laga misr ke logon ne prasaad ke samay ka pata lagaane ka tareeka ijaad kiya tha lekin rod chhatarapur us maitar ko raaste aur usakee parachhaee ke saare jagah ka pata lagaate hain praacheen samay mein jo log uttaree golaardh mein rahate the unhonne hee lok sistam banaaya tha lekin un logon ko apane pandaal mein khade hone par uttaree golaardh se soory pashchim se poorv kee or jaata prateet hota tha parantu aisa nahin tha uttaree golaardh ke logon ne prasaad ke saath samay dekhane kee shuruaat kab se prophail sistam pashchim se poorv kee or chal raha hai agar dakshin poorv pashchim karane vaalee klok koee sistam yaad karate to shaayad aaj hamaaree gaadee abhee doosaree disha kee or daud rahee hotee kyonki dakshinee golaardh ke aasamaan ka soory pashchim se poorv kee disha kee or badhata dikhaee deta hai aur uttaree golaardh pashchim se poorv disha mein to yahee kaaran hai ki hamaaree joganiya hai vah is aur jayant jhukee huee hai yahee isaka karake kyonki hamane anusaran kiya hai soory ka dhanyavaad

और जवाब सुनें

Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
2:55
हेलो फ्रेंड्स नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है घड़ी की सुई हमेशा दाएं और ही क्यों घूमती है इसके साथ कौन सा वैज्ञानिक तर्क जुड़ा है देखे फ्रेंड आपका जो क्वेश्चन है बहुत ही लाजवाब है इसका उत्तर देने से पूर्व में आप सभी को थोड़ा सा बचपन की दुनिया में ले जाना चाहता हूं दिखे फ्रेंड जब हम क्लास में काफी चेक करवानी होती थी तो समय बहुत देरी से जो है चलने लगता था घड़ी की सुई ऊपर ही हमारा ध्यान रहता था अक्षर मन में ऐसा लगा रहता था कि कि इस सुई को एक रस्सी से अपने कंधे से बादलों और फिर बहुत तेजी से दौड़ हो इस दौड़ से शायद सुई की तेज हुई भी तेज हो जाए और यह मेरे अतीत की जेब से निकली हुई फ्रेंड्स एक कैब यादें हैं अरे के पास समय को लेकर अलग-अलग तरह की यादें होती है फ्रेंड और हमेशा आपने देखा होगा कि घड़ी की सुई एक ही दिशा ई और बड़ी रहती है यानी समय एक ही दिशा की ओर बढ़ता है इसके पीछे भी कुछ कारण है और मैं उन्हीं कार्यों को आपके सामने रखने जा रहा हूं फ्रेंड फ्रेंड हमारे पूर्वज के समय में एक ही खड़ी थी वह किस सूर्य वैसे तो परछाई के सहारे समय का अंदाजा लगाया करते थे मिस्र के लोगों ने परछाई के जरिए समय का पता लगाने का तरीका जो है याद किया था लेकिन ग्रीक लोगों ने परछाई से पहले भी एक राज के साथ समय का पता लगाने की शुरुआत की थी वह सत्ता के उस मैटेलकोर रखते थे और उसकी परछाई जहां तक जाती थी वहां तक उसको देखकर वह समय का पता लगा देते प्राचीन समय में जो लोग उत्तरी गोलार्ध में रहते थे उन्होंने क्लाकवाइज सिस्टम बनाया था लेकिन उन लोगों को अपने सन डायल में खड़े होने पर उतरी गोलार्ध से सूर्य पश्चिम से पूर्व की ओर जाता प्रतीत होता था परंतु ऐसा नहीं था उत्तरी गोलार्ध के लोगों ने ही परछाई के साथ समय देखने की शुरुआत की थी तब से क्लॉक वाइज सिस्टम पश्चिम से पूर्व की ओर चल रहा है अगर दक्षिण गोलार्ध में रह रहे लोग इसे लेकर पहल करते तो शायद पूर्व से पश्चिम की ओर चलने वाला क्लॉक वाइज सिस्टम इजाज करते तो शायद आज हमारी घड़ी भी दूसरी दिशा की ओर दौड़ रही होती क्योंकि दक्षिण गोलार्ध के आसमान का सूर्य जो है वह पश्चिम से पूर्व की दिशा की ओर बढ़ता है दिखता है और उत्तरी गोलार्ध से पश्चिम से पूर्व दिशा में अगर जवाब पसंद आए फ्रेंड तो आपका एक लाइक जरुर चाहिए फ्रेंड और कमेंट करके जरूर बताइएगा फ्रेंड की यह जवाब आपको कैसा लगा तो आशा फ्रेंड की आप सभी को यह जवाब पसंद आया होगा धन्यवाद
Helo phrends namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai ghadee kee suee hamesha daen aur hee kyon ghoomatee hai isake saath kaun sa vaigyaanik tark juda hai dekhe phrend aapaka jo kveshchan hai bahut hee laajavaab hai isaka uttar dene se poorv mein aap sabhee ko thoda sa bachapan kee duniya mein le jaana chaahata hoon dikhe phrend jab ham klaas mein kaaphee chek karavaanee hotee thee to samay bahut deree se jo hai chalane lagata tha ghadee kee suee oopar hee hamaara dhyaan rahata tha akshar man mein aisa laga rahata tha ki ki is suee ko ek rassee se apane kandhe se baadalon aur phir bahut tejee se daud ho is daud se shaayad suee kee tej huee bhee tej ho jae aur yah mere ateet kee jeb se nikalee huee phrends ek kaib yaaden hain are ke paas samay ko lekar alag-alag tarah kee yaaden hotee hai phrend aur hamesha aapane dekha hoga ki ghadee kee suee ek hee disha ee aur badee rahatee hai yaanee samay ek hee disha kee or badhata hai isake peechhe bhee kuchh kaaran hai aur main unheen kaaryon ko aapake saamane rakhane ja raha hoon phrend phrend hamaare poorvaj ke samay mein ek hee khadee thee vah kis soory vaise to parachhaee ke sahaare samay ka andaaja lagaaya karate the misr ke logon ne parachhaee ke jarie samay ka pata lagaane ka tareeka jo hai yaad kiya tha lekin greek logon ne parachhaee se pahale bhee ek raaj ke saath samay ka pata lagaane kee shuruaat kee thee vah satta ke us maitelakor rakhate the aur usakee parachhaee jahaan tak jaatee thee vahaan tak usako dekhakar vah samay ka pata laga dete praacheen samay mein jo log uttaree golaardh mein rahate the unhonne klaakavaij sistam banaaya tha lekin un logon ko apane san daayal mein khade hone par utaree golaardh se soory pashchim se poorv kee or jaata prateet hota tha parantu aisa nahin tha uttaree golaardh ke logon ne hee parachhaee ke saath samay dekhane kee shuruaat kee thee tab se klok vaij sistam pashchim se poorv kee or chal raha hai agar dakshin golaardh mein rah rahe log ise lekar pahal karate to shaayad poorv se pashchim kee or chalane vaala klok vaij sistam ijaaj karate to shaayad aaj hamaaree ghadee bhee doosaree disha kee or daud rahee hotee kyonki dakshin golaardh ke aasamaan ka soory jo hai vah pashchim se poorv kee disha kee or badhata hai dikhata hai aur uttaree golaardh se pashchim se poorv disha mein agar javaab pasand aae phrend to aapaka ek laik jarur chaahie phrend aur kament karake jaroor bataiega phrend kee yah javaab aapako kaisa laga to aasha phrend kee aap sabhee ko yah javaab pasand aaya hoga dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • घड़ी कैसे काम करतीं है, घड़ी का निर्माण किसने किया
  • घड़ी की सुई की गति, घड़ी की सुई का आवर्तकाल होगा
URL copied to clipboard