#जीवन शैली

bolkar speaker

जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या वह जीवन को संतुलित रख पाते हैं?

Jo Log Man Maar Kar Jite Hai Kya Vah Jiwan Ko Santulit Rakh Pate Hai
Raghvendra  Tiwari Pandit Ji Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Raghvendra जी का जवाब
Unknown
3:01
हेलो फ्रेंड नमस्कार जैसा कि आपका प्रश्न है जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या वह जीवन को संतुलित रख पाते हैं जी नहीं फ्रेंड जो लोग मन मार के जीते हैं वास्तव में वह जिंदगी क्या चीज है जिंदगी में क्या हो सकता है क्या आनंद है उसकी पौष्टिकता में आनंद की प्राप्ति नहीं कर पाते हैं रीजन यह उतर रेंट कि कहीं कहीं कभी किसी की यहां जो है है इन सब चीजों का अभाव होता है कोई जो है है किसी को रुपए पैसे का भाव होता है किसी को परिवार का भाव होता है फ्रेंड तो कंडीशन कुछ अलग अलग होती है तो कुछ लोग इस तरह से नहीं कर पाते लेकिन फ्रेंड कुछ लोगों के पास सरोज सुख संपत्ति होने के बावजूद भी वह नहीं करते हैं लेकिन उसे फ्रेंड अलग कहा जाता है उसे कंजूस कहा जाता है उसे जो है इस श्रेणी में नहीं रखा जाता मन मार कर जीने वाला व्यक्ति को होता है फ्रेंड जैसे कि माली जी कोई व्यक्ति है और उसका मन कह दिया कि आज हम मीठा खाएंगे लेकिन वह मीठा ना खा कर के बहुत ही तलब लगी उसे मीठा खाने की लेकिन वह मीठा नहीं खाया उसने सोचा कि मीठा खाने से बढ़िया है हम अपने कुछ पैसे बचा ले और हमारे भविष्य में काम आएगा तो फ्रेंड कहीं ना कहीं वह है जो होता है वह देख सकते हैं कि कुछ कंडीशन है ऐसी होती हैं जो इंसान को मन मारने पर मजबूर कर देती है नहीं तो फ्रेंड हमें नहीं लगता कोई ऐसा इंसान होगा जो उसका मंजू करें और वह प्राप्त ना कर पाए तो फ्रेंड कहीं न कहीं मुझे यह चीजें लगती है कि अगर कोई इंसान मर मर के जी रहा है तो उसके पीछे उसका बहुत बड़ा एक कारण है उसकी योग्यता है कि वह उस चीज को लेने में उस चीज को करने में असमर्थ जब वह असमर्थ होता सामर्थ वान होता तो वह मन मार कर कभी नहीं जीता प्रेम और हम उसकी परिस्थिति बसी कहेंगे फ्रेंड की वह जो है उस कारण से जो उसकी जो परिस्थिति हुई रही हो उस कारण से पहला ऐसा जो आनंद है वह पूरी तरीके से नहीं ले पाता है तो आशा है फ्रेंड कि आप सभी को यह जानकारी पसंद आई होगी धन्यवाद
Helo phrend namaskaar jaisa ki aapaka prashn hai jo log man maar kar jeete hain kya vah jeevan ko santulit rakh paate hain jee nahin phrend jo log man maar ke jeete hain vaastav mein vah jindagee kya cheej hai jindagee mein kya ho sakata hai kya aanand hai usakee paushtikata mein aanand kee praapti nahin kar paate hain reejan yah utar rent ki kaheen kaheen kabhee kisee kee yahaan jo hai hai in sab cheejon ka abhaav hota hai koee jo hai hai kisee ko rupe paise ka bhaav hota hai kisee ko parivaar ka bhaav hota hai phrend to kandeeshan kuchh alag alag hotee hai to kuchh log is tarah se nahin kar paate lekin phrend kuchh logon ke paas saroj sukh sampatti hone ke baavajood bhee vah nahin karate hain lekin use phrend alag kaha jaata hai use kanjoos kaha jaata hai use jo hai is shrenee mein nahin rakha jaata man maar kar jeene vaala vyakti ko hota hai phrend jaise ki maalee jee koee vyakti hai aur usaka man kah diya ki aaj ham meetha khaenge lekin vah meetha na kha kar ke bahut hee talab lagee use meetha khaane kee lekin vah meetha nahin khaaya usane socha ki meetha khaane se badhiya hai ham apane kuchh paise bacha le aur hamaare bhavishy mein kaam aaega to phrend kaheen na kaheen vah hai jo hota hai vah dekh sakate hain ki kuchh kandeeshan hai aisee hotee hain jo insaan ko man maarane par majaboor kar detee hai nahin to phrend hamen nahin lagata koee aisa insaan hoga jo usaka manjoo karen aur vah praapt na kar pae to phrend kaheen na kaheen mujhe yah cheejen lagatee hai ki agar koee insaan mar mar ke jee raha hai to usake peechhe usaka bahut bada ek kaaran hai usakee yogyata hai ki vah us cheej ko lene mein us cheej ko karane mein asamarth jab vah asamarth hota saamarth vaan hota to vah man maar kar kabhee nahin jeeta prem aur ham usakee paristhiti basee kahenge phrend kee vah jo hai us kaaran se jo usakee jo paristhiti huee rahee ho us kaaran se pahala aisa jo aanand hai vah pooree tareeke se nahin le paata hai to aasha hai phrend ki aap sabhee ko yah jaanakaaree pasand aaee hogee dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या वह जीवन को संतुलित रख पाते हैं?Jo Log Man Maar Kar Jite Hai Kya Vah Jiwan Ko Santulit Rakh Pate Hai
umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:49
जो लोग मन मार कर देते हैं प्यार व जीवन के संतुलित रख सकते हैं इस सवाल है आपका मैं बता दूं मन मार कर गिरने से जीवन को संतुलित रखने का कोई भी का उचित नहीं है मन मार कर देना एक गलत जीवनशैली है जिंदगी जीने के लिए रिमाइंड कर देना चाहिए खुशहाल जिंदगी जीना चाहिए मन मार के जीने से आप उचित हो जाते हैं और कुंठा में अब कोई व्यक्ति का नाम गलत या सही का फोन नहीं उठा सकते तो कितने मधीरा यही है कि आप खुशहाल रहें फ्री माइंड हो कर दीजिए वही असली
Jo log man maar kar dete hain pyaar va jeevan ke santulit rakh sakate hain is savaal hai aapaka main bata doon man maar kar girane se jeevan ko santulit rakhane ka koee bhee ka uchit nahin hai man maar kar dena ek galat jeevanashailee hai jindagee jeene ke lie rimaind kar dena chaahie khushahaal jindagee jeena chaahie man maar ke jeene se aap uchit ho jaate hain aur kuntha mein ab koee vyakti ka naam galat ya sahee ka phon nahin utha sakate to kitane madheera yahee hai ki aap khushahaal rahen phree maind ho kar deejie vahee asalee

bolkar speaker
जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या वह जीवन को संतुलित रख पाते हैं?Jo Log Man Maar Kar Jite Hai Kya Vah Jiwan Ko Santulit Rakh Pate Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:37
जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या भाई जीवन को संतुलित रख पाते हैं तू भी जीवन को संतुलित रख पाते पर वह अपनी इच्छाओं को कभी पूरा नहीं कर पाते इसी दुख के साथ बिजी थे रहते हैं और एक भी अंत हो जाता है उनका पूरी मोस्टली उन लोगों के साथ होता है जो मिडिल क्लास के हैं या फिर महिलाएं हैं कामकाजी महिलाएं हैं ग्रहणी हैं और उनके पति आश्रम के सामने मेंबरों की ज्यादा बात सुनते नहीं है ऐसे लोगों को अपनी इच्छा मारकर जीना पड़ता है संतुलन बनाए तो रहती पर उनके चेहरे पर वह मुस्कान नहीं देखी जो होनी चाहिए
Jo log man maar kar jeete hain kya bhaee jeevan ko santulit rakh paate hain too bhee jeevan ko santulit rakh paate par vah apanee ichchhaon ko kabhee poora nahin kar paate isee dukh ke saath bijee the rahate hain aur ek bhee ant ho jaata hai unaka pooree mostalee un logon ke saath hota hai jo midil klaas ke hain ya phir mahilaen hain kaamakaajee mahilaen hain grahanee hain aur unake pati aashram ke saamane membaron kee jyaada baat sunate nahin hai aise logon ko apanee ichchha maarakar jeena padata hai santulan banae to rahatee par unake chehare par vah muskaan nahin dekhee jo honee chaahie

bolkar speaker
जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या वह जीवन को संतुलित रख पाते हैं?Jo Log Man Maar Kar Jite Hai Kya Vah Jiwan Ko Santulit Rakh Pate Hai
pushpanjali patel Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए pushpanjali जी का जवाब
Student with micro finance bank employee
1:52
कपड़े धोने का जीते हैं क्या मुझे बुलाते हैं परिवार की बात करें वह अपने परिवार को परिवार के नहीं करूंगी लेकिन वह खुद तो आप खुश नहीं रह पाते लेकिन अपने ऑफिस में आ जाती है उनको कोई दुख होता है तो उसके पैसे नहीं उठाते हैं और रहो तब के जीवन को और तक की खुशियों को देखते हैं तब को संतुलित एवं कमेंट आते हैं सबको अच्छे तरीके पर रखते हैं एक निवेदन है कि मैं कह रही हूं और और सब लोगों को यही कहना तो मैं बहुत परेशान हूं लेकिन लेकिन मैं यही प्यार करती हूं कि तुम लोग खुश रहे और मैं प्यार करती हूं तो आप सब लोग चाहिए और मुझे लगता है कि जिन्होंने भी प्रश्न किया है और यह सवाल उठाए तो मुझे लगता है नींद नहीं इनके साथ यह घटना है यह क्यों नहीं जवाब देना चाहिए आपको खुश रहने का प्रयास कीजिए और अपनी जिंदगी को अच्छी तरीके से तैयार कीजिए
Kapade dhone ka jeete hain kya mujhe bulaate hain parivaar kee baat karen vah apane parivaar ko parivaar ke nahin karoongee lekin vah khud to aap khush nahin rah paate lekin apane ophis mein aa jaatee hai unako koee dukh hota hai to usake paise nahin uthaate hain aur raho tab ke jeevan ko aur tak kee khushiyon ko dekhate hain tab ko santulit evan kament aate hain sabako achchhe tareeke par rakhate hain ek nivedan hai ki main kah rahee hoon aur aur sab logon ko yahee kahana to main bahut pareshaan hoon lekin lekin main yahee pyaar karatee hoon ki tum log khush rahe aur main pyaar karatee hoon to aap sab log chaahie aur mujhe lagata hai ki jinhonne bhee prashn kiya hai aur yah savaal uthae to mujhe lagata hai neend nahin inake saath yah ghatana hai yah kyon nahin javaab dena chaahie aapako khush rahane ka prayaas keejie aur apanee jindagee ko achchhee tareeke se taiyaar keejie

bolkar speaker
जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या वह जीवन को संतुलित रख पाते हैं?Jo Log Man Maar Kar Jite Hai Kya Vah Jiwan Ko Santulit Rakh Pate Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:25
इस तरह का प्रश्न जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या वह जीवन को संतुलित रख पाते हैं तो आपको बताया जाएंगे जी नहीं व्यक्ति कभी भी ऐसे दौर में अगर गुजरता है तो कभी भी अपने जीवन को संतुलित नहीं रख पाता है उसको कहीं ना कहीं अंदर से कुंठा होती है वह कांटेक्ट रहता है जिस कारण उसके व्यक्तित्व है उसका प्रभाव पड़ता है मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Is tarah ka prashn jo log man maar kar jeete hain kya vah jeevan ko santulit rakh paate hain to aapako bataaya jaenge jee nahin vyakti kabhee bhee aise daur mein agar gujarata hai to kabhee bhee apane jeevan ko santulit nahin rakh paata hai usako kaheen na kaheen andar se kuntha hotee hai vah kaantekt rahata hai jis kaaran usake vyaktitv hai usaka prabhaav padata hai main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मन मार कर जीना क्या होता है, काम मे मन कैसे लागए
  • जो लोग मन मार कर जीते हैं क्या वह जीवन को संतुलित रख पाते हैं
URL copied to clipboard