#भारत की राजनीति

bolkar speaker

क्या टिकैट इतने बड़े नेता बन गए हैं कि वह मोदी सरकार को उखाड़ने की बात करने लगे हैं?

Kya Tikait Itane Bade Neta Ban Gae Hain Ki Vah Modee Sarakaar Ko Ukhaadane Kee Baat Karane Lage Hain
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:41
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न क्या टिकट इतने बड़े नेता बन गए हैं कि वे मोदी सरकार को उखाड़ने की बात करने लगे हैं तो फ्रेंड्स में इतने बड़े तो नेता नहीं है बस अभी जो किसान आंदोलन चल रहा है उसी के नेता बने हुए हैं और उन्होंने जो किसान बिल किसान संबंधी जो बिल है और जो किसान आंदोलन है वही करना चाहिए उनको ऐसे मोदी को काल सकेंगे पर फालतू के भाषण बाजी नहीं करना चाहिए जो काम करने के लिए नेता बनाए गए हैं किसानों की बात सामने रखने के लिए तो उन्हें वही बात करनी चाहिए फालतू की बात नहीं करना चाहिए और वह इतने बड़े नेता नहीं है जब मोदी जी को ऐसे बोल सकें धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn kya tikat itane bade neta ban gae hain ki ve modee sarakaar ko ukhaadane kee baat karane lage hain to phrends mein itane bade to neta nahin hai bas abhee jo kisaan aandolan chal raha hai usee ke neta bane hue hain aur unhonne jo kisaan bil kisaan sambandhee jo bil hai aur jo kisaan aandolan hai vahee karana chaahie unako aise modee ko kaal sakenge par phaalatoo ke bhaashan baajee nahin karana chaahie jo kaam karane ke lie neta banae gae hain kisaanon kee baat saamane rakhane ke lie to unhen vahee baat karanee chaahie phaalatoo kee baat nahin karana chaahie aur vah itane bade neta nahin hai jab modee jee ko aise bol saken dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या टिकैट इतने बड़े नेता बन गए हैं कि वह मोदी सरकार को उखाड़ने की बात करने लगे हैं?Kya Tikait Itane Bade Neta Ban Gae Hain Ki Vah Modee Sarakaar Ko Ukhaadane Kee Baat Karane Lage Hain
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:34
कराते टिकट इतने बड़े नेता बन गए हैं कि वह मोदी सरकार को उखाड़ने की बात करने लगे तो राकेश टिकैत हाल ही में जो है काफी ज्यादा सुर्खियों में रहे और यदि बात करेगी जो व्यक्ति राकेश टिकैत जी को जानता भी नहीं था आज उनको जानने भी लगे क्योंकि नेतृत्व यह बहुत बड़े एक संगठन का कर रहे हैं किसानों का और हम जानते हैं कि किसानों का आंदोलन जो है काफी ज्यादा हो रहा है तीन चार महीने से भी ज्यादा हो गई किसान जो सड़कों पर ट्रेनों पर हर जगह बैठे हुए हैं दिल्ली में अनशन कर रहे हैं अपने-अपने स्टेट के अंदर या कहीं पर भी जो उनको मौका मिल रहा है आंदोलन करने का कोई मौका नहीं छोड़ रहे बस आंदोलन कर रहे हैं बात करें तो राकेश टिकैत की आ जाता है तो सरकार पर प्रहार किया जाता है कि जब प्यार किया जाता है कि ऐसे ऐसे अमृत शब्द बोलने पड़ते हैं जिससे कि सरकार को जो है बच्चे नहीं हो जाए कार को खाने की बात इसलिए कर रहे हैं क्योंकि सरकार जो है उनकी मांगों को मान नहीं रही और तो सरकार की बेचैनी और ज्यादा बढ़ाना चाहते हैं कि उनकी मांग मान ली यही कम करें कि मोदी सरकार को उखाड़ देंगे परंतु यह वास्तविकता नहीं है कोई भी सरकार किसी नेता के यानी की चाहत की चाबी नहीं है कि वह कभी भी उसको उखाड़कर फेंक दें राकेश टिकैत के पास इतनी पावर नहीं है कि सरकार को उखाड़ दे परंतु यह बात कहने का तात्पर्य यह है कि आने वाले चुनाव में जो है मोदी जी को सपोर्ट बिल्कुल भी नहीं करना है बस इतना ही संदेश देना चाहते हैं
Karaate tikat itane bade neta ban gae hain ki vah modee sarakaar ko ukhaadane kee baat karane lage to raakesh tikait haal hee mein jo hai kaaphee jyaada surkhiyon mein rahe aur yadi baat karegee jo vyakti raakesh tikait jee ko jaanata bhee nahin tha aaj unako jaanane bhee lage kyonki netrtv yah bahut bade ek sangathan ka kar rahe hain kisaanon ka aur ham jaanate hain ki kisaanon ka aandolan jo hai kaaphee jyaada ho raha hai teen chaar maheene se bhee jyaada ho gaee kisaan jo sadakon par trenon par har jagah baithe hue hain dillee mein anashan kar rahe hain apane-apane stet ke andar ya kaheen par bhee jo unako mauka mil raha hai aandolan karane ka koee mauka nahin chhod rahe bas aandolan kar rahe hain baat karen to raakesh tikait kee aa jaata hai to sarakaar par prahaar kiya jaata hai ki jab pyaar kiya jaata hai ki aise aise amrt shabd bolane padate hain jisase ki sarakaar ko jo hai bachche nahin ho jae kaar ko khaane kee baat isalie kar rahe hain kyonki sarakaar jo hai unakee maangon ko maan nahin rahee aur to sarakaar kee bechainee aur jyaada badhaana chaahate hain ki unakee maang maan lee yahee kam karen ki modee sarakaar ko ukhaad denge parantu yah vaastavikata nahin hai koee bhee sarakaar kisee neta ke yaanee kee chaahat kee chaabee nahin hai ki vah kabhee bhee usako ukhaadakar phenk den raakesh tikait ke paas itanee paavar nahin hai ki sarakaar ko ukhaad de parantu yah baat kahane ka taatpary yah hai ki aane vaale chunaav mein jo hai modee jee ko saport bilkul bhee nahin karana hai bas itana hee sandesh dena chaahate hain

bolkar speaker
क्या टिकैट इतने बड़े नेता बन गए हैं कि वह मोदी सरकार को उखाड़ने की बात करने लगे हैं?Kya Tikait Itane Bade Neta Ban Gae Hain Ki Vah Modee Sarakaar Ko Ukhaadane Kee Baat Karane Lage Hain
Umesh Upaadyay Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Umesh जी का जवाब
Life Coach | Motivational Speaker
2:58
देखी कोई बड़ा तब हो जाता है या समझने लगता है जब उसको तवज्जो मिलने लगता है अब है इन्होंने राकेश के खेत में है मोर्चा तो उठाया किसान धान आंदोलन तो उठाया अब इनकी मंशा क्या है क्या चाहते हैं क्या नहीं चाहते किस तरीके से इनकी पार्टी देख रही है हीरो का मतलब पार्टी का मतलब पॉलिटिकल पार्टी नहीं भाई आप किस तरीके से यह लोग देख रहे हैं क्या भाई हम किस तरीके से किसान आंदोलन को देखते हैं हम क्या तब्दीली चाहते हैं वगैरा-वगैरा तो इस चक्कर में अब जब कोई इंसान होता है प्रतिदिन वहां लगा रहता है तो मीडिया का भी जमावड़ा वहां पर होता है मीडिया भी देखता है कि मैं क्या हो रहा है रिसीव थे रिपोर्ट करता है कोई ऐसे रिपोर्ट करता है कोई वैसे रिपोर्ट करता है कोई इससे नजरिए से चीजों को प्रस्तुत करता है भारत की छवि खराब करने के लिए तो कोई किसानों की छवि खराब करने के लिए तो कोई कुछ कोई कुछ और है कोई ऐसे प्रस्तुत करता है कि हां भैया जी देहाती भजन सही है आपने देखा होगा बहुत सारे हाथ के आफ पॉलीटिकल पार्टी के नेता वहां पर जाकर टिकट को मिले वगैरा-वगैरा और इस अंदाज में मिले जैसे कि भाई के तो बहुत बड़ा आदमी है मतलब बोलिए झुके हुए लगे थोड़े दवे से लगे जब मैं आपके दिल की बात करता हूं तो सामने वाला इंसान है अपने आपको उसी तरीके से भी देखने लगता है कि हां भाई उसने एक-एक ऊर्जा का संचार हो जाता है उसको लगने लगता है कि हां भाई मैंने तो बहुत बड़ा काम किया है यह किया वह किया है यह सारी बातें आती हैं होती हैं स्वाभाविक है तो उसको यहां तक पहुंचाने वाला आया है था समझने वालों वाले आया बनने के लिए हमने ही तो और देखा जाए तो हम सभी तो जिम्मेदार हैं अगर हम इतना तवज्जो नहीं देते तो ऐसा होता नहीं और देखें बार क्या होता है वही तवज्जो देने की बात भी नहीं होती होता यह है कि मुद्दा ऐसा है कि वह सरकार उनको और सुनने के लिए तैयार है सरकार उनको सुन रही थी तो जैसे 90 साल बाद सरकार इनवाइट करेगी बातचीत होगी तुझे बातचीत होती है एक बार होती है दो बार कई राउंड आफ डिस्कशन हो गए थे वगैरह वगैरह हो रहा है कभी भी बोलो धरना पर बैठे हुए हैं डेफिनेटली अपना अपना कार्य पर जो भी कह लो इस लाइमलाइट और इंसानों से सारी चीजों के कारण ऊपर उठने की लगता है तो आप मुझे नहीं पता वह अपने आप को कितना बड़ा नेता समझते हैं लेकिन हम सब को तो दिख ही रहा है ना कि भाई वह एक चीज का आंदोलन का संचालन कर रहे हैं तो जैसे निकले उनका का तो बड़ा हो नहीं लगा है था यह बात गलत है और ऐसा नहीं करना चाहिए कि उनमें है मां जय और वह सारी बातें करें जो कि किसानों के हित में ना हो देश के हित में ना हो वगैरा-वगैरा यह सारी बातें सही नहीं होगी
Dekhee koee bada tab ho jaata hai ya samajhane lagata hai jab usako tavajjo milane lagata hai ab hai inhonne raakesh ke khet mein hai morcha to uthaaya kisaan dhaan aandolan to uthaaya ab inakee mansha kya hai kya chaahate hain kya nahin chaahate kis tareeke se inakee paartee dekh rahee hai heero ka matalab paartee ka matalab politikal paartee nahin bhaee aap kis tareeke se yah log dekh rahe hain kya bhaee ham kis tareeke se kisaan aandolan ko dekhate hain ham kya tabdeelee chaahate hain vagaira-vagaira to is chakkar mein ab jab koee insaan hota hai pratidin vahaan laga rahata hai to meediya ka bhee jamaavada vahaan par hota hai meediya bhee dekhata hai ki main kya ho raha hai riseev the riport karata hai koee aise riport karata hai koee vaise riport karata hai koee isase najarie se cheejon ko prastut karata hai bhaarat kee chhavi kharaab karane ke lie to koee kisaanon kee chhavi kharaab karane ke lie to koee kuchh koee kuchh aur hai koee aise prastut karata hai ki haan bhaiya jee dehaatee bhajan sahee hai aapane dekha hoga bahut saare haath ke aaph poleetikal paartee ke neta vahaan par jaakar tikat ko mile vagaira-vagaira aur is andaaj mein mile jaise ki bhaee ke to bahut bada aadamee hai matalab bolie jhuke hue lage thode dave se lage jab main aapake dil kee baat karata hoon to saamane vaala insaan hai apane aapako usee tareeke se bhee dekhane lagata hai ki haan bhaee usane ek-ek oorja ka sanchaar ho jaata hai usako lagane lagata hai ki haan bhaee mainne to bahut bada kaam kiya hai yah kiya vah kiya hai yah saaree baaten aatee hain hotee hain svaabhaavik hai to usako yahaan tak pahunchaane vaala aaya hai tha samajhane vaalon vaale aaya banane ke lie hamane hee to aur dekha jae to ham sabhee to jimmedaar hain agar ham itana tavajjo nahin dete to aisa hota nahin aur dekhen baar kya hota hai vahee tavajjo dene kee baat bhee nahin hotee hota yah hai ki mudda aisa hai ki vah sarakaar unako aur sunane ke lie taiyaar hai sarakaar unako sun rahee thee to jaise 90 saal baad sarakaar inavait karegee baatacheet hogee tujhe baatacheet hotee hai ek baar hotee hai do baar kaee raund aaph diskashan ho gae the vagairah vagairah ho raha hai kabhee bhee bolo dharana par baithe hue hain dephinetalee apana apana kaary par jo bhee kah lo is laimalait aur insaanon se saaree cheejon ke kaaran oopar uthane kee lagata hai to aap mujhe nahin pata vah apane aap ko kitana bada neta samajhate hain lekin ham sab ko to dikh hee raha hai na ki bhaee vah ek cheej ka aandolan ka sanchaalan kar rahe hain to jaise nikale unaka ka to bada ho nahin laga hai tha yah baat galat hai aur aisa nahin karana chaahie ki unamen hai maan jay aur vah saaree baaten karen jo ki kisaanon ke hit mein na ho desh ke hit mein na ho vagaira-vagaira yah saaree baaten sahee nahin hogee

bolkar speaker
क्या टिकैट इतने बड़े नेता बन गए हैं कि वह मोदी सरकार को उखाड़ने की बात करने लगे हैं?Kya Tikait Itane Bade Neta Ban Gae Hain Ki Vah Modee Sarakaar Ko Ukhaadane Kee Baat Karane Lage Hain
Maayank Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Maayank जी का जवाब
College Student
1:43
जाट की जितने बड़े नेता बन रही है कि वह मोदी सरकार को काटने की बात करने लगे तो देखे थे ऐसा नहीं है कि अपने आपको कर देंगे आपको पढ़ने में बात है मास मूमेंट की पिछली बार ऐसे जन आंदोलन जब आप सोचते हैं महाराज की हिस्ट्री में तो वह आता है अन्ना हजारे का जो आंदोलन क्या बात है यह तो बता तेरा कि इससे पहले भी कई बार अनशन कर चुके थे लेकिन 2013 में सपोर्ट मिला था इलेक्शन के पास भी था उस समय तो और भी ज्यादा सपोर्ट मिला और उसके चलते आपने देखा कि कांग्रेस टिकट कैसे नहीं था कि मैं बहुत सारी गलती करी थी तभी उनके करप्शन कैसे जाए तो पहले भी आ रहे थे लेकिन तब भी वोट की हुई थी लेकिन पब्लिक साथ हुई जन समूह बना और वह सरकार लड़की को देखते हुए कहा जा रहा है कि उखाड़ सकते हैं क्योंकि अगर वह पब्लिक को जुटाने में असमर्थ रहे तू कोई भी पार्टी नहीं टिक सकता चाहे वह मोदी सरकार हो जाए कांग्रेस सरकार यह है कि अभी इलेक्शन नहीं आने वाले इलेक्शन लोकसभा के लिए हुए इलेक्शन अभी काफी दूर है और आना मुश्किल है कि लोग इस बात को याद रखेंगे कि कैसे इस सरकार ने किसानों के लिए मोदी और किले 85 सड़क में लोग भूल जाते हैं पिछले साल लेकिन हां अगर इलेक्शन आसपास होते हैं 1 साल के आसपास भी होते हैं तब भी काफी इफेक्ट पड़ता है चित्र
Jaat kee jitane bade neta ban rahee hai ki vah modee sarakaar ko kaatane kee baat karane lage to dekhe the aisa nahin hai ki apane aapako kar denge aapako padhane mein baat hai maas mooment kee pichhalee baar aise jan aandolan jab aap sochate hain mahaaraaj kee histree mein to vah aata hai anna hajaare ka jo aandolan kya baat hai yah to bata tera ki isase pahale bhee kaee baar anashan kar chuke the lekin 2013 mein saport mila tha ilekshan ke paas bhee tha us samay to aur bhee jyaada saport mila aur usake chalate aapane dekha ki kaangres tikat kaise nahin tha ki main bahut saaree galatee karee thee tabhee unake karapshan kaise jae to pahale bhee aa rahe the lekin tab bhee vot kee huee thee lekin pablik saath huee jan samooh bana aur vah sarakaar ladakee ko dekhate hue kaha ja raha hai ki ukhaad sakate hain kyonki agar vah pablik ko jutaane mein asamarth rahe too koee bhee paartee nahin tik sakata chaahe vah modee sarakaar ho jae kaangres sarakaar yah hai ki abhee ilekshan nahin aane vaale ilekshan lokasabha ke lie hue ilekshan abhee kaaphee door hai aur aana mushkil hai ki log is baat ko yaad rakhenge ki kaise is sarakaar ne kisaanon ke lie modee aur kile 85 sadak mein log bhool jaate hain pichhale saal lekin haan agar ilekshan aasapaas hote hain 1 saal ke aasapaas bhee hote hain tab bhee kaaphee iphekt padata hai chitr

bolkar speaker
क्या टिकैट इतने बड़े नेता बन गए हैं कि वह मोदी सरकार को उखाड़ने की बात करने लगे हैं?Kya Tikait Itane Bade Neta Ban Gae Hain Ki Vah Modee Sarakaar Ko Ukhaadane Kee Baat Karane Lage Hain
अशोक वशिष्ठ  Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए अशोक जी का जवाब
कहानी लेखक, समीक्षक, अनुवादक, रिटायर्ड प्रिंसीपल
4:58
नमस्कार दोस्तों की क्या टिकट इतने बड़े नेता बन गए हैं कि वे मोदी सरकार को उखाड़ने की बात करने लगे हैं देखिए आप आइए जो राकेश टिकैत हैं इसमें तो कोई शक नहीं है कि यह किसान नेता हैं इनके पिता महेंद्र सिंह टिकैत बहुत बड़े नेता थे इस जिस जमाने में वह नेता हुआ करते थे चौधरी चरण सिंह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हुआ करते थे और उस समय एक का शरद जोशी और किसान नेता हुए महाराष्ट्र यह दो लेता पूरे देश में किसानों का प्रतिनिधित्व किया करते थे सरकारों को बदलने की नहीं लेकिन हां हां कुछ तो ताकत ही वोट बैंक में हुआ करते थे मैं मानता हूं राकेश टिकैत तो अपने पिता की धरोहर यानी किसान नेतृत्व करने की उसको लेकर आगे चल रहे हैं और उसमें सफल हो रहे हैं कि कोई भी व्यक्ति तब सुर्खियों में आता है तब बोल नेता बनता है या अगुआ बनता है जब उसको जन समर्थन मिलता है यह चाहे किसान ने पहुंचाई मजदूर नेता हो चाहे राजनीतिक नेता को उनकी पहचान और उनका दबदबा या कहीं उनकी बात में दम तभी लगता है जब उनके साथ जन समर्थन जुड़ा हुआ हो किसानों की मांगे कितनी सही है कितनी गलत है यह तो एक व्याख्या और उसकी अपनी मंशा करने पर ही पता चल सकता है लेकिन कुछ तो दम होगा ना उनकी मांगों में मैं मैं यह मान कर चलता हूं कि कोई भी सरकार कोई भी कानून बनाती है जिनके लिए कानून बनाती है उनको समझाया क्यों नहीं चाहता अगर यह कानून किसानों के लिए बना था बने थे तीन कानून तो इतनी जल्दी क्या थी कि ऑर्डिनेंस लेकर आओ उसको पास कराया जाए यानि कानून बनाने का तरीका जो होता है पहले वह संसद में पेश किया जाता है उस पर चर्चा होती है दोनों शब्दों में जाकर वह कहीं का और इसको कानून बना दिया गायक ऑर्डिनेंस लाकर अध्यादेश लाकर बाद में उस पर चर्चा यहां संदेह पैदा करता है कि आखिर कॉल में जबकि पूरा देश अन्य चीजों से जूझ रहा था ऐसे में आनन-फानन में यह कृषि संबंधित इन कानून लाए गए और वह ऑर्डिनेंस के माध्यम से अध्यादेश पारित कराकर या नहीं अध्यादेश पर राष्ट्रपति के साइन करा कर उसको लागू कर दिया गया या उसको भले ही बाद में कोर्ट ने उस पर रोक लगा दी है हमारे कोर्ट इतने सक्षम हैं नेता और टिकट तो आज जो बने हुए हैं इसलिए बने उनके पीछे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में यह आज पंजाब का यह हरियाणा कहिए और बाकी अन्य भाइयों के राज्यों की शान है उनका समर्थन है मैं मानता हूं कि यह इस तरह के जितने भी आंदोलन होते हैं वह कहीं ना कहीं राजनीति से प्रेरित हैं कोई भी आप आप आप राजनीति को तो आज कहीं अलग कर नहीं सकते साहब जो सरकार रामपुर का कानून चला रही है या राज्य चला रही है वह भी तो राजनीति की देन है ना तो मोदी को मोदी सरकार को उखाड़ने की बातें करने लगे हैं तो मैं नहीं समझता हूं कि मोदी सरकार आज की तारीख में इतनी कमजोर है कि उसको कोई एक व्यक्ति उखाड़ सके किसी भी सरकार को उखाड़ने का अवसर आता है पास सब जन समुदाय के पास आय का वोटर के पास आएगा जब भी सरकार यानी जब भी आम चुनाव होंगे तो मतदाता जो फैसला करेगा वह कोई भी नेता अपने दम पर बड़ा नहीं बनता है मोदी ही क्यों न हो क्या मोती जब मुख्यमंत्री हुआ करते थे गुजरात के तंबू इतने बड़े नेता थे कि राष्ट्रीय पटल पर आ सकें लेकिन उन्होंने कुछ मुद्दे अपने उठाएं कुछ बनाए चाहे वह पाखंड आ रहा हूं बहुत से लोगों की नजरों में उनकी बातें बहुत सारी आप और पेट अंदर ही यह बहुत सी बातें नहीं लेकिन धीरे-धीरे उन्होंने अपने अपने साथ जनों से और जनता को राम मंदिर कश्मीर का मुद्दा और भी ऐसी चीजें मुस्लिम महिलाओं पर जो तलाक का मामला था इस तरह की चीजों को लिया जो जनता के मन को से जुड़ी हुई मुद्दे थे और इस पर जनसमर्थन मिला उनको तो आज वह इतने बड़े नेता बने हैं कोई नेता किसी एक व्यक्ति के द्वारा यह चुनौती दिया जाना कि वह सरकार को उखाड़ फेंकने का यह बेईमानी बातें हैं ऐसा संभव नहीं है हां बातें यह दोनों तरफ से होती हैं अगर राकेश बौखलाहट में ऐसी बातें बोलते हैं तो यह परिस्थिति वर्ष भी हो सकता है सरकार की ओर से भी तो कोई प्रयास कहां हो रहा है बताइए सरकार की ओर से भी ऐसे कोई प्रयास नहीं हो रहे कि इस आंदोलन को हुई है इंतजार कर रहे हैं कि जैसे एनआरसी का बुद्धा धीरे-धीरे यह पड़ जाए और विषय है इसकी मीमांसा की जानी चाहिए
Namaskaar doston kee kya tikat itane bade neta ban gae hain ki ve modee sarakaar ko ukhaadane kee baat karane lage hain dekhie aap aaie jo raakesh tikait hain isamen to koee shak nahin hai ki yah kisaan neta hain inake pita mahendr sinh tikait bahut bade neta the is jis jamaane mein vah neta hua karate the chaudharee charan sinh uttar pradesh ke mukhyamantree hua karate the aur us samay ek ka sharad joshee aur kisaan neta hue mahaaraashtr yah do leta poore desh mein kisaanon ka pratinidhitv kiya karate the sarakaaron ko badalane kee nahin lekin haan haan kuchh to taakat hee vot baink mein hua karate the main maanata hoon raakesh tikait to apane pita kee dharohar yaanee kisaan netrtv karane kee usako lekar aage chal rahe hain aur usamen saphal ho rahe hain ki koee bhee vyakti tab surkhiyon mein aata hai tab bol neta banata hai ya agua banata hai jab usako jan samarthan milata hai yah chaahe kisaan ne pahunchaee majadoor neta ho chaahe raajaneetik neta ko unakee pahachaan aur unaka dabadaba ya kaheen unakee baat mein dam tabhee lagata hai jab unake saath jan samarthan juda hua ho kisaanon kee maange kitanee sahee hai kitanee galat hai yah to ek vyaakhya aur usakee apanee mansha karane par hee pata chal sakata hai lekin kuchh to dam hoga na unakee maangon mein main main yah maan kar chalata hoon ki koee bhee sarakaar koee bhee kaanoon banaatee hai jinake lie kaanoon banaatee hai unako samajhaaya kyon nahin chaahata agar yah kaanoon kisaanon ke lie bana tha bane the teen kaanoon to itanee jaldee kya thee ki ordinens lekar aao usako paas karaaya jae yaani kaanoon banaane ka tareeka jo hota hai pahale vah sansad mein pesh kiya jaata hai us par charcha hotee hai donon shabdon mein jaakar vah kaheen ka aur isako kaanoon bana diya gaayak ordinens laakar adhyaadesh laakar baad mein us par charcha yahaan sandeh paida karata hai ki aakhir kol mein jabaki poora desh any cheejon se joojh raha tha aise mein aanan-phaanan mein yah krshi sambandhit in kaanoon lae gae aur vah ordinens ke maadhyam se adhyaadesh paarit karaakar ya nahin adhyaadesh par raashtrapati ke sain kara kar usako laagoo kar diya gaya ya usako bhale hee baad mein kort ne us par rok laga dee hai hamaare kort itane saksham hain neta aur tikat to aaj jo bane hue hain isalie bane unake peechhe pashchimee uttar pradesh mein yah aaj panjaab ka yah hariyaana kahie aur baakee any bhaiyon ke raajyon kee shaan hai unaka samarthan hai main maanata hoon ki yah is tarah ke jitane bhee aandolan hote hain vah kaheen na kaheen raajaneeti se prerit hain koee bhee aap aap aap raajaneeti ko to aaj kaheen alag kar nahin sakate saahab jo sarakaar raamapur ka kaanoon chala rahee hai ya raajy chala rahee hai vah bhee to raajaneeti kee den hai na to modee ko modee sarakaar ko ukhaadane kee baaten karane lage hain to main nahin samajhata hoon ki modee sarakaar aaj kee taareekh mein itanee kamajor hai ki usako koee ek vyakti ukhaad sake kisee bhee sarakaar ko ukhaadane ka avasar aata hai paas sab jan samudaay ke paas aay ka votar ke paas aaega jab bhee sarakaar yaanee jab bhee aam chunaav honge to matadaata jo phaisala karega vah koee bhee neta apane dam par bada nahin banata hai modee hee kyon na ho kya motee jab mukhyamantree hua karate the gujaraat ke tamboo itane bade neta the ki raashtreey patal par aa saken lekin unhonne kuchh mudde apane uthaen kuchh banae chaahe vah paakhand aa raha hoon bahut se logon kee najaron mein unakee baaten bahut saaree aap aur pet andar hee yah bahut see baaten nahin lekin dheere-dheere unhonne apane apane saath janon se aur janata ko raam mandir kashmeer ka mudda aur bhee aisee cheejen muslim mahilaon par jo talaak ka maamala tha is tarah kee cheejon ko liya jo janata ke man ko se judee huee mudde the aur is par janasamarthan mila unako to aaj vah itane bade neta bane hain koee neta kisee ek vyakti ke dvaara yah chunautee diya jaana ki vah sarakaar ko ukhaad phenkane ka yah beeemaanee baaten hain aisa sambhav nahin hai haan baaten yah donon taraph se hotee hain agar raakesh baukhalaahat mein aisee baaten bolate hain to yah paristhiti varsh bhee ho sakata hai sarakaar kee or se bhee to koee prayaas kahaan ho raha hai bataie sarakaar kee or se bhee aise koee prayaas nahin ho rahe ki is aandolan ko huee hai intajaar kar rahe hain ki jaise enaarasee ka buddha dheere-dheere yah pad jae aur vishay hai isakee meemaansa kee jaanee chaahie

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

    URL copied to clipboard