#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

समय के साथ ब्रह्मांड में होने वाले परिवर्तन का स्रोत क्या है क्या यह समय ही है?

Samay Ke Saath Brahmaand Mein Hone Vaale Parivartan Ka Srot Kya Hai Kya Yah Samay Hee Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:45
बस मेरे साथ ब्रह्मांड में होने वाले परिवर्तन का स्रोत क्या क्या यह समय ak27 समय जो है वह परिवर्तन में बदलाव या फिर कर सकते हैं परंतु ब्रह्मांड में होने वाले परिवर्तन का स्रोत अपने स्रोत पूछा तो देखें इसके बारे में दोस्तों को विशेष तौर पर अभी तक कोई जानकारी नहीं है हां अपन आस पास के लिए बात करें तो हमारा जो सोता है वह चोरी हो जाता है परंतु ब्रह्मांड जाए उसका यह भी नहीं पता चला अभी तक कि वह कितना लंबा कितना चौड़ा है इसकी कितनी दूरी है यानी कि या नंतर दोस्तों में से कहा तो यह जाता है परंतु अभी तक कोई इसकी जानकारी जो है अच्छी तरीके से वैज्ञानिको तक को भी नहीं है तो मैं कुछ नहीं कह सकते कि ब्रह्मांड में होने वाले परिवर्तन का स्रोत क्या है इसको लेकर जरूर कह सकते हैं कि कोई ना कोई शक्ति जाऊंगा ब्रह्मांड में विद्वान है और वही उसका स्रोत
Bas mere saath brahmaand mein hone vaale parivartan ka srot kya kya yah samay ak27 samay jo hai vah parivartan mein badalaav ya phir kar sakate hain parantu brahmaand mein hone vaale parivartan ka srot apane srot poochha to dekhen isake baare mein doston ko vishesh taur par abhee tak koee jaanakaaree nahin hai haan apan aas paas ke lie baat karen to hamaara jo sota hai vah choree ho jaata hai parantu brahmaand jae usaka yah bhee nahin pata chala abhee tak ki vah kitana lamba kitana chauda hai isakee kitanee dooree hai yaanee ki ya nantar doston mein se kaha to yah jaata hai parantu abhee tak koee isakee jaanakaaree jo hai achchhee tareeke se vaigyaaniko tak ko bhee nahin hai to main kuchh nahin kah sakate ki brahmaand mein hone vaale parivartan ka srot kya hai isako lekar jaroor kah sakate hain ki koee na koee shakti jaoonga brahmaand mein vidvaan hai aur vahee usaka srot

और जवाब सुनें

bolkar speaker
समय के साथ ब्रह्मांड में होने वाले परिवर्तन का स्रोत क्या है क्या यह समय ही है?Samay Ke Saath Brahmaand Mein Hone Vaale Parivartan Ka Srot Kya Hai Kya Yah Samay Hee Hai
Harender Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Harender जी का जवाब
As School administration & Principal
4:00
समय के साथ ब्राह्मण में होने वाले परिवर्तन का स्रोत क्या है क्या यह समय ही है आप देखते हैं कि यह 365 दिन दोस्त घंटे पृथ्वी का चक्कर होता है एक रोग ले चल इसी तरह से पृथ्वी जैसे कितने ग्रह हैं कितने छोटे छोटे छोटे छोटे उपग्रह प्रमुख कारण है यानी कि एक ही प्रमाणित करने वाला सौरमंडल का सबसे बड़ा जो कैंसर कंट्रोल माइंड होता है वह सूरज होता है यानी सूर्य मंडल में बिल्डिंग 365 दिन 4 घंटे लेती है तो दूसरा ग्रह दूसरे कई सालों ने लेते हैं दो-दो तीन-तीन साल ले लेते हैं कई ध्यान देना कि जो एक ग्रह है जो नक्षत्र हैं जो छोटे-छोटे एस्ट्रॉयड से जो बहुत सारे तारे हैं इस बार से इनका प्रभाव इस पृथ्वी पर पड़ने वाले समय परिवर्तन चक्र होता है वह इसी के कारण होता है के कारण इस ब्रह्मांड में परिवर्तन पाया जाता है पीछे जाएगा वह पृथ्वी पर अंधेरा हो जाएगा और रात को दिन और रात में देख लीजिए कितना डिस्टेंस हो जाता है दिन में टेंपरेचर होगा ही कम होगी घोषणा होगी पौधे जो है अपना भोजन बनाएंगे हम सीजन लेवल बढ़ेगा हम लोगों के अंदर चहल पहल होगी सभी जीव जंतु खुश रहेंगे अपने अपने कार्य में लिप्त रहेंगे वैसे टेंपरेचर तेरा हो गया तो चंद्रमुखी गतिविधियों का होता है समय परिवर्तन है और समय चक्र चलता रहा समय एक लड़का निर्धारित आंकड़ा होता है जिसको हम लोग गुणा भाग करके निकालते हैं कि यह चीजें हमारा टेंपरेचर है हम इंडियन देसी ढ़ोल ईयर में रहते हैं तो यहां पर खूब सर्दी पड़ रही है तो हमारा कुछ अच्छा है वहां पर देखे गर्म टेंपरेचर हमारे इंडिया का कैसे हैं अब हमारा नार्थ इंडिया में आप हिमालय क्षेत्र में देखोगे पर शुरू हुई है तो हम साउथ इंडिया में पोस्ट करते हैं जो समुद्री दोस्त एरिया है वहां पर गर्मी टेंपरेचर रेखाएं गुजर रही होती हैं जाती है और कहां पड़ता है उसी तरह जो परिवर्तन है ग्रहों के गाना और अपने सौरमंडल पर ही निर्धारित समय और तिथि के अनुसार चलते रहते हैं पृथ्वी को आपने देखा कभी कार्यक्रम लेट हो गई है बिल्कुल नहीं वह 365 घंटे में पूरा कर लेती है और 24 घंटे में एक रोटेशन कर लेती है चारों ओर में एक रोटेशन बना लेती है तो जब की शुक्र है जो मूवमेंट 26 दिन रुक गया तो सब कुछ रसातल में पहुंच जाएगा और कुछ नहीं रह जाएगा तो निश्चित तौर पर उनकी गतिविधियों को ही
Samay ke saath braahman mein hone vaale parivartan ka srot kya hai kya yah samay hee hai aap dekhate hain ki yah 365 din dost ghante prthvee ka chakkar hota hai ek rog le chal isee tarah se prthvee jaise kitane grah hain kitane chhote chhote chhote chhote upagrah pramukh kaaran hai yaanee ki ek hee pramaanit karane vaala sauramandal ka sabase bada jo kainsar kantrol maind hota hai vah sooraj hota hai yaanee soory mandal mein bilding 365 din 4 ghante letee hai to doosara grah doosare kaee saalon ne lete hain do-do teen-teen saal le lete hain kaee dhyaan dena ki jo ek grah hai jo nakshatr hain jo chhote-chhote estroyad se jo bahut saare taare hain is baar se inaka prabhaav is prthvee par padane vaale samay parivartan chakr hota hai vah isee ke kaaran hota hai ke kaaran is brahmaand mein parivartan paaya jaata hai peechhe jaega vah prthvee par andhera ho jaega aur raat ko din aur raat mein dekh leejie kitana distens ho jaata hai din mein temparechar hoga hee kam hogee ghoshana hogee paudhe jo hai apana bhojan banaenge ham seejan leval badhega ham logon ke andar chahal pahal hogee sabhee jeev jantu khush rahenge apane apane kaary mein lipt rahenge vaise temparechar tera ho gaya to chandramukhee gatividhiyon ka hota hai samay parivartan hai aur samay chakr chalata raha samay ek ladaka nirdhaarit aankada hota hai jisako ham log guna bhaag karake nikaalate hain ki yah cheejen hamaara temparechar hai ham indiyan desee dhol eeyar mein rahate hain to yahaan par khoob sardee pad rahee hai to hamaara kuchh achchha hai vahaan par dekhe garm temparechar hamaare indiya ka kaise hain ab hamaara naarth indiya mein aap himaalay kshetr mein dekhoge par shuroo huee hai to ham sauth indiya mein post karate hain jo samudree dost eriya hai vahaan par garmee temparechar rekhaen gujar rahee hotee hain jaatee hai aur kahaan padata hai usee tarah jo parivartan hai grahon ke gaana aur apane sauramandal par hee nirdhaarit samay aur tithi ke anusaar chalate rahate hain prthvee ko aapane dekha kabhee kaaryakram let ho gaee hai bilkul nahin vah 365 ghante mein poora kar letee hai aur 24 ghante mein ek roteshan kar letee hai chaaron or mein ek roteshan bana letee hai to jab kee shukr hai jo moovament 26 din ruk gaya to sab kuchh rasaatal mein pahunch jaega aur kuchh nahin rah jaega to nishchit taur par unakee gatividhiyon ko hee

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

URL copied to clipboard