#जीवन शैली

bolkar speaker

क्या अपनी आवश्यकताएं कम कर देने से मन की शांति मिलना संभव है?

Kya Apni Avashyaktaye Kam Kar Dene Se Man Ki Shanti Milna Sambhav Hai
Nikhil Ranjan Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Nikhil जी का जवाब
Programme Coordinator at National Institute of Electronics & Information Technology (NIELIT)
0:27
कृष्ण के अपनी आवश्यकता है कम कर देने से मन को शांति मिलना संभव है तो आपको बता दें बिल्कुल आप अपनी जरूरतों को जितना सीमित कर लेंगे आप अपने जीवन में उतना ही ज्यादा सुखी रहेंगे खुश रहेंगे मैं जितना आपको दूसरी चीजों की लालसा होती रहेगी उतनी ही आपको अपने जीवन में दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा आपकी क्या राय इस बारे में कमेंट में अपनी राय जरुर व्यक्त करें मैं शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद
Krshn ke apanee aavashyakata hai kam kar dene se man ko shaanti milana sambhav hai to aapako bata den bilkul aap apanee jarooraton ko jitana seemit kar lenge aap apane jeevan mein utana hee jyaada sukhee rahenge khush rahenge main jitana aapako doosaree cheejon kee laalasa hotee rahegee utanee hee aapako apane jeevan mein dikkaton ka saamana karana padega aapakee kya raay is baare mein kament mein apanee raay jarur vyakt karen main shubhakaamanaen aapake saath hain dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
क्या अपनी आवश्यकताएं कम कर देने से मन की शांति मिलना संभव है?Kya Apni Avashyaktaye Kam Kar Dene Se Man Ki Shanti Milna Sambhav Hai
Vijay shankar pal Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Vijay जी का जवाब
My youtube channel - Tech with vijay
0:44
मक्का साथियों क्या अपनी आवश्यकताएं कम कर देने से मन की शांति मिलना संभव है तो साथियों मन को शांति तो नहीं मिलता लेकिन आने वाले समय के लिए शांति जरूर मिलता है अगर हम अपने मन की आवश्यकताओं को कम नहीं करेंगे अपनी आवश्यकताओं को कम नहीं करेंगे हमारे जितनी इनकम है उसके हिसाब से अगर हमने लिमिट नहीं बनाएंगे तो फिर हमारे लिए घाटा होगा हमें आगे चलकर के बहुत पश्चाताप करना पड़ सकता है और आगे कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है इसलिए हमें समय के अनुसार बदलना चाहिए और जितना हमारा इनकम है उसी के एवरेज से हमें खर्च भी करना चाहिए धन्यवाद
Makka saathiyon kya apanee aavashyakataen kam kar dene se man kee shaanti milana sambhav hai to saathiyon man ko shaanti to nahin milata lekin aane vaale samay ke lie shaanti jaroor milata hai agar ham apane man kee aavashyakataon ko kam nahin karenge apanee aavashyakataon ko kam nahin karenge hamaare jitanee inakam hai usake hisaab se agar hamane limit nahin banaenge to phir hamaare lie ghaata hoga hamen aage chalakar ke bahut pashchaataap karana pad sakata hai aur aage kaee mushkilon ka saamana karana pad sakata hai isalie hamen samay ke anusaar badalana chaahie aur jitana hamaara inakam hai usee ke evarej se hamen kharch bhee karana chaahie dhanyavaad

bolkar speaker
क्या अपनी आवश्यकताएं कम कर देने से मन की शांति मिलना संभव है?Kya Apni Avashyaktaye Kam Kar Dene Se Man Ki Shanti Milna Sambhav Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:03
सवाल किया है कि क्या आपने आवश्यकता है कम कर देने से मन की शांति मिलना संभव है दोस्तों यदि आप अपने मन की जो शांति है उसको लाना चाहते हैं तो इसके लिए जरूरी नहीं है कि आप अपनी आवश्यकताओं को एक कम करें मन को शांति मिलती है तब आप अच्छा करें आप सुखी रहें इस चीज को लेना प्राप्त करेंगे आप जरूर नहीं है क्या आपके पास कर में बहुत सारी सुविधाएं यार आप विधाओं को जब कम कर दे तो क्या आप को शांति मिलेगी नहीं बिल्कुल भी नहीं मिलेगी शांति आपको तब मिलेगी जब कोई आप सफल काम शुरुआत में तो आपको शांति रहेगी आप बहुत ज्यादा मेहनत करेंगे किसी भी चीज को लेकर परंतु जब आप उस चीज को पा लेंगे तो आपको जर्मन को भी शांति मिलेगी और आप एक अच्छी तरीके से जीवन जो है वह भी व्यक्त करेंगे पर मात्र कम करने से मन को शांति नहीं मिलती है मन को शांति मिलती है जब आप कुछ अच्छा करते हैं और सफल होते हैं और आपको सुविधाएं मिलती है तब जाकर अन्यथा हो सकता है इनको मात्र कम करने से जवाब को शांति नहीं मिलने वाली
Savaal kiya hai ki kya aapane aavashyakata hai kam kar dene se man kee shaanti milana sambhav hai doston yadi aap apane man kee jo shaanti hai usako laana chaahate hain to isake lie jarooree nahin hai ki aap apanee aavashyakataon ko ek kam karen man ko shaanti milatee hai tab aap achchha karen aap sukhee rahen is cheej ko lena praapt karenge aap jaroor nahin hai kya aapake paas kar mein bahut saaree suvidhaen yaar aap vidhaon ko jab kam kar de to kya aap ko shaanti milegee nahin bilkul bhee nahin milegee shaanti aapako tab milegee jab koee aap saphal kaam shuruaat mein to aapako shaanti rahegee aap bahut jyaada mehanat karenge kisee bhee cheej ko lekar parantu jab aap us cheej ko pa lenge to aapako jarman ko bhee shaanti milegee aur aap ek achchhee tareeke se jeevan jo hai vah bhee vyakt karenge par maatr kam karane se man ko shaanti nahin milatee hai man ko shaanti milatee hai jab aap kuchh achchha karate hain aur saphal hote hain aur aapako suvidhaen milatee hai tab jaakar anyatha ho sakata hai inako maatr kam karane se javaab ko shaanti nahin milane vaalee

bolkar speaker
क्या अपनी आवश्यकताएं कम कर देने से मन की शांति मिलना संभव है?Kya Apni Avashyaktaye Kam Kar Dene Se Man Ki Shanti Milna Sambhav Hai
umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:47
क्या आपने आवश्यकता है कम कर देना फिर मन की शांति मिलना संभव है कि आपका सवाल है नहीं ऐसा कभी नहीं हो सकता है शांति मिलती है जब आप कोई आवश्यकता नहीं समझा भी तो आपको शांति ओम शांति है लेकिन यह बात को मत बोलने की आवश्यकता ही आविष्कार की जननी आवश्यकता है ही नहीं रहेगी आविष्कार कहां से हो गई नए-नए आविष्कार होने के लिए आवश्यकता ओं का होना जरूरी है और जब टाइम जरूरी है हर इंसान में शाम हो जाएगी हम आवश्यकताओं से नहीं रखेंगे हमें शांति मिलेगी तो आविष्कार का होना मुश्किल हो जाएगा
Kya aapane aavashyakata hai kam kar dena phir man kee shaanti milana sambhav hai ki aapaka savaal hai nahin aisa kabhee nahin ho sakata hai shaanti milatee hai jab aap koee aavashyakata nahin samajha bhee to aapako shaanti om shaanti hai lekin yah baat ko mat bolane kee aavashyakata hee aavishkaar kee jananee aavashyakata hai hee nahin rahegee aavishkaar kahaan se ho gaee nae-nae aavishkaar hone ke lie aavashyakata on ka hona jarooree hai aur jab taim jarooree hai har insaan mein shaam ho jaegee ham aavashyakataon se nahin rakhenge hamen shaanti milegee to aavishkaar ka hona mushkil ho jaega

bolkar speaker
क्या अपनी आवश्यकताएं कम कर देने से मन की शांति मिलना संभव है?Kya Apni Avashyaktaye Kam Kar Dene Se Man Ki Shanti Milna Sambhav Hai
umashankar Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए umashankar जी का जवाब
Farmer
0:47
क्या आपने आवश्यकता है कम कर देना फिर मन की शांति मिलना संभव है कि आपका सवाल है नहीं ऐसा कभी नहीं हो सकता है शांति मिलती है जब आप कोई आवश्यकता नहीं समझा भी तो आपको शांति ओम शांति है लेकिन यह बात को मत बोलने की आवश्यकता ही आविष्कार की जननी आवश्यकता है ही नहीं रहेगी आविष्कार कहां से हो गई नए-नए आविष्कार होने के लिए आवश्यकता ओं का होना जरूरी है और जब टाइम जरूरी है हर इंसान में शाम हो जाएगी हम आवश्यकताओं से नहीं रखेंगे हमें शांति मिलेगी तो आविष्कार का होना मुश्किल हो जाएगा
Kya aapane aavashyakata hai kam kar dena phir man kee shaanti milana sambhav hai ki aapaka savaal hai nahin aisa kabhee nahin ho sakata hai shaanti milatee hai jab aap koee aavashyakata nahin samajha bhee to aapako shaanti om shaanti hai lekin yah baat ko mat bolane kee aavashyakata hee aavishkaar kee jananee aavashyakata hai hee nahin rahegee aavishkaar kahaan se ho gaee nae-nae aavishkaar hone ke lie aavashyakata on ka hona jarooree hai aur jab taim jarooree hai har insaan mein shaam ho jaegee ham aavashyakataon se nahin rakhenge hamen shaanti milegee to aavishkaar ka hona mushkil ho jaega

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • मन को शांति और सुकून, मन की शांति के उपाय, मन को शांति और सुकून कैसे मिले
URL copied to clipboard