#टेक्नोलॉजी

bolkar speaker

निर्देशन और मार्गदर्शन में बुनियादी अंतर क्या है?

Nirdeshan Aur Margdarshan Mein Buniyadi Antar Kya Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:16
सवाल है कि निर्देशन और मार्गदर्शन में बुनियादी अंतर क्या है तो सबसे पहले मैं आपको निर्देशन बता देती हूं जो अनस के अनुसार निर्देशन व्यक्ति की वृद्धि की क्या दशा में उन्नति है और असलम के अनुसार निर्देशन किसी व्यक्ति को अपने गुण मालूम करने तथा अपना स्थान खोजने की में सहायता करने की प्रक्रिया है अब निर्देशन के मुख्य तीन प्रकार होते हैं शैक्षिक निर्देशन व्यवसायिक निर्देशन व्यक्तिगत निर्देशन सबसे पहले शैक्षिक निर्देशन की बात कर लेते हैं यह कुछ क्षेत्रों में काम की जाती है जैसे स्कूल अथवा कॉलेज के चयन में पाठ्यक्रम के चयन में निर्देशन पाठ एवं पाठ्य सहायक क्रियाओं के समायोजन के लिए स्कूल और संतोषजनक प्रगति एवं समायोजन दूसरा है व्यवसायिक निर्देशन व्यवसाय का चयन करने के लिए निर्देशन व्यवसाय के यह तैयारी करने के लिए नौकरी में प्रवेश करने के लिए छात्रों का कार्य क्षेत्र और उनकी गतिविधियों के ताऊ से परिचय करने के लिए तीसरा है व्यक्तिगत निर्देशन व्यक्तिगत संवेदन संवेदनात्मक तथा मनोवैज्ञानिक समस्या हल करने के लिए और विभिन्न प्रकार के द्वंद कुंठा है और कुछ समायोजन काम कम करने के लिए हम समायोजन करने के लिए व्यक्तिगत निर्देशन यूज होता है निर्देश का क्षेत्र व्यापक होता है निर्देश की आवश्यकता सभी व्यक्ति भी होती है यह व्यक्ति तथा सामूहिक दोनों के रूप में किया जा दिया जाता है यह जीवन भर चलने वाली प्रक्रिया है निर्देशन समय शक्ति तथा वित्तीय रूप से मितव्यई है निर्देशन सामान यकृत एवं विशिष्ट दोनों प्रकार की सेवा है यह जीवन के प्रत्येक क्षेत्र से संबंधित है और फिर भी यह मुख्य रूप से शैक्षिक तथा व्यवसायिक समस्याओं से संबंधित है इसमें निर्देशन करता सबसे पहले से ही निर्देशन की विषय वस्तु बन जाता है निर्देशन प्रदान करने हेतु साक्षात्कार आवश्यक नहीं है प्रभावशाली निर्देशन हेतु घनिष्ठता कायम करना आवश्यक नहीं है निर्देशन सभी प्रकार के व्यक्ति तथा छात्रों को दी जाती है यह व्यक्ति की क्षमता और उसकी उम्र एवं पूरी अभिरुचि एवं योग्यताओं को पहचानने तथा उसका उपयोग कर खुद का तथा समाज विकास में मदद करता है अब हम मार्गदर्शन की बात कर लेते हैं मार्गदर्शन एक प्रकार की कला होती है जो किसी भी व्यक्ति की मदद करती है उन्हें उनके करियर को चुनने कौन सी पढ़ाई उनके लिए अच्छी होगी और कौन सी नौकरी के लिए श्रेष्ठ होगी आदि में जिसके लिए कच्चे और उसी क्षेत्र से संबंधित विशेषज्ञ की जरूरत होती है यह प्रकार की प्रक्रिया होती है जिसमें व्यक्ति का मार्गदर्शन पर्यवेक्षण अभियान निर्देशन किया जाता है ऐसे व्यक्ति को यह समझाया जा क्या सही है और क्या गलत है यह चीज किस प्रकार व्यक्ति को समझना है इसमें सही निर्णय लेने की शक्ति दी जाती है इसके जरिए छात्र के लिए कौन सा कोर्स पृष्ठ होगा यह सिखाया जाता है वर्तमान भविष्य को उज्जवल बनाने के तरीके सिखाए जाते हैं
Savaal hai ki nirdeshan aur maargadarshan mein buniyaadee antar kya hai to sabase pahale main aapako nirdeshan bata detee hoon jo anas ke anusaar nirdeshan vyakti kee vrddhi kee kya dasha mein unnati hai aur asalam ke anusaar nirdeshan kisee vyakti ko apane gun maaloom karane tatha apana sthaan khojane kee mein sahaayata karane kee prakriya hai ab nirdeshan ke mukhy teen prakaar hote hain shaikshik nirdeshan vyavasaayik nirdeshan vyaktigat nirdeshan sabase pahale shaikshik nirdeshan kee baat kar lete hain yah kuchh kshetron mein kaam kee jaatee hai jaise skool athava kolej ke chayan mein paathyakram ke chayan mein nirdeshan paath evan paathy sahaayak kriyaon ke samaayojan ke lie skool aur santoshajanak pragati evan samaayojan doosara hai vyavasaayik nirdeshan vyavasaay ka chayan karane ke lie nirdeshan vyavasaay ke yah taiyaaree karane ke lie naukaree mein pravesh karane ke lie chhaatron ka kaary kshetr aur unakee gatividhiyon ke taoo se parichay karane ke lie teesara hai vyaktigat nirdeshan vyaktigat sanvedan sanvedanaatmak tatha manovaigyaanik samasya hal karane ke lie aur vibhinn prakaar ke dvand kuntha hai aur kuchh samaayojan kaam kam karane ke lie ham samaayojan karane ke lie vyaktigat nirdeshan yooj hota hai nirdesh ka kshetr vyaapak hota hai nirdesh kee aavashyakata sabhee vyakti bhee hotee hai yah vyakti tatha saamoohik donon ke roop mein kiya ja diya jaata hai yah jeevan bhar chalane vaalee prakriya hai nirdeshan samay shakti tatha vitteey roop se mitavyee hai nirdeshan saamaan yakrt evan vishisht donon prakaar kee seva hai yah jeevan ke pratyek kshetr se sambandhit hai aur phir bhee yah mukhy roop se shaikshik tatha vyavasaayik samasyaon se sambandhit hai isamen nirdeshan karata sabase pahale se hee nirdeshan kee vishay vastu ban jaata hai nirdeshan pradaan karane hetu saakshaatkaar aavashyak nahin hai prabhaavashaalee nirdeshan hetu ghanishthata kaayam karana aavashyak nahin hai nirdeshan sabhee prakaar ke vyakti tatha chhaatron ko dee jaatee hai yah vyakti kee kshamata aur usakee umr evan pooree abhiruchi evan yogyataon ko pahachaanane tatha usaka upayog kar khud ka tatha samaaj vikaas mein madad karata hai ab ham maargadarshan kee baat kar lete hain maargadarshan ek prakaar kee kala hotee hai jo kisee bhee vyakti kee madad karatee hai unhen unake kariyar ko chunane kaun see padhaee unake lie achchhee hogee aur kaun see naukaree ke lie shreshth hogee aadi mein jisake lie kachche aur usee kshetr se sambandhit visheshagy kee jaroorat hotee hai yah prakaar kee prakriya hotee hai jisamen vyakti ka maargadarshan paryavekshan abhiyaan nirdeshan kiya jaata hai aise vyakti ko yah samajhaaya ja kya sahee hai aur kya galat hai yah cheej kis prakaar vyakti ko samajhana hai isamen sahee nirnay lene kee shakti dee jaatee hai isake jarie chhaatr ke lie kaun sa kors prshth hoga yah sikhaaya jaata hai vartamaan bhavishy ko ujjaval banaane ke tareeke sikhae jaate hain

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • निर्देशन और मार्गदर्शन में बुनियादी अंतर क्या है निर्देशन और मार्गदर्शन में बुनियादी अंतर
URL copied to clipboard