#भारत की राजनीति

Rakesh Kumar Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 77
सुनिए Rakesh जी का जवाब
👨‍🏫 Teacher.
5:29
प्रश्न है कि चौरी चौरा हत्याकांड को 100 साल पूरे होने जा रहे हैं तो इस संबंध में कौन सी बिंदु की चर्चा करेंगे तो हम सभी जानते हैं कि यह घटना जो है 4 फरवरी 1922 को हुई थी और अभी जो है 2021 चल रहा है या नहीं 100 साल पूरे हो गए हैं और इसमें बहुत सारा दिन हुए हैं जैसे 1 अगस्त 1920 को महात्मा गांधी के नेतृत्व में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने ब्रिटिश राज के खिलाफ असहयोग आंदोलन की शुरुआत की थी और इसके साथ उन सभी वस्तुओं खासकर मशीन से बने बात राज्य से कानूनी सेंचुरी का और प्रशासनिक संस्थाओं और व्यवस्थाओं का बहिष्कार करने का उन्होंने निर्णय किया था जिसके बल पर अंग्रेज भारतीयों पर शासन कर रहे थे आंदोलन का उद्देश्य भारतीयों के साथ दुर्व्यवहार कर रहे ब्रिटिश शासन को सहयोग करने से इनकार करना था और इस आंदोलन को अहिंसक और शांतिपूर्ण माना गया था और तय किया गया था कि लोग अपने सर सारी नौकरियां और उपाधियों को त्याग देंगे सरकारी स्कूल और कॉलेजों को जाना बंद करेंगे और सेना में सेवा नहीं देंगे और सरकार को कर नहीं देंगे कुछ मिलाकर देखा जाए तो अहिंसक तरीके से ब्रिटिश सरकार को बहिष्कार करना था पार्टी का उद्देश्य राज्य शासन प्राप्त करना ही था और देखा गया कि वर्ष 1923 के अंत में और 22 के आरंभ में कांग्रेसी और खिलाफ आंदोलन के स्वयंसेवकों को लेकर एक राष्ट्रीय स्वयंसेवक वाहिनी गठन की गई थी स्वता ही लोग इस आंदोलन से जुड़ने लगे थे और यह सफल होता देखने लगा था अगले डेढ़ वर्ष में देश भर में बड़े पैमाने पर सोए हुए को आंदोलन को लेकर सक्रिय हो गए थे और आधा जनवरी बीतने के बाद या नहीं सब 22 मई गोरखपुर कांग्रेश और खिलाफत समिति द्वारा एक बैठक को संबोधित करने के बाद अशोक की प्रतिज्ञा लेने वालों की संख्या बढ़ाने आंसर दान एकत्रित करने और विदेशी वस्तुओं को बेचने दुकानों पर धरना कर देने के लिए कुछ पदाधिकारियों की नियुक्ति की गई इसमें किसान भी शामिल थे 2 फरवरी सब लोग विदेशी वस्तुओं का व्यापार पर रोक लगाने और मीट और मछली की बड़ी कीमती कीमती कीमत के विरोध में बाजार में प्रदर्शन कर रहे थे तब पुलिस ने उनकी पिटाई कर दी थी और उनके अनेक नेताओं को गिरफ्तार कर चोरी चोरा चोरी पुलिस स्टेशन ले गई थी जो अभी है देवरिया के पास ही हैं जो उत्तर प्रदेश में पड़ता है बाजार में प्रदर्शन कर रहे लोग में ब्रिटिश इंडिया आर्मी छोड़ चुके एक जवान भगवान अहिर को पुलिस ने बुरी तरह पीटा इसके बाद स्वास्थ्य को ने पुलिस के विरुद्ध दूसरे प्रदर्शन की योजना बनाई थी और 4 फरवरी 1922 को तकरीबन ढाई हजार लोग जो है शराब की दुकान पर धरना देने के लिए चोरा चोरी बाजार की तरह बढ़ चले इस दौरान प्रदर्शन कर रहे लोगों को एक नेता को गिरफ्तार कर लिया गया और इसके बाद अपने नेता के रिहाई की मांग के साथ उन लोगों का एक समूह पुलिस स्टेशन की तरफ बढ़ने लगी भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने हवा में गोलियां चलाईं पुलिस को गोली चलाने से भी उत्तेजित हो गई और उसने पुलिस पर पथराव शुरू कर दिया जब मामला हाथ से निकलने लगा तो पुलिस स्टेशन के सब इंस्पेक्टर ने भीड़ पर गोलियां चला दी जिसमें 3 लोग मारे गए और अनेक घायल हो गए इस घटना ने लोगों को क्रोध को और भड़का दिया बेकाबू भीड़ ने पुलिस स्टेशन को आग के हवाले कर दी नतीजा हुआ कि पुलिस स्टेशन में मौजूद सभी पुलिसकर्मी अधिकतर मारे गए इस बार दाता से नाराज ब्रिटिश सरकार ने उस क्षेत्र में मार्शल लॉ लगा दिया और सैकड़ों लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया था उन दिनों के उपवास पर चले गए और 12 फरवरी या नहीं सब 22 को बारदोली कांग्रेसमें की बैठक में आधिकारिक तौर पर असहयोग आंदोलन वापस ले लिया था क्योंकि उन्हें लगा था कि लोग एक आंदोलन को आत्मसात करने को तैयार नहीं थे और ना ही लोगों का ऐसा प्रशिक्षण दिया गया था जिसे वह हिंसा आक्रमण का सामना करते समय स्वयं दिखा सके 16 फरवरी या नहीं तो 22 को गांधी ने अपने लेख चोरा चोरी का बरात में लिखा था कि अगर यह आंदोलन वापस नहीं लिया जाता तो दूसरी जगह पर भी ऐसी घटना घटी गांधीजी ने इस घटना के लिए एक तरफ जहां पुलिस कर्मियों को जिम्मेदार ठहराया क्योंकि उनके उकसाने पर ही भीड़ ने इसका हिंसात्मक कदम उठाया था तो दूसरी तरफ गाता में शामिल तमाम लोगों ने अपने आप को पुलिस के हवाले करने को कहा क्योंकि उन्होंने अपराध किया था इस घटना के बाद गांधीजी यंग इंडिया में ले के ले के कारण उन पर राजद्रोह का मुकदमा भी चला था और मार्च 1922 में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था सरकार ने त्वरित कार्रवाई करते हुए इस मामले में शामिल 228 लोगों पर मुकदमा दायर किया इसमें 6 लोगों की पुलिस हिरासत में ही मौत हो गई थी 8 महीने चले मुकदमा में के बाद एक से बहुत कलवा की मौत की सजा सुनाई गई इस निर्णय का देश में खूब विरोध होगा इलाहाबाद उच्च न्यायालय करवाओ और बाकियों को लंबे समय तक कैद की सजा सुनाई और मनीष भी रो के याद में शहीद स्मारक का निर्माण कराया गया यह कुछ घटनाएं हैं धन्यवाद
Prashn hai ki chauree chaura hatyaakaand ko 100 saal poore hone ja rahe hain to is sambandh mein kaun see bindu kee charcha karenge to ham sabhee jaanate hain ki yah ghatana jo hai 4 pharavaree 1922 ko huee thee aur abhee jo hai 2021 chal raha hai ya nahin 100 saal poore ho gae hain aur isamen bahut saara din hue hain jaise 1 agast 1920 ko mahaatma gaandhee ke netrtv mein bhaarateey raashtreey kaangres ne british raaj ke khilaaph asahayog aandolan kee shuruaat kee thee aur isake saath un sabhee vastuon khaasakar masheen se bane baat raajy se kaanoonee senchuree ka aur prashaasanik sansthaon aur vyavasthaon ka bahishkaar karane ka unhonne nirnay kiya tha jisake bal par angrej bhaarateeyon par shaasan kar rahe the aandolan ka uddeshy bhaarateeyon ke saath durvyavahaar kar rahe british shaasan ko sahayog karane se inakaar karana tha aur is aandolan ko ahinsak aur shaantipoorn maana gaya tha aur tay kiya gaya tha ki log apane sar saaree naukariyaan aur upaadhiyon ko tyaag denge sarakaaree skool aur kolejon ko jaana band karenge aur sena mein seva nahin denge aur sarakaar ko kar nahin denge kuchh milaakar dekha jae to ahinsak tareeke se british sarakaar ko bahishkaar karana tha paartee ka uddeshy raajy shaasan praapt karana hee tha aur dekha gaya ki varsh 1923 ke ant mein aur 22 ke aarambh mein kaangresee aur khilaaph aandolan ke svayansevakon ko lekar ek raashtreey svayansevak vaahinee gathan kee gaee thee svata hee log is aandolan se judane lage the aur yah saphal hota dekhane laga tha agale dedh varsh mein desh bhar mein bade paimaane par soe hue ko aandolan ko lekar sakriy ho gae the aur aadha janavaree beetane ke baad ya nahin sab 22 maee gorakhapur kaangresh aur khilaaphat samiti dvaara ek baithak ko sambodhit karane ke baad ashok kee pratigya lene vaalon kee sankhya badhaane aansar daan ekatrit karane aur videshee vastuon ko bechane dukaanon par dharana kar dene ke lie kuchh padaadhikaariyon kee niyukti kee gaee isamen kisaan bhee shaamil the 2 pharavaree sab log videshee vastuon ka vyaapaar par rok lagaane aur meet aur machhalee kee badee keematee keematee keemat ke virodh mein baajaar mein pradarshan kar rahe the tab pulis ne unakee pitaee kar dee thee aur unake anek netaon ko giraphtaar kar choree chora choree pulis steshan le gaee thee jo abhee hai devariya ke paas hee hain jo uttar pradesh mein padata hai baajaar mein pradarshan kar rahe log mein british indiya aarmee chhod chuke ek javaan bhagavaan ahir ko pulis ne buree tarah peeta isake baad svaasthy ko ne pulis ke viruddh doosare pradarshan kee yojana banaee thee aur 4 pharavaree 1922 ko takareeban dhaee hajaar log jo hai sharaab kee dukaan par dharana dene ke lie chora choree baajaar kee tarah badh chale is dauraan pradarshan kar rahe logon ko ek neta ko giraphtaar kar liya gaya aur isake baad apane neta ke rihaee kee maang ke saath un logon ka ek samooh pulis steshan kee taraph badhane lagee bheed ko titar-bitar karane ke lie pulis ne hava mein goliyaan chalaeen pulis ko golee chalaane se bhee uttejit ho gaee aur usane pulis par patharaav shuroo kar diya jab maamala haath se nikalane laga to pulis steshan ke sab inspektar ne bheed par goliyaan chala dee jisamen 3 log maare gae aur anek ghaayal ho gae is ghatana ne logon ko krodh ko aur bhadaka diya bekaaboo bheed ne pulis steshan ko aag ke havaale kar dee nateeja hua ki pulis steshan mein maujood sabhee pulisakarmee adhikatar maare gae is baar daata se naaraaj british sarakaar ne us kshetr mein maarshal lo laga diya aur saikadon logon ko giraphtaar kar liya gaya tha un dinon ke upavaas par chale gae aur 12 pharavaree ya nahin sab 22 ko baaradolee kaangresamen kee baithak mein aadhikaarik taur par asahayog aandolan vaapas le liya tha kyonki unhen laga tha ki log ek aandolan ko aatmasaat karane ko taiyaar nahin the aur na hee logon ka aisa prashikshan diya gaya tha jise vah hinsa aakraman ka saamana karate samay svayan dikha sake 16 pharavaree ya nahin to 22 ko gaandhee ne apane lekh chora choree ka baraat mein likha tha ki agar yah aandolan vaapas nahin liya jaata to doosaree jagah par bhee aisee ghatana ghatee gaandheejee ne is ghatana ke lie ek taraph jahaan pulis karmiyon ko jimmedaar thaharaaya kyonki unake ukasaane par hee bheed ne isaka hinsaatmak kadam uthaaya tha to doosaree taraph gaata mein shaamil tamaam logon ne apane aap ko pulis ke havaale karane ko kaha kyonki unhonne aparaadh kiya tha is ghatana ke baad gaandheejee yang indiya mein le ke le ke kaaran un par raajadroh ka mukadama bhee chala tha aur maarch 1922 mein unhen giraphtaar kar liya gaya tha sarakaar ne tvarit kaarravaee karate hue is maamale mein shaamil 228 logon par mukadama daayar kiya isamen 6 logon kee pulis hiraasat mein hee maut ho gaee thee 8 maheene chale mukadama mein ke baad ek se bahut kalava kee maut kee saja sunaee gaee is nirnay ka desh mein khoob virodh hoga ilaahaabaad uchch nyaayaalay karavao aur baakiyon ko lambe samay tak kaid kee saja sunaee aur maneesh bhee ro ke yaad mein shaheed smaarak ka nirmaan karaaya gaya yah kuchh ghatanaen hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • चौरी-चौरा नाम का प्रसिद्ध स्थल कहाँ है, चौरी चौरा कांड किससे संबंधित है, चौरी चौरा हत्याकांड कब हुआ था
URL copied to clipboard