#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

ब्रह्मा जी की पूजा सर्वत्र क्यों नहीं होती है?

Brahma Ji Ki Pooja Sarvatr Kyun Nahin Hoti Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
5:19
सवाल की ब्रह्मा जी की पूजा सर्वत्र क्यों नहीं होती है तो पूरे विश्व में पुष्कर भगवान ब्रह्मा के इकलौते मंदिर के लिए जाना चाहता है लेकिन आज हम आपको भारत की कुछ अन्य ब्रह्मा के मंदिरों से रूबरू कराने जा रहे हैं जिनके बारे में शायद आप अभी तक नहीं जानते उत्तर में स्थित भगवान ब्रह्मा के मंदिर प्राचीन मंदिरों में से एक है कि बंदियों के अनुसार भगवान ब्रह्मा अन्य देवताओं से थोड़ा अलग है मैं अपने भक्तों की भक्ति से तुरंत प्रसन्न होकर उनकी मुरादों को पूरा कर देते हैं पौराणिक कथाओं के मुताबिक कई राक्षसों ने ब्रह्मा की उपासना कर उनसे वरदान लेकर देवताओं को और रिशु को काफी परेशान किया जिसके बाद भगवान विष्णु और भगवान भोलेनाथ के अथक प्रयास के चलते अंदर दानों को विनाश किया गया जिसके बाद लोगों ने भगवान ब्रह्मा की पूजा अर्चना बंद कर दी और शिव और विष्णु की पूजा करनी शुरू कर दी ऐसी ही कई कहानी है जो बताती है कि आखिर अन्य देवी-देवताओं के मुकाबले ब्रह्मा जी के मंदिर इतने कम क्यों हैं तो पुष्कर में स्थापित ब्रह्मा जी का मंदिर प्राचीन मंदिरों में से एक है कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण करीब 2000 वर्ष पूर्व हुआ था लेकिन मौजूदा समय में की संगमरमर रचना चौधरी शताब्दी की है पुष्कर में झील के किनारे स्थित इस मंदिर में हर रोज हजारों की तादात में भक्त दर्शन करने पहुंचते हैं खासकर की कार्तिक के महीने में यहां श्रद्धालुओं की भीड़ काफी देखने को मिलती है कार्तिक के महीने में पर्यटक झील में डुबकी लगाकर ब्रह्मा मंदिर में दर्शन करने पहुंचते हैं बाड़मेर ब्रह्मा जी का दूसरा प्राचीन मंदिर राजस्थान के जिले बाड़मेर के गांव में तथा मंदिर का मुख्य सभागार जैसलमेर के प्रसिद्ध पीले पत्थरों से निर्मित है तथा बाकी पूरा मंदिर जोधपुरी पत्थरों से बना है हालांकि ब्रह्मा की मूर्ति पूरी तरह संग में नर से निर्मित इस मंदिर का निर्माण वर्ष 1961 में हुआ था और मंदिर में भगवान ब्रह्मा की मूर्ति की स्थापना वर्ष 1984 में हुई है इस मंदिर में हर रोज पक्षियों को 200 किलोग्राम दाने खिलाए जाते हैं जिसमें यहां हर रोज हजारों की तादाद में रंग-बिरंगे पक्षी देखे जा सकते हैं कुंबकोणम पौराणिक कथाओं की माने तो भगवान ब्रह्मा को अपनी कला पर काफी घमंड था और हमेशा खुद को भगवान शिव और विष्णु से पढ़ा बताते थे कि 1 दिन भगवान विष्णु ने ब्रह्मा के घमंड को तोड़ने के लिए भूत बनाया जिससे ब्रह्मा जी डर गए और सहायता के लिए भगवान विष्णु के पास पहुंच गए और उन्होंने अपने व्यवहार के लिए उनसे माफी भी मांगी जिसके बाद भगवान विष्णु ने उनसे कहा कि धरती पर जाकर अपनी कला को फिर से हासिल करो कहा जाता है कि ब्रह्मा पर ध्यान के लिए कुंभकोणम का चुना था बाद में भगवान ब्रह्मा का अंतर लीन होने के बाद विष्णु ने ब्रह्मा जी को माफ कर दिया और उन्हें उनका ज्ञान भी हासिल हो गया खोकन खोकन में चौथी शताब्दी करने में देख आदि ब्रह्मा मंदिर है जो कि कल्लू घाटी में पूरी तरह लकड़ी से बना हुआ मंदिर के भीतर भगवान विष्णु के साथ ब्रह्मा जी की प्रतिमा है मंदिर में दोनों और गढ़ जोगनी और मणिकरण जोगनी के मंदिर है पहले इस मंदिर के पास से एक प्राकृतिक झरना बहता था जोक सूख चुका है यहां मनाए जाने वाले त्योहारों के अंतर्गत नागिन बिरजू चिकन त्योहार मोहन त्यौहार और भूलन बेल से शामिल है चतुर्मुखा ब्रह्मा मंदिर आंध्र प्रदेश के गुंटूर जिले में चेब्रॉयलू कस्बे में स्थित स्थित है चतुर्मुख ब्रह्मा जी का मंदिर और इसमें परम परम पिता ब्रह्मा की चार मुख वाली प्रतिमा स्थापित हैं मंदिर आज से लगभग 200 साल पहले बना था संसार में जब ब्रह्मा विष्णु और शिव तीनों देवताओं का नाम लिया जाता है तो सबसे पहले ब्रह्मा जी का नाम आता है इसके बाद बेस्ट म्यूजिक और फिर शिव भगवान का तो सब ब्रह्मा जी की सृष्टि का रचना काल माना जाता है वही भगवान विष्णु को संस्कार संसार का पालनहार माना जाता है भगवान शिव संसार का उद्धार करते हैं तो चलिए जानते ब्रह्मा जी की पूजा शरबत क्यों नहीं होती ब्रह्मा जी पुष्कर में यज्ञ कराना चाहते थे लेकिन उस समय उनकी पत्नी सावित्री वहां उपस्थित नहीं हो पाई थी मुहूर्त निकला जा रहा था जिसके कारण ब्रह्मा जी ने स्थानीय वाल्बाला गायत्री से शादी करके यज्ञ शुरू कर दिया ब्रह्मा जी के बगल में दूसरी स्त्री को देखकर उनकी पत्नी सावित्री ने क्रोध में आकर प्राप्त जी को स्टार्ट दे दिया कि आपने जिस संसार की रचना की है उसी संसार से आप लोग आपकी की पूजा नहीं करेंगे सावित्री के इस भयानक रूप को देखकर सारे देवी देवताओं भी भयभीत हो गए क्रोध शांत होने पर सावित्री से स्टाफ लेने के लिए विनती की जिस पर सावित्री जी ने कहा कि इस पृथ्वी पर लोगों द्वारा आपकी पूजा केवल पुष्कर में ही की जाएगी प्रमुख देवता होने पर भी उनकी पूजा बहुत कम होती है जिसका प्रमुख कारण यह है कि ब्रह्मांड की था लेने के लिए जब भगवान शिव ने विष्णु और ब्रह्मा को भेजा तो ब्रह्मा ने वापस लौट कर शेर से और सत्य वचन कहा था यही कारण है ब्रह्मा जी की पूजा सर्वत्र नहीं होती है
Savaal kee brahma jee kee pooja sarvatr kyon nahin hotee hai to poore vishv mein pushkar bhagavaan brahma ke ikalaute mandir ke lie jaana chaahata hai lekin aaj ham aapako bhaarat kee kuchh any brahma ke mandiron se roobaroo karaane ja rahe hain jinake baare mein shaayad aap abhee tak nahin jaanate uttar mein sthit bhagavaan brahma ke mandir praacheen mandiron mein se ek hai ki bandiyon ke anusaar bhagavaan brahma any devataon se thoda alag hai main apane bhakton kee bhakti se turant prasann hokar unakee muraadon ko poora kar dete hain pauraanik kathaon ke mutaabik kaee raakshason ne brahma kee upaasana kar unase varadaan lekar devataon ko aur rishu ko kaaphee pareshaan kiya jisake baad bhagavaan vishnu aur bhagavaan bholenaath ke athak prayaas ke chalate andar daanon ko vinaash kiya gaya jisake baad logon ne bhagavaan brahma kee pooja archana band kar dee aur shiv aur vishnu kee pooja karanee shuroo kar dee aisee hee kaee kahaanee hai jo bataatee hai ki aakhir any devee-devataon ke mukaabale brahma jee ke mandir itane kam kyon hain to pushkar mein sthaapit brahma jee ka mandir praacheen mandiron mein se ek hai kaha jaata hai ki is mandir ka nirmaan kareeb 2000 varsh poorv hua tha lekin maujooda samay mein kee sangamaramar rachana chaudharee shataabdee kee hai pushkar mein jheel ke kinaare sthit is mandir mein har roj hajaaron kee taadaat mein bhakt darshan karane pahunchate hain khaasakar kee kaartik ke maheene mein yahaan shraddhaaluon kee bheed kaaphee dekhane ko milatee hai kaartik ke maheene mein paryatak jheel mein dubakee lagaakar brahma mandir mein darshan karane pahunchate hain baadamer brahma jee ka doosara praacheen mandir raajasthaan ke jile baadamer ke gaanv mein tatha mandir ka mukhy sabhaagaar jaisalamer ke prasiddh peele pattharon se nirmit hai tatha baakee poora mandir jodhapuree pattharon se bana hai haalaanki brahma kee moorti pooree tarah sang mein nar se nirmit is mandir ka nirmaan varsh 1961 mein hua tha aur mandir mein bhagavaan brahma kee moorti kee sthaapana varsh 1984 mein huee hai is mandir mein har roj pakshiyon ko 200 kilograam daane khilae jaate hain jisamen yahaan har roj hajaaron kee taadaad mein rang-birange pakshee dekhe ja sakate hain kumbakonam pauraanik kathaon kee maane to bhagavaan brahma ko apanee kala par kaaphee ghamand tha aur hamesha khud ko bhagavaan shiv aur vishnu se padha bataate the ki 1 din bhagavaan vishnu ne brahma ke ghamand ko todane ke lie bhoot banaaya jisase brahma jee dar gae aur sahaayata ke lie bhagavaan vishnu ke paas pahunch gae aur unhonne apane vyavahaar ke lie unase maaphee bhee maangee jisake baad bhagavaan vishnu ne unase kaha ki dharatee par jaakar apanee kala ko phir se haasil karo kaha jaata hai ki brahma par dhyaan ke lie kumbhakonam ka chuna tha baad mein bhagavaan brahma ka antar leen hone ke baad vishnu ne brahma jee ko maaph kar diya aur unhen unaka gyaan bhee haasil ho gaya khokan khokan mein chauthee shataabdee karane mein dekh aadi brahma mandir hai jo ki kalloo ghaatee mein pooree tarah lakadee se bana hua mandir ke bheetar bhagavaan vishnu ke saath brahma jee kee pratima hai mandir mein donon aur gadh joganee aur manikaran joganee ke mandir hai pahale is mandir ke paas se ek praakrtik jharana bahata tha jok sookh chuka hai yahaan manae jaane vaale tyohaaron ke antargat naagin birajoo chikan tyohaar mohan tyauhaar aur bhoolan bel se shaamil hai chaturmukha brahma mandir aandhr pradesh ke guntoor jile mein chebroyaloo kasbe mein sthit sthit hai chaturmukh brahma jee ka mandir aur isamen param param pita brahma kee chaar mukh vaalee pratima sthaapit hain mandir aaj se lagabhag 200 saal pahale bana tha sansaar mein jab brahma vishnu aur shiv teenon devataon ka naam liya jaata hai to sabase pahale brahma jee ka naam aata hai isake baad best myoojik aur phir shiv bhagavaan ka to sab brahma jee kee srshti ka rachana kaal maana jaata hai vahee bhagavaan vishnu ko sanskaar sansaar ka paalanahaar maana jaata hai bhagavaan shiv sansaar ka uddhaar karate hain to chalie jaanate brahma jee kee pooja sharabat kyon nahin hotee brahma jee pushkar mein yagy karaana chaahate the lekin us samay unakee patnee saavitree vahaan upasthit nahin ho paee thee muhoort nikala ja raha tha jisake kaaran brahma jee ne sthaaneey vaalbaala gaayatree se shaadee karake yagy shuroo kar diya brahma jee ke bagal mein doosaree stree ko dekhakar unakee patnee saavitree ne krodh mein aakar praapt jee ko staart de diya ki aapane jis sansaar kee rachana kee hai usee sansaar se aap log aapakee kee pooja nahin karenge saavitree ke is bhayaanak roop ko dekhakar saare devee devataon bhee bhayabheet ho gae krodh shaant hone par saavitree se staaph lene ke lie vinatee kee jis par saavitree jee ne kaha ki is prthvee par logon dvaara aapakee pooja keval pushkar mein hee kee jaegee pramukh devata hone par bhee unakee pooja bahut kam hotee hai jisaka pramukh kaaran yah hai ki brahmaand kee tha lene ke lie jab bhagavaan shiv ne vishnu aur brahma ko bheja to brahma ne vaapas laut kar sher se aur saty vachan kaha tha yahee kaaran hai brahma jee kee pooja sarvatr nahin hotee hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
ब्रह्मा जी की पूजा सर्वत्र क्यों नहीं होती है?Brahma Ji Ki Pooja Sarvatr Kyun Nahin Hoti Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:56
ब्रह्मा जी की पूजा सर्वत्र क्यों नहीं होती दोस्ती बात बताइए ब्रह्मा जी को ले करके तो यह बात तो हकीकत है कि ब्रह्मा जी को जो है उनकी पूजा सर्वत्र नहीं होती परंतु आपको बता दे राजस्थान के अंदर पुष्कर जगह जोगी जयपुर और अजमेर के मध्य में स्थित है यहां पर दोस्तों ब्रह्मा जी का मंदिर है एकमात्र विश्व का एक मंदिर बताया जाता है पुष्कर जी ब्रह्मा जी की पूजा होती है सर्वत्र नहीं होती इसके पीछे का कोई कारण नहीं है इत्यादि के अंदर आपको इसके बारे में कुछ मिल जाए परंतु इस वजह से नहीं होती क्योंकि जो भी लोग लड़की को जितने भी तो देवता है और मैं विष्णु के अवतार देख लेंगे और शिव के अवतार देंगे परंतु ब्रह्मा के अवतार नहीं देख पाएंगे इसी वजह से ज्यादा कुछ नहीं रहा हमारी पृथ्वी के ऊपर इसी वजह से इनके अंदर नहीं मिलते नहीं होती है
Brahma jee kee pooja sarvatr kyon nahin hotee dostee baat bataie brahma jee ko le karake to yah baat to hakeekat hai ki brahma jee ko jo hai unakee pooja sarvatr nahin hotee parantu aapako bata de raajasthaan ke andar pushkar jagah jogee jayapur aur ajamer ke madhy mein sthit hai yahaan par doston brahma jee ka mandir hai ekamaatr vishv ka ek mandir bataaya jaata hai pushkar jee brahma jee kee pooja hotee hai sarvatr nahin hotee isake peechhe ka koee kaaran nahin hai ityaadi ke andar aapako isake baare mein kuchh mil jae parantu is vajah se nahin hotee kyonki jo bhee log ladakee ko jitane bhee to devata hai aur main vishnu ke avataar dekh lenge aur shiv ke avataar denge parantu brahma ke avataar nahin dekh paenge isee vajah se jyaada kuchh nahin raha hamaaree prthvee ke oopar isee vajah se inake andar nahin milate nahin hotee hai

bolkar speaker
ब्रह्मा जी की पूजा सर्वत्र क्यों नहीं होती है?Brahma Ji Ki Pooja Sarvatr Kyun Nahin Hoti Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:27
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका अपना मित्र क्यों नहीं होती है तो फ्रेंड से ब्रह्मा जी ने अपनी बेटी से विवाह कर लिया था सरस्वती जी से इसीलिए उनकी पूजा नहीं की जाती है पूजनीय नहीं माने जाते हैं क्योंकि उन्होंने सृष्टि बनाई तो सरस्वती जी भी उसी में आई तो इस हिसाब से उनकी बेटी हुई तो उन्होंने अपनी बेटी से विवाह कर लिया था इसलिए ब्रह्मा जी की पूजा नहीं की जाती है धन्यवाद

bolkar speaker
ब्रह्मा जी की पूजा सर्वत्र क्यों नहीं होती है?Brahma Ji Ki Pooja Sarvatr Kyun Nahin Hoti Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
4:48
नमस्कार दोस्तों की योजना पिता ब्रह्मा जी की पूजा सर्वत्र क्यों नहीं होती है देखिए हिंदू धर्म की त्रिमूर्ति जैसे कि ब्रह्मा विष्णु महेश को सारे संसार जानता है एक और ब्रह्मा जी ने एक सृष्टि का रचना काल भी मानते हो और दूसरी और विश्वजीत तुषार को पालने वाले हैं लेकिन महेश जानी भगवान शिव को विनाशकारी माना जाता है क्योंकि पृथ्वी पर जब बाप बनने लगता है जब आप बढ़ जाने पर अपना रौद्र रूप दिखाते हैं और उनका विनाश करते हैं विष्णु शंकर के मंदिर इस देखिए भगवान विष्णु एवं भगवान शंकर के भारत में ही क्या पूर्णिया भरना के प्राचीन एवं माननीय मंदिर है यह मंदिर जो सुन के नाम पर हैं या उनसे जुड़े हुए किसी भी अवतार के लिए समर्पित हैं जय श्री कृष्ण मंदिर श्री राम मंदिर भैरव मंदिर और ब्रह्मा जी के मंदिर में बिल्कुल कम है लेकिन ब्रह्मा जी के मंदिर को आपको पूरे विश्व में केवल तीन ही मिलेंगे ऐसा क्यों ब्रह्मा जी ऐसा क्यों है कि ब्रह्मा जी जिन्होंने इस दुनिया का आकार दिया वे यह देव महादेव है इनके कारण इस सृष्टि में एक ही रूप मिला भगवान ब्रह्मा ने ही अपने चारों वेदों का ज्ञान दिया हिंदू धर्म के अनुसार उनकी शारीरिक संरचना भी बेहद अलग है चार चेहरे चार हाथ एवं चारों हाथों को एक-एक वेद ब्रह्मा जी अपने भक्तों को उधार करते हैं अब बात करें तो उनकी पूजा सर्वत्र जो हार नहीं होती लेकिन इन्हें देव की पूजा नहीं करने का कांड जो है क्योंकि धरती लोक पर ब्रह्मा जी के जो मंदिर है किंतु मंदिर तो है लेकिन वहां पर पूजा करना वर्जित माना गया है और मुस्लिम आना क्योंकि पुरानी कथा है जो शायद आपने उसने और मैंने काफी बार जो है सुनिए कहते हैं कि एक बार ब्रह्मा जी ने मन में धरती की भलाई के लिए यज्ञ करने का ख्याल है यज्ञ के लिए जगह तलाश तलाश करनी चाहिए तत्पश्चात खानपुर चुनाव करने के लिए उन्होंने अपनी बाहर निकालते हुए कमल को धरती लोक के वैद्य कहते हैं जिस स्थान पर और कमल गिरा वहां ब्रह्मा जी का मंदिर बनाया गया था यह स्थान राजस्थान के पुष्कर शहर जहां जिस जहां उस पुष्प का एक अंश कितने तालाब का निर्माण हुआ जगतपिता ब्रह्मा मंदिर है आज के युग में इस मंदिर को जगतपिता ब्रह्मा मंदिर के नाम से जाना जाता है जहां श्रद्धालुओं की लंबी कतारें जो है देखी जा सकती हैं तो कथा के अगले चरण में मैं आता हूं ब्रह्मा द्वारा तीन बूंदे जहां तक तिलोकपुर की गई जिसमें से एक पुष्कर स्थान पर गिरी अब स्थान का चुनाव करने के बाद ब्रह्मा जी यज्ञ के लिए ठीक उसी स्थान पर पहुंचे जहां पर से गिरा था लेकिन उनकी पत्नी सावित्री वक्त पर नहीं पहुंच पाई यज्ञ का समय बीत रहा था वह मैंने ध्यान दिया की जगह का समय चल निकल रहा है यदि सही समय पर आरंभ नहीं किया गया तो इसका असर अच्छा कैसे हो सकता तो यह की किरणें किस तरीके आवश्यकता थी इसलिए उन्होंने एक स्थानीय बाला बाला से शादी कर ली और यज्ञ में बैठकर या 11:00 या 11:00 बजे चुका था किंतु थोड़ी देर से वहां पहुंची तो यह कि मैं अपनी जगह पाकर जो है उस औरत को देखकर प्रदोष क्रोधित हो गई पृथ्वी लोग तुम्हारी और उन्होंने इस ग्रुप को गुस्से में आके ब्रह्मा जी को श्राप दे दिया था और कहां जाओ इस पृथ्वी लोक में तुम्हारी कहीं भी पूजा नहीं हो कि यहां का जनजीवन तुम्हें यह कभी याद नहीं रहेगा तो वही जो देवी सावित्री जिन्होंने इतने गुस्से हो कर्म को शाप दे दिया और सावित्री जी के इस रूप को देखकर देखकर डर गए उन्होंने विनती से कृपया अपना नाम वापस लेने लेकिन पत्रों से भरी हुई तवित्री ने उनकी बात नहीं मानी जब कुछ नहीं पहचानता गुस्सा ठंडा उनका किस जाति पर सिर्फ पुष्कर में ही आप की पूजा होगी कोई भी दूसरा आपका मंदिर बनाएगा तो उसका विनाश हो जाएगा और उनके अनुसार जय ब्रह्माजी पुष्कर स्थान पर 10 साल और 10000 साल तक रहे इंसान उन्होंने पूरी सृष्टि की रचना की जब पुलिस नौकरी सिस्टर विकास के लिए 5 दिनों का यज्ञ के यही कारण है कि बीजेपी के दौरान सावित्री फोन की थी जैसे आपसे तलाक की तो पूजा होती है लेकिन ब्रह्मा जी की पूजा नहीं होती है आज भी श्रद्धालु कभी दूर से ही उनकी प्रार्थना कर लेते हैं परंतु उनकी वंदना करने की हिमाकत नहीं करते ब्रह्मा जी के साथ ही पुष्कर की शर्मा सहित ऋतु का ही मन में आता है देवी समिति विराजमान है और क्रोध शांत होने को सूची पुष्कर के पास मौजूद पहाड़ियों का गत वर्षो में लीन हो गई और वही जाकर भक्तों का कल्याण करने लगी तो यही कारण है कि उनकी पूजा शब्द सर्वत्र नहीं होती है आशा करता हूं आपका कोई सवाल का जवाब मिल गया होगा लाइक और सब्सक्राइब करें धन्यवाद

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • ब्रह्मा जी की पूजा प्रायः क्यों नहीं होती, ब्रह्मा देव कहाँ रहते हैं, ब्रह्मा जी की पूजा क्यों नहीं होती है
URL copied to clipboard