#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत क्या है?

Holographic Universe Ka Siddhaant Kya Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:45
नमस्कार दोस्तों आपका मतलब है होलोग्राफी कितने वर्ष का सिद्धांत क्या है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर प्रकार से बोलो ग्राफी सिन्हा ज्योतिष बात पर जोर देता है जो हमारे ब्रह्मांड की गणिती व्याख्या के जितने भी आयाम का वैदिक नाम वास्तव में उसे लगभग एक अधिक की आवश्यकता होती है और हमारे शोधकर्ताओं ने कहा है कि वह लोग राम विवाह में होते हैं लेकिन हमें यह दीवानी नज़र आते हैं और हमारा ब्रह्मांड भी इसी तरह हुए बार कर सकता है धन्यवाद साथियों खुश रहो
Namaskaar doston aapaka matalab hai holograaphee kitane varsh ka siddhaant kya hai to doston aapake savaal ka uttar prakaar se bolo graaphee sinha jyotish baat par jor deta hai jo hamaare brahmaand kee ganitee vyaakhya ke jitane bhee aayaam ka vaidik naam vaastav mein use lagabhag ek adhik kee aavashyakata hotee hai aur hamaare shodhakartaon ne kaha hai ki vah log raam vivaah mein hote hain lekin hamen yah deevaanee nazar aate hain aur hamaara brahmaand bhee isee tarah hue baar kar sakata hai dhanyavaad saathiyon khush raho

और जवाब सुनें

bolkar speaker
होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत क्या है?Holographic Universe Ka Siddhaant Kya Hai
Ram Kumawat  Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ram जी का जवाब
Unknown
0:39
उस अवकाश वाले होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत क्या है तो होलोग्राफिक सिद्धांत इस बात पर जोर देता है कि भगवान की गणित की व्याख्या के लिए जितने भी आयाम का बेटी खाता है वास्तव में उसे लगभग 1 अतिरिक्त की आवश्यकता होती है शोधकर्ताओं ने कहा है कि हम क्रिया एवं लग रहा होता है और संभव है कि एक व्यापक कुमार की 36 पदों विमीय पर क्या हुआ प्रतिमा तक होता है जिसे हम होलोग्राम कहते हैं और धन्यवाद
Us avakaash vaale holograaphik yoonivars ka siddhaant kya hai to holograaphik siddhaant is baat par jor deta hai ki bhagavaan kee ganit kee vyaakhya ke lie jitane bhee aayaam ka betee khaata hai vaastav mein use lagabhag 1 atirikt kee aavashyakata hotee hai shodhakartaon ne kaha hai ki ham kriya evan lag raha hota hai aur sambhav hai ki ek vyaapak kumaar kee 36 padon vimeey par kya hua pratima tak hota hai jise ham holograam kahate hain aur dhanyavaad

bolkar speaker
होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत क्या है?Holographic Universe Ka Siddhaant Kya Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:28
सवाल है कि होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत क्या है तो ब्रह्मांड में जो जैसा दिखता है वैसा होता नहीं है ना कि हम जैसा ब्रह्मांड के बारे में सोचते हैं वैसा होता है होलोग्राफिक सिद्धांत इस बात पर जोर देता है कि ब्रह्मांड की गणितीय व्याख्या के लिए कितने आयाम का वह दिखता है वास्तव में उससे एक काम की आवश्यकता होती है शोधकर्ताओं ने कहा जो हमें रियाल में लग रहा होता है संभव में है कि वह एक व्यापक ब्रह्मांड के क्षितिज पर दो विमाएं प्रक्रियाओं को प्रतिबिंब मात्र हो यह परिणाम वेयर यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों और उनके सहकर्मियों द्वारा निकाले गए हैं शोधकर्ताओं ने कहा कि होलोग्राम भी आयामी होते हैं लेकिन हमें थी आयामी नजर आते हैं हमारा ब्रह्मांड भी इसी तरह व्यवहार कर सकता है वैज्ञानिकों ने संभावना जताई है कि हो सकता है ब्रह्मांड खोलो राम की तरह हो जो होता है वो भी आयामी लेकिन दिखता है त्रिआयामी यह संभावना जताने वाले वैज्ञानिकों में भारत के वैज्ञानिक भी शामिल है पिछले दो दशकों के सिद्धांत एक भौतिकी के सबसे महत्वपूर्ण सिद्धांतों में से एक सिद्धांत इस धारणा को चुनौती देने वाला है कि ब्राह्मण क्रिया या हुई है ब्रह्मांड की गणितीय व्याख्या के लिए जितने आयाम का मैं दिखता है बस तुम्हें उससे लगभग 1 अतिरिक्त की आवश्यकता होती है
Savaal hai ki holograaphik yoonivars ka siddhaant kya hai to brahmaand mein jo jaisa dikhata hai vaisa hota nahin hai na ki ham jaisa brahmaand ke baare mein sochate hain vaisa hota hai holograaphik siddhaant is baat par jor deta hai ki brahmaand kee ganiteey vyaakhya ke lie kitane aayaam ka vah dikhata hai vaastav mein usase ek kaam kee aavashyakata hotee hai shodhakartaon ne kaha jo hamen riyaal mein lag raha hota hai sambhav mein hai ki vah ek vyaapak brahmaand ke kshitij par do vimaen prakriyaon ko pratibimb maatr ho yah parinaam veyar yoonivarsitee oph teknolojee ke vaigyaanikon aur unake sahakarmiyon dvaara nikaale gae hain shodhakartaon ne kaha ki holograam bhee aayaamee hote hain lekin hamen thee aayaamee najar aate hain hamaara brahmaand bhee isee tarah vyavahaar kar sakata hai vaigyaanikon ne sambhaavana jataee hai ki ho sakata hai brahmaand kholo raam kee tarah ho jo hota hai vo bhee aayaamee lekin dikhata hai triaayaamee yah sambhaavana jataane vaale vaigyaanikon mein bhaarat ke vaigyaanik bhee shaamil hai pichhale do dashakon ke siddhaant ek bhautikee ke sabase mahatvapoorn siddhaanton mein se ek siddhaant is dhaarana ko chunautee dene vaala hai ki braahman kriya ya huee hai brahmaand kee ganiteey vyaakhya ke lie jitane aayaam ka main dikhata hai bas tumhen usase lagabhag 1 atirikt kee aavashyakata hotee hai

bolkar speaker
होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत क्या है?Holographic Universe Ka Siddhaant Kya Hai
TechVR ( Vikas RanA) Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए TechVR जी का जवाब
IT Professional
1:03
राजस्थान योजना पूछा होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत क्या है दीक्षा को बताना चाहूंगा कि यदि ऐसा संभव हो सकता है कि किलोग्राम की तरह हमारा ब्रह्मांड वास्तव में विविध आयामी हो लेकिन दिखता त्रिआयामी है और इन विज्ञान को में भारत की विज्ञान है जो वैज्ञानिक भी इसमें शामिल है शोधकर्ताओं में पिछले दो दशकों में सैद्धांतिक भौतिक और सबसे महत्वपूर्ण सिद्धांतों में से एक सिद्धांत इस धारणा की चुनौती देने को कहा कि ब्रह्मांड जो है त्रिआयामी है होलोग्राफिक सिद्धांत किस बात पर जोर देता है कि ब्रह्मांड की गणितीय व्याख्या के लिए जितने भी आयाम वह दिखाता है टर्न जितने भी आयाम जो दिखता है वास्तव में लगभग उसके अतिरिक्त की आवश्यकताएं होती हैं तो शोधकर्ताओं ने कहा कि होलोग्राम जी हम ही होते हैं लेकिन हमें यह रियामी नजर आते हैं हमारा ब्रह्मांड में इसी तरह से व्यवहार करता है तो यह कुछ इसके बारे में आपको इंफॉर्मेशन थी तो यह का सिद्धांत है से करता हूं आपको आपके सवाल का जवाब मिल गया को सब्सक्राइब करें धन्यवाद
Raajasthaan yojana poochha holograaphik yoonivars ka siddhaant kya hai deeksha ko bataana chaahoonga ki yadi aisa sambhav ho sakata hai ki kilograam kee tarah hamaara brahmaand vaastav mein vividh aayaamee ho lekin dikhata triaayaamee hai aur in vigyaan ko mein bhaarat kee vigyaan hai jo vaigyaanik bhee isamen shaamil hai shodhakartaon mein pichhale do dashakon mein saiddhaantik bhautik aur sabase mahatvapoorn siddhaanton mein se ek siddhaant is dhaarana kee chunautee dene ko kaha ki brahmaand jo hai triaayaamee hai holograaphik siddhaant kis baat par jor deta hai ki brahmaand kee ganiteey vyaakhya ke lie jitane bhee aayaam vah dikhaata hai tarn jitane bhee aayaam jo dikhata hai vaastav mein lagabhag usake atirikt kee aavashyakataen hotee hain to shodhakartaon ne kaha ki holograam jee ham hee hote hain lekin hamen yah riyaamee najar aate hain hamaara brahmaand mein isee tarah se vyavahaar karata hai to yah kuchh isake baare mein aapako imphormeshan thee to yah ka siddhaant hai se karata hoon aapako aapake savaal ka javaab mil gaya ko sabsakraib karen dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत क्या है होलोग्राफिक यूनिवर्स का सिद्धांत
URL copied to clipboard