#भारत की राजनीति

bolkar speaker

पुलिस हिरासत व न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है?

Police Hirasat Va Nyayik Hirasat Me Kya Ferk Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
0:56
कॉल किया गया है पुलिस हिरासत में न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है दोस्तों जब पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए अभियुक्त वह मजिस्ट्रेट के पास पेश किया जाता है तो उसके पास दो विकल्प होते हैं उस प्रकार की कस्टडी पर आरोपी के लिए मुकर कर सकता है पुलिस में तात्पर्य है कि पुलिस के पास आरोपी को हिरासत में ले सकता है इसलिए जब पुलिस हिरासत में भेजा जाएगा तो आरोपी को पुलिस स्टेशन में बंद कर दिया जाता है और कुछ परिवर्तन में पुलिस को पूछताछ के लिए आरोपी तक पहुंचने की होगी अभियुक्त मजिस्ट्रेट की हिरासत में होगा और उसे जेल भेजा जाएगा यह दो तरह की होती हो धन्यवाद
Kol kiya gaya hai pulis hiraasat mein nyaayik hiraasat mein kya antar hai doston jab pulis dvaara giraphtaar kie gae abhiyukt vah majistret ke paas pesh kiya jaata hai to usake paas do vikalp hote hain us prakaar kee kastadee par aaropee ke lie mukar kar sakata hai pulis mein taatpary hai ki pulis ke paas aaropee ko hiraasat mein le sakata hai isalie jab pulis hiraasat mein bheja jaega to aaropee ko pulis steshan mein band kar diya jaata hai aur kuchh parivartan mein pulis ko poochhataachh ke lie aaropee tak pahunchane kee hogee abhiyukt majistret kee hiraasat mein hoga aur use jel bheja jaega yah do tarah kee hotee ho dhanyavaad

और जवाब सुनें

bolkar speaker
पुलिस हिरासत व न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है?Police Hirasat Va Nyayik Hirasat Me Kya Ferk Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:46
सवाल यह है कि पुलिस हिरासत को न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है तो सबसे पहले हम पूरे पुलिस हिरासत के बारे में जान लेते हैं जब एक पुलिस अधिकारी एक व्यक्ति को संघीय अपराध करने में गिरफ्तार कर लेता है तो और गिरफ्तार व्यक्ति को हिरासत में लिया गया बताया जाता है पुलिस हिरासत का उद्देश्य अपराध के बारे में अधिक जानकारी खट्टा करने के लिए संदेश से पूछताछ करना है और सबूतों को नष्ट करने से रोकना और गवाहों को आरोपी द्वारा डरा धमका कर मामले को प्रभावित करने से बचाना है यह कस्टडी मजिस्ट्रेट के आदेश के बिना 24 घंटे से अधिक नहीं हो सकती है पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए और हिरासत में रखे गए प्रत्येक व्यक्ति को गिरफ्तारी के 24 घंटे के भीतर निकटतम मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया जाना चाहिए जिसमें गिरफ्तारी के स्थान से लेकर मजिस्ट्रेट के कोर्ट तक चलने का सफर आशा आवश्यक समय शामिल नहीं होगा मजिस्ट्रेट के आदेश के बिना किसी भी व्यक्ति को 24 घंटे की अवधि से अधिक रासत में नहीं रखा जा सकता दूसरा है न्यायिक हिरासत जब पुलिस द्वारा गिरफ्तार किए गए अभियुक्त को मजिस्ट्रेट के पास पेश किया जाता है तो उसके पास दो विकल्प होते हैं आरोपी को पुलिस हिरासत में या न्यायिक हिरासत में भेज ना यह है सीआरपीसी की धारा 167 के प्रावधानों से स्पष्ट है कि मजिस्ट्रेट को जो उचित लगता है उसी प्रकार की कस्टडी में आरोपी के लिए मुकर्रर करता है पुलिस हिरासत में पुलिस के पास आरोपी की शारीरिक हिरासत होगी इसलिए जब पुलिस पुलिस हिरासत में भेज भेजा जाएगा तो आरोपी को पुलिस स्टेशन में बंद कर दिया जाएगा उस परिदृश्य में पुलिस को पूछताछ के लिए आरोपी तक हर समय पहुंच होती है न्यायिक हिरासत में अभियुक्त मजिस्ट्रेट की हिरासत में होगा और उसे जेल भेजा जाएगा न्यायिक हिरासत में रखे गए आरोपी से पूछताछ करने के लिए पुलिस को संबंधित मजिस्ट्रेट की अनुमति लेनी होगी मजिस्ट्रेट की मती के से ऐसी विरासत के दौरान पुलिस द्वारा पूछताछ विरासत की प्रकृति को बदल नहीं सकती धारा 167 के तहत आवश्यक नहीं है कि सभी परिस्थितियों में गिरफ्तारी पुलिस अधिकारी द्वारा ही की जानी चाहिए और द्वारा नहीं तथा केस डायरी की प्रविष्टियों का रिकॉर्ड आवश्यक रूप से होना चाहिए इससे निश्चित तौर पर एक सक्षम अधिकारी है गिरफ्तारी का अधिकार प्राप्त अधिकारी द्वारा इस मान्यता की आरोपी संबंधित कानून के तहत दंडनीय अपराध का दोषी हो सकता है पर विचार करते हुए गिरफ्तार किए गए व्यक्ति को सक्षम मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करने पर ही संभव होगा बावजूद इसके कि इस अधिकारी ने गिरफ्तारी की है वह सही अर्थों में पुलिस अधिकारी नहीं है
Savaal yah hai ki pulis hiraasat ko nyaayik hiraasat mein kya antar hai to sabase pahale ham poore pulis hiraasat ke baare mein jaan lete hain jab ek pulis adhikaaree ek vyakti ko sangheey aparaadh karane mein giraphtaar kar leta hai to aur giraphtaar vyakti ko hiraasat mein liya gaya bataaya jaata hai pulis hiraasat ka uddeshy aparaadh ke baare mein adhik jaanakaaree khatta karane ke lie sandesh se poochhataachh karana hai aur sabooton ko nasht karane se rokana aur gavaahon ko aaropee dvaara dara dhamaka kar maamale ko prabhaavit karane se bachaana hai yah kastadee majistret ke aadesh ke bina 24 ghante se adhik nahin ho sakatee hai pulis dvaara giraphtaar kie gae aur hiraasat mein rakhe gae pratyek vyakti ko giraphtaaree ke 24 ghante ke bheetar nikatatam majistret ke saamane pesh kiya jaana chaahie jisamen giraphtaaree ke sthaan se lekar majistret ke kort tak chalane ka saphar aasha aavashyak samay shaamil nahin hoga majistret ke aadesh ke bina kisee bhee vyakti ko 24 ghante kee avadhi se adhik raasat mein nahin rakha ja sakata doosara hai nyaayik hiraasat jab pulis dvaara giraphtaar kie gae abhiyukt ko majistret ke paas pesh kiya jaata hai to usake paas do vikalp hote hain aaropee ko pulis hiraasat mein ya nyaayik hiraasat mein bhej na yah hai seeaarapeesee kee dhaara 167 ke praavadhaanon se spasht hai ki majistret ko jo uchit lagata hai usee prakaar kee kastadee mein aaropee ke lie mukarrar karata hai pulis hiraasat mein pulis ke paas aaropee kee shaareerik hiraasat hogee isalie jab pulis pulis hiraasat mein bhej bheja jaega to aaropee ko pulis steshan mein band kar diya jaega us paridrshy mein pulis ko poochhataachh ke lie aaropee tak har samay pahunch hotee hai nyaayik hiraasat mein abhiyukt majistret kee hiraasat mein hoga aur use jel bheja jaega nyaayik hiraasat mein rakhe gae aaropee se poochhataachh karane ke lie pulis ko sambandhit majistret kee anumati lenee hogee majistret kee matee ke se aisee viraasat ke dauraan pulis dvaara poochhataachh viraasat kee prakrti ko badal nahin sakatee dhaara 167 ke tahat aavashyak nahin hai ki sabhee paristhitiyon mein giraphtaaree pulis adhikaaree dvaara hee kee jaanee chaahie aur dvaara nahin tatha kes daayaree kee pravishtiyon ka rikord aavashyak roop se hona chaahie isase nishchit taur par ek saksham adhikaaree hai giraphtaaree ka adhikaar praapt adhikaaree dvaara is maanyata kee aaropee sambandhit kaanoon ke tahat dandaneey aparaadh ka doshee ho sakata hai par vichaar karate hue giraphtaar kie gae vyakti ko saksham majistret ke samaksh pesh karane par hee sambhav hoga baavajood isake ki is adhikaaree ne giraphtaaree kee hai vah sahee arthon mein pulis adhikaaree nahin hai

bolkar speaker
पुलिस हिरासत व न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है?Police Hirasat Va Nyayik Hirasat Me Kya Ferk Hai
Ganga Asati Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए Ganga जी का जवाब
Unknown
0:57
कोशिश की चमक नहीं जाती है वहां पर उसके बारे में पूरा डिटेल पढ़ने के बाद कोई कुछ बोलता है अभी इसीलिए ओके बाय जल्दी लिखने में आयोजित विश्व की सबसे ज्यादा
Koshish kee chamak nahin jaatee hai vahaan par usake baare mein poora ditel padhane ke baad koee kuchh bolata hai abhee iseelie oke baay jaldee likhane mein aayojit vishv kee sabase jyaada

bolkar speaker
पुलिस हिरासत व न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है?Police Hirasat Va Nyayik Hirasat Me Kya Ferk Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:56
पुलिस हिरासत में उन्हें न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है पुलिस के एक विभाग है थाना एक विभाग है था ना वह न्याय आयनों के अंडर में सरकार ने की व्यवस्था बनाई है कि आईपीसी और सीआरपीसी की धारा के अंतर्गत यदि किसी व्यक्ति के खिलाफ f.i.r. होती है औरों पकड़ा जाता है तो सबसे पहले उसे न्यायालय में पेश किया जाता है न्यायालय के पास 2 साल की होती है चाहे तो वह जमानत दे दे और चाहे उसको न्यायिक अभिरक्षा में उसको जेल भेज दे जेल दूसरा विभाग होता वह पुलिस के विभाग नहीं होता है जो जेल आदमी भेजा जाता है और न्यायिक सुरक्षा में माना जाता है कि अब वह पुलिस से उसका कोई लेना-देना नहीं पुलिस उसमें जॉब चार्ट शीट लगाएगी तफ्तीश करेगी तब तक व्यक्ति को जेल में रहे कब तक रहेगा जब तक न्यायालय उसकी जमानत नहीं दे देती है जमानत गुस्सा क्यों कर दी जाती है इन सब चीजों का ध्यान रखकर के न्यायिक अभिरक्षा अलग होती है और पुलिस के वृक्षा अलग होती है
Pulis hiraasat mein unhen nyaayik hiraasat mein kya antar hai pulis ke ek vibhaag hai thaana ek vibhaag hai tha na vah nyaay aayanon ke andar mein sarakaar ne kee vyavastha banaee hai ki aaeepeesee aur seeaarapeesee kee dhaara ke antargat yadi kisee vyakti ke khilaaph f.i.r. hotee hai auron pakada jaata hai to sabase pahale use nyaayaalay mein pesh kiya jaata hai nyaayaalay ke paas 2 saal kee hotee hai chaahe to vah jamaanat de de aur chaahe usako nyaayik abhiraksha mein usako jel bhej de jel doosara vibhaag hota vah pulis ke vibhaag nahin hota hai jo jel aadamee bheja jaata hai aur nyaayik suraksha mein maana jaata hai ki ab vah pulis se usaka koee lena-dena nahin pulis usamen job chaart sheet lagaegee taphteesh karegee tab tak vyakti ko jel mein rahe kab tak rahega jab tak nyaayaalay usakee jamaanat nahin de detee hai jamaanat gussa kyon kar dee jaatee hai in sab cheejon ka dhyaan rakhakar ke nyaayik abhiraksha alag hotee hai aur pulis ke vrksha alag hotee hai

bolkar speaker
पुलिस हिरासत व न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है?Police Hirasat Va Nyayik Hirasat Me Kya Ferk Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:28
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न इंग्लिश विरासत व न्यायिक हिरासत में क्या अंतर है तो फ्रेंडशिप प्लीज किसी को अपनी हिरासत में रखती है अपनी चौकी में जेल अपने तरीके से उसको रखती है तो उसे पुलिस हिरासत करती हूं न्यायिक हिरासत जो अदालत के द्वारा जून को सजा मिलती है और जब वह अदालत से जाता है जेल में रहता है दूसरा शब्द बोलते हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn inglish viraasat va nyaayik hiraasat mein kya antar hai to phrendaship pleej kisee ko apanee hiraasat mein rakhatee hai apanee chaukee mein jel apane tareeke se usako rakhatee hai to use pulis hiraasat karatee hoon nyaayik hiraasat jo adaalat ke dvaara joon ko saja milatee hai aur jab vah adaalat se jaata hai jel mein rahata hai doosara shabd bolate hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • पुलिस हिरासत क्या होती है ?... न्यायिक हिरासत में क्या होता है
URL copied to clipboard