#भारत की राजनीति

bolkar speaker

वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं?

Varist Nagriko Ki Suraksha Ke Liye Kon Kon Se Kanoon Banaye Gaye Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:18
नागरिकों की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं उनकी सुरक्षा के लिए भी स्पेशल सेल की गठन किया गया है और दूसरी बात कि आम तौर पर देखते हैं बड़े-बड़े शहरों के अंदर वरिष्ठ नागरिकों के साथ हत्या और लूटपाट बड़ी तादाद में किया परंतु वह भी इस तरीके से नाकाम होती हुई दिख रही है दोस्तों के लिए जो भी दी जाती है उनके लिए पहुंचने पर वृद्धा पेंशन के लिए वरिष्ठ नागरिक अपना जीवन यापन कुछ सहयोग इनको मिल जाता है और एक स्पेशल सलीम के लिए जो बनाई गई है एक मॉल और साथ ही टीम की सुरक्षा के लिए दोस्तों मार्केट में कुछ कर्तव्य और कर्तव्यों के अंदर ही वरिष्ठ नागरिकों को लेकर देखकर भी हमारे संबंधित के साथ जोड़ते हैं
Naagarikon kee suraksha ke lie kaun-kaun se kaanoon banae gae hain unakee suraksha ke lie bhee speshal sel kee gathan kiya gaya hai aur doosaree baat ki aam taur par dekhate hain bade-bade shaharon ke andar varishth naagarikon ke saath hatya aur lootapaat badee taadaad mein kiya parantu vah bhee is tareeke se naakaam hotee huee dikh rahee hai doston ke lie jo bhee dee jaatee hai unake lie pahunchane par vrddha penshan ke lie varishth naagarik apana jeevan yaapan kuchh sahayog inako mil jaata hai aur ek speshal saleem ke lie jo banaee gaee hai ek mol aur saath hee teem kee suraksha ke lie doston maarket mein kuchh kartavy aur kartavyon ke andar hee varishth naagarikon ko lekar dekhakar bhee hamaare sambandhit ke saath jodate hain

और जवाब सुनें

bolkar speaker
वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं?Varist Nagriko Ki Suraksha Ke Liye Kon Kon Se Kanoon Banaye Gaye Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:57
वरिष्ठ नागरिक को सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए पहले तो थाने में रजिस्ट्रार बनाया गया जहां उसकी उनकी उपस्थिति दर्ज की जाती है मतलब हमारे क्षेत्र में कौन-कौन से किस परिवार में कितने वरिष्ठ नागरिक हैं उनको पेंशन मिलती है समय से कि नहीं मिलती है दूसरा उनके घर परिवार वालों को परेशान तो नहीं कर रहे हैं दूसरा उनके इलाज के लिए समुचित व्यवस्था है कि नहीं इसलिए समुचित पीएमसीओ गरज होती हैं प्रायमरी हेल्थ सेंटर पीएससी वगैरह वहां भी मतलब उनकी सूचना दे दी जाती है कि इनके पास पैसा हो जाना हो आप इनकी दवा सरकारी अन्य शुरू करेंगे यह सारी सुरक्षा में जो है खासतौर से पुलिस थाने की सुरक्षा जो है वह भी ज्यादा महत्व रखती ताकि लड़के बहू या मतलब अन्य पड़ोसी जो है उनके कमजोरी का फायदा उठा करके उनको परेशान ना करें इसलिए अपना पंजीकरण देकर कोई बुजुर्ग है घर में तो उसका थाने में पंजीकरण जरूर करवा दीजिए 112 नंबर पर
Varishth naagarik ko suraksha ke lie kaun-kaun se kaanoon banae gae hain varishth naagarikon kee suraksha ke lie pahale to thaane mein rajistraar banaaya gaya jahaan usakee unakee upasthiti darj kee jaatee hai matalab hamaare kshetr mein kaun-kaun se kis parivaar mein kitane varishth naagarik hain unako penshan milatee hai samay se ki nahin milatee hai doosara unake ghar parivaar vaalon ko pareshaan to nahin kar rahe hain doosara unake ilaaj ke lie samuchit vyavastha hai ki nahin isalie samuchit peeemaseeo garaj hotee hain praayamaree helth sentar peeesasee vagairah vahaan bhee matalab unakee soochana de dee jaatee hai ki inake paas paisa ho jaana ho aap inakee dava sarakaaree any shuroo karenge yah saaree suraksha mein jo hai khaasataur se pulis thaane kee suraksha jo hai vah bhee jyaada mahatv rakhatee taaki ladake bahoo ya matalab any padosee jo hai unake kamajoree ka phaayada utha karake unako pareshaan na karen isalie apana panjeekaran dekar koee bujurg hai ghar mein to usaka thaane mein panjeekaran jaroor karava deejie 112 nambar par

bolkar speaker
वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं?Varist Nagriko Ki Suraksha Ke Liye Kon Kon Se Kanoon Banaye Gaye Hai
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
3:21
सवाल यह है कि वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं घरेलू हिंसा आपसी मतभेद पर और संपत्ति विवाद को लेकर अक्सर बुजुर्गों के साथ मारपीट तक की जाती है और जब आप बात उनके स्वास्थ्य की देखभाल और खाने-पीने की होती है उनके साथ बेहद बुरा सलूक किया जाता है देश में बढ़ते इसी तरह के मामलों से निपटने के लिए और बुजुर्गों को उनका हक दिलाने के लिए माता-पिता एवं वरिष्ठ नागरिकों का भरण-पोषण और कल्याण अधिनियम 2007 में प्रावधान किए गए इस कानून के तहत बुजुर्गों के कई अधिकार हैं कोई भी वरिष्ठ नागरिक जिसकी आयु 60 वर्ष अथवा उससे ज्यादा है इसके अंतर्गत माता-पिता भी आते हैं जो कि अपनी राय या फिर अपनी संपत्ति के द्वारा होने वाली आय से अपना भरण-पोषण करने में असमर्थ हैं वह अपने व्यस्त को बच्चों या रिश्तेदारों से भरण-पोषण प्राप्त करने के लिए आवेदन कर सकते हैं अभिभावक में सगे और दत्तक माता पिता सोतेले माता-पिता भी शामिल है इस अधिनियम में यह प्रावधान भी है कि अगर रखरखाव का दावा करने वाले दादा दादी या माता-पिता हैं तो उनके बच्चे या पोता पोती अभी नाबालिग है तू अपने रिश्तेदार जो उनकी मृत्यु के बाद उनका उत्तराधिकारी होगा उसमें उस पर भी दावा कर सकते हैं ऐसी परिस्थिति में जब वरिष्ठ नागरिक इस शर्त पर अपनी संपत्ति अपने उत्तराधिकारी के नाम कर चुका है तो अपनी उसकी आर्थिक और शारीरिक जरूरतों का भरण पोषण करेगा और ऐसे में अगर संपत्ति का अधिकारी ऐसा नहीं है तो माता-पिता के वरिष्ठ नागरिक अपनी संपत्ति वापस ले सकता है वरिष्ठ नागरिक माता-पिता अपने क्षेत्र के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व के पास लगा सकते हैं अनुविभागीय अधिकारी न्यायालय द्वारा अधिकतम ₹10000 तक प्रति माह का भरण-पोषण खर्च वरिष्ठ नागरिक माता-पिता को दिलाया जा सकता है वरिष्ठ नागरिक माता-पिता दंड प्रक्रिया संहिता सीआरपीसी की धारा 125 के प्रावधान के तहत भी न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम श्रेणी के न्यायालय में भरण पोषण का आवेदन पेश कर सकते हैं कानून में यह भी है कि राज्य के हर जिले में कम से कम एक वृद्ध आश्रम हूं ताकि जो वरिष्ठ नागरिक जिनका कोई नहीं है इन वृद्ध आश्रमों में उनकी देखभाल हो सके सरकारी अस्पताल में बुजुर्गों के उपचार कल अलग से प्रावधान है मुझे ज्यादा तक न्यूज़ ज्यादा वक्त तक इंतजार न करना पड़े इसके लिए अलग से लाइन की व्यवस्था होती है वरिष्ठ नागरिकों की उपेक्षा या फिर उन्हें घर से निकाल देना एक गंभीर अपराध है और इसके लिए ₹5000 तक का जुर्माना या 3 महीने तक की कैद या दोनों हो सकते हैं देश के कई राज्यों में माता-पिता एवं वरिष्ठ नागरिकों का भरण-पोषण और कल्याण अधिनियम 2007 लागू है लेकिन असम विधानसभा ने 2017 में बुजुर्गों के हित में एक नया बिल पास किया असम एंप्लॉयमेंट रिस्पांसिबिलिटी एंड नॉन्फरस अकाउंटेबिलिटी एंड मॉनिटरिंग 10 2017 के मुताबिक अगर कोई नौकरी पेशा शख्स अपने बुजुर्ग माता-पिता की देखभाल ठीक से नहीं करता तो हर महीने एक तयशुदा रकम उसे तन उसकी तनख्वाह से काटकर उसके मां-बाप को दे दी जाएगी यह कानून फिलहाल असम में सरकारी कर्मचारियों के लिए है
Savaal yah hai ki varishth naagarikon kee suraksha ke lie kaun-kaun se kaanoon banae gae hain ghareloo hinsa aapasee matabhed par aur sampatti vivaad ko lekar aksar bujurgon ke saath maarapeet tak kee jaatee hai aur jab aap baat unake svaasthy kee dekhabhaal aur khaane-peene kee hotee hai unake saath behad bura salook kiya jaata hai desh mein badhate isee tarah ke maamalon se nipatane ke lie aur bujurgon ko unaka hak dilaane ke lie maata-pita evan varishth naagarikon ka bharan-poshan aur kalyaan adhiniyam 2007 mein praavadhaan kie gae is kaanoon ke tahat bujurgon ke kaee adhikaar hain koee bhee varishth naagarik jisakee aayu 60 varsh athava usase jyaada hai isake antargat maata-pita bhee aate hain jo ki apanee raay ya phir apanee sampatti ke dvaara hone vaalee aay se apana bharan-poshan karane mein asamarth hain vah apane vyast ko bachchon ya rishtedaaron se bharan-poshan praapt karane ke lie aavedan kar sakate hain abhibhaavak mein sage aur dattak maata pita sotele maata-pita bhee shaamil hai is adhiniyam mein yah praavadhaan bhee hai ki agar rakharakhaav ka daava karane vaale daada daadee ya maata-pita hain to unake bachche ya pota potee abhee naabaalig hai too apane rishtedaar jo unakee mrtyu ke baad unaka uttaraadhikaaree hoga usamen us par bhee daava kar sakate hain aisee paristhiti mein jab varishth naagarik is shart par apanee sampatti apane uttaraadhikaaree ke naam kar chuka hai to apanee usakee aarthik aur shaareerik jarooraton ka bharan poshan karega aur aise mein agar sampatti ka adhikaaree aisa nahin hai to maata-pita ke varishth naagarik apanee sampatti vaapas le sakata hai varishth naagarik maata-pita apane kshetr ke anuvibhaageey adhikaaree raajasv ke paas laga sakate hain anuvibhaageey adhikaaree nyaayaalay dvaara adhikatam ₹10000 tak prati maah ka bharan-poshan kharch varishth naagarik maata-pita ko dilaaya ja sakata hai varishth naagarik maata-pita dand prakriya sanhita seeaarapeesee kee dhaara 125 ke praavadhaan ke tahat bhee nyaayik dandaadhikaaree pratham shrenee ke nyaayaalay mein bharan poshan ka aavedan pesh kar sakate hain kaanoon mein yah bhee hai ki raajy ke har jile mein kam se kam ek vrddh aashram hoon taaki jo varishth naagarik jinaka koee nahin hai in vrddh aashramon mein unakee dekhabhaal ho sake sarakaaree aspataal mein bujurgon ke upachaar kal alag se praavadhaan hai mujhe jyaada tak nyooz jyaada vakt tak intajaar na karana pade isake lie alag se lain kee vyavastha hotee hai varishth naagarikon kee upeksha ya phir unhen ghar se nikaal dena ek gambheer aparaadh hai aur isake lie ₹5000 tak ka jurmaana ya 3 maheene tak kee kaid ya donon ho sakate hain desh ke kaee raajyon mein maata-pita evan varishth naagarikon ka bharan-poshan aur kalyaan adhiniyam 2007 laagoo hai lekin asam vidhaanasabha ne 2017 mein bujurgon ke hit mein ek naya bil paas kiya asam employament rispaansibilitee end nonpharas akauntebilitee end monitaring 10 2017 ke mutaabik agar koee naukaree pesha shakhs apane bujurg maata-pita kee dekhabhaal theek se nahin karata to har maheene ek tayashuda rakam use tan usakee tanakhvaah se kaatakar usake maan-baap ko de dee jaegee yah kaanoon philahaal asam mein sarakaaree karmachaariyon ke lie hai

bolkar speaker
वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं?Varist Nagriko Ki Suraksha Ke Liye Kon Kon Se Kanoon Banaye Gaye Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:40
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए कौन-कौन से कानून बनाए गए हैं तो फ्रेंड्स वरिष्ठ नागरिकों की सुरक्षा के लिए सुरक्षा सेल बनाए गए हैं जिसमें वरिष्ठ नागरिकों की रक्षा हो सके उनके साथ लूटपाट हत्या यह संभव हो सके उसके लिए अलग से सुरक्षा सेल बनाई गई है और इनको वरिष्ठ नागरिकों को पेंशन भी दी जाती है उनकी सहयोग के लिए जो वरिष्ठ नागरिकों की टेंशन होती है वह भी हर महीने आती है वह दी जाती है उनको उनके सहयोग के लिए उनकी जो जरूर दें उनकी पूर्ति के लिए कानून व सुरक्षा बनाए गए हैं धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai varishth naagarikon kee suraksha ke lie kaun-kaun se kaanoon banae gae hain to phrends varishth naagarikon kee suraksha ke lie suraksha sel banae gae hain jisamen varishth naagarikon kee raksha ho sake unake saath lootapaat hatya yah sambhav ho sake usake lie alag se suraksha sel banaee gaee hai aur inako varishth naagarikon ko penshan bhee dee jaatee hai unakee sahayog ke lie jo varishth naagarikon kee tenshan hotee hai vah bhee har maheene aatee hai vah dee jaatee hai unako unake sahayog ke lie unakee jo jaroor den unakee poorti ke lie kaanoon va suraksha banae gae hain dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • वरिष्ठ नागरिकों कौन होते है ? .. वरिष्ठ नागरिक सुरक्षा संरक्षण
URL copied to clipboard