#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speaker

न्यायालय में गवाह जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों दिलाई जाती है?

Nyayalay Mein Gavah Jab Gavahi Deta Hai To Geeta Ki Kasam Kyun Dilaei Jati Hai
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
2:00
हेलो न्यायालय में जवाब जब गवाही देता है तो खिंचा की कसम से बुलाए जाते हैं दोस्तों हाल फिलाल के अंदर कोई भी ऐसा नहीं किया जाता है कि कोई भी व्यक्ति गीता के ऊपर हाथ रखे कसम नहीं दिलाई जाती हैं परंतु जब वह अपने न्यायालय के अंदर जाते हैं उस समय वह किसी चीज की कसम स्वयं खा लेते हैं दोस्तों नाले के अंदर जो गीता है इसके कसम जो प्रचलन है आज नहीं था परंतु इस परंपरा को खत्म हुए लगभग 200 साल के आसपास हो जाते हैं परंतु फिर भी आप फिल्मों का सिकंदर दिखाएंगे वॉच इस दुनिया में सभी दोस्तों का दिन है भारतीय दंड संहिता में आस्था और निष्ठा पर निर्भर करता हमसे पहले दवा शपथ लेगा तभी वह बयान शाक्य माना जाएगा लेडीस शपत की फॉर्म तय नहीं की गई है यानी कि दोस्तों कोई भी व्यक्ति जो है या तो गीता कुरान बाइबल एचडी धर्म ग्रंथ का ध्वज कर कर सकता है और गवाही के दौरान सिर्फ परमेश्वर के नाम पर कसमें खाई जाती है अंग्रेजों के जमाने में जरूर इस तरह की कसमें खा कर दवाई दी जाती अंग्रेजों के जमाने में एक काफी अहमियत थी बाद में धीरे-धीरे इसका प्रसारण जो है वह खत्म हो गया वर्तमान में कोई कसम नहीं दिलाई जाती है परंतु हां जब से मुगल शासक आईपी मुगल शासकों ने जो कि झूठे झूठ बोलते थे और चुकी जब और न्याय करते थे तो उस दौरान उन्होंने देखा कि जो हिंदू समाज के व्यक्तियों पर या अपने कोई भी धर्म ग्रंथों उसकी झूठी कसम नहीं खाते और तू कि हिंदू धर्म में गीता जो है यह बहुत ही पवित्र ग्रंथ है इस वजह से इसकी झूठी सौगंध किसी भी व्यक्ति नहीं खाता था इसी वजह से इसका प्रसारण शुरू हुआ पहले मोबाइल मुगलों के बाद अंग्रेज और वर्तमान समय में ऐसा कुछ भी नहीं होता है
Helo nyaayaalay mein javaab jab gavaahee deta hai to khincha kee kasam se bulae jaate hain doston haal philaal ke andar koee bhee aisa nahin kiya jaata hai ki koee bhee vyakti geeta ke oopar haath rakhe kasam nahin dilaee jaatee hain parantu jab vah apane nyaayaalay ke andar jaate hain us samay vah kisee cheej kee kasam svayan kha lete hain doston naale ke andar jo geeta hai isake kasam jo prachalan hai aaj nahin tha parantu is parampara ko khatm hue lagabhag 200 saal ke aasapaas ho jaate hain parantu phir bhee aap philmon ka sikandar dikhaenge voch is duniya mein sabhee doston ka din hai bhaarateey dand sanhita mein aastha aur nishtha par nirbhar karata hamase pahale dava shapath lega tabhee vah bayaan shaaky maana jaega ledees shapat kee phorm tay nahin kee gaee hai yaanee ki doston koee bhee vyakti jo hai ya to geeta kuraan baibal echadee dharm granth ka dhvaj kar kar sakata hai aur gavaahee ke dauraan sirph parameshvar ke naam par kasamen khaee jaatee hai angrejon ke jamaane mein jaroor is tarah kee kasamen kha kar davaee dee jaatee angrejon ke jamaane mein ek kaaphee ahamiyat thee baad mein dheere-dheere isaka prasaaran jo hai vah khatm ho gaya vartamaan mein koee kasam nahin dilaee jaatee hai parantu haan jab se mugal shaasak aaeepee mugal shaasakon ne jo ki jhoothe jhooth bolate the aur chukee jab aur nyaay karate the to us dauraan unhonne dekha ki jo hindoo samaaj ke vyaktiyon par ya apane koee bhee dharm granthon usakee jhoothee kasam nahin khaate aur too ki hindoo dharm mein geeta jo hai yah bahut hee pavitr granth hai is vajah se isakee jhoothee saugandh kisee bhee vyakti nahin khaata tha isee vajah se isaka prasaaran shuroo hua pahale mobail mugalon ke baad angrej aur vartamaan samay mein aisa kuchh bhee nahin hota hai

और जवाब सुनें

bolkar speaker
न्यायालय में गवाह जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों दिलाई जाती है?Nyayalay Mein Gavah Jab Gavahi Deta Hai To Geeta Ki Kasam Kyun Dilaei Jati Hai
Shipra Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Shipra जी का जवाब
Self Employed
0:32
आपका सवाल है कि न्यायालय में गवा जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों जलाई जाती है देखिए हर एक धर्म का व्यक्ति जो भी आता है गवाही देने के लिए उसको और धर्म के धर्म ग्रंथ की गवाही दिलाई जाती है हिंदू धर्म में गीता को ही धर्म ग्रंथ माना जाता है और यही कारण है कि गीता की गवाही दिलाई जाती है और ऐसा माना जाता है कि जो भी गवा गवाही देने के लिए आया है वह अपने धर्म ग्रंथ की कसम खाने के बाद में कुछ भी झूठ नहीं बोलेगा जो भी सत्य है वही वहां पर बोलेगा आपका दिन शुभ रहे थे नहीं बात
Aapaka savaal hai ki nyaayaalay mein gava jab gavaahee deta hai to geeta kee kasam kyon jalaee jaatee hai dekhie har ek dharm ka vyakti jo bhee aata hai gavaahee dene ke lie usako aur dharm ke dharm granth kee gavaahee dilaee jaatee hai hindoo dharm mein geeta ko hee dharm granth maana jaata hai aur yahee kaaran hai ki geeta kee gavaahee dilaee jaatee hai aur aisa maana jaata hai ki jo bhee gava gavaahee dene ke lie aaya hai vah apane dharm granth kee kasam khaane ke baad mein kuchh bhee jhooth nahin bolega jo bhee saty hai vahee vahaan par bolega aapaka din shubh rahe the nahin baat

bolkar speaker
न्यायालय में गवाह जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों दिलाई जाती है?Nyayalay Mein Gavah Jab Gavahi Deta Hai To Geeta Ki Kasam Kyun Dilaei Jati Hai
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:23
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है न्यायालय में गवाही जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों जलाई जाती है तो फ्रेंड से गीता हमारा धार्मिक ग्रंथ है और गीता के ऊपर सभी की बहुत ज्यादा मान्यता होती है और गीता में एक-एक बात बिल्कुल सही लिखी हुई है और उसके ऊपर संघ बहुत विश्वास होता है इसलिए उसकी कसम दिलाई जाती है धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai nyaayaalay mein gavaahee jab gavaahee deta hai to geeta kee kasam kyon jalaee jaatee hai to phrend se geeta hamaara dhaarmik granth hai aur geeta ke oopar sabhee kee bahut jyaada maanyata hotee hai aur geeta mein ek-ek baat bilkul sahee likhee huee hai aur usake oopar sangh bahut vishvaas hota hai isalie usakee kasam dilaee jaatee hai dhanyavaad

bolkar speaker
न्यायालय में गवाह जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों दिलाई जाती है?Nyayalay Mein Gavah Jab Gavahi Deta Hai To Geeta Ki Kasam Kyun Dilaei Jati Hai
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:59
रायला में जब गवाही दी जाती है तो गीता की कसम क्यों खिलाई जाती है कि हमारे यहां गीता सबसे पवित्र ग्रंथ है जो भगवान के श्री मुख से निकली हुई है जिस प्रकार से मुसलमानों में कुरान होती है उसी प्रकार से हिंदुओं में गीता होती है गीता से पवित्र हमारे धर्म में कोई महत्वपूर्ण और पवित्र नहीं माना जाता है इसलिए उसको यह जब बताया जाता है कि मैं भगवान को हाथ जोड़ना गीता मतलब भगवान भगवान को हाजिर नाजिर जानकर मैं शपथ लेता हूं कि मैं जो कुछ भी कहूंगा सच कहूंगा और सच के सिवा कुछ नहीं कहूंगा इसलिए जब इसके बाद भी उसकी दवाई शुरू होती है कि वह सब ने सात वचनों का पालन करेगा तुझे वह बोलता है तो उसकी दवाई पर ही मुकदमा निर्भर करता है क्योंकि न्यायालय हमें हमारी न्याय व्यवस्था जो है गवाहों पर ही निर्भर करती है दे दवा मतलब उसके मुकदमे के पक्ष में अगर गवाही देता तो मुकदमा आज भी जीत जाता है और विरोध में अगर गाली देता है मुकदमा आदमी हार जाता है
Raayala mein jab gavaahee dee jaatee hai to geeta kee kasam kyon khilaee jaatee hai ki hamaare yahaan geeta sabase pavitr granth hai jo bhagavaan ke shree mukh se nikalee huee hai jis prakaar se musalamaanon mein kuraan hotee hai usee prakaar se hinduon mein geeta hotee hai geeta se pavitr hamaare dharm mein koee mahatvapoorn aur pavitr nahin maana jaata hai isalie usako yah jab bataaya jaata hai ki main bhagavaan ko haath jodana geeta matalab bhagavaan bhagavaan ko haajir naajir jaanakar main shapath leta hoon ki main jo kuchh bhee kahoonga sach kahoonga aur sach ke siva kuchh nahin kahoonga isalie jab isake baad bhee usakee davaee shuroo hotee hai ki vah sab ne saat vachanon ka paalan karega tujhe vah bolata hai to usakee davaee par hee mukadama nirbhar karata hai kyonki nyaayaalay hamen hamaaree nyaay vyavastha jo hai gavaahon par hee nirbhar karatee hai de dava matalab usake mukadame ke paksh mein agar gavaahee deta to mukadama aaj bhee jeet jaata hai aur virodh mein agar gaalee deta hai mukadama aadamee haar jaata hai

bolkar speaker
न्यायालय में गवाह जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों दिलाई जाती है?Nyayalay Mein Gavah Jab Gavahi Deta Hai To Geeta Ki Kasam Kyun Dilaei Jati Hai
vijay singh Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए vijay जी का जवाब
Social worker in india
0:34
नमस्कार दोस्तों आपका सवाल है न्यायालय में गोवा जब गवाही देता है तो गीता की कसम क्यों खिलाई जाती है तो दोस्तों आपके सवाल का उत्तर इस प्रकार से है न्यायालय में गवाह जब गवाही देता है तो गीता की कथा मैथिली दवाई रखी है कि गीता की हाथ रख के सामने ही कहेगा और सत्य ही गवाही देगा इसलिए गीता की कसम लाई जाती है धन्यवाद साथ तो खुश रहो
Namaskaar doston aapaka savaal hai nyaayaalay mein gova jab gavaahee deta hai to geeta kee kasam kyon khilaee jaatee hai to doston aapake savaal ka uttar is prakaar se hai nyaayaalay mein gavaah jab gavaahee deta hai to geeta kee katha maithilee davaee rakhee hai ki geeta kee haath rakh ke saamane hee kahega aur saty hee gavaahee dega isalie geeta kee kasam laee jaatee hai dhanyavaad saath to khush raho

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • न्यायालय में गवाही देने से पहले गीता की कसम क्यों जलाई जाती है,
URL copied to clipboard