#undefined

bolkar speaker

अकबर ने तुलसीदास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था?

Akbhar Ne Tulasidas Ko Kaargaar Mein Kyun Bandi Bana Liya Tha
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:07
लक बरसा तुलसीदास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था दोस्तों जो तुलसीदास ने कहा जाता है इनके बारे में कि तुलसीदास की छाती से अभिभूत होकर के अकबर ने तुलसीदास को अपने एक बार दरबार में बुलाया और कुछ चमत्कारी काम करने के लिए उनको कहा और जैसा कि दोस्तों बताया कि जाता है कि राम भक्त जो तुलसीदास थे वह केवल राम की शरण में भक्ति मात्र के लिए अपनी कला को जनमानस के लिए प्रयोग में लाते थे और बादशाह अकबर का उन्हें किसी चीज का डर नहीं था और जब अकबर ने उन्हें अपनी कला का प्रदर्शन करने के लिए कहा तो तुलसीदास ने इस बात को इनकार कर दिया कि उनकी प्रकृति और प्रवृत्ति के लिए अनुकूल नहीं है तुलसीदास की बातें जब अकबर ने सुनी और अकबर ने देखा कि तुलसीदास इसकी बातों को मना कर रहा है अकबर जो कि एक राजा एक सम्राट था उन्होंने अपनी इस को इस बात को यानी कि सरकार को जो है तो हिना और इसी टीचर नाराज होकर तुलसीदास ने उनको बंदी उद्यानिकी तुलसीदास को अकबर ने बंदी बना लिया
Lak barasa tulaseedaas ko kaaraagaar mein kyon bandee bana liya tha doston jo tulaseedaas ne kaha jaata hai inake baare mein ki tulaseedaas kee chhaatee se abhibhoot hokar ke akabar ne tulaseedaas ko apane ek baar darabaar mein bulaaya aur kuchh chamatkaaree kaam karane ke lie unako kaha aur jaisa ki doston bataaya ki jaata hai ki raam bhakt jo tulaseedaas the vah keval raam kee sharan mein bhakti maatr ke lie apanee kala ko janamaanas ke lie prayog mein laate the aur baadashaah akabar ka unhen kisee cheej ka dar nahin tha aur jab akabar ne unhen apanee kala ka pradarshan karane ke lie kaha to tulaseedaas ne is baat ko inakaar kar diya ki unakee prakrti aur pravrtti ke lie anukool nahin hai tulaseedaas kee baaten jab akabar ne sunee aur akabar ne dekha ki tulaseedaas isakee baaton ko mana kar raha hai akabar jo ki ek raaja ek samraat tha unhonne apanee is ko is baat ko yaanee ki sarakaar ko jo hai to hina aur isee teechar naaraaj hokar tulaseedaas ne unako bandee udyaanikee tulaseedaas ko akabar ne bandee bana liya

और जवाब सुनें

bolkar speaker
अकबर ने तुलसीदास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था?Akbhar Ne Tulasidas Ko Kaargaar Mein Kyun Bandi Bana Liya Tha
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
1:36
सवाल यह है कि अकबर ने तुलसीदास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था क्योंकि राम भक्त तुलसीदास केवल राम की शरण में भक्ति मात्र के लिए अपनी कला को जनमानस के लिए प्रयोग में लाते थे उन्हें बादशाह अकबर का कोई खौफ नहीं था और उन्हें अकबर की है बात पसंद नहीं आई और यह बात तुलसीदास की प्रकृति और प्रवृत्ति के अनुकूल नहीं थी इसलिए तुलसीदास ने ऐसा करने से इंकार कर दिया तुलसीदास जी के पास पहुंचे चमत्कारी आ सकती थी एक बार एक मरे हुए ब्राह्मण को अंतिम संस्कार के लिए ले जाया जा रहा था और उसी रास्ते में तुलसीदास भी जा रहे थे तभी विधवा औरत ने तुलसीदास जी के पैरों पर गिर पड़ी और प्रणाम किया तुलसीदास जी ने उस औरत को सदा सौभाग्यवती होने का आशीर्वाद दिया औरत ने कहा मैं सदा सौभाग्यवती कैसे हो सकती है मेरे पति अभी मर गए हैं तुलसीदास ने कहा यह शब्द तो निकल चुके हैं अब इसे जीवित करना पड़ेगा तुलसीदास ने फिर से अपनी आंखें बंद करने को कहा और राम नाम जपने लगे जिससे वह रावण ब्राह्मण फिर से जी गया तुलसीदास की छाती से अभिभूत होकर अकबर ने तुलसीदास को अपने दरबार में बुलाया रब ने कितनी मरे आदमी को जिंदा करने को कहा परंतु यह प्रदर्शन प्रियता तुलसीदास की प्रकृति और प्रवृत्ति के प्रतिकूल थी अकबर ने उनसे जबरदस्ती चमत्कार दिखाने पर विवश किया लेकिन ऐसा करने से उन्होंने उन्हें उन्होंने इंकार कर दिया स्वरूप अकबर ने तुलसी को फतेहपुर सीकरी जेल में कैद कर दिया
Savaal yah hai ki akabar ne tulaseedaas ko kaaraagaar mein kyon bandee bana liya tha kyonki raam bhakt tulaseedaas keval raam kee sharan mein bhakti maatr ke lie apanee kala ko janamaanas ke lie prayog mein laate the unhen baadashaah akabar ka koee khauph nahin tha aur unhen akabar kee hai baat pasand nahin aaee aur yah baat tulaseedaas kee prakrti aur pravrtti ke anukool nahin thee isalie tulaseedaas ne aisa karane se inkaar kar diya tulaseedaas jee ke paas pahunche chamatkaaree aa sakatee thee ek baar ek mare hue braahman ko antim sanskaar ke lie le jaaya ja raha tha aur usee raaste mein tulaseedaas bhee ja rahe the tabhee vidhava aurat ne tulaseedaas jee ke pairon par gir padee aur pranaam kiya tulaseedaas jee ne us aurat ko sada saubhaagyavatee hone ka aasheervaad diya aurat ne kaha main sada saubhaagyavatee kaise ho sakatee hai mere pati abhee mar gae hain tulaseedaas ne kaha yah shabd to nikal chuke hain ab ise jeevit karana padega tulaseedaas ne phir se apanee aankhen band karane ko kaha aur raam naam japane lage jisase vah raavan braahman phir se jee gaya tulaseedaas kee chhaatee se abhibhoot hokar akabar ne tulaseedaas ko apane darabaar mein bulaaya rab ne kitanee mare aadamee ko jinda karane ko kaha parantu yah pradarshan priyata tulaseedaas kee prakrti aur pravrtti ke pratikool thee akabar ne unase jabaradastee chamatkaar dikhaane par vivash kiya lekin aisa karane se unhonne unhen unhonne inkaar kar diya svaroop akabar ne tulasee ko phatehapur seekaree jel mein kaid kar diya

bolkar speaker
अकबर ने तुलसीदास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था?Akbhar Ne Tulasidas Ko Kaargaar Mein Kyun Bandi Bana Liya Tha
anuj gothwal Bolkar App
Top Speaker,Level 11
सुनिए anuj जी का जवाब
9828597645
0:25
नमस्कार दोस्तों कॉल करो मैं स्वागत है नवा लकी अकबर न तुलसीदास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था तो इसका कारण था कि तुलसीदास से प्रकृति एवं पर्वती अनुकूल नहीं थे तुलसीदास में ऐसा करने से इंकार कर दिया तब ही अकबर ना होने कारागार में बंदी बना लिया
Namaskaar doston kol karo main svaagat hai nava lakee akabar na tulaseedaas ko kaaraagaar mein kyon bandee bana liya tha to isaka kaaran tha ki tulaseedaas se prakrti evan parvatee anukool nahin the tulaseedaas mein aisa karane se inkaar kar diya tab hee akabar na hone kaaraagaar mein bandee bana liya

bolkar speaker
अकबर ने तुलसीदास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था?Akbhar Ne Tulasidas Ko Kaargaar Mein Kyun Bandi Bana Liya Tha
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
0:53
हेलो एवरीवन स्वागत है आपका आपका प्रश्न है अखबार ने मुंशी दास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था तो फ्रेंड तुलसीदास जी की ख्याति से अकबर बहुत प्रभावित था एक बार उन्होंने अपने दरबार में अकबर को बुलाया क्योंकि तुलसीदास राम भक्ति करते थे और राम राम के बारे में ही सुनाते थे बोलते थे तो यह सबको पता है जो अकबर ने उनकी कला के लिए कहा कि आप हमें भी अपनी कला दिखाइए सुनाइए बताइए जो तुलसीदास जी ने मना कर दिया कि यह मेरी प्रवृत्ति और प्रकृति के अनुकूल है मैं यह नहीं कहूंगा नहीं सुनाऊंगा तो उनके मना करने पर अकबर को बुरा लग गया और उसने अपनी बेटी समझ लिया और अपनी बेटी समझ कर ही उसने तुलसीदास जी को बंदी बना लिया था और कारागार में डाल दिया था तो फ्रेंड से अगर आपको जवाब पसंद आया हो तो लाइक जरूर करें धन्यवाद
Helo evareevan svaagat hai aapaka aapaka prashn hai akhabaar ne munshee daas ko kaaraagaar mein kyon bandee bana liya tha to phrend tulaseedaas jee kee khyaati se akabar bahut prabhaavit tha ek baar unhonne apane darabaar mein akabar ko bulaaya kyonki tulaseedaas raam bhakti karate the aur raam raam ke baare mein hee sunaate the bolate the to yah sabako pata hai jo akabar ne unakee kala ke lie kaha ki aap hamen bhee apanee kala dikhaie sunaie bataie jo tulaseedaas jee ne mana kar diya ki yah meree pravrtti aur prakrti ke anukool hai main yah nahin kahoonga nahin sunaoonga to unake mana karane par akabar ko bura lag gaya aur usane apanee betee samajh liya aur apanee betee samajh kar hee usane tulaseedaas jee ko bandee bana liya tha aur kaaraagaar mein daal diya tha to phrend se agar aapako javaab pasand aaya ho to laik jaroor karen dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • अकबर ने तुलसीदास को कारागार में क्यों बंदी बना लिया था अकबर ने तुलसीदास को बंदी क्यों बना लिया था
URL copied to clipboard