#मनोरंजन

bolkar speaker

राजा भरथरी के बारे में आप क्या जानते हैं और क्यों इतिहास में नाम हो गया?

Raja Bharthari Ke Bare Me Aap Kya Jante Hai Or Kyo Ye Itihaas Me Naam Ho Gaya
Rahul kumar Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Rahul जी का जवाब
Unknown
1:34
राजा भरतरी के विषय में आप क्या जानते हैं और क्यों इतिहास में नाम हो गया दोस्तों राजा भरतरी अलवर राजस्थान के अलवर और जयपुर के मध्य स्थित एक बड़े भूभाग के राजा हुआ करते थे कहा जाता राजा भरतरी का देहांत हो गया उसी समय वहां पर रो रही थी आ जाता है गोरखनाथ का अलग रूप धारण किया इसके बाद उन्होंने एक मटका अपने आप मिले और उनके को फोड़ दिया और रोने लगे कहा जाता है भरतरी आए उसके पास और बोले कि तुम क्यों रो रहे हो मैं खुद अपनी पत्नी की बात और तुम मात्र अपने मटके को क्योंकि तुम्हारा जो मटका फूट गया है अभी दोबारा जोड़ तो नहीं कहा जाता है कि गुरु गोरक्षनाथ अपने असली रूप में आकर उसको आने देते हैं और कहते हैं कि अपनी पत्नी के लिए योग करने के लिए ब्लॉक कर रहा हूं तो फिर आप लोग के अंदर दो ना क्यों जिसमें आप हमेशा ही सुखी रहो कहा जाता है कि गुरु गोरखनाथ ने उनको बिग शादी पर का जो तुम हो एक साधु का रूप लेकर एक साधु बनने के लिए सन्यासी जो हमेशा खुश रहता है उसके अंदर दुख मोह माया कुछ नहीं होती उसके बाद कहां जाता है कि राजा भरतरी ज्योति वह भरतरी नाथ बन गई
Raaja bharataree ke vishay mein aap kya jaanate hain aur kyon itihaas mein naam ho gaya doston raaja bharataree alavar raajasthaan ke alavar aur jayapur ke madhy sthit ek bade bhoobhaag ke raaja hua karate the kaha jaata raaja bharataree ka dehaant ho gaya usee samay vahaan par ro rahee thee aa jaata hai gorakhanaath ka alag roop dhaaran kiya isake baad unhonne ek mataka apane aap mile aur unake ko phod diya aur rone lage kaha jaata hai bharataree aae usake paas aur bole ki tum kyon ro rahe ho main khud apanee patnee kee baat aur tum maatr apane matake ko kyonki tumhaara jo mataka phoot gaya hai abhee dobaara jod to nahin kaha jaata hai ki guru gorakshanaath apane asalee roop mein aakar usako aane dete hain aur kahate hain ki apanee patnee ke lie yog karane ke lie blok kar raha hoon to phir aap log ke andar do na kyon jisamen aap hamesha hee sukhee raho kaha jaata hai ki guru gorakhanaath ne unako big shaadee par ka jo tum ho ek saadhu ka roop lekar ek saadhu banane ke lie sanyaasee jo hamesha khush rahata hai usake andar dukh moh maaya kuchh nahin hotee usake baad kahaan jaata hai ki raaja bharataree jyoti vah bharataree naath ban gaee

और जवाब सुनें

bolkar speaker
राजा भरथरी के बारे में आप क्या जानते हैं और क्यों इतिहास में नाम हो गया?Raja Bharthari Ke Bare Me Aap Kya Jante Hai Or Kyo Ye Itihaas Me Naam Ho Gaya
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:30
राजा भरथरी गोरखनाथ जी के भक्त उनकी रानी के भक्त टाइप के थे और अपने रानी पर बहुत भरोसा करते थे लेकिन रानी ने कामुकता के वशीभूत हो करके और उनको धोखा दिया था इसलिए वह संत महाराजा भरतरी संत भरथरी कहलाने लगे थे और गुरु गोरखनाथ कोशिश हो गए थे
Raaja bharatharee gorakhanaath jee ke bhakt unakee raanee ke bhakt taip ke the aur apane raanee par bahut bharosa karate the lekin raanee ne kaamukata ke vasheebhoot ho karake aur unako dhokha diya tha isalie vah sant mahaaraaja bharataree sant bharatharee kahalaane lage the aur guru gorakhanaath koshish ho gae the

bolkar speaker
राजा भरथरी के बारे में आप क्या जानते हैं और क्यों इतिहास में नाम हो गया?Raja Bharthari Ke Bare Me Aap Kya Jante Hai Or Kyo Ye Itihaas Me Naam Ho Gaya
Shruti Yadav Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए Shruti जी का जवाब
Student
2:31
सवाल यह है कि राजा भरथरी के विषय में आप क्या जानते हैं और क्यों आती हाथ में नाम हो गया तो भरतरी है कैसा चरित्र है जिसके बारे में कहा जाता है कि भी योगी बने थे भरतरी उज्जैन का राजा था अब भरतरी क्यों योगी बनकर राज्य छोड़कर चले गए के बारे में अलग-अलग कहानियां प्रचलित हैं और जिस में आखिर में गोरख गोरखनाथ की कृपा से सब ठीक हो जाता है और भरथरी गोरखनाथ के शिष्य बन जाते हैं एक कथा के अनुसार भरतरी की पत्नी पिंगला जब किसी और पुरुष से प्यार करने लगती है भरतरी संयासी बन कर राज्य छोड़कर दूर चले जाते हैं एक और कहानी है इसके बिल्कुल विपरीत है जिसमें रानी पिंगला पति से बेहद प्रेम करती है कहानी में राजा भरतरी एक बार शिकार खेलने गए थे उन्होंने वहां देखा कि एक पत्नी ने अपने मृत पति की चिता में कूदकर अपने प्राण त्याग दिए राजा भरथरी बहुत ही आश्चर्य चकित हो गए उस पत्नी का प्यार देखकर मैं सोचने लगे कि क्या मेरी पत्नी भी मुझसे इतना करती है अपने महल में वापस आकर राजा भरतरी जब यह घटना अपनी पत्नी पिंगला से कहते हैं तो पिंगला कहती है कि वह यह समाचार सुनने से ही मर जाएगी चिता में कूदने के लिए भी मैं जीवित नहीं रहेगी राजा भरतरी सोचते हैं कि वे रानी पिंगला की परीक्षा ले कर देखेंगे कि यह बात सच है कि नहीं फिर से भरतरी शिकार खेलने जाते और वहां से समाचार भेजते हैं कि राजा भरतरी की मृत्यु हो गई यह खबर सुनते ही रानी पिंगला मर जाती है राजा भरतरी बिल्कुल टूट जाता है अपने आप को दोषी ठहरा था है और विलाप करते रहता है और गोरखनाथ की कृपा से रानी पिंगला जीवित हो जाती है और इस घटना के बाद राजा भरतरी गोरखनाथ के शिष्य बन कर चले जाते हैं नंदकिशोर तिवारी जी उन्हें भरतरी छत्तीसगढ़ लोक कथा पर वाहन अध्ययन किया और अनुवाद किया बहुत ही रोचक है उनका अनुवाद शुरू में भरथरी एक अकेला इंसान गया करता था पर खंजरी बजाकर रहता था बाद में बादलों के साथ 3:00 का का गायन होने लगा वादियों में तबला हारमोनियम मंजीरा के साथ-साथ बैंजो भी था धीरे-धीरे इसका रूप बदलता गया और भरतरी योगी गाना गाते और साथ-साथ नाचते हुए यह बहुत स्वाभाविक है कि गीत के साथ नृत्य भी शामिल हो गया ना सब चक्कर छत्तीसगढ़ में बल्कि पूरे हिंदी बेल्ट में बहुत प्रेम से यह गाया जाता है और सुना जाता है लोक कथा एक जगह से दूसरी जगह यात्रा करती है और जहां भी पहुंचती है वहां की परंपराओं से प्रभावित होकर वहीं की बन जाती है
Savaal yah hai ki raaja bharatharee ke vishay mein aap kya jaanate hain aur kyon aatee haath mein naam ho gaya to bharataree hai kaisa charitr hai jisake baare mein kaha jaata hai ki bhee yogee bane the bharataree ujjain ka raaja tha ab bharataree kyon yogee banakar raajy chhodakar chale gae ke baare mein alag-alag kahaaniyaan prachalit hain aur jis mein aakhir mein gorakh gorakhanaath kee krpa se sab theek ho jaata hai aur bharatharee gorakhanaath ke shishy ban jaate hain ek katha ke anusaar bharataree kee patnee pingala jab kisee aur purush se pyaar karane lagatee hai bharataree sanyaasee ban kar raajy chhodakar door chale jaate hain ek aur kahaanee hai isake bilkul vipareet hai jisamen raanee pingala pati se behad prem karatee hai kahaanee mein raaja bharataree ek baar shikaar khelane gae the unhonne vahaan dekha ki ek patnee ne apane mrt pati kee chita mein koodakar apane praan tyaag die raaja bharatharee bahut hee aashchary chakit ho gae us patnee ka pyaar dekhakar main sochane lage ki kya meree patnee bhee mujhase itana karatee hai apane mahal mein vaapas aakar raaja bharataree jab yah ghatana apanee patnee pingala se kahate hain to pingala kahatee hai ki vah yah samaachaar sunane se hee mar jaegee chita mein koodane ke lie bhee main jeevit nahin rahegee raaja bharataree sochate hain ki ve raanee pingala kee pareeksha le kar dekhenge ki yah baat sach hai ki nahin phir se bharataree shikaar khelane jaate aur vahaan se samaachaar bhejate hain ki raaja bharataree kee mrtyu ho gaee yah khabar sunate hee raanee pingala mar jaatee hai raaja bharataree bilkul toot jaata hai apane aap ko doshee thahara tha hai aur vilaap karate rahata hai aur gorakhanaath kee krpa se raanee pingala jeevit ho jaatee hai aur is ghatana ke baad raaja bharataree gorakhanaath ke shishy ban kar chale jaate hain nandakishor tivaaree jee unhen bharataree chhatteesagadh lok katha par vaahan adhyayan kiya aur anuvaad kiya bahut hee rochak hai unaka anuvaad shuroo mein bharatharee ek akela insaan gaya karata tha par khanjaree bajaakar rahata tha baad mein baadalon ke saath 3:00 ka ka gaayan hone laga vaadiyon mein tabala haaramoniyam manjeera ke saath-saath bainjo bhee tha dheere-dheere isaka roop badalata gaya aur bharataree yogee gaana gaate aur saath-saath naachate hue yah bahut svaabhaavik hai ki geet ke saath nrty bhee shaamil ho gaya na sab chakkar chhatteesagadh mein balki poore hindee belt mein bahut prem se yah gaaya jaata hai aur suna jaata hai lok katha ek jagah se doosaree jagah yaatra karatee hai aur jahaan bhee pahunchatee hai vahaan kee paramparaon se prabhaavit hokar vaheen kee ban jaatee hai

bolkar speaker
राजा भरथरी के बारे में आप क्या जानते हैं और क्यों इतिहास में नाम हो गया?Raja Bharthari Ke Bare Me Aap Kya Jante Hai Or Kyo Ye Itihaas Me Naam Ho Gaya
Archana Mishra Bolkar App
Top Speaker,Level 22
सुनिए Archana जी का जवाब
Housewife
1:28
हेलो फ्रेंड स्वागत है आपका आपका प्रश्न है राजा भरतरी के विषय में आप क्या जानते हैं और क्यों इन्हें इतिहास में इनका नाम हो गया है तो फ्रेंडशिप राजा भरतरी थे वे राजस्थान के अलवर जिले के आसपास वही उनका राज्य था और यह वही के राजा थे ही राजस्थान में एक बार राजा भरतरी जी की पत्नी का देहांत हो गया था उनकी पत्नी खत्म हो गई थी तू भी विलाप कर रहे थे रो रहे थे बहुत तो उनका वे विल आप देखकर वहां पर वह बोल रहे थे दुश्मन आ रहे थे अपनी पत्नी के लिए तो वहां पर बाबा गोरखनाथ जी निकली तो जब उन्होंने उनका यह दुख देखा तो उन्होंने अपना रूप बदला और एक मटके को थोड़ा और छोड़कर और मटका लिया उनके हाथ से व्यस्त हो गया तो मैं रोने लगे जोर-जोर से तो राजा भरतरी भरतरी जी ने कहा कि आपका तो मटका फूट गया है तो आप इसके लिए क्यों रो रहा है मेरी तो पत्नी खत्म हो गई है तब मैं रो रहा हूं तो बोले कि अब यह जो गया है वापस नहीं आता तो ऐसे ही आपने मन नहीं दिया वापस नहीं आ सकती है तो यह रोना बेकार है जो कि एक बार चली गई मैं वापस नहीं आती है इसलिए आप मत रोए और फिर उन्होंने उनको काफी ज्ञान दिया समझाया और दीक्षा दी और बोले कि आप सन्यासी बन जाइए क्योंकि सन्यासी को कोई भी मोह माया लाभ हानि कुछ भी नहीं होता है इसी प्रकार से उन्हें अच्छी बातें सिखाई और दीक्षा दी धन्यवाद
Helo phrend svaagat hai aapaka aapaka prashn hai raaja bharataree ke vishay mein aap kya jaanate hain aur kyon inhen itihaas mein inaka naam ho gaya hai to phrendaship raaja bharataree the ve raajasthaan ke alavar jile ke aasapaas vahee unaka raajy tha aur yah vahee ke raaja the hee raajasthaan mein ek baar raaja bharataree jee kee patnee ka dehaant ho gaya tha unakee patnee khatm ho gaee thee too bhee vilaap kar rahe the ro rahe the bahut to unaka ve vil aap dekhakar vahaan par vah bol rahe the dushman aa rahe the apanee patnee ke lie to vahaan par baaba gorakhanaath jee nikalee to jab unhonne unaka yah dukh dekha to unhonne apana roop badala aur ek matake ko thoda aur chhodakar aur mataka liya unake haath se vyast ho gaya to main rone lage jor-jor se to raaja bharataree bharataree jee ne kaha ki aapaka to mataka phoot gaya hai to aap isake lie kyon ro raha hai meree to patnee khatm ho gaee hai tab main ro raha hoon to bole ki ab yah jo gaya hai vaapas nahin aata to aise hee aapane man nahin diya vaapas nahin aa sakatee hai to yah rona bekaar hai jo ki ek baar chalee gaee main vaapas nahin aatee hai isalie aap mat roe aur phir unhonne unako kaaphee gyaan diya samajhaaya aur deeksha dee aur bole ki aap sanyaasee ban jaie kyonki sanyaasee ko koee bhee moh maaya laabh haani kuchh bhee nahin hota hai isee prakaar se unhen achchhee baaten sikhaee aur deeksha dee dhanyavaad

अन्य लोकप्रिय सवाल जवाब

  • राजा भरथरी कोन है.. राजा भरथरी का जन्म कब हुआ
URL copied to clipboard